GLIBS
25-08-2020
 30 अगस्त को बंद रहेगी मदिरा दुकानें

कोरबा। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी किरण कौशल ने 30 अगस्त को मोहर्रम के अवसर पर शुष्क दिवस घोषित किया गया है। 30 अगस्त को जिले की समस्त देशी एवं विदेशी मदिरा दुकानें असैनिक विनोदगृह एवं मद्यभाण्डागार पूर्णतः बंद रखे जाने का आदेश जारी किया है। कलेक्टर किरण कौशल ने अवैध शराब बेचने,परिवहन पर रोक लगाने और पकड़े जाने पर सख्त कार्रवाई के निर्देश आबकारी अधिकारियों को दिए हैं।

 

03-07-2020
कलेक्टर ने बदले जनपद सीईओ के प्रभार, आदेश जारी

कोरबा। कलेक्टर किरण कौशल ने गुरुवार देर शाम कोरबा और करतला जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों के प्रभार बदल दिये हैं। कलेक्टर कार्यालय से इस संबंध में गुरुवार देर शाम आदेश भी जारी हो गया है। जारी आदेश के अनुसार वर्तमान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद करतला डिप्टी कलेक्टर देवेन्द्र कुमार प्रधान को कोरबा जनपद पंचायत का सीईओ का प्रभार सौंपा गया है। सी.एल. धृतलहरे को जनपद पंचायत करतला का नया सीईओ बनाया गया है। कोरबा जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस.एस.रात्रे को जिला पंचायत कार्यालय कोरबा में सहायक परियोजना अधिकारी के रूप में संलग्न किया गया है।

30-06-2020
क्वारेंटाइन सेंटरों के संचालन में लापरवाही बर्दाश्त नहीं, प्रभारी पर होगी कार्रवाई: किरण कौशल

कोरबा। प्रवासी श्रमिकों के लिए बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटरों के संचालन में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सेंटरों में भोजन, पानी, स्वास्थ्य जांच, बीमार होने पर इलाज के साथ-साथ सुरक्षा के इंतजामों में भी किसी प्रकार की शिथिलता नहीं बरतने के निर्देश कलेक्टर कौशल ने समय-सीमा की बैठक में दिए। उन्होंने पटियापाली के क्वारेंटाइन सेंटर के विषय में प्रकाशित भ्रामक खबर का उल्लेख करते हुए सेंटरों में सुरक्षा ओैर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सुनिश्चित कराने का निर्देश अधिकारियों को दिए।किरण कौशल ने श्रमिकों को मानसिक तनाव से दूर रखने के लिए उनकी समय-समय पर कांउंसिलिंग करने के भी निर्देश दिए हैं। क्वारेंटाइन सेंटरों में अव्यवस्था, लापरवाहीपूर्ण संचालन और सेंटर में रह रहे प्रवासियों के अनाधिकृत रूप से बाहर जाने जैसी घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए बैठक में किरण कौशल ने सेंटर के प्रभारी अधिकारी सहित स्वास्थ्य एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों के विरूद्ध भी कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है।कलेक्टर किरण कौशल ने वीडियोकांफेंकसिंग के माध्यम से समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में क्वारेंटाइन सेंटरों के संचालन की समीक्षा की। इस बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कुंदन कुमार, नगर निगम आयुक्त एस.जयवर्धन सहित अपर कलेक्टर प्रियंका महोबिया और सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी भी मौजूद रहे। सभी जनपद कार्यालयों और एसडीएम कार्यालयों से मैदानी अमला भी इस वीडियो कांन्फ्रेंसिंग से जुड़ा रहा।बैठक में कलेक्टर ने निर्देशित किया कि क्वारेंटाइन सेंटर में रखे गये प्रवासियों के आरटीपीसीआर टेस्ट कराये जायें। टेस्ट के लिए प्रवासियों के सेम्पल भेजने के बाद उस क्वारेंटाइन सेंटर को फ्रीज कर और अतिरिक्त लोगों को न रखा जाये। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि किसी भी प्रवासी को क्वारेंटाइन सेंटर से कम से कम 14 दिन की अवधि पूरी होने और टेस्ट रिपोर्ट आने के बाद ही छोड़ा जाये।कलेक्टर ने यह भी निर्देशित किया कि सेंटरों से रिलीज होने वाले लोगों की पूरी जानकारी संबंधित जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, तहसीलदार, पटवारी, सचिव, सरपंच और खंड चिकित्सा अधिकारी को अनिवार्यतः दी जाये ताकि आगे होम क्वारेंटाइन अवधि में इन लोगों की कोरोना संबंधी निगरानी की जा सके। कलेक्टर ने किसी भी व्यक्ति को प्राधिकृत अधिकारी की अनुमति के बिना क्वारेंटाइन सेंटर से रिलीज करने की मनाही की है।

