GLIBS
02-12-2019
महिला को मोबाइल से परेशान करने वाले को कनार्टक से पकड़ा

जांजगीर चाम्पा। जिले के थाना बाराद्वार द्वारा महिला को बार-बार फोन और मैसेज कर परेशान करने वाला आरोपी को धाडवार कर्नाटक से गिरफ्तार कर लिया है। दरसअल आरोपी के द्वारा बार-बार फोन और मैसेज कर परेशान कर महिला को मोबाइल फोन से बार-बार कॉल कर तथा मैसेज कर परेशान कर रहा था जिस पर पीड़ित महिला ने अपराध पंजीबद्ध कराया है। साइबर सेल की मदद से मोबाइल धारक आरोपी का लोकेशन धाडवाड कर्नाटक पाया गया। पुलिस टीम को थाना बाराद्वार धाडवार कर्नाटका भेजा गया,जहां लोकेशन मदद लेकर धाडवार के थाना सबअर्बन पुलिस के साथ मिलकर दबिश देकर आरोपी विजय कुमार मोहितिया यादव उम्र 21 वर्ष धाडवार कर्नाटक को पकड़ने में कामयाब रहे। आरोपी की गिरफ्तारी विधिवत दर्ज कर न्यायालय सक्ती से रिमाण्ड प्राप्त किया गया है।

26-11-2019
Exclusive : मंत्री से दुर्व्यवहार कर लापता हुए युवक को ढूँढने में पुलिस का निकला पसीना, पुलिस परेशान, सरकार हैरान

रायपुर। राजधानी की पुलिस उस समय हैरान-परेशान रह गई जब उसे पता चला कि एक युवक मंत्री से दुर्व्यवहार कर फरार हो गया है। पुलिस ने उस युवक को तलाशने में पूरी ताकत झोंक दी है। बताया जाता है कि साइबर सेल ने पूरी ताकत लगाकर उस युवक को राजधानी के बाहरी क्षेत्र के एक गांव में लोकेट कर लिया है। सबसे हैरानी की बात तो उस युवक का मंत्री से दुर्व्यवहार कर बड़े मजे से फरार हो जाना है। यह सरकार और प्रशासन के लिए खतरे का संकेत है और सुरक्षा के लिहाज से भी बेहद बड़ी चूक भी। सरकार का बड़ा मंत्री इस तरह दुर्व्यवहार का अगर शिकार होता है तो यह सरकार के साथ-साथ सुरक्षा व्यवस्था के लिए भी बहुत बड़ी चुनौती है। बहरहाल पुलिस किसी भी तरह अपनी नाक बचाने के लिए उस युवक को धर दबोचने के लिए पूरी ताकत झोंक बैठी है।

10-11-2019
फेसबुक पर फैलाया भड़काऊ संदेश,  दो युवकों पर पुलिस ने कसा शिकंजा

मैनपुरी। अयोध्या फैसले को लेकर सोशल मीडिया पर भड़काऊ और गलत संदेश प्रसारित करने वाले दो लोगों के विरुद्ध बेवर और भोगांव थाना में मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि माहौल बिगाडऩे की कोशिश करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। अयोध्या मामले को लेकर देश भर में अलर्ट है। शनिवार को फैसला आने के बाद जिले में अमन चैन कायम रहे। सुरक्षा को लेकर डीएम, एसपी, एएसपी समेत बड़ी संख्या में पुलिसबल सुरक्षा की कमान संभाले रहा। उधर साइबर सेल भी सोशल मीडिया पर नजर बनाए रही। रविवार को सोशल मीडिया पर शिव पाठक बाबा नाम के युवक ने अयोध्या मामले को लेकर एक पोस्ट की। इस पर नजर पड़ते ही साइबर सेल सतर्क हो गई। कस्बा प्रभारी शुभम सिंह ने युवक के विरुद्ध मामला दर्ज कराया। वहीं बेवर पुलिस ने सोशल मीडिया पर एक गलत सूचना प्रसारित किए जाने के मामले में युवक के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज की है। एसआई विकास भारती ने विकास तिवारी नाम के युवक के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराई है। रिपोर्ट में कहा है कि शनिवार को अयोध्या मामले को लेकर अलर्ट था। इस बीच विकास नाम के शख्स ने जमीन के विवाद में महिला को गोली मार कर हत्या किए जाने की पोस्ट की। पुलिस अब आरोपी की तलाश कर रही है।

22-10-2019
लेबर सप्लायर हत्याकांड: सिरकटी लाश की गुत्थी सुलझी, ये थी हत्या की वजह....

