GLIBS
13-01-2021
आधी अधूरी सड़क निर्माण से रोज हो रहे हादसे, वाहन भी हो रहे क्षतिग्रस्त लोगों में रोष

कांकेर। शहर के बीचों बीच गुजरने वाली नेशनल हाईवे सड़क पर वाहनों का दुर्घटनाग्रस्त होना अब आम बात हो गई है। इसका मुख्यकारण धीमी गति से चल रही सड़क निर्माण कार्य को ही माना जा रहा है,जिसको लेकर राहगीरों को रोज परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। शहर के बीच में से गुजरने वाले नेशनल हाईवे सड़क की निर्माण कार्य बहुत ही धीमी गति से कुछ महीनों से चल रहा है कही कही आधा अधूरा बने सड़क अपर डिपर होने के कारण भी लोग सड़क हादसे का शिकार हो रहे है। बुधवार को भी एक स्विफ्ट कार थाने के पास सड़क के किनारे उतर गई,जिससे वाहन पलटते पलटते बची व उसमें सवार लोग भी घायल होने से बाल.बाल बचे। इसको लेकर लोगों में रोष व्याप्त है। वहीं लोगो का यह भी कहना है कि सड़क आधी अधूरी बनने से जहाँ तक सड़क बनी है वहाँ दोनों तरफ वाहनों की आवाजाही होने से सड़क सकरी हो गई है दूसरे वाहन को साइड देने के चक्कर मे वाहन के चक्के सीधा सड़क के नीचे आ जाते है,जिससे वाहनों को भी नुकसान पहुंचता है।

 

12-01-2021
नाली निर्माण के कारण घर की दीवार हुई क्षतिग्रस्त,वार्डवासियों ने नगरपालिका अधिकारी को सौंपा ज्ञापन

धमतरी। कुरूद नगर पंचायत वार्ड क्रमांक 3 में नाली निर्माण कार्य हो रहा है। इसमें नगर पंचायत परिषद के द्वारा टेंडर कर नाली निर्माण का कार्य किया जा रहा है। वहीं कुरूद के वार्ड क्रमांक 3 गोपाल यादव,कन्हैया लाल यादव, कन्हैया यादव जिनका मकान नाली निर्माण के कारण घर की दीवार क्षतिग्रस्त हो गई। दसके कारण घर में रहना खतरे से खाली नहीं है। इसके कारण घर के सभी सदस्य घर से बाहर रहने को मजबूर है। वहीं वार्ड क्रमांक 3 के निवासी ने कुरूद के मुख्य नगरपालिका अधिकारी से उक्त समस्या को संज्ञान में लेते हुए क्षतिग्रस्त मकान को जल्द से जल्द ठीक कर अनियमितता बरतने वाले ठेकेदार के ऊपर कार्रवाई करने की मांग की है। ज्ञापन सौंपने वालों में नीरज यादव,गोपाल यादव,कन्हैयालाल यादव, कन्हैया यादव, नवीन यादव ,अनुराग चंद्राकर, कमलेश चंद्राकर, वंश, मूलचंद सिन्हा, कृष्णकांत साहू ,रघु सोनी, तुमेश्वरी ध्रुव, खिरीराज साहू, गालो रतलानी उपस्थित रहे।

 

20-11-2020
बारातियों से भरी बाेलेरो ट्रक में जा घुसी, 14 की मौत

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में प्रतापगढ़ के मानिकपुर क्षेत्र में शुक्रवार को ट्रक की टक्कर से लग्जरी वाहन में सवार 14 बारातियों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि देशराज इनारा गांव के पास बीती रात एक तेज रफ्तार बाेलेरो सड़क किनारे खड़े एक ट्रक से टकरा गई। हादसे में 14 लोगों की मौत हो गई। हादसे में हताहत सभी लोग बाराती थे जो नवाबगंज क्षेत्र के शेखपुर गांव में विवाह समारोह से वापस लौट रहे थे। बताया जा रहा है कि टक्कर इतनी भीषण थी कि बोलेरो वाहन बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। सभी मृतक उसमें फंसे हुए थे। शवों को गैस कटर की मदद से बाहर निकाला गया।

मरने वालों में 12 कुंडा कोतवाली के जिगरापुर गांव के रहने वाले हैं जबकि एक मानिकपुर और एक हथिगंवा इलाके का निवासी है। मृतकों में बबलू (22), दिनेश कुमार (49), पवन कुमार (10), दया राम(40), अमन कुमार(7), रामसुमन(40), अंश (9), गौरव कुमार (10), नान गौड (55), सचिन (12), हिमांशु (12), मिथिलेश कुमार (17), अभिमन्यू (28) और मानिकपुर क्षेत्र निवासी चालक पारस नाथ (40) शमिल है।

