GLIBS
16-01-2021
जिले के महासमुंद,पिथौरा, सरायपाली ब्लॉक में अंजू तिवारी, उमेश और लक्ष्मीकांत को लगा पहला टीका

महासमुंद। जिले के 3 ब्लॉक महासमुंद, पिथौरा, सरायपाली में शनिवार से कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हुई। जिले के तीनों ब्लॉक के स्वास्थ्य विभाग में 5-5 सौ डोज भेजा गया। आज के टीकाकरण से पहले ही वैक्सिनेशन की तैयारी की जा चुकी थी। महासमुंद जिला सौ बिस्तर अस्पताल के महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता अंजू तिवारी को पहला टीका लगा। पिथौरा के एमपीडब्ल्यू उमेश कुमार दीवान और सरायपाली के स्वास्थ विभाग के वार्ड बॉय लक्ष्मीकांत लहरे को पहला टीका लगाया गया। शनिवार सुबह 10:30 बजे स्थानीय जिला अस्पताल से वैक्सीन अभियान की शुरुआत हुई। जिला अस्पताल में महासमुंद कलेक्टर डोमन सिंग, विधायक विनोद चंद्राकर, स्वास्थ विभाग के सीएमएचओ मंडपे उपास्थि थे। गौरतलब है कि पूरे जिले में 8977 लोगों ने टीकाकरण के लिए पंजीयन कराया गया है। पूरे जिले के लिए 4490 वैक्सीन की खुराक पहुंच चुकी है।

 

13-01-2021
मध्य भारत की प्रमुख नदी महानदी सिहावा पर्वत से निकल कर बंगाल की खाड़ी में जा मिलती है

रायपुर। धमतरी जिले को आधिकारिक तौर पर 6 जुलाई 1998 को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर जिले से महासमुंद के साथ विभाजित किया गया। नतीजतन, रायपुर जिले की सीमाएं तीन जिलों में बदल गयी हैं, रायपुर, महासमुंद और धमतरी। धमतरी, कुरूद , मगरलोड और नगरी को धमतरी जिले में तहसील और धमतरी, कुरुद, नगरी और मगरलोड  ब्लॉकों के रूप में शामिल किया गया है। जिले का कुल क्षेत्र 2029 वर्ग किलोमीटर है और औसतन समुद्र तल से 305 मीटर ऊपर है। जिला के उत्तर में जिला रायपुर और जिला कांकेर के साथ-साथ दक्षिण में बस्तर, पूर्व में उड़ीसा राज्य के हिस्से में और पश्चिम में जिला दुर्ग और कांकेर से घिरा हुआ है। महानदी इस जिले की प्रमुख नदी है और महानदी को कंकननदी, चित्रोत्पला, नीलोत्पला, मंदवाहिनी, जैरथ आदि नाम से भी जाना जाता है। महानदी की सहायक नदियाँ सेढुर,पैरी, सोंदुर,जोंन, खारुन,एवं शिवनाथ है।

धमतरी जिले की भूमि का उपजाऊ होने का कारण  इन  नदियों की उपस्थिति है। इस क्षेत्र की प्रमुख फसल धान है। मध्य भारत की प्रमुख नदी महानदी सिहावा पर्वत से निकल कर पूर्व दिशा की ओर बंगाल की खाड़ी में बहती है | धमतरी जिला दो संसदीय क्षेत्र (कांकेर एवं महासमुंद) एवं तीन विधानसभा क्षेत्र (धमतरी, कुरूद एवं सिहावा) में  आता है। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 30 (पूर्व में एनएच 43) रायपुर – विजयनगरम (आंध्रप्रदेश ) मार्ग धमतरी से होकर गुजरता है | रायपुर की दूरी धमतरी से 78 किमी है। जिले के पूर्व में सतपुड़ा रेंज स्थित है , इसे सिहावा पहाड़ के रूप में जाना जाता है |पश्चिम में कांकेर जिला,उत्तर में रायपुर ,जो की छत्तीसगढ़ की राजधानी है एवं दक्षिण में ओडिशा राज्य की सीमा है। रविशंकर सागर बांध जो लगभग 57000 हेक्टेयर जमीन सिंचाई करता है और राज्य की राजधानी रायपुर के लिए सुरक्षित पेयजल संसाधन की मुख्य आपूर्ति इकाई के रूप में कार्य करता है और साथ ही भिलाई इस्पात संयंत्र की आपूर्ति भी करता है जो राजधानी से लगभग 11 किलोमीटर दूर है।

