GLIBS
31-01-2021
टीएस सिंहदेव ने अंबिकापुर में बच्चों को पिलाई पोलियो की खुराक

रायपुर। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव रविवार को अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज पहुंचे। उन्होंने बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाकर प्रदेशव्यापी पल्स पोलियो अभियान का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने प्रदेश के अभिभावकों से पोलियो मुक्त भारत को बरकरार रखने में सहभगी बनने की अपील की। साथ ही उन्होंने चिकित्सकों, एएनएम, मितानिनों व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों को भी इस अभियान के तहत जन-जन तक पहुंचने के निर्देश दिए।

16-01-2021
सड़क किनारे खड़ी ट्रक में जा घुसी दो बाइक, 2 की मौत, 1 घायल

अंबिकापुर। एक खड़ी ट्रक में तेज रफ्तार 2 बाइक जा घुसी। इससे बाइक सवार दो युवकों की मौके पर ही मौत हौ गई, वहीं एक अन्य की हालत नाजुक बताई जा रही है। मिली जानकारी के अनुसार नेशनल हाइवे 43 में स्थित थाना बतौली अंतर्गत ग्राम बेलकोटा में शुक्रवार रात सड़क किनारे खड़े एक ट्रक में दो बाइक जा घुसी। पहली बाइक में सवार दो युवकों में एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई वहीं एक अन्य की हालत नाजुक बनी हुई हैं, जिसे अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया हैं। दूसरी बइक में सवार युवक की भी मौके पर मौत हो गई। बताया जा रहा है कि सभी बाइक सवार युवक ग्राम ग़हिला के निवासी थे और रघुनाथपुर से अपने गाँव ग़हिला जा रहे थे।

 

10-09-2020
Video: जमीन विवाद पर बड़े भाई ने छोटे भाई पर किया धारदार हथियार से हमला, हुई मौत

अंबिकापुर। बगीचा थाना अंतर्गत जमीन विवाद को लेकर बड़े भाई ने छोटे भाई की धारदार हथियार से हत्या कर दी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। जशपुर जिले में बड़े भाई ने भतीजे के साथ मिलकर अपने ही भाई की कुलहाडी से वार कर टुकडे कर दिए। अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया जहां पीड़ित की इलाज के दौरान मौत हो गई।पूरा मामला जमीन विवाद से जुड़ा हुआ था। मृतक के परिवार वालों ने बताया कि बीते दिन सुबह 11 बजे खिरोधर यादव अपने घर से खेत की तरफ घास काटने के लिए गया था।

खेत की तरफ अकेले जाते देख खिरोधर के भाई गणेश और भतीजा कुबेर यादव दोनों उसके पीछे चले गए और कुल्हाड़ी से खीरोधर को दाहिने हाथ, दोनों पैर और सिर पर हमला किया। खिरोधर के हाथ और दोनों पैर को काटकर अलग कर दिया। घटना कि जानकारी मिलने पर परिजनों ने बगीचा थाने में शिकायत दर्ज कराई। थाने में अपराध क्रमांक 120/20 धारा 307,34 भादवि कायम कर मामले को विवेचना में लिए गया हैं। धारा 302 जोड़ा गया एवं मुखबिर की सूचना मिलने से आरोपियों को घेरा बंदी कर गिरफ्तार किया गया। आरोपियों के पास से हमला किए गए कुल्हाड़ी को जब्त कर लिया गया है साथ ही आरोपियों को रिमांड में न्यायालय पेश कर जेल भेज दिया गया है।

22-08-2020
मेडिकल एजुकेशन विभाग के नए डायरेक्टर बने डॉ.आरके सिंह

रायपुर। डीएमई डॉ.एसके आदिले की जगह अब डॉ.आरके सिंह मेडिकल एजुकेशन विभाग के नए डायरेक्टर होंगे। राज्य शासन ने इसका आदेश शनिवार को जारी किया। वर्तमान में डॉ. सिंह अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के डीन। बता दें कि डॉ. आदिले के खिलाफ गबन के मामले थे। वहीं बीते दिन एक महिला ने डॉ.आदिले पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए एसएसपी से शिकायत की थी। उसके बाद डॉ.आदिले को हटा दिया गया।

 

04-08-2020
स्वास्थ्य मंत्री ने किया अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में वायरोलॉजी लैब का उद्घाटन

रायपुर। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में वायरोलॉजी लैब का शुभारंभ किया। उन्होंने संस्थान के सभी स्टॉफ और क्षेत्रवासियों को बधाई देते हुए कहा कि इस उच्च स्तरीय लैब की स्थापना से कोरोना वायरस के साथ ही अन्य बीमारियों की जांच की जा सकेगी। कोरोना संकट के बाद भी अनेक रोगों की पहचान में यह लैब उपयोगी होगा। उल्लेखनीय है कि अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में दो करोड़ रूपए की लागत से बीएसएल-2 लैब स्थापित किया गया है। इस लैब में कोरोना वायरस की पहचान के लिए आरटीपीसीआर जांच 3 अगस्त की शाम से शुरू की गई है। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने शुभारंभ कार्यक्रम को वीडियो कॉन्फ्रेंस से संबोधित करते हुए कहा कि अंबिकापुर में इस सुविधा से अब कोरोना संक्रमण की जल्द पहचान कर पीड़ितों का तत्काल इलाज शुरू किया जा सकेगा। कोविड-19 के संदिग्धों की जांच रिपोर्ट अब एक ही दिन में मिल जाएगी। कोविड-19 के नियंत्रण के लिए सरकार लगातार जांच की क्षमता बढ़ा रही है। प्रदेश में रोजाना दस हजार सैंपलों की जांच का लक्ष्य है। हाल ही में आईसीएमआर से तीन और मेडिकल कॉलेजों बिलासपुर, अंबिकापुर एवं राजनांदगांव में आरटीपीसीआर जांच की अनुमति मिलने के बाद बिलासपुर और अंबिकापुर में जांच शुरू की जा चुकी है। राजनांदगांव में भी जल्द ही सैंपल जांच शुरू हो जाएगी।

सिंहदेव ने कहा कि कोविड-19 की रोकथाम के लिए विकासखण्ड मुख्यालयों में भवन चिन्हांकित कर कोविड केयर सेंटर की स्थापना के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने इन सेंटर्स में मरीजों के भोजन की गुणवत्ता और साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने कहा। उन्होंने कोरोना संक्रमण रोकने अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से लोगों को मास्क पहनने एवं शारीरिक दूरी के पालन के लिए प्रोत्साहित करने कहा। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि कांकेर, कोरबा और महासमुंद में नए मेडिकल कॉलेज का काम जल्द शुरू किया जाएगा। इसके लिए केंद्र सरकार से 50-50 करोड़ रूपए की स्वीकृति प्राप्त हो गई है। राज्य शासन द्वारा भवन एवं अन्य संसाधन जुटाने जल्द कदम उठाए जाएंगे।

 

03-08-2020
सिम्स के बाद अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में भी आरटीपीसीआर जांच शुरू, राजनांदगांव में जल्द

रायपुर। बिलासपुर मेडिकल कॉलेज (सिम्स) के बाद सोमवार से अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में भी कोविड-19 की आरटीपीसीआर जांच शुरू हो गई है। उल्लेखनीय है कि आईसीएमआर ने हाल ही में प्रदेश के तीन मेडिकल कॉलेजों बिलासपुर, अंबिकापुर और राजनांदगांव के नवनिर्मित उच्च स्तरीय बीएसएल-2 लैब में आरटीपीसीआर जांच की अनुमति दी थी। इनमें से अब दो मेडिकल कॉलेजों में जांच शुरू की जा चुकी है। राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज में भी जांच जल्द शुरू हो जाएगी। राज्य शासन कोरोना वायरस के नियंत्रण के लिए अधिक से अधिक सैंपलों की जांच पर जोर दे रही है। इसके लिए तकनीकी और मानव संसाधन लगातार बढ़ाए जा रहे हैं। बिलासपुर, अंबिकापुर और राजनांदगांव मेडिकल कॉलेजों में भी जांच की सुविधा हो जाने से सैंपल जांच की संख्या में तेजी से वृद्धि होगी। अंबिकापुर और बिलासपुर मेडिकल कॉलेज में अभी रोजाना 100-100 सैंपलों के साथ जांच की शुरुआत की गई है। आगे इनकी क्षमता बढ़ाई जाएगी।
प्रदेश के चार अन्य संस्थानों रायपुर एम्स, डॉ. भीमराव अंबेडकर चिकित्सालय तथा जगदलपुर और रायगढ़ मेडिकल कॉलेज में पिछले कुछ महीनों से आरटीपीसीआर जांच की जा रही है। प्रदेश में अधिक से अधिक सैंपलों की जांच के लिए ट्रू-नाट मशीनों और रैपिड एंटीजन किट से भी कोरोना वायरस संक्रमितों की पहचान की जा रही है।

