GLIBS
15-01-2021
जिले में अब तक 7 लाख 13 हजार 760 टन धान की खरीदी, 1 लाख 66 हजार 519 किसानों ने बेचा धान

जांजगीर-चांपा। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में अब तक जिले के एक लाख 66 हजार 519 किसानों ने 7 लाख 13 हजार 760 टन धान समर्थन मूल्य पर बेच चुके हैं। छत्तीसगढ़ खाद्य विभाग की वेबसाइट के अनुसार जांजगीर-चांपा जिले में 196 समितियों के द्वारा 230 धान उपार्जन केन्द्रों के माध्यम किसानों से समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी की जा रही है। जिले में इस वर्ष 1,87,077 किसानों ने पंजीयन कराया है, जिनके द्वारा बोये गए धान का रकबा 2,17,709.927 हेक्टेयर से अधिक है। इस वर्ष  80.55 लाख क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य रखा गया है। कलेक्टर यशवंत कुमार के मार्गनिर्देशन में धान उपार्जन, टोकटन जारी करने, खरीदे गए धान के उठाव आदि की व्यवस्था की गई है। धान खरीदी में सतत् निगरानी के लिए नोडल अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गई है। खरीदे गए धान की सुरक्षा के लिए डबल लेयर तिरपाल, ड्रेेनेज आदि की व्यवस्था के लिए भी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में अब तक 82 प्रतिशत पंजीकृत किसान अपना धान का विक्रय कर चुके हैं। राज्य सरकार द्वारा धान खरीदी हेतु निर्धारित अंतिम तिथि तक शेष किसानों से धान उपार्जन की प्रक्रिया जारी रहेगी। धान बेचने वाले किसानों को विक्रय किये गये धान के एवज में अब तक 1334 कारोड रूपए से अधिक की राशि का भुगतान किया जा चुका है।

 

14-01-2021
जिले में अब तक 6 लाख 98 हजार 612 मीट्रिक टन धान की खरीदी,

जांजगीर-चांपा। खरीफ विपणन वर्ष 2020 21 में 13 जनवरी तक 6 लाख 98 हजार 612 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है।  राज्य के मिलरों को 3 लाख 26 हजार 8 मीट्रिक टन धान का  जारी किया है। इसके विरूद्ध मिलरों द्वारा अब तक 2 लाख 90 हजार 510 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है। छत्तीसगढ़ खाद्य विभाग की वेबसाइट के अनुसार जांजगीर चांपा जिले में  एक लाख 63 हजार 291 किसानों से 6 लाख 98 हजार 612 मीट्रिक टन धान की खरीदी पूरी हो गयी है। खरीदे गए धान में से 3 लाख 26 हजार 8 मीट्रिक टन धान का डीओ काटा जा चुका है। मिलर द्वारा 2ए90ए510 मीट्रिक टन धान का उठाव हो चुका है। जिले में 196 समितियों के द्वारा 230 धान उपार्जन केन्द्रों के माध्यम खरीदी की जा रही है। जिले में इस वर्ष 1,87,077 किसानों ने पंजीयन कराया है, जिनके द्वारा बोये गए धान का रकबा 2,17,709.927 हेक्टेयर से अधिक है। जिले में किसानों की संख्या में 13,566 का इजाफा हुआ है।  इस वर्ष  80.55 लाख क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य रखा गया है। कलेक्टर यशवंत कुमार के मार्गनिर्देशन में धान उपार्जन, टोकन जारी करने खरीदे गए धान के उठाव आदि की व्यवस्था की गयी है। धान खरीदी में सतत् निगरानी के लिए नोडल अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गयी है। राज्य सरकार के निर्देशानुसार सुव्यवस्थित धान उपार्जन के लिए बारदाना का भी प्रबंध किया गया है। बारदानों की आपूर्ति राज्य शासन द्वारा सुनिश्चित की जा चुकी है।

 

