GLIBS
20-12-2020
महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष कांग्रेसियों ने जलाए दीये,पुष्प अर्पित कर किए नमन  

रायपुर। 100 साल पहले आज ही के दिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी छत्तीसगढ़ आए थे। उन्होंने सत्य,अहिंसा,सद्भावना, करुणा, सादगी, सहिष्णुता, सत्याग्रह की आधारशिला रखी थी। रविवार को कांग्रेस नेताओ ने गांधी मैदान स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। दीये जला कर नमन किया। इस दौरान विधायक कुलदीप जुनेजा, महापौर एजाज ढेबर, सभापति प्रमोद दुबे, भारती बंधु, आशा चौहान, सायरा खान, शहर अध्यक्ष गिरीश दुबे, शहर प्रवक्ता बंशी कन्नौजे, ब्लॉक अध्यक्ष नवीन चंद्राकर,कामरान अंसारी,अफरोज अंजुम,अशोक ठाकुर, माधो साहू ,अरुण जंघेल, देवकुमार साहू ,कल्पना सागर, सैय्यद उमैर, अविनय दुबे सहित कार्यकर्ता उपस्थित थे।

 

10-12-2020
मोहन मरकाम ने शहीद वीरनारायण सिंह की प्रतिमा का किया अनावरण

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व विधायक मोहन मरकाम ने कोंडागांव में छत्तीसगढ़ के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी शहीद वीरनारायण सिंह के प्रतिमा का अनावरण किया। पीसीसी अध्यक्ष ने कहा कि आज कोंडागांव के लिए ऐतिहासिक दिन है। शहीद वीरनारायण सिंह के बलिदान और उनके शौर्य से आने वाली पीढ़ियां प्रेरणा लेंगी। यह जानकारी विकास तिवारी प्रवक्ता छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी ने दी है।  

22-11-2020
वाल्मीकि समाज ने किया दीपावली मिलन समारोह का आयोजन

धमतरी। वाल्मिकी समाज ने दीपावली मिलन समारोह का आयोजन गणेश चौक महर्षि वाल्मिकी मंदिर किया। इसमें सर्व प्रथम महर्षि वाल्मिकी  की प्रतिमा की पूजा अर्चना की गई। इस मौके पर संजय डागोर प्रदेश अध्यक्ष, जिला संरक्षक अमित कछवाह,सुदेश सारसर, पेमेन्र्द प्रकाश ऐदवान, जिला अध्यक्ष अविनाश मारोठे, तिलक चौहान कोषाध्यक्ष, मनीष महरोलिया सचिव,त्रिलोक ऐदवान उपाध्यक्ष, दिपक वाल्मिकी, भागवत बघेल, निर्मल मोरध्वज करोसिया, संतोष चौहान, शुभम ङागोर, मनीष तेजी, संजू वाल्मिकी,मनहरण वाल्मिकी आदि सदस्य उपस्थित रहे।

 

24-10-2020
दुर्गा माता की प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए कुंड की तैयारी पूरी, इस बार ज्यादा प्रतिमाएं नहीं हुई है स्थापित

रायपुर। नवरात्रि का पर्व सबसे पावन पर्व माना जाता है, जिसमें माता रानी की प्रतिमा स्थापित कर 9 दिनों तक विधि विधान से पूजा की जाती है। उनका श्रृंगार किया जाता है। उनके प्रतिमा के सामने कलश स्थापना की जाती है। 9 दिन पूजा अर्चना के बाद उनकी विदाई की जाती है, जिसे हम दुर्गा विसर्जन के नाम से जानते हैं। विसर्जन में माता रानी की प्रतिमाओं को कुंड में विसर्जित कर उन्हें विदाई दी जाती हैं। कोरोना वायरस की महामारी को देखते हुए राज्य शासन ने गाइडलाइन जारी किया था, जिसमें बहुत सी जगहों पर इस बार प्रतिमा स्थापित नहीं की गई है। हम बात कर रहे हैं राजधानी रायपुर के विसर्जन कुंड की जो महादेव घाट में स्थित है। बता दें कि कुंड की तैयारियां लगभग पूरी हो गई है। कुंड की सफाई करने के बाद उसमें पानी भर दिया है, जिसमें प्रतिमाओं को विसर्जित किया जाएगा। कोरोना संक्रमण के कारण लगभग 100 दुर्गा प्रतिमाएं स्थापित की गई है शनिवार से मूर्तियों की प्रतिमा विसर्जन शुरू हो चुका है।