 

30-06-2020
विचाराधीन कैदी की मौत की होगी दण्डाधिकारी जांच, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

कोरबा। जिले की कटघोरा उप जेल में निरूद्ध विचाराधीन बंदी रामकुमार चौहान की मौत की दण्डाधिकारी जांच होगी। जिला दण्डाधिकारी किरण कौशल ने इसके आदेश जारी कर दिये हैं। दण्डाधिकारी जांच के लिए कटघोरा की एसडीएम सूर्यकिरण तिवारी को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है। जांच के उपरांत प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिए 30 दिन की समय सीमा निर्धारित की गई है। उल्लेखनीय है कि उप जेल कटघोरा में निरूद्ध विचाराधीन बंदी रामकुमार चौहान की तबियत खराब होने के कारण उसे जेल प्रहरियों द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कटघोरा भेजा गया था। 21 जून को विचाराधीन बंदी की सुबह सवा चार बजे उपचार के दौरान मृत्यु हो गई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने इसके दण्डाधिकारी जांच के निर्देश जारी किये हैं।

जांच के दौरान विचाराधीन बंदी को पहले से किसी बीमारी से पीड़ित होने, इलाज कराने संबंधी पड़ताल भी की जायेगी। इसके साथ ही विचाराधीन बंदी किस धारा में कब से जेल में निरूद्ध था, हवालात में उसे किसी प्रकार की शारीरिक यातना तो नहीं दी गई, बंदी के इलाज के दौरान ड्यूटी पर उपस्थित प्रहरियों की भी जानकारी जांच के दौरान ली जायेगी। प्रकरण की दण्डाधिकारी जांच के दौरान विचाराधीन बंदी के इलाज के संबंध में की गई कार्यवाही, मृत्यु का कारण, पोस्टमार्टम रिपोर्ट आदि सभी पहलुओं को शामिल कर सूक्ष्म जांच होगी।

08-02-2020
गौठान के कार्यो में लापरवारी बरतने वाले अधिकारियों और मैदानी कर्मचारी पर नाराज हुई कलेक्टर

कोरबा। कटघोर के अनुविभागीय राजस्व कार्यालय में कलेक्टर किरण कौशल ने गौठानों के कार्यो की समीक्षा की। इस दौरान अधुरे कार्यो पर कलेक्टर ने जमकर नाराजगी जाहिर करते हुए कलेक्टर ने अधिकारियों और मैदानी अमले को सख्त लहजे में चेतावनी देते हुए आगामी 15 दिनों के भीतर सभी गौठानों के कार्य पूरे करने के निर्देश दिए। उन्होेने महुआडीह एवं देवरी के गौठानों में पशुओं के नहीं आने, चारागाह का काम अधुरा रहने और गौठान के कार्यो में लापरवाही बरतने पर दोनों पंचायतों के सचिवों को निलंबित करने के निर्देश भी दिए। कलेक्टर आरईएस के सब इंजीनियरों पर भी तल्ख हुई और अधुरे कार्यो तथा गैर जिम्मेदाराना रवैयै के लिए इनकी एक-एक वेतनवृद्धि रोकने के निर्देश कार्यपालन अभियंता को दिए।

कलेक्टर कौशल ने गौठानों में पैरादान की वर्तमान स्थिति की भी समीक्षा की। उन्होने प्रथम चरण में बने सभी गौठानों में 50-50 ट्रैक्टर से अधिक पैरा इक्ट्ठा कराने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए गए। कलेक्टर ने गौठानों में शेड, कोटना आदि आधारभूत निर्माणकार्य भी आगामी 15 दिनों  के भीतर पूरा कराने के निर्देश दिए है। कलेक्टर कौशल ने गौठानों में मरम्मत के कार्यो को गौठान समितियों को मिल रही प्रतिमाह 10 हजार रूपए की राशि से कराने को कहा। उन्होने गौठानों में निर्धारित संख्या में प्रतिदिन पशुओं का आना सुनिश्चित करने के लिए ग्राम सचिवों को निर्देशित किया गया और गौठान समितियों के सदस्यों को भी प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने गौठानों को समग्र गतिविधि केन्द्रो के रूप में विकसित करने के लिए सभी जरूरी अधोसंरचना और गौठान समितियों को प्रशिक्षण देने के निर्देश अधिकारियों को दिए गए।

