GLIBS
18-01-2020
31 वां सड़क सुरक्षा सप्ताह का हुआ समापन, एक्सीडेंट के समय सहायता करने वाले व्यक्तियों का किया गया सम्मान

धमतरी। 31वां यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह का समापन का कार्यक्रम शहर के गांधी मैदान में आयोजित हुआ। यातायात एवं विभिन्न स्कूलों के बच्चों के द्वारा यातायात जागरूकता संबंधी पोस्टर का प्रदर्शनी लगाया गया तथा नुक्कड़ नाटक एवं रिदम राग रंग रॉक बैंड पार्टी के द्वारा नाटक व संगीत के माध्यम से समापन समारोह में उपस्थित स्कूली छात्र छात्राओं, गणमान्य नागरिकों  एवं आम जनता  को यातायात के नियमों की जानकारी दी गई। मुख्य अतिथि विजय देवांगन महापौर नगर पालिक निगम धमतरी के द्वारा यातायात सप्ताह के दौरान यातायात नियम, सड़क सुरक्षा व्यवस्था जागरूकता हेतु अपना बहुमूल्य सहयोग प्रदान करने वाले आम नागरिकों, शासकीय जिला अस्पताल की टीम, रेड क्रॉस सोसाइटी के वालंटियर, रिदम राग रंग बैंड पार्टी के सदस्यों एवं जिला स्तर पर चयनित गुड सेमेटिरनो को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया तथा यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान स्कूली बच्चों द्वारा निबंध, स्लोगन, वाद-विवाद, चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले स्कूली छात्र छात्राओं को प्रमाण पत्र देकर पुरस्कृत किया गया।

सड़क सुरक्षा सप्ताह के समापन समारोह कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक बी.पी. राजभानु के द्वारा अपने उद्बोधन में जीवन की रक्षा सुरक्षा स्वयं के हाथों में होती है और यातायात के नियमों का पालन करके आप अपने साथ-साथ दूसरों की सुरक्षा में भी योगदान दे सकते हैं आम नागरिकों को यातायात के नियमों का पालन करने, वाहन चलाते समय हेलमेट और सीट बेल्ट का उपयोग करने, वाहन के सभी दस्तावेज एवं ड्राइविंग लाइसेंस साथ में रखने, वाहन चलाते समय मोबाइल का उपयोग नहीं करने, मद्यपान कर वाहन नहीं चलाने व यातायात नियमों का पालन करते हुए सहयोग प्रदान करने हेतु समझाइश दिया गया। इस दौरान विभिन्न स्कूलों से आए छात्र छात्राओं को यातायात स्टॉल में यातायात नियमों व संकेतों यातायात उपकरणों के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई तथा उन्हें यातायात के नियमों का पालन करने बताया गया।

यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह कार्यक्रम के समापन के अंतिम क्षण में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे ने कहा कि हमें सड़क पर अपनी सुरक्षा के लिए जागरूक रहना चाहिए जब कम्युनिटी मूवमेंट बनता है तो लोग अपने आप जागरूक होकर सड़क सुरक्षा के नियमों से जुड़ने लगते हैं केवल एक सप्ताह में ही हम अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सकते इसके लिए हमें निरंतर प्रयास करने की आवश्यकता है। पुलिस अधीक्षक बी.पी. राजभानु के निर्देशन में सड़क सुरक्षा सप्ताह का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से किया गया। पुलिस के इस सार्थक प्रयास से जिले के लोगों में यातायात नियमों के प्रति काफी जागरूकता देखी गई और अब लोग बाइक चलाते समय हेलमेट का इस्तेमाल करते हुए दिखाई दे रहे हैं। सड़क सुरक्षा सप्ताह एक ऐसा अवसर है जब हम जीवन और इसके सुरक्षा के महत्व को समझ सकते हैं और इस बात पर विचार करते हुए यातायात नियमों का पालन करके हम ना सिर्फ अपनी जान बचा पाएंगे बल्कि दूसरों की भी रक्षा कर पाएंगे, संबोधित कर उपस्थित अतिथि गणों का आभार प्रदर्शित करते हुए यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान सहयोग प्रदान करने वाले विभिन्न संस्थाओं को धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह के समापन समारोह में विजय देवांगन महापौर नगर पालिक निगम धमतरी, नम्रता गांधी मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत धमतरी, बी. पी. राजभानु पुलिस अधीक्षक जिला धमतरी, मनीषा ठाकुर रावटे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक धमतरी, सारिका वैद्य उप पुलिस अधीक्षक अजाक धमतरी, अनुराग मसीह सभापति नगर पालिक निगम धमतरी, दिलीप अग्रवाल अपर कलेक्टर धमतरी, मनीष मिश्रा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व धमतरी, गौरव साहू जिला परिवहन अधिकारी धमतरी, आशीष टिकरिहा आयुक्त नगर पालिक निगम धमतरी, प्रभारी निरीक्षक सत्यकला रामटेके, थाना प्रभारी सिटी कोतवाली निरीक्षक भावेश गौतम, थाना प्रभारी अर्जुनी निरीक्षक उमेंद टंडन, थाना प्रभारी केरेगांव निरीक्षक गगन वाजपेई, रक्षित निरीक्षक के देवराजू, सूबेदार रेवती वर्मा एवं यातायात तथा थाना सिटी कोतवाली के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

