GLIBS
01-06-2020
अमरजीत भगत ने क्वारेंटाइन सेंटर्स का किया औचक निरीक्षण, व्यवस्थाओं पर दिया जोर

रायपुर/अंबिकापुर। कैबिनेट मंत्री अमरजीत भगत ने सोमवार को अंबिकापुर के गंगापुर क्वारेंटाइन सेंटर का आकस्मिक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने श्रामिकों से उनका कुशलक्षेम पूछा। उनसे भोजन,विश्राम,स्वास्थ जांच और साफ-सफाई की जानकारी ली। श्रमिकों ने किसी प्रकार की तकलीफ नहीं होने की बात कही। मंत्री भगत ने क्वारेंटाइन अवधि पूरा कर रहे श्रमिकों से जिला प्रशासन की ओर से उपलब्ध व्यवस्थाओं की भी जानकारी ली। उन्होंने गर्मी को ध्यान रखते हुए कूलर की जरूरत का पूछा। प्री-मैट्रिक छात्रावास में रह रहे श्रमिकों ने कहा कि भूतल होने के कारण कूलर की जरूरत नहीं है। मंत्री भगत ने दो मंजिला नई दिशा क्वारेंटाइन सेंटर में कूलर लगाने और सुरक्षा के मद्देनजर पिछड़ा वर्ग प्री-मैट्रिक छात्रावास के बॉउंड्री वाल की ऊंचाई बढ़ाने और सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश दिए। साथ ही छात्रावास परिसर में साफ सफाई पर विशेष धयान देने कहा। श्रमिकों के लिए खाना बनाने के स्थान से करीब 30 मीटर लंबी नाली निर्माण कराने कहा। इससे पानी का जमाव आस पास न हो सके। बचे हुए खाद्य सामग्री और दोना पत्तल का निपटान के लिए उचित नियम अपनाने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने खाद्य विभाग के अधिकारियों को राशनकार्ड विहीन सभी प्रवासी श्रामिकों के लिए राशनकार्ड बनाने की कार्यवाही में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा है कि जिले के कोई भी प्रवासी श्रमिक राशन कार्ड से वंचित न हो।अधिकारियों ने बताया कि नवीन प्री-मैट्रिक बालक छात्रावास क्वारेंटाइन सेन्टर में 47 पुरूष, पिछड़ा वर्ग प्री-मैट्रिक कन्या छात्रावास क्वारंटाइन सेन्टर में 32 महिला, प्रयास बालक छात्रावास क्वारेंटाइन सेन्टर में 22 पुरूष और नई दिशा क्वारंटाइन सेन्टर में 34 महिलाएं क्वारंटाइन हैं।  क्वारेंटाइन अवधि पूरा होने पर घर लौटने के बाद भी 14 दिन तक क्वारेंटाइन में रहने के लिए शपथ-पत्र लिया जाता है।मंत्री के निरीक्षण के दौरान पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी, कलेक्टर संजीव कुमार झा,पुलिस अधीक्षक आशुतोष सिंह,एसडीएम अजय त्रिपाठी, तहसीलदार ऋतुराज बिसेन सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 

11-05-2020
Video: शिकायतों के बाद अमरजीत भगत निकले पीडीएस दुकानों का मुआयना करने

अम्बिकापुर। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत सोमवार को शहर की पीडीएस सेंटर का मुआयना कर रहे हैं। पीडीएस सिस्टम में धांधली की शिकायतों के बाद वे खुद अलग अलग उचित मूल्य की दुकानों पर जा कर जायजा ले रहे हैं। गौरतलब है कि रविवार को हुई पत्रकारवार्ता के दौरान उन्हें पीडीएस संबधित अनेक शिकायतों की जानकारी दी गई थी। इसके बाद वे खुद आज सोमवार को पीडीएस दुकानों के निरीक्षण पर निकले हैं। उन्होंने इसकी शुरुआत अंबिकापुर के वार्ड नंबर 22 की पीडीएस दुकान से की है।

 

