GLIBS
07-01-2021
मुख्यमंत्री से मिले राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा,बिलासपुर से हवाई सेवा शुरू करने के संबंध में हुई चर्चा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से गुरुवार को उनके निवास कार्यालय में राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने बिलासपुर से नई दिल्ली तक सीधी विमान सेवा शुरू करने से जुड़े विभिन्न विषयों पर मुख्यमंत्री के साथ विचार-विमर्श किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार बिलासपुर से हवाई सेवा शुरू करने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। इस दौरान फ्लाई बिग एयरलाईंस के सीएमडी संजय मंडाविया, हवाई सुविधा जनसंर्घष समिति के सुदीप श्रीवास्तव और संदीप दुबे भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री से चर्चा के दौरान फ्लाई बिग एयरलाईंस के सीएमडी मंडाविया ने बताया कि उनकी कंपनी बिलासपुर से नई दिल्ली मार्ग पर एटीआर 600 विमान सेवा संचालित करने के लिए इच्छुक है। उनकी कंपनी भविष्य में बिलासपुर से हैदराबाद, अहमदाबाद और जबलपुर के लिए भी हवाई सेवा प्रारंभ करना चाहती है। वर्तमान में उनकी कंपनी के पास दो विमान हैं। 13 जनवरी को रायपुर से इंदौर तक फ्लाई बिग एयरलाईंस की हवाई सेवा शुरू होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिलासपुर से हवाई सेवा शुरू करने के लिए राज्य सरकार के स्तर से हरसंभव प्रयास किए जाएंगे।

 

 

30-12-2020
बिलासपुर वासियों को बहुत जल्द मिलेगा हवाई सेवा का लाभ,राज्य शासन ने लिखा पत्र 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप अब जगदलपुर के बाद बहुत जल्द बिलासपुर हवाई अड्डे से भी नियमित वायु सेवा का संचालन शुरू हो जाएगा। राज्य सरकार के विमानन विभाग ने एयरपोर्ट के संचालन की सभी आवश्यक सुविधाएं जुटा ली हैं। राज्य सरकार की तरफ से सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद एयरपोर्ट कैटेगरी 3सी के लाइसेंस के लिए डायरेक्टर ऑपरेशन डीजीसीए को पत्र भी लिख दिया है।  प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आरपी सिंह ने बताया कि 3सी कैटेगरी के एयरपोर्ट पर एटीआर सीरीज और छोटे परिवहन जेट विमान आसानी से संचालित हो सकते हैं। पत्र में इस बात की गुजारिश की गई है कि कृपया जल्द से जल्द लाइसेंस प्रदान करने की कृपा करें।  इस एयरपोर्ट के प्रारंभ हो जाने से बिलासपुर संभाग की एक बहुप्रतीक्षित मांग पूरी हो जाएगी। उम्मीद है कि केंद्र सरकार का उड्डयन मंत्रालय जल्द अपनी स्वीकृति प्रदान करेगा। इससे बिलासपुर वासियों को नियमित हवाई सेवा की सुविधा मिलने लगेगी। एक बेहतर कनेक्टिविटी उपलब्ध हो जाएगी। कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने सभी बिलासपुर वासियों को कांग्रेस पार्टी और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की तरफ से अग्रिम शुभकामनाएं भी  प्रेषित की  हैं।