कलेक्टर कौशल ने गौठान में बन रहे वर्मी कम्पोस्ट खाद के विक्रय की व्यवस्था के भी निर्देश अधिकारियों को दिए। बैठक में कलेक्टर ने पंचायतों द्वारा मूलभूत और 14 वें वित्त मद से स्वीकृत राशि के व्यय की भी जानकारी ली। उन्होने इन दोनो मदों के तहत खर्च की गई राशि की जांच कर औचित्य निर्धारित करने के निर्देश मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत को दिए। कलेक्टर कौशल ने ग्रीष्म कालीन धान के स्थान पर मक्के की फसल लगाने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए। उन्होने सभी पात्र हितग्राहियों को वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन या अन्य सामाजिक सुरक्षा पेंशन से भी लांभावित करने के लिए जनपद पंचायत के अधिकारियों को निर्देशित किया। इस बैठक में अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी संजय अग्रवाल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस. जयवर्धन, एसडीएम कटघोरा सूर्यकिरण तिवारी, तहसीलदार रोहित सिंह उपस्थित रहे।

04-08-2019
सड़क की जल्द मरम्मत के लिए कलेक्टर ने दिए निर्देश

कोरबा। कलेक्टर किरण कौशल ने लगातार दूसरे दिन कोरबा-चांपा और कोरबा-कटघोरा-पाली सड़कों की मरम्मत के लिए तत्काल काम शुरू करने अधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक की। कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित इस बैठक में श्रीमती कौशल ने सड़कों के खराब खंडों की निरीक्षण रिपोर्ट पर चर्चा की और अधिकारियों को सड़कों पर भरे हुए पानी को कच्ची नालियां बनाकर हटाने और तत्काल मरम्मत काम शुरू करने के निर्देश दिए। कल की बैठक में कलेक्टर ने तहसीलदार सहित सड़क निर्माण से जुड़े विभिन्न विभागों के अधिकारियोें को संयुक्त रूप से खराब सड़क खंडों का निरीक्षण कर मरम्मत करने के लिए जरूरी व्यवस्थाएं बनानेे रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। अधिकारियों के दल ने कल ही चांपा-कोरबा और कोरबा-कटघोरा-पाली सड़क मुआयना कर अपनी रिपोर्ट आज की बैठक में कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत की।

बैठक में कलेक्टर श्रीमती कौशल ने कटघोरा सड़क पर अस्पताल चौक से गोपाल पेट्रोल पंप तक निर्माणाधीन गौरव पथ पर क्षतिग्रस्त भाग में डब्ल्यूबीएम मरम्मत का काम तत्काल कराने के निर्देश नगर पालिका अधिकारी को दिए। उन्होंने कटघोरा में महेन्द्रा एजेंसी से गोपाल पेट्रोल पंप तक 60-70 मीटर कच्ची नाली बनाकर पहले से बनी पक्की नाली में जोड़ने के निर्देश दिए। ताकि सड़क पर भरने वाली पानी की समुचित निकासी हो सके। कलेक्टर ने पुराने वेयर हाउस की पुलिया की साफ-सफाई कराने के निर्देश भी मुख्य नगर पालिका अधिकारी को दिए। इसी प्रकार कटघोरा पेट्रोल के सामने की सड़क में दाहिनी ओर 70-80 मीटर लंबाई में दो फीट चौड़ाई की कच्ची नाली बनाकर जल निकास की व्यवस्था के निर्देश कलेक्टर ने दिए।

