GLIBS
22-08-2019
राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, सहित अनेक राजनेताओं ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को जन्मदिन की दी शुभकामनाएं

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को कल 23 अगस्त को उनके जन्म दिवस पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उप राष्ट्रपति एम. वैंकेया नायडू सहित पंजाब के राज्यपाल और केन्द्र शासित प्रदेश चण्डीगढ़ के प्रशासक व्ही.पी. सिंह बदनोर ने बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। राष्ट्रपति श्री कोविंद ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर उनके स्वस्थ, सुदीर्घ और खुशहाल जीवन के लिए शुभकामनाएं देते हुए आशा जताई है कि वे लगातार अनेक वर्षों तक समर्पण के साथ देश की सेवा में संलग्न रहेंगे। उप राष्ट्रपति  वैंकेया नायडू और पंजाब के राज्यपाल बदनोर सहित अनेक राजनेताओं और जनप्रतिनिधियों ने भी मुख्यमंत्री के लिए मंगल कामनाएं की हैं।

22-08-2019
मुख्यमंत्री 24 अगस्त को करेंगे गोंदवारा रेलवे ओव्हरब्रिज का लोकार्पण

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राजधानी रायपुर में सुगम आवागमन के लिए 24 अगस्त को गुढ़ियारी-गोंदवारा मार्ग पर नवनिर्मित रेलवे ओव्हरब्रिज का लोकार्पण करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता लोकनिर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू करेंगे। इसका लोकार्पण कार्यक्रम 24 अगस्त को सुबह 11 बजे गोंदवारा रेलवे ओव्हरब्रिज, गुढ़ियारी में होगा। यह रेलवे ओव्हरब्रिज उरकुरा-सरोना बायपास में गुढ़ियारी-गोंदवारा मार्ग पर निर्मित है। कार्यक्रम में कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे, लोकसभा सांसद सुनील सोनी, राज्यसभा सांसद छाया वर्मा, विधायक रायपुर ग्रामीण सत्यनारायण शर्मा, विधायक रायपुर दक्षिण बृजमोहन अग्रवाल, विधायक रायपुर उत्तर कुलदीप सिंह जुनेजा, विधायक पश्चिम रायपुर विकास उपाध्याय और महापौर प्रमोद दुबे विशिष्ट अतिथि होंगे।

 

22-08-2019
मुख्यमंत्री के जन्मदिन पर विशेष: पुरखों के सपने होंगे साकार,लोगों की बढ़ी क्रय शक्ति, बढ़ा मान-सम्मान 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में पुरखों के सपनों को साकार करने के लिए तेजी से फैसले लिए जा रहे हैं। जनता की नब्ज को पहचानते हुए मुख्यमंत्री ने हाल के 6-7 माह में प्रदेश की कृषि आधारित अर्थव्यवस्था में क्रांतिकारी बदलाव लाने के लिए कई निर्णय लिए हैं। औद्योगिक वातावरण को बदलने के लिए खनिज आधारित उद्योगों के स्थान पर कृषि आधारित नए उद्योगों की स्थापना के लिए पहल की जा रही है, इससे जहां स्थानीय स्तर पर नए रोजगार के अवसरों का सृजन होगा वहीं किसानों और वनाचलों में वनोपज का संग्रहण करने वाले परिवारों की आमदनी में वृद्धि होगी।  नई सरकार के गठन और उनके द्वारा लिए जा रहे नए फैसलों और कदमों से नई उम्मीदें जागी है। किसान हितैषी फैसलों से प्रदेश में विकास, विश्वास और उत्साह का नया वातावरण बना है। लोगों की क्रय शक्ति बढ़ने के साथ ही उनका मान-सम्मान भी बढ़ा है। 