 

23-07-2020
112 के कर्मचारियों की रिपोर्ट आने के बाद आरंग थाना सील

रायपुर। आरंग पुलिस थाना में पदस्थ डायल 112 के पांच कर्मचारियों और उनके परिवार के चार लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद थाने को सील कर दिया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक डॉयल 112 में तैनात एक पुलिसकर्मी का स्वास्थ्य खराब होने पर आरंग के सरकारी अस्पताल में रेपिड किट से कोरोना टेस्ट कराया गया था। बुधवार को रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पुलिस थाना के सारे कर्मचारियों का कोरोना टेस्ट किया गया। टेस्ट में डॉयल 112 में तैनात तीन पुलिसकर्मी, दो ड्राइवर और उनके परिवार के चार सदस्यों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। एक संक्रमित पुलिसकर्मी की पत्नी, बेटी के अलावा अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई कर रहा बेटा भी पॉजिटिव निकला है। एक पुलिसकर्मी की पत्नी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सभी कोरोना संक्रमितों को रायपुर स्थिति कोविड-19 हॉस्पिटल भर्ती करा दिया गया है। अब आरंग थाने को भी सील कर दिय गया है।

06-03-2020
निर्माण कार्य के दौरान स्कूली बच्चों पर गिरी छत, 4 घायल

बलरामपुर। विकासखंड राजपुर के ग्राम झींगों में एक इंग्लिश मीडियम स्कूल में उस समय हड़कंप मच गया जब भवन निर्माण कार्य के दौरान ऊपर से सेंटरिंग प्लेट गिरकर क्लास में पढ़ रहे मासूम बच्चों के ऊपर जा गिरा। इस हादसे में चार बच्चों को गंभीर चोटें आई है। इन्हें गंभीर अवस्था में अंबिकापुर के मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया है। मिली जानकारी के अनुसार झींगों स्थित इंग्लिश मीडियम स्कूल में भवन निर्माण का कार्य चल रहा था। दोपहर बच्चे जैसे ही खाने की छुट्टी के बाद क्लास रूम में में घुसे थे। इसी समय ऊपर चल रहे निर्माण कार्य के दौरान सेंटरिंग प्लेट क्लास रूम के ऊपर खपरैल पर जा गिरा। सेंट्रिंग प्लेट के गिरने से क्लासरूम के भीतर मौजूद बच्चों के ऊपर खपड़ा टूट कर उनके ऊपर जा गिरा।  इससें चार बच्चों के सिर, हाथ और चेहरे में काफी गंभीर चोटें आई हैं। घटना की जानकारी मिलते ही राजपुर एसडीएम आरएस लाल ने स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर घायलों का जायजा लिया एवं आवश्यक उपचार के दिशा निर्देश दिए।

 

17-12-2019
3 मासूमों के सर से उठा माँ का साया, डॉक्टर की लापरवाही से नसबंदी कराने आई महिला की हुई मौत

सूरजपुर। जिले के स्वास्थ्य अमले द्वारा लगातार अनिमियता बरतने से फिर एक महिला की मौत होने का मामला सामने आया है। कुछ महीने पहले भी एक महिला की मौत सूरजपुर जिला अस्पताल में डॉक्टर की लारवाही से होने का आरोप परिजनों ने लगाया था।  नसबंदी का टारगेट पूरा करने के उद्देश्य से जल्द बाजी में महिला का ऑपरेशन किया गया और महिला होश में नही आई जिसे अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। गौरतलब है कि सूरजपुर जिला अस्पताल में 14 दिसम्बर दिन शनिवार को नसबंदी शिविर का आयोजन किया गया था। नसबंदी कराने ओड़गी ब्लाक से लगभग दो दर्जन से ज्यादा महिलाएं जिला अस्पताल पहुंचीं थीं। इस दौरान रमकोला थाना क्षेत्र के ग्राम बेदमी निवासी मृतका कविता सिंह पति राम प्रसाद सिंह 28 वर्षीय, गांव की मितानिन चंद्रावती, एनेम सिलमनिया व अपने पति के साथ नशबंदी कराने जिला अस्पताल पहुंचीं थी।

