GLIBS
काला हीरा और हरा सोना का क्षेत्र है कोरिया जिला : पैकरा

रायपुर। प्रदेश के गृह मंत्री रामसेवक पैकरा ने कोरिया जिले के विकासखंड सोनहत के ग्राम सलगवांकला में आयोजित तेंदूपत्ता बोनस तिहार में कम्प्यूटर में क्लिक कर कोरिया एवं सूरजपुर जिले के 81 हजार से अधिक संग्राहकों के बैंक खातों में 24 करोड 62 लाख 10 हजार 691 रूपये की तेन्दूपत्ता बोनस राशि भेज दी। उन्होने कोरिया और सूरजपुर जिले के तेंदूपत्ता संग्राहकों को तेंदूपत्ता बोनस तिहार के लिए अपनी बधाई और षुभकामनाएं दी। इस अवसर पर प्रदेष के वन, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री महेश गागड़ा की अध्यक्षता में आयोजित तेंदूपत्ता बोनस तिहार में प्रदेष के श्रम, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री भईयालाल राजवाडे, छत्तीसगढ शासन में संसदीय सचिव एवं भरतपुर-सोनहत विधानसभा क्षेत्र की विधायक चंपादेवी पावले, मनेन्द्रगढ विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्याम बिहारी जायसवाल, जिला वनोपज संघ बैकुण्ठपुर की अध्यक्ष  सावित्री पाण्डे, जिला वनोपज संघ मनेन्द्रगढ की अध्यक्ष संतोशी सिंह आयम और जिला वनोपज संघ सूरजपुर के अध्यक्ष  सिघाचन सिंह विषिश्ट अतिथि के रूप में मौजूद थे। इसके पूर्व मुख्य अतिथि पैकरा ने दीप प्रज्जवलित कर तेंदूपत्ता बोनस तिहार कार्यक्रम का आगाज किया।

प्रदेश के गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने तेंदूपत्ता बोनस तिहार कार्यक्रम में पहुंचे 25 हजार से अधिक तेंदूपत्ता संग्राहकों और ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने तेंदूपत्ता संग्राहकों के पसीने की कमाई का मोल को समझा है। फलस्वरूप आज तेंदूपत्ता बोनस तिहार के माध्यम से उनके खाते में राशि का अंतरण किया गया है।  पैकरा ने कहा कि कोरिया जिला खनिज और वनों से आच्छादित जिला है। यहां एक ओर बहुमूल्य खनिज काला हीरा है वहीं दूसरी ओर हरा सोना के रूप में तेेंदूपत्ता है। इन दोनों के दोहन से लोग आत्म निर्भर और स्वावलंबी बन रहे हैै। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.सिंह की सरकार हर समय किसानों के साथ खडी है और उनके हर सुख दुख में साथ है। गृह मंत्री पैकरा ने कहा कि 2003 में सरगुजा संभाग की गणना नक्सल प्रभावित संभाग में होती थी। लेकिन मुख्यमंत्री डॉ.सिंह की पहल से सरगुजा संभाग से नक्सलवाद पूरी तरह समाप्त हो गई है। इसी तरह बस्तर संभाग में भी नक्सलवाद समाप्त होने की ओर अग्रसर हैं। 

प्रदेश के वन, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री महेश गागड़ा ने कहा कि वन और वनवासी राज्य की पहचान है। उन्हें ही जंगल को बचाने का श्रेय जाता है। उन्होंने कहा कि अपने भावी पीढी के लिए भी वनों को बचाने की आवश्यकता है। गागडा ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.सिंह के नेतृत्व में गरीबों की मेहनत से ही छत्तीसगढ राज्य का चहुंमुखी विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि तेंदूपत्ता बोनस तेंदूपत्ता संगाहकों की मेहनत की दाम है। मुख्यमंत्री डॉ.सिंह ने उनके मेहनत के दाम को उनके जेब तक पहुंचाने का काम किया है। गागडा नें कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने गरीबी रेखा श्रेणी के महिलाओं को मामूली दर पर गैस कनेक्षन प्रदान कर जंगल को बचाने का काम किया है। 

प्रदेश के श्रम, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री भैयालाल राजवाडे ने कहा कि छत्तीसगढ सरकार गांव, गरीब एवं किसानों की सरकार है। उनके आर्थिक स्वावलंबन के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है। उन्होने कहा कि तेंदूपत्ता बोनस तिहार खुशी और उल्लास तथा विकास और विश्वास का पर्व है। कार्यक्रम में संसदीय सचिव चंपादेवी पावले , विधायक श्याम बिहारी जायसवाल, कलेक्टर नरेंद्र कुमार दुग्गा, तीरथ गुप्ता,  देवेन्द्र तिवारी, सुभाष साहू, शैलेश शिवहरे, कृष्ण बिहारी जायसवाल, एसपी विवेक शुक्ला, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी तुलिका प्रजापति सहित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

बोनस की राशि से बेटी की शादी करेगी अमृत बाई 
शिवप्रसाद के खेत में लगेगा खेत ट्यूबवेल, तेंदूपत्ता बोनस से खुशी की लहर

Gujarat

BJP99
Congress80
Other3

HP

BJP44
Congress21
Others3
Visitor No.