19-12-2020
हवाई सुविधा अखण्ड धरने का 205वां दिन,जिला उद्योग संघ धरने पर बैठा

रायपुर/बिलासपुर। हवाई सुविधा जनसंघर्ष समिति के अखण्ड धरना आंदोलन में आज जिला उद्योग संघ, छत्तीसगढ़ लघु उद्योग संघ और एसईसीएल सहायक उद्योग संघ के पदाधिकारी धरने पर बैठे। वही विधायक धर्मजीत सिंह ने धरने में आकर महानगरों तक हवाई सेवा के लिये विधानसभा के आगामी सत्र में पुन: ध्यानाकर्षण प्रस्ताव रखने की घोषणा की।गौरतलब है कि लम्बे जनआंदोलन के बावजूद बिलासपुर अंचल की मूल मांग महानगरों तक सीधी हवाई सेवा के लिए अब तक कोई सार्थक पहल नहीं हुई है। इसके लिये केन्द्र सरकार के द्वारा वीजीएफ सब्सिडी की बदली हुई नीति को जिम्मेदार माना जा रहा है। पहले यह सब्सिडी सभी उड़ानों के लिए थी पर अब इसे 600 किमी तक सीमित कर दिया गया है। बिलासपुर से सारे महानगर 600 किमी से अधिक दूर है। सभा में बोलते हुए विधायक धर्मजीत सिंह ने केन्द्र सरकार द्वारा वीजीएफ सब्सिडी की नीति में इस आतार्किक बदलाव के विरोध में एक प्रस्ताव विधानसभा के आगामी सत्र में रखने की घोषणा करते हुए कहा कि रनवे के विस्तार के लिए सेना के पास अनुपयोगी पड़ी 1000 एकड़ भूमि में से 150-200 एकड़ भूमि  की मांग भी की जायेगी। उद्योग संघ की ओर से बोलते हुए जितेन्द्र गांधी ने इस बात पर आक्रोश जताया है कि बिलासपुर के पक्ष में निर्णय करते समय ही अचनाक नियम क्यों बदल दिये जाते है। जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष बृजमोहन अग्रवाल ने संघर्ष समिति के द्वारा किये जा रहे प्रयासो की सराहना करते हुए कहा कि बिलासपुर का भविष्य और आने वाले समय में रोजगार और व्यवसाय पूरी तरह हवाई सुविधा की उपलब्धता पर निर्भर करता है।

इस लिये हम परिणाम आने तक संघर्ष करेंगे।सभा में बोलते हुये छत्तीसगढ़ लघु उद्योग संघ के अध्यक्ष हरीश केडिया ने बोलते हुये कहा कि किसी भी प्रदेश में हर क्षेत्र का समान विकास होना चाहिए तभी पूरा प्रदेश खुशहाल हो सकता है। राज्य निर्माण के समय रायपुर और बिलासपुर में जितना अन्तर था उसकी तुलना में आज बिलासपुर काफी पीछे रह गया है। संघर्ष समिति वस्तुत: उद्योग और व्यापार जगत के लोगों के हित का आंदोलन अपने हाथ में लेकर चला रही है, इसलिये हमारा फर्ज है कि हम लगातार इनका साथ दे। सभा को उद्योग संघ के अरविंद गर्ग, सुभाष अग्रवाल, शरद सक्सेना, राम सुखिजा, पुरषोत्तम अग्रवाल, सुशील द्विवेदी, मदनमोहन अग्रवाल, शशी कांत केशरी, और अजय जाजोदिया ने भी संबोधित किया। सभा का संचालन देवेंन्द्र सिंह ठाकुर और आभार प्रदर्शन महेश दुबे टाटा ने किया।आज की सभा में प्रियंका मीणा, रंजित सिंह खनूजा, अशोक भण्डारी, राकेश शर्मा, मनोज तिवारी, रामा बघेल, मनोज वास बद्री यादव, सुशांत शुक्ला, राघवेन्द्र सिंह, केशव गोरख, समीर अहमद, नरेश यादव, सालिकराम पाण्डेय, विभूतिभूषण गौतम, कमल सिंह ठाकुर, गणेश खाण्डेकर, शहबाज अली, अकिल अली, अभिशेक चैबे, ब्रम्हदेव सिंह ठाकुर, संतोष पीपलवा, बबलू जार्ज, भुवनेश्वर शर्मा, विजय राम, योगेश गुप्ता, शिमित सुल्तानिया, और सुदीप वास्तव शामिल थे।रविवार को 206वें दिन अखिल भारतीय रेल्वे एस.सी एस.टी एम्प्लाईज एसोसिएशन सुबह धरने पर बैठेगा। 20 दिसम्बर संध्या 5 बजे महामाया चौक सरकण्डा में संघर्ष समिति द्वारा नुक्कड़ सभा भी आयोजित की जा रही है।