बैठक में कटघोरा सड़क पर कीचड़ के कारण गाड़ियां फसने और आमजनों को आवागमन में असुविधा को दूर करने पर भी चर्चा हुई। अधिकारियों ने बताया कि वर्तमान में सड़क पर निर्मित ड्रैनेज सिस्टम सड़क की लेबल से नीचे होने के कारण यहां खुदाई से निकली काली मिट्टी की फिलिंग की गई है। काली मिट्टी के कारण पानी गिरने पर कीचड़ हो जाता है और लोगों को आवागमन में असुविधा होती है। कलेक्टर ने सड़क पर काली मिट्टी और वर्तमान कीचड़ ओवर बर्डन को हटाकर सड़क सतह तक मुरूम भरकर नियमानुसार कम्पेक्शन करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। कलेक्टर ने सड़क पर बड़े-बड़े गढ्ढो को डब्ल्यूएमएम मटेरियल से भरकर रोलिंग करने और आवश्यकतानुसार उंची पटरियों की कटिंग करने के भी निर्देश अधिकारियों को दिए।
सड़कों की मरम्मत के लिए राज्य सरकार को पुनः भेजा जायेगा प्रस्ताव

कलेक्टर किरण कौशल ने सड़कों की हालत सुधारने के लिए तात्कालिक व्यवस्था के साथ-साथ लगभग दो साल की अवधि तक मरम्मत और रख-रखाव के स्थायी समाधान पर भी अधिकारियों से चर्चा की। राजमार्ग के लोक निर्माण प्रभाग के अधिकारियों ने सड़कों की मरम्मत और रखरखाव के लिए पर्याप्त राशि प्राप्त होने में असमर्थता व्यक्त की। कलेक्टर ने जिलेवासियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए इन सड़कों की मरम्मत के लिए राज्य सरकार के समक्ष प्रस्ताव प्रस्तुत करने का सुझाव रखा। अधिकारियों ने बताया कि पूर्व में भी राज्य सरकार द्वारा सड़कों की मरम्मत के लिए राशि उपलब्ध कराई गई थी। कलेक्टर ने अधिकारियों को खराब सड़क खंडों की मरम्मत के लिए खंडवार प्रस्ताव तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए ताकि उन्हें अनुशंसा सहित जल्द से जल्द राज्य शासन को भेजा जा सके।

03-08-2019
चुनाव पाठशाला के नोडल अधिकारियों का प्रशिक्षण 5 एवं 6 को 

कोरबा। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी किरण कौशल के मार्गदर्शन में संचालित स्वीप कार्यक्रम अंतर्गत जिले के 100 मतदान केन्द्रों में गठित किये गये चुनाव पाठशाला के नोडल अधिकारियों की दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला दिनांक 5 एवं 6 अगस्त को डाईट कोरबा में आयोजित है। जिला स्वीप नोडल अधिकारी सतीश प्रकाश सिंह ने बताया कि स्वीप कार्यक्रम अंतर्गत संचालित किये जा रहे मतदाता जागरूकता कार्यक्रम के तहत् कोरबा जिले के शहरी/ग्रामीण क्षेत्रों के 100 मतदान केन्द्रों में चुनाव पाठशाला गठित किया गया है।

मतदान केन्द्र स्तर पर स्थापित चुनाव पाठशाला के नोडल अधिकारियों को व्यापक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए दो दिवसीय जिला स्तरीय वर्कशॉप/प्रशिक्षण कार्यशाला दिनांक 5 एवं 6 अगस्त को डाईट कॉलेज कोरबा में आयोजित है। चुनाव पाठशाला के नोडल अधिकारियों को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी छत्तीसगढ़ द्वारा प्रदायित रिसोर्स मटेरियल-चुनाव पाठशाला पुस्तक, एफ.ए.क्यू., सांप-सीढ़ी फ्लैक्स, लुडो फ्लैक्स, गोल चक्कर फ्लैक्स, खोजो तो जाने फ्लैक्स, मतदान के पड़ाव फ्लैक्स, मतदान वर्णमाला फ्लैक्स, स्टोरी स्क्रॉल-1 एवं 2 फ्लैक्स सहित सम्पूर्ण जानकारी मास्टर टेज्नर्स के माध्यम से दी जायेगी।

20-07-2019
कृषि, पशुपालन विभाग में 6 कर्मचारियों का जिला स्तर पर स्थानांतरण

कोरबा। प्रभारी मंत्री डा. प्रेमसाय सिंह की अनुशंसा पर कलेक्टर किरण कौशल द्वारा स्थानांतरण नीति वर्ष 2019 के परिपे्रक्ष्य में  कृषि एवं पशुपालन विभाग जिला कोरबा अंतर्गत तृतीय श्रेणी (गैर कार्यपालिक ) संवर्ग एवं चतुर्थ संवर्ग के कुल छ: कर्मचारियों का स्थानांतरण आदेश जारी किया गया है। जारी आदेश के अनुसार कृषि विभाग से सहायक गे्रड-तीन आर.के.मिरचंद का प्रक्षेत्र प्रबंधक शासकीय कृषि प्रक्षेत्र लखनपुर से वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी कटघोरा, भृत्य रानु बहल का अनुविभागीय कृषि अधिकारी कटघोरा से अनुविभागीय कृषि अधिकारी कोरबा, श्रवण लाल केंवट का अनुविभागीय कृषि अधिकारी कोरबा से अनुविभागीय कृषि अधिकारी कटघोरा स्थानांतरण किया गया है।