 

08-01-2021
सोमवंशीय सम्राट की ओर से शासित ‘दक्षिण कोशल’ की राजधानी थी महासमुंद

रायपुर। महासमुंद अपनी सांस्कृतिक इतिहास के लिए प्रसिद्ध है। यह क्षेत्र ‘सोमवंशीय सम्राट’ द्वारा शासित ‘दक्षिण कोशल’ की राजधानी थी। यह सीखने का केंद्र भी हैं। यहाँ बड़ी संख्या में मंदिर हैं, जो अपने प्राकृतिक और सौंदर्य के कारण हमेशा आगंतुकों को आकर्षित करते हैं। यहाँ के मेले/त्यौहार लोगों के जीवन का हिस्सा बन गए हैं। दक्षिण कोशल यानी वर्तमान छत्तीसगढ़ के सिरपुर की स्थिति सभी अंतरराष्ट्रीय प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थलों के शीर्ष पर है। सिरपुर, पवित्र महानदी नदी के तट पर स्थित है। यह पूरी तरह से सांस्कृतिक और स्थापत्य कला का विलय है। पूर्व में (सोमवंशीय सम्राटों के समय) में सिरपुर ‘श्रीपुर’ के नाम से जाना जाता था और यह दक्षिण कोशल की राजधानी थी। महत्वपूर्ण और मूल प्रयोगों के साथ ही धार्मिक, आध्यात्मिक, ज्ञान और विज्ञान के मूल्यों की वजह से सिरपुर की स्थिति भारतीय कला के इतिहास में बहुत ही खास है।

 

04-01-2021
मुख्यमंत्री ने महासमुंद जनपद अध्यक्ष भागीरथी चंद्राकर के निधन पर शोक जताया

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महासमुंद जनपद पंचायत की वर्तमान अध्यक्ष भागीरथी चंद्राकर के निधन पर दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने स्व. चंद्राकर के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना जताई है। उन्हें दुख की इस घड़ी में संबल प्रदान करने और स्व. चंद्राकर की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।  बता दें कि स्व. चंद्राकर इससे पूर्व भी जनपद पंचायत महासमुंद के अध्यक्ष रह चुके हैं।

 

16-12-2020
जर्दायुक्त गुटखा दिल्ली से ला रहे थे छत्तीसगढ़ में खपाने, महासमुंद में पकड़ाया 12 लाख गुटखा

 

महासमुन्द। एसपी प्रफुल्ल ठाकुर ने बुधवार सुबह 4 बजे अपने गस्त के दौरान कंटेनर में भर कर ले जा रहे 12 लाख का जर्दायुक्त गुटखा जब्त किया। साथ ही 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। गौरतलब है कि आज महासमुन्द एसपी प्रफुल्ल ठाकुर सुबह गस्त पर निकले थे। इसी दौरान उन्हें एक हरियाणा का कंटेनर संदिग्ध अवस्था में दिखा। पुलिस अधीक्षक ने बरोंडा चौक में रोककर पूछताछ की। वाहन चालक ने दिल्ली से फार्चुन सामान रखना बताया। जिसे रायपुर व बलौदाबाजार ले जाना बता रहा था, चालक के पास बिल्टी की मांग करने पर बिल्टी दिखाया व चालक का हावभाव देखकर शक होने पर कंटेनर को खोलकर तलाशी ली गई। इसके अंदर कार्टून एवं मिक्चर के बीच में छिपाकर 35 बोरियों में प्रतिबंधित सुहाना पसंद गुटखा रखा गया था।

ड्रायवर से पूछताछ करने पर अपना नाम जुबेर पिता जमालूदीन उम्र 38 वर्ष सा. नई थाना पुनहाना हरियाणा का होना बताया जो दिल्ली से माल भरकर जिला रायपुर एवं बिलासपुर खपाने लाया था।  वाहन चालक से तम्बाकूयुक्त सुहाना पसंद गुटखा परिवहन करने के संबंध में वैधानिक दस्तावेज मांगा गया। जिसके द्वारा गुटखा रखने व उनका परिवहन करने संबंधित दस्तावेज उपलब्ध नही करा पाने व छत्तीसगढ़ राज्य में जर्दायुक्त गुटखा प्रतिबंधित होने से 35 बोरियों में भरा 12,60,000 रूपए का गुटखा जब्त किया गया।  आरोपी को मौके पर से गिरफ्तार कर थाना महासमुंद में धारा 6,7,20(2) कोटपा एक्ट के तहत कार्यवाही की गई।ग्लिब्स ने एसपी ठाकुर से पूछा कि शहर में प्रतिबंधित जर्दा युक्त गुटखा खुलेआम बिक रहा है, अभी हाल ही में मार्केट में सितार गुटखा गांव गांव में बिक रहा है। इस पर ठाकुर ने कहा कि आपके मध्याम से सितार गुटखा की जानकारी मिली है, इस पर भी हम कार्रवाई जल्द करेंगे।