 

16-12-2020
एयरलाइन्स को मिली अनुमति, नए साल से शुरू होंगी इंदौर-रायपुर के बीच एयर सर्विस

रायपुर। फ्लाई बिग एयरलाइन्स को इंदौर-रायपुर के बीच एयर सर्विस शुरू करने की अनुमति बुधवार को मिल गई है। 30 दिसंबर से फ्लाई बिग एयरलाइन्स आधिकारिक शुरुआत करेगी। शुरुआत में हफ्ते में तीन दिन इंदौर- रायपुर के बीच हवाई सेवा की सुविधा होगी। जनवरी 2021 में हफ्ते के सातों दिन इंदौर- रायपुर के बीच हवाई सेवा की सुविधा रोजाना होगी।

21-10-2020
हवाई सेवा शुरू करने की मांग को लेकर दायर जनहित याचिका पर हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

रायपुर/बिलासपुर। शहर में हवाई सेवा शुरू करने की मांग को लेकर दायर जनहित याचिका पर सभी पक्षों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा है। बता दें कि इससे पहले हाईकोर्ट ने असिस्टेंट सालिसिटर जनरल के गोलमोल जवाब पर नाराजगी जताई थी। साथ ही मामले में अब सैन्य अफसरों को तलब करने की चेतावनी भी दी है। बीते दिन इस मामले की सुनवाई के दौरान महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा ने बताया कि 5 अक्टूबर को राज्य सरकार ने आपरेशन एरो स्टैंडर्ड के डायरेक्टर को पत्र लिखकर बिलासपुर में टू सी केटगरी एयरपोर्ट को फोर-सी में परिवर्तित करने की अनुमति मांगी है। 12 अक्टूबर को दिल्ली के सिविल एविएशन ने राज्य शासन को पत्र लिखकर बताया कि फोर सी कैटगरी के लाइसेंस के लिए जरूरी दस्तावेज अनिवार्य है। इसके बाद 19 अक्टूबर को सभी पक्षों की बैठक हुई। इसमें फोर सी कैटगरी एयरपोर्ट बनाने को लेकर चर्चा की गई। इसके लिए बहुत सारे निर्माण कार्य व जमीन की जरूरत है।

महाधिवक्ता ने बताया कि वर्तमान में थ्री-सी केटगरी एयरपोर्ट के लिए काम चल रहे हैं। सेना को प्रबंधन के लिए दी गई 78.22 एकड़ जमीन को जिला प्रशासन ने वापस ले लिया है। याचिकाकर्ता कमल दुबे के वकील आशीष श्रीवास्तव ने कहा कि थ्री-सी कैटगरी एयरपोर्ट शुरू होने के बाद फोर-सी कैटगरी के लिए भी काम शुरू किया जा सकता है। बहस के दौरान हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार व रक्षा मंत्रालय की तरफ से उपस्थित असिस्टेंट सालिसिटर जनरल से पूछा कि आप की ओर से कोई जानकारी नहीं दी गई है। पिछले आदेश के संबंध में उन्होंने बताया कि राज्य शासन ने जो फाइल की है उसकी कापी नहीं मिली है। कॉपी एक दिन पहले ही दे दी गई है। इस पर कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की। साथ ही चेतावनी दी कि अगली पेशी में सैन्य अधिकारियों को तलब कर पूछताछ की जाएगी। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया है।

05-10-2020
यूनिडायवर्सनल मोड में होगा दरिमा एयरपोर्ट का परिचालन, मंत्री भगत ने किया एयरपोर्ट का निरीक्षण