इसी प्रकार पशुपालन विभाग से परिचारक चतुर्थ श्रेणी सहोद्रा देवी सुरक्षित का चलिष्णु इकाई कोरबा से पशु औषधालय कथरीमाल, मनोज कुमार यादव का पशु औषधालय कथरीमाल से चलिष्णु इकाई कोरबा और कुसुम बाई का पशु चिकित्सालय हरदीबाजार से मुख्य ग्राम खंड पाली स्थानांतरण किया गया है। संबंधित विभाग के प्रभारी अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वे स्थानांतरित कर्मचारियों को नवीन पदस्थापना स्थल के लिए तत्काल भारमुक्त करना सुनिश्चित करें साथ ही स्थानांतरित कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है कि वे अपनी नवीन पदस्थापना स्थल पर 30 जुलाई 2019 तक अनिवार्य रूप से कार्यभार ग्रहण करना सुनिश्चित करें।

18-07-2019
19 जुलाई को जिला स्तरीय माॅनिटरिंग कमेटी की बैठक 

कोरबा। भारत निर्वाचन आयोग तथा मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी छत्तीसगढ़ के द्वारा दिये गये निर्देशानुसार लोकसभा निर्वाचन 2019 के संपादन के पश्चात सुगम मतदान के विस्तार हेतु किये गये अच्छे कार्यो एवं प्रकट हुई चुनाौतियों पर विचार कर भविष्य में संपन्न होने वाले निर्वाचनों में दिव्यांग मतदाताओं को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने हेतु तथा स्वीप प्लान अंतर्गत आयोजित किये जाने वाले कार्यक्रमों के क्रियान्वयन के संबंध में 19 जुलाई को ‘‘द डिस्टिक्ट माॅनिटरिंग कमिटी आॅन एक्सिसीबल इलेक्शन तथा जिला स्वीप कोर कमेटी की बैठक कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी किरण कौशल की अध्यक्षता में जिला पंचायत कोरबा के सभागार में दोपहर 12.00 बजे से आयोजित है।

बैठक में संबंधित ‘‘द डिस्टिक्ट माॅनिटरिंग कमिटी आॅन एक्सिसीबल इलेक्शन,  जिला स्वीप कोर कमेटी के सदस्य, अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व), प्राचार्य शा.ई.व्ही. स्नात. महाविद्यालय कोरबा, निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी कोरबा, कटघोरा, पोड़ी उपरोड़ा, तहसीलदार एवं सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी समस्त प्राचार्य शासकीय-अशासकीय महाविद्यालय स्वीप प्रभारी नोडल अधिकारी कोरबा, करतला, कटघोरा, पाली, पोड़ी-उपरोड़ा को आवश्यक जानकारी- माई वोट मैटर्स प्रकाशन हेतु लेख, लोकसभा निर्वाचन 2019 से संबंधित विषयों, निर्वाचकीय कार्यो के संपादन से प्राप्त अनुभव एवं प्रकट हुई चुनौतियों, संस्मरणों पर आधारित लघु लेख, चुनाव पाठशाला की जानकारी, महाविद्यालयों में 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने वाले नवीन वोटर्स के पंजीयन की जानकारी एवं स्वीप कार्यक्रम की आगामी कार्ययोजना आदि की जानकारियों के साथ उपस्थित रहने निर्देशित किया गया है।

18-07-2019
मुख्यालय में नहीं रहने वाले और अप-डाउन करने वाले कर्मचारियों के विरूद्ध होगी कार्यवाही

