GLIBS
16-12-2019
मुंगेली व्यापार मेले में हुआ कवि सम्मेलन, श्रोताओं ने लिया आनंद  

मुंगेली। मुंगेली व्यापार मेला के चौथे दिन अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कवि सम्मेलन में हजारों की संख्या में श्रोता पहुंचे थे। इस कवि सम्मेलन में हास्य के कवि पद्मश्री डॉ. सुरेन्द्र दुबे (रायपुर) के बेहतरीन चुटीले संचालन और कविताओं से श्रोताओं को  लोटपोट किया। इंदौर की कवयित्री डॉ. भुवन मोहिनी की कविता उपर महुआ नीचे कुंआ, पानी पीकर ...को लोगों ने मन से सुना और ताल देते रहे। इटारसी से पधारे वरिष्ठ हास्य कवि बृजकिशोर पटेल ने बातचीत अंदाज से शुरू की और परिवेश संस्कार बुजुर्गों पर चार चार लाइन पंक्तियों से ताली बटोरी। आसनसोल से पवन बांकेबिहारी ने मंच आरंभ किया, वे अपने बाल चाल पर कविता पढ़ते रहे लोग ठहाके लगाकर हंसते रहे । उड़ीसा के कवि राकेश जैन ने गौमाता पर कविता पढकर मंत्रमुग्ध कर दिया। मुंगेली के कवि देवेन्द्र परिहार ने मातृवंदना से काव्यपाठ शुरू किया और सैनिकों पर 'आज बड़ा त्यौहार है" तथा अनुच्छेद 370 पर लाजवाब काव्यपाठ कर श्रोताओं में उत्साह भर दिया । कार्यक्रम में स्वागत भाषण अध्यक्ष महावीर सिंह ने दिया। व्यापार मेला के आरंभ व विकास पर संयोजक रामपाल सिंह ने अपनी बात रखी। कार्यक्रम का संचालन सहसंयोजक रामशरण यादव ने किया और आभार प्रदर्शन कोषाध्यक्ष धनराज परिहार ने किया। व्यापार मेला को सफल बनाने के लिए संयोजक रामपाल सिंह, सहसंयोजक रामशरण यादव, अध्यक्ष महावीर सिंह, सचिव विनोद यादव, कोषाध्यक्ष धनराज परिहार, दिनेश गोयल, सतपाल मक्कड़, गोकुलेश सिंह, राहुल कुर्रे, आशीष कुमार सोनी, श्रेणिक पारख, दीपक जैन, गौरव जैन, नीलेश केशरवानी, देवेंद्र परिहार, सूरज मंगलानी, रणवीर सिंह, अनीष जैन, अनुराग सिंह, विजय यादव, पप्पू शर्मा, हरिओम सिंह, रामकिशोर सिंह, कोमल चौबे, दीपक जैन, गिरीश सुथार, श्रेणिक पारेख, टीपू खान, रघुराज सिंह, देवशंकर श्रीवास्तव, आशीष सिंह, पप्पू शर्मा, आशुतोष सिंह, श्रेयांश बैद, राहुल साहू, मुकेश पांडेय, चित्रकान्त सिंह, राहुल मल्लाह, पवन यादव, नागेश साहू, वैभव ताम्रकार, नवीन केशरवानी, सुरेश यादव, सुनील वाधवानी उपस्थित रहें। 