रायपुर। अम्बिकापुर के दरिमा एयरपोर्ट में 72 सीटर हवाई सेवा का परिचालन यूनिडायवर्सनल मोड में किया जाएगा। इसमें जहाज की लैंडिंग और टेक-ऑफ अलग-अलग दिशाओं से होगा। दरिमा एयरपोर्ट में ग्राम कोटया की ओर से लैंडिंग तथा मोतीपुर की ओर से टेक-ऑफ होगा। एयरपोर्ट के उत्तर दिशा की ओर मड़वा पहाड़ होने के कारण लैंडिंग की समस्या आने से 72 सीटर जहाज के परिचालन यूनिडायवर्सनल मोड में किया जाएगाखाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री अमरजीत भगत ने 5 अक्टूबर को दरिमा एयरपोर्ट का निरीक्षण किया। उन्होंने अधिकारियों से 72 सीटर हवाई सेवा प्रारम्भ करने के लिए सभी जरूरी कार्य त्वरित गति से प्रारम्भ करने के निर्देश दिए। मंत्री भगत ने दरिमा एयरपोर्ट के टर्मिनल भवन में लोक निर्माण विभाग,राजस्व विभाग तथा एयरपोर्ट के नोडल अधिकारियों की बैठक लेकर विस्तार जानकारी प्राप्त की।

उन्होंने अधिकारियों से कहा कि 72 सीटर विमान सेवा प्रारम्भ करने के लिए जमीन अधिग्रहण की कार्यवाही शीघ्रता से करें। जमीन अधिग्रहण में जमीन मालिकों की सहमति अवश्य लें। उन्होंने कहा कि पुरातात्विक स्थल ठिनठिनी पत्थर को एयरपोर्ट के जद से बाहर रखें। यह जिले का एक पुरातात्विक धरोहर है। मंत्री भगत ने कहा कि ओएलएक्स रिपोर्ट के अनुसार 72 सीटर विमान परिचालन के लिए रन-वे की लम्बाई 2100 मीटर करने तथा करीब 300 यात्रियों के क्षमता अनुरूप नई टर्मिनल बिल्डिंग बनाने के कार्य के लिए लोक निर्माण के अधिकारी टेंडर की प्रक्रिया शीघ्र प्रारम्भ करने क निर्देश दिए। उन्होंने नया टर्मिनल बिल्डिंग के अनुसार विद्युत व्यवस्था करने विद्युत विभाग के मुख्य अभियंता को निर्देशित किया। मंत्री भगत ने कहा कि उड़ान योजना के तहत राज्य का उत्तरीय क्षेत्र को हवाई सेवा से जोड़ने के कार्य के तहत दरिमा एयरपोर्ट का विकास किया जा रहा है। जगदलपुर एयरपोर्ट से विमानों का परिचालन प्रारम्भ हो गया है। अम्बिकापुर से भी 72 सीटर विमान सेवा जल्द प्रारम्भ हो इसके लिए सभी की सामूहिक प्रयास जरूरी है।

कलेक्टर संजीव कुमार झा ने बताया कि वर्तमान में दरिमा एयरपोर्ट के रन-वे की लम्बाई 1516 मीटर है। 72 सीटर विमान परिचालन के लिए 2100 मीटर रन-वे की लम्बाई किया जाना है। अतिरिक्त 600 मीटर रन-वे निर्माण तथा अन्य तकनीकी आवश्यकताओं को देखते हुए करीब 24 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहण की आवश्यकता है। भूमि अधिग्रहण हेतु ग्राम मोतीपुर, परसापाली एवं भाटापारा 54 खातेदारों के जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा।उल्लेखनीय है कि सरगुजा जिले को उड़ान योजना में शामिल करते हुए हवाई सेवा प्रारम्भ करने राज्य शासन द्वारा दरिमा हवाई अड्डे को 3-सीं श्रेणी के तहत अपग्रेड करने की मंजूरी दी है। 3-सी ऑपरेशन के उन्नयन के लिए रन-वे टैक्सी-वे और एप्रन के लिए उच्च पेवमेंट क्लासीफिकेशन बनाया जाएगा। दरिमा एयरपोर्ट के लिए 46 करोड़ रूपए की स्वीकृति प्रदान की गई है। निरीक्षण के दौरान छत्तीसगढ़ खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरूप्रीत सिंह बाबरा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