06-01-2021
प्रदेश में अब तक 59.79 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी,15 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 6 जनवरी  तक 59 लाख 79 हजार 350 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 15 लाख 2 हजार 800 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा है। राज्य के मिलरों को 18 लाख 57 हजार 113 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। इसके विरुद्ध मिलरों ने अब तक 15 लाख 44 हजार 235 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है। राज्य के बस्तर जिले में 77 हजार 341 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 37 हजार 170 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 8 हजार 162 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में एक लाख 86 हजार 872 मीट्रिक टन, कोण्डागांव जिले में 87 हजार 613 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 11 हजार 778 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 22 हजार 306 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 3 लाख 17 हजार 662 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 46 हजार 907 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 5 लाख 83 हजार 415 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 73 हजार 559 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 2 लाख 45 हजार 321 मीट्रिक टन खरीदी की गई है। इसी तरह रायगढ़ जिले में 3 लाख 64 हजार 416 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 3 लाख 66 हजार 683 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 4 लाख 14 हजार 297 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 2 लाख 79 हजार 746 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 2 लाख 92 हजार 190 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 4 लाख 97 हजार 618 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 3 लाख 91 हजार 104 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 2 लाख 91 हजार 302 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 2 लाख 12 हजार 154 मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 3 लाख 96 हजार 372 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 3 लाख 47 हजार 388 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 89 हजार 799 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 64 हजार 594 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 67 हजार 994 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 94 हजार 253 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में एक लाख 11 हजार 326 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

 

03-01-2021
कबीरधाम जिला धान खरीदी में पूरे प्रदेश में अव्वल

रायपुर/कवर्धा। खरीफ विपणन में पंजीकृत किसानों से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी करने पर कबीरधाम जिला पूरे प्रदेश में टॉप पर पहुंच गया है। कबीरधाम जिले में समर्थन मूल्य पर शुरू हुई धान खरीदी से लेकर अब तक एक माह में 77 हजार 454 पंजीकृत किसानों से कुल 25 लाख 90 हजार क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है, जिसकी राशि 478 करोड़ 50 लाख रुपए है। इस प्रकार 77 प्रतिशत पंजीकृत किसानों के द्वारा पंजीकृत धान के रकबे में से 65 प्रतिशत रकबा के विरुद्ध धान का विक्रय किया जा चुका है। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने कहा कि जिले के सभी पंजीकृत किसानों से धान की खरीदी की जाएगी। उन्होंने किसानों से धान खरीदी के संबंध में फैलाई जा रही अफवाहों को ध्यान नहीं देने की अपील करते हुए कहा कि धान खरीदी केन्द्रों प्रतिदिन के धान क्षमता के आधार पर किसानों को टोकन जारी किया जा जा रहा है। धान खरीदी कार्य किसी भी प्रकार का प्रभावित नहीं होने दिए जाएंगे, इसके लिए सतत निगरानी रखी जा रही है। कलेक्टर ने कहा कि जिले में अब तक जिस प्रकार धान खरीदी केन्द्रों में किसानों से निरंतर जिला प्रशासन को सहयोग मिल रहा है, आज उसी का परिणाम है कि जिले में सुगम और शांति पूर्ण ढंग से धान खरीदी हो रही है।कबीरधाम जिले में 94 धान खरीदी केन्द्र है। जिले में पंजीकृत किसानों की संख्या एक लाख सात सौ ग्यारह है। पंजीकृत धान का रकबा 108812 है। 2.5 एकड़ से कम भूमि धारित करने वाले पंजीकृत जिले में 64 हजार 90 किसानों है, जिसमें से 50 हजार 90 किसानों की धान का विक्रय कर चुके हैं इनके द्वारा अब तक कुल 9 लाख 52 हजार 390 क्विंटल धान का विक्रय किया जा चुका है जिसकी लागत 179 करोड़ है। जिले में 2.5 एकड़ से 5 एकड़ तक की भूमि धारित करने वाले पंजीकृत 24 हजार 8 सौ 78 किसानों में से 18 हजार 918 किसानों के द्वारा 9 लाख 22 हजार 888 क्विंटल धान का विक्रय किया गया है जिसकी राशि 174 करोड रुपए है। इस प्रकार 78 प्रतिशत पंजीकृत सीमांत लघु किसानों के द्वारा धान का विक्रय किया गया है। धान खरीदी शुरू होने से लेकर अब तक पिछले एक महिने में कुल पंजीकृत एक लाख 711 किसानों में से 77 हजार 454 किसानों से कुल 25 लाख 90 हजार क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है, जिसकी राशि 478 करोड 50 लाख रुपए है। इस प्रकार 77 प्रतिशत पंजीकृत किसानों के द्वारा पंजीकृत धान के रकबे में से 65 प्रतिशत रकबा के विरुद्ध धान का विक्रय किया जा चुका है।

वर्ष 2020 से कोविड 19- कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण लाकडाउन एवं अन्य कारणों से बारदाना तैयार नहीं होने के कारण कबीरधाम जिले में आवश्यक नए बारदाना प्राप्त नहीं होने से धान की व्यवस्था प्रभावित ना हो करके राईस मिलर और पीडीएस दुकानों में गत वर्षों के उपलबध शत प्रतिशत बारदाना का उपयोग अभी तक की धान खरीदी में किया गया है। वर्तमान बारदानों की कमी की देखते हुए धान खरीदी की व्यवस्था को बनाए रखने के उद्देश्य से कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा द्वारा किसानों से उनके धान की खरीदी के लिए आवश्यक बारदानों के 50 प्रतिशत बरदाना शासकीय दर पर उपलब्ध कराने की अपील की गई थी, जिसके परिणाम भी अच्छे आए हैं और किसानों के द्वारा बारदाना उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला कलेक्टर शर्मा ने किसानों को आश्वस्त करते हुए कहा कि जिले में जो भी पंजीकृत किसानों के द्वारा धान खरीदी के लिए टोकन दिया जाएगा उनका धान अवश्य रूप से खरीदा जाएगा। किसानों को किसी भी प्रकार की अफवाह पर ध्यान नहीं देने के लिए आग्रह किया गया है। वर्तमान में जिले में बारदाना की कमी को देखते हुए 15 जनवरी तक उन किसानों को टोकन जारी कर धान खरीदी की जाएगी जिनके द्वारा न्यूनतम 50 प्रतिशत धान खरीदी के लिए दी जाएगी। कलेक्टर ने बताया कि कि जिले में 15 जनवरी तक जिले में बारदाना समुचित मात्रा में प्राप्त हो जाएगा। जो किसान बारदाना की व्यवस्था नहीं कर पा रहे हैं उनका धान 15 जनवरी के बाद खरीदी की जाएगी। इस प्रकार जिला प्रशासन के द्वारा धान खरीदी की व्यवस्था बनाया गया है, जिला कलेक्टर के द्वारा सभी किसानों को धान खरीदी प्रारंभ होने से आज तक तक धान खरीदी व्यवस्था में जिला प्रशासन का साथ देने के लिए धन्यवाद देते हुए आगामी एक माह भी इसी प्रकार का साथ देने की अपील करते हुए सभी किसानों को आश्वस्त करते हुए कहा कि जो पंजीकृत किसान धान विक्रय करना चाहता है उसे व्यवस्था अनुसार टोकन जारी कर उनका धान निर्धारित समय अवधि में अवश्य खरीदा जाएगा।

01-01-2021
प्रदेश में 52.64 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी,अब तक 13.47 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 1 जनवरी तक 52 लाख 64 हजार 330 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 13 लाख 47 हजार 270 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। राज्य के मिलरों को 15 लाख 40 हजार 584 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। इसके विरुद्ध मिलरों ने अब तक 12 लाख 39 हजार 270 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है। खरीफ वर्ष 2020-21 में 1 जनवरी 2021 तक राज्य के बस्तर जिले में 67 हजार 780 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 30 हजार 989 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 6 हजार 524 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में एक लाख 65 हजार 169 मीट्रिक टन, कोंडागांव जिले में 77 हजार 512 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 10 हजार 163 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 18 हजार 910 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 2 लाख 82 हजार 594 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 41 हजार 74 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 5 लाख 12 हजार 436 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 62 हजार 756 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 2 लाख 8 हजार 484 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

इसी तरह रायगढ़ जिले में 3 लाख 26 हजार 268 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 3 लाख 24 हजार 332 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 3 लाख 58 हजार 60 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 2 लाख 51 हजार 312 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 2 लाख 58 हजार 332 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 4 लाख 40 हजार 725 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 3 लाख 40 हजार 450 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 2 लाख 56 हजार 936 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में एक लाख 86 हजार 907 मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 3 लाख 44 हजार 959 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 3 लाख 12 हजार 210 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 77 हजार 860 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 55 हजार 821 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 57 हजार 998 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 84 हजार 548 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में एक लाख 3 हजार 222 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

28-12-2020
छत्तीसगढ़ में 42.79 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी, अब तक 11.19 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 28 दिसंबर तक 42 लाख 79 हजार मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 11 लाख 19 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। राज्य के मिलरों को 13 लाख 77 हजार 410 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। इसके विरुद्ध मिलरों ने अब तक 9 लाख 95 हजार 196 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है। जिलेवार जारी आंकड़ों के मुताबिक 28 दिसंबर तक राज्य के बस्तर जिले में 54 हजार 329 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बीजापुर जिले में 21 हजार 608 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 4 हजार 357 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में एक लाख 36 हजार 481 मीट्रिक टन, कोंडागांव जिले में 63 हजार 658 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 7 हजार 794 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 13 हजार 660 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 2 लाख 28 हजार 495 मीट्रिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 32 हजार 16 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 4 लाख 11 हजार मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 47 हजार 870 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में एक लाख 72 हजार 224 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

इसी तरह रायगढ़ जिले में 2 लाख 72 हजार 846 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 2 लाख 64 हजार 656 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 2 लाख 84 हजार 509 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 2 लाख 6 हजार 915 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 2 लाख 10 हजार 250 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 3 लाख 62 हजार 146 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 2 लाख 73 हजार 839 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 2 लाख 8 हजार 932 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में एक लाख 54 हजार 42 मीट्रिक टन, महासमुंद जिले में 2 लाख 79 हजार 249 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 2 लाख 55 हजार 594 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 60 हजार 202 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 44 हजार 980 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 41 हजार 838 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 71 हजार 489 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में 92 हजार 899 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

 

23-12-2020
बारदाना उपलब्ध नहीं करवाने पर सात उचित मूल्य दुकानें निलंबित

जांजगीर चाम्पा। राज्य सरकार के निर्देशानुसार खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य में धान उपार्जन के लिए पीडीएस बढ़ाने का उपयोग किया जा रहा है। धान उपार्जन के लिए पीडीएस बारदाना उपलब्ध कराने संबंधित क्षेत्र के उचित मूल्य दुकान संचालकों को निर्देशित किया गया है। निर्धारित संख्या से कम बारदाना उपलब्ध कराने पर आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के तहत नवागढ़ और बलोदा विकासखंड के विभिन्न शासकीय उचित मूल्य दुकानों का आवंटन लोकहित में निलंबित कर दिया गया है। डिप्टी कलेक्टर मेनका प्रधान ने बताया कि संबंधित क्षेत्र के लोग उचित मूल्य दुकान संचालकों को चालू खरीफ विपणन वर्ष में धान उपार्जन के लिए बारदाना उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया गया था। निर्धारित मात्रा से कम बारदाना उपलब्ध करवाने पर उचित मूल्य दुकानों का संचालन लोकहित में निलंबित किया गया है। इनमें नवागढ़ विकासखंड के ग्राम कामता, भैंसदा, बेल्हा,घुठिया, बलौदा विकासखण्ड के ग्राम पंतोरा व नवापारा ख के शासकीय उचित मूल्य को निलंबित कर दिया गया है।

 

20-12-2020
जिले के उपार्जन केंद्रों में अब तक 26 हजार 339 मेट्रिक टन धान का मिलिंग  

रायपुर/महासमुंद। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के लिए समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन का कार्य अपनी पूर्ण गति से चल रहा है। जिलें में वर्तमान में 138 उपार्जन केंद्रों के माध्यम से 60 हजार 303 किसानों से 1 लाख 96 हजार 202.32 मेट्रिक टन धान की खरीदी की जा चुकी है। जिले में 110 उपार्जन केंद्रो से 84 हजार 860 मेट्रिक टन धान का डीओ जारी किया जा चुका है। इसमें अभी तक जिले में 26 हजार 339.4 मेट्रिक टन धान की उठाव हो चुका है। बाकी धान का उठाव जारी है। इस वर्ष किसानों के माध्यम से बेची गई फसल का भुगतान सीधे पब्लिक फाइनेंसियल मैनेजमेंट सर्विस के माध्यम से किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त तकनीकी कारणों से किसानों के रकबा में जो त्रुटि हुई थी, उसका सुधार भी ऑनलाइन माध्यम से किया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 के कारण जहां सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है। सभी औद्योगिक कार्य बंद रहे हैं।

