GLIBS
20-05-2020
महापौर पहले अपनी जिम्मेदारी ईमानदारी के साथ निभाएँ, फिर अपने लिए किसी स्थान की अपेक्षा रखें : संजय श्रीवास्तव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने महापौर एजाज ढेबर के उस बयान सवाल उठाए हैं,जिसमें देशभर की स्वच्छता रैंक में रायपुर को शून्य अंक मिलने पर महापौर ने केंद्र सरकार पर पक्षपात का आरोप लगाया है। श्रीवास्तव ने कहा कि अपनी नाकामियों को ढंकने के लिए महापौर अब ऊलजलूल टिप्पणी कर रहे हैं। रायपुर को स्वच्छता रैंक  में स्थान नहीं मिलने पर महापौर का यह कहना हास्यास्पद है कि केंद्र सरकार ने कांग्रेस शासित निगम होने के कारण रायपुर के साथ पक्षपातपूर्ण रवैए के परिचय दिया है। यदि रैंक देने का यही मापदंड होता तो अंबिकापुर को कैसे स्वच्छता रैंक में गौरवपूर्ण स्थान मिल गया?श्रीवास्तव ने कहा कि महापौर ढेबर के कार्यकाल में राजधानी में स्वच्छता का आलम तो यह रहा है कि लोगों को पीने के लिए साफ पानी तक के लिए मुहाल होना पड़ रहा है एक तरफ कोरोना महामारी के भयावह दौर के बीच दूसरी तरफ राजधानी के हजारों लोग पीलिया और दीगर संक्रामक बीमारियों से जूझने के लिए विवश हो रहे हैं। श्रीवास्तव ने कहा कि महापौर पहले अपनी जिम्मेदारी ईमानदारी के साथ निभाएं और राजधानी की नागरिक जरूरतों की आपूर्ति को दुरुस्त करें फिर अपने लिए किसी स्थान की अपेक्षा रखें।

 

12-05-2020
आरक्षक ने सोने के गहनों से भरा बैग महिला को लौटाया,डीजीपी ने कहा— इस ईमानदारी पर छत्तीसगढ़ पुलिस को गर्व

रायपुर। जांजगीर चाम्पा जिले के आरक्षक नरेश बंजारे ने ईमानदारी की मिसाल पेश की है। हसौद क्षेत्र के मिरौनी चेक प्वाइंट पर ड्यूटी के दौरान उन्हें महिला का हैंड बैग मिला,जिसमें नगद रुपये समेत सोने का हार, सोने की कान की बाली, चांदी की पायल करीब 2 लाख कीमत के सोने के आभूषण रखे हुए थे। आरक्षक बंजारे ने तत्काल महिला की खोज शुरू की और पता लगते ही उक्त महिला को सारा सामान सौंप दिया। डीजीपी डीएम अवस्थी ने थाना प्रभारी और नरेश बंजारे की ईमानदारी की प्रशंसा की है। आरक्षक को उत्साहवर्धन स्वरुप ढाई हजार रुपए नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि नरेश बंजारे की कर्तव्यनिष्ठा और ईमानदारी पर छत्तीसगढ़ पुलिस को गर्व है।

 

06-05-2020
मदिरा प्रेमियों ने किया लॉक डाउन के नियमों का ईमानदारी से पालन

 जगदलपुर। लॉकडाउन 3.0 के दौरान शराब की बिक्री शुरू कर दी गई है। जगदलपुर के चाँदनी चौक में विदेशी मदिरा की दुकान पर लोग सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए शराब खरीदते हुए नजर आए। शराब बिक्री में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने के लिए पुलिस भी जुटी हुई है। जो व्यक्ति शराब लेने आए हैं सोशल डिस्टेंसिंग के साथ साथ मास्क भी लगाए हुए नजर आए। शराब की दुकान खुलने के बाद मदिरा प्रेमी बहुत शांतिपूर्वक लाइन में लगकर अपना नम्बर आने के इंतजार में खड़े हुए नजर आए।