03-12-2020
एसडीएम ने धान खरीदी केन्द्र में गलत तरीके से धान बिक्री करते व्यक्ति को पकड़ा, ट्रैक्टर और धान जब्त

महासमुंद।  जिले में मंगलवार 1 दिसंबर से धान खरीदी की शुरूआत हुई। दो दिनों में 10 हजार 507 किसानों से 29 हजार 449 मेट्रिक टन धान की खरीदी हुई। जिले में अभियान के पहले दिन चार हजार 971 किसानों से मोटा, पतला तथा सरना 13 हजार 762 मेट्रिक टन धान खरीदी की गई। बुधवार 2 दिसम्बर को 5 हजार 676 किसानों से 15 हजार 687 मैट्रिक टन धान खरीदी केन्द्रों पर की गई। खरीदी केन्द्रों पर जिला प्रशासन की ओर से किसानों के लिए समुचित व्यवस्था की गई थी। जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने खरीदी केन्द्रों का दौरा कर व्यवस्था का जायजा भी लिया जा रहा है। अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) सरायपाली  कुणाल दूदावत ने गुरुवार को धान खरीदी केन्द्र जंगलबेड़ा में गलत तरीके से दूसरे के पट्टे पर धान बिक्री करते हुए एक किसान को पकड़ा। ट्रैक्टर एवं लोडेड धान जब्त किया गया। वहीं एसडीएम महासमुंद सुनील कुमार चंद्रवंशी ने धान खरीदी केन्द्र बम्हनी और पिटियाझर का निरीक्षण किया और किसानों से बातचीत की। जिले के नए और पुराने कुल 137 खरीफ विपणन धान उपार्जन केन्द्र है। इन केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी 1 दिसम्बर से 31 जनवरी तक और मक्का की खरीदी 1 दिसम्बर से 31 मई 2021 तक की जाएगी। जिले के एक लाख 40 हजार 35 किसानों ने धान विक्रय के लिए सहकारी समितियों में पंजीयन कराया हैं। इनका कुल रकबा 2 लाख 13 हजार हेक्टेयर से अधिक हैं।

 

26-10-2020
अंबिकापुर में मल्टीपरपज इंडोर हॉल और महासमुंद में बनेगा सिंथेटिक एथलेटिक ट्रेक, केन्द्र से मिली मंजूरी

रायपुर। छत्तीसगढ़ में खेल अधोसंरचनाओं को विकसित करने के क्रम में राज्य सरकार के प्रयासों को एक और बड़ी सफलता मिली है। छत्तीसगढ़ राज्य में खेल अधोसंरचनाओं के विकास में एक और नया अध्याय जुड़ गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की विशेष पहल पर भारत सरकार के युवा कल्याण और खेल मंत्रालय की ओर से खेलो इंडिया योजना के तहत अंबिकापुर में मल्टीपरपज इंडोर हॉल के निर्माण और महासमुंद में सिंथेटिक एथलेटिक ट्रेक निर्माण के राज्य सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। ये दोनों प्रस्ताव छत्तीसगढ़ सरकार के खेल और युवा कल्याण विभाग की ओर से भारत सरकार को भेजे गए थे।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और खेल मंत्री उमेश पटेल के विशेष प्रयासों से भारत सरकार ने अंबिकापुर में मल्टीपरपज इंडोर हॉल के निर्माण के लिए 4 करोड़ 50 लाख रुपए और महासमुंद में सिंथेटिक एथलेटिक ट्रेक के निर्माण के लिए 6 करोड़ 60 लाख रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति जारी कर दी है। इसके लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और खेल मंत्री उमेश पटेल ने हर्ष व्यक्त किया है। उन्होंने प्रदेश के खिलाड़ियों और खेल विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य के खिलाड़ियों को बेहतर से बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार लगातार बडे कदम उठा रही है। छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों के लिए अंतर्राष्ट्रीय मापदंडों के अनुरूप खेल अधोसंरचनाओं का निर्माण किया जा रहा है।

