GLIBS
22-07-2020
पांच दिन की तेजी के बाद गिरावट के साथ बंद हुआ शेयर बाजार,रिलायंस के शेयर 2000 रुपए के पार

मुंबई। सप्ताह के तीसरे कारोबारी दिन बुधवार को दिनभर के कारोबार के बाद शेयर बाजार गिरावट पर बंद हुआ। जबकि इससे पहले लगातार पांच कारोबारी दिनों से शेयर बाजार तेजी पर बंद हो रहा था। आज शेयर बाजार की शुरुआत हरे निशान पर हुई थी। सेंसेक्स 25.68 अंक यानी 0.07 फीसदी ऊपर 37956.01 के स्तर पर खुला था। वहीं निफ्टी 0.06 फीसदी यानी 7.10 अंकों की मामूली बढ़त के साथ 11169.40 के स्तर पर खुला था।वही मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर आज पहली पर 2000 रुपये के स्तर के पार चला गया। घरेलू शेयर बाजार में कमजोरी के बावजूद आरआईएल के शेयर में तेजी आई। यह 32.45 अंक (1.65 फीसदी) बढ़कर 2004 के स्तर पर बंद हुआ। मार्च माह में 867.82 रुपये के निचले स्तर से रिलायंस के शेयरों में 130 फीसदी की तेजी आई है। जबकि शुरुआती कारोबार में यह 1983 के स्तर पर खुला था और पिछले कारोबारी दिन 1971.55 के स्तर पर बंद हुआ था। बाजार पूंजीकरण की बात करें, तो इस लिहाज से यह देश की सबसे बड़ी कंपनी है। 13 लाख करोड़ रुपये के मार्केट कैप को पार करने वाली यह भारत की पहली कंपनी है। अभी कंपनी का मार्केट कैप 13.17 लाख करोड़ रुपये है।

 

15-07-2020
रिलायंस इंडस्ट्रीज की वार्षिक आमसभा में मुकेश अंबानी ने कहा, जियो और गूगल मिलकर भारत को 2जी मुक्त बनाएंगे

मुंबई। मुकेश अंबानी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज की वार्षिक आमसभा में कहा में कहा कि अगले साल तक 5जी तकनीक लॉन्च की जा सकती है। मुकेश अंबानी ने कहा कि जियो प्लेटफॉर्म्स में 7.7 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिए गूगल 33,737 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करेगी। गूगल के निवेश के साथ ही जियो प्लेटफॉर्म्स के लिए पूंजी जुटाने का काम पूरा हो गया है। जियो देश में संपूर्ण 5 जी समाधान विकसित कर रही है, 5 जी स्पेक्ट्रम उपलब्ध होते ही इसका जल्द से जल्द से परीक्षण शुरू कर दिया जाएगा। देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) की वार्षिक आम बैठक (एजीएम) में फेसबुक जैसी प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनियों के साथ भागीदारी का ‘लाभ’ उठाने से संबंधित घोषणाएं की। मुकेश अंबानी ने बताया कि गूगल और जियो साथ मिलकर एक ऑपरेटिंग सिस्टम बनाएंगे, जो एंट्री लेवल के 4G/5G स्मार्टफोन के लिए होगा।

जियो और गूगल मिलकर भारत को 2G-मुक्त बनाएंगे। अंबानी ने यह भी बताया कि सर्च इंजन कंपनी गूगल ने जियो के प्लेटफॉर्म में 33,737 करोड़ रुपये का निवेश किया है।रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) की 43वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने कहा कि जियोमीट को जारी करने के कुछ दिन के भीतर ही 50 लाख से अधिक उपयोगकर्ताओं ने डाउनलोड किया है। कंपनी की वेबसाइट के मुताबिक जियोमीट 100 भागीदारों के साथ एचडी ऑडियो और वीडियो कॉल की सुविधा देती है। इसमें स्क्रीन शेयरिंग और बैठक की समयसारिणी जैसे फीचर भी उपलब्ध हैं।

13-07-2020
 12 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंचा रिलायंस इंडस्ट्रीज का मार्केट कैपिटलाइजेशन

