GLIBS
19-11-2019
प्रधानमंत्री के नाम पत्र राजीव भवन में आना जारी, महासमुंद से आए 1 लाख पत्र

रायपुर। कांग्रेसियों द्वारा इन दिनों घर-घर जाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम पत्र लिखे जा रहे हैं। किसानों, व्यापारियों और आमजनों से प्रधानमंत्री के नाम पत्र अभियान पूरे प्रदेश में जोरों पर चल रहा है। यह अभियान घर-घर जाकर चलाया जा रहा है। इस संबंध में प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं अध्यक्ष संचार विभाग, शैलेश नितिन त्रिवेदी का कहना है कि गत13 नवंबर को प्रदेश कांग्रेस कार्यकारणी की बैठक के दिन तक सात लाख किसानों के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम पत्र प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंच चुके थे। महासमुंद जिला कांग्रेस अध्यक्ष आलोक चंद्राकर के नेतृत्व में महासमुंद जिले के कांग्रेस नेताओं ने प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन, प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी और प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री महेन्द्र छाबड़ा की उपस्थिति में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को किसानों के द्वारा लिखे गये 1 लाख पत्र प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में सौंपे हैं। अन्य जिलों से भी किसानों के प्रधानमंत्री के नाम पत्र प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में लगातार मिल रहे हैं। बता दें कि मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को एक बार फिर पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ में 2500 रुपए प्रति क्विंटल की दर पर धान उपार्जन करने और 32 लाख मीट्रिक टन चावल केन्द्रीय पूल में लेने का आग्रह किया है। 

18-11-2019
अब तक 4133 क्विंटल धान जब्त, चार वाहन भी जब्त

महासमुंद। कलेक्टर सुनील कुमार जैन के निर्देश पर जिले के विभिन्न क्षेत्रों में धान का अवैध भंडारण एवं परिवहन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी गई है। धान का अवैध परिवहन एवं भंडारण करते वाले लोगों की सघन जांच कर धान की जब्ती की जा रही है। इसी तारतम्य में आज विभिन्न विभागों के अधिकारियों की संयुक्त टीम द्वारा कुल 15 प्रकरण दर्ज किए गए हैं। इसके अंतर्गत आज 8245 बोरे धान अर्थात 3308 क्विंटल धान जब्त किया गया साथ ही अवैध परिवहन में संलिप्त चार वाहन भी जब्त किए गए। इस तरह जिले में अब तक कुल अवैध धान परिवहन एवं भंडारण के 37 प्रकरण दर्ज किए गए तथा 10319 बोरे धान अर्थात 4133 क्विंटल धान जब्त किया गया ।  जिला खाद्य अधिकारी अजय यादव ने बताया कि आज अवैध धान परिवहन एवं भंडारण के अंतर्गत जिनपर कार्रवाई हुई उनमें अजय किराना स्टोर केजुआ, सरायपाली में 19 कट्टा धान एवं 15 कट्टा चावल, टिकेश्वर किराना स्टोर केजुआ में 13 कट्टा धान, तिलक राज पटेल केजुआ, सरायपाली से 90 कट्टा धान, बंशीधर अग्रवाल, सरायपाली से 72 कट्टा धान जब्त किया गया, वहीं शिवकुमार अग्रवाल, छोटो ढाबा, बसना से 25 क्विंटल धान, साईं कृपा ट्रेडर्स से 300 कट्टा चावल जब्त किया गया। इसी तरह पटेल राइस मिल, पालीडीह सरायपाली से 42 क्विंटल धान, प्रियंका ट्रेडर्स, झिलमिला से 38 क्विंटल धान जब्त किया गया, वहीं दीपक सिन्हा बोकरामुंडा किराना दुकान, बागबाहरा से 1145 कट्टा धान, विजय शान्ति फूड प्रोसेसर राइस मिल, घोयनाबाहरा कोमाखान से 6220 कट्टा धान जब्त किया गया। अंतरराज्यीय जांच चौकी टेमरी से जांच के दौरान राजेश जैन, घोयनाबाहरा कोमाखान वाहन क्रमांक सीजी 04 डी-7466 से 300 कट्टा धान तथा नासिर खान, जामपाली अंतरराज्यीय जांच चौकी पिकअप वाहन क्रमांक ओआर 03-एच-4503 पर 50 कट्टा धान जब्त किया गया।

 

18-11-2019
मंत्री के आदेश का अधिकारियों पर नहीं हुआ असर, अब तक शुरू नहीं किया सड़कों में सुधार कार्य