रायगढ़। 19 अक्टूबर की सुबह थाना कोतरारोड को मानसरोवर तालाब के पास लेबर सप्लायर संदीप सिंह (45 साल) निवासी खरसिया रोड भगवानपुर का अध कटा शव मिला था। घटना की सूचना पर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह, एडिशनल एसपी अभिषेक वर्मा, नगर पुलिस अधीक्षक अविनाश सिंह ठाकुर, वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी आरके पैकरा, प्रभारी एफएसएल यूनिट रायगढ़, शहर के टीआई एवं उनका स्टाफ, साइबर सेल तथा डॉग स्क्वाड मौके पर पहुंचे थे। विवेचकगण द्वारा मौके पर उपलब्ध साक्ष्य एकत्रित किया जा रहा था, जिन्हें कुछ महत्वपूर्ण दिशा निर्देश पुलिस अधीक्षक द्वारा मौके पर ही दिया गया तथा घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक द्वारा एडिशनल एसपी एवं सीएसपी रायगढ़ के सुपरविजन में पांच अलग-अलग टीमें निरीक्षक रूपक शर्मा, एसएन सिंह, युवराज तिवारी, अमित सिंह, अंजना केरकेट्टा के नेतृत्व में गठन की गई थी। सभी टीमों को अलग-अलग कार्य सौंपा गया था। यह टीमें मृतक के व्यापारिक प्रतिस्पर्धा, अवैध संबंध, पारिवारिक/पैतृक झगड़े, वर्तमान में मृतक के साथ आसपास के लोगों के साथ बात व्यवहार, शव के शेष भाग का पता लगाना आदि पर पूछताछ कर जांच में जुटी हुई थी। वहीं एक ओर साइबर सेल की टीम उपलब्ध संसाधन के माध्यम से घटनास्थल का सीसीटीवी फुटेज, मृतक व उससे जुड़े सभी व्यक्तियों के कॉल रिकार्ड का विश्लेषण किया जा रहा था।

घटना के संबंध में अप.क्र. 311/19 धारा 302, 201 भादवि की विवेचना में सबसे पहली बाधा थी शव के शेष भाग का पता लगाना। वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन एवं पुलिस पार्टी की सक्रियता से जांच में पता चला कि मृतक संदीप सिंह का पतरापाली किरोड़ीमलनगर में रहने वाले शंकर कुमार पासवान (28 साल) के साथ मिलना जुलना था। शंकर कुमार पासवान, जो कि इसी के अंडर जेएसपीएल में लेबर का काम करता था। पुलिस टीम को यह भी जानकारी मिली की घटना दिनांक के रात्रि पतरापाली में रात्रि शंकर कुमार पासवान को घूमते देखा गया था। संदेह के आधार पर पुलिस टीम द्वारा शंकर कुमार को हिरासत में लिया गया और उससे कड़ी पूछताछ की गई, जिसमें आखिरकार उसने जघन्य हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि मृतक संदीप सिंह काफी दिनों से शंकर कुमार पासवान के साथ लैंगिक संबंध बनाता था। संदीप सिंह के अंदर काम करने के कारण शंकर दबाव में था वह उसकी इन नजायज जरूरतों को पूरी भी कर रहा था और इस कारण से वह काफी परेशान भी था। घटना दिनांक 18 अक्टूबर की रात्रि करीब 9:30 बजे मृतक संदीप सिंह, शंकर पासवान के घर पतरापाली आया। शंकर पूर्व सुनियोनियोजित तरीके से उसके घर पर संदीप सिंह के ऊपर चाकू से वार करने उसे घायल कर दिया और संदीप के मूर्छित होने पर उसका गला दबाकर हत्या कर दिया और आरी से शव के धड़, पैर, सिर को काटकर तीन अलग-अलग हिस्सों में कर अपनी साइकिल में शव के अवशेष को लादकर तीन बार धड़ हिस्से को मानसरोवर में, पैर को मानसरोवर के आगे तथा सिर भाग को मानसरोवर के आगे चिराईपाली रोड में एक पानी टंकी के अंदर डाल दिया था। आरोपी के अपराध कबूलनामें के बाद उसके मेमोरेंडम के आधार पर हत्या में प्रयुक्त आरी, साइकिल तथा शरीर के शेष भाग को जब्त कर आरोपी शंकर कुमार पिता मुनारिक पासