GLIBS
12-12-2019
अमरजीत भगत ने असम के मुख्यमंत्री को राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का दिया निमंत्रण

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए भेजे गए निमंत्रण को गुरुवार को संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को दिया। भगत ने असम के मुख्यमंत्री से वहां के लोक कलाकारों का दल छत्तीसगढ़ के इस आयोजन में भेजने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री सोनोवाल ने भूपेश बघेल का आमंत्रण स्वीकार किया और असम के आदिवासी नर्तक दलों को रायपुर में होने वाले राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में भेजने की सहमति जताई है। भगत ने मुख्यमंत्री सोनोवाल को छत्तीसगढ़ की संस्कृति, पर्यटन और सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में बताया। भगत ने सोनोवाल से असम और छत्तीसगढ़ के विभिन्न मुद्दों पर भी चर्चा की।  

10-12-2019
पोलेण्ड के राजदूत एडम बुराकोवस्की ने देखा जंगल सफारी और पुरखौती मुक्तांगन

रायपुर। पोलेण्ड के राजदूत एडम बुराकोवस्की ने मंगलवार को नवा रायपुर स्थित जंगल सफारी और पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण किया। बुराकोवस्की ने जंगल सफारी के विजिटर बुक में लिखा कि ‘मैंने अपने जीवन में सफेद टाइगर को पहली बार करीब से देखा‘। राजदूत एडम बुराकोवस्की ने जंगल सफारी का पूरा भ्रमण किया और वहां के जू को पैदल घूमकर देखा और जंगल सफारी की प्रशंसा की। पोलेण्ड के राजदूत ने पुरखौती मुक्तांगन में छत्तीसगढ़ की संस्कृति की झलक देखकर बस्तर जाने की इच्छा जाहिर की। उन्होंने पुरखौती मुक्तांगन में भोरमदेव मंदिर का मॉडल, बस्तर दशहरा का रथ, घोटूल, पंथी नृत्य, सुवा नृत्य और राउत नाचा के प्रतिकृतियों को देखकर प्रसन्नता जाहिर की और उसके बारे में जानकारी ली। एडम बुराकोवस्की ने बताया कि छत्तीसगढ़ आकर उन्हें बहुत अच्छा लगा और वे पुनः छत्तीसगढ़ आएंगे।

10-12-2019
अमरजीत भगत ने सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग को दिया राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का न्यौता

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा भेजे गए निमंत्रण को संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेमसिंह तमांग को दिया। भगत ने मुख्यमंत्री तमांग से मुलाकात कर उन्हें 27 दिसम्बर से होने वाले राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव छत्तीसगढ़ आने का अनुरोध किया। भगत ने मुख्यमंत्री तमांग से सिक्किम के लोक कलाकरों को नृत्य महोत्सव में शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ भेजने का आग्रह किया। मुलाकात के दौरान भगत ने छत्तीसगढ़ की संस्कृति और परम्पराओं की जानकारी दी और कहा कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव से एक दूसरे की संस्कृति और परम्पराओं को जानने का अवसर मिलेगा। भगत ने मुख्यमंत्री तमांग को छत्तीसगढ़ सरकार की योजनाओं के बारे में भी बताया।

09-12-2019
अमरजीत भगत ने सिक्किम के खाद्य मंत्री को दिया राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का निमंत्रण

रायपुर। छत्तीसगढ़ के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने सोमवार को सिक्किम के खाद्य मंत्री अरूण उपरेती को छत्तीसगढ़ में 27 दिसम्बर से होने वाले राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव में आने का निमंत्रण दिया। भगत ने सिक्किम के लोक कलाकरों को नृत्य महोत्सव में शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ भेजने का आग्रह किया। मुलाकात के दौरान भगत ने छत्तीसगढ़ की संस्कृति और परम्पराओं की जानकारी दी और कहा कि राष्ट्रीय आदिवसी नृत्य महोत्सव से एक दूसरे की संस्कृति और परम्पराओं को जानने का अवसर मिलेगा। दोनों मंत्रियों ने छत्तीसगढ़ और सिक्किम सरकार की योजनाओं के बारे में बातचीत की। 

25-11-2019
मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम पर अधिकारी-कर्मचारियों को मिला प्रशिक्षण

