GLIBS
03-04-2020
भूपेश बघेल ने सड़क दुर्घटना में तीन लोगों की मौत पर दुख प्रकट किया, हरसंभव मदद के निर्देश

 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार रात बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में अम्बिकापुर-रामानुजगंज मार्ग पर ग्राम झींगों के समीप सड़क दुर्घटना में दो पुलिस कर्मियों सहित तीन व्यक्तियों की मौत पर दुख प्रकट किया है। उन्होंने तीनों मृतकों के परिवारजनों के प्रति शोक संवेदना प्रकट की है। उन्होंने बलरामपुर जिला प्रशासन को मृत व्यक्तियों के परिजनों को हरसंभव मदद के निर्देश दिए हैं।

 

03-04-2020
सड़क हादसे में दो पुलिसकर्मी सहित एक की मौत

रायपुर/अंबिकापुर। लॉकडाउन के बीच एक बुरी खबर सामने आ रही है। रामानुजगंज में देर रात सड़क हादसे में बाइक सवार दो पुलिसकर्मी सहित तीन लोगों की मौत हुई है। दो पुलिसकर्मियों की मौत से बलरामपुर पुलिस परिवार में शोक की लहर है। वहीं राजपुर से गंभीर अवस्था में अंबिकापुर लाते समय दोनों की मौत हो गई थी, जबकि एक की मौके पर ही मौत हो गई।
बता दें कि कोरबा जिले के बालको निवासी कवि चौहान बलरामपुर जिले के बरियों पुलिस चौकी में आरक्षक के पद पर पदस्थ था। चलगली निवासी आरक्षक मनबोध आयाम की ड्यूटी बलरामपुर पुलिस लाइन से बरियों चेक पोस्ट पर लगाई गई थी। ये दोनों आरक्षक गुरुवार को राजपुर निवासी चूड़ी व्यवसायी के साथ राजपुर थाना क्षेत्र के ग्राम बासेन गए हुए थे। वहां से तीनों रात को मोटरसाइकिल से राजपुर वापस आ रहे थे।

ग्राम झींगों के समीप अंबिकापुर से बलरामपुर की ओर जा रही पिकअप क्रमांक सीजी 15 डीआर 4582 के चालक ने बाइक को ठोकर मार दी। हादसे के बाद पिकअप चालक वहां से भाग निकला। घटनास्थल पर ही आरक्षक कवि चौहान की मौत हो गई। आरक्षक मनबोध व चूड़ी व्यवसायी की गंभीर स्थिति को देखते हुए मेडिकल कॉलेज अस्पताल रिफर किया गया। दोनों ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाने पर चिकित्सकों ने दोनों की मौत की पुष्टि कर दी।

29-03-2020
समझाइश देने पहुंचे आरक्षक तो विधायक पति ने दी जान से मारने की धमकी, जानिए क्या है मामला...

रायपुर। पामगढ़ विधायक इंदु बंजारे के पति और ससुर के ऑन ड्यूटी पुलिसकर्मी से गाली-गलौज और धक्का-मुक्की करने का मामला सामने आया है। बता दें कि पीड़ित आरक्षक की शिकायत पर पामगढ़ थाने में एफआईआर भी दर्ज कर ली गई है। पामगढ़ थाने से मिली जानकारी के अनुसार रक्षित केंद्र जांजगीर के आरक्षक नरेंद्र बंजारे की ड्यूटी थाना पामगढ़ क्षेत्र में लगाई गई है। घटना के दौरान आरक्षक नरेंद्र बंजारे ससहा बैरियर की ओर अपने सहकर्मी के साथ जा रहा था। इस दौरान भिलौनी गांव में लॉक डाउन और धारा 144 का उल्लंघन करते हुए उत्तम भरद्वाज और ईश्वरी भारद्वाज के द्वारा समय पूर्व दुकान खोलकर भीड़ इकट्ठा की गई थी। इसे बंद करने के लिए आरक्षक नरेंद्र बंजारे ने समझाइश दी। इस दौरान उत्तम भारद्वाज और ईश्वरी भारद्वाज गुस्से में आकर आरक्षक नरेंद्र बंजारे से गाली-गलौज करते हुए जान से मारने की धमकी दे दी। इसके साथ ही आरक्षक के साथ धक्का-मुक्की भी की। इसकी शिकायत आरक्षक ने पामगढ़ थाने में दर्ज कराई गई है। इस पर पामगढ़ थाना पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की भिन्न—भिन्न धारा 34,188,353,294,506,332 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। फिलहाल पुलिस दोनों आरोपी उत्तम भारद्वाज और ईश्वरी भारद्वाज की तलाश में जुटी हुई है।

