GLIBS
23-07-2020
मृत बेरोजगार युवक के मुद्दे को लेकर जिला भाजयुमो ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर ज्ञापन सौंपा

दुर्ग। युवक हरदेव सिन्हा द्वारा आत्मदाह करने व उपचार के दौरान मौत होने के मामले को लेकर प्रदेश भाजयुमो के निर्देशानुसार जिला भारतीय जनता युवा मोर्चा अध्यक्ष दिनेश देवांगन के नेतृत्व में लॉकडाउन के बीच कलेक्ट्रेट पहुंचकर ज्ञापन सौंपा गया। इसमें मृत युवक के परिजनों को 50 लाख रुपए मुआवजा एवं परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी की मांग की गई। सीएम के नाम ज्ञापन सौंपकर बेरोजगारों को नौकरी व भत्ता देने का वादा पूरा करने मांग की गई। ज्ञापन देने वालों में भाजयुमो जिला महामंत्री नितेश साहू, जिला उपाध्यक्ष राहुल पंडित जिला मंत्री राहुल दीवान,जिला प्रचार मंत्री राजा महोबिया उपस्थित थे। जिले में कोरोना संक्रमण रोकने 8 दिन के लॉकडॉउन के बीच आज इस मुद्दे पर प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में भाजयुमो द्वारा सरकार के नाम ज्ञापन सौंपकर विरोध दर्ज कराए जाने के कार्यक्रम के तहत जिला युवा मोर्चा द्वारा कलेक्टर सर्वेश्वर भूरे की अनुमति से जिला भाजयुमो के पांच पदाधिकारियों का दल जिला अध्यक्ष दिनेश देवांगन के नेतृत्व में कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर एसडीएम रविराज ठाकुर को ज्ञापन सौंपा। युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष दिनेश देवांगन ने कहा कि बेरोजगारी से नवयुवक हताश परेशान हो रहे हैं।

 

22-07-2020
हरदेव सिन्हा ने उपचार के दौरान तोड़ा दम,कांग्रेस ने कहा-भाजपा नेता इस मामले में कर रहे स्तरहीन राजनीति

रायपुर। सिविल लाइन क्षेत्र में आत्मदाह का प्रयास करने वाले हरदेव सिन्हा की आखिरकार उपचार के दौरान मौत हो गई। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस घटनाक्रम पर कहा है कि हरदेव सिन्हा की मौत की जिम्मेदार भूपेश सरकार है। आत्मदाह करने वाले युवक को मानसिक बीमार कह कर, उसके जख्मों पर नमक छिड़कने का काम भूपेश बघेल की सरकार ने किया है। डॉ. रमन सिंह के आरोपों पर पलटवार करते हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि, हरदेव सिन्हा का निधन बहुत ही दुख का विषय है। रमन सिंह जैसे वरिष्ठ नेता और भाजपा इस मामले में स्तरहीन राजनीति कर रहे हैं। रमन सिंह के ही कार्यकाल में तो हरदेव सिन्हा ने तो मुख्यमंत्री कार्यालय में आवेदन किया था।

इस पर रमन सिंह के समय कोई कार्यवाही नहीं हुई। रमन सिंह इस मामले में जिस तरह की राजनीति करना चाह रहे हैं, यह 15 वर्ष तक राज्य के मुख्यमंत्री रहे नेता को शोभा नहीं देता है। कोरोना की विषम परिस्थिति में रमन सिंह और भाजपा से जो राजनीति की जा रही वह बेहद दुखद है। त्रिवेदी ने कहा कि बच्चू लाल यादव की कवर्धा सीएम हाउस में आत्महत्या,योगेश साहू दिव्यांग युवक की सीएम हाउस में आत्महत्या, जांजगीर-चाम्पा जिले के बेरोजगार युवक मनीराम खूंटे की आत्महत्या और हर दिन 3 से अधिक किसानों की रमन सिंह सरकार में हुई आत्महत्या की घटनाओं को अभी लोग भूले नहीं हैं।

01-07-2020
शिक्षित बेरोजगारों के सामने आत्मदाह करने की नौबत प्रदेश सरकार की संवेदनहीनता की पराकाष्ठा : विजय शर्मा

रायपुर। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष विजय शर्मा ने प्रदेश में शिक्षित बेरोजगारों के सामने आत्मदाह करने की नौबत आ जाने को प्रदेश सरकार की संवेदनहीनता की पराकाष्ठा बताया है। उन्होंने मुख्यमंत्री बघेल से तत्काल इस्तीफे की मांग की है। विजय शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल छत्तीसगढ़ के मूल मुद्दों पर ध्यान देने के बजाय अपने सलाहकारों की लिखी स्क्रिप्ट पढ़ने में ही मशगूल रहते हैं। अब कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व को किसी समझ-बूझ रखने वाले जमीनी नेता को प्रदेश की बागडोर सौंप देनी चाहिए।भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पाँच लाख युवकों को रोजगार देने और शिक्षित बेरोजगारों को प्रतिमाह 2500 रुपए बेरोजगारी भत्ता देने का वादा करके कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद सारे वादे छलावा साबित हुए हैं। रोजगार नहीं मिलने के कारण अब सब ओर से हताश शिक्षित युवाओं के सामने आत्मदाह करने की नौबत कांग्रेस की सरकार ने पैदा कर दी है।

शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार अब धमतरी के आत्मदाह का प्रयास करने वाले युवक हरदेव सिन्हा को मानसिक रोगी बताकर अपनी जान छुड़ाने पर आमादा नजर आ रही है, जबकि हरदेव की पत्नी व पिता ने उसके मानसिक रोगी होने की बात को सिरे से खारिज किया है। प्रदेश सरकार बताए कि आखिर लॉक डाउन के समय प्रभावितों को राशन व अन्य सहायता सामग्री मुहैया कराने की जो बड़ी-बड़ी डींगें हाँकी जा रही हैं तो हरदेव के परिवार के हक व हिस्से का राशन और चावल कौन खा गया? शर्मा ने तंज कसा कि जिन कांग्रेस नेताओं को पकौड़े तलकर बेचने की सलाह में कोई रोजगार नहीं दिख रहा था, उसी कांग्रेस की सरकार को अब शिक्षित बेरोजगारों को शराब डिलीवरी ब्वॉय बनाने में रोजगार नजर आ रहा है।

28-06-2020
14 दिन पहले हुई थी शादी, युवती ने आत्मदाह कर दी जान

रायपुर। शहर के डबरी पारा स्थित दंतेश्वरी मंदिर के पीछे नवविवाहिता ने आत्मदाह कर जान दे दी। मिली जानकारी के मुताबिक उसका विवाह तेजराम ध्रुव के साथ 14 दिन पहले ही हुआ था। आत्मदाह के कारण फिलहाल पता नहीं चल पाया है। मामला पुरानी बस्ती थाना क्षेत्र का हैं। लेकिन कोरोना की वजह से डीडी नगर थाना पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है।

04-03-2020
छुट्टी के लिए दो बार आवेदन देने के बाद भी नहीं मिली अवकाश, आरक्षक ने दी आत्मदाह की चेतावनी

रायपुर। छुट्टी नहीं मिलने से नाराज पुलिस आरक्षक ने आत्मदाह की चेतावनी दी है। बता दें कि पुलिस मुख्यालय के गुप्त शाखा में पदस्थ एक आरक्षक को पारिवारिक कारणों से छुट्टी चाहिए थी। उसने आरोप लगाया है कि अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक हिमांशु गुप्ता अधिकारी कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर रहे हैं। यही कारण है कि सभी अधिकारी-कर्मचारी परेशान है। उन्होंने कहा है कि दो बार आवेदन देने के बाद भी उसे छुट्टी नहीं मिला है, जिसके कारण परेशान होकर उसने पुलिस मुख्यालय या राजभवन के सामने वह कभी भी आत्मदाह करने की चेतावनी दी है। 

02-03-2020
आईटीबीपी के जवान ने खुद को किया आग के हवाले, 70 प्रतिशत झुलसा

कांकेर। चारामा विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम उड़कुड़ा में आईटीबीपी का जवान आत्मदाह करने का प्रयास किया है। इसमें वह 70 प्रतिशत जल गया है। जिसे बेहतर इलाज के लिए रायपुर अस्पताल में भर्ती किया गया है। मिली जानकारी के अनुसार बीती शाम लगभग 7 बजे उड़कुड़ा निवासी दिनेश जुर्री जो कि आईटीबीपी में पदस्थ है। वह छुट्टी में गांव आया हुआ था किसी कारणवश उसने अपने घर मे खुद को आगलगकर आत्माहत्या करने का प्रयास किया जिसे परिजनों के द्वारा चारामा अस्पताल लाया गया था। डॉक्टरों ने उनकी स्थिति देखते हुए उसे रायपुर रेफर कर दिया। जहां उनका उपचार जारी है। वहीं डॉक्टरों ने बताया कि जवान का शरीर 70℅ जल गया था पर अभी तक आत्महत्या का कारण पता नहीं चल पाया है।

 

08-12-2019
उन्नाव दुष्कर्म मामला : पीड़िता की बहन बोली, आरोपियों को मिले एक सप्ताह में सजा वरना कर लूंगी आत्मदाह