रायपुर। मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम 2017 पर जिला नोडल अधिकारी, वीकेएन (वर्चुअल नॉलेज नेटवर्क)के तहत डॉक्टरों, अधिकारियों और कर्मचारियों का तीन दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया गया। प्रशिक्षण इंडियन लॉ सोसायटी पुणे से आए मुख्य प्रशिक्षक एडवोकेट अर्जुन कपूर, यश बागड़ा और शारोन एन. ने दिया। प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य मानसिक रोगों से ग्रसित लोगों को मानसिक स्वास्थ्य सुरक्षा और सेवाएं प्रदान करना है। साथ ही मानसिक रोगियों को गरिमा के साथ जीवन जीने के अधिकार को भी सुनिश्चित करना है। एडवोकेट अर्जुन कपूर ने कहा  मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति की सहमति या अनुमति के बिना तस्वीर या अन्य संबंधित जानकारी सार्वजनिक नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस अधिनियम में आत्महत्या का प्रयास करने वाले व्यक्ति को गंभीर तनाव से पीडि़त माना जाएगा। अर्जुन कपूर ने बताया कि प्रत्येक व्यक्ति को मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच का अधिकार है । गरीबी रेखा से नीचे के सभी लोगों को मुफ्त इलाज का भी अधिकार दिया गया है। मानसिक रूप से बीमार प्रत्येक व्यक्ति को गरिमा के साथ जीवन जीने का अधिकार है, लिंग, धर्म, संस्कृति, जाति, सामाजिक या राजनीतिक मान्यताओं, वर्ग विकलांगता के सहित किसी भी आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा। 

 

22-11-2019
डॉ. प्रेमसाय ने किया राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव एवं युवा महोत्सव का शुभारंभ  

रायपुर। मंत्री स्कूल शिक्षा, अनुसूचित जाति एवं जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने शुक्रवार को सूरजपुर जिला मुख्यालय में आयोजित जिला स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव एवं युवा महोत्सव का शुभारंभ करते हुए कहा कि सुआ, करमा, शैला, डोमकेच नृत्य और गेड़ी दौड़ छत्तीसगढ़ संस्कृति और परम्परा की पहचान है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कलाकारों को बढ़ावा देने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। जिससे आदिवासियों को एक अच्छा मंच और उचित सम्मान मिल सके। प्रदेश की संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राज्य में राज्यगीत प्रारंभ किया गया है। जिसे प्रत्येक राज्य स्तरीय कार्यक्रम में सुनाया जाएगा। इस अवसर पर उन्होंने मांदर पर थाप देकर नृत्य दलों का उत्साहवर्धन किया। 

महोत्सव का शुभारंभ अलग-अलग स्थानीय परिधानों से सुसज्जित जिले के अलग-अलग ग्रामीण क्षेत्रों से चयनित प्रतिभागियों ने अपनी प्रतिभा के जौहर का प्रदर्शन किया। डॉ. टेकाम सहित सभी अतिथि प्रतिभागियों का प्रदर्शन देख मंत्रमुग्ध हो गए। डॉ. टेकाम ने कहा कि प्रतिभागियों का प्रदर्शन और गांव की परम्परा को एक बार फिर से जीवन्त रूप में देखकर बीता हुआ कल सामने आ गया। इस अवसर पर कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि अध्यक्ष सरगुुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण एवं विधायक प्रेमनगर खेलसाय सिंह, विधायक भटगांव पारसनाथ राजवाड़े, अध्यक्ष जिला पंचायत अशोक जगते, कलेक्टर दीपक सोनी, जिला प्रशासन के अधिकारी, जनप्रतिनिधि, स्कूल के विद्यार्थी और ग्रामीणजन उपस्थित थे।कलेक्टर ने बताया कि छत्तीसगढ़ शासन के गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम पर जिला स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव और युवा उत्सव का आयोजन जिला स्तर पर किया जा रहा है। इसमें जिले के प्रत्येक स्थान से प्रतिभागी कलाकार सम्मिलित होकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। इसके लिए जिले के 6 विकास खण्डों को 31 कलस्टर में विभाजित कर 19 से 31 अक्टूबर तक कलस्टर स्तरीय युवा महोत्सव और आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया गया। डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम और अन्य अतिथियों ने इस अवसर पर शासन की कल्याणकारी योजनाओं के लगाए गए स्टालों का अवलोकन कर सभी प्रदर्शनियों को सराहा।