14-12-2019
रंगोली स्पर्धा में छात्राओं ने दिखाई प्रतिभा

मुंगेली। व्यापार मेला के तीसरे दिन दिवस के कार्यक्रम में बच्चों की अच्छी सहभागिता रही। तीसरे दिन दोपहर जूनीयर एवं सीनियर वर्ग के लिए रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की गई। रंगोली प्रतियोगिता में दोनों वर्गों के लगभग 60 प्रतिभागियों ने भाग लिया। चित्रकला के लिए विषय निर्धारित किया गया था। जूनियर वर्ग में प्रथम स्थान- आकृति उपाध्याय,द्वितीय स्थान- आकर्षि जैन एवं प्रियांशी सोनी ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। सीनियर वर्ग के लिए ऐतिहासिक स्थल विषय पर रंगोली बनाने बच्चे उपस्थित हुए और प्रतिभागियों ने शानदार जीवंत रंगोली बनाकर लोगों का दिल जीत लिया। सीनियर वर्ग में प्रथम स्थान-वर्षा देवांगन,द्वितीय स्थान- अपर्णा ध्रुव एवं ज्योति चंद्राकर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। रंगोली प्रतियोगिता की निर्णायक श्वेता कोटडिया, स्नेहा केशरवानी एवं सुलोचना पाण्डेय रहीं। मुंगेली व्यापार मेला का मंच केवल मनोरंजन तक सीमित नहीं है, अपितु यह आयोजन प्रतिभा को अवसर और सम्मान देना भी है। इस कार्यक्रम के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रभारी आशीष सोनी,सतपाल मक्कड़, अनुराग सिंह, सूरज मंगलानी ने अच्छा प्रयास किया था। कार्यक्रम का संचालन संयोजक रामपाल सिंह ने किया। स्वागत भाषण महावीर सिंह एवं आभार प्रदर्शन रामशरण यादव ने किया। मुंगेली व्यापार मेला में स्वच्छता का भी विशेष ध्यान रखा जा रहा है। गोकुलेश परिहार ने बताया कि टीम के सभी सदस्य मेला में स्वच्छता हेतु स्वयं भाग लेते हैं, वहीं मंच से भी इस हेतु प्रेरित किया जाता है। दूसरे दिन के रात्रिकालिन कार्यक्रम में सीनियर वर्ग के बच्चे वेस्टर्न स्टाइल डांस प्रतियोगिता से लोगों को प्रभावित करने वाले हैं। सायं 7 बजे से नगर के बच्चे अपने नृत्य से नगरवासियों का मन मोह लेंगे ।

 

08-12-2019
12 दिसंबर से व्यापार मेला, होंगे कई आयोजन

मुंगेली। विगत 5 वर्षो से मुंगेली की पहचान बन चुका व्यापार मेला ने अब नगर में त्यौहार के रूप में अपनी पहचान बना ली है। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी बीआर साव स्कूल ग्राउण्ड में लगने वाले मेले में इस बार के मुख्य आर्कषण व्यवसायिक संस्थानों के स्टाल, लोकप्रिय व्यंजन के फूड जोन, विशाल क्राफ्ट बाजार, झूला घर एवं लोकप्रिय कलाकारों की प्रस्तुति रहेगी। जिला बनने के बाद से मुंगेलीवासियों को एक अच्छे और स्वच्छ माहौल में मनोरंजन के इस व्यापार मेले की शुरूवात लगभग 5 वर्ष पूर्व की गई, जो अब मुंगेुली की पहचान बन गई है। प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी 12 से 17 दिसंबर तक आयोजित होने वाले इस आयोजन की तैयारियां शुरू हो चुकी है। बीआर साव स्कूल ग्राउण्ड में आयोजित होने वाले इस आयोजन में 12 दिसंबर को नीलकमल वैष्णव छत्तीगढ़ी कलाकार द्वारा अपनी प्रस्तुती दी जायेगी। 13 दिसंबर को चित्रकला जूनियर-सीनियर दोपहर 1 से 4 बजे तक एवं छत्तीगढी लोकनृत्य सब जूनियर फ्री स्टाइल शाम 7 बजे से होगी। 14 दिसंबर को रंगोली जूनियर-सीनियर दोपहर 1 से 4 बजे तक एवं समूह नृत्य सीनियर ग्रुप डांस चेस्टन स्टाइल 7.30 बजे से होगी। 15 दिसंबर को मेंहदी/केश सज्जा दोपहर 1 से 4 बजे तक एवं अखिल भारतीय हास्य कवि सम्मेलन सुरेन्द्र दुबे एवं टीम के द्वारा रात्रि 9 बजे से है। 16 दिसंबर को कबाड से जुगाड दोपहर 1 बजे से एवं सुप्रसिद्ध छत्तीसगढी कलाकार छाया चंद्राकर की प्रस्तुति रात 9 बजे से होगी। 17 दिसंबर को व्यंजन प्रतियोगिता दोपहर 1 से 4 बजे तक एवं मुंम्बई के सुप्रसिद्ध आर्केस्ट्रा द्वारा प्रस्तुति रात 9 से की जायेगी। इस कार्यक्रम के आयोजक रामपाल सिह,रामशरण यादव,महावीर सिंह,विनोद यादव, धनराज परिहार, सावित्री अनिल सोनी,हिमांशु मिश्रा,दिनंश गोयल,प्रेम आर्य,संजीव गुप्ता,इंद्राज सिंह, आकाश परिहार, दीनानाथ केशरवानी,आनंद देवांगन,सुनील बैद,संजीव गौरहा,मोहन भोजवानी, शिवप्रताप सिंह एवं अन्य है। 