ऐसी स्थिति में भी जिले में धान सुचारू रूप से उपार्जन के लिए पर्याप्त मात्रा में बारदाना की व्यवस्था जिला प्रशासन के माध्यम से विभिन्न माध्यम से की गई है। अधिकारियों ने बताया कि जिले में पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध है। वहीं धान मिलर्स के माध्यम से भी उपार्जन केंद्रों में बारदाना की नियमित रूप से आपूर्ति की जा रही है। मिलर्स के माध्यम से प्रदाय किए जा रहे बारदानों को पहले सत्यापन किए जाने के बाद ही उपार्जन केंद्रों में भेजा रहा है। उपार्जन केंद्रों के माध्यम से उपार्जित धान का परिवहन का कार्य भी जिले में मिलर के माध्यम से प्रारंभ हो गया है। अगर पूरे प्रदेश की बात करें तो 17 दिसंबर तक 2876554.76 मेट्रिक टन धान की खरीदी हुई है, जिसमें 727639 मेट्रिक टन धान का डीओ जारी किया जा चुका है। 321677.36 मेट्रिक टन धान का अब तक उठाव हुआ है। महासमुंद जिला धान खरीदी के मामले में पूरे छत्तीसगढ़ में तीसरे पायदान पर है।

17-12-2020
जिले के उपार्जन केंद्रो में 38 हजार 92 क्विंटल धान की हुई खरीदी

 

रायपुर/ नारायणपुर। वर्तमान में खरीफ विपणन वर्ष 2020.21 में नारायणपुर जिले के  उपार्जन केन्द्रों एड़का, छोटेडोंगर, नारायणपुर, बिजली, झारा, धौड़ाई, बाकुलवाही, बेनुर और ओरछा में बीते 16 दिसंबर तक कुल 38 हजार 92 क्विंटल खरीदी गई है। जिला विपणन अधिकारी से मिली जानकारी अनुसार जिले में सबसे अधिक धान उपार्जन केन्द्र एड़का में 7 हजार 728 क्विंटल धान की ख़रीदी की गई। इसके साथ ही छोटेडोंगर में 1 हजार 878 क्विंटल, धौड़ाई में 2 हजार 806 क्विंटल, झारा में 2 हजार 896 क्विंटल, बेनुर में 7 हजार 78 क्विंटल, बाकुलवाही में 6 हजार 323 क्विंटल, नारायणपुर में 5 हजार 253 क्विंटल, बिंजली में 3 हजार 876 क्विंटल और ओरछा धान खरीदी केन्द्र में 251 क्विंटल धान की खरीदी की गयी है।

कलेक्टर अभिजित सिंह ने खरीदी के लिए सभी जरूरी इंतजाम करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा है कि किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। खरीदी केन्द्रों में पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध रहना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने उपार्जन केन्द्रों के लिए नियुक्त किये गये नोडल अधिकारियों को सतत मॉनिटरिंग करने के भी निर्देश दिये हैं।

 

 

10-12-2020
छत्तीसगढ़ में 10 दिसंबर तक 15.47 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 10 दिसंबर तक 15 लाख 47 हजार 611 मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 4 लाख 31 हजार 656 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। राज्य के मिलरों को अब तक 2 लाख 14 हजार 749 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया जा चुका है। इसके विरुद्ध मिलरों ने 11 हजार मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया है।खरीफ वर्ष 2020.21 में 10 दिसंबर तक राज्य के महासमुंद जिले में 1 लाख 17 हजार 735 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बस्तर जिले में 15 हजार 561 मीट्रिक टनए बीजापुर जिले में 3 हजार 280 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ाजिले में 695 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 49 हजार 230 मीट्रिक टन, कोंडागांव जिले में 24 हजार 675 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 1 हजार 715 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 2 हजार 731 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 79 हजार 979 मीट्रिक टन, गौरेला.पेण्ड्रा.मरवाही 11 हजार 256 मीट्रिक टन, जांजगीर.चांपा जिले में 1 लाख 7 हजार 920 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 12 हजार 457 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 63 हजार 61 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।

