GLIBS
14-10-2019
कांग्रेस को राष्ट्रवाद के लिए ट्रेनिंग की आवश्यकता पड़ रही, यह शर्मनाक है : भाजपा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा नागपुर में राष्ट्रवाद पर भाजपा से प्रश्न करने पर प्रतिक्रिया में भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा कि कांग्रेस पार्टी देश के विभाजन की दोषी रही है, वह किस मुंह से राष्ट्रवाद की बात करेगी? जिस कांग्रेस पार्टी को अपने नेताओं को राष्ट्रवाद समझाने के लिए ट्रेनिंग आयोजित करने की जरूरत पड़ रही है, वह राष्ट्रवाद पर बात न  ही करे तो ज्यादा अच्छा होगा। श्रीवास्तव ने कहा कि भूपेश बघेल को अनुच्छेद 370 और 35ए हटाने का अफसोस रहा है तो वे चुनाव प्रचार के दौरान घोषणा करें कि कांग्रेस पार्टी अगर कभी सत्ता में आयेगी तो 370, 35ए वापस बहाल कर देगी। श्रीवास्तव ने कहा कि इतने कहने मात्र से ही कांग्रेस को जनता राष्ट्रवाद का मतलब बता देगी। फिर उसे ट्रेनिंग की जरूरत नहीं पड़ेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा व आरएसएस के राष्ट्रवाद को जनता का पूरा समर्थन मिलता है कांग्रेस पार्टी को सर्टिफिकेट दिखाने की आवश्यकता नहीं है। कांग्रेस पार्टी छत्तीसगढ़ में इतनी जल्दी अलोकप्रिय हो गई तभी तो कांग्रेस नगर निगम चुनाव में तिकड़म करने की सोच रही है। यह निर्णय भूपेश सरकार की असफलता का परिचायक होगा।

 

14-10-2019
हार्दिक पटेल ने की मार्केट में लॉन्च आयुर्वेदिक प्रोडक्ट की सराहना

रायपुर। राजधानी रायपुर में आयोजित रास गरबा 2019 में शामिल होने आए पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति के युवा नेता हार्दिक पटेल ने पल्लव हेयर हर्बल केयर द्वारा आयुर्वेदिक प्रोडक्ट मार्केट में लॉन्च करने की सराहना की। उन्होंने कहा कि इतना बड़ा कदम पूरे देश के लिए, नौजवानों के लिए, धूम्रपान करने वालों के लिए जो उठाया जा रहा है, उसकी जितनी सराहना की जाए कम है। हार्दिक ने कहा कि अब रायपुर की बहन पल्लवी पटेल जल्द ही हमारे साथ छत्तीसगढ़ में बड़ी राजनीतिक पार्टी से जुड़कर एक मंच तैयार करेंगी जिससे छत्तीसगढ़ के नागरिकों की सेवा की जाए। पल्लव हर्बल केयर की डायरेक्टर पल्लवी मनु देव ने बताया कि मार्केट में वे करीब 120 से ज्यादा हर्बल प्रोडक्ट लॉन्च कर रही हैं। आयुर्वेदिक स्मोक उन लोगों के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा जो सिगरेट के नशे को छोड़ नहीं पा रहे हैं। पल्लवी ने कहा कि उन्होंने नो टोबैको अभियान छेड़ा है व निरंतर इसे पूरे देश के कोने-कोने तक पहुंचाती रहेंगी।

 

14-10-2019
भूपेश बघेल ने किया 'राष्ट्रीय व्यापार एवं कृषि खाद्य मेले' का  ब्रोशर लांच