कोरबा। जिले में अपने निर्धारित मुख्यालयों में रहकर शासकीय कार्य निष्पादित नहीं करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों के विरूद्ध कार्यवाही होगी। कलेक्टर किरण कौशल ने कई पटवारियों, शिक्षकों और अन्य विभागों के मैदानी अमले के अधिकारी-कर्मचारियों को अपने निर्धारित मुख्यालयों में निवास नहीं करने और शासकीय कार्यों के दौरान अनुपस्थित रहने की शिकायतों को गंभीरता से लिया है। उन्होंने कोरबा शहर या अन्य स्थानों पर निवास कर रोजाना अपने कार्य क्षेत्र में आना-जाना करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों के विरूद्ध भी कार्यवाही के निर्देश समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारियों को दिए हैं।

बैठक में कलेक्टर ने सभी मैदानी अमले के निर्धारित मुख्यालय में निवास करने संबंधी घोषणा पत्र भी सभी विभाग प्रमुखों को लेने के निर्देश दिए हैं। श्रीमती कौशल ने बैठक में विभिन्न शासकीय योजनाओं और कार्यक्रमों के क्रियान्वयन की समीक्षा भी की। कलेक्टर ने ग्रामीण हाट-बाजारों की तरह ही शहरी क्षेत्रों में लगने वाले साप्ताहिक हाट-बाजारों में लोगों के स्वास्थ्य जांच के लिए मोबाइल मेडिकल यूनिट शुरू करने पर जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से विचार विमर्श किया और जिले के सभी शहरी क्षेत्रों में लगने वाले हाट-बाजारों के लिए विस्तृत कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए। 

हितग्राहियों को सामाजिक सहायता पेंशनें घर पर ही मिलेंगी, व्यवस्था सुनिश्चित करने कलेक्टर ने दिए निर्देश- सूरजपुर जिले की तर्ज पर ग्रामीण क्षेत्रों के बुजुर्गों, दिव्यांगों और सामाजिक सहायता पेंशनों के अन्य सभी पात्र हितग्राहियों को पेंशन राशि घर पर ही उपलब्ध कराने के लिए कोरबा जिला प्रशासन द्वारा तैयारी शुरू कर दी गई है। कलेक्टर श्रीमती कौशल ने इसके लिए समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों को समय सीमा की साप्ताहिक बैठक में जरूरी निर्देश दिए। बैंक मित्रों के माध्यम से कियोस्क पद्धति से पेंशन की राशि हितग्राहियों को उनके घर पर उपलब्ध कराई जायेगी। यह एक प्रकार से घर पहुंच बैंकिग सुविधा होगी। हितग्राही के बायोमैट्रिक पहचान से बैंक मित्र उनके खाते में जमा पेंशन राशि को हितग्राही के घर पहुंचकर निकालकर उपलब्ध करायेगा। श्रीमती कौशल ने इस व्यवस्था के लिए सभी हितग्राहियों के बैंक एकाउंट, बैंक एकाउंटों की आधार सीडिंग भी जल्द सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

15-07-2019
जेल से भागने की कोशिश में कैदी की मौत, कलेक्टर ने मांगी रिपोर्ट

कोरबा। कोरबा की एक उप जेल में बंद दो विचाराधीन बंदियों के बैरक की दीवार को फांद कर भागने की कोशिश के बाद एक कैदी की मौत के मामले में कलेक्टर ने 30 दिन के भीतर जांच रिपोर्ट मांगी है। 13 जुलाई को हुई इस घटना में एक बंदी रमेश की कल इलाज के दौरान मौत हो गई, जबकि दूसरे की हालत गंभीर बताई जा रही है। कलेक्टर डॉ किरण कौशल ने मामले की दंडाधिकारी जांच के आदेश दिए हैं। दूसरी ओर प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने बंदी की मौत की जांच के लिए समिति गठित की है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार कोरबी पुलिस चौकी क्षेत्र के ग्राम सरमा निवासी अशोक (24) और रमेश (20) को चोरी के मामले में न्यायालय में पेश किया गया था। जेएमएफसी कटघोरा रविन्दर कौर के आदेशानुसार 13 मई 2019 को दोनों को उप जेल में बंद कराया गया था। दोनों विचाराधीन बंदियों ने 13 जुलाई को जेल के अंदर दो मंजिला बैरक के ऊपर छत पर चढ़कर बाहरी दीवार से कूदकर भागने की कोशिश की। छलांग लगाने से दोनों घायल हो गए। उपचार के दौरान कल रमेश की मौत हो गई। विचाराधीन कैदी की मौत के मामले में कलेक्टर किरण कौशल ने संयुक्त कलेक्टर निष्ठा पाण्डेय तिवारी को 30 दिन के भीतर जांच कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804