10-05-2020
Video: कोरोना से लड़ाई के मामले में छत्तीसगढ़ की स्थिति अन्य राज्यों से बेहतर :अमरजीत भगत

अम्बिकापुर। खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने रविवार को अम्बिकापुर स्थित अपने निवास सह कार्यालय में पत्रकारों से चर्चा की। पत्रकारवार्ता में उन्होनें लॉक डाउन के दौरान खाद्य विभाग के क्रियाकलापों के बारे में बताया। इस दौरान उन्होनें बताया कि पूरे देश में कोरोना से लड़ाई में छत्तीसगढ़ राज्य की स्थिति अन्य राज्यों से बेहतर है क्योंकि केंद्र सरकार के लॉक डाउन की घोषणा से 2 दिन पहले ही राज्य में लॉक डाउन किया जा चुका था। इसके कारण अभी राज्य में कोरोना नियंत्रण की स्थिति में है। उन्होंने कहा कि हमें मालूम है कि सिर्फ एडवाइजरी जारी करना पर्याप्त नहीं है। इस लड़ाई में राज्य सरकार को प्रदेश की जनता को भरोसे में लेकर लॉक डाउन के नियमों का पालन कड़ाई से करने की जरूरत है।  राज्य सरकार नें प्रण लिया है कि छत्तीसगढ़ की जमीन पर भूख कोई नहीं सोये।

जिनके पास राशन कार्ड नहीं उन्हें भी राशन उपलब्ध कराया जा रहा है

इसके लिए राज्य सरकार नें खाद्य विभाग के साथ विस्तृत कार्ययोजना बनाई है। इसके तहत आज जिनके पास राशन कार्ड नहीं उन्हें भी राशन उपलब्ध कराया जा रहा है ताकि कोरोना से लड़ाई में प्रदेश का कोई भी नागरिक कमजोर ना पड़े। हमने अप्रेल और मई में भी निःशुल्क राशन देने का फैसला लिया है। इस योजना का लाभ एपीएल कार्डधारकों को भी मिल सके इसके लिए केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान से भी चर्चा की गई है।पत्रकारों के सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न की व्यवस्था की गई है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत प्रदेश में प्रारंभ में प्रदेश के 51 लाख कार्डधारियों को मुफ्त में राशन दिया जा रहा था। वहीँ अब इस योजना में और 5 लाख लोगों को लाया गया। अब सूबे में 56 लाख कार्डधारकों को निःशुल्क राशन प्रदान किया जा रहा है। राज्य में 65 लाख कार्डधारी हैं,जिनमें 9 लाख एपीएल कार्डधारी हैं। अन्य प्रदेश से आये लोगों के लिए राहत शिविर बनाये गए हैं। जहां प्रवासी मजदूरों का समुचित ध्यान रखा जा रहा है। स्वास्थ विभाग आंगनबाड़ी कार्यकत पुलिस और खाद्य विभाग के कर्मचारी लेबर डिपार्टमेंट सम्मिलित रूप से राहत के कार्यों में जुटे हुए हैं। इसकी तारीफ अन्य राज्यों के लोगों के द्वारा भी की जा रही है।