मुख्यमंत्री के किसान पुत्र होने और अविभाजित मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में मिले प्रशासनिक अनुभव का लाभ प्रदेश में विभिन्न विभागों के संचालन और नीति निर्धारण में मिल रहा है। छत्तीसगढ़ी भाषा में लोगों को सम्बोधित करना उनकी खासियत है। उनकी भाषा में छत्तीसगढ़ की मिठास और अपनी माटी की सौंधी महक मिलती है। विपक्ष में रहते हुए उन्होंने किसानों के मुद्दों पर हमेशा पैनी नजर रखी। अपने कार्यक्रमों में छत्तीसगढ़ के पुरखों को आदर और सम्मान देना नहीं भूलते। आधुनिक ज्ञान विज्ञान में उनकी गहरी रूचि है। वे नदी-नालों के पुनर्जीवन के लिए आधुनिक तकनीक पर विशेष बल देते हैं। श्री बघेल विद्यार्थियों को हमेशा वैज्ञानिक सोच और आधुनिक तकनीकों के उपोग के प्रति सजग रहने की समझाईश देते हैं। उनका मानना है कि हमारे देश ने आचार्य चरक, सुश्रुत, आर्यभट्ट और नागार्जुन जैसे महान वैज्ञानिक दिए लेकिन उन्नीसवीं सदी तक हम ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में पिछड़ गए। इसका मुख्य कारण हमने सवाल पूछना बंद कर दिया है। उनका मानना है कि आज की ज्वलंत समस्याओं के समाधान के लिए हमें शोध पर ध्यान देना होगा। 

मुख्यमंत्री श्री बघेल नें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की ग्राम और ग्रामीणों के विकास की अवधारणा के अनुरूप ग्रामीण जनजीवन को खुशहाल बनाने के लिए छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी नरवा, गरवा घुरवा बाड़ी को आधार बनाकर सुराजी गांव योजना शुरू की है। छत्तीसगढ़ की सतरंगी संस्कृति पर आम जनता को स्वाभिमान और गर्व की अनुभूति जगाने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा हरेली, तीज , छठ, मां कर्मा जयंती और विश्व आदिवासी दिवस पर सामान्य अवकाश की घोषणा से लोगों में उत्साह का वातावरण है। ग्रामीण जनजीवन पर इसका खासा असर दिख रहा है। हाल में ही एक अगस्त को नए स्वरूप में हरेली तिहार मनाया गया। इसमें छत्तीसगढ़ की संस्कृति की बानगी देखते बनती थी। लोगों में ऐसा स्वस्फूर्त उत्साह पहली बार दिखा। इस उत्साह मेें मुख्यमंत्री सहित प्रदेश के सभी मंत्री शामिल हुए। गांवों के लोगों को रोजगार और उनकी आमदनी बढ़ाने के लिए छत्तीसगढ़ के गांवों में पौनी पसारी योजना से गांवों में परम्परागत रूप से लोहार, धोबी, और नाई आदि का काम करने वाले लोगों के लिए नगरीय क्षेत्रों में बाजार का निर्माण करने से इन परम्परागत रूप से काम करने वालों को सीधा फायदा होगा। जन चौपाल-भेंट मुलाकात के जरिए आम जनता से नजदीकी बनाए रखने की कोशिश की जा रही है इन मुलाकातों में लोगों से फीड बेक लेने के साथ ही उनकी समस्याओं और तकलीफें भी सुनी जा रही हैं।

प्रदेश की अर्थ व्यवस्था को गति देने के लिए किसानों को धान का प्रति क्विंटल ढाई हजार रूपए और अल्पकालीन कृषि ऋण मुक्ति का ऐतिहासिक फैसला लिया है, इससे जहां उद्योग और व्यापार जगत में तेजी आयी है। आटोमोबाइल सेक्टर में जहां मंदी का माहौल है वहीं छत्तीसगढ़ में 26 प्रतिशत की उछाल देखा गया है। मध्यम और कमजोर वर्ग को राहत देने के लिए भूमि की गाइड लाइन दरों में 30 प्रतिशत की कमी की गई है। साथ ही 5 डिस्मिल से छोटे भूखंडों की रजिस्ट्री पर लगा प्रतिबंध हटा दिया गया है। शासन से अुनमोदित रियल ईस्टेट के प्रोजेक्ट पर मकान की रजिस्ट्री दर 4 प्रतिशत से घटाकर 2 प्रतिशत कर दिया गया है। नामांतरण और डायवर्सन प्रकरणें को लोक सेवा गारंटी योजना में शामिल कर समय सीमा में निराकरण करने से शहरों में मकान और भूखंड खरीदना आसान हो गया है। अब किसी भी आवासीय प्रोजेक्ट के लिए जरुरी सभी तरह की एनओसी लेने के लिए सिंगल विंडो सिस्टम लागू करने का फैसला लिया गया है।