 

17-01-2020
राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा परिषद तथा यातायात विकास परिषद की हुई बैठक  

रायपुर। केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी द्वारा नई दिल्ली में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा परिषद तथा यातायात विकास परिषद की बैठक ली गई। बैठक में सड़क सुरक्षा के समुचित उपायों और यातायात जागरूकता के संबंध में विस्तार से चर्चा हुई। इस अवसर पर केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्यमंत्री व्हीके सिंह तथा छह राज्यों के परिवहन मंत्रियों सहित संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इस बैठक में छत्तीसगढ़ राज्य से अंतर्विभागीय लीड एजेंसी (सड़क-सुरक्षा) के अध्यक्ष संजय शर्मा सम्मिलित हुए। बैठक में राष्ट्रीय रोड एक्सीडेंट डाटा 2018, संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट 2019, ऑल इंडिया टूरिस्ट परमिट, गुड सेमेरिटन्स के दिशा-निर्देश, परिवहन विभागों के अभिलेखों का डिजिटलाइजेशन, वाहन पंजीयन तथा ड्रायविंग लायसेंस का अंतर्राज्यीकरण तथा वाहनों का बीमा आदि विषयों में प्रस्तुतिकरण सहित विस्तार से चर्चा की गई। इस दौरान अवगत कराया गया कि केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा एडीबी के सहयोग से देश भर के दुर्घटनाजन्य सड़क खण्डों (ब्लैक स्पॉट) में सुधार की कार्रवाई जल्द से जल्द प्रारंभ की जाएगी।

  बैठक में चर्चा करते हुए यह भी अवगत कराया गया कि सड़क दुर्घटना के प्रमुख कारणों में यातायात नियमों का उल्लंघन और अत्यधिक गति से वाहन चलाना है। इसी तरह नशे की हालत में वाहन चलाना, बिना वैध लायसेंस तथा बीमा सुरक्षा उपकरणों के उपयोग के वाहन चलाना भी इसके प्रमुख कारण हैं। सड़क दुर्घटना के अन्य कारणों में सड़कों की स्थिति, चौराहों तथा यातायात नियंत्रण की स्थिति और वाहनों में ओव्हर लोडिंग तथा वाहनों की आयु व स्थिति भी है। इस दौरान बैठक में छत्तीसगढ़ राज्य के प्रतिनिधि शर्मा द्वारा राजमार्गों के लंबित कार्यों को शीघ्र पूर्ण कराने और राजमार्गों के बंद अथवा लंबित पड़े कार्य स्थलों में सड़क सुरक्षा के समुचित इंतजाम के लिए आग्रह किया गया। साथ ही उन्होंने संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट में दण्ड के प्रावधानों पर पुनर्विचार सहित सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए विभिन्न उपायों के बारे में बताया।