25-03-2020
पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने वालों के लिए करुंगा प्रार्थना

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के संक्रमित मामलों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को पीएम मोदी ने 21 दिन तक संपूर्ण लॉकडाउन का एलान किया है। आज यानि बुधवार को संपूर्ण लॉकडाउन का पहला दिन है, वहीं आज से चैत्र नवरात्रि भी शुरू हो गई, ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि वह कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने वाले लोगों के लिए प्रार्थना करेंगे। उन्होंने मेडिकल स्टाफ, पुलिस, मीडिया आदि का नाम लिया। उन्होंने कहा कि देशभर में इन दिनों त्योहार मनाए जाते थे। इस बार उन्हें पहले की तरह नहीं मनाया जाएगा लेकिन ये हमें संकट से निकलने का हौसला देंगे। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि आज से नवरात्रि शुरू हो रही है। वर्षों से मैं मां की आराधना करता आ रहा हूं। इस बार की साधना मैं मानवता की उपासना करने वाले सभी नर्स, डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ, पुलिसकर्मी और मीडियाकर्मी, जो कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जुटे हैं के उत्तम स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं सिद्धि को समर्पित करता हूं।

24-03-2020
Breaking: डीजीपी ने सुकमा जिले के 61 पुलिस जवानों को दिया आउट आफ टर्न प्रमोशन

रायपुर। डीजीपी डीएम अवस्थी ने सुकमा जिले के 61 पुलिसकर्मियों को आउट आफ टर्न प्रमोशन देने का आदेश जारी किया है। सुकमा जिले में विभिन्न पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में अदम्य साहस एवं वीरता का परिचय देने पर उक्त कर्मियों को आउट आफ टर्न प्रमोशन का आदेश जारी किया गया है। उल्लेखनीय है कि नक्सल प्रभावित जिलों में पुलिसकर्मी विपरीत परिस्थितियों में भी साहस के साथ नक्सलियों से मुकाबला कर रहे हैं।  डीएम अवस्थी ने बताया कि नक्सल प्रभावित अन्य जिलों में भी अदम्य साहस का परिचय देने वाले पुलिस कर्मियों के लिए शीघ्र ही इसी प्रकार पदोन्नति आदेश जारी किए जाएंगे। पुलिसकर्मियों को निरीक्षक, कमांडर, कंपनी कमांडर, प्लाटून कमांडर, सहायक उप निरीक्षक एवं प्रधान आरक्षक के पद पर पदोन्नति दी गई है।