महासमुंद। लोक निर्माण मंत्री के समीक्षा बैठक में अधिकारियों को दिए गए 2 महीने में गड्ढा भरने के निर्देश का कुछ खास असर नहीं हुआ है। जिले में विगत दिनों प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने बरसात के बाद खराब हुए सभी सड़कों के सुधार के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए थे 2 महीने का समय भी तय किया गया है। इसमें अब तक लगभग एक महीना का समय निकलने भी वाला है। यहां के अधिकारी मंत्री के आदेश की बिल्कुल भी परवाह नहीं कर रहे हैं।

बागबाहरा, पिथौरा क्षेत्र के लोक निर्माण विभाग के अनुविभाग के अधिकारियों ने अभी तक खस्ताहाल सड़कों का गड्ढा भराई कार्य प्रारंभ नही करवाया हैं। पिथौरा से तेंदुकोना तक की सड़क में अनगिनत गड्ढे हो गए है। यह मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग भी है और फिलहाल कुछ सालों से अघोषित राष्ट्रीय राजमार्ग बना हुआ है। फिर भी इस खस्ताहाल सड़क की दुर्दशा की अधिकारी गण सुध नही ले रहे है। इसी प्रकार तेंदुकोना से कलमीदादर मार्ग भी अब काफी जर्जर हो चुका है। 

 

15-11-2019
छत्तीसगढ़ सरकार एनएमडीसी की माईनिंग लीज बढ़ाएगी: भूपेश बघेल 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को अपने निवास कार्यालय में एनएमडीसी के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक एन. बैजेन्द्र कुमार से मुलाकात के दौरान कहा कि एनएमडीसी की माईनिंग लीज जो 30 मार्च 2020 को समाप्त हो रही है उसे राज्य सरकार आगे बढ़ाएगी। मुख्यमंत्री ने एनएमडीसी से जुड़े विभिन्न विषयों पर कुमार के साथ विचार-विमर्श किया। उन्होंने कहा कि एनएमडीसी और सीएमडीसी महासमुंद जिले के सरायपाली तहसील के हीरा धारित क्षेत्र में पूर्वेक्षण का काम करेगी। चर्चा के दौरान यह भी तय हुआ की छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल द्वारा नगरनार इस्पात संयंत्र परियोजना में लगभग 1200 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाली हाऊसिंग परियोजना का निर्माण किया जाएगा। इसी प्रकार छत्तीसगढ़ सरकार को एनएमडीसी द्वारा माईनिंग कार्यों से संबंधित जो राशि दी जानी है, उसके संबंध में भी सहमती बनी है। एनएमडीसी द्वारा खनन से संबंधित 600 करोड़ रूपए की बकाया राशि का भुगतान जल्द ही राज्य सरकार को किया जाएगा। चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा शुरू की गई सार्वजनिक क्षेत्र की नवरत्न कंपनी एनएमडीसी को पूरा सहयोग राज्य सरकार देगी। मुख्यमंत्री ने एनएमडीसी के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक को एनएमडीसी के स्थापना दिवस और हीरक जयंती की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर वन मंत्री मोहम्मद अकबर, खनिज संसाधन विभाग के विशेष सचिव पी. अन्बलगन और एनएमडीसी के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थें।


 

13-11-2019
100 उच्च प्राथमिक शालाओं में बांटे जाएंगे टेबलेट, स्कूल शिक्षा मंत्री 14 नवम्बर को करेंगे शुभारंभ 

रायपुर। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम गुरूवार 14 नवम्बर को जिला महासमुंद के जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डाईट) महासमुंद में जिले के 100 चिन्हांकित उच्च प्राथमिक शाला में आर्टिफिसियल इंटिलिजेंस सक्षम टेबलेट वितरण के कार्यक्रम में शामिल होंगे। स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने ‘फ्यूचर शानदार’ परियोजना के संबंध में बताया कि भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय मिशन अंतर अनुशासनात्मक साइबर भौतिक प्रणाली परियोजना प्रारंभ की गई है। इस परियोजना को हेसलफ्रे फाउण्डेशन चेन्नई द्वारा 19 राज्यों 91 अकांक्षी जिलों में संचालित किया जा रहा है।