 

19-11-2019
आज से आम लोगों के लिए खुलेगा व्यापार मेला, जानिए पूरी जानकारी

नई दिल्ली। प्रगति मैदान में चल रहे 39वें अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में मंगलवार से आम लोग भी प्रवेश कर सकेंगे। गुरुवार से शुरू मेला सोमवार तक व्यापारी वर्ग के लिए खुला था। 19 से 27 नवंबर तक यह आम लोगों के लिए होगा। प्रगति मैदान में निर्माण कार्य के चलते जगह कम है, इसलिए मेले में समय से जाने में ही फायदा है। यह सुबह 9:30 से शाम 7:30 तक खुला रहेगा। प्रवेश प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन के नजदीक गेट नंबर-10 और भैरो मंदिर के समीप गेट नंबर-1 से मिलेगा। मेले को देखते हुए आसपास में वाहन पार्किंग के दाम बढ़ा दिए गए हैं, इसलिए मेट्रो या डीटीसी बस का इस्तेमाल फायदेमंद रहेगा। मेले में गेट नंबर-10 से प्रवेश करते हैं तो सबसे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से लगाया गया स्वास्थ्य शिविर मिलेगा। यहां चिकित्सीय जांच और डॉक्टर की सलाह निशुल्क है। इसके बाद विभिन्न राज्यों के पवेलियन हैं। उत्तर प्रदेश के पवेलियन में लखनवी कढ़ाई, भदोही के कारपेट, बरेली के डिजाइनदार कपड़े, अलीगढ़ के ताले आदि मिलेंगे। इसके बाद गुजरात, राजस्थान, गोवा आदि के पवेलियन हैं। हॉल नंबर 7 से 12 में तमाम तरह के सामान उपलब्ध हैं।

प्रवेश शुल्क : शनिवार और रविवार को छोड़कर प्रति व्यक्ति 60 और प्रति बच्चा 40 रुपये प्रवेश शुल्क है। शनिवार और रविवार को यह दोगुना होगा। प्रवेश टिकट मेट्रो स्टेशन पर या ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं।

वाहन पार्किंग : मेले में जाने के लिए गेट नंबर-10 के पास प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन और गेट नंबर-1 की पार्किंग भैरो मंदिर के पास रखी गई है। मेट्रो स्टेशन की पार्किंग में दोपहिया वाहन का पूरे दिन के लिए 90 रुपये शुल्क है। भैरो मंदिर की पार्किंग में 50 रुपये प्रति घंटा पार्किंग है।

साथ में थैला जरूर ले जाएं : मेले को प्लास्टिकमुक्त रखा गया है। इसलिए जाते वक्त साथ में थैला जरूर लेकर जाएं। अन्यथा इसे मेले से ही खरीदना होगा।

डिजिटल पेमेंट की सुविधा : मेले में कई दुकानों पर पेमेंट डिजिटल वॉलेट और क्रेडिट व डेबिट कार्ड से लिया जा रहा है। कुछ जगहों पर एटीएम भी लगाए गए हैं। हालांकि कैश साथ में रखना खरीदारी को ज्यादा आसान बना सकता है।