28-09-2020
रायपुर व्हाया अंबिकापुर से बनारस हवाई सेवा शुरू करने प्रयास जारी,मंत्री भगत ने मुख्यमंत्री से किया आग्रह

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश की नेतृत्व में छत्तीसगढ़ के विभिन्न शहरों को हवाई सेवा से जोड़ा जा रहा है। हाल ही में राज्य के जगदलपुर - रायपुर से हैदराबाद के लिए हवाई सेवा शुरू की गई है। अब रायपुर,अंबिकापुर से बनारस हवाई सेवा प्रारंभ करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री बघेल को संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने पत्र लिखकर रायपुर,अंबिकापुर से बनारस हवाई सेवा शीघ्र प्रारंभ करने का आग्रह किया है। मंत्री भगत ने लिखा है कि, उत्तरी छत्तीसगढ़ के सरगुजा क्षेत्र में भौगोलिक दृष्टि से कई मामलों में अपार संभावनाएं होने के बावजूद हवाई सेवा का इंतजार है। अंबिकापुर का दरिमा हवाई अड्डा 1500 मीटर की हवाई पटटी समेत कई अर्हताएं पूरी करता है। उत्तरी क्षेत्र में चिकित्सा, शिक्षा और सांस्कृतिक एवं पर्यटन के क्षेत्र में तेजी से विकास के लिए हवाई सेवा जरूरी है।  मंत्री भगत ने जगदलपुर-रायपुर से हैदराबाद के लिए हवाई सेवा शुरू करने पर मुख्यमंत्री बघेल के प्रति आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि, राज्य के दक्षिण क्षेत्र में इस हवाई सेवा से लोंगों की सुविधाएं बढ़ी है। इससे चिकित्सा, शिक्षा और सांस्कृतिक एवं पर्यटान के क्षेत्र में  तेजी से विकास होगा।

मंत्री अमरजीत भगत ने केंद्रीय उड्डयन मंत्री को भी लिखा था पत्र :
अंबिकापुर के दरिमा एयरपोर्ट को अपग्रेड करवाने के लिए मंत्री अमरजीत भगत ने निरंतर प्रयास कर रहे हैं। इस संबंध में उन्होंने केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी को पत्र लिखा था। उन्होंने केंद्रीय मंत्री से सरगुजा जिले के अंबिकापुर(दरिमा) हवाई अड्डे का श्रेणी में सुधार करते हुए 3-सी कैटेगिरी में शामिल करने के लिए आवश्यक कार्यवाही का अनुरोध किया था। साथ ही उन्होंने पत्र में सेवा विस्तारण अंर्तराज्यीय सेवा के रूप में रायपुर-बनारस (अंबिकापुर होते हुए) उड़ान योजना में स्वीकृत प्रदान करने का अनुरोध किया था। मंत्री भगत ने पत्र में लिखा कि छत्तीसगढ़ राज्य का उत्तरी भाग को उड़ान योजना के तहत हवाई सेवा की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए महानिदेशक नागरिक उड्ययन के निर्धारित मापदंड अनुसार 3-सी श्रेणी की सुविधा और तकनीकी स्वीकृति दिया जाना आवश्यक है।