मुख्यमंत्री का मानना है कि किसानों की उन्नति के लिए खनिज आधारित उद्योगों के स्थान पर हमें कृषि आधारित उद्योगों की स्थापना करनी चाहिए जिससे स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर पैदा किए जा सकें, जिससे यहां उत्पादित कृषि उपज और वनोपज का बेहतर मूल्य यहां के निवासियों को मिल सके। उन्होंने नई उद्योग नीति में कृषि आधारित उद्योगों की स्थापना को विशेष प्राथमिकता देने की भी घोषणा की है। वनांचल में रहने वाले लोगों की दिक्कत को समझते हुए उन्होंने वन अधिकार कानून के तहत प्राप्त आवेदनों की पुनः समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं। इसी प्रकार वन क्षेत्रों में चिकित्सा और कुपोषण संबंधी दिक्कतों को दूर करने के लिए वनांचल के हाट बाजारों में चलित चिकित्सा इकाईयों के द्वारा इलाज की सुविधा प्रदान की जा रही है। वहीं आंगनबाड़ी केन्द्रों में गर्भवती और शिशुवती माताओं और बच्चों को सुपोषण अभियान के तहत पका हुआ गरमा-गरम भोजन देने की योजना भी प्रारंभ की गई है। 

मुख्यमंत्री श्री बघेल नें ग्रामीण जनजीवन को खुशहाल बनाने के लिए सुराजी गांव योजना में किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिए गांवों में नदी नालों के पुनर्जीवन के लिए छोटे-छोटे जल संचयन के संरचनाएं बनाने पर जोर दिया है। योजना के प्रथम चरण में लगभग दो हजार गांवों में माडल गौठानों का निर्माण किया जा रहा है। इन गौठानों में पशुओें के लिए डे-केयर की व्यवस्था होगी। यहां पशुओं के लिए चारागाह विकसित किए जा रहे हैं। यहां बायोगैस संयंत्र और दुग्ध उत्पादन तथा पशु नस्ल सुधार जैसे कार्य किए जाएंगे। किसानों के घरों में घुरवा को स्मार्ट घुरवा बनाने के लिए भी कार्य प्रारंभ किया गया है, इससे जैविक खाद का उत्पादन वहीं जैविक खेती को बढ़ावा मिलेगा। जैविक खाद से जहां खेती में रसायनिक खाद की कमी आएगी। वहीं कृषि लागत से कमी आएगी। किसानों की बाड़ी में जैविक सब्जी को प्रोत्साहन देने से ग्रामीण क्षेत्रों में पोषण स्तर बढ़ेगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा  लगातार जनता की बेहतरी के लिए निर्णय लिए जा रहे हैं। स्कूल, कॉलेजों में शिक्षकों की भर्ती, बस्तर के लोहाण्डीगुड़ा में उद्योग के लिए अधिगृहित भूमि किसानों को वापस करने, तेंदूपत्ता संग्रहण की दर बढ़ाकर चार हजार करने, 400 यूनिट तक बिजली बिल हाफ करने, दिव्यांगजनों के विवाह हेतु दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि बढ़ाकर एक लाख रूपए करने, एनएमडीसी के नगरनार प्लांट में ग्रुप डी और सी की भर्ती परीक्षा दंतेवाड़ा में कराने के ऐतिहासिक फैसले लिए गए। मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक विकेन्द्रीयकरण की दृष्टि से स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के नाम से नये जिले तथा 25 नई तहसीलों के गठन की घोषणा की है। इसी तरह अनुसूचित जातियों का आरक्षण 13 प्रतिशत और अन्य पिछड़ा वर्ग का आरक्षण 27 प्रतिशत करने की घोषणा की है। बस्तर और सरगुजा विकास प्राधिकरण के साथ मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरण के गठन की घोषणा के साथ ही इन प्राधिकरणों में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष स्थानीय विधायकों को बनाया गया है। जाति प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया का सरलीकरण करते हुए पिता के जाति प्रमाण पत्र के आधार पर बच्चे के जन्म के साथ ही बच्चे को जाति प्रमाण पत्र जारी किए जा रहे हैं। राज्य सरकार ने अपने फैसलों से ’गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ की दिशा में मजबूती से कदम बढ़ाये हैं। पुरखों के सपनों के अनुरूप एक ऐसे छत्तीसगढ़ के निर्माण का सपना साकार होगा, जहां समाज के सभी वर्ग सशक्त और खुशहाल होंगे और हमारी कृषि आधारित ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। 