मुंबई। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड का मार्केट कैपिटलाइजेशन के 12 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गया है। सोमवार को स्टॉक मार्केट में अपने शेयरों में आई तेजी के चलते रिलायंस के मार्केट कैपिटलाइजेशन में यह इजाफा देखने को मिला है। कारोबार के दौरान बीएसई सेंसेक्स पर कंपनी का शेयर 3.64 प्रतिशत चढ़कर 1,947 रुपये पर पहुंच गया। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में कंपनी का शेयर 3.70 प्रतिशत की बढ़त के साथ 1,947.70 रुपये को छू गया। शेयर भाव में इस तेजी के चलते कंपनी का बाजार पूंजीकरण बीएसई पर 38,163.22 करोड़ रुपये बढ़कर 12,29,020.35 रुपये पर पहुंच गया। रिलायंस इंडस्ट्रीज सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में सबसे अधिक लाभ में चल रही है। कंपनी ने रविवार को टेक कंपनी क्वालकॉम से 730 करोड़ रुपये का निवेश हासिल करने की ऐलान किया था। अप्रैल से अब तक कंपनी अपनी डिजिटल इकाई जियो प्लेटफार्म्स में दुनियाभर के विभिन्न निवेशकों से 1.18 लाख करोड़ रुपये का निवेश हासिल कर चुकी है। कंपनी ने जियो प्लेटफॉर्म्स में अब तक 25.24 प्रतिशत हिस्सेदारी इन निवेशकों को बेची है। इसके बाद से ही कंपनी के शेयरों में तेजी का रुख बना हुआ है। पिछले महीने रिलायंस 11 लाख करोड़ रुपये बाजार पूंजीकरण हासिल करने वाली देश की पहली कंपनी बनी थी। इस तरह से देखें तो रिलायंस ने मार्केट कैपिटलाइजेशन के लिहाज से अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ा है।

24-06-2020
मुकेश अंबानी के वेतन में 12 साल से नहीं हुई वृद्धि, जानिए कितनी है सैलरी....

मुंबई। देश के सबसे अमीर उद्यमी मुकेश अंबानी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज में पिछले वित्त वर्ष में अपना वेतन-भत्ता व कमीशन 15 करोड़ रुपये के स्तर पर बनाए रखा। कंपनी से मिलने वाली उनकी सालाना आय लगातार 12वें साल स्थिर रही। 
उन्होंने कोविड-19 महामारी से उत्पन्न संकट को देखते हुए अपनी सैलरी नहीं बढ़ाने का निर्णय लिया है। अंबानी ने अपना वेतन, अन्य सुविाधाएं, भत्ता और कमीशन 2008-09 से 15 करोड़ रुपये पर स्थिर रखा है। उन्होंने इस तरह हर साल अपने पारितोषिक में 24 करोड़ रुपये से अधिक का त्याग किया है। कंपनी की सालाना रिपोर्ट में कहा गया है कि, 'देश में कोविड-19 महामारी और उसके सामाजिक, आर्थिक और उद्योगों पर पड़ने वाले व्यापक असर को देखते हुए कंपनी के चेययरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने स्वेच्छा से अपना वेतन नहीं लेने का निर्णय किया है।' रिपोर्ट के अनुसार कंपनी के निदेशक मंडल ने कोविड-19 संकट के समाप्त होने तक उनके वेतन नहीं लेने को निर्णय को रेखांकित किया है। अंबानी ने अप्रैल के अंत में अपना वेतन नहीं लेने का निर्णय किया। उसी समय कंपनी ने संकट के चलते कर्मचारियों के वेतन में 10 से 50 फीसदी तक की कटौता का फैसला किया। अपना वेतन 15 करोड़ रुपये पर स्थिर रखकर उन्होंने व्यक्तिगत तौर पर प्रबंधकीय क्षतिपूर्ति स्तर को संतुलित रखने का एक उदाहरण दिया है और तब तक के लिए वेतन नहीं लेने का निर्णय किया जब तक कंपनी अपनी क्षमता अनुसार कमाई के रास्ते पर नहीं लौट आती।अंबानी के पारितोषिक में 4.36 करोड़ रुपये वेतन और भत्ते शामिल हैं। यह 2018-19 में उन्हें मिले 4.45 करोड़ रुपये से थोड़ा कम है। उनका कमीशन 9.53 करोड़ रुपये पर स्थिर है जबकि अन्य सुविधा 40 लाख रुपये से घटकर 31 लाख रुपये पर आ गयी। उनका सेवानिवृत्ति लाभ 71 लाख रुपये था। अंबानी के रिश्तेदार निखिल आर मेसवानी और हितल आर मेसवानी का पारितोषिक बढ़कर सालाना 24 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले 20.57 करोड़ रुपये सालाना था।