23-04-2020
कोरोना को मात देने कर्तव्य पथ पर डटी आँगनबाड़ी कार्यकर्ता

रायपुर। कर्तव्य पथ पर डटे रहकर काम करना सीखना हो तो नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले की आंगनबाड़ी कार्यकार्ता से सीखा जा सकता है। विपरीत स्थिति और विषम परिस्थितियों में डटे रहकर पूरी निष्ठा, ईमानदारी और ज़िम्मेदारी से काम करना जैसे इनकी फ़ितरत में या कहें इनके खून में है। ये वो आँगनबड़ी कार्यकर्ताएं है, जो आदिवासी जनजाति (माड़िया) लोगों के घर पर नहीं मिलने पर जंगल में मिलों चल उनके ठौर ठिकाना ढूंढकर भोजन-भात के लिए सूखा राशन और रेडी टू ईट का वितरण कर रही हैं। ताकि उनके मासूम बच्चों और परिवार को भूखा नहीं रहना पड़े। 

महिला एवं बाल विकास की ओर से पोषण युक्त सूखा राशन बांट रही, ताकि कोरोना के कारण कोई भूखा नहीं रहे। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सेवती मांझी ने मलकटटा के जंगल में जिल्लोबाई को ढूंढकर राशन दिया, बच्चा भी उसके साथ था। राशन देख कर बच्चे के चेहरे पर सुकून भरी मुस्कराहट साफ देखी जा सकती हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हाल ही में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं चिठठी लिख कर हौसला अफजाई भी की और उनके काम की सराहना भी की है। कलेक्टर पीएस एल्मा ने बताया कि लॉक डाउन के ​कारण पहले चरण में मुख्यमंत्री सुपोषण कार्यक्रम के तहत 15 से 49 आयु वर्ग की एनीमिया पीड़ित, शिशुवती माताओं और 6 माह से 3 वर्ष के आयु वर्ग के कुपोषित बच्चों के घर पर 21 दिनों का पोषणयुक्त सूखा राशन उपलब्ध कराया था। नारायणपुर जिले में मुख्यमंत्री ने लॉक डाउन के दूसरे चरण में भी 21 दिनों का और राशन पहुंचाने की व्यवस्था की। इसके साथ ही जिले की 556 आंगनबाड़ी केन्द्रों में दर्ज बच्चों गर्भवती और शिशुवती समेत कुल 17918 हितग्राहियों को हेल्दी रेडी-टू ईट फूट घर-घर जाकर दिया था। इन सभी लोगों को एक-एक सप्ताह का फूड दिया गया।

06-04-2020
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर विशेष- कोरोना वायरस को हराने पूरी ईमानदारी से सेवा दे रहीं मंजू दिनकर 

बिलासपुर। प्रत्येक वर्ष 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस के रूप में मनाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से आधुनिक नर्सिंग की संस्थापक फ़्लोरेंस नाइटेंगल के जन्म के 200 साल पूरे होने पर 2020 को 'नर्स और दाई के अंतरराष्ट्रीय वर्ष' के रूप में मनाया जा रहा है। यह उन स्वास्थ्यकर्मियों को सम्मान देने का एक अवसर है जो दुनिया भर में लोगों को विभिन्न आवश्यक सेवाएं प्रदान करते हैं। बीमारियों की रोकथाम, निदान और इलाज के साथ-साथ प्रसव के दौरान देखभाल करने जैसी विशेषज्ञ सेवाओं के अलावा, नर्स और दवाइयां मानवीय आपात स्थिति और संघर्ष में फंसे लोगों को भी सेवाएं प्रदान करती हैं। नर्सें और दवाइयां (एएनएम) हर स्वास्थ्य प्रणाली की रीढ़ होती हैं। मरीजों को उत्तम सेवा प्रदान कर उन्हें स्वस्थ बनाने में नर्सों की भूमिका प्रशंसनीय होती है। मंजू दिनकर ऐसी ही एक स्टॉफ नर्स है जो बिलासपुर जिला अस्पताल में कार्यरत है और आजकल कोरोना वायरस की इस महामारी से लड़ते हुए मरीजों की सेवा में ड्यूटी दे रही हैं। बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई कर तीन साल से अस्पतालों में सेवा दे रही मंजू दिनकर बताती हैं, कोरोना वायरस के स्क्रीरनिंग कार्य में प्रति दिन 30 से 40 लोगों की सवास्थ्य जांच करनी पढ़ रही है।

