GLIBS
19-08-2020
जयपुर, गुवाहाटी, तिरुवनंतपुरम हवाईअड्डे दिए जाएंगे लीज पर,केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दी मंजूरी

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने तीन और हवाई अड्डों जयपुर, गुवाहाटी और तिरुवनंतपुरम को सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) के माध्यम से पट्टे पर देने के प्रस्ताव को बुधवार को मंजूरी दे दी। फरवरी 2019 में प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया के बाद पीपीपी मॉडल के माध्यम से अडानी एंटरप्राइजेज ने छह हवाई अड्डों ‘लखनऊ, अहमदाबाद, जयपुर, मंगलुरु, तिरुवनंतपुरम और गुवाहाटी’ के परिचालन के अधिकार हासिल किये थे। ये छह हवाई अड्डे भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के स्वामित्व में हैं। अडानी एंटरप्राइजेज ने 14 फरवरी 2020 को एएआई के साथ तीन हवाई अड्डों ‘अहमदाबाद, मंगलुरु और लखनऊ’ के लिये समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। मंत्रिमंडल ने इन तीन हवाई अड्डों को अडाणी को पट्टे पर देने के प्रस्ताव को जुलाई 2019 में मंजूरी दी थी। केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मंत्रिमंडल ने पीपीपी मॉडल के माध्यम से जयपुर, गुवाहाटी, तिरुवनंतपुरम हवाई अड्डों को पट्टे पर देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। कोविड-19 के कारण एएआई ने इस साल जून में अडाणी को इन तीन हवाई अड्डों अहमदाबाद, मंगलुरु और लखनऊ’ का प्रबंधन संभालने के लिये तीन और महीने दिए। इसका मतलब है कि उसे इनका प्रबंध सभालने के लिए 12 नवंबर तक का समय है। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने एक ट्वीट में कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र के दूरदर्शी नेतृत्व में एक महत्वपूर्ण निर्णय में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जयपुर, गुवाहाटी और तिरुवनंतपुरम में स्थित तीन अन्य हवाई अड्डों को पीपीपी आधार पर पट्टे पर देने की मंजूरी दे दी है।’ उन्होंने कहा, ‘इन हवाई अड्डों पर पीपीपी से न सिर्फ हवाई यात्रियों को कुशल और गुणवत्तापूर्ण सेवाएं मुहैया कराने में मदद मिलेगी, बल्कि राजस्व बढ़ाने में भी एएआई को मदद मिलेगी। इससे एएआई टियर- II और टियर III शहरों में अधिक हवाई अड्डों के विकास पर ध्यान केंद्रित कर सकेगा।’

 

 

02-07-2020
भोपाल में शिवराज कैबिनेट का हुआ विस्तार, 28 नए मंत्री शामिल

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया है। शिवराज मंत्रिमंडल का पहला विस्तार है। मंत्रिमंडल में 28 नए मंत्री शामिल हैं, जिनमें 20 कैबिनेट मंत्री और आठ राज्यमंत्री हैं।  कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरने के बाद जब शिवराज ने जब मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, तब कुछ मंत्रियों को शामिल किया गया था। बुधवार को शिवराज ने कहा था कि मंथन से अमृत ही निकलता है। विष तो शिव पी जाते हैं।
भोपाल में आज गोपाल भार्गव, यशोधरा राजे सिंधिया, जगदीश देवड़ा, बिसाहूलाल सिंह, विश्वास सारंग, महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रभुराम चौधरी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रेमसिंह पटेल, ओमप्रकाश सकलेचा, उषा ठाकुर, अरविंद भदौरिया, मोहन यादव, हरदीप सिंह डंग, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, भारत सिंह कुशवाहा, रामकिशोर कांवरे, इंदर सिंह परमार, रामखेलावन पटेल, रामकिशोर कांवरे, बृजेंद्र सिंह यादव, रामकिशोर कांवरे, बृजेंद्र सिंह यादव, गिरिराज दंडोतिया, सुरेश राठखेड़ा, ओपीएस भदौरिया, विजय शाह, एंदल सिंह कसाना ने शपथ ली है।

27-05-2020
सप्ताह में 6 दिन दुकानें खुलने के फैसले से व्यापार जगत में हर्ष,रायपुर सराफा एसोसिएशन ने जताया आभार