24-10-2020
बारिश से गंगालूर पंहुच मार्ग का पुल हुआ क्षतिग्रस्त

रायपुर/बीजापुर। जिला मुख्यालय को गंगालूर से जोड़ने वाला पुल बारिश के दौरान क्षतिग्रस्त हो गया। इसके कारण सरकारी राशन की दुकानों तक वाहन नहीं पहुंच पा रहे हैं। उल्लेखनिय है कि वर्ष 2013 में पंचायत ने इस पुल का निर्माण कराया था। इस वर्ष प्रदेश में सबसे अधिक बारिश बीजापुर में ही हुई, जिसके कारण पुल क्षतिग्रस्त हो गया। बीजापुर के गंगालूर इलाके में एक पुलिस थाना है। इसके अलावा सीआरपीएफ और एसटीएफ कैंप भी है। जिला पंचायत सदस्य बी पुष्पा राव ने बताया कि सामान्य सभा की बैठक में गंगालूर पहुंच मार्ग को जोड़ने वाले दो पुलों को का मुद्दा उठाया था, पर संतोषजनक जवाब नहीं मिला है।

14-10-2020
हैदराबाद में भारी बारिश से तबाही, दीवार गिरने से एक ही परिवार के पांच लोगों समेत 9 की मौत

हैदराबाद। हैदराबाद में लगताार हो रही बारिश के कारण एक दीवार के गिरने से दो महीने के एक शिशु समेत नौ लोगों की मौत हो गई है और दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घटना मंगलवार रात काे उस समय घटी जब भारी बारिश के कारण एक बड़ी दीवार करीब 10 मकानों पर ढह गई। बताया जा रहा है कि दीवार गिरने से दो मकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं और नौ लोगों की मौके पर मौत हो गई है। प्रभावितों में एक ही परिवार के पांच लोग शामिल हैं और चार अन्य अलग-अलग परिवारों से हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि गंभीर रूप से घायल लोगों का  अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) आपदा प्रबंधन बल के जवानों ने स्थानीय लोगों और पुलिस की मदद से मलबे से शवों को निकाला है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीम भी जीएचएमसी की मदद कर रही है। इस बीच मौसम विभाग ने बुलेटिन जारी कर बताया कि तेलंगाना के कुछ हिस्सों में आज भी गरज के साथ भारी बारिश हो सकती है।

28-09-2020
फसल क्षति के लिए शासन ने जारी की सहायता राशि

कोरिया। कलेक्टर एसएन राठौर द्वारा खाड़ा जलाशय के क्षतिग्रस्त होने पर ग्रामीणों को हुई फसल क्षति के आंकलन का कार्य करने राजस्व विभाग को निर्देश दिए गए थे। उक्ताशय की जानकारी देते हुए तहसीलदार बैकुंठपुर ने बताया कि इस कार्य को पांच दिनों में पूरा कर शासन को रिपोर्ट भेजी गई थी। इसके आधार पर शासन द्वारा तय आर्थिक सहायता राशि ग्रामीणों के बैंक खाते में शासन द्वारा भेजी गई है। उन्होंने बताया कि बैकुंठपुर तहसील क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम खाडा, खोडरी और कसरा के 69 किसानों को कुल 4 लाख 29 हजार 402 रुपए की सहायता राशि उनके खाते में भेजी गई है।

इसमें ग्राम कसरा के 10 किसानों के लिए 46 हजार 440 रूपये, ग्राम खांडा के 25 किसानों के लिए 2 लाख 15 हजार 204 रूपये एवं ग्राम खोंडरी के 34 किसानों के लिए 1 लाख 67 हजार 758 रूपये शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि खाड़ा जलाशय के क्षतिग्रस्त होने की घटना पर तुरंत संज्ञान लेते हुए कलेक्टर राठौर ने तीन सदस्यीय जांच समिति गठित की है। इस संबंध में बैकुंठपुर विधायक एवं ग्रामीणों से पत्र भी प्राप्त हुए हैं। ऐसी घटना दुबारा ना हो, इसे सुनिश्चित करने कलेक्टर राठौर ने जिले के सभी अनुविभागीय अधिकारियों को अपने अनुभाग के अंतर्गत जलाशयों का निरीक्षण कर जलाशयों की सुरक्षा करने के लिए आवश्यक कार्यवाही करने के सख्त निर्देश दिए हैं।

 

25-08-2020
मूर्तियों का गायब होना परंपरा और हिन्दुत्व के प्रति आदिवासियों के विश्वास को क्षतिग्रस्त करने की साजिश : रमन सिंह