रायपुर। छत्तीसगढ़ कांग्रेस व्यापार प्रकोष्ठ, छत्तीसगढ़ कांग्रेस  किसान प्रकोष्ठ तथा पॉजीटिव इंडिया के संयुक्त तत्वावधान में  8 नवंबर से लेकर 12 नवंबर तक पांच दिवसीय 'राष्ट्रीय व्यापार एवं कृषि खाद्य मेले' का आयोजन बीटीआई ग्राउंड रायपुर में किया जा रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस मेले का उद्घाटन करेंगे। इससे सीएम बघेल ने आज सोमवार को 'राष्ट्रीय व्यापार एवं कृषि खाद्य मेले' का  ब्रोशर विधिवत लांच किया। कांग्रेस व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र जग्गी, कांग्रेस किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर शुक्ला, व्यापार प्रकोष्ठ प्रदेश महामंत्री प्रमोद जैन, प्रदेश उपाध्यक्ष सुमित गुप्ता, पॉजीटिव इंडिया के पुरुषोत्तम मिश्रा ने मुख्यमंत्री आवास में मुख्यमंत्री से मिलकर उनकी सहमति ली तथा ब्रोशर का विमोचन करवाया। इस राष्ट्रीय व्यापार मेले में राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त विषय विशेषज्ञ, प्लांट एवं मशीनरी प्रदायकर्ता, एग्रो एवं खाद्य, ऑटोमोबाइल, बिल्डर,  कंज्यूमर प्रोडक्ट, सबमर्सिबल पंप, सौर ऊर्जा पंप, एग्रीकल्चर पाइप  प्रोडक्ट, क्राफ्ट आइटम , फूड प्रोसेसिंग कंपनियां, मिल एवं मशीनरी, होटल एवं रेस्टोरेंट, बैंक एवं इंश्योरेंस, डेरी कंपनी, पैकेजिंग मैटेरियल्स, पेस्टिसाइड्स,  फर्टिलाइजर्स,बायोफर्टिलाइजर्स, हैंडीक्राफ्ट्स, होम अप्लायंसेज, सिंचाई उपकरण एवं एग्रो प्रोसेसिंग कंपनियां  भाग ले रही हैं। 

14-10-2019
राष्ट्रीय विज्ञान, गणित व पर्यावरण प्रदर्शनी 15 अक्टूबर से,  राज्यपाल करेंगी उद्घाटन

रायपुर। राजधानी रायपुर के शंकर नगर स्थित बीटीआई मैदान में बच्चों के लिए 46वीं जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी का आयोजन 15 से 20 अक्टूबर तक किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके 15 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे प्रदर्शनी का उद्घाटन करेंगी। प्रदेश के मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे और स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, महापौर रायपुर  प्रमोद दुबे विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे। राष्ट्रीय प्रदर्शनी 15 अक्टूबर को उद्घाटन के पश्चात् 19 अक्टूबर तक प्रात: 11 से संध्या 5 बजे तक अवलोकन के लिए खुली रहेगी। राष्ट्रीय प्रदर्शनी का आयोजन स्कूल शिक्षा विभाग, राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद छत्तीसगढ़ और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद नई दिल्ली के सहयोग से किया जा रहा है। सांस्कृतिक कार्यक्रम 15  से 19 अक्टूबर तक प्रतिदिन संध्या 5.30 से 7 बजे तक होंगे। प्रतिदिन दो वैज्ञानिकों के व्याख्यान 16 से 18 अक्टूबर तक प्रात: 9 बजे से 10.30 बजे तक होंगे। प्रतिभागियों को शैक्षणिक भ्रमण 20 अक्टूबर को कराया जाएगा। राष्ट्रीय स्तरीय प्रदर्शनी की तैयारी के संबंध में आज सुबह स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव  गौरव द्विवेदी ने व्यवस्थाओं का अवलोकन कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस अवसर पर संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद, संचालक, लोक शिक्षण संचालनालय तथा राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

