GLIBS
27-01-2021
धान खरीदी के तीन दिन और शेष, अब तक सवा बीस लाख किसानों ने बेचा 89.63 लाख मीट्रिक टन धान

रायपुर। छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के तीन दिन और शेष है। राज्य में समर्थन मूल्य पर 27 जनवरी तक 89 लाख 63 हजार 240 मीट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है। अब तक राज्य के 20 लाख 25 हजार किसान अपना धान बेच चुके है। प्रदेश में कस्टम मिलिंग के लिए 31 लाख 12 हजार 636 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया जा चुका है। मिलर्स ने अब तक 28 लाख 66 हजार 160 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया है।

 राज्य के बस्तर जिले में 1लाख 33 हजार 402 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 58 हजार 473 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 14 हजार 741 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 2 लाख 85 हजार 706 मीट्रिक टन, कोंडागांव जिले में 1 लाख 36 हजार 340 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 18 हजार 415 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 36 हजार 496 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 4 लाख 46 हजार 690 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 70 हजार 562 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 7 लाख 93 हजार 483 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में एक लाख 27 हजार मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 3 लाख 57 हजार 607 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

इसी तरह रायगढ़ जिले में 5 लाख 25 हजार 917 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 5 लाख 16 हजार 372 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 5 लाख 85 हजार 201 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 4 लाख 255 हजार  मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 3 लाख 92 हजार 649 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 7 लाख 45 हजार 726 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 6 लाख 55 हजार 150 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 4 लाख 23 हजार 756 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 3 लाख 14 हजार  मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 7 लाख 14 हजार 649 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 4 लाख 95 हजार 558 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में एक लाख 46 हजार 807 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में एक लाख 10 हजार 404 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में एक लाख 12 हजार 472 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में एक लाख 59 हजार 141 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में एक लाख 46 हजार 199 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

27-01-2021
Breaking : अब बिलासपुर में भी उतर सकेंगे 72 सीटर विमान, 3 सी कैटेगरी का लाइसेंस जारी 

रायपुर। छत्तीसगढ़ की न्यायधानी बिलासपुर के बिलासा बाई केवटिन एयरपोर्ट में अब 72 सीटर विमान उतर सकेंगे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर बिलासपुर के एयरपोर्ट का उन्नयन 3सी कैटेगरी में हो गया है। भारत सरकार के नागर विमानन विभाग के महानिदेशक कार्यालय ने बिलासपुर एयरपोर्ट के 2 सी लाइसेंस को अपग्रेड कर 3 सी कैटेगरी का लाइसेंस जारी कर दिया है।  बिलासपुर के चकरभाठा स्थित एयरपोर्ट को 3-सी कैटेगरी के लाइसेंस मिलने से पर अब यहां 72 सीटर एयरक्राप्ट उतर सकेंगे। इसके पूर्व 2 सी कैटेगरी का लायसेंस होने की वजह से 40 सीटर एयरक्राप्ट ही यहां उतर सकते थे। 72 सीटर एयरक्राप्ट के संचालन से बिलासपुर सहित पूरे उत्तर छत्तीसगढ़ की जनता को बड़ी सुविधा मिलेगी और पूरे देश से उनकी एयर कनेक्टिविटी मजबूत होगी।

26-01-2021
छत्तीसगढ़ में लाख की खेती को मिला कृषि का दर्जा, कृषकों को मिलेगा अल्पकालीन ऋण

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप राज्य शासन की ओर से लाख उत्पादक कृषकों के हित में अहम निर्णय लिया गया है।अब छत्तीसगढ़ में लाख की खेती को कृषि का दर्जा मिल गया है। राज्य शासन के इस महत्वपूर्ण निर्णय के तहत कुसुम, पलाश, बेर आदि वृक्षों और सेमियालता आदि फसलों पर लाख उत्पादन व प्राथमिक प्रसंस्करण के लिए कृषकों या कृषक समूहों को कृषि फसलों के अनुरूप अल्पकालीन कृषि ऋण निर्धारित ऋणमान पर प्रदान किया जाएगा। इसमें लाख उत्पादक और प्राथमिक प्रसंस्करण के लिए कृषक या कृषक समूहों को कृषि फसलों के अनुरूप अल्पकालीन कृषि ऋण पर नियमानुसार ब्याज अनुदान देय होगा। इस आशय का आदेश विगत दिवस 18 जनवरी को मंत्रालय महानदी भवन कृषि विकास एवं किसान कल्याण तथा जैव प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से जारी कर दिया गया है। गौरतलब है कि राज्य सरकार की ओर से कृषकों के हित में लिए गए इस महत्वपूर्ण निर्णय से छत्तीसगढ़ में लगभग 50 हजार किसान सीधे तौर पर लाभान्वित होंगे। वर्तमान में राज्य में 4500 टन लाख का उत्पादन होता है। राज्य में बड़े पैमाने पर आदिवासी और वनवासी कृषक इसकी खेती में लगे हुए हैं। यहां लाख की खेती की अच्छी संभावनाएं भी है। राज्य सरकार के इस निर्णय के तहत किसानों को अल्पकालीन कृषि ऋण जैसी सुविधा के मिलने से लाख की खेती और इसके उत्पादन को और बढ़ावा मिलेगा। इससे राज्य में लाख का उत्पादन बढ़कर 10 हजार टन तक हो जाएगा।