21-11-2019
कवासी लखमा ने हरियाणा के मुख्यमंत्री को दिया राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का न्यौता

रायपुर। उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने गुरूवार को हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में वहां के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर एवं उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से मुलाकात की और उन्हें छत्तीसगढ़ में आगामी 27 दिसम्बर से शुरू होने वाले राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में छत्तीसगढ़ आने का न्यौता दिया। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिये सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर महोत्सव में शामिल होने का निमंत्रण भेजा है वहीं राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अपने राज्यों के आदिवासी नर्तक दलों को इस आयोजन में भेजने का अनुरोध भी किया है। मुख्यमंत्री बघेल ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों को छत्तीसगढ़ में 27 से 29 दिसम्बर तक होने वाले नेशनल ट्रायबल डांस फेस्टिवल का निमंत्रण देने का जिम्मा राज्य के मंत्रियों को सौपा हैं। इसी कड़ी में मंत्री कवासी लखमा हरियाणा राज्य के दौरे पर है। इस मौके पर लखमा ने मुख्यमंत्री खट्टर को छत्तीसगढ़ के बस्तर अंचल की संस्कृति, पर्यटन और विकास से भी अवगत कराया।

11-11-2019
अमरजीत भगत युवा महोत्सव में हुए शामिल

 रायपुर। खाद्य तथा संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत सरगुजा जिले के मैनपाट विकासखण्ड के नर्मदापुर स्थित मिनी स्टेडियम में आयोजित विकासखण्ड स्तरीय युवा महोत्सव में शामिल हुए। इस महोत्सव में क्षेत्र के 100 से अधिक युवाओं ने उत्साह के साथ भाग लिया तथा विभिन्न विधाओं में अपने प्रतिभा का प्रदर्शन किया। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को अतिथियों द्वारा प्रमाण पत्र व शील्ड प्रदान किया गया।  इस मौके पर मंत्री भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशानुरूप छत्तीसगढ़ की परंपरा, संस्कृति को बढ़ावा देने और युवाओं की प्रतिभा को आगे लाने के लिये यूथ फेस्टिवल 2019 का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमारी लोक संस्कृति को संरक्षित एवं विकसित कर उसे नयी उचाईयों तक ले जाने में युवा महोत्सव की महत्वपूर्ण भूमिका है।

विकासखण्ड स्तरीय आयोजन के बाद जिला स्तर एवं राज्य स्तरीय आयोजन होगें। विकास खण्ड स्तर से उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागी राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। भगत ने कहा कि सरगुजा में करमा, शैला, डोमकेच आदि लोकनृत्य की परंपरा है, जो सरगुजिहा संस्कृति की पहचान है। समारोह में जनपद अध्यक्ष पतिबाई एक्का, जिला पंचायत सदस्य देवनाथ उंजन, जनपद सदस्य लीलावती सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

09-11-2019
दशकों तक चली न्याय प्रकिया का अब हो गया समापन :नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। अयोध्या विवाद केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले बाद शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया। राष्ट्र को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि, आज सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐसे महत्वपूर्ण मामले पर फैसला सुनाया है, जिसके पीछे सैकड़ों वर्षों का एक इतिहास है। पूरे देश की ये इच्छा थी कि इस मामले की अदालत में हर रोज़ सुनवाई हो, जो हुई, और आज निर्णय आ चुका है। दशकों तक चली न्याय प्रकिया का अब समापन हो गया है। मोदी ने कहा कि, फैसला आने के बाद जिस प्रकार हर वर्ग, हर समुदाय, हर पंथ के लोगों ने पूरे देश ने खुले दिल से इसे स्वीकार किया है, वो भारत की पुरातन संस्कृति, परंपराओं और सद्भाव की भावना को प्रतिबिंबित करता है। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया ये तो मानती है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतान्त्रिक देश है, लेकिन आज दुनिया ने ये भी जान लिया है कि भारत का लोकतंत्र कितना जीवंत और मजबूत है। नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत की न्यायपालिका के इतिहास में भी आज का ये दिन एक स्वर्णिम अध्याय की तरह है। इस विषय पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सबको सुना, बहुत धैर्य से सुना और सर्वसम्मति से फैसला दिया। सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले के पीछे दृढ़ इच्छाशक्ति दिखाई है। और इसलिए देश के न्यायधीश, न्यायालय और हमारी न्यायिक प्रणाली अभिनंदन के अधिकारी हैं। उन्होंने कहा कि आज 9 नवंबर है और आज के दिन ही बर्लिन की दीवार गिरी थी।  सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐतिहासिक है। 