  स्कूली बच्चों द्वारा निर्मित प्रादर्श एवं मॉडलों का मुख्य विषय 'जीवन की चुनौतियों के लिए वैज्ञानिक समाधान' है। राष्ट्रीय प्रदर्शनी में देश भर से 400 प्रतिभागी विद्यार्थी और 200 मार्गदर्शक शिक्षक शामिल होंगे। प्रदर्शनी में 147 प्रादर्शो का प्रदर्शन किया जायेगा जिसमें छत्तीसगढ़ राज्य के 22 प्रादर्श भी शामिल है। अब तक 18 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से 151 प्रतिभागी विद्यार्थी और 26 मार्गदर्शक शिक्षक पहुंच चुके है। इसके अतिरिक्त विभिन्न संगठनों में केन्द्रीय विद्यालय, सीबीएसई, एनसीईआरटी के दल भी आ चुके । स्टेट पवेलियन में राज्य में प्रमुख योजनाओं पर आधारित नरवा, गरवा, घुरवा और बारी, मल्टी मीडिया पाठ्यपुस्तकें, एससीईआरटी के प्रकाशन और दीक्षा की भी प्रदर्शनी लगायी जायेगी।  स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनी स्थल पर 2 विशाल डोम तैयार किये गये हैं। एक डोम उद्घाटन, सांस्कृतिक समारोह और व्याख्यान के लिये तैयार किया गया है। दूसरे डोम में देश भर से आये स्कूली बच्चों के प्रादर्शो का प्रदर्शन होगा। प्रदर्शनी के सफल आयोजन के लिए परिषद स्तर पर विभिन्न समितियों-भोजन, आवास, परिवहन, पार्किंग, पेयजल, स्वच्छता, अनुशासन, कार्यालय व्यवस्था, स्वागत् कक्ष, समन्वयक, मंच व्यवस्था, अवलोकन आदि गठित की गई है। आवास और कार्यक्रम स्थल पर चिकित्सक दल तैनात किये गए है। प्रतिभागी बच्चों और मार्गदर्शक शिक्षकों की आवास और भोजन व्यवस्था सेरीखेड़ी में की गई है। एनसीईआरटी और विभिन्न राज्यों के एससीईआरटी के विशेषज्ञों की व्यवस्था एससीईआरटी के अतिथि गृह में की गई है। 

14-10-2019
सीएम ने प्रदेश के अधूरे राष्ट्रीय राजमार्गो को शीघ्र पूर्ण कराने केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री को लिखा पत्र

