GLIBS
15-12-2019
उन्नाव दुष्कर्म केस : 16 दिसंबर को कोर्ट सुनाएगा विधायक सेंगर मामले पर फैसला

नई दिल्ली। दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट उन्नाव दुष्कर्म केस में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से जुड़े मामलों में सोमवार 16 दिसम्बर को फैसला सुनाएगा। कोर्ट ने 10 दिसम्बर को सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट इस मामले पर पिछले दो दिसम्बर से सभी पक्षों की दलीलें सुन रहा था। कोर्ट ने बचाव पक्ष के नौ और अभियोजन पक्ष के 13 गवाहों के बयान दर्ज किए थे। पिछले 24 अक्टूबर को कोर्ट ने पीड़ित और उसके परिवार के सदस्यों को दिल्ली में रहने की व्यवस्था करने का आदेश दिया था। कोर्ट ने दिल्ली महिला आयोग को इसका प्रबंध करने का निर्देश दिया था। पिछले एक अक्टूबर को कोर्ट ने उन्नाव के ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट का बयान दर्ज किया था। ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट ने दुष्कर्म पीड़ित की चाची का बयान दर्ज किया था। इस मामले में जिला एवं सत्र न्यायाधीश धर्मेश शर्मा ने पीड़ित की मां का भी बयान दर्ज किया। उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पीड़ित को पिछले 28 जुलाई को लखनऊ से दिल्ली एम्स में इलाज के लिए शिफ्ट किया गया था। पिछले 11 और 12 सितम्बर को जज धर्मेश शर्मा ने एम्स के ट्रॉमा सेंटर जाकर बने अस्थायी अदालत में पीड़ित का बयान दर्ज किया था।

11-09-2019
उन्नाव गैंगरेप केस : बयान दर्ज करने के लिए एम्स में लगी अदालत

नई दिल्ली। उन्नाव बलात्कार मामले में एम्स में बुधवार को अस्थायी अदालत लगाई गई। बलात्कार पीड़िता के बयान दर्ज करने के लिए जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा एम्स पहुंच गए हैं। मामले के एक प्रमुख आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को इसके लिए एम्स लाया गया। उसके साथ सह-आरोपी शशि सिंह को भी लाया गया है। भाजपा सेंगर को पार्टी से निष्कासित कर चुकी है। न्यायाधीश ने एम्स के जयप्रकाश नारायण एपेक्स ट्रॉमा सेंटर में एक अस्थायी अदालत स्थापित करने के निर्देश दिए थे, जहां महिला को 28 जुलाई को एक दुर्घटना के बाद भर्ती कराया गया था। उच्च न्यायालय ने इस मामले में शुक्रवार को अनुमति दी थी। उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को प्रशासनिक पक्ष से इस आशय की एक अधिसूचना जारी की, जिसमें कहा गया कि मामले की सुनवाई कर रहे विशेष न्यायाधीश शर्मा पीड़िता के बयान दर्ज करेंगे। महिला ने 2017 में सेंगर पर उसके साथ कथित तौर पर बलात्कार करने का आरोप लगाया था। घटना के वक्त वह नाबालिग थी। 28 जुलाई को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में हुए सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हुई पीड़िता फिलहाल जीवन के लिए जूझ रही है। उस दुर्घटना में उसकी मौसी और चाची दोनों की मौत हो गई थी। हादसे में उनका वकील भी घायल हो गया था।

28-08-2019
उन्नाव रेप केस में पीडि़ता के चाचा का बयान दर्ज

नई दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को बहुचर्चित उन्नाव रेप केस  की पीडि़ता के चाचा का बयान दर्ज किया। इस मामले में बीजेपी का निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर मुख्य आरोपी है। बयान की रिकार्डिग अधूरी रही और अब दो सितंबर तक चलेगी। पीडि़ता के चाचा की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उसे उत्तर प्रदेश की एक जेल से लाकर दिल्ली की तिहाड़ जेल में रखा गया था। उसे 19 साल पुराने एक मामले में दोषी ठहराया गया था और दस साल की कैद की सजा सुनाई गई थी। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट इस मामले से जुड़े सभी पांचों केस उत्तर प्रदेश से बाहर दिल्ली ट्रांसफर कर दिए थे। शीर्ष अदालत ने इस मामले की रोजाना सुनवाई के आदेश दिए थे। सुप्रीम कोर्ट की ओर से अपॉइंट जज इन सभी पांच केसों की सुनवाई करेंगे। ट्रायल 45 दिन के अंदर पूरा करना होगा। सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि हम पीडि़ता के लिए अंतरिम मदद की अपील भी स्वीकार करते हैं। यूपी सरकार को आदेश दिया जाता है कि वह पीडि़ता को अंतरिम मदद के तौर पर 25 लाख की सहायता राशि दे। बाद में जरूरत के हिसाब से आर्थिक मदद की राशि बुलाई जा सकती है। बता दें कि उन्नाव रेप केस मामले में पीडि़ता के पिता को झूठे आम्र्स केस में फंसाने और पुलिस हिरासत में उनकी मौत के मामले में बाहुबली विधायक सेंगर समेत अन्य के खिलाफ  दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने आरोप तय कर दिए हैं। कोर्ट ने हाल ही में सुनवाई करते हुए प्रथमदृष्टया पाया कि मामले में बड़ी साजिश रची गई है। कोर्ट के मुताबिक पुलिस मौके पर पहुंची थी, लेकिन उसने कोई हस्तक्षेप नहीं किया। साथ ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक पीडि़ता के पिता के शरीर पर 14 गंभीर चोट के निशान थे।

 

 

25-05-2019
फोन टेपिंग मामले में ईओडब्लयू तीन लोगों को लेकर पहुंची कोर्ट, 164 के तहत दर्ज होगा बयान

 

रायपुर। फोन टेपिंग मामले में निलंबित आईपीएस मुकेश गुप्ता और रजनेश सिंह के खिलाफ बयान दर्ज करवाने के लिए ईओडब्ल्यू की टीम ने आज तीन लोगों को लेकर कोर्ट पहुंची है। जहां तीनों का 164 के तहत बयान दर्ज करवाया जाएगा। बता दें कि आज ईओडब्ल्यू की टीम ने जोहित राम सहित अन्य दो को लेकर कोर्ट पहुंची है। जहां उन तीनों का पवन अग्रवाल के कोर्ट में 164 के तहत बयान दर्ज करवाया जाएगा।

निलंबित आईपीएस मुकेश गुप्ता को 21 मई को ईओडब्ल्यू के दफ्तर पहुंचना था मगर उन्होंने बेटी के बीमार होने का हवाला देते हुए अगली तारीख की मांग की थी। जिसके लिए उन्हें 6 जून की तारीख दी गई है। वहीं आईपीएस रजनेश सिंह 20 मई को अपना बयान दर्ज कराने ईओडब्लयू पहुंचे थे जहां उनसे महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर करीब 3 घंटे तक पूछताछ की गई थी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804