 

29-02-2020
मंदी अस्थायी, ऐतिहासिक मौके लाएगा अगला दशक : मुकेश अंबानी

नई दिल्ली। बिजनेस मैन मुकेश अंबानी ने कहा कि मौजूदा आर्थिक सुस्ती अस्थायी है और बाहरी उतार-चढ़ाव से प्रभावित है। उन्होंने कहा कि देश को अगले दशक के लिए और अधिक आशावादी होने की वजह है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक ने कहा कि आने वाला दशक कारोबारों की तरक्की लिहाज से ऐतिहासिक अवसर प्रस्तुत करने वाला होगा और भारत को दुनिया की तीन शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं में शुमार करेगा। अंबानी ने कहा कि मुझे लगता है कि हमने अस्थायी पीड़ाएं झेली हैं लेकिन वित्त मंत्री ने जो नेतृत्व प्रदान किया है, उससे हम इससे उबरने वाले हैं। विदेशी उतार-चढ़ावों ने हमें प्रभावित किया है, लेकिन मैं बहुत बहुत आशावादी हूं।’

24-02-2020
भारत जल्द दुनिया की शीर्ष तीन अर्थव्यवस्थाओं में होगा शुमार : मुकेश अंबानी

मुंबई। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा है कि भारत एक 'प्रमुख डिजिटल समाज' बनने की ओर अग्रसर है। इसके साथ ही उन्होंने विश्वास जताया कि जल्द भारत दुनिया की शीर्ष तीन अर्थव्यवस्थाओं में शुमार होगा। माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सत्य नडेला की भारत यात्रा के मौके पर सोमवार को आयोजित 'फ्यूचर डिकोडेड सीईओ सम्मेलन' को संबोधित करते हुए अंबानी ने कहा कि इस बड़े बदलाव में मोबाइल नेटवर्क का फैलाव प्रमुख भूमिका निभा रहा है। यह पहले की तुलना में अधिक तेजी से काम कर रहा है।

मुकेश अंबानी ने कहा,'इसकी शुरुआत 2014 में प्रधानमंत्री के डिजिटल भारत के दृष्टिकोण के साथ हुई थी। 38 करोड़ लोग अब जियो की 4जी प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर रहे हैं।' उन्होंने कहा कि जियो से पहले डेटा की रफ्तार 256 केबीपीएस थी। जियो के बाद यह 21 एमबीपीएस तक पहुंच गई है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा का उल्लेख करते हुए अंबानी ने कहा कि आज उन्हें जो भारत दिखाई देगा, वह उनके पूर्ववर्तियों जिम्मी कार्टर, बिल क्लिंटन या बराक ओबामा ने जैसा भारत देखा है उससे भिन्न होगा। अंबानी ने कहा कि मोबाइल'कनेक्टिविटी' एक बड़ा बदलाव है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख ने कहा,'मेरे मन में इस बात को लेकर कोई संदेह नहीं है कि हम दुनिया की शीर्ष तीन अर्थव्यवस्थाओं में होंगे।' उन्होंने कहा कि इसमें सिर्फ इस बात पर बहस की गुंजाइश है कि यह पांच साल में होगा या दस साल में। उन्होंने कहा कि भारत में हमारे पास एक प्रमुख डिजिटल समाज बनने का अवसर है। अंबानी ने नडेला की ओर इशारा करते हुए कहा कि अगली पीढ़ी काफी अलग भारत देखेगी। यह उस भारत से भिन्न होगा जिसमें आप और हम पले बढ़े हैं। 

 