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ में निर्माणाधीन और स्वीकृत विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्गों को शीघ्र पूरा कराने का अनुरोध किया है। मुख्यमंत्री बघेल ने रायपुर शहर के टाटीबंध चौक में फ्लाई ओवर, रायपुर से धमतरी मार्ग का चौड़ीकरण, बिलासपुर-अम्बिकापुर, चांपा-कोरबा-कटघोरा मार्ग और पत्थलगांव के कुनकुरी मार्ग के चौड़ीकरण का कार्य शीघ्र पूर्ण कराने का उल्लेख अपने पत्र में किया है। सीएम बघेल ने कहा है कि राज्य के इन मार्गो के अपूर्ण होने से जनता को आवागमन में भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।
मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री को प्रेषित पत्र में उल्लेख किया है कि राष्ट्रीय राजमार्ग 53 में रायपुर शहर के टाटीबंध चौक स्थित है, जो रायपुर-दुर्ग, रायपुर-सिमगा, टाटीबंध-आमानाका एवं टाटीबंध-भनपुरी पांच मार्गों का जंक्शन है। आपके द्वारा 10 सितम्बर 2018 को छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान 100 करोड़ रूपए की लागत से फ्लाई ओवर निर्माण करने घोषणा के एक वर्ष बाद भी निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं हो सका है। मुख्यमंत्री ने कहा कि टाटीबंध चौक शहर का व्यस्तम चौक होने एवं जंक्शन का निर्माण मानकों के अनुसार नहीं होने के कारण लगातार दुर्घटनाएं हो रही है। यहां सुगम यातायात फ्लाई ओवर के निर्माण के लिए शीघ्र कार्य शुरू कराने का आग्रह किया है।
इसी तरह मुख्यमंत्री बघेल ने केन्द्रीय मंत्री को लिखे पत्र में उल्लेख किया है कि राष्ट्रीय राजमार्ग 30 रायपुर-धमतरी मार्ग का चौड़ीकरण कार्य मई 2018 से पूर्णतः बंद होने और निर्माण एजेंसी द्वारा सड़क के कई हिस्सों में आधी चौड़ाई में सड़क निर्मित कर छोड़ दिया है। जगह-जगह कार्य अधूरे हैं, इससे यातायात बाधित हो रहा है। यह सड़क रायपुर-जगदलपुर को जोड़ने वाली महत्वपूर्ण सड़क है। सड़क का निर्माण कार्य नहीं होने के कारण आम जनता को यातायात में बड़ी असुविधा हो रही है। मुख्यमंत्री ने रायपुर-धमतरी फोरलेन सड़क का काम शीघ्र शुरू कर पूरा कराने का अनुरोध केन्द्रीय मंत्री से किया है। इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग 43 पत्थलगांव-कुनकुरी मार्ग का चौड़ीकरण एवं उन्नयन का कार्य निर्माण एजेंसी द्वारा अधूरा छोड़ दिया गया है। पत्थलगांव-कांसाबेल के मध्य ठेकेदार द्वारा सड़क खोदकर छोड़ देने के कारण लगातार दो वर्षो से यातायात में असुविधा हो रही है एवं विगत तीन माह से लगातार हुई बारिश से यातायात में जाम की स्थिति निर्मित हो रही है। यह मार्ग प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य जिला जशपुर से गुजरता है एवं छत्तीसगढ़ को झारखण्ड से जोड़ने वाला मुख्य मार्ग है।
मुख्यमंत्री ने पत्र में लिखा है कि राष्ट्रीय राजमार्ग 149 बी चांपा-कोरबा-कटघोरा मार्ग मार्च 2014 में राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किया गया था तथा मार्ग का निर्माण छत्तीसगढ़ लोक निर्माण विभाग के माध्यम से कराया जा रहा था, परन्तु इस मार्ग में यातायात के घनत्व के आधार पर फोरलेन निर्माण के लिए उपयुक्त पाए जाने पर भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से कार्य कराये जाने के लिए सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्रालय नई दिल्ली द्वारा निर्देश दिए गए थे। 30 माह की समय अवधि बीत जाने के बाद भी आज दिनांक तक निर्माण के लिए एजेंसी निर्धारित नहीं हुई है। वर्तमान में राष्ट्रीय राजमार्ग चांपा-कोरबा-कटघोरा अतिवृष्टि से पूर्णतः क्षतिग्रस्त हो गया है एवं साधारण मरम्मत से सुधार योग्य नहीं है। अतः इस मार्ग का तत्काल उन्नयन एवं चौड़ीकरण कराया जाना अत्यंत आवश्यक है। मुख्यमंत्री ने इस राष्ट्रीय राजमार्ग के चौड़ीकरण एवं उन्नयन का कार्य राज्य लोक निर्माण विभाग के माध्यम से कराने का अनुरोध किया है, ताकि आम जनता को हो रही यातायात की असुविधा को शीघ्र दूर किया जा सके।
मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री को छत्तीसगढ़ राज्य में राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 111 बिलासपुर-पतरापाली-कटघोरा-शिवनगर-अम्बिकापुर मार्ग के संबंध में लिखा है कि इस मार्ग में निर्माण कार्य भी अधूरा है। पतरापाली-कटघोरा मार्ग का निर्माण लगभग पांच वर्षो से लंबित है और इस वर्ष हुई अतिवृष्टि से मार्ग पूर्णतः ध्वस्त हो चुका है एवं लोगों को यातायात में अत्यधिक असुविधा हो रही है। मुनगाडीह नाला पर स्थित पुराना पुल क्षतिग्रस्त हो गया है। बिलासपुर-कटघोरा के बीच यातायात अवरूद्ध हो गया है। राज्य सरकार द्वारा उपरोक्त मार्ग पर पड़ने वाले शहरी भाग के पुर्ननिर्माण के लिए 24 करोड़ 26 लाख रूपए का प्राक्कलन 26 सितम्बर 2019 को किया गया है। मुख्यमंत्री बघेल ने इन मार्गों के निर्माण कार्यो को शीघ्र कराने का अनुरोध केन्द्रीय मंत्री से किया।

