GLIBS
17-09-2020
पीजी कॉलेज में 30 सितंबर तक होगा एडमिशन, जनभागीदारी समिति लगातार कर रही सीट बढ़ाने की मांग 

कवर्धा। जिले के सबसे बड़े पीजी कॉलेज में हर वर्ष एडमिशन के लिए जिले भर के छात्र बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। इसके कारण हर वर्ष भारी भीड़ इक्कठा हो जाती है, लेकिन इस वर्ष जनभागीदारी समिति के प्रयास से बड़े ही शांतिपूर्ण तरीके से कॉलेज में एडमिशन कार्य चल रहा है। जिले के सबसे बड़े कॉलेज होने के बाद भी 15 साल से कम सीट के कारण सभी छात्रों का एडमिशन कॉलेज में नहीं हो पाता है। कोरोना वायरस के कारण इस बार कुछ  सीटें खाली पड़ी है। जनभागीदारी समिति ने सभी सीट भर सके, इसके लिए कम प्रतिशत वाले छात्रों के भी एडमिशन के लिए फार्म जमा कराया है।

इधर विश्वविद्यालय ने एडमिशन की तारीख में बढ़ोत्तरी कर दी है। अब 30 सितंबर तक एडमिशन हो सकेगा। बुधवार की एडमिशन कीआखरी तारीख समझकर बड़ी संख्या में छात्र कॉलेज पहुंच थे,तारीख बढ़ने की जानकारी मिलने पर छात्र वापस लौटे। जनभागिदारी समिति के अध्यक्ष मोहित महेश्वरी व सदस्य कॉलेज में सीट बढ़ाने की मांग लगातार कर रहे हैं। इससे कम प्रतिशत वाले छात्रों को भी एडमिशन मिल सके। जनभागीदारी समिति के सदस्य व अध्यक्ष इसी उद्देश्य से स्वयं कॉलेज में घंटों बैठकर छात्रों के एडमिशन में सहयोग कर रहे हंै। समिति के कारण ही बड़े ही शांति ढंग से कॉलेज में एडमिशन हो रहा है। इसके लिए कॉलेज प्रशासन व एनएसयूआई ने समिति काआभार व्यक्त किया है।

14-02-2020
जानिए किस वजह से गुजरात के गर्ल्स हॉस्टल में 68 लड़कियों के उतरवाए गए कपड़े...

नई दिल्ली। गुजरात के भुज के एक गर्ल्स हॉस्टल से शर्मनाक मामला समाने आया है। दरअसल, गर्ल्स हॉस्टल के बाहर सैनिटरी पैड मिलने के बाद 68 लड़कियों के पीरियड्स चेक करने के लिए उनके कपड़े उतरवाए गए। बताया जा रहा है कि हॉस्टल प्रबंधन को शक था कि लड़कियों को पीरियड हुआ है, जिसकी जांच के लिए हॉस्टल में मौजूद 68 छात्राओं के इनरवियर उतरवा कर जांच की गई है। वहीं मामले को लेकर छात्राओं में रोष है तो छात्राओं के माता-पिता इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी में है। वहीं कॉलेज प्रशासन इस मामले को दबाने की कोशिश में लगा हुआ है।  

मामला भुज के सहजानंद गर्ल्स कॉलेज का है, जहां हॉस्टल के वार्डन ने वॉशरूम में छात्राओं के पीरियड्स की जांच करने के लिए लड़कियों के कपड़े और इनरवियर तक उतरवाकर जांच की। इस मामले में कॉलेज की डीन दर्शना ढोलकिया ने कहा कि यह मामला हॉस्टल का है और इसका यूनिवर्सिटी/कॉलेज से कोई लेना-देना नहीं है। जो कुछ भी हुआ है वह लड़कियों की अनुमति से हुआ है। किसी ने भी इसके लिए लड़कियों को मजबूर नहीं किया। उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच के लिए एक समिति का गठन किया गया है। यह विवाद तब शुरू हुआ जब हॉस्टल के गार्डन में इस्तेमाल किया हुआ सैनिटरी पैड मिला। इसके बाद वॉर्डन को शक हुआ कि यह हॉस्टल की किसी लड़की ने ऐसा किया होगा और पैड को इस्तेमाल करने के बाद वॉशरूम की खिड़की से फेंक दिया होगा। यह पता लगाने के लिए आखिर ऐसा किस लड़की ने किया है वॉर्डन ने वॉशरूम में लड़कियों के कपड़े उतरवाकर चेकिंग की।