11-02-2020
शेयर बाजार : सेंसेक्स ने लगाई छलांग, निफ्टी भी 12,100 अंक के पार

मुंबई। वैश्विक बाजारों में तेजी के रुख के बीच मंगलवार को शेयर बाजार में रौनक का माहौल रहा। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 236.52 अंक या 0.58 फीसदी की बढ़त के साथ 41,216.14 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान इसने 41,444.34 अंक का उच्चस्तर भी छुआ। रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक जैसी बड़ी कंपनियों के शेयरों में लाभ से सेंसेक्स में उछाल आया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 76.40 अंक या 0.64 फीसदी की बढ़त के साथ 12,107.90 अंक पर बंद हुआ। कारोबारियों ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर आशंका के बावजूद वैश्विक बाजारों में बढ़त रही। चीन का शंघाई, हांगकांग का हैंगसेंग और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी उल्लेखनीय लाभ के साथ बंद हुए। 

 

20-01-2020
लुढ़का शेयर बाजार, सेंसेक्स 416 अंक आया नीचे, निफ्टी 121.60 अंक टूटा

मुंबई। कच्चे तेल में तेजी के बीच बैंकिंग तथा वित्तीय कंपनियों के साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी दिग्गज कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से घरेलू शेयर बाजार सोमवार को एक प्रतिशत लुढ़ककर डेढ़ सप्ताह के निचले स्तर पर आ गए।
बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सोमवार को 416.46 अंक यानी 0.99 प्रतिशत की गिरावट में 41,528.91 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 121.60 अंक यानी 0.98 फीसदी टूटकर कारोबार की समाप्ति पर 12,230.75 अंक पर रहा। यह दोनों सूचकांकों का 9 जनवरी के बाद का निचला स्तर है। चौतरफा बिकवाली के बीच मझौली और छोटी कंपनियों पर कम दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप 0.57 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,618.86 अंक पर और स्मॉलकैप 0.39 प्रतिशत टूटकर 14,651.17 अंक पर आ गया। 

26-12-2019
शेयर बाजार में मायूसी, सेंसेक्स 297 अंक टूटा, निफ्टी में दर्ज की गई गिरावट

मुंबई। शेयर बाजार में गुरुवार को मायूसी का आलम रहा। बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बृहस्पतिवार को 297 अंक टूट गया। दिसंबर के डेरिवेटिव अनुबंधों के निपटान के दिन सेंसेक्स की बड़ी कंपनियों रिलायंस इंडस्ट्रीज और एचडीएफसी बैंक के शेयरों में गिरावट से बाजार नीचे आया। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान एक समय 328.37 अंक तक नीचे आ गया था। अंत में यह 297.50 अंक या 0.72 प्रतिशत के नुकसान से 41,163.76 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान सेंसेक्स 41,132.89 अंक तक नीचे आया। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 88 अंक या 0.72 प्रतिशत के नुकसान से 12,126.55 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की कंपनियों में भारती एयरटेल में सबसे अधिक 2.23 प्रतिशत की गिरावट आई। रिलायंस इंडस्ट्रीज, एलएंडटी, सनफार्मा, एचडीएफसी बैंक, मारुति, टाइटन और कोटक बैंक के शेयर भी नुकसान में रहे। दूसरी ओर ओएनजीसी, टाटा स्टील, बजाज फाइनेंस और महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर 1.63 प्रतिशत तक चढ़ गए। कारोबारियों ने कहा कि दिसंबर के वायदा एवं विकल्प अनुबंधों के निपटान की वजह से बाजार में उतार-चढ़ाव रहा। इसके अलावा वर्ष समाप्त होने से पहले छुट्टियों की वजह से भी बाजार में निवेशकों की भागीदारी कम हुई है। चीन का शंघाई, जापान का निक्की और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी सकारात्मक रुख के साथ बंद हुए। अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 71.27 प्रति डॉलर पर स्थिर रुख के साथ चल रहा था। ब्रेंट वायदा 0.33 प्रतिशत की बढ़त के साथ 67.42 डॉलर प्रति बैरल पर था। 

 

30-10-2019
मुकेश अंबानी ने भारत की आर्थिक मंदी पर दिया बड़ा बयान...