25-01-2021
वेब सीरीज़ तांडव की बढ़ती मुश्किलें, अब छत्तीसगढ़ शिवसेना ने कराई एफआईआर

रायपुर। ओटीटी प्लेटफार्म पर अब तक बहुत सी वेबसीरीज़ आ चुकी है, लेकिन 'तांडव' पहली ऐसी वेब सीरीज़ है, जिसे लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। हिंदूवादी संगठन लगातार इस सीरीज़ पर कार्यवाही की मांग कर रहे हैं। इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ शिवसेना ने भी वेबसीरीज तांडव के खिलाफ सिविल लाइन थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। छत्तीसगढ़ शिवसेना का कहना है की इस सीरीज़ में भगवन शिव का अपमान किया गया है और उन्हें गलत तरीके से दर्शाया गया है। शिवसैनिकों ने कहा कि हिन्दूओं की धार्मिक भावनाओं को आहत पहुंचाने के तहत तांडव सीरीज़ के कास्ट पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाये।

 

25-01-2021
राष्ट्रीय पर्यटन दिवस आज, मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 25 जनवरी को राष्ट्रीय पर्यटन दिवस पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि पर्यटन देश-प्रदेश की आर्थिक उन्नति और रोजगार के अवसर प्रदान करता है। छत्तीसगढ़ में पर्यटन की व्यापक संभावनाएं हैं। यहां महासमुंद जिले में स्थित पुरातात्विक धरोहर सिरपुर, सरगुजा की रामगढ़ में प्राचीनतम नाटयशाला सीताबेंगरा गुफा, बस्तर में चित्रकोट और तीरथगढ़ के जलप्रपात, कुटुमसर की गुफाएं जैसे अनेक स्थल पर्यटन की दृष्टि से विशेष महत्व के हैं। इसे ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार की ओर से प्राकृतिक खूबसूरती, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और पुरातात्विक महत्व के खजाने से परिपूर्ण छत्तीसगढ़ को पर्यटन के केन्द्र के रूप में विकसित किया जा रहा है।

यहां के प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण अनेक स्थलों को रमणीय बनाया जा रहा है। छत्तीसगढ़ के गौरवशाली अतीत और समृद्ध विरासत को संजोने और संवारने का काम जारी है। छत्तीसगढ़ में स्थित राम वन गमन पथ को विकसित करने का निर्णय लिया गया है। प्रथम चरण में राम वन गमन पथ में आने वाले स्थलों में से आठ स्थलों-सीतामढ़ी-हरचौका, रामगढ़, शिवरीनारायण, तुरतुरिया, चन्दखुरी, राजिम, सिहावा और जगदलपुर को पर्यटन परिपथ के रूप में विकसित करने का काम शुरू हो गया है। जशपुर जिले के बालाछापर गांव में ट्रायबल टूरिज्म एथनिक रिसॉर्ट का निर्माण कर पुरातत्व, कला-संस्कृति और आदिवासी जीवन शैली की अद्भूत छटा को चार एकड़ रकबे में समेट कर पर्यटन के लिए विकसित किया गया है।

24-01-2021
छत्तीसगढ़ की सरकार किसानों का महत्व जानती है, इसलिए उनके स्वाभिमान और सम्मान का हमेशा ख्याल रखती है : डॉ. डहरिया

रायपुर। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने आरंग विधानसभा क्षेत्र के ग्राम रसनी में साहू समाज के कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने समाज के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि साहू समाज जागरूक समाज है। खेती-किसानी और छत्तीसगढ़ के विकास में साहू समाज का महत्वपूर्ण योगदान है। साहू समाज मेहनत करने वाला और विकास की राह में आगे बढ़ने वाला समाज है। छत्तीसगढ़ की सरकार भी संत माता कर्मा, दानवीर भामाशाह के बताए हुए मार्गों में चल रही है। सभी समाजों को साथ लेकर सामाजिक समरसता का माहौल कायम कर रही है। उन्होंने कहा कि किसान अन्न उपजाते हैं। सबकी भूख मिटाते हैं। उनकी नजर में किसान किसी भगवान से कम नहीं है। किसानों का हमेशा सम्मान करना चाहिए। छत्तीसगढ़ की सरकार किसानों का महत्व जानती है।

इसलिए उनके स्वाभिमान और सम्मान का हमेशा ख्याल रखती है। मंत्री डॉ. डहरिया ने कहा कि राज्य में सबसे अधिक कीमत में धान की खरीदी की जा रही है। कोविड के समय किसानों को राजीव गांधी न्याय योजना के माध्यम से धान का अंतर राशि दी गई, जिससे छत्तीसगढ़ में मंदी का कोई असर नहीं दिखाई दिया। उन्होंने बताया कि 36 में से 24 वादे सरकार ने पूरे कर दिए हैं। आने वाले दिनों में शेष वादों को भी पूरा कर दिया जाएगा। मंत्री डॉ डहरिया ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में रामवनगमन पथ को विकसित किया जा रहा है। स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार देने की पहल की जा रही है। शिक्षाकर्मियों का संविलयन करने के साथ नई भर्तियां की जा रही है। पुलिस और कालेज में प्राध्यापकों भर्ती की जा रही है।

