GLIBS
13-07-2020
एसपी के दोपहिया वाहन के सामने शराब की बोतल फेंकना पड़ा भारी, पहुंच गए जेल

राजनांदगांव। शहर की अंदरूनी गलियों और बस्ती की सुरक्षा का जायजा लेने एसपी जितेन्द्र शुक्ला के दोपहिया वाहन बुलेट से कभी भी निकल जाते हैं। बीते रोज जब वे बसंतपुर क्लब चौक से गुजर रहे थे तो वहाँ बैठकर शराब पी रहे युवकों ने खाली बोतल बुलेट के सामने फेंक दी। एसपी की सूचना पर बसंतपुर पुलिस की अलग-अलग टीमें मौके पर पहुंच गई। कुछ ही घंटों के अंदर ही तीन युवक पुलिस की गिरफ्त में आ गए। बसंतपुर पुलिस इन पर कार्यवाही कर रही है।

26-03-2020
लॉक डाउन उल्लंघन पर पुलिस सख्त, बेवजह घूमने वालों पर बरसाए डंडे

रायपुर/बिलासपुर। कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन का महत्व ज्यादातर लोगों को समझ नहीं आ रहा है। लॉक डाउन के बावजूद आदेशों का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस की सख्ती देखी जा रही है। ऐसा ही नजारा बिलासपुर के तखतपुर में देखने को मिला। सड़क पर बेवजह घूमने वालों पर एसडीओपी रश्मित कौर चावला ने डंडे भी बरसाए। एसडीओपी की सख्ती के बाद इलाके में लोगों का बाहर निकलना कम हुआ है। वहीं एक मोटरसाइकिल सवार को संदेह के आधार पर जब रोका गया तो उसकी जेब से शराब की बोतल निकली। आरोपी युवक को आबकारी एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। एसडीओपी रश्मित कौर चावला का कहना है कि लोगों को लॉक डाउन का महत्व समझना होगा। शासन ने आदेश जनता की सुरक्षा और सेहत को ध्यान में रखकर ही दिया है।

27-07-2019
Exclusive : प्रशासन प्राकृतिक धरोहरों को सहेजने में उदासीन, अस्तित्व खोता जा रहा कुंदरूपारा का तालाब

बालोद। कहते हैं तालाब शहर के इकोलाजी को संतुलित रखने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इससे न केवल जल स्तर बना रहता है। बल्कि जीव-जंतुओं का संतुलन भी बनाए रखता है। लेकिन बालोद शहर में एक ऐसा तालाब भी देखा जा सकता है जहां तैरती मिलती है शराब की बोतलें, डिस्पोजल ग्लास और प्लास्टिक का कचरा। बालोद नगरपालिका क्षेत्र के इस कुंदरूपारा तालाब की दशा देखकर सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि नगरपालिका का प्रशासन प्राकृतिक धरोहरों के संरक्षण, इकोलॉजी और जल स्तर बनाए रखने को लेकर कितनी गंभीर है। जिला योजना समिति के सदस्य नितेश वर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा है कि नगरपालिका की उदासीनता के कारण यह तालाब अपने मूल आस्तित्व को खोता जा रहा है। कुंदरूपारा के तालाब के लिए निकाय प्रशासन न तो कोई इंतजाम किया है और न ही इसे सहेजने के प्रयास होते दिख रहे हैं।

इधर शराब की तैरती बोतल, उधर स्नान
तालाब में एक ओर पानी में तैरती शराब की बोतलें, डिस्पोजल ग्लास और प्लास्टिक कचरा नजर आता है तो दूसरी ओर लोग स्नान करते नजर आते हैं। कुंदरूपारा का यह तालाब सालों से लोगों के स्नान, ध्यान के लिए उपयोगी रहा है। आज भी मोहल्ले के अलावा आसपास के लोग इस तालाब में स्नान करने के लिए आते हैं।

तालाब बना मयखाना, अंधेरा में जमकर छलकता है जाम
मंदिरा प्रेमियों ने कुंदरूपारा के इस तालाब को मयखाना बना रखा है। अंधेरा होते ही छलकने शराब के जाम छलकने लगते हंै। तालाब में शराब की बोतले और डिस्पोजल ग्लास फेकने से पानी प्रदुषित हो रहा है। पानी के अलावा तालाब पार में भी बड़ी मात्रा में शराब की बोतलें और प्लास्टिक कचरा पड़ा हुआ है।

कचरे के ढेर पर तालाब
कुंदरूपारा, आमापारा, शिकारीपारा के अलावा और अन्य मोहल्लों के निस्तारी के काम आने वाला यह तालाब कचरे के ढेर में तब्दील हो गया है। यदि यही हालात रहे तो कुछ सालों में तालाब का अस्तित्व खतरे में पड़ जाएगा। कभी भी कोई गंभीर बीमारी पैर पसार सकती है।

एक ही तालाब तालाब पर बार-बार लाखों रुपये खर्च
सदस्य और पार्षद नितेश वर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि, नगरपालिका के वर्तमान 4 साल 6 माह के कार्यकाल में निकाय प्रशासन द्वारा एकमात्र तालाब पर लाखों रुपये खर्च किये गए शहर के अन्य तालाबों को दरकिनार किया गया। जिसके चलते शहर के बाकी तालाब अपना अस्तित्व बचाने सफाई और अन्य विकास कार्यों की बाट जोह रहे हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804