GLIBS
19-10-2020
प्रदीप साहू ने कहा- वोट नहीं,न्याय मांगने मरवाही के घर-घर और बाजारों में जाएंगे जोगी कांग्रेसी

रायपुर। युवा जेसीसीजे नेता प्रदीप साहू ने कहा है कि मरवाही की जनता से वोट मांगने नहीं, न्याय मांगने जाएंगे। जिस तरह से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने षडयंत्र करते हुए जोगी परिवार को चुनाव से बाहर किया। उनके नामांकन रद्द कर दिए। जाति पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया गया। कहीं न कहीं ये जोगी परिवार के साथ अन्याय हुआ है। 17 अक्टूबर को काला दिवस के रूप में मनाया जाएगा। मरवाही की जनता को छला गया है, मरवाही की जनता के साथ अन्याय हुआ है। इस अन्याय के लिए न्याय मांगने हम मरवाही के घर-घर, हाट बाजारों तक जाएंगे। मरवाही की जनता को बताएंगे कि किस तरह से कांग्रेस की सरकार ने हमारे साथ अन्याय किया है। प्रदीप ने कहा है कि अजीत जोगी किसी दल के नेता नहीं थे, वो दिल के नेता थे। वो कहते भी थे कि मरवाही में उनकी आत्मा बसती है। गौरेला पेंड्रा मरवाही में उनका रक्त प्रवाह होता है। प्रदीप ने विश्वास जताया है कि मरवाही की अदालत में जनता सच और झूठ का फैसला करेगी। पूरा विश्वास है फैसला होगा और हमें न्याय मिलेगा।

 

 

08-05-2020
राज्यपाल को ज्ञापन सौंपकर रविशंकर विश्वविद्यालय को बंद करने की मांग, पढें खबर...

रायपुर। छत्तीसगढ़ छात्र संगठन ने राज्यपाल अनुसुईया उइके को ज्ञापन सौंपकर कन्टेनमेंट जोन पं रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय को तत्काल प्रभाव से बंद करने की मांग की है। प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप साहू ने कहा कि पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय आमानाका से लगे कुकुरबेड़ा में एक पॉजिटिव मिला है। इससे क्षेत्र की जनता के साथ ही पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कर्मचारी भी दहशत में हैं। क्योंकि विश्विद्यालय के बाउंड्रीवाल से ही घनी आबादी वाला झुग्गी बाहुल्य क्षेत्र है। विश्विद्यालय के 90 प्रतिशत सफाई कर्मचारी, सुरक्षा गार्ड और अधिकतर कर्मचारी कुकुरबेडा में निवास करते हैं। शायद विश्वविद्यालय प्रशासन इसको हल्के में ले रहा है। प्रदीप साहू ने कहा कि कुकुरबेड़ा में कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद जिला दंडाधिकारी रायपुर ने कुकुरबेड़ा, आमानाका और पंडित रविशंकर शुक्ल विश्विद्यालय के मुख्य द्वार को कंटेन्मेंट जोन घोषित कर दिया है। इस क्षेत्र के सभी संस्थानों को तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश जारी दिया कर गया है। प्रदीप ने कहा कि परंतु विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा गम्भीरता पूर्वक पालन नहीं किया जा रहा है। प्रदीप साहू ने राज्यपाल ने निवेदन किया कि रविशंकर विश्विद्यालय को भी कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए विश्विद्यालय के अधिकारियों, कर्मचारियों के हित में आगामी आदेश तक  इसे तत्काल प्रभाव से  बंद किए जाने की कृपा करें।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804