 

09-11-2019
अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सभी समुदाय करें सम्मान: प्रियंका गांधी वाड्रा

नई दिल्ली। अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के निर्णय के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को कहा कि सभी समुदायों, पक्षों एवं नागरिकों को इसका सम्मान करना चाहिए और सौहार्द एवं भाईचारे को मजबूत करना चाहिए। अयोध्या मुद्दे पर भारत की सर्वोच्च अदालत ने फैसला दिया है। सभी पक्षों, समुदायों और नागरिकों को इस फ़ैसले का सम्मान करते हुए हमारी सदियों से चली आ रही मेलजोल की संस्कृति को बनाए रखना चाहिए। हम सबको एक होकर आपसी सौहार्द और भाईचारे को मजबूत करना होगा। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, ‘अयोध्या मुद्दे पर भारत की सर्वोच्च अदालत ने फैसला दिया है। सभी पक्षों, समुदायों और नागरिकों को इस फ़ैसले का सम्मान करते हुए हमारी सदियों से चली आ रही मेलजोल की संस्कृति को बनाए रखना चाहिए। हम सबको एक होकर आपसी सौहार्द और भाईचारे को मजबूत करना होगा।’ फैसले से पहले उन्होंने कहा था, ‘यह महात्मा गांधी का देश है। अमन और अहिंसा के संदेश पर क़ायम रहना हमारा कर्तव्य है। 

 

05-11-2019
ठेठवार समाज ने मनाया मातर महोत्सव और कराई रावत नाच प्रतियोगिता

रायपुर। यादव (ठेठवार) समाज रायपुर राज द्वारा महादेव घाट  रायपुरा में प्रदेशस्तरीय मातर महोत्सव एवं रावत नाच प्रतियोगिता 2019  का आयोजन 3 नवम्बर को किया गया।  प्रतियोगिता में प्रदेशभर की 15 टीमों ने अपना रंगारंग राउत नृत्य, अखाड़ेबाजी, शौर्य प्रदर्शन, लाठी चालन एवं श्रीकृष्ण की सचित्र चल झांकी का प्रदर्शन किया। कार्यक्रम का आनन्द लेने रायपुर सहित प्रदेशभर से 3000 से अधिक दर्शक सम्मिलित हुए। इस अवसर पर अतिथि के रूप में रायपुर दक्षिण विधायक  बृजमोहन अग्रवाल रायपुर पश्चिम विधायक विकास उपाध्याय, खल्लारी विधायक द्वारिकाधीश यादव, सभापति राजू यादव  प्रांताध्यक्ष यादव ठेठवार समाज महासभा व  16 पार के अध्यक्ष  मंचस्थ थे। प्रतियोगिता में 50 लोगों की टीम के साथ जय राधाकृष्ण राउत नृत्य पार्टी खजरी घुमका विजेता बनी। टीम को 11000 रुपए नगद एवं चेलेंज शील्ड मिला। द्वितीय स्थान 40 लोगों  का दल श्री कृष्णा राउत नृत्य पार्टी ग्राम लटुआ बलौदाबाजार को मिला। टीम को 70001 रुपए नगद एवं चेलेंज शील्ड परिदान किया गया। तृतीय स्थान पर 5001 रुपए नगद एवं चेलेंज शील्ड 40 लोगों के साथ जय श्रीकृष्ण राउत नृत्य पार्टी रामसागरपारा भाटापारा रही। श्रेष्ठ झांकी का पुरस्कार जय दुर्गा राउत नाच पार्टी छोटे टेमरी राजनंदगांव, श्रेष्ठ वादन का पुरस्कार गोविन्द यदु गोल खम्हरिया बेमेतरा, श्रेष्ठ दोहा पुरस्कार श्याम सुंदर राउत नाच पार्टी कुवागांव बालोद, श्रेष्ठ अखाड़ा का पुरस्कार असवन यादव गांधीग्राम अखाड़ा दल, मंदिर हसौद, इनके अलावा  अन्य सभी प्रतिभागियों को 1000 रुपए नगद सांत्वना पुरस्कार के रूप में दिए गए। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बृजमोहन अग्रवाल ने इस आयोजन को लोककला को जीवित रखने का अनुकरणीय प्रयास बताया एवं आयोजक समिति को भवन निर्माण हेतु 500000 रुपए अनुदान प्रदान करने की घोषणा की।