इस दौरान दूसरा ऑपरेशन मृतिका कविता सिंह का होना था। डॉक्टर महिला को ऑपरेशन कक्ष में ले गई। लगभग डेढ़ घंटे बाद डॉक्टर ऑपरेशन कक्ष से बाहर निकली और महिला के पति को बुलवाकर धर्मपत्नी कविता को होश में नहीं आने की बात कही गई। डॉक्टर ने आगे कहा कि महिला बेहोश है, उसे इलाज के लिए मेडीकल कॉलेज अंबिकापुर ले जाना पड़ेगा, जिसे संजीवनी 108 से अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज लाया गया। यहां मौजूद डॉक्टरों ने महिला को मृत घोषित कर दिया गया। महिला की मौत के बाद परिजनों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए सूरजपुर अस्पताल पहुंचकर हंगामा किया और डॉक्टर पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। 15 दिसम्बर दिन रविवार को मेडिकल कॉलेज अस्पताल के 4 चिकित्सकों की टीम ने शव का पीएम कराया गया। चिकित्सकों के अनुसार ऑपरेशन के दौरान अधिक रक्त स्राव होने के कारण मौत होना बताया जा रहा है।

तीन मासूमो के सर से उठा ममता का आँचल
मृत्तिका महिला कविता के तीन बच्चे हैं। परिजन ने बताया कि एक सात माह की बच्ची है। दूधमुंही बच्ची का रो-रो कर बुरा हाल है। महिला के पति का कहना है कि चिकित्सक की लापरवाही के कारण बच्चों के सिर से मां का साया उठ गया है।

परिजनों ने ओड़गी में शव वाहन को रोककर किया प्रदर्शन
अंबिकापुर से जब मृतका का शव सरकारी वाहन से ओडग़ी पहुंचा तो यहां मौजूद परिजनों ने शव लेने से इनकार करते हुए डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया। नाराज परिजनों ने इसे लेकर ओड़गी ब्लॉक मुख्यालय में जाम लगा दिया और डॉक्टर पर कार्रवाई के साथ मुआवजा तथा नौकरी की मांग करने लगे। आंदोलन देख भैयाथान एसडीएम और जिला चिकित्सालय से सीएचएमओ मौके पर पहुंचे। सीएचएमओ द्वारा परिजनों को 2 लाख रुपए का मुआवजा चेक से दिया गया तथा एसडीएम ने पचास हजार रुपए और देने तथा नगरीय निकाय आचार संहिता खत्म होने के बाद नौकरी दिए जाने का आश्वासन दिया। तब नाराज परिजन शांत हुए और शव लेकर बेदमी गए।

 

11-05-2019
सिटी स्कैन के नाम पर मरीजों के परिजनों से 14 सौ की जगह वसूले जा रहे 16 सौ रुपये 

अम्बिकापुर। अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल इन दिनों अखबारों के सुर्खियों में बनी हुई है। मामला है अस्पताल में खुलकर चल रही दलाली। बताया जा रहा है कि सीटी स्कैन के नाम पर खुलकर दलाली का काम चल रहा है और विभाग के आला अधिकारी मौन साधे बैठे हैं। हालांकि जब मीडिया ने इसकी पड़ताल की तो हॉस्पिटल अधीक्षक डॉ. रविकांत ने बताया कि अंबिकापुर शहर के पांच निजी पैथोलॉजी लेब में हॉस्पिटल के मरीजों का सिटी स्कैन कराया जाता है और सभी सीटी स्कैन सेटर में अलग-अलग दिन निर्धारित किए गए हैं। अधीक्षक ने बताया कि सीटी स्कैन का चार्ज 14 सौ रुपये निर्धारित है। परंतु हॉस्पिटल से जो पर्ची सीटी स्कैन सेंटर के लिए निकल कर जाती है उस पर्ची में कुछ कोड वर्ड लिखा होता है जो यह बताता है कि किस पेसेंट से कितने रुपये लेने हैं और वीडियो में आप इस पर्ची को देख सकते हैं कि 16 सौ रुपये लिखा हुआ है तथा उसके बाजू में कुछ कोड है उसके बाद हॉस्पिटल के किसी कर्मचारी के सिग्नेचर हैं यह कोड वर्ड सीटी स्कैन सेंटर के कर्मचारियों को भी पता होता है। 