02-10-2020
 महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर भाजपा कार्यकर्ताओं ने मनाई जयंती

कोरिया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने स्थानीय गांधी पार्क में महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर जयंती मनाई। भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने उनके आदर्शो पर चलने का संकल्प लिया। भाजपा जिला कार्यालय में उनके जयंती के अवसर पर लाइव वेबीनार कार्यक्रम के माध्यम से मुख्य वक्ता प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अनिल केशरवानी द्वारा उनके जीवनी व विचारों पर आधारित आत्मनिर्भर भारत के लिए जारी 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज पर प्रकाश डाला गया। इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष कृष्णबिहारी जायसवाल,उपाध्यक्ष शैलेश शिवहरे,मंडल अध्यक्ष भानु पाल, संदीप गुप्ता ,नगर पालिका उपाध्यक्ष सुभाष साहू ,अनु दुबे आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे।

 

02-10-2020
कलेक्टर एसएन राठौर ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर किया नमन

कोरिया। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती पर कलेक्टर एसएन राठौर ने कलेक्टोरेट परिसर में स्थित बापू की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर माल्यार्पण एवं नमन किया। इस अवसर पर सीईओ जिला पंचायत तूलिका प्रजापति, एसडीएम बैकुंठपुर ज्ञानेंद्र सिंह ठाकुर, सभी डिप्टी कलेक्टर एवं कृषि, महिला एवं बाल विकास तथा पीएचई विभाग के अधिकारियों सहित अन्य कर्मचारियों ने भी महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर नमन किया।

 

01-09-2020
प्रतिमाओं के विसर्जन होते ही तालाबों की सफाई में जुटा निगम अमला

भिलाई। नगर पालिक निगम प्रशासन मूर्ति विर्सजन के बाद घाट और तालाबों की सफाई में जुटा हुआ है। विसर्जन के बाद पानी में तैर रहे फूल माला और कपड़े को जाली से खींचकर बाहर निकाला जा रहा है। सूखने के बाद सफाई वाहन से भरकर फूलमाला और कचरे को एसएलआर सेंटर पहुंचाया जा रहा है। ताकि उससे जैविक खाद तैयार किया जा सके। तालाबों की सफाई के लिए 52 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। वार्ड-1 खम्हरिया आलाबांद तालाब वर्तमान नाम राजीव गांधी सरोवर, वार्ड-2 स्मृति नगर तालाब वर्तमान नाम अटल बिहारी वाजपेयी सरोवर, वार्ड-7 सुंदर नगर तालाब वर्तमान स्वामी विवेकानंद सरोवर और आमा तालाब कोहका रोड वर्तमान नाम, संत शिरोमणि सेनजी महाराज, वार्ड-9 कोहका आर्य नगर तालाब वर्तमान नाम महात्मा गांधी सरोवर, वार्ड-9 भेलवा तालाब वर्तमान रानी लक्ष्मी बाई सरोवर, जोन-2 वैशाली नगर अंतर्गत वार्ड-16 कुरूद नकटा तालाब वर्तमान देवदास बंजारे ताालाब, वार्ड-19 केम्प-1 जय शंकर पार्वती तालाब, वार्ड-27 घासीदास नगर तलाब वर्तमान नाम शिव शक्ति तालाब, जोन-3 मदर टेरेसा नगर अंतर्गत वार्ड-21 बैकुंठधाम तालाब और सेक्टर-2 तालाब, जोन-4 वीर शिवाजी नगर अंतर्गत वार्ड-28 दर्री तालाब छावनी वर्तमान नाम शहीद चुम्मन यादव सरोवर, जोन-5 सेक्टर-6 अंतर्गत वार्ड-57 जयंती स्टेडियम के पीछे स्थित तालाब में प्रतिमा विसर्जन के साथ-साथ सफाई का कार्य चल रहा है।

 

23-07-2020
चंद्रशेखर आजाद के कहे हुए शब्द आज भी हमारे अंदर जोश भर देते हैं : महापौर