 विधायक  विकास उपाध्याय ने ठेठवार समाज के पारंपरिक लोक नृत्य एवं स्वरूप दर्शन को छत्तीसगढ़ की परंपरा और संस्कृति बताते हुए आयोजन समिति को बधाई दी एवं भवन निर्माण के लिए अनुदान प्रदान करने का आश्वासन दिया। कार्यक्रम अध्यक्ष द्वारकाधीश यादव खल्लारी विधायक ने छत्तीसगढ़ एवं यादव समाज की विलोपित होती प्रथा एवं संस्कृति को जन-जन तक पहुंचाने पर आयोजित समिति को बधाई दी एवं संस्कृति विभाग से रावत नृत्य के संरक्षण व संवर्धन हेतु सहयोग करने का आश्वासन दिया। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से आयोजक यादव (ठेठवार) समाज रायपुर राज अध्यक्ष संतोष यादव, महासचिव नरेश यादव, कोषाध्यक्ष मोहित राम यादव, संरक्षक आत्माराम यादव, पवन यादव, हरिराम यदु, रामजीवन यदु, डॉ रेवाराम यदु,  प्रवक्ता यशवंत यादव, संतोष यदु, उप कोषाध्यक्ष लव यदु,  संचालक मनीष यदु, संयुक्त सचिव करण यदु, उपाध्यक्ष बालेन्द्र यदु, पुरुषोत्तम यदु, कार्यालय सचिव नवीन यदु, सह सचिव युगल यदु,  युवा प्रकोष्ठ अध्यक्ष हीराराम यादव, उपाध्यक्ष वीरेंद्र यदु, कोषाध्यक्ष मनेंद्र यदु, सत्येंद्र यदु, अशवन यादव, रूपेश यादव, महिला प्रकोष्ठ अध्यक्ष ललिता यदु, केसरी यादव, उपासना यदु, गीता यादव, महेश्वरी यदु, गंगोत्री यदु, अंजनी यदु आदि उपस्थित रहे। मंच संचालन मनीष यदु व पूजा यादव ने किया।

 

31-10-2019
मध्यप्रदेश: अंडे पर बवाल, कमलनाथ सरकार को इस भाजपा नेता ने बताया कुपोषित

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश में भाजपा और कांग्रेस के बीच अंडों को लेकर राजनीतिक तकरार छिड़ गई है। आंगनबाड़ियों में अंडे बांटने की कमलनाथ सरकार की योजना का भाजपा विरोध कर रही है। भाजपा नेता गोपाल भार्गव ने सरकार को आड़े हाथ लिया है। भार्गव ने इसे देश की संस्कृति के खिलाफ बताया है। भार्गव ने कमलनाथ सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कुपोषित सरकार से इस से ज्यादा का उम्मीद की जा सकती है। वो बच्चों को अंडा खिलाएं, जो नहीं खाते उन्हें जबरन खिलाएं। अगर अंडे से कुपोषण दूर नहीं होगा तो मुर्गे खिलाएगी बकरे खिलाएगी और जो कुछ बनेगा वो खिलाएगी। आदमी तो वैसे ही मारे जा रहे हैं भारत के जो संस्कार हैं, हमारी जो सनातन संस्कृति है उसमें मांसाहार निषेध है। हम जबरन किसी को नहीं खिला सकते और यदि बचपन से ही हम ये सिखाएंगे तो बड़े होकर वे गोश तो खाएंगे ही कहीं नरभक्षी न हो जाएं। भार्गव ने कहा कि सरकार को सोचना चाहिए कि अभी से अगर बच्चों में तामसिक प्रवृत्ति शुरू कर देते हैं तो ये बच्चे बड़े होकर क्या बनेंगे। आगे भार्गव ने कहा कि मैं तो ब्राह्मण हूं इसलिए मैंने कभी लहसुन-प्याज भी नहीं खाया। लेकिन में इतना कहना चाहता हूं ये प्रवत्ति ठीक नहीं है। उन्होंने कहा “किसी को जबरन खान-पान के मामले में बाध्य नहीं कर सकते।” 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804