सीमित है प्रवेश : मेले में लगभग 20 हजार आगंतुकों को ही रहने की इजाजत है। इसलिए आईटीपीओ प्रबंधन की ओर से पहले आओ की अपील की जा रही है।

 

23-09-2019
राज्योत्सव का आयोजन 1 से 5 नवम्बर तक नवा रायपुर में

रायपुर। राज्य स्तरीय राज्योत्सव का आयोजन नवा रायपुर के पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी व्यापार एवं उद्योग परिसर में 1 से 5 नवम्बर तक पांच दिवस का होगा। इस दौरान एक से पांच नवम्बर तक प्रतिदिन शाम को स्थानीय कलाकारों एवं स्कूली बच्चों के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। राज्योत्सव के दौरान ही आयोजन स्थल पर विभिन्न विभागों द्वारा विभिन्न पुरस्कार एवं सम्मान प्रदान किए जाएंगे। राज्योत्सव में व्यापार मेला, कृषि मेला, शिल्प मेला सह विक्रय केन्द्र भी स्थापित किए जाएंगे। विभिन्न विभागों द्वारा विकास मूलक प्रदर्शनी लगायी जाएगी। इस दौरान दर्शकों के आने जाने के लिए विशेष रूप से वाहनों का परिचालन किया जाएगा। चीफ सेक्रेटरी सुनील कुजूर ने पूर्व में बताया था कि राज्योत्सव 2019 छत्तीसगढ़ के विकास और सांस्कृतिक व ऐतिहासिक विरासत पर आधारित होगा। प्रदेश के स्थानीय लोक कलाकरों को सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन में प्राथमिकता दी जाएगी। विभिन्न विभागो द्वारा दिए जाने वाले पुरस्कार एवं सम्मान की जानकारी 31 अक्टूबर के पूर्व सांस्कृतिक विभाग को उपलब्ध कराने के निर्देश उन्होंने दिए हैं। बैठक में राज्योत्सव के सफलता पूर्वक आयोजन के लिए विभिन्न विभागों को जिम्मेदारी सौंपी गई।

 

17-09-2019
सीएस कुजूर ने दिए राज्योत्सव की प्रारंभिक तैयारियां शुरू करने के निर्देश

रायपुर। नई सरकार के पहले राज्योत्सव की रूपरेखा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आयोजित आगामी कैबिनेट बैठक में तय की जाएगी। राज्योत्सव के आयोजन के संबंध में आज यहां मंत्रालय महानदी भवन में मुख्य सचिव सुनील कुजूर की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में राज्योत्सव के आयोजन के संबंध में चर्चा की गई तथा आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए।  बैठक में मुख्य सचिव ने राज्योत्सव के दौरान आयोजन स्थल पर विभिन्न विभागों द्वारा विभिन्न पुरस्कार एवं सम्मान, व्यापार मेला, कृषि मेला, शिल्प मेला सह विक्रय केन्द्र और विभिन्न विभागों द्वारा विकासमूलक प्रदर्शनी की पूर्व से तैयारियां प्रारंभ करने के निर्देश दिए। उन्होंने दर्शकों के आने-जाने के लिए विशेष रूप से वाहनों के परिचालन के लिए भी निर्देशित किया। मुख्य सचिव ने विभिन्न विभागों द्वारा दिए जाने वाले पुरस्कार एवं सम्मान की जानकारी 31 अक्टूबर के पूर्व सांस्कृतिक विभाग को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। बैठक में राज्योत्सव के सफलतापूर्वक आयोजन के लिए विभिन्न विभागों को जिम्मेदारी सौंपी गई। बैठक में अपर मुख्य सचिव सीके खेतान एवं  केडीपी राव, प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी एवं मनोज पिंगवा, सचिव संस्कृति एवं पर्यटन सोनमणि बोरा सहित समस्त विभागों के सचिव स्तरीय अधिकारी, संभागायुक्त रायपुर जीआर चुरेन्द्र, कलेक्टर रायपुर डॉ. एस. भारतीदासन व  पुलिस अधीक्षक रायपुर आरिफ  शेख उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804