  अब प्रदेश में जून महीने का राशन भी मुफ्त दिया जाएगा  

ऐसी स्थिति में जब एक जगह से दूसरे जगह तक मूवमेंट पूरी तरह से रुका हुआ है तब यह चुनातिपूर्ण काम था,नक्सल प्रभावित इलाकों में कई बार दिक्कतें आईं लेकिन पुलिस विभाग के साथ मिलकर इसे भी दूर किया गया। आज पूरे प्रदेश में 12 हज़ार 308 पीडीएस सेंटर हैं,जहां से कोई भी राशन कार्डधारी राशन प्राप्त कर सकते हैं।  खाद्य मंत्री भगत नें बताया कि उन्होंने केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये चर्चा कर 6 महीने तक मुफ्त राशन एवं अन्य जरूरी सामग्री उपलब्ध कराने की मांग की है। क्योंकि जनजीवन सामान्य होने में 6 महीने का वक़्त लगेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 10 लाख मैट्रिक तन अतिरिक धन उपलब्ध है। केंद्रीय पुल की क्षमता को 24 लाख मैट्रिक से बढ़ाकर 31 लाख मैट्रिक टन की अनुमति दी जाए तो हम  केंद्र को अतिरिक्त चावल उपलब्ध कराने को तैयार हैं, जिससे उन राज्यों को लाभ मिलेगा जिनके पास खाद्यान्न की उपलब्धता कम है। संस्कृति मंत्री की आसन्दी से उन्होनें बताया कि मैनपाट को संस्कृति और पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। इसके तहत मैनपाट में अनेक विकास कार्यों की शुरुआत की जा रही है। यहां शैला रिसॉर्ट के बगल में लोकनिर्माण विभाग द्वारा अन्य रिसोर्ट का निर्माण किया जाएगा। मैनपाट को पर्यटन विलेज बनाया जाएगा। यहाँ सघन वृक्षारोपण प्रारंभ किया जा रहा है। चाय बगान के काम में तेजी लाई जा रही है। यहाँ गांधी उद्यान और नेहरू उद्यान के नाम से 2 उद्यान निर्माण की स्वीकृति मिली है।

08-05-2020
अमरजीत भगत ने औरंगाबाद हादसे पर दुःख जताया, केंद्र सरकार से किया अनुरोध

 रायपुर। मंत्री अमरजीत भगत ने औरंगाबाद-जालना रेल लाइन के करमाड स्टेशन हादसे में श्रमिकों की मृत्यु पर दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि औरंगाबाद के पास हुए हृदयविदारक हादसे में 14 श्रमिकों की मृत्यु का उन्हें बेहद दुःख है। ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करें। साथ ही उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है। मंत्री भगत ने केंद्र सरकार से अनुरोध किया है कि प्रवासी मजदूरों को जल्द से जल्द उनके घर पहुंचाए जाने की समुचित व्यवस्था करें, ताकि इस तरह की दुर्घटनाओं से बचा जा सके।

04-05-2020
अमरजीत भगत ने बस्तर का लिया जायजा, कहा-समस्याओं का होगा निराकरण

रायपुर। खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने बस्तर संभाग में कांग्रेस के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से बात की। ऑनलाइन बैठक में उनका हाल जाना। कांग्रेस पदाधिकारियों ने क्षेत्रवार खाद्यान्न वितरण की जानकारी दी। साथ ही वर्तमान परिस्थितियों के कारण कुछ परेशानियों से मंत्री भगत को अवगत कराया। खाद्यमंत्री ने उन्हें आश्वस्त किया है कि उनकी समस्याओं का उचित निराकरण किया जाएगा। मंत्री भगत ने उन्हें समझाया कि घर से बाहर निकलें तो सरकारी दिशानिर्देशों का पालन करें। मास्क पहनकर बाहर निकलें और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें। बार-बार हाथ धोएं और सैनिटाइज़ करें। कृषि कार्यों के दौरान भी उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए अनुरोध किया। उल्लेखनीय है कि खाद्यमंत्री अमरजीत भगत लगातार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संपर्क बनाए हुए हैं। लगातार बात करके वे वस्तुस्थिति का जायजा लेते रहते हैं।

23-04-2020
अमरजीत भगत ने पीएचडी सीसीआई के पदाधिकारियों से की चर्चा,अर्थव्यवस्था पटरी पर लाने मिले सुझाव