 

20-08-2019
मुख्यमंत्री ने दी हलषष्ठी की शुभकामनाएं

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हलषष्ठी (हरछठ) के अवसर पर प्रदेशवासियों विशेषकर माताओं को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि हलषष्ठी के दिन माताएं अपने बच्चों के स्वास्थ्य और दीर्घायु के लिए व्रत रखकर प्रार्थना करती हैं। राज्य सरकार भी बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण सुरक्षा के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश में कुपोषण एक बड़ी समस्या है। आगामी 3 सालों में छत्तीसगढ़ को कुपोषण और एनीमिया से मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है। कुपोषण समाप्त करने के लिए दंतेवाड़ा जिले से शुरू हुए सुपोषण महाअभियान को 2 अक्टूबर गांधी जयंती के दिन से पूरे प्रदेश में चलाया जाएगा। इस अभियान के तहत कुपोषण और एनीमिया पीड़ितों को प्रतिदिन नि:शुल्क भोजन दिया जाएगा। श्री बघेल ने हरछठ के अवसर पर सभी बच्चों के स्वस्थ जीवन के लिए प्रार्थना करते हुए प्रदेशवासियों से अपील की है कि छत्तीसगढ़ से कुपोषण दूर करने के लिए सुपोषण महाभियान में आगे बढ़कर सक्रिय भागीदारी निभाएं।

20-08-2019
मुख्यमंत्री जनचौपाल से प्राप्त आवेदनों को लें गंभीरता से : कलेक्टर पाठक

जांजगीर-चाम्पा। कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक ने आज यहां कलेक्टोरेट सभाकक्ष में साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक ली। बैठक में उन्होंने जिले में संचालित विभिन्न विकास और निर्माण कार्यों की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा अपने रायपुर के सिविल लाइन स्थित मुख्यमंत्री निवास में जन-चौपाल, भेंट मुलाकात कार्यक्रम शुरू किया गया है।  कार्यक्रम में जिले के नागरिकों द्वारा समस्याओं और मांगों के संबंध में आवेदन  प्रस्तुत किए जा रहे हैं जो निराकरण के लिए जिला कलेक्टोरेट को आनलाइन प्राप्त हो रहा है। उन्होंने ऐसे आवेदनों को गंभीरता से लेने और सर्वोच्च प्राथमिकता से निर्धारित समय-सीमा में निराकरण करने के निर्देश दिए। इसी तरह उन्होंने प्रति साप्ताह जिला कार्यालय में आयोजित जनचौपाल में प्राप्त आवेदन पत्रों और निराकरण की भी जानकारी प्राप्त की और निराकरण के संबंध में निर्देश दिए। बैठक में उन्होंने जिले में राशनकार्डों के सत्यापन की प्रगति की जानकारी ली। बैठक में उन्होंने राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता की योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी के संबंध में किए गए कार्यों की प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि पशुधन के रखरखाव, संरक्षण और संवर्धन के लिए जिले में बड़े पैमाने पर गौठानों का निर्माण किया गया है। उन्होंने गौठानों में पशुधन के लिए किए गए पेयजल, शेड, चारा, चारागाह की व्यवस्था और पशुओं की संख्या आदि का निरीक्षण करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए। इसी तरह उन्होंने आनलाइन बनाये जा रहे जाति, निवास और आमदनी प्रमाण पत्रों की प्रगति की भी जानकारी ली। उन्होंने लक्ष्य के अनुरूप जाति, निवास और आमदनी प्रमाण पत्र नहीं बनाए जाने पर नाराजगी व्यक्त की और दोनों जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्धारित अवधि में जाति, निवास और आमदनी प्रमाण पत्र बनाने के निर्देश दिए। इस अवसर पर अपर कलेक्टर लीना कोसम, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  तीर्थराज अग्रवाल सहित विभिन्न विभागों के जिलास्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