नई दिल्ली। उन्नाव रेप केस की पीड़िता के शव का रविवार को अंतिम संस्कार किया गया, शव को घर से एक किमी दूर खेत में स्थित उनकी दादा-दादी की समाधि के पास ही दफनाया गया है। पीड़िता की बहन ने कहा कि अगर एक हफ्ते में आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह करूंगी। इससे पहले पीड़िता की बहन ने कहा था कि जब तक सीएम योगी आदित्यनाथ यहां नहीं आएंगे। तब तक वो शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे, साथ ही पीड़िता के परिजनों ने सरकारी नौकरी की डिमांड की थी। इसके बाद जिला प्रशासन के अधिकारियों ने पीड़िता की बहन को सरकारी नौकरी देने का आश्वासन दिया है, जिसके बाद परिजन अंतिम संस्कार के तैयार हो गए। बता दें कि पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये दिए गए हैं। पीड़िता की बहन को सरकारी नौकरी दी जाएगी और आवास योजना के तहत परिवार को मकान दिया जाएगा। इसके अलावा लड़की की बहन को महिला पुलिस की सुरक्षा भी दी जाएगी।

30-11-2019
महिला ने किया आत्मदाह, जांच में जुटी पुलिस

रायपुर। राजधानी के विधानसभा थाना क्षेत्र अंतर्गत दोंदे खुर्द गाँव मे एक महिला ने आत्मदाह कर लिया। मिली जानकारी के मुताबिक मृतक महिला का नाम रत्नाबाई पटेल पति रामकुमार उम्र 45 वर्ष है। मृतिका ने अपने घर मे ही खुद को आग के हवाले कर दिया, जिससे मौके पर ही उसकी मृत्यु हो गई है। बताया जा रहा है कि शराब पीने की आदि थी, विधानसभा पुलिस मर्ग कायम कर मामले की जांच में जुट गई है।

15-11-2019
पुलिस पर गैंगरेप का आरोप लगाने वाली महिला का पति गिरफ्तार, जानें क्या है मामला...

कोरिया। खड़गवां थाने के तत्कालीन थाना प्रभारी और उसके 2 सहयोगी आरक्षक पर गैंगरेप का आरोप लगाने वाली महिला के पति को पुलिस ने ठगी व एक्ट्रोसिटी के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार खड़गवां थाना अंतर्गत निवासी सूर्यप्रताप ने शिकायत दर्ज करवाई थी की खड़गवां ब्रह्मपुर निवासी अनिल साहू ने उसके बैंक से 10 लाख का लोन निकलवा कर 7 लाख अपने पास रख लिया और उसे मात्र 3 लाख ही दिए है। पीड़ित ने बताया कि वह बैंक में पूरे 10 लाख का ब्याज भर रहा है। पैसे मांगने पर अनिल साहू टालमटोल करता है और जातिगत अभद्र व्यवहार करता है। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भादवि की धारा 420, 120 बी, 467, 468, 471, 506 व एक्ट्रोसिटी एक्ट के अंतर्गत मामला दर्ज कर 12 नवम्बर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

राजधानी तक गूंज रही पुलिसकर्मियों पर गैंग रेप के आरोप 

खड़गवां पुलिस के तत्कालीन थाना प्रभारी ओमप्रकाश साहू व आरक्षक जस्सी और सुरेश तिग्गा पर आरोपी की पत्नी ने 30 मई को 2019 को कथित तौर पर गैंग रेप का आरोप लगाया था। इसकी गूंज राजधानी रायपुर तक गयी। लेकिन आईजी सरगुजा ने इस आरोप की जांच करवा कर आरोप को एक सिरे से झूठा बता कर खारिज कर दिया था। इसके बाद बीते दिवस महिला अपने पति और बच्चों के साथ आईजी दफ्तर आत्मदाह करने पहुंच गई थी।

 

06-11-2019
तीस हजारी विवाद : रोहिणी कोर्ट में वकील ने किया आत्मदाह का प्रयास

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में वकीलों और पुलिस का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है।आज बुधवार को पांचवें दिन भी गतिरोध बरकरार है। खबर आ रही है कि रोहिणी कोर्ट में एक वकील ने आत्महत्या की कोशिश की है। वकील का नाम आशीष चौधरी बताया जा रहा है। वकील आशीष की मानें तो उसने अपने आत्मसम्मान के लिए आत्मदाह की कोशिश की। आशीष ने पुलिस के मंगलवार के प्रदर्शन पर नाराजगी जताई जिसमें उन्होंने अपने परिवार-बच्चों तक को शामिल किया। आशीष का यह भी कहा है कि पुलिस दिल्ली के वकीलों की छवि खराब करने की कोशिश कर रही है।

दिल्ली की छह में से तीन जिला अदालतों में कामकाज ठप है, किसी को अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है। पटियाला हाउस कोर्ट में वकीलों ने गेट बंद कर लिया है। बाहर से किसी को भी अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है। रोहिणी कोर्ट के बाहर वकीलों का प्रदर्शन चल रहा है। इस दौरान यहां पर जमा वकील दिल्ली पुलिस कमिश्वर के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की हैं। दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक बुधवार सुबह दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से मिले। इस दौरान उनके साथ कई अन्य पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804