 पदोन्नति पाने वालों में बृज लाल, आशीष राजपूत, लखेश केवट, विजय प्रताप, कृष्ण चंद्र, नितेश ठाकुर, विकाश प्रताप, टंकेश्वर लहरे, राकेश सिंह, श्यामनाथ, पुखराज, नवरत्न, सुबोध, वीरेंद्र यदु,सोढ़ी कन्ना, कट्टम राजू,रामू राम, धनराज, विकास सिंह, कट्टम लच्छा, मड़कम, माडवी मुया, सुन्नम समिया, मड़कम राजू, सोयम मुकेश, सोड़ी हड़मा, रतिराम, धारा सिंह, सलवम संकू, सोयम राजेश, गीतेश्वर यादव, बारसे भीमा, सोयम दुला, सोयम एनका, सामनाथ यादव, वीरेंद्र नाग, मड़कम जोगा, सोयम लच्छू, अनीश कुमार, पंडा रमेश, आस मुकेश, माणिकलाल कुरेटी, पोडियम धुरवा, तिलक पोया, रोहित शोरी, मेहतुराम मरकाम, विजय मरकाम, प्रनीत खलको, नारायण सलाम, सराधू नाग, सोयम रमेश, ताती हुंगा, सलीम तिर्की, अखिलेश कोर्राम, अनिल सोरी, मंगलराम, शनि कुर्रे, हरेंद्र यादव, सलवम नागेश, विश्वनाथ यादव और नागेश्वर कोर्राम शामिल हैं।

15-03-2020
बिरेझर चौकी से हाइवा ले उड़े चोर, पुलिस की सतर्कता पर उठ रहे सवाल...

धमतरी। जिले के बिरेझर चौकी से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। इसमें चौकी में रेत से भरी हाइवा वाहन चोरी हो गई, जिसे आरटीओ विभाग ने पकड़कर चौकी में रखवाया था। अब उस मामले में प्रधान आरक्षक की रिपोर्ट पर अज्ञात चोर पर अपराध दर्ज किया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि बीते 4-5 तारीख के दरम्यान आरटीओ विभाग ने कार्यवाही करते हुए रेत से भरी हाइवा क्रमांक सीजी 04 एल यु 3081 को पकड़ा और उसे बिरेझर चौकी में रखवा दिया था। बताया गया कि गाड़ी कुछ घण्टे बाद ही मौके से गायब हो गई। जब यह खबर चौकी के पुलिसकर्मियों को लगी तो उनमें हड़कम्प मच गया था। आनन फानन में फिर गाड़ी को ढूंढा जाने लगा मगर गाड़ी नहीं मिली। इसके बाद 8 मार्च को बिरेझर चौकी के पुलिसकर्मी सुनील निर्मलकर ने चौकी में ही हाइवा चोरी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। अब इस मामले में धारा 379 के तहत चोरी का अपराध दर्ज कर गाड़ी के साथ गाड़ी को चोरी कर ले जाने वाले की तलाश की जा रही है। परंतु अब तक उसका पता नही चल पाया है। दूसरी ओर पुलिस की निगरानी से इतनी बड़ी हाइवा वाहन का चोरी होना भी पुलिस सतर्कता पर बहुत से सवाल खड़े कर रहा है। 

 

26-02-2020
पुलिस अधीक्षक ने किया थाने का निरीक्षण, महत्वपूर्ण अभिलेखों की हुई छानबीन

रायपुर। पुलिस अधीक्षक सूरजपुर राजेश कुकरेजा ने थाना विश्रामपुर का वार्षिक निरीक्षण किया। एसपी के निरीक्षण की जानकारी मिलते ही थाना स्टाफ भी सतर्क हो गया। एसपी ने थाने के सभी महत्वपूर्ण अभिलेखों की छानबीन की। थाना प्रभारी को लंबित मामलों को यथाशीघ्र निपटारा करने, वारंटियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए। पुलिस अधीक्षक राजेश कुकरेजा विश्रामपुर थाना पहुंचे जहां उन्होंने सबसे पहले पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों के वेश-भूषा का निरीक्षण किया। अच्छी वेश-भूषा पर कई पुलिस कर्मचारियों को ईनाम भी दिए। थाना भवन, प्रधान आरक्षक कक्ष, विवेचक कक्ष व मालखाना का निरीक्षण किया। इसके पश्चात उन्होंने थाने में अभिलेखों एवं उपकरणों का निरीक्षण कर थाने के सीसीटीवी कैमरों के सुचारु रूप से संचालन के लिए थाना प्रभारी को निर्देशित किया। निरीक्षण के दौरान थाना प्रभारी सहित सभी पुलिसकर्मी बिल्कुल अप टु डेट पाए गए। पुलिस अधीक्षक ने थाना पहुंचने के बाद बारी-बारी से थाना के सभी महत्वपूर्ण अभिलेखों की गहन छानबीन की।