धमतरी। चंद्रशेखर आजाद की जयंती पर महापौर विजय देवांगन, सभापति अनुराग मसीह एवं समस्त पार्षदों ने कोष्टापारा वार्ड (आजाद चौक) में स्थापित चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को नमन किया। महापौर विजय देवांगन ने कहा कि चंद्रशेखर आजाद भारत के महान क्रांतिकारियों में से एक है,जिनके नाम से अंग्रेज काँपा करते थे। वह एक निर्भीक क्रांतिकारी थे, भारतीय स्वतंत्रता के स्वतंत्रता सेनानी थे। वे क्रांतिकारी गतिविधियों से जुड़कर हिंदुस्तान रिपब्लिकन के सक्रिय सदस्य बने। भगत सिंह सुखदेव और राजगुरु के साथ मिलकर हिंदुस्तान समाजवादी प्रजातंत्र सभा का गठन किया। चंद्रशेखर आजाद एक महान भारतीय क्रांतिकारी थे।उनकी उम्र देशभक्ति और साहस में उनकी पीढ़ी के लोगों को स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर आजाद के कहे हुए शब्द "आजाद थे आजाद हैं और आजाद ही रहेंगे" आज भी हमारे अंदर जोश भर देता है। ऐसे महान क्रांतिकारी  को नमन करता हूं। इस अवसर पर एमआईसी सदस्य राजेश ठाकुर, रूपेश राजपूत, केन्द्र कुमार पेंदरिया, राजेश पांडेय, पार्षद राही नारायन यादव, दीपक सोनकर,सोमेश मेश्राम,संजय डागौर, वार्डवासी  बिसालिक देवांगन, राजू यादव, कैलाश साहू,सूरज छाटा, त्रिलोक, सुनील , भूषण देवांगन,  महेश सेन,संदीप,राजेश देवांगन आशुतोष,कुणाल यादव उपस्थित थे।

 

16-07-2020
हर बिगड़े काम बन जाते हैं कामिका एकादशी के व्रत से, भगवान शिव के साथ विष्णु की भी की जाती है आराधना

रायपुर। आज श्रावण मास की कृष्ण एकादशी है। इस एकादशी को कामिका एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। आज के दिन व्रत रखकर भगवान शिव और विष्णु की पूजा करने का विशेष महत्व माना जाता है। इस एकादशी का व्रत करने से समस्त पापों से मुक्ति प्राप्त होती है। भगवान विष्णु सभी कष्टों को दूर करते हैं। कामिका एकादशी का व्रत करने से मनोवांचित फलों की प्राप्ति होती है।

कामिका एकादशी के व्रत नियम :-
कामिका एकादशी में साफ-सफाई का विशेष महत्व है। सुबह नाहा के भगवान विष्णु की प्रतिमा को शुद्ध गंगाजल से स्नान कराये। गंगाजल से स्नान के बाद दूध, दही, घी, शहद और शक्कर मिलकर पंचामृत तैयार करिये। उस पंचामृत से भगवान विष्णु की प्रतिमा को स्नान करायें। स्नान कराने के बाद भगवान को गंध, अच्छत इंद्र जौ का प्रयोग करे और पुष्प चढ़ायें। धूप, दीप, चंदन आदि सुगंधित पदार्थों से आरती कीजिये। नैवेधय का भोग लगाये। इसमें भगवान श्रीधर को मक्खन मिश्री और तुलसी दल अवश्य ही चढ़ाएं और अन्त में श्रमा याचन करते हुए भगवान को नमस्कार करें। विष्णु सहस्त्र नाम पाठ का जाप अवश्य करना चाहिए।

कामिका एकादशी की मान्यता है :-
मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से हर बिगड़े काम बनते हैं। व्रत करने से उपासकों के साथ-साथ उनके पित्रों के कष्ट भी दूर हो जाते हैं और उपासकों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। कामिका एकादशी व्रत करने से सारे बिगड़े कार्य बनते हैं और इस दिन पूजा करने से सभी पापों का नाश हो जाता है। कामिका व्रत और व्रत कथा सुनने से वाजपेय यज्ञ का फल भी प्राप्त होता है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804