14-10-2020
अतिक्रमण हटाने और धान उपार्जन केन्द्र बनाने की मांग को लेकर महिला सरपंच,उपसरपंच करेंगी आमरण अनशन

महासमुंद। रसूखदार लोगों के कब्जे से अतिक्रमण हटाने और जमीन पर धान उपार्जन केंद्र बनाने की मांग को लेकर गुरुवार सुबह 11 बजे ग्राम बेलसोंढा में सरपंच भामनी चन्द्राकर व उपसरपंच हुलसा चन्द्राकर अनिश्चित कालीन आमरण अनशन पर जाने का फैसला लिया है। महासमुंद प्रेसक्लब में सरपंच भामनी चन्द्राकर व उपसरपंच हुलसा चंद्रकार ने प्रेसवार्ता में कहा कि प्रशासनिक उदासीनता और सांठगांठ से ग्राम बेलसोंढा की जमीन खसरा नम्बर 1669, 1670 लगभग 10 एकड़ जमीन पर कुछ रसूखदार लोगों द्वारा प्रशासनिक अधिकारियों से मिलीभगत कर कब्जा कर लिया गया है। ग्राम पंचायत बेलसोंढा के पूर्व जनप्रतिनिधियों ने उक्त जमीन से बेजा कब्जा हटाने कानूनी लड़ाई लड़ी और छत्तीसगढ़ के उच्च न्यायालय ने गांव के पक्ष में फैसला सुनाते हुए उक्त जमीन को खाली कराने का आदेश भी कर दिया है, बावजूद इसके प्रशासन ने आज तक खसरा नम्बर 1669, 1670 से कब्जा नहीं हटाया।
ग्राम पंचायत बेलसोंढा की सरपंच और उपसरपंच ने आगे कहा कि प्रशासन की लापरवाही और अनदेखी से तंग आकर गुरुवार 11 बजे से ग्रामीणों के साथ मिलकर अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर जाने मजबूर हो गए है। बुधवार को कलेक्टर कार्य पहुंच कर कलेक्टर कार्यालय में लिखित सूचना दे दी गई है। सरपंच और उपसरपंच का कहना है कि जब तक उक्त जमीन से कब्जा हटा कर गांव को धान उपार्जन केंद्र बनाने की सहमति प्रशासन से नहीं मिल जाती तब तक उनका आमरण अनशन जारी रहेगा।

 

07-10-2020
14वें वित्त की राशि मांग करने वाले ग्राम पंचायत बटकी के सरपंच बर्खास्त  

महासमुंद। ग्राम पंचायत बटकी के सरपंच हिरेन्द्र पटेल को सेवा से पदच्युत(बर्खास्त) कर दिया गया है। सरायपाली जनपद के सरपंच संघ के संगठन के नाम पर बने व्हाट्सएप ग्रुप पर 14वें वित्त की राशि से 5 प्रतिशत के हिसाब से सरपंच संघ के अध्यक्ष के पास जमा करवाने का स्क्रीनशाट सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। स्थानीय सोशल मीडिया में आने के बाद ज़िला प्रशासन ने इसे गंभीरता से लिया। महासमुंद जिले की सरायपाली तहसील के अनुविभागीय एवं दंडाधिकारी ने संज्ञान में लेते हुए पटेल को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। जिस मामले में बटकी सरपंच हिरेन्द्र पटेल को सोशल मीडिया में प्रसारित करने का दोषी पाया गया। सरायपाली के एसडीएम कुणाल दुतावात ने पंचायत राज अधिनियम के तहत पद से पृथक कर दिया है। मालूम हो कि वायरल व्हाट्सएप ग्रुप के स्क्रीनशॉट में लिखा था कि सभी सरपंच भाइयों को सूचित किया जाता है कि प्रत्येक पंचायत से 14 वें वित्त की कुल राशि में से 5 प्रतिशत के हिसाब से सरपंच संघ के अध्यक्ष के पास अतिशीघ्र जमा करें। एसडीएम दूदावत ने जानकारी दी कि सरायपाली और बसना में लगभग 100 से अधिक राशि गमन,बसूली ,सरकारी राशि का दुरुपयोग,जैसे लंबित प्रकरणों पर कार्रवाई चल रही है। ज़िला प्रशासन और स्थानीय प्रशासन पूरी तरह सख़्त है। किसी भी प्रकार की वित्तीय अनियमितता और सरकारी राशि के दुरुपयोग पर कड़ी कार्रवाई की जा रही है और आगे भी जारी रहेगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804