14-10-2019
श्रीलंका की महिलाओं को भा रही छत्तीसगढ़ की कोसा सिल्क साड़ी

रायपुर। छत्तीसगढ़ का कोसा सिल्क श्रीलंका की राजधानी कोलंबो के बाजारों में जल्द दिखाई देगा। छत्तीसगढ़ के जाँजगीर, रायगढ़, बिलासपुर सहित कोरबा के कोसा सिल्क की आपूर्ति धीरे- धीरे श्रीलंका के अन्य शहरों में भी उपलब्ध करायी जाएगी। यहाँ के कोसा सिल्क साड़ी अब श्रीलंका की महिलाओं की भी खूबसूरती में चार चाँद लगाएगी। नायाब बुनकरी की कोसा सिल्क साड़ी की दीवानगी अब श्रीलंका में भी दिख रही है। छत्तीसगढ़ के कोसे की साड़ी को लेकर वहाँ की महिलाओं ने भी अपनी रुचि दिखाई है। यही वजह है कि हस्तशिल्प की मांग और लोकप्रियता को देखते हुये श्रीलंका की सरकार ने छत्तीसगढ़ से हैंडलूम उत्पादों को लेकर एक समझौता किया है। 13 अक्टूबर को नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित भारतीय अंतर्राष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेला में छत्तीसगढ़ हथकरघा विकास एवं विपणन सहकारी संघ बिलासा एम्पोरियम और श्रीलंका के सहकारिता विकास विभाग की ओर से एक साझा सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया गया है, जिसके तहत आपसी व्यापार और व्यवसाय को सहयोग और बढ़ावा दिया जाएगा। यह समझौता दो सालों के लिए किया गया है।

इसके तहत दोनों देशों के बीच हैंडलूम उत्पादों के संबंध में व्यापार और व्यवसाय की रुचि को समझकर, तकनीकों का आदान प्रदान, अनुभवों और उद्देश्यों को समझा जाएगा। दोनों देशों की जिम्मेदारी होगी कि वे अपने आइडिया और अनुभव एक दूसरे से साझा करेंगे। एक दूसरे के साथ व्यापार और व्यवसाय को बढ़ावा देंगे और एक दूसरे को सुविधाएं प्रदान करेंगे। इस समझौते के बाद छत्तीसगढ़ और श्रीलंका के हैंडलूम उत्पाद आसानी से लोगों को अपने ही देशों में उपलब्ध हो सकेगा। गौरतलब है कि पिछले दिनों कोसा साड़ियों के कुछ सैंपल श्रीलंका भेजे गए थे, जिसके बाद वहाँ की महिलाओं ने छत्तीसगढ़ की सिल्क साड़ियों में रुचि दिखाई है। श्रीलंका के कोआपरेटिव विभाग के असिस्टेंट कमिशनर नीलांगा डी सोमपाल ने बताया कि छत्तीसगढ़ का कोसा सिल्क श्रीलंका में काफी पसंद किया जाता है। यहाँ के कोसा सिल्क में उच्च गुणवत्ता और महीन बुनकरी का काम होता है वह बाजार में लोगों को काफी आकर्षित करता है। उन्होंने ने बताया कि श्रीलंका से आए ग्राहकों का रुझान छत्तीसगढ़ के टसर सिल्क, घीचा सिल्क, लिनेन, रॉ सिल्क की ओर काफी रहता है। आरी सिल्क और मटका टसर रेयर होने की वजह से श्रीलंका के लोग इसे काफी पसंद करते हैं

14-10-2019
विस अध्यक्ष डॉ महंत शामिल हुए लोकार्पण और भूमि पूजन कार्य में, अन्य योजनाओं का किया शुभारंभ  

कोरिया। चिरमिरी नगर निगम में छत्तीसगढ़ विधान सभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने 5 करोड़ 57 लाख के कार्यों का लोकार्पण एवं भूमि पूजन किया। उनके साथ कोरबा लोकसभा सांसद ज्योत्स्ना महंत, सरगुजा प्राधिकरण उपाध्यक्ष व राज्य मंत्री गुलाब कमरो , मनेन्द्रगढ़ विधायक डॉ विनय जायसवाल और चिरमिरी महापौर के. डोमरु  रेड्डी निगम आयुक्त सुमन राज व अधिकारी शामिल रहे। वहीं विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत के द्वारा मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। लोकसभा सांसद ज्योत्स्ना महंत ने मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान योजना के तहत बच्चो व महिलाओं को पौष्टिक खाना अपने हाथों से परोसा। विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालय योजना, छत्तीसगढ़ सार्वभौम पीडीएस, मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना का भी शुभारंभ किया।

 

14-10-2019
ठेकेदारों में आपसी मतभेद के कारण नहीं हो रहे शवों के पोस्टमार्टम, परिजन परेशान - प्रकाशपुंज पांडेय