12-09-2019
स्वास्थ्य मंत्री ने विद्यार्थियों को दिया अपना मोबाइल नंबर, कहा- मेडिकल कॉलेज की समस्याओं से कराएं अवगत

रायपुर। लोक स्वास्थ्य, परिवार कल्याण और चिकित्सा शिक्षा मंत्री टीएस सिंहदेव ने आज जगदलपुर मेडिकल कॉलेज में विद्यार्थियों, नर्सों और कर्मचारियों की समस्याएं सुनीं। उन्होंने विद्यार्थियों की मांग पर मेडिकल कॉलेज में एक माह के भीतर ई-लायब्रेरी शुरू करने के निर्देश दिए। साथ ही लाइब्रेरी को रात 10 बजे तक खुला रखने कहा। छात्रावास में चौबीसों घंटे पढ़ाई के लिए रीडिंग रुम की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने विद्यार्थियों की समस्याओं को गंभीरता से सुना और उनके त्वरित निराकरण के लिए कॉलेज प्रशासन को आवश्यक निर्देश दिए। इस दौरान बस्तर के सांसद दीपक बैज ने कॉलेज में कैंटीन भवन के निर्माण के लिए 10 लाख रुपए देने की बात कही। सिंहदेव ने कहा कि वे यहां बेहतर से बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने के लिए सुझाव लेने आए हैं। छात्र-छात्राओं की सभी समस्याओं का निराकरण किया जाएगा। उन्होंने विद्यार्थियों को अपना मोबाइल नम्बर देते हुए समस्याओं से अवगत कराने का आग्रह किया। सिंहदेव ने विद्यार्थियों द्वारा ऑडिटोरियम का निर्माण शीघ्र पूर्ण किए जाने की मांग पर इसे 3 माह के भीतर पूर्ण करने का आश्वासन दिया। उन्होंने बताया कि मेडिकल कॉलेज में खेल मैदान के निर्माण के लिए 8 लाख रुपए स्वीकृत किए गए हैं। विद्यार्थियों के लिए यहां जिम की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। मेडिकल छात्रों ने परीक्षा परिणाम घोषित करने में देरी पर स्वास्थ्य मंत्री द्वारा की गई कार्यवाही के लिए उनके प्रति आभार व्यक्त किया। सिंहदेव ने छात्रावास भवन की समस्याओं के निराकरण के लिए लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन अभियंता को तत्काल कदम उठाने के निर्देश दिए।

कर्मचारी संगठन के पदाधिकारियों से मिले
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी संगठन के प्रतिनिधियों से भी मिले। उन्होंने उनकी समस्याएं सुनकर शीघ्र निराकरण का आश्वासन दिया। इस मौके पर आदिम जाति कल्याण एवं बस्तर जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष  लखेश्वर बघेल, भानुप्रतापपुर विधायक मनोज मंडावी, महापौर जतिन जायसवाल, स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक सिंह, कमिश्नर बस्तर अमृत कुमार खलखो, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़, संचालक राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन डॉ. प्रियंका शुक्ला, कलेक्टर बस्तर डॉ. अय्याज तम्बोली, मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. यूएस पैकरा और अधीक्षक डॉ. केएल आजाद भी मौजूद थे।

22-07-2019
बाराबंकी के आवासीय विद्यालय की छात्राओं ने की यह हरकत, विभाग में मचा हड़कंप

बाराबंकी। बाराबंकी जिले में कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय मिश्रीपुर जहांगीराबाद से सोमवार को छह छात्राएं गायब मिलीं। मामले की जानकारी मिलने पर शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया। बेसिक शिक्षा अधिकारी वीपी सिंह ने मौके पर पहुंचकर छानबीन शुरू की तो वो मसौली थाना क्षेत्र के जेवली गांव के एक घर में बैठी मिलीं। वहीं छात्राओं ने कॉलेज प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए हैं। बेसिक शिक्षा अधिकारी का कहना है कि पूरे मामले में जांच करवाकर कार्रवाई की जाएगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804