बैठक में जानकारी दी गई कि सबसे अधिक सड़क दुर्घटनाएं तथा मृत्यु के प्रकरणों में 35.69 प्रतिशत राष्ट्रीय राजमार्गों में तथा 26.80 प्रतिशत राज्य के राजकीय राज्यमार्गों में हुई है। सबसे अधिक दुर्घटना मोटर सायकल चालकों की हुई है। इसमें सबसे अधिक दुर्घटना तथा मृत्यु के प्रकरणों में 18-35 वर्ष की उम्र के व्यक्तियों की हुई है। देश में वर्ष 2018 में कुल चार लाख 67 हजार 44 दुर्घटनाओं में एक लाख 51 हजार 417 व्यक्तियों की मृत्यु हुई तथा चार लाख 69 हजार 418 व्यक्ति घायल हुए। सर्वाधिक मृत्यु उत्तरप्रदेश में हुई है तथा मृत्यु दर में सर्वाधिक कमी तमिलनाडु में पाई गई है। छत्तीसगढ़ में वर्ष 2019 में सड़क दुर्घटनाओं में कुल चार हजार 959 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है।
 

13-01-2020
यातायात जागरूकता को लेकर हुई प्रेसवार्ता, बताए गए आकड़े

कोरबा। सड़क दुर्घटना एवं उसकी रोकथाम को लेकर जिला कोरबा में डीएसपी ने यातायात जागरूकता संबंधित प्रेसवार्ता ली। इसमें वर्ष 2019 में कुल 668 सड़क दुर्घटनाएं हुई। इसमें 627 लोग घायल हुए हैं और 239 लोगों की मृत्यु हुई। वर्ष 2018 में 672 सड़क दुर्घटनाएं हुई थी, जिसमें 621 लोग घायल हए थे और 191 लोगों की मृत्यु हुई। छत्तीसगढ़ राज्य में वर्ष-2019 में 4950 लोगों की मृत्यु हुई।

प्रेसवार्ता में बताया कि वर्ष 2019 में जिले के विभिन्न स्कूलों/हाट-बाजारों एवं अन्य स्थानों में करीब 120 कार्यक्रम कर लगभग 65,000 लोगों को सड़क सुरक्षा एवं यातायात नियमों के बारे में जानकारी दी गई। वहीं लगभग 4,000 चालकों का स्वास्थ्य/नेत्र परीक्षण कराया गया। ओवर स्पीड, रेड सिग्नल जंप, माल वाहक में सवारी ले जाना,शराब पीकर वाहन चलाना, मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हुए वाहन चलाने वाले 613 चालकों को लाइसेंस 3 माह के लिए निलंबित कराया गया। प्रेसवार्ता में बताया गया कि यातायात पुलिस का यह कार्य वर्ष 2020 में भी जारी रहेगा। जिन थाना क्षेत्र में सड़क दुर्घटनाएं ज्यादा हई हैं उन थाना क्षेत्र में जागरूकता कार्यक्रम पर ज्यादा फोकस रहेगा। हेलमेट को अभियान के रूप में चलाया जाएगा।

17-12-2019
सोच,समझ व सहानुभूति व्यक्तित्व विकास के आरंभिक तत्व: भोजराम पटेल

कांकेर। भानुप्रतापदेव शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, कांकेर के राष्ट्रीय सेवा योजना की पुरुष व महिला दोनों इकाइयों की संयुक्त सात दिवसीय विशेष शिविर के तृतीय दिवस स्वयंसेवकों ने प्रभात फेरी के पश्चात् परियोजना कार्य के अंतर्गत शिविर स्थल बागोड़ ग्राम के सरार तालाब व विद्यालय के आस-पास विस्तृत सफाई अभियान चलाया। भोजन के पश्चात् बौद्धिक चर्चा में कांकेर जिले के एसपी भोजराम पटेल विशिष्ट वक्ता के रूप में उपस्थित हुए। उन्होंने व्यक्तित्व विकास व कैरियर निर्माण विषय पर अपना वक्तव्य देते हुए कहा कि मैंने पुलिस सेवा के पहले लगभग 6 वर्ष अध्यापन किया है। लेकिन मैं शिक्षक नहीं विद्यार्थी हूँ और जीवन भर विद्यार्थी रहूँगा। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि यदि आप को पहले से अपने कार्य योजना के बारे में पता होगा तो कार्य आसानी से और तय समय में संपन्न होगा। साथ ही उन्होंने ‘मै’ के बजाय ‘हम’ को व्यक्तित्व विकास का मूल बताया,इसके लिए स्वामी विवेकानंद के कथन ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की अवधारणा को आत्मसात करने पर जोर दिया।