परियोजना का उद्देश्य है कि जो बच्चे 6वीं से 8वीं कक्षाओं में पढ़ रहे हैं और 2030 तक रोजगार के तालाश में होंगे। इंटरनेट और तकनीक द्वारा होने वाले तेज बदलाव के प्रभावों के बारे में उन्हें अवगत कराना है, ताकि वे आने वाले समय में चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हो। छात्रों में रचनात्मकता बढ़ाने और सीखने की आदत डालना भी इस परियोजना में शामिल है। परियोजना में प्रत्येक शाला को एक आर्टिफिसियल इंटिलिजेंस टेबलेट (ए.आई.) सक्षम गेजेट (टेबलेट) निःशुल्क प्रदान किया जाता है। इस गेजेट में तकनीक से संबंधित कहानियां एक कार्टून पात्र ‘टीना’ के माध्यम से समझायी गई हैं। बच्चे इन कहानियों द्वारा आने वाली तकनीक के बारे में जानते हैं और अपनी सोच समृद्ध करते हैं। 

11-11-2019
 प्रथम चरण में 1303 विद्यालयों के शिक्षकों को डिजिटल शिक्षा का प्रशिक्षण

रायपुर। आईसीटी योजना 'डीजी दुनिया' के डिजिटल कक्ष में स्कूली बच्चों को रोचक ढंग से मल्टीमीडिया के माध्यम से शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रथम चरण में प्रदेश के सात जिलों बालोद, बेमेतरा, दुर्ग, धमतरी, महासमुंद, रायपुर,      राजनांदगांव के 1303 विद्यालय में डीजी दुनिया संबंधी शिक्षण-प्रशिक्षण दिया जा रहा है। यह प्रशिक्षण चरणबद्ध तरीके से 24 विकासखण्डों के 36 केन्द्र (विकासखण्ड स्तरीय विद्यालय) में 7 नवम्बर से शुरू हो चुका है, जो 30 नवम्बर  तक चलेगा। डीजी दुनिया योजनातंर्गत शासकीय विद्यालयों में कम्प्यूटर लैब सहित डिजिटल क्लास की स्थापना की जा रही है। यहां 515 विद्यालयों में डिलिटल क्लास सह कम्प्यूटर लैब और 788 विद्यालयों में डिजिटल क्लास स्थापित किया जाना प्रस्तावित है। स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जिला दुर्ग और रायपुर में शिक्षक संख्या अधिक होने के कारण विकासखण्ड दुर्ग और धरसींवा में 2-2 प्रशिक्षण केन्द्र निर्धारित किए है। राज्य स्तर से विभाग के अधिकारियों ने रायपुर के चौबे कालोनी स्थित मायाराम सुरजन शासकीय कन्या हायर सेकेण्डरी स्कूल के प्रशिक्षण केन्द्र का अवलोकन किया।


प्रथम चरण में संबंधित जिलों के चयनित प्रशिक्षण केन्द्र/विद्यालयों में अधिकतम 40-40 शिक्षकों के बैच में केन्द्रानुसार 3 से 6 बैच में शिक्षण प्रशिक्षण चरणबद्ध तरीके से दिया जा रहा है। डीजी दुनिया योजनातंर्गत डिजिटल क्लास का प्रशिक्षण केन्द्र में प्रति बैच 6 दिवस (तीन दिवसीय प्रशिक्षण और तीन दिवसीय कार्यानुभव) का होगा। कम्प्यूटर लैब सह डिजिटल क्लासरूम का प्रशिक्षण प्रति बैच 6 दिवसीय (तीन दिवसीय प्रशिक्षण-प्रशिक्षण केन्द्र पर और तीन दिवसीय कार्यानुभव संबंधित के विद्यालय) में प्रदान किया जाएगा।  प्रशिक्षण में प्रत्येक विद्यालय से अधिकतम 8 शिक्षक सहभागिता करेंगे। एक विद्यालय से शिक्षकों को 1-1, 2-2 या 3-3 के समूह में बिना शिक्षण व्यवस्था को प्रभावित किए प्रशिक्षण हेतु (प्रति बैच अधिकतम 40 की सीमा का ध्यान रखते हुए) प्रशिक्षण केन्द्र में उपस्थिति सुनिश्चित कराने के संबंध में विद्यालयों के प्राचार्यों को निर्देशित किया गया है।

02-11-2019
राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य ने किया महासमुन्द जिले का दौरा