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने पत्र लिखकर दिया था जवाब :  
मंत्री अमरजीत भगत के पत्र के जवाब में केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने लिखा है कि, राज्य सरकार अंबिकापुर हवाई अड्डे का विकास कर रही है। इसके लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण आवश्यकतानुसार तकनीकी सहायता दे रहा है। छत्तीसगढ़ सरकार ने अंबिकापुर हवाई अड्डे को 3-सी श्रेणी के तहत अपग्रेड करने की योजना को मंजूरी दे दी है। साथ ही उन्होंने जवाब में यह भी लिखा है कि आपरेशन के उन्नयन के लिए रनवे, टैक्सीवे और एप्रन के लिए उच्च पेवमेंट क्लासीफिकेशन नंबर की आवश्यकता होती है। जो कि संचालित होने वाले विमानों के प्रकार पर निर्भर करता है।
 
केंद्रीय उड्डयन मंत्री ने दिए हैं आवश्यक दिशानिर्देश :
छत्तीसगढ़ सरकार से मंजूरी मिलने के बाद, स्थानीय पीडब्ल्यूडी अधिकारियों ने रनवे के विस्तार की योजना बनाई है। केंद्रीय उड्डयन मंत्री ने दरिमा एयरपोर्ट के उन्नयन के लिए आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। अंबिकापुर उत्तर छत्तीसगढ़ का एक बेहद महत्वपूर्ण शहर है। जगदलपुर एयरपोर्ट के बाद अंबिकापुर एयरपोर्ट के उन्नयन से छत्तीसगढ़ के विकास को नई दिशा मिलेगी। साथ ही सरगुजा जिले का मैनपाट प्रदेश का इकलौता हिल स्टेशन है, इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। साथ हवाई सेवा आरंभ होने का फायदा क्षेत्रवासियों का मिलेगा, रायपुर व बनारस के लिये उनकी यात्रा अवधि कम हो जाएगी।

 

09-09-2020
विमानतल का नामकरण मां दंतेश्वरी के नाम से होने के बाद 21 से शुरू होगी विमान सेवा

जगदलपुर। जिले के स्थानीय विमानतल का नाम बस्तर की आराध्य देवी माई दंतेश्वरी के नाम पर नामकरण करने के बाद हवाई सेवा शुरू करने की घोषणा अलायन्स एयर ने किया है। कंपनी के अनुसार 21 सितंबर को यहां से एटीआर विमान उड़ान भरेगा। 29 अगस्त को बस्तर के इससे पहले 5 अगस्त उड़ान की तिथि तय हुई थी, लेकिन कोरोना संक्रमण के मद्देनजर 29 जुलाई को तारीख आगे बढ़ाते हुए सेवा अनिश्चित काल के लिए रद्द करने की घोषणा की थी। अग्रवाल हॉलीडेज के संचालक शैलेश अग्रवाल ने बताया कि एवियेशन कंपनी से लगातार फोन आ रहे हैं, पर दो बार बुकिंग की गई टिकटे रद्द करना पड़ा इससे ना केवल ग्राहक का नुकसान हुआ बल्कि एजेंट का नाम भी खराब होता है।

उन्होंने कहा की जब तक एवियेशन कंपनी की उड़ानें निरंतर जारी नहीं रहेगी यहां से कोई बुकिंग नहीं की जायेगी। उल्लेखनिय है कि 14 जून 2017 को पीएम नरेंद्र मोदी ने क्षेत्रीय उड़ान सेवा के तहत बस्तर को राज्य की राजधानी रायपुर और पड़ोसी प्रांत आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से जोड़कर सौगात दी थी, लेकिन एयर ओडिशा के अनियमित विमान संचालन की वजह से कुल 54 दिनों की उड़ान के बाद इस सेवा पर ब्रेक लग गया था। विमान सेवा संचालित कर रही कंपनी के ब्लैक लिस्ट हो जाने के बाद स्थानीय एयरपोर्ट प्रबंधन ने नए सिरे से कवायद करते हुए टूसी की बजाए 03 सी के लिए लाइसेंस का आवेदन किया, जिसके बाद डीजीसीए की टीम का एक के बाद एक कई प्रवास यहां हुआ। तकनीकी अड़चनों को दूर करने में लंबा वक्त लगा। 21 सितंबर से शुरू हो रही एयर एलायंस का विमान क्रमांक 91885 सुबह 9 बजे हैदराबाद से उड़ान भरकर 10:25 बजे जगदलपुर पहुंचेगा, जगदलपुर से सुबह 10:55 बजे उड़ान भरकर दोपहर 12 बजे रायपुर पहुंचेगा, इसके बाद विमान संख्या 91886 वापसी के लिए दोपहर 12:30 बजे रायपुर से रवाना होकर 1:35 बजे जगदलपुर पहुंचेगा और जगदलपुर से अपरान्ह 2:5 बजे रवाना होकर हैदराबाद शाम 3:40 बजे पंहुचेगा।