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने भी यह स्वीकर कर लिया है कि भारत में आर्थिक मंदी है। सऊदी अरब के रियाद में सालाना निवेश मंच 'फ्यूचर इनवेस्टमेंट इनिशिएटिव' को संबोधित करते हुए अंबानी ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था में सुस्ती का दौर है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार द्वारा अगस्त के बाद से किए गए सुधारों का परिणाम आने वाली कुछ तिमाहियों में सामने आएगा। अंबानी ने सम्मेलन में भविष्य के निवेश प्रयासों पर आयोजित सत्र में कहा, ‘हां, भारतीय अर्थव्यवस्था में हल्की सुस्ती रही है लेकिन मेरा अपना विचार है कि यह अस्थायी है।’ उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ महीनों के दौरान जो भी सुधार उपाय किए गए हैं उनका परिणाम सामने आयेगा और मुझे पूरा विश्वास है कि आने वाली तिमाहियों में यह स्थिति बदलेगी।’

भारतीय अर्थव्यवस्था को दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था कहा जाता रहा है लेकिन पिछली पांच तिमाहियों से उसकी वृद्धि दर में लगातार गिरावट आ रही है और अप्रैल-जून 2019 की तिमाही में यह घटती हुई पांच प्रतिशत पर आ गई। एक साल पहले इस दौरान जीडीपी वृद्धि दर 8 प्रतिशत की ऊंचाई पर थी। वर्ष 2013 के बाद यह सबसे कम वृद्धि दर है। इसके लिए निवेश में आई सुस्ती और अब खपत एवं उपभोग में आई कमी को बताया जा रहा है। यह कहा जा रहा है कि ग्रामीण परिवारों में वित्तीय तंगी के साथ रोजगार सृजन में कमी रही है।

24-07-2019
फॉर्च्यून ग्लोबल 500 की लिस्ट जारी, भारतीय कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहुंची टॉप पर 

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बड़ी छलांग लगाते हुए फॉर्च्यून ग्लोबल 500 की लिस्ट में भारत की टॉप कंपनी बन गई है। कंपनी अब इस लिस्ट में 106वें पायदान पर है।
वर्ष 2019 में रिलायंस इंडस्ट्रीज की आमदनी 32.1 प्रतिशत बढ़कर 82.3 अरब डॉलर पर पहुंच गई। रिलायंस इंडस्ट्रीज आईओएल को पछाड़ कर फॉर्च्यून 500 में टॉप भारतीय कंपनी बन गई है। मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज 42 स्थानों की छलांग के साथ फॉर्च्यून ग्लोबल 500 सूची में भारत की सबसे ऊंची रैंकिंग वाली कंपनी बन गई है। अभी तक इस सूची में सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन आयल कॉरपोरेशन (आईओसी) फॉर्च्यून 500 इंडिया सूची में पहले स्थान पर थी। पहली बार यह सूची 2010 में जारी हुई थी। 
फॉर्च्यून ने कहा, 'इस साल रिलायंस इंडस्ट्रीज ग्लोबल 500 की सूची में 106वें स्थान पर है। इसने आईओसी को पीछे छोड़ा है जो 117वें पायदान पर है।
फॉर्च्यून ने कहा कि पिछले दस साल के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज की आमदनी में सालाना 7.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई है। 2010 में यह 41.1 अरब डॉलर थी। वहीं इस अवधि में आईओसी की आमदनी सालाना आधार पर 3.64 प्रतिशत बढ़ी है। 2010 में यह 54.3 अरब डॉलर थी। 
रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईओसी के अलावा इस सूची में शामिल अन्य भारतीय कंपनियां हैं। आयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी), भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई), टाटा मोटर्स, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लि. (बीपीसीएल) और राजेश एक्सपोर्ट्स। ओएनजीसी इस सूची में 37 पायदान की छलांग के साथ 160वें स्थान पर है। एसबीआई 20 स्थान खिसककर 236वें स्थान पर पहुंच गई है। 
सऊदी अरब की पेट्रोलियम क्षेत्र की दिग्गज सऊदी अरामको पहले बार शीर्ष दस में पहुंची है। यह छठे स्थान पर है। वहीं बीपी, एक्सॉन मोबिल, फॉक्सवैगन और टोयोटा मोटर क्रमश: सातवें, आठवें, नौवें और दसवें स्थान पर हैं। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804