जिला अस्पताल में रोजाना प्रवासी मजदूरों की स्वास्थ्य जांच कर स्केूनिंग मशीन से शरीर का तापमान लिया जा रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण के संभावित लक्षण जैसे सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ के लक्षण की जांच करते हैं। ड्यूटी के दौरान कैप, मास्क, एप्रान, गल्बस लगाकर एक मीटर की दूरी से मरीजों की जांच करते हैं। इन दिनों अस्पताल में सिर्फ सर्दी, खांसी के मरीजों की ही ओपीडी में जांच हो रही है। ओपीडी से लेकर आईपीडी और ट्रामा में भी सेवा देने तत्पर रहती हैं। मंजू बताती हैं, कोरोना वायरस की ओर से अतिरिक्त सुरक्षा लेना जरुरी है। ड़यूटी से घर जाने के बाद कपड़े बदलना और नहाने के बाद ही घर में दूसरा काम शुरु करती हैं। वहीं वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ को सेनेटाइजर से साफ करते रहते हैं। उन्होंने कहा मरीजों की सेवा करना उनका फर्ज है।

16-03-2020
उत्थान अनुदान दिव्यांगजन के हौसले, ईमानदारी और मेहनत का प्रतीक : अनिला भेंड़िया

रायपुर। समाज कल्याण मंत्री अनिला भेंड़िया ने सोमवार को राजधानी के फाॅरेस्ट काॅलोनी स्थित अपने निवास में दिव्यांग हितग्राहियों को उत्थान अनुदान (सब्सिडी) का प्रतीकात्मक चेक प्रदान किया। इसमें रायपुर जिले के 4, कबीरधाम जिले के 6 और मुंगेली जिले के 3 दिव्यांग शामिल हुए। राज्य में पहली बार सरकार की ओर से नियमित ऋण पटाने वाले 81 हितग्राहियों को ऋण की पूर्ण अदायगी पर 6 लाख 46 हजार रूपये की छूट स्वीकृत की है। दिव्यांग हितग्राहियों की ओर से लोन की पूरा अदायगी पर उन्हें ब्याज राशि का 25 प्रतिशत उत्थान सब्सिडी के रूप में प्रदान किया गया। छत्तीसगढ़ निःशक्तजन वित्त एवं विकास निगम की ओर से दिव्यांगजन को स्वरोजगार के लिए ऋण प्रदान किया गया था। सब्सिडी का चेक पाकर दिव्यांगजन के चेहरे खिल उठे। मंत्री भेंड़िया ने इस अवसर पर कहा कि दिव्यांग हितग्राहियों की ओर से स्वरोजगार के लिए गए ऋण का पूरा भुगतान उनकी इमानदारी और आगे बढ़ने के जज्बे को दर्शाता है। प्रदान की गई सब्सिडी दिव्यांगजन के हौसले और मेहनत का प्रतीक है। अनिला भेंड़िया ने दिव्यांगजन से कहा कि मेहनत कर आगे बढ़ें, सरकार उनकी हर संभव मदद के लिए तैयार है।

अनिला भेंड़िया ने जिला अधिकारियों को सभी पात्र दिव्यांग हितग्राहियों के लिए सब्सिडी का चेक प्रदान करते हुए उनके खातों में राशि शीघ्र अंतरित करने के निर्देश दिए। उल्लेखनीय हैं कि छत्तीसगढ़ निःशक्तजन वित्त एवं विकास निगम ने अब तक 2 हजार 787 दिव्यांग हितग्राहियों को 73 करोड़ 98 लाख रूपये की ऋण राशि का वितरण कर स्वालंबन की मुख्य धारा से जोड़ा है। राज्य सरकार ने छह जिलों के 81 दिव्यांगजनों द्वारा ऋण का पूरा भुगतान करने पर 6 लाख 46 हजार रूपए की छूट स्वीकृत की है। इनमें जशपुर जिले के 51, कबीरधाम जिले के 19, मुंगेली जिले के 4, रायपुर जिले के 4, सुकमा जिले के 2 और गरियाबंद जिले के एक दिव्यांग शामिल है। इनमें से मुंगेली जिले की सहोदरा बाई ने किराना दुकान, कुमारी लच्छो बी खान ने बकरी पालन, रायपुर के महावीर यादव ने कपड़ा दुकान और कबीरधाम के सुरेश कुमार साहू ने ट्रेक्टर के लिए लोन लिया था, जिसकी पूरी अदायगी पर उन्हें छूट की राशि मिली। इसी तरह अन्य दिव्यांग हितग्राहियों ने निगम से लोन लेकर किराना दुकान, बकरी पालन, कपड़ा दुकान जैसे स्वरोजगार की राह अपनाई और सफल रहे।