20-08-2019
21 अगस्त को मुख्यमंत्री निवास पर जन चौपाल, भेंट-मुलाकात का आयोजन

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के रायपुर स्थित निवास में बुधवार 21 अगस्त को जनचौपाल, भेंट-मुलाकात का आयोजन किया जाएगा। जनचौपाल में मुख्यमंत्री लोगों से जनसमस्याओं, सुझावों, जनहितकारी योजनाओं के फीड बैक से अवगत होंगे और आमजनों तथा संस्थाओं के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगे। जन चौपाल का आयोजन सुबह 11 बजे से शुरू होगा।

20-08-2019
जन्माष्टमी उत्सव में गौ रत्न सम्मान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को

रायपुर। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव विकास समिति के तत्वाधान में दही हांडी लूट प्रतियोगिता के 11 वर्ष के आयोजन में विशेष तैयारी की जा रही है। जन्माष्टमी के अवसर पर समिति की ओर से विभिन्न पुरस्कारों की घोषणा की जाती है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को गोवर्धन गौ रक्षा के क्षेत्र में नरवा गरवा घुरवा बारी योजना को क्रियान्वित करने के लिए गौ रत्न सम्मान दिया जाएगा। समिति संयोजक माधव यादव ने उक्त जानकारी दी। 
माधव यादव ने बताया कि इस बार प्रतियोगिता में शामिल होने अन्य राज्यों से भी टीम आ रही है, जिसमें जबलपुर से 100 सदस्य टीम मटके फोडऩे आ रही है। उन्होंने अपना पंजीयन करा लिया है। इसके अलावा लड़कियों, महिलाओं और लड़कों की गोविंदा मंडली 37 टीमों ने भी अपना पंजीयन करा लिया है। प्रतियोगिता के अवसर पर छत्तीसगढ़ी कला संस्कृति को प्रदर्शित करते यादव नृत्य दल, शौर्य प्रदर्शन अखाड़ा दल अपनी विशेष प्रस्तुति देंगे।
प्रतियोगिता के अवसर पर उद्घाटन सत्र के मुख्यअतिथि छत्तीसगढ़ शासन के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कार्यक्रम की अध्यक्षता कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव और छत्तीसगढ़ प्रभारी चंदन यादव करेंगे। इसके अलावा महापौर प्रमोद दुबे, विधायक विकास उपाध्याय, विधायक राम कुमार यादव, विधायक सत्यनारायण शर्मा, विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे। पुरस्कार वितरण समारोह के मुख्य अतिथि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह होंगे तथा अध्यक्षता विधायक बृजमोहन अग्रवाल करेंगे।
प्रतिवर्ष विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वालों को पुरस्कृत किया जाता है इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ गौरव का सम्मान इस बार फोटोजर्नलिस्ट गोकुल सोनी को दिया जा रहा है तो दूसरी ओर पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम करने हेतु पत्रकार दामू अंबाडारे को दिया जाएगा। अन्य को कृष्ण मित्र सम्मान, छत्तीसगढ़ गौरव सम्मान, कृष्ण बलराम शौर्य सम्मान दिया जाएगा।
जानकारी देते हुए संयोजक माधव लाल यादव ने बताया कि इस बार खाली रथ लेकर भगवान श्रीकृष्ण को लेने सभी महिला पुरुष गोपाल मंदिर सदर बाजार जाएंगे। वहां से भगवान से आग्रह करेंगे कि वे रथ में बैठकर चले और दही हांडी प्रतियोगिता करें। इस हेतु बाजे गाजे के साथ सभी नर्तक दल और सदस्य चलेंगे। रात्रि के समय ठीक 12 बजे थाना सिटी कोतवाली में भगवान श्रीकृष्ण का बंदी गृह में जन्म उत्सव मनाया जाएगा।

 

18-08-2019
डॉ. महंत ने लड्डू बांटकर मुख्यमंत्री को दिया धन्यवाद, जानें क्या है वजह