रायपुर। राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य कमलेश गौतम महासमुंद जिले के प्रवास पर रहीं। इस दौरान महिलाओं से संबंधित केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं के संबंध में क्षेत्र भ्रमण कर जानकारी ली। उन्होंने कलेक्टर सुनील कुमार जैन एवं पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र कुमार शुक्ल के साथ संयुक्त बैठक कर योजनाओं के क्रियान्वयन के संबंध में विस्तृत चर्चा की। बैठक में उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि महिलाओं से संबंधित केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार की समस्त योजनाओं का जमीनी स्तर पर उचित क्रियान्वयन हो एवं महिलाओं को इसका लाभ मिले। साथ ही महिलाओं के साथ घटित होने वाले अपराधों, उनकी रोकथाम एवं विभिन्न प्रकार की हिंसा से पीडि़त महिलाओं को त्वरित पुलिस एवं कानूनी सहायता उपलब्ध कराने के विषय में चर्चा की गई। प्रवास के दौरान गौतम ने ग्राम बेलसोंडा के आंगनबाड़ी केंद्र में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के हितग्राहियों से सीधी चर्चा की एवं उनसे फीडबैक भी लिया। तदुपरांत गौतम सखी वन स्टॉप सेंटर महासमुंद का निरीक्षण भ्रमण किया एवं वहां पर कार्यरत केंद्र प्रशासक एवं अन्य कर्मचारियों से सखी केंद्र के संचालन के संबंध में जानकारी ली गई। इसके अलावा उनके द्वारा समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित वृद्धा आश्रम का भी निरीक्षण किया गया और वृद्धाश्रम की व्यवस्थाओं का अवलोकन किया गया। उनके द्वारा विशेष तौर पर खाद्यान्न सुरक्षा योजना, उज्जवला गैस कनेक्शन, सखी वन स्टॉप सेंटर एवं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना महिलाओं के कौशल विकास से संबंधित योजना महिलाओं को जागरूक करने संबंधी प्रयासों की जानकारी ली गई। इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी उपस्थित थे।

30-10-2019
राज्योत्सव स्थल पहुंचने के लिए बनाए गए हैं पांच आवागमन द्वार : महापौर

रायपुर। राजधानी रायपुर में 1 से 3 नवंबर को होने वाले राज्य उत्सव में जनता के लिए पांच आवागमन द्वार एवं पर्याप्त पार्किंग स्थल की व्यवस्था की गई है।  महापौर प्रमोद दुबे ने बताया कि जनता की सुविधा को दृष्टिगत रख धमतरी, महासमुंद, भाटागांव क्षेत्र से आने वाले लोगों को राज्योत्सव स्थल में पहुंचने के लिए अक्षय टोयोटा शोरूम के पास से कांगेर वेली स्कूल होते हुए एनसीसी ग्राउंड में पार्किंग की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही शहर में आने वाले लोगों के लिए एनआईटी साइंस कॉलेज एवं आयुर्वेदिक महाविद्यालय में पार्किंग की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा मीडिया एवं एमआईसी सदस्य तथा जनप्रतिनिधियों के लिए विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन के पास पार्किंग की व्यवस्था की गई है। जिन अधिकारियों की मेला स्थल में ड्यूटी लगी है वह अपने वाहनों को बस डिपो में खड़ा करेंगे। प्रमोद दुबे ने बताया कि वहां पर अलग-अलग चार रास्तों से आने-जाने के लिए पर्याप्त एंट्री और निकासी द्वार बनाए गए हैं। इसके अलावा फूड स्टाल में लगभग 40 लोगों के लिए छत्तीसगढ़ी एवं अन्य व्यंजन के स्टाल दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त 16 विभागों के अलग-अलग स्टाल लगाए जा रहे हैं। प्रमोद दुबे ने बताया कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए सरदार वल्लभभाई पटेल इंटरनेशनल हॉकी स्टेडियम के पास मंच की व्यवस्था की गई है। प्रदर्शनी स्थल में अत्यंत आकर्षक प्रदर्शनी लगाए गए हैं। महापौर प्रमोद दुबे ने बताया कि फायर ब्रिगेड से लेकर पर्याप्त टॉयलेट की व्यवस्था मेला स्थल पर की गई है। पेयजल हेतु पांच स्थानों को चिन्हित कर अलग-अलग स्थानों पर पेयजल की पर्याप्त व्यवस्था मेला स्थल में आने वाले लोगों के लिए की गई है। सम्पूर्ण पार्किंग स्थल में सीसी कैमरे लगाए गए हैं।

 

25-10-2019
त्यौहारी सीजन को देखते हुए खाद्य व औषधि प्रशासन ने लिए मिठाइयों के नमूने