रायपुर। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने गुरुवार को पीएचडी चैम्बर्स आफ कॉमर्स एवं इंडस्ट्रीज (सीसीआई) के पदाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा की। खाद्यमंत्री ने कोविड-19 के खिलाफ जंग में छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से उठाए गए कदमों के बारे में बताया। खाद्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ के 28 जिलों के 12308 पीडीएस केंद्रों के माध्यम से खाद्यान्न का वितरण किया गया है। इस माध्यम से न सिर्फ राशनकार्ड धारियों बल्कि उन्हें भी राशन दिया गया है जिनके पास राशनकार्ड नहीं है। चर्चा के दौरान पीएचडी सीसीआई के पदाधिकारियों ने कुछ सुझाव भी दिए, जिन पर अमल करके लॉक डाउन के बाद अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाई जा सकती है।पीएचडी सीसीआई के पदाधिकारियों ने खाद्य मंत्री के सामने अपने विचार रखते हुए कहा कि कोविड 19 के कारण उत्पन्न संकट और लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है। इसकी वजह से निजी क्षेत्रों में रोजगार के अवसर घटे हैं, इससे अर्थव्यवस्था को संभालना बहुत बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ा योगदान कृषि क्षेत्र का है। कृषि कार्यों को सम्मिलित करने अर्थ व्यवस्था का पहिया धीरे-धीरे रफ्तार से घूमने लगेगा। कृषि के साथ उत्पादन-इस्पात उद्योग, ट्रांसपोर्ट, खाद्य प्रसंस्करण, वन्य उत्पाद, प्रोसेसिंग इकाइयों को जोड़कर अर्थव्यवस्था को दोबारा संभाला जा सकता है। कॉन्फ्रेंस में खाद्यमंत्री अमरजीत भगत के साथ पीएचडी चैम्बर्स आफ कॉमर्स एवं इंडस्ट्रीज के पदाधिकारी प्रिंसिपल निदेशक डॉ.योगेश श्रीवास्तव, अध्यक्ष डॉ. डीके.अग्रवाल, चेयरमेन शशांक रस्तोगी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष संजय अग्रवाल ने बात की।

 

22-04-2020
मंत्री अमरजीत भगत ने आदिवासी कांग्रेस के पदाधिकारियों की ली बैठक

रायपुर। खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने बुधवार को आदिवासी कांग्रेस के सभी पदाधिकारियों की बैठक ली। जिला व प्रदेश स्तर के पदाधिकारियों से चर्चा के दौरान खाद्य मंत्री ने कोरोना संकट से निपटने के लिए आदिवासी कांग्रेस की भूमिका पर प्रकाश डाला। साथ ही आदिवासी कांग्रेस के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के दौरान अंत्योदय, प्राथमिकता, निशक्तजन, एकल निराश्रित एवं अन्नपूर्णा श्रेणी के राशनकार्डधारियों को अप्रैल व मई का राशन निशुल्क प्रदान कर दिया गया है। अब उपरोक्त हितग्राहियों को जून माह का चावल भी निशुल्क वितरित किया जाएगा। जून माह के खाद्यान्न का निशुल्क वितरण एक मई से प्रारंभ होगा।वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में प्रदेश के 20 से अधिक आदिवासी कांग्रेस के जिला व प्रदेश स्तर के पदाधिकारी शामिल हुए।लॉक डाउन के दौरान खाद्य मंत्री के नेतृत्व में खाद्य विभाग ने खाद्यान्न आपूर्ति में उल्लेखनीय कार्य किया है। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आपदा प्रबंधन के प्रभावी प्रयासों के बारे में बताते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की सराहना देश-विदेश में हो रही है।

 

14-04-2020
कोई भी भूखा नहीं रहे सभी को राशन पर्याप्त मात्रा में मिलेगा : अमरजीत भगत