16-08-2019
सीआईएसएफ  के जवानों की ईमानदारी, लाख रुपए से भरा बैग लौटाया

नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा के लिए तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की टीम ने एक बार फिर अपनी सजगता और ईमानदारी का परिचय दिया है। सीआईएसएफ के जवानों ने स्वतंत्रता दिवस के ठीक एक दिन पहले एक लाख रुपये से भरे बैग को सही सलामत उसके मालिक के हवाले कर दिया। सीआईएसएफ के प्रवक्ता सहायक महानिरीक्षक हेमेंद्र सिंह ने कहा कि बुधवार दोपहर को जवानों को शिवाजी स्टेडियम मेट्रो स्टेशन से लावारिस हालत में एक बैग मिला था। बैग को खोल कर देखा गया तो उसमें उसके अंदर एक लाख रुपये नगद और अन्य जरूरी चीजें थीं। इसके बाद सीसीटीवी फुटेज की मदद से बैग के मालिक का पता लगाया गया। सीआईएसएफ कर्मियों ने तुरंत बैग के मालिक की तलाश शुरू की। कुछ ही घंटों के बाद मालिक का पता चल गया।  सीआईएसएफ की खोज में पता चला कि बैग द्वारका के रहने वाले प्रवीण झा का था। पता लगने के बाद जवानों ने पैसे सहित उन्हें उनका बैग वापस लौटाया। बैग वापस मिलने के बाद प्रवीण की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उन्होंने सीआईएसएफ का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि अब मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि ईमानदारी अभी भी जिंदा है।

 

 

23-07-2019
जनता के हित में समय पर कर्तव्यनिष्ठा और ईमानदारी से काम करें अधिकारी :सांसद ज्योत्सना महंत