रायपुर। गौरेला-पेंड्रा-मरवाही को जिला बनाये जाने पर 500 से अधिक स्थानीयजन छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत के निवास पहुंचे। महिलाओं ने जहां डॉ महंत को तिलक लगाकर आरती की वहीं पुरुषों ने शंख फूंक कर पुष्पमाला के साथ स्वागत किया और आभार जताया। इस अवसर पर डॉ चरणदास महंत ने बड़े-बुजुर्गों का चरणस्पर्श कर आशीवज़द लिया तथा आए सभी सम्माननितजनों को लड्डू खिलाकर उन्हें बधाई व शुभकामनाएं दीं।

विस अध्यक्ष डॉ महंत ने पेंड्रा-गौरेला-मरवाही को जिला घोषित किये जाने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को धन्यवाद ज्ञापित किया जिन्होंने लंबे समय से क्षेत्र की जनता की मांग पर उनके निवेदन को स्वीकार करते हुए यह ऐतेहासिक निर्णय लिया है।  डॉ महंत ने उपस्थितजनों को संबोधित करते हुए कहा कि निश्चित ही पेंड्रा-गौरेला-मरवाही जिला बनने से क्षेत्र की जनता को लाभ होगा। छोटे-छोटे काम के लिए लंबी दूरी तय नहीं करनी पड़ेगी और क्षेत्र के विकास में तेजी आएगी। हम सब मिलकर गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की परिकल्पना के साथ आगे बढ़ें, यही आप सभी से आग्रह है। इस अवसर पर विधायक गुलाब कमरो, मोहित केरकेट्टा, अटल श्रीवास्तव, विजय केसरवानी, राजेन्द्र शुक्ला, उत्तम वासुदेव, नरेंद्र बोलर, अभय नारायण राय, महेश दुबे, गुलाब सिग, वीभोर सिंग मनोज गुप्ता (ब्लॉक अध्यछ मरवाही) प्रशांत श्रीवास (ब्लॉक अध्यछ गौरेला) अमोल पाठक (ब्लॉक अध्यछ पेंड्रा) अशोक शर्मा  इकबाल सिंह,  सादिक भाई, घनश्याम ठाकुर, बून्द कुंवर, शंकर पटेल, नरेंद्र राय, सन्ध्या राव, तैय्यब हुसैन सहित बड़ी संख्या में बुजुर्ग, माताएं, बहनें, युवा साथी उपस्थित थे।

18-08-2019
मुख्यमंत्री को वन विकास निगम के 1.54 करोड़ लाभांश राशि का चेक सौंपा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आज यहां उनके निवास कार्यालय में वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने छत्तीसगढ़ राज्य वन विकास निगम द्वारा वर्ष 2017-18 में अर्जित की एक करोड़ 54 लाख रूपए की लाभांश राशि का चेक सौंपा और वन विकास निगम द्वारा किए जा रहे कार्यो की जानकारी दी। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव वन आर.पी. मंडल, प्रधान मुुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी, छत्तीसगढ़ राज्य वन विकास निगम के प्रबंध संचालक आर.के. गोवर्धन उपस्थित थे।

 

17-08-2019
आरक्षण की सीमा बढ़ाने पर विभिन्न संगठनों ने किया मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से शनिवार को उनके निवास कार्यालय में राज्यसभा सांसद छाया वर्मा के नेतृत्व में आए छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति, जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधिमंडल ने सौजन्य मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षण की सीमा बढ़़ाने पर आभार व्यक्त किया। उल्लेखनीय है कि 73वें स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने राज्य में अनुसूचित जनजातियों को 32 प्रतिशत, अनुसूचित जाति को 13 और पिछड़ा वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देने की घोषणा की है। प्रतिनिधिमंडल में छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति, जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग संघ के प्रांताध्यक्ष डॉ. लक्षमण प्रसाद भारती, आदिवासी शासकीय सेवक संघ के प्रांतीय उपाध्यक्ष डॉ. शंकरलाल उईके, डॉ. पवन साहनी, डॉ. आरपी रामटेके, फणेन्द्र भोई, एचके नेतराम, विद्युत मंडल अजाक्स के एसके ठाकुर, डब्ल्यू आर. वानखेड़े, अन्य पिछड़ा वर्ग संघ के आलोक चंद्रवंशी एवं अन्य संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित थे।
 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804