उन्होंने कैरियर निर्माण के लिए समय को सबसे महत्त्वपूर्ण व मूल्यवान पूंजी बताते हुए इसे संरक्षित करने के लिए प्रेरित किया और सोच,समझ व सहानुभूति को व्यक्तित्व विकास का आरंभिक तत्व बताया। कांकेर के सहायक उपनिरीक्षक केजूराम रावत भी इस सत्र के वक्ता रहे। उन्होंने यातायात जागरूकता पर विस्तृत व्याख्यान प्रस्तुत किया। रावत ने सड़क दुर्घटना के विभिन्न पहलुओं की चर्चा करते हुए आंकड़ों के साथ बताया कि हमारी लापरवाही वास्तव में बेहद खतरनाक है। अतः हमें सावधानी, संयम व समझ से गाड़ी चलाना चाहिए। बस्तर विवि के रा.से.यो. कार्यक्रम समन्वयक डॉ.डीएल पटेल ने सत्र का अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए विद्यार्थियों को ईमानदारी व मेहनत से शिविर में सीखने व कार्य करने हेतु प्रेरित किया। साथ ही उन्होंने सायंकाल खेल सत्र में विभिन्न खेलों में शामिल होकर विद्यार्थियों को प्रोत्साहित किया। धन्यवाद ज्ञापन कार्यक्रम अधिकारी डॉ.मनोज राव व संचालन कार्यक्रम अधिकारी डॉ.जय सिंह ने किया। शिविर संचालन में ग्राम सरपंच, उपसरपंच, वरिष्ठ ग्रामीणजनों के साथ प्रो.विजय साहू, महादलनायक गुरुदास बिस्वास, तिलेश्वर साहू, महादलनायिका, शिल्पा साहू, आदुरी मिस्त्री, तनूजा यादव व सभी स्वयंसेवक छात्र-छात्राएं महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

05-10-2019
मिशन संभव के तहत यातायात जागरूकता के लिए म्यूजिकल जिंगल का हुआ शुभारंभ

रायगढ़। महानगरों की तर्ज पर अब रायगढ़ शहर के चौक चौराहों पर भी यातायात नियमों के संबंध में जानकारी देते हुए जिंगल्स बजेंगे। जन सुरक्षा जागरूकता अभियान के तहत रायपुर की संस्था सुरक्षित भव फाऊण्डेशन के द्वारा रायगढ़ में मिशन संभव द्वारा म्यूजिकल जिंगल का शुभारंभ किया गया। हेमू कलाणी चौक पर एक कार्यक्रम के तहत कलेक्टर यशवंत कुमार, पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह ने इसका शुभारंभ किया। इस अवसर पर कलेक्टर यशवंत कुमार ने कहा कि यातायात जागरूकता अति आवश्यक है। यह एक अभिनव कोशिश है जिससे ट्रैफिक नियमों के पालन के लिए लोगों में जागरूकता आयेगी।

एसपी संतोष सिंह ने केन्द्र सरकार द्वारा लागू किये गये नये ट्रैफिक नियमों को सही ठहराते हुए कहा कि इससे एक दबाव बनेगा और लोग यातायात के प्रति जागरूक होंगे। संस्था के संस्थापक संदीप धुप्पड़ ने बताया कि सिग्रल पर कुछ देर के लिए वाहन रूकते हैं तो वाहन चालक को यातायत नियमों की जानकारी इससे मिल सकेगी तथा सिग्रल पर खड़े होना बोर भी नहीं लगेगा। वर्तमान में शहर के हेमू कलाणी चौक, शहीद चौक एवं चक्रधरनगर चौक पर म्यूजिकल जिंगल लगाये गये हैं। भविष्य में अन्य 9 चौराहों पर और लगाये जायेंगे। इस अवसर पर नगर निगम आयुक्त राजेन्द्र गुप्ता, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा, नगर पुलिस अधीक्षक अविनाश ठाकुर यातायात पुलिस डीएसपी आर.के.मिंज भी उपस्थित थे। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804