रायपुर। छत्तीसगढ़ के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने कोरोना कोविड-19 वायरस के संक्रमण को देखते हुए रायपुर के दक्षिण विधानसभा के ब्राह्मण पारा वार्ड स्थित राशन दुकान पहुंच कर राशन हितग्राहियों से रूबरू होकर राशन वितरण की वस्तुस्थिति की जानकारी ली खाद्य मंत्री ने अमरजीत भगत ने महिलाओं से पूछा कि उन्हें राशन पूरा प्राप्त हो रहा है कि नहीं हो रहा है संचालकों से भी जानकारी प्राप्त की किसी प्रकार की कोई कमी या असुविधा तो नहीं हो रही है।
प्रवक्ता विकास तिवारी ने बताया कि खाद्य मंत्री अमरजीत भगत राशन दुकान में शीतल छाया के लिये लगे पंडाल एवं सोशल डिस्टेंस में रखे बैठने की कुर्सियों  महिलाओं को बैठ देख प्रसन्न चित्त हुए। उन्होंने कहा कि राशन दुकान में महिलाओं के लिए छाया की व्यवस्था एवं बैठने के लिए व्यवस्था की गई उसे देख कर अच्छा लगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनका पूरा मंत्रिमंडल मजबूती के साथ पूरी व्यवस्था पर सतत निगरानी रखे हुए है। राशन हितग्राहियों को किसी भी प्रकार की अव्यवस्था का सामना नहीं करना पड़ेगा और हर व्यक्ति को भरपेट भोजन उपलब्ध कराने की जवाबदेही प्रदेश सरकार की है।

13-04-2020
अमरजीत भगत ने केन्द्रीय खाद्य मंत्री से निशुल्क खाद्यान्न वितरण तीन माह से बढ़ाकर छह माह करने का किया अनुरोध

   रायपुर। केन्द्रीय खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान द्वारा आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देश के विभिन्न राज्यों में खाद्यान्न भण्डारण और वितरण व्यवस्था की समीक्षा की गई। छत्तीसगढ़ के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने छत्तीसगढ़ में खाद्यान्न का भण्डारण और वितरण सहित कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षा के लिए राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया। भगत ने प्रदेश के उचित मूल्य की दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग, हाथ धुलाई और सेनेटराईज करने की समुचित व्यवस्था होने की जानकारी दी। भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मार्गदर्शन में प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षा के लिए चाक-चौबंद व्यवस्था की गई है और प्रदेश में सभी लोगों को समुचित रूप से मूलभूत जरूरतों की सामग्रियां उपलब्ध करायी जा रही है। मंत्री भगत ने बताया कि छत्तीसगढ़ में 13 हजार 308 उचित मूल्य की दुकानों में से 12 हजार 200 उचित मूल्य की दुकानों में अप्रैल एवं मई दोनों माह का खाद्यान्न का भण्डारण हो चुका है और लगभग 90 प्रतिशत राशनकार्डधारी परिवारों को दो माह का खाद्यान्न वितरण किया जा चुका है।

इस मौके पर भगत ने केन्द्रीय मंत्री पासवान से छत्तीसगढ़ में संचालित राहत शिविरों के लिए 15 हजार मीट्रिक टन चावल एवं 5 हजार मीट्रिक टन दाल रियायती दर पर उपलब्ध कराने का अनुरोध किया। भगत ने कहा कि भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत जारी राशनकार्डधारी 51 लाख 49 हजार 899 परिवारों को तीन माह तक निःशुल्क चावल देने का निर्णय लिया गया है। इसे बढ़ाकर छह माह तक निःशुल्क चावल देने का अनुरोध भी किया। भगत ने कहा कि जन-जीवन सामान्य होने में कुछ समय लग सकता है। गरीबों को राहत देने के लिए छह माह तक निःशुल्क चावल दिया जाना जरूरी है। भगत ने कहा कि वर्तमान में अंत्योदय श्रेणी के राशनकार्डधारी परिवारों को शक्कर प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने प्राथमिकता श्रेणी के राशनकार्डधारी परिवारों को भारत सरकार से शक्कर उपलब्ध कराने का आग्रह किया। भगत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में रिकॉर्ड धान की खरीदी हुई है। इसे देखते हुए राज्य से 31 लाख टन चावल केंद्रीय पूल में लेने का अनुरोध किया। भगत ने केन्द्र सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ से अभी 24 लाख मीट्रिक टन चावल केन्द्रीय पुल में लेने की स्वीकृति प्रदान की गई है। इसके लिए उन्होंने खाद्य मंत्री का आभार जाताया। इस अवसर पर खाद्य विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804