कोरबा। लोकसभा सांसद ज्योत्सना महंत ने मंगलवार को महत्वपूर्ण बैठक में केंद्र सरकार द्वारा जिले में संचालित योजनाओं और विकास कार्यक्रमों की गहन समीक्षा की। जिला पंचायत के सभाकक्ष में आयोजित जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक में सांसद ने सभी अधिकारियों को जिलेवासियों के हित में शासकीय योजनाओं का समय पर कर्तव्यनिष्ठा और ईमानदारी से लाभ दिलाने की हिदायत दी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के लोगों को मूलभूत सुविधाएं बिजली, पानी, स्वास्थ्य, शिक्षा, मकान सहित किसानों को खेती के लिए जरूरी सुविधाएं और सहयोग उपलब्ध कराना ही पहली प्राथमिकता है और इस दिशा में हरसंभव काम तेजी से किया जाना चाहिए। श्रीमती महंत ने जनप्रतिनिधियों द्वारा दिए गये सुझावों और मांगो-शिकायतों पर भी तेजी से कार्यवाही करने के निर्देश उपस्थित अधिकारियों को दिए। बैठक में राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, विधायक कटघोरा पुरूषोत्तम कंवर, विधायक पाली-तानाखार मोहितराम केरकेट्टा, महापौर रेणु अग्रवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष देवीसिंह टेकाम, कलेक्टर किरण कौशल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस.जयवर्धन सहित सभी जनपद पंचायतों के अध्यक्ष और वरिष्ठ जनप्रतिनिधि उषा तिवारी, रश्मि सिंह, उषा जायसवाल भी शामिल हुए।
जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक में सांसद श्रीमती महंत ने केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों की समीक्षा की और उनकी अद्यतन उपलब्धियों की जानकारी ली। उन्होंने सभी विभागीय अधिकारियों से इन योजनाओं के लिए पात्र सभी हितग्राहियों को लाभान्वित करने के निर्देश दिए। समीक्षा के दौरान श्रीमती महंत ने कुछ योजनाओं में तेजी से काम कर प्रगति लाने के निर्देश दिए। उन्होंने बैठक में कहा कि दिशा समिति की बैठक की प्रगति से ही जिले में केंद्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन और लाभान्वित लोगों के बारे में जानकारी मिलती है। यदि शासन की योजनाओं का लाभ जिलेवासियों को नहीं मिलेगा तो वे इस संबंध में सीधे प्रधानमंत्री से बात कर समस्याओं का निराकरण करेंगी।
पेंशन नहीं मिलने की शिकायतों को गंभीरता से निराकृत करने के निर्देश- बैठक में सांसद श्रीमती महंत ने ग्रामीण क्षेत्रों में सामाजिक सहायता पेंशनें नहीं मिलने की शिकायतों पर गंभीरता से कार्यवाही करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने बैंक अधिकारियों को भी खातों की जानकारी और शत प्रतिशत खातों को आधार नंबर से लिंक करने के निर्देश दिए। उपस्थित विधायकों एवं जनप्रतिनिधियों ने भी क्षेत्र के हितग्राहियों को नियमित पेंशन नहीं मिलने की जानकारी बैठक में दी। कलेक्टर किरण कौशल ने बैठक में बताया कि जिले में संचालित गांव चौपाल कार्यक्रम के तहत अधिकारी हर गांव में जाकर लोगों की समस्याओं और मांगों की जानकारी ले रहे हैं। पेेंशन नहीं मिलने या नये हितग्राहियों को पेंशन स्वीकृत करने के प्रकरण गांव चौपाल के दौरान तैयार किये जा रहे हैं। पेंशन संबंधी सभी समस्याओं का निराकरण जल्द ही कर लिया जायेगा। कलेक्टर ने आश्वासन दिया कि जनप्रतिनिधियों से पेंशन नहीं मिलने या पेंशन स्वीकृति में छूट जाने वाले पात्र हितग्राहियों की जानकारी मिलने पर परीक्षण कराकर प्रकरणों का त्वरित निराकरण कर दिया जायेगा। बैठक में समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जिले में कुल 29 हजार 271 हितग्राहियों को राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन, सात हजार 794 हितग्राहियों को विधवा पेंशन और दो हजार 138 हितग्राहियों को निःशक्तजन पेंशन मिल रही है।

09-02-2019
Farmer: किसान ने दी ईमानदारी की मिसाल, गुम हुए पैसे को सुपुर्द किया मालिका को 

कोमाखान। दरबेकेरा निवासी कृषक अमर सिंह पिता अग्नि जिला सहकारी बैंक कोमाखान से ₹49500 रुपए लेकर निकला था लेकिन वह पैसा उसके हाथ से गुम गया। इसकी सूचना उसने तत्काल बैंक के पास ड्यूटी कर रहे आरक्षक को दी। आरक्षक ने तत्काल वह सूचना अपने थाने को प्रेषित की और कोमाखान पुलिस उस गुम हुए धन की खोज में जुट गई। उधर जिस व्यक्ति ने उस धन को पाया था वह टेनगराही निवासी कृषक मेघराज ठाकुर था। गुम हुए पैसों के साथ बैग में जमीन के कागजात, आधार कार्ड की कॉपी और धान बेचने का प्रमाणपत्र था। इसे देखकर मेघराज ठाकुर ने उस पैसे के मालिक कृषक अमर सिंह को फोन किया कि आपका पैसा जो गुमा हुआ था वह मुझे मिला है। आप आकर अपना पैसा ले जाइए। अमर सिंह ने इसकी सूचना कोमाखान पुलिस को दी। पुलिस की पेट्रोलिंग टीम पैसों के असली मालिक कृषक अमर सिंह के साथ मेघराज ठाकुर के पास जा पहुंची और मेघराज ठाकुर ने अमर सिंह का पूरा पैसा और कागजात उसके सुपुर्द कर दिया। इस ईमानदारी से खुश होकर कृषक अमर सिंह ने मेघराज ठाकुर को पुरस्कृत किया तथा कोमाखान पुलिस के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की। साथ ही इस से प्रभावित होकर कोमाखान थाना प्रभारी दीपेश जायसवाल ने कृषक मेघराज ठाकुर को श्रीफल देकर थाने में सम्मानित किया। महासमुंद एसपी संतोष सिंह ने ईमानदार किसान मेघराज ठाकुर को पुलिस जिला मुख्यालय बुलवाया। वहां कृषक को सम्मानित किया जाएगा, जिससे समाज में ईमानदारी और सहयोग जैसे गुणों को प्रोत्साहन मिल सके।

