GLIBS
30-06-2020
विचाराधीन कैदी की मौत की होगी दण्डाधिकारी जांच, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

कोरबा। जिले की कटघोरा उप जेल में निरूद्ध विचाराधीन बंदी रामकुमार चौहान की मौत की दण्डाधिकारी जांच होगी। जिला दण्डाधिकारी किरण कौशल ने इसके आदेश जारी कर दिये हैं। दण्डाधिकारी जांच के लिए कटघोरा की एसडीएम सूर्यकिरण तिवारी को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है। जांच के उपरांत प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिए 30 दिन की समय सीमा निर्धारित की गई है। उल्लेखनीय है कि उप जेल कटघोरा में निरूद्ध विचाराधीन बंदी रामकुमार चौहान की तबियत खराब होने के कारण उसे जेल प्रहरियों द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कटघोरा भेजा गया था। 21 जून को विचाराधीन बंदी की सुबह सवा चार बजे उपचार के दौरान मृत्यु हो गई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने इसके दण्डाधिकारी जांच के निर्देश जारी किये हैं।

जांच के दौरान विचाराधीन बंदी को पहले से किसी बीमारी से पीड़ित होने, इलाज कराने संबंधी पड़ताल भी की जायेगी। इसके साथ ही विचाराधीन बंदी किस धारा में कब से जेल में निरूद्ध था, हवालात में उसे किसी प्रकार की शारीरिक यातना तो नहीं दी गई, बंदी के इलाज के दौरान ड्यूटी पर उपस्थित प्रहरियों की भी जानकारी जांच के दौरान ली जायेगी। प्रकरण की दण्डाधिकारी जांच के दौरान विचाराधीन बंदी के इलाज के संबंध में की गई कार्यवाही, मृत्यु का कारण, पोस्टमार्टम रिपोर्ट आदि सभी पहलुओं को शामिल कर सूक्ष्म जांच होगी।

22-06-2020
कटघोरा जेल में कैदी की बिगड़ी तबियत, अस्पताल ले जाते समय हुई मौत

कोरबा। कटघोरा उपजेल में अचनाक एक कैदी की मौत के मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि कैदी की अचानक रात में तबियत खराब होने के बाद हॉस्पिटल ले जाते समय मौत हो गई। राजकुमार चौहान नामक युवक 9 माह से धारा 302 मामले के तहत सजायाफ्ता था। कटघोरा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में डॉक्टरो परीक्षण उपरांत मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर ने बताया की कैदी की मौत हार्ट अटैक आने से हुई है।

15-07-2019
जेल से भागने की कोशिश में कैदी की मौत, कलेक्टर ने मांगी रिपोर्ट

कोरबा। कोरबा की एक उप जेल में बंद दो विचाराधीन बंदियों के बैरक की दीवार को फांद कर भागने की कोशिश के बाद एक कैदी की मौत के मामले में कलेक्टर ने 30 दिन के भीतर जांच रिपोर्ट मांगी है। 13 जुलाई को हुई इस घटना में एक बंदी रमेश की कल इलाज के दौरान मौत हो गई, जबकि दूसरे की हालत गंभीर बताई जा रही है। कलेक्टर डॉ किरण कौशल ने मामले की दंडाधिकारी जांच के आदेश दिए हैं। दूसरी ओर प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने बंदी की मौत की जांच के लिए समिति गठित की है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार कोरबी पुलिस चौकी क्षेत्र के ग्राम सरमा निवासी अशोक (24) और रमेश (20) को चोरी के मामले में न्यायालय में पेश किया गया था। जेएमएफसी कटघोरा रविन्दर कौर के आदेशानुसार 13 मई 2019 को दोनों को उप जेल में बंद कराया गया था। दोनों विचाराधीन बंदियों ने 13 जुलाई को जेल के अंदर दो मंजिला बैरक के ऊपर छत पर चढ़कर बाहरी दीवार से कूदकर भागने की कोशिश की। छलांग लगाने से दोनों घायल हो गए। उपचार के दौरान कल रमेश की मौत हो गई। विचाराधीन कैदी की मौत के मामले में कलेक्टर किरण कौशल ने संयुक्त कलेक्टर निष्ठा पाण्डेय तिवारी को 30 दिन के भीतर जांच कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

05-05-2019
जेल में बंद कैदी की इलाज के दौरान मौत

सूरजपुर। सीने में दर्द के कारण जिला उपजेल में बंद कैदी की मौत का मामला का सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार उपजेल सूरजपुर में बलात्कार के आरोप में शंकरपुर निवासी मटुकधारी गोड़ बंद था। देर रात उसके सीने में दर्द होने पर जिला चिकित्सालय में उपचार के लिए भेजा गया था। यहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। चिकित्सकों ने दिल का दौरा पड़ने की संभावना जताई है। 

09-01-2019
Jail : जांजगीर जिला जेल में एक और विचाराधीन कैदी की मौत 

जांजगीर-चांपा। जिला जेल जांजगीर में आज फिर से एक विचाराधीन बंदी की मौत होने से जेल में बंद अन्य कैदियों में सनसनी फैल गई। जानकारी अनुसार, जिला जेल में मृतक का नाम गौरव तंबोली पिता पंचराम बताया गया है। वह बिर्रा थाना क्षेत्र के ग्राम करनौद का रहने वाला था। कोतवाली टीआई विवेक पांडेय का कहना है कि 420 के मामले में बीते 5 अगस्त 2018 से विचाराधीन निरुद्ध था। सुबह उसके सीने में अचानक से दर्द होने पर उसे आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस हार्ट अटैक से मौत होने की संभावना जता रही है पोस्टमार्टम पश्चात ही क्लियर हो पाएगा की आखिर मौत की वजह क्या है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804