रायपुर। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने एक अहम मुद्दे की ओर मीडिया के माध्यम से प्रशासन का ध्यान आकर्षण करते हुए बताया है कि छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल डॉ भीम राव अंबेडकर अस्पताल (मेकाहारा) में सुबह से ही ठेकेदारों की आपसी मतभेद के कारण हड़ताल चल रही है। इसके कारण शवों का पोस्टमार्टम नहीं हो पा रहा है। इस कारण कई लोग और उनके परिजन हलाकान हुए जा रहे हैं। लेकिन अब तक प्रशासन की ओर से कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने प्रशासन से अपील की है कि इस विषय को संज्ञान में लेते हुए जल्द से जल्द कार्रवाई करे। साथ ही मेकाहारा प्रबंधन इस अहम विषय पर त्वरित कार्रवाई करते हुए हड़ताल खत्म करवाए ताकि दुर्घटना में मारे गए लोगों के शवों का पोस्टमार्टम हो पाए और मृतकों के शव उनके परिजनों को दिया जा सके। 

14-10-2019
मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत होगा सरपंचों का उन्मुखीकरण

रायपुर। ज़िला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत सरपंचों को मानसिक स्वास्थ्य पहचान पर होगा उन्मुखीकरण। सरपंचों को विशेष रूप से मानसिक अवसाद से ग्रसित व्यक्तियों की पहचान पर जागरूक कर ग्रामीण जनता में फैले अंधविश्वास को दूर करना है। सरपंचों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम का आयोजन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर डॉ. मीरा बघेल के मार्गदर्शन में किया जाएगा ।

जिला चिकित्सालय रायपुर मनोरोग विभाग के सहायक चिकित्सा अधिकारी डॉ डीएस परिहार ने बताया राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत अधिक से अधिक ग्रामीण स्तर पर काम कर मानसिक अवसाद से ग्रसित व्यक्तियों की पहचान कर उन्हें समुचित इलाज प्रदान करने की व्यवस्था को सुनिश्चित करने के लिए सरपंचों एवं सचिवों को मानसिक स्वास्थ्य पर जागरूक करने की आवश्यकता है। इसके लियें मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत अभनपुर,धरसीवां,तिल्दा और आरंग को पत्र लिखा गया है। इसमें सरपंचों एवं सचिवों को मानसिक स्वास्थ्य रोगी पहचान पर उन्मुखीकरण किया जाएगा। उन्मुखीकरण का मुख्य उद्देश्य ग्राम स्तर पर मौजूद सरपंच एवं सचिव को अपने क्षेत्र में मानसिक रूप से अस्वस्थ रोगी की पहचान संबंधी जानकारी दी जाएगी। रोगी की समय रहते पहचान ओर उसका इलाज सुनिश्चित किया जा सके। साथ ही ग्राम स्तर पर झाड़-फूंक जैसे अंधविश्वास को दूर कर स्वस्थ छत्तीसगढ़ का निर्माण किया जाए ।

मानसिक अस्वस्थता की पहचान

नींद नहीं आना, भूख नहीं लगना, कुछ काम करने का मन नहीं करना, हर वक्त बैचेनी होना, अकेले रहना पसंद करना, परिवार या दोस्तों से मिलने नहीं जाना।

 

14-10-2019
यात्रीगण कृपया ध्यान दें- आज से रद्द रहेंगी कई ट्रेनें, गंतव्य से पूर्व समाप्त-रीशेड्यूलिंग भी

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के हथबंद स्टेशन पर बिलासपुर-रायपुर लाइन मे लॉन्ग लूप का कार्य होने के कारण सोमवार से कई ट्रेनों का परिचालन प्रभावित रहेगा। हथबंद में लॉन्ग लूप बनने से रायपुर मंडल में ट्रेनों का परिचालन और बेहतर किया जा सकेगा। इस कार्य के कारण सोमवार से क्रमश: 68746 रायपुर -गेवरारोड मेमू (20 अक्टूबर तक), 68745 गेवरारोड- रायपुर मेमू (21 अक्टूबर तक),58204 रायपुर- गेवरा रोड पैसेंजर (20 अक्टूबर तक),58203 गेवरा रोड -रायपुर पैसेंजर (21 अक्टूबर तक),12856 इतवारी-बिलासपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस (20 अक्टूबर तक) ,12855 बिलासपुर -इतवारी इंटरसिटी एक्सप्रेस, 22886 टाटा- एलटीटी एक्सप्रेस (20 अक्टूबर तक) रद्द रहेगी।  