वहीं ग्लिब्स टीम के कैमरे में हॉस्पिटल अधीक्षक खुद से बता रहे हैं कि सीटी स्कैन का 14 सौ रुपए देना होता है परंतु मरीज के परिजन यह बता रहे हैं कि सिटी स्कैन सेंटर में मरीजों के परिजन से 16सौ रुपये लिए जा रहे हैं आखिरकार यह बीच के 2 सौ रुपये किसके जेब में जा रहे हैं यह तो पड़ताल करने का विषय है, हालांकि हॉस्पिटल अधीक्षक ने कैमरा के सामने तो नहीं पर मौखिक रूप से कहा है कि उन्हें भी शक है कि इस प्रकार की दलाली का काम सरकारी हॉस्पिटल में चल रहा है और वह भी जल्द से जल्द इसकी जांच कराकर दोषी कर्मचारियों पर कार्यवाही करेंगे। परंतु लगभग कई सालों से अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज में इस तरह का खेल चल रहा है और अधिकारियों के कान तक यह बात नहीं पहुंच पाना समझ से परे है। अब देखना यह होगा कि अधिकारी किस प्रकार से कार्यवाही करते हैं और उन निजी सिटी स्कैन सेंटरों पर गरीब मरीजों से अधिक रुपये लिए जा रहे हैं उनके खिलाफ भी क्या कार्यवाही करते हैं या यूं ही मामला दबा रहेगा यह तो अब आने वाले समय में ही पता चल पाएगा।

05-01-2019
Health Minister: मरीज की मौत पर स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने तीन को किया निलंबित

अंबिकापुर। अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती मरीज की मौत के मामले में परिजनों की शिकायत के बाद प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने 48 घंटे के भीतर जांच प्रतिवेदन मंगाया और प्रथम दृष्ट्या दोषी पाए गए जूनियर रेसीडेंट समेत तीन को निलंबित कर दिया है। मामला गत 3 जनवरी का है जब तड़के पौने तीन बजे हरीश गुप्ता नामक मरीज की मौत हो गई। परिजनों का आरोप था कि मरीज के इलाज में गंभीर लापरवाही बरती गई। परिजनों ने उक्ताशय की शिकायत स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से की थी।

09-09-2018
Road Accident: टायर फटने से 20 मीटर तक पलटती रही बोलेरो, 2 की मौत, 6 घायल 

अंबिकापुर। रविवार सुबह अंबिकापुर बिलासपुर मार्ग में शिवनगर के पास सड़क हादसे में दो लोगों की मौत हो गई। वहीं, 6 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए जिन्हें इलाज के लिए अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। जानकारी के अनुसार कोरबा जिले के मोरगा से बोलेरो क्रमांकसीजी 15 सीडब्ल्यू 7200 में 8 लोग सवार होकर उदयपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम बसवार जा रहे थे, तभी शिव नगर के पास वाहन का पिछला चक्का फट गया ओर बोलेरो अनियंत्रित हो कर 20 मीटर तक पलटती रही, जिससे मौके पर ही दो लोगों की मौत हो गई जबकि 6 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें तारा चौकी पुलिस सहायता केंद्र के पुलिसकर्मियों व स्थानीय लोगों के सहयोग से वाहन से निकालकर निजी कंपनी के वाहन से अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर किया गया। हादसे में मोरगा निवासी बिकेश अग्रवाल पिता सत्यपाल अग्रवाल व भीमसेंट पिता केंदा उरांव की मौत हुई है। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804