एसपी ने सक्रिय अपराधियों के बारे में भी थाना प्रभारी कपिलदेव पाण्डेय से जानकारी मांगी। थाना प्रभारी को लंबित मामलों को यथाशीघ्र निपटारा करने, वारंटियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हेलमेट के प्रति बाइकर्स में जागरूकता पैदा की जाए, थाने में फरियाद लेकर आए महिलाओं और वृद्ध जनों पर विशेष ध्यान दिया जाए, अवैध गतिविधियों पर पैनी नजर बनाए रखते हुए सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने आम जनता की समस्याओं का निराकरण समय पर हो इसलिए सभी को शत-प्रतिशत लगन एवं मेहनत से कार्य करने के निर्देश दिए। पुलिस कर्मियों को कहा कि टीम वर्क के साथ कार्य करें निश्चित ही सफलता आपको मिलेगी। इस दौरान थाना प्रभारी विश्रामपुर कपिलदेव पाण्डेय, एएसआई विमलेश सिंह, चौकी प्रभारी करंजी संजय गोस्वामी, एएसआई उमेश सिंह, सोहन सिंह, चंदेश्वर राम, राम सिंह, प्रधान आरक्षक रामनिवास तिवारी, इन्द्रजीत सिंह, पिंगल मिंज, पुष्पा रवि सहित थाना व चैकी के कर्मचारीगण मौजूद रहे।

25-02-2020
दिल्ली हिंसा में एक पुलिसकर्मी समेत 7 लोगों की मौत, गृहमंत्री अमित शाह ने बुलाई आपात बैठक

नई दिल्ली। दिल्ली में रविवार से शुरू हुई हिंसा में पुलिसकर्मी समेत 7 लोगों की मौत हो गई है। मंगलवार सुबह ही कुछ इलाकों में उपद्रवियों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी, वहीं करावल नगर में कुछ लोगों ने टायर मार्केट में आग लगा दी। उपद्रवियों ने सोमवार को कई घरों, दुकानों और वाहनों को आग लगा दी। दिल्ली हिंसा को देखते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने आपात बैठक बुलाई है। इसमें पुलिस अधिकारी, उपराज्यपाल और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शामिल होंगे। हिंसा की घटनाओं के चलते उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सभी स्कूलों को बंद रखा गया है।

19-02-2020
शिकायत सुनना तो दूर इंस्पेक्टर ने मारे छेड़छाड़ की शिकार युवती को ताने, ये हाल है पुलिस का, कौन जाएगा ऐसे में थाने

नई दिल्ली। कानपुर के रायपुरवा थाना क्षेत्र में एक युवती से अभद्रता करने का मामला समाने आया है। दरअसल रायपुरवा थाना में युवती छेड़छाड़ की शिकायत करने पहुंची थी। इस दौरान कार्रवाई करने के बजाए पुलिसकर्मी युवती पर ही सवाल खड़े करने लगा। पुलिस ने कहा कि तुम्हें इतना एडवांस किसने बना दिया। इसके बाद जबरन समझौता लिखवा लिया। युवती ने मंगलवार को ट्विटर पर थाने का एक वीडियो अपलोड करने के साथ ही शिकायत की है। एडीजी और आईजी ने कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। रायपुरवा निवासी युवती महिला संबंधी एक पोर्टल पर ब्लॉग लिखती है। युवती के मुताबिक मकान मालिक से उसका विवाद चल रहा है। इसी के चलते सोमवार रात को मकान मालिक के छोटे बेटे ने उसके साथ मारपीट कर छेड़छाड़ की। शिकायत लेकर रायपुरवा थाने पहुंची तो पुलिसकर्मियों ने उसे ही कठघरे में खड़ा कर दिया। आरोप है कि एक पुलिसकर्मी ने कहा कि ज्यादा पढ़ गई हो, इतना एडवांस कौन बना दिया है...तुम्हारे पापा ने।

इस पर उसने ट्विटर पर यूपी पुलिस समेत पुलिस के अफसरों को टैग कर शिकायत की है। वीडियो में समझौता कराने का दबाव बनाने की बात लिखी है। हालांकि रायपुरवा इंस्पेक्टर का कहना है कि मकान मालिक व किरायेदार के बीच का विवाद है। छेड़खानी का आरोप गलत है। युवती का आरोप है कि प्रार्थना पत्र देने के बाद पुलिसकर्मियों ने उसे थाने में कई घंटे तक बैठाए रखा। इस दौरान एक भी महिला पुलिसकर्मी नहीं थी। पुरुष पुलिसकर्मी ही उससे पूछताछ करते रहे। आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि मामले का संज्ञान लेकर एसएसपी को कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। जांच कराई जा रही है। अगर पुलिसकर्मियों ने अभद्र व्यवहार किया है तो उन पर जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

 

19-02-2020
ड्रग तस्करों पर छापेमारी करने गई पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, 7 घायल

नई दिल्ली। हरियाणा और पंजाब की सीमा से सटे सिरसा जिले में ड्रग तस्करों पर छापेमारी करने के लिए गई पुलिसकर्मियों पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया, जिसमें पुलिस ने जवाबी कार्रवाई कर दी। बता दें कि ग्रामीणों के हमले में सात पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं। छापेमारी करने आई बठिंडा पुलिस का पहले तो ग्रामीणों ने काफी विरोध किया इसके बाद उन्होंने पुलिस की टीम पर हमला बोल दिया जिसमें 7 पुलिसकर्मी घायल हो गए। जानकारी के मुताबिक सूचना के आधार पर पुलिसकर्मी वहां पहुंचे हुए थे। सभी सादी वर्दी में थे। जब ग्रामीणों को इसकी भनक लगी तो उन्होंने कहा कि उनका कोई भी धंधा नशा तस्करी से जुड़ा हुआ नहीं है। जानकारी के मुताबिक पुलिसकर्मियों ने जब सख्ती की तो ग्रामीण उग्र हो गए और उन पर हमला कर दिया जवाब में पुलिसकर्मियों ने भी कार्रवाई कर दी। पुलिसकर्मियों की पिटाई में ग्रामीणों के साथ महिलाएं भी शामिल थीं। उन्होंने लाठी डंडों के साथ पुलिसकर्मियों की पिटाई की।

16-02-2020
पुलिसकर्मी ने पत्नी सहित ससुराल के लोगों को मारी गोली

चंडीगढ़। पंजाब के मोगा क्षेत्र में घरेलू विवाद में पत्नी और अपने ससुराल के तीन लोगों को एक हेड कॉन्स्टेबल के गोली मारकर हत्या करने का मामला सामने आया है। हेड कॉन्सटेबल ने अपनी सर्विस रिवाल्वर से अपने ससुराल में पत्नी,साले, साले की पत्नी और सास की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद पुलिसकर्मी ने थाने में समर्पण कर दिया। खबर के अनुसार, पुलिस कॉन्स्टेबल कुलविंदर सिंह (50 वर्ष) का अपनी ससुराल के लोगों के साथ विवाद चल रहा था। पुलिस कॉन्स्टेबल की पत्नी कुछ दिन पहले अपने मायके धर्मकोट सब डिविजन के साद जलालपुर गांव में गई हुई थी। आरोपी भी रविवार को अपनी ससुराल गया और वहां झगड़ा होने पर अपनी पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके साथ ही कुलविंदर सिंह ने अपने साले, साले की पत्नी और सास को भी गोली मार दी। इस हमले में चारों लोगों की मौत हो गई है। घटना में आरोपी के साले की 10 साल की बेटी भी गंभीर रूप से घायल हुई है। घटना के बाद आरोपी ने पुलिस स्टेशन में जाकर सरेंडर कर दिया। घटना का पता चलने के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

 

31-01-2020
मारा गया किडनैपर सुभाष, 23 बच्चों को पुलिस ने कराया मुक्त, आरोपी के पास थी हथियारों की खेप

नई दिल्ली। यूपी के फर्रुखाबाद में मोहम्मदाबाद कोतवाली के करथिया गांव में बंधक बनाए गए बच्चों को मुक्त कराने के लिए गांव के लोगों ने ईंटों व हथौड़े से गेट तोड़ दिया। पुलिस के घर के अंदर घुसते ही सुभाष ने फायरिंग शुरू कर दी। इसमेें दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। जवाबी कार्रवाई में सुभाष की मौत हो गई। इस दौरान सुभाष की पत्नी घायल हो गई। पुलिस ने पत्नी व बच्चे को कब्जे में लिया। पत्नी को सीएचसी भेजा और पुत्री को एक ग्रामीण के हवाले कर दिया। बंधनमुक्त कराए गए बच्चों का स्वास्थ्य टीम देर रात तक चिकित्सीय परीक्षण करती रही। गांव करथिया निवासी सुभाष बाथम ने पुत्री के जन्मदिन के बहाने गुरुवार दोपहर गांव के 23 बच्चों को घर बुलाकर बंधक बना लिया था। चार बजे से पुलिस बच्चों को मुक्त कराने के लिए उसके घर की घेराबंदी किए थे। डीएम, एसपी पुलिस बल के साथ आरोपी के घर के बाहर डटे रहे। कानपुर जोन आईजी मोहित अग्रवाल भी घटना स्थल पर देर रात पहुंच गए। उन्होंने पूरे मामले का जायजा लिया और बच्चों को मुक्त कराने का प्रयास शुरू किया।

एक छह माह की बच्ची शबनम को सुभाष के दोस्तों ने अपनी बातों से देर रात मुक्त करा ली थी। इसके बाद अन्य बच्चों के मुक्त न होने पर उनके परिवार वाले और गांव के लोग रात करीब 12.30 बजे आक्रोशित हो उठे। उन्होंने सुभाष के घर के दरवाजे पर ईंटों व पत्थरों से हमला कर दिया। गुस्साए गांव के लोगों ने हथौड़ा व ईंटे मार-मार कर दरवाजा तोड़ दिया। इससे पुलिस कर्मी घर के अंदर घुस गए। सुभाष ने पुलिस पर फायरिंग कर। इसमें दो पुलिस कर्मी घायल हो गए और सुभाष जवाबी कार्रवाई में मारा गया। फायरिंग बंद होने के बाद गुस्साए गांव के लोग भी घर में घुस गए और पथराव कर दिया और सुभाष की पत्नी को पकड़ कर पीट दिया। इससे वह घायल हो गई। पुलिस ने सुभाष की पत्नी को ग्रामीणों से छुड़ाया और सीएचसी भेज दिया। उसकी पुत्री गौरी को एक ग्रामीण के सुपुर्द कर दिया। देर रात एटीएस भी मौके पर पहुंच गई। आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि 23 बच्चों को बंधक मुक्त कराने के आपरेशन के दौरान सुभाष ने पुलिस पर फायरिंग कर दी और एक हथगोला फेंका, इसमें दो पुलिस कर्मी घायल हो गए। जवाबी कार्रवाई में सुभाष मारा गया। उसकी पत्नी व बच्चा सुरक्षित है। जो बच्चे बंधक मुक्त हुए है, उनका चिकित्सीय परीक्षण किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि बच्चों को मुक्त कराने का अभियान आठ घंटे चला। हमने अपहरणकर्ता से बात करके बच्चों को छोड़ने के लिए राजी करने की कोशिश की लेकिन हमें पता चला कि उसके पास हथियार है और हथगोला भी। उसने धमाका करने की धमकी भी दी। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804