26-08-2020
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का माना आभार

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने बिलासपुर से भोपाल हवाई सेवा शुरू किए जाने की घोषणा किये जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी के प्रति आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि इस सेवा के शुरू होने से बिलासपुर और भोपाल से सीधा जुड़ाव होगा, जिसका लाभ क्षेत्रवासियों को मिलेगा।

25-08-2020
शुरू होगी बिलासपुर-भोपाल कमर्शियल विमान सेवा,निर्णय का स्वागत कर भूपेश बघेल ने कहा...

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी को ट्वीट कर बिलासपुर से भोपाल कमर्शियल हवाई सेवाएं प्रारंभ करने के फैसले का स्वागत किया है। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा है कि, छत्तीसगढ़ को हवाई सेवा का असल फायदा तभी मिलेगा जब बिलासपुर को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और मुम्बई जैसे महानगरों से जोड़ा जाएगा। यात्रियों की अधिक संख्या होने से आर्थिक रूप से भी ऐसा करना ज्यादा लाभप्रद विकल्प होगा। उन्होंने आशा जताई है की केंद्र सरकार इस पर विचार करेगी।

18-07-2020
जगदलपुर से 5 अगस्त से हवाई सेवा शुरू, रायपुर और हैदराबाद के लिए उड़ाने

रायपुर। जगदलपुर से हवाई यात्रा 5 अगस्त से हवाई यात्रा शुरू होगी। राज्य सरकार की पहल पर  यह यात्रा शुरू हो रही है। एयर एलायंस जगदलपुर से रायपुर और हैदराबाद के लिए हवाई सेवा शुरू करने की तैयारी कर रही है। जगदलपुर के एयरपोर्ट की आपत्तियों का निराकरण एयरपोर्ट प्रबंधन व जिला प्रशासन ने डीजीसीए के द्वारा करवा लिया है। जगदलपुर कलेक्टर रजत बंसल ने बताया कि जिला प्रशासन जगदलपुर एयरपोर्ट से उड़ान सेवा शुरू करने के लिए लगातार प्रयास कर रहा था। मार्च में ट्रायल लैंडिंग एयर इंडिया के हवाई बेड़े ने की थी। उन्होंने बताया कि 5 अगस्त से यह हवाई सेवा शुरू हो रही है। एयर एलायंस की फ्लाइट सुबह 9.50 बजे हैदराबाद से उड़कर दोपहर 1 बजे रायपुर पहुंचेगी। रायपुर से 1.40 बजे जगदलपुर के लिए उड़ान भरेगी और 2.45 बजे वहां पहुंचेगी। जगदलपुर से 3.25 बजे हैदराबाद के लिए उड़ान भरेगी और 4.50 बजे हैदराबाद पहुंचेगी।

11-05-2020
प्रधानमंत्री को भूपेश ने कहा-राज्य को आर्थिक गतिविधियां संचालन के निर्णय, जोन निर्धारण करने का अधिकार मिले