महासमुंद। दीपावली पर्व को देखते हुए खाद्य एवं औषधि प्रशासन की टीम मिठाइयों में होने वाली मिलावट को लेकर अलर्ट पर है। खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग त्यौहारी सीजन में मिठाइयों में होने वाली मिलावट को ध्यान में रखते हुए लगातार मिठाई दुकानों में सघन जांच कर रहा है। खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीलम ठाकुर और नमूना सहायक नम्रता साहू ने सरायपाली और बसना क्षेत्र की मिठाई दुकानों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान जहां बसना के सत्कार स्वीट्स से रसगुल्ला और सोनपापड़ी के सैम्पल लिए गए, वहीं सरायपाली में सरदार होटल से चमचम और जय अम्बे स्वीट्स से खोआ बर्फी के भी नमूने लिए गए। इसके अलावा बसना और सरायपाली क्षेत्र की करीब 15 दुकानों में खाद्य सुरक्षा अधिकारी नीलम ठाकुर द्वारा साफ  सफाई, और मिठाइयों की क्वालिटी जांच के साथ फर्म का रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस की जांच भी की गई। मिलावट को ध्यान में रखते हुए सभी दुकानदारों को सख्त चेतावनी भी दी गई है।

 

23-10-2019
मौसम विभाग ने जारी किया यलो अलर्ट, कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

रायपुर। मौसम विभाग ने बुधवार शाम चेतावनी जारी करते हुए आगामी 24 से 48 घंटे के भीतर छत्तीसगढ़ के कई जिलों में मध्यम से भारी वर्षा होने की संभावना जताई है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में प्रदेश के बालोद, धमतरी, कोंडागांव, कांकेर, रायगढ़ और महासमुंद जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया है। इन जिलों में एक से दो स्थानों पर मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है। इसी तरह आगामी 48 घंटे में प्रदेश के कांकेर, बीजापुर, दंतेवाड़ा, कोंडागांव, नारायणपुर, धमतरी, गरियाबंद, महासमुंद, बलोदा बाजार, जांजगीर, रायगढ़, सरगुजा, सूरजपुर, बलरामपुर, जशपुर जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है। इन जिलों में कुछ स्थानों पर मध्यम से भारी वर्षा और 1-2 स्थानों पर भारी से अति भारी वर्षा होने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार छत्तीसगढ़ में बुधवार को एक-दो स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा दर्ज की गई है। प्रदेश में सबसे कम न्यूनतम तापमान 17.6 डिग्री सेल्सियस पेंड्रा रोड और सर्वाधिक अधिकतम तापमान 30.7 डिग्री सेल्सियस माना में दर्ज किया गया है। इसी तरह केशकाल में 2 सेंटीमीटर, पखांजूर में 1 सेंटीमीटर व कुछ और स्थानों पर इससे कम वर्षा दर्ज की गई है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान अनुसार प्रदेश में अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा या गरज- चमक के साथ छींटे पडऩे की संभावना है। रायपुर शहर में आकाश मेघमय रहने के साथ ही गरज-चमक के साथ वर्षा होने की अति संभावना है। शहर का अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमश: 29 डिग्री व 21 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है।

 

22-10-2019
संचालक लोक शिक्षण ने स्कूली बच्चों के साथ किया मध्यान्ह भोजन  

रायपुर। संचालक लोक शिक्षण संचालनालय एस. प्रकाश ने मंगलवार को महासमुंद, बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के हायर सेकण्डरी, हाई स्कूल, मिडिल और प्रायमरी स्कूल का औचक निरीक्षण किया। एस. प्रकाश ने कसडोल विकासखंड के ग्राम बल्दाकछार में स्कूली बच्चों के साथ बैठक कर मध्यान्ह भोजन किया, ई-साक्षरता केन्द्र बलौदाबाजार के शिक्षार्थियों से रू-ब-रू भी हुए। संचालक लोक शिक्षण सुबह महासमुंद जिले के बेलसोंडा हाईस्कूल पहुंचे और वहां अटल टिंकरिंग लैब का अवलोकन कर छात्र-छात्राओं से बातचीत की। संचालक लोक शिक्षण इसके पश्चात अचानक मीडिल स्कूल छपोराडीह पहुंचे। यहां 11 शिक्षकों में से 9 शिक्षक उपस्थित मिले, एक शिक्षक अवकाश पर और दूसरा शिक्षक मान्यता के काम से माध्यमिक शिक्षा मंडल कार्यालय में काम से जाने की जानकारी दी गई। उन्होंने नाराजगी जताई कि जब सब कुछ ऑनलाईन हो रहा है तो तो जाने की क्या आवश्यकता है। स्कूल में 'लर्निंग आऊट कम' अर्थात बच्चों की दक्षता संबंधी जानकारी दीवार पर नहीं लिखे जाने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए इस जानकारी को चस्पा करने और उसकी फोटो खींचकर भेजने के निर्देश संबंधित को दिए।