इसी तरह रायगढ़ जिले में 87 हजार 716 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 1 लाख  5 हजार 816 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 1 लाख 12 हजार 469 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 80 हजार 403 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 82 हजार 256 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में एक लाख 40 हजार 868 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 1 लाख 238 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 79 हजार 748 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 63 हजार 464 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 1 लाख 3 हजार 779.64 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 16 हजार 317 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 13 हजार 342 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 13 हजार 103 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 24 हजार 650 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में 30 हजार 145.88 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

 

 

09-12-2020
प्रदेश में अब तक 13.21 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी,किसानों को 1563 करोड़ रुपए का भुगतान

रायपुर। खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 9 दिसंबर तक 13 लाख 21 हजार मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 3 लाख 69 हजार 561 किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। इनमें से 3 लाख 34 हजार 256 किसानों को 1 हजार 563 करोड़ रुपए का ऑनलाइन भुगतान किया गया है। राज्य के मिलरों को 1 लाख 9 हजार 433 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया जा चुका है। इसके विरुद्ध मिलरों ने 3 हजार 437 मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया है।
खरीफ वर्ष 2020-21 में 9 दिसंबर तक राज्य के महासमुंद जिले में 1 लाख 3 हजार 913 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

इसी प्रकार बस्तर जिले में 12 हजार 839 मीट्रिक टन, बीजापुर जिले में 2 हजार 473 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 561 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 41 हजार 502 मीट्रिक टन, कोंडागांव जिले में 21 हजार 81 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 1 हजार 268 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 2 हजार 70 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 69 हजार 76 मीट्रिक टन, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही 9 हजार 7483 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 87 हजार 978 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 9 हजार 471 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 52 हजार 630 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।इसी तरह रायगढ़ जिले में 73 हजार 148 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 91 हजार 522 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 96 हजार 609 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 69 हजार 271 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 73 हजार 670 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 1 लाख 21 हजार 648 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 86 हजार 701 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 68 हजार 68 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 54 हजार 983 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 90 हजार 180 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 13 हजार 203 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 11 हजार 171 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 10 हजार 794 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 20 हजार 725 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में 24 हजार 670 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

07-12-2020
पिसौद उपार्जन केंद्र में 300 टोकन कटे, 3265 क्विंटल की धान खरीदी

जांजगीर-चांपा। राज्य सरकार की योजना के तहत खरीफ विपणन वर्ष 2020- 21 की धान खरीदी 1 दिसंबर से प्रारंभ हो गई है। जांजगीर-चांपा जिले के किसानों में समर्थन मूल्य पर धान बेचने और राजीव गांधी किसान न्याय योजना का लाभ मिलने से किसानों में जबरदस्त उत्साह देखा जा रहा है। बलौदा ब्लॉक के पिसौद उपार्जन केंद्र में अब तक 300 से अधिक किसानों को टोकन जारी किया जा चुका है। इसमें से 83 किसानों ने कुल 3265 क्विंटल से ज्यादा धान विक्रय किया है। पिसौद  गांव के युवा किसान केवल प्रसाद ने बताया कि करीब 4 एकड़ की खेती में वहकरीब 60  क्विंटल धान बेच रहे हैं। विगत वर्ष किसान न्याय योजना के तहत मिले तीन किस्तों से खेती किसानी  को बेहतर बनाने में उपयोग किए हैं।  

इसी गांव के किसान पुरषोत्तम साहू ने बताया कि वह इस वर्ष 83 क्विंटल धान बेचने के लिए 4 दिन पहले उसने टोकन कटाया था। आज वे धान  लेकर उपार्जन केंद्र पहुंचे हैं।  उन्होंने टोकन व्यवस्था की तारीफ करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने किसानों की सहूलियत का पूरा ध्यान रखा है । राज्य सरकार की किसान हितैषी योजनाओं से खेती किसानी को प्रोत्साहन मिला है। धान बेचने में किसी प्रकार की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ रहा है। उपार्जन केंद्रों में क्षमता के अनुसार ही टोकन जारी किया जा रहा है। उन्होंने राज्य सरकार को किसान हितैषी बताते हुए आभार व्यक्त किया है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804