29-01-2019
CM Bhupesh Baghel: मेहनतकश और ईमानदारी के नाम से जाना जाता है मरार पटेल समाज- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मंगलवार को जांजगीर-चांपा जिले के नगर पंचायत शिवरीनारायण पहुंचे और यहां श्रद्धा, भक्ति विश्वास तथा मां शबरी की पुण्यधरा शिवरीनारायण में मरार पटेल समाज की ओर से आयोजित शाकम्बरी महोत्सव में शामिल हुए। मुख्यमंत्री सर्व मरार पटेल समाज की आराध्य देवी मां शाकम्बरी की पूजा अर्चना की और छत्तीसगढ़ के सुख समृद्व की कामना की। शाकम्बरी महोत्सव को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि मरार पटेल समाज केवल साग-भाजी के उत्पादन के नाम से नहीं बल्कि मेहनतकश और ईमानदारी के नाम से जाना जाता है। वे अपनी मेहनत से कृषि उत्पादों का उत्पादन कर आत्मनिर्भर और स्वावलंबी बनने की ओर अग्रसर हैं। उन्होंने अधिक उत्पादन के लिए आधुनिक पद्धति से सब्जी की खेती करने की समझाईश दी। श्री बघेल ने कहा कि गांवों और किसानों के समृद्धि के लिए नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी के विकास को प्राथमिकता दी गई है।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि सामाजिक कार्यक्रम से सामाजिक संगठन मजबूत होते हैं भाईचारे की रिश्ता रहता है। इससे सामाजिक समरसता बरकरार रहता है। उन्होंने शादी ब्याह के माध्यम से फिजूल खर्च को रोकने के लिए सामूहिक विवाह करने तथा समाज में व्याप्त रूढिवादी परम्परा एवं कुरीतयों को दूर करने की भी समझईश दी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि संत कबीर, गुरू घासीदास, डॉ. खूबचंद बघेल, बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल, मिनीमाता जैसे विभूतियों ने छत्तीसगढ़ राज्य बनने का सपना देखा था। उनका सपना वर्ष 2000 में साकार हुआ है। उन्होंने कहा कि नई सरकार के गठन होने के पहले घंटे मे ही 16 लाख 65 हजार किसानों का लगभग 6 हजार 230 करोड़ रुपए का अल्पकालिक कृषि ऋण माफ कर दिया। इसी तरह धान की खरीदी 2500 रपया प्रति क्विटंल के हिसाब से खरीदी का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि 15 लाख किसानों का 207 करोड़ रुपए का सिंचाई कर माफ किया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि समृद्ध-सुघ्घर छत्तीसगढ़ के लिए सभी को मिल-जुलकर कार्य करना है।  
महोत्सव को महंत रामसुंदर दास ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि जांजगीर चांपा जिला कृषि प्रधान जिला है। माता शाकम्बरी की कृपा से जांजगीर जिला निरंतर प्रगति के पथपर अग्रसर होता रहेगा। राज्यसभा सांसद छाया वर्मा ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मरार पटेल समाज द्वारा शाकम्बरी महोत्सव का आयोजन गौरव की बात है। महोत्सव को मरार पटेल समाज के प्रांतीय अध्यक्ष और युवा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष रामकुमार पटेल ने भी सम्बोधित किया।  

Advertise, Call Now - +91 76111 07804