23-01-2021
Breaking: छत्तीसगढ़ में 8 मरीजों की मौत,377 नए कोरोना मरीज मिले 

रायपुर। छत्तीसगढ़ में शनिवार को 377 नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। 526 मरीज स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किए गए हैं। आज 6 मरीजों की मौत हुई है। पूर्व में हुई 2 और मौत की जानकारी मिली है। प्रदेश में अब तक 3609 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। प्रदेश में अब एक्टिव केस 5040 हैं। आज सबसे अधिक रायपुर जिले से 83, दुर्ग से 51,रायगढ़ से 35,महासमुंद से 30, बिलासपुर से 24,राजनांदगांव से 20, धमतरी से 18, सरगुजा से 17, जशपुर से 12, बालोद से 11 मरीज मिले हैं। कबीरधाम,नारायणपुर व बीजापुर से एक भी मरीज की पहचान नहीं हुई है। शेष जिलों में संख्या 10 से कम है। मेडिकल बुलेटिन देखने क्लिक करें

 

23-01-2021
श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने कसडोल क्षेत्र के विकास के लिए 6.13 करोड़ की सौगात दी

रायपुर। श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने कसडोल नगर पंचायत को पाच विकास कार्यों के लिए 6 करोड़ 13 लाख रुपए की सौगात दी। उन्होंने यहां 4 करोड़ 90 लाख रुपए के जल आवर्धन योजना एवं साढ़े 25 लाख रुपए के पौनी पसारी योजना के अंतर्गत बाजार निर्माण का भूमिपूजन व वार्ड क्रमांक एक में 51 लाख रुपए की लागत से बने गुरु घासीदास सामुदायिक भवन, वार्ड 14 में 20 लाख से बने सामुदायिक भवन एवं दौलतराम शर्मा शासकीय कॉलेज में 27 लाख से निर्मित अहाता का लोकार्पण किया। डॉ. डहरिया ने विधायक एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों के अनुरोध पर कसडोल में शिक्षक सदन के लिए 20 लाख, सिन्हा समाज के सामुदायिक भवन के लिए 10 लाख और घासीदास सामुदायिक भवन के लिए 10 लाख रुपए की स्वीकृति की घोषणा की है। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत मंत्री डॉ. डहरिया ने दर्जन भर हितग्राहियों को सहायता राशि के चेक एवं ऋण भी वितरित किया। गुरु घासीदास शासकीय स्कूल प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में मंत्री डॉ. डहरिया ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य का बेहतर ढंग से विकास हो रहा है।

राज्य की सरकार किसानों और मजदूरों के हित में लगातार कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि नगरीय स्वच्छता के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ को पिछले दो साल से लगातार पुरस्कार एवं सम्मान मिला है। सरकार गठन के समय किए गए 36 वादो में से 24 वादे पूर्ण कर लिए हैं। शेष वादों को भी पूर्ण करने की कार्यवाही जारी है। डॉ. डहरिया ने कहा कि किसानों का विकास हमारी सरकार के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता में हैं। हमारा स्पष्ट मानना है कि किसानों की समृद्धि में ही राज्य और देश का विकास समाहित है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की सरकार अपने किए गए वादे के अनुरूप 2500 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से धान खरीद रही है। समर्थन मूल्य से अंतर की राशि को राजीव किसान न्याय योजना के अंतर्गत सम्मान राशि के रूप में दे रहे हैं। तीन बरस पहले जहां केवल 15 लाख किसान सोसायटी में धान बेचने आते थे, वहीं आज साढ़े 21 लाख किसानों से धान खरीद रहे हैं।

 

22-01-2021
Breaking : प्रदेश में मौत का आंकड़ा 36 सौ के पार,440 नए कोरोना मरीज मिले,7 मौतें 

रायपुर। छत्तीसगढ़ में शुक्रवार को 440 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। 697 मरीजों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किया गया है। आज 5 मरीजों की मौत हुई है। साथ ही पूर्व में हुई 2 और मौत की जानकारी मिली है। प्रदेश में अब तक 3601 मरीजों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से लगातार लक्षण दिखते ही जांच कराने की अपील की जा रही है। डेथ आॅडिट समिति की रिपोर्ट में यह जानकारी मिली है कि जांच कराने में देरी होने से डॉक्टरों के पूरे प्रयास के बाद भी मरीजों को मौत हो रही है। मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक प्रदेश में अब 5308 एक्टिव केस हैं। आज सबसे अधिक मरीज रायपुर जिले में 80 मिले हैं। इसके बाद दुर्ग से 59, बलौदाबाजार से 35, रायगढ़ से 30 मरीजों की पहचान हुई है। दंतेवाड़ा और सुकमा जिले से एक भी मरीज नहीं मिले हैं। मेडिकल बुलेटिन देखने क्लिक करें-

Advertise, Call Now - +91 76111 07804