बोरिद प्रायमरी स्कूल में एक भी बच्चा ड्रॉप आऊट नहीं
संचालक एस. प्रकाश दूरस्थ अंचल के हाथी प्रभावित क्षेत्र में 5 किलोमीटर कच्चे रास्ते से जाकर ग्राम बोरिद के प्रायमरी स्कूल पहुंचे। यहां एक शिक्षकीय स्कूल के बच्चों के परफारमेंस ने उन्हें अभिभूत कर दिया। यहां उन्होंने सभी बच्चों को प्रोत्साहन स्वरूप चॉकलेट का वितरण किया। स्कूल के छात्र-छात्राओं ने न केवल कविता सुनाई बल्कि पुस्तकों के पाठों का पठन भी अच्छे से किया। स्कूल के शिक्षक बाबूलाल ध्रुव विद्यालय से संबंधित सभी जानकारी टीम्स-टी-एप में समय-समय पर अपलोड भी करते हैं। प्रकाश ने शिक्षक की मेहनत की तारीफ की इस गांव की आबादी लगभग 400 है और स्कूल की विशेषता यह है कि एक भी बच्चा ड्रॉप आऊट नहीं है। संचालक एस. प्रकाश के निरीक्षण के दौरान उनके साथ लोक शिक्षण संचालनालय के सहायक संचालक महेश नायक और राज्य साक्षरता मिशन के सहायक संचालक प्रशांत पाण्डेय भी थे। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा विभाग के संबंधित क्षेत्र के अधिकारी भी उपस्थित थे।

 

 

15-10-2019
मानसिक रोगियों की समस्याओं को समझने और परामर्श पर हुआ प्रशिक्षण

रायपुर। राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत टोल फ्री सेवा 104 एवं नवजीवन कार्यक्रम, महासमुंद के परामर्शदाताओं का मानसिक तनाव एवं अवसाद पर दो दिवसीय राज्य स्तरीय प्रशिक्षण आज संपन्न हुआ। जीवन संस्था, जमशेदपुर के प्रशिक्षकों गुरप्रीत कौर भाटिया और  बीवी मीना ने  प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया। प्रशिक्षण का आयोजन राज्य मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के राज्य कार्यक्रम अधिकारी डॉ महेंद्र सिंह के मार्गदर्शन में किया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम की जानकारी देते हुए राज्य कार्यक्रम समन्वयक डॉ सुमि जैन ने बताया कि प्रशिक्षण का मूल उद्देश्य स्वास्थ्य विभाग की टोल फ्री सेवा  104  एवं नवजीवन कार्यक्रम के परामर्शदाताओं को मानसिक स्वास्थ्य विषय पर समझ को बढ़ाना साथ ही मानसिक स्वास्थ्य की समस्या से जूझ रहे लोगों के आये फोन कॉल पर समस्याओं को समझना एवं परामर्श और उचित मार्गदर्शन देकर उन्हें स्वास्थ्य लाभ कराना है। प्रशिक्षण में मुख्य रूप से विषय विशेषज्ञों ने आत्महत्या रोकथाम और आत्महत्या विषय पर जागरुकता और समझ को बढ़ाया। आत्महत्या के बारे में और खुलकर बात करना, अवसाद और उसके नुकसान और मानसिक स्वास्थ्य से परेशान लोगों की जानकारी की गोपनीयता के महत्व पर समझ को बढ़ाया। फोन के माध्यम से आई परेशानियों को सुनने के कौशल को भी विकसित किया गया । यौन शोषण से परेशान कॉलर की मुश्किलों को समझना, रेफरल और सलाह देना प्रशिक्षण की प्रमुख गतिविधियां रहीं। प्रशिक्षण में 12 प्रतिभागियों ने भाग लिया। कार्यक्रम के अंत में राज्य कार्यक्रम अधिकारी डॉ महेंद्र सिंह ने प्रशस्ति पत्र दिया। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804