इसी तरह गंतव्य से पहले ही समाप्त होने वाली ट्रेनों में सोमवार 14 अक्टूबर से 20 अक्टूबर तक 15231 / 15232 गोंदिया -बरौनी -गोंदिया एक्सप्रेस, उसलापुर-गोंदिया- उसलापुर के मध्य रद्द रहेगी। गाड़ी संख्या 15159 / 15160 छपरा -दुर्ग -छपरा ,सारनाथ एक्सप्रेस बिलासपुर-दुर्ग- बिलासपुर के मध्य 14  से 20 अक्टूबर तक रद्द रहेगी।  गाड़ी संख्या 13287/13288 दुर्ग-राजेंद्रनगर- दुर्ग,साउथ बिहार एक्सप्रेस 9 अक्टूबर तक बिलासपुर- दुर्ग- के मध्य और 13287 दुर्ग -राजेंद्रनगर साउथ बिहार एक्सप्रेस 20 अक्टूबर तक दुर्ग- बिलासपुर के मध्य रद्द रहेगी।  गाड़ी संख्या 18242 / 18241 अंबिकापुर-दुर्ग-अंबिकापुर एक्सप्रेस कम पैसेंजर 20 अक्टूबर तक दुर्ग-उसलापुर -दुर्ग के मध्य रद्द रहेगी। गाड़ी संख्या 17482,14 अक्टूबर को रायपुर- बिलासपुर के मध्य रद्द रहेगी । गाड़ी संख्या 58112 इतवारी- टाटा पैसेंजर 20 अक्टूबर तक बिलासपुर से टाटा नगर के लिए रवाना की जाएगी, जो 19 अक्टूबर तक इतवारी -बिलासपुर के मध्य रद्द रहेगी । 58111 टाटा- इतवारी पैसेंजर 14 से 19 अक्टूबर तक बिलासपुर इतवारी के मध्य रद्द रहेगी। गाड़ी संख्या 58117 / 58118 झारसुगुड़ा- गोंदिया- झारसुगुड़ा पैसेंजर 14 से 20 अक्टूबर  तक गोंदिया -बिलासपुर- गोंदिया के मध्य रद्द रहेगी ।


इसी तरह रीशेड्यूलिंग की गई ट्रेनों में 18801 / 18803 कोरबा-रायपुर- कोरबा एक्सप्रेस, कोरबा से 1 घंटे रीशेड्यूल की जाएगी और बिलासपुर- रायपुर के मध्य पैसेंजर के रूप में 14 से 21 अक्टूबर तक चलाई जाएगी। 18802 / 18804  रायपुर-कोरबा-रायपुर एक्सप्रेस रायपुर में 20 मिनट रीशेड्यूल की जाएगी और रायपुर-बिलासपुर के मध्य 20 अक्टूबर तक पैसेंजर के रूप में चलाई जाएगी। 18238 अमृतसर-बिलासपुर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस रायपुर-बिलासपुर के 14 से 20 अक्टूबर तक पैसेंजर के रूप में चलाई जाएगी। 18518 विशाखापट्टनम-कोरबा एक्सप्रेस रायपुर-बिलासपुर के मध्य 14 से 20 अक्टूबर तक पैसेंजर के रूप में चलाई जाएगी ।

13-10-2019
भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची में डॉ. रमन का नाम नहीं, चर्चा उफान पर  