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान कहा कि राज्य के अंदर आर्थिक गतिविधियों के संचालन के निर्णय का अधिकार राज्य सरकार को मिलना चाहिए। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि कोरोना संक्रमण को लेकर रेड, ग्रीन और आरेंज जोन के निर्धारण का दायित्व राज्य सरकारों को दिया जाना चाहिए। रेल सेवा शुरू होने से वर्तमान स्थिति में बदलाव आएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि रेगुलर ट्रेन और हवाई सेवा, अंतर राज्यीय बस परिवहन की शुरुआत राज्य सरकारों से विचार विमर्श कर किया जाना चाहिए। उन्होंने श्रमिकों के परिवहन के लिए राज्य आपदा मोचन निधि (एसडीआरएफ) से राशि व्यय किये जाने की अनुमति देने का भी सुझाव दिया। वीडियों कांफ्रेंसिंग में अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के चलते राज्य में आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई हैं। मुख्यमंत्री ने राज्य का वित्तीय घाटा भी इस वर्ष अपवाद के रूप में जीएसडीपी का 5 प्रतिशत के बराबर रखे जाने और उधार की सीमा जीएसडीपी के 6 प्रतिशत तक शिथिल करने का आग्रह किया। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य को 30 हजार करोड़ रुपए की सहायता दिए जाने का भी आग्रह किया। एफसीआई ने राज्य से 24 लाख मैट्रिक टन चावल लिया है, इसे बढ़ाकर 31.11 लाख मैट्रिक टन किए जाने की अनुमति देने का भी आग्रह प्रधानमंत्री से किया। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य कर्मियों की तरह पुलिस, नगर निगम, जिला प्रशासन एवं अन्य विभागों के अधिकारियों कर्मचारियों को भी पीएम गरीब कल्याण पैकेज में शामिल करने का आग्रह किया। मनरेगा के तहत 100 दिन के रोजगार दिए जाने का प्रावधान 200 दिन करने का आग्रह किया। कोरोना संक्रमण की टेस्टिंग के लिए आईसीएमआर की गाइडलाइन के अतिरिक्त और भी टेस्टिंग की गाइडलाइन जारी करने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ राज्य के कोल ब्लॉकों से कोयला मंत्रालय भारत सरकार की ओर से जमा कराई गई 4 हजार 140 करोड़ रुपए की अतिरिक्त लेवी की राशि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुसार राज्य सरकार को अंतरित करने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा महामारी की रोकथाम के लिए केंद्र और राज्य सरकार को मिलकर काम करना होगा, तभी इसमें सफलता मिलेगी। उन्होंने छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस महामारी से लड़ने में सहयोग के लिए भारत सरकार तथा अन्य राज्य के मुख्यमंत्रियों का भी धन्यवाद ज्ञापित किया। मुख्यमंत्री बघेल ने छत्तीसगढ़ के मजदूर जो लॉकडाउन दौरान अन्य राज्यों में फंसे थे, उस अवधि में उनकी मदद के लिए सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों का भी आभार जताया।
मुख्यमंत्री ने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य में वर्तमान में कोरोना के 6 मरीज हैं। राज्य में कुल 59 मरीज थे, जिसमें से 53 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। छत्तीसगढ़ राज्य में रिकवरी रेट 90 प्रतिशत से अधिक है। उन्होंने कहा कि राज्य के औद्योगिक क्षेत्रों में कामकाज शुरू हो चुका है। इसकी बदौलत इनके 91 हजार 997 श्रमिकों को रोजगार मिल रहा है। श्रमिकों, छात्रों, बीमार व्यक्तियों को अन्य राज्यों से छत्तीसगढ़ लाने का पूरा खर्च राज्य सरकार वहन कर रही है। छत्तीसगढ़ राज्य के लगभग 1 लाख 24 हजार मजदूर अन्य राज्यों में है, जब कि छत्तीसगढ़ में अन्य राज्यों के मजदूरों की संख्या लगभग 35 हजार है। इस दौरान स्वास्थ्य और पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, मुख्य सचिव आरपी मंडल, पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, सचिव स्वास्थ्य निहारिका बारिक सिंह, उप सचिव मुख्यमंत्री सचिवालय सौम्या चौरसिया सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804