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाएं हैं। डॉ.सिंह ने कहा है कि आदिवासियों के नाम पर प्रदेश सरकार एक तरफ केवल सियासी नौटंकी कर रही है और दूसरी तरफ आदिवासियों के आराध्य देवी-देवताओं की मूर्तियां पूजास्थलों व मंदिरों से राज्य शासन का आदेश कहकर उठवाई जा रही हैं! जब मूर्तियों को ले जाने का विरोध हुआ तो लगभग आधा दर्जन गांवों से मूर्तियों की चोरी की गई। इसकी पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई गई। डॉ.सिंह ने कहा है कि प्रदेश सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिए कि आखिर ये मूर्तियां कहा हैं? प्रदेश के हर वर्ग के साथ अब प्रदेश सरकार इस मोर्चे पर भी छल-कपट की नीति पर काम कर रही है। डॉ.सिंह ने इसे न केवल आदिवासियों की आस्था पर चोट पहुंचाने का षड्यंत्र बताया,अपितु हिन्दुत्व के प्रति कांग्रेस सरकार के दुराग्रह का परिचायक भी बताया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार बघेल के बिलासपुर, रायगढ़, सरगुजा दौरे और लगातार वायरल हुए वीडियो संदेशों के बाद मूर्तियां उठाए जाने की बढ़ी घटनाओं पर भी डॉ. सिंह ने सवाल खड़े किए हैं। डॉ.सिंह ने कहा है कि रायगढ़ और जशपुर क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं काफी सक्रिय हैं।

आदिवासियों के धर्मातंरण की शिकायतों के मद्देनजर उनकी भूमिका संदेह के दायरे में मानी जाती रही हैं। डॉ.सिंह ने कहा है कि जशपुर जिले में पूजास्थलों से गायब हो रहीं मूर्तियों के मामले में प्रदेश सरकार को हाई कोर्ट से मिली नोटिस को गंभीरता से लेने की जरूरत है। आदिवासियों के आराध्य देवी-देवताओं की मूर्तियां गायब होना किसी बड़े षड्यंत्र की आशंका को भी घनीभूत कर रहा है। यह आदिवासी परंपरा और हिन्दुत्व के प्रति आदिवासियों के विश्वास को क्षतिग्रस्त करने की साजिश है। प्रदेश सरकार इन मामलों पर संज्ञान लेकर आदिवासियों की धार्मिक भावनाओं के साथ हो रहे खिलवाड़ को रोके। डॉ. सिंह ने कहा है कि इस मामले में हाई कोर्ट ने एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए प्रदेश सरकार से तीन सप्ताह में स्थिति स्पष्ट करने कहा है। डॉ. सिंह के मुताबिक जिले के तमाम आदिवासी पूजास्थलों व मंदिरों में जिला पंचायत के सीईओ व तहसीलदार दस्ते लेकर जा रहे हैं। यह कहकर मूर्तियां उठवा रहे हैं कि इन्हें पुरातत्व संग्रहालय में रखा जाएगा, जबकि पुरातत्व एक्ट के मुताबिक परंपरा अनुसार पूजन के लिए रखी मूर्तियों को वहां से नहीं हटाया जा सकता। डॉ. सिंह ने मांग की है कि उठवाई गई और चोरी गई मूर्तियों का पता लगाकर उन्हें वापस उनके पूजन स्थल पर ही संरक्षित किया जाए।

 

14-07-2020
Video: बादल फटने से पहाड़ पर आई दरार, पत्थर लगे गिरने

सूरजपुर। जिले के कुदरगढ़ में मंगलवार को बादल फटने से पहाड़ का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया। इससे बड़े-बड़े पत्थर नीचे गिरने लगे। वही बादल फटने से मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार की एक ओर की दीवार धराशाई हो गई। मंदिर की ओर जाने के रास्ते बंद हो गए। जानकारी के अनुसार सूरजपुर जिले के विकासखंड मुख्यालय ओड़गी से लगा कुदरगढ़ उत्तरी छत्तीसगढ़ का प्रमुख धार्मिक स्थल है। माता कुदरगढ़ी का धाम पहाड़ के ऊपर स्थित है। मंदिर की मान्यता इतनी है कि दूसरे जिले से भी लोग आते रहते हैं। हजारों की संख्या में श्रद्धालु हमेशा मौजूद रहते हैं। लेकिन कोरोना महामारी की वजह से मंदिरों के पट बंद होने से बड़ी दुर्घटना टल गई।  मंदिर के अंदर विराजमान गुदरगडी माई के हिस्से में किसी तरह का कोई नुकसान नहीं पहुंचा है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804