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए अपने स्टार प्रचारकों की जो लिस्ट जारी की है, उसमें छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह का नाम नहीं है, जबकि इस सूची में सरोज पाण्डेय को शामिल किया गया है। डॉ. रमन सिंह की इस उपेक्षा को लेकर प्रदेश में चर्चा उफान पर है। लोग कयास लगा रहे हैं कि भाजपा का यह कदम डॉ. रमन सिंह के लिए आने वाले समय में कहीं खतरे का संकेत तो नहीं हैं। बता दें कि भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नाम शामिल है। गौरतलब हो कि मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ से भाजपा की सरकारें छीन जाने के बाद दोनों प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों को संगठन में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पार्टी के कुछ लोगों का यह भी कहना है कि अभी हाल में दंतेवाड़ा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी की करारी हार से पार्टी के उच्च नेताओं को लगने लगा है कि संगठन में उनकी सक्रियता अच्छी नहीं है। सूत्रों का यह भी कहना है कि रमन सिंह के नाम गायब होने से अब कांग्रेस को रमन सिंह की आलोचना करने का एक और आसान मौका मिल गया है। दूसरी ओर कांग्रेस ने अपने स्टार प्रचारकों की सूची में सीएम भूपेश बघेल को खास तवज्जो दी है। सीएम बघेल दोनों प्रदेशों में चुनाव प्रचार करने जाएंगे। सरोज पांडेय को  प्रचारकों की लिस्ट में शामिल करने के पीछे तर्क यह दिया जा रहा है कि वे छत्तीसगढ़ कोटे से राज्यसभा सांसद और बीजेपी की राष्ट्रीय महासचिव हैं। साथ ही महाराष्ट्र की प्रदेश प्रभारी भी हैं। प्रचारकों की सूची से अपना नाम गायब होने पर पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह का कहना है कि उनकी उपेक्षा नहीं हुई है। पार्टी को जब जहां जैसी जरूरत हो रही है वे वहां जा रहे हैं।

 

13-10-2019
सेक्सोफोन वाद्ययंत्र की धुनों से न जाने जुड़ी हैं कितनी स्मृतियां: सीएम बघेल  

रायपुर। भिलाई में कला मंदिर में आयोजित सेक्सोफोन की दुनिया में इस सुमधुर वाद्ययंत्र की धुनों को सुनने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी पहुंचे। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सेक्सोफोन की दुनिया में शामिल होना अद्भुत अनुभव है। संगीत मन को शांत करता है। छत्तीसगढ़ संगीत में बहुत समृद्ध है। हमारे लोकगीतों की धुन अद्भुत हैं। संगीत हमारे जीवन में रचा बसा है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रख्यात गायक किशोर कुमार को भी याद किया। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के आयोजक राजकुमार सोनी खुद किशोर के गाने बहुत अच्छा गाते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ईश्वर की साधना की तरह ही संगीत की साधना है। हमारी अध्यात्मिक चेतना भी संगीत से जागृत होती है। इस मौके पर विधायक देवेंद्र यादव ने कहा कि संगीत का इतना सुंदर आयोजन अद्भुत है। ऐसा लग रहा है कि यह आयोजन देर तक चलता रहे। इस मौके पर जब गुजरे दौर के शानदार गीतकारों और संगीतकारों द्वारा सृजित किये गीतों और धुनों की प्रस्तुति सेक्सोफोनिस्ट ने दी तो लोग मंत्र मुग्ध हो गए। लोगों ने पूरी तन्मयता से उन्हें सुना और जब वे दर्शकों के बीच पहुंचे तो उन्हें वैसा ही प्यार मिला जैसे बड़े बॉलीवुड सितारों को मिलता है। लोगों ने उनके साथ सेल्फी ली। गानों का चयन भी शानदार था। ऐसे गाने जो भारत में अनेकता में एकता की मिसाल पेश करते हैं। इस मौके पर इंदिरा कला एवं संगीत विश्व विद्यालय के फाइन आर्ट्स के छात्रों ने श्रोताओं के स्केच भी बनाये। कार्यक्रम में अपर मुख्य सचिव सीके खेतान, आईजी हिमांशु गुप्ता एवं अन्य जनप्रतिनिधि तथा अधिकारीगण एवं अन्य नागरिकगण मौजूद थे।
 

इन गीतों से रचा माहौल-
अरपा पैरी के धार और सुन-सुन मोर मया पीरा के जैसे छत्तीसगढ़ी गीतों को सेक्सोफोन पर सुनकर लोग अभिभूत हो गए। कार्यक्रम के संचालक राजकुमार सोनी इन गीतों की तथा इनके धुनों की पृष्ठभूमि भी बता रहे थे। उन्होंने बताया कि अरपा पैरी के धार मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी के पिता नरेन्द्र देव वर्मा ने लिखी है। सुन-सुन मोर मया पीरा की रचना हरि ठाकुर ने की। कार्यक्रम की शुरुआत कश्मीर की कली फिल्म के गीत ये दुनिया उसी की से हुई। फिर एक से बढ़कर एक सुन्दर गीतों की लड़ी श्रोताओं के समक्ष प्रस्तुत की गई

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804