रायपुर। प्रदेश में कोविड-19 के नियंत्रण और लॉक डाउन के बाद ठप्प पड़ी आर्थिक गतिविधियों को दोबारा शुरू करते हुए अब प्रदेश में सप्ताह के पूरे 6 दिन दुकानें खोले जाने का निर्णय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लिया है। इसके लिए रायपुर सराफा एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री सहित पूरे मंत्रिमंडल का आभार व्यक्त किया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष हरख मालू, पवन अग्रवाल, लक्ष्मी नारायण लाहोटी, प्रहलाद सोनी और अनिल कुचेरिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार के इस फैसले से लोगों को राहत मिलेगी। रोज कमाने-खाने को फिर से रोजगार मिलेगा। साथ ही अर्थव्यवस्था को भी गति मिलेगी। निम्न शर्तों के साथ पहले जहां राज्य सरकार ने सराफा की दुकानों को दो दिन खोलने का आदेश दिया था, उसका सराफा कारोबारियों ने पूरा पालन किया।  6 दिन दुकानें खोलने का निर्णय आते ही पूरे सराफा एसोसिएशन के साथ ही व्यापार जगत में खुशी का माहौल है। रायपुर सराफा एसोसिएशन ने सराफा कारोबारियों से कहा है कि वे अपनी दुकानों में ग्राहकों से शारीरिक दूरी बनाते हुए सैनिटाइजर और मॉस्क का उपयोग अनिर्वाय रूप करें।

21-04-2020
मध्यप्रदेश में 5 मंत्रियों ने ली शपथ...शिवराज कैबिनेट में इन दिग्गजों को मिली जगह…

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के शपथ लेने के लंबे इंतजार के बाद मंगलवार को  मंत्रिमंडल का गठन हो गया। भाजपा खेमे से तीन और ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे से दो मंत्रियों ने शपथ ली। भाजपा से वरिष्ठ विधायक और पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, मीना सिंह और कमल पटेल मंत्री बने, जबकि सिंधिया ने तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत को मंत्री पद की शपथ ली। नाम तय होते समय गोपाल भार्गव, भूपेंद्र सिंह और बिसाहूलाल सिंह के नाम पर भी बात हुई, लेकिन छोटा मंत्रिमंडल होने की वजह से अंतत: इन्हें होल्ड पर डाल दिया गया है। भूपेंद्र सिंह सोमवार की सुबह भोपाल आ गए थे, लेकिन देर शाम सागर रवाना हो गए। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्ढा से मंजूरी मिलने के बाद सोमवार देर शाम एक बार फिर नामों पर विचार हुआ। साथ ही फोन पर प्रदेश के नेताओं और मुख्यमंत्री के बीच चर्चा हुई। इसके बाद मुख्यमंत्री के मंगलवार के तमाम कार्यक्रम निरस्त किए। राजभवन को सूचना दी गई कि दोपहर 12 बजे साधारण रूप से शपथ होगी। कमल पटेल को मंत्री बनाए जाने के पीछे कहा जा रहा है कि कांग्रेस सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहे सिलावट ने भाजपा में आने के बाद इस विभाग के प्रति अनिच्छा जाहिर की।

कई वरिष्ठ विधायकों को होल्ड पर डाला :

पहले चरण में भाजपा ने कई वरिष्ठ विधायकों गोपाल भार्गव, भूपेंद्र सिंह, गौरीशंकर बिसेन, विजय शाह, यशोधरा राजे सिंधिया, राजेंद्र शुक्ला और रामपाल सिंह के साथ कांग्रेस से भाजपा में आए बिसाहूलाल सिंह, महेंद्र सिंह सिसोदिया और प्रभुराम चौधरी को फिलहाल प्रतीक्षा में डाल दिया है। इनमें से कुछ नामों पर विचार भी किया गया था और पूर्व में चर्चा थी सिंधिया के दबाव में मंत्रिमंडल 10 से 12 का हो सकता है, लेकिन केंद्रीय नेतृत्व ने संख्या सीमित कर दी।

12-04-2020
कमलनाथ ने साधा भाजपा पर निशाना,कहा-राज्य में न कोई मंत्रिमंडल, न स्वास्थ्य मंत्री

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की बढ़ती संख्या को लेकर रविवार को प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने भाजपा पर मध्यप्रदेश की जनता को बेवकूफ बनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य में कोरोना संकट के चलते अभी तक ना तो मंत्रिमंडल का गठन हुआ है, ना ही स्वास्थ्य मंत्री या गृह मंत्री का प्रभार किसी को दिया गया है। उन्होंने कहा कि दुनिया में कहीं और इस तरह का उदाहरण देखने को नहीं मिलेगा। उन्होंने देश में कोरोना संकट के लिये भाजपानीत केन्द्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने भाजपा पर यह आरोप भी लगाया कि मार्च में कोरोना संकट के दौरान संसद की कार्यवाही केन्द्र सरकार ने महज इसलिये स्थगित नहीं होने दी,जिससे मध्यप्रदेश की विधानसभा चलती रहे और उनकी अगुवाई वाली राज्य सरकार को गिराया जा सके।

कमलनाथ ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संवाददाता सम्मेलन में कहा,‘जाहिर है कि संसद इसीलिये चल रही थी, ताकि मध्यप्रदेश विधानसभा चलती रहे और कांग्रेस की सरकार गिराई जा सके।’ कमलनाथ ने कहा कि देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण हालात बहुत नाजुक हैं और अगर संक्रमण के परीक्षण का दायरा बढ़ा दिया जाये तो मरीजों की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी होगी। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के कारण देश में गंभीर आर्थिक संकट की स्थिति है। इसके मद्देनजर केन्द्र सरकार को आर्थिक पैकेज देने पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिये। उन्होंने कहा कि इसकी सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि पैकेज को लागू कैसे किया जा रहा है और इसमें किन क्षेत्रों पर खास ध्यान दिया गया है। 

 

08-02-2020
Breaking: भूपेश कैबिनेट की बैठक शुरु, बजट पर चर्चा जारी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बड़ी बैठक राजधानी में हो रही है। मुख्यमंत्री निवास में हो रही  बैठक में वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट प्रस्ताव पर चर्चा हो रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पूर्व में ही कैबिनेट मंत्रियों के साथ संबंधित विभागों के बजट प्रस्ताव पर चर्चा कर चुके हैं।

 

08-02-2020
भूपेश मंत्रिमंडल की बैठक आज, बजट के प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शनिवार शाम को कैबिनेट की बैठक लेंगे। मंत्रिमंडल की बैठक मुख्यमंत्री निवास में शाम साढ़े पांच बजे शुरु होगी। वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट प्रस्ताव को बैठक में मंजूरी मिल सकती है। बैठक में चालू खरीफ विपणन वर्ष में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी पर चर्चा होने की संभावना है। समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का समय बढ़ाने को लेकर भी कैबिनेट में फैसला हो सकता है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पूर्व में ही कैबिनेट मंत्रियों के साथ उनके विभागों के बजट प्रस्ताव पर चर्चा कर चुके हैं। इसके साथ ही कैबिनेट में और भी कई महत्वपूर्ण फैसलों पर मुहर लगने की संभावना है।

06-02-2020
येदियुरप्पा मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार, 10 बागी विधायकों को दिलाई गई शपथ

नई दिल्ली। कर्नाटक में गुरुवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ। इस दौरान राज्यपाल ने उपचुनाव जीतने वाले कांग्रेस-जेडीएस के 10 बागी विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई। शपथ लेने वाले विधायकों में एसटी सोमशेखर, जे रमेश लक्ष्मण राव, आनंद सिंह, के सुधाकर, बीए बसवराज, एएच शिवराम, बी सी पाटिल, के गोपालाह, नारायणा गोडवा और श्रीमंत बालासाहेब पाटिल शामिल हैं। सीएम येदियुरप्पा ने पहले ही कहा था कि पार्टी अध्यक्ष और नेताओं के निर्देश के अनुसार कल 13 विधायकों में से केवल 10 सदस्य ही शपथ लेंगे। मैं दिल्ली में हमारे नेताओं से मिलूंगा और फिर हम मंत्रिमंडल में अन्य लोगों को शामिल करने का निर्णय लेंगे।

बुजुर्ग व्यक्ति ने रोका सीएम येदियुरप्पा का काफिला

बेंगलूरू में एक बुजुर्ग व्यक्ति ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के काफिले को रोक दिया। उस व्यक्ति ने मुख्यमंत्री से दो एकड़ जमीन की मांग करते हुए कहा कि उनके पास कृषि के लिए कोई जमीन नहीं है।

 

03-02-2020
मो.अकबर ने कहा भाजपा का आरोप बिल्कुल गलत, लोगों ने स्वेच्छा से दिया कांग्रेस को समर्थन

रायपुर। राजीव भवन में आज सोमवार को अपने 24वें मंत्री से मिलिये कार्यक्रम में पहुंचे मंत्री मो. अकबर ने कांग्रेस के कार्यकताओं,पदाधिकारियों और जनसामान्य से मुलाकात कर अपने विभाग से संबंधित समस्याओं शिकायत और सुझाव पर आवश्यक कार्यवाही की। इसके बाद उन्होंने मीडिया से चर्चा की एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भाजपा का आरोप बिल्कुल गलत है। अधिकांश स्थानों में कांग्रेस पार्टी ही चुनाव जीती है, चाहे वह पंचायतों में हो, जनपद में हो या जिला में है। अब भारतीय जनता पार्टी अपनी वाहवाही करे तो बात अलग है। खरीद फरोख्त करके दबाव पूर्वक अपना अध्यक्ष बनाया गया तो यह आरोप बिल्कुल गलत है। लोगों ने स्वेच्छा से अपना सहयोग,अपना समर्थन कांग्रेस पार्टी को दिया है। इसी का परिणाम 10 के 10 में नगर निगमों में कांग्रेस पार्टी ने चुनाव जीता है।

मंत्री मो. अकबर ने कहा कि आज उनका 24वां मंत्री से मिलिए कार्यक्रम है, पहले से आवेदनों में भी कमी आई है। इसका कारण यह भी हो सकता है कि आज त्रिस्तरीय पंचायती राज का आखिरी दौर का चुनाव है। जो भी आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं, सभी के निराकरण के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। प्रधानमंत्री आवास के संबंध में उन्होंने कहा कि जो आवास निर्माण का कार्य किया जाना था, बीच में थोड़ी आर्थिक कठिनाई का सामना करना पड़ा। दरों में कमी करके कुछ मकानों का विक्रय किया गया है, एकमुश्त राशि को जमा कर दें, उसमें छूट दी गई है। इस हिसाब से कुछ पैसा प्राप्त हुआ है,इससे कार्य को गति प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि तेंदूपत्ता का जो संग्रह है वह लघु वनोपज सहकारी संघ के माध्यम से किया जाता है और संग्रहित करने के बाद उसका परिधान संबंधित ठेकेदार को दिया जाता है। जो अलग-अलग ग्रुप में लेते हैं। फिलहाल नईं नीति पर वर्तमान में कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि आरडीए की स्थिति अभी कमजोर है,इसका मुख्य कारण समझ में आता है कि कमल विहार के लिए जो ऋण लिया गया था, वह सबसे बड़ा कारण है। बाकी स्थानों में भी उसको उबारने के लिए कोशिश हो रही है। राजधानी रायपुर में यातायात क्षेत्र में किए जा रहे नए प्रयोग पर मंत्री अकबर ने कहा कि यातायात का जो मामला है पूरी तरह से शहरों में पुलिस विभाग के नियंत्रण में है।

परिवहन विभाग में जो नई नीति आई थी उसके हिसाब से जुर्माने की राशि थी, वह बहुत अधिक थी। इसके कारण आम लोगों को कठिनाई ना हो तो जो आपसी राजीनामा के आधार पर स्थल पर जो जुर्माना लगेगा। यही मामला जब न्यायालय में जाएगा तो नया जो एक्ट लागू हुआ है उसके हिसाब से लगेगा। उन्होंने कहा कि जो भी नए प्रयोग है उसके लिए पुलिस विभाग लगातार प्रयास करती है नया प्रयोग होना भी चाहिए। धान खरीदी के मामले में मंत्री अकबर ने कहा कि पहले तीन टोकन निर्धारित किया गया था, फिर मंत्रिमंडल की उपसमिति की बैठक में तय हुआ,किसी कारण से तीन टोकन में यदि कोई बड़ा किसान अपना धान पूरा नहीं बेच पा रहा है तो उसे तीन टोकन के बाद और भी टोकन दिया जा सकता है। उस पर रोक को हटा दिया गया था, लेकिन शर्त यह है जो छोटे-छोटे किसान हैं उनको पहले टोकन देकर उसकी पूर्ति हो जाए। बाद में फिर उसको दिया जाएगा, लेकिन बंधन नहीं है।

03-02-2020
मुख्यमंत्री येदियुरप्पा बोले 6 फरवरी को होगा मंत्रिमंडल का विस्तार

नई दिल्ली। कर्नाटक में छह फरवरी को भाजपा सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार होगा। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने रविवार को बताया कि 13 विधायक को मंत्रिमंडल विस्तार में शामिल किया जाएगा। इनमें कांग्रेस और जेडीएस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए 10 विधायक भी शामिल हैं। राजभवन में सुबह 10.30 बजे शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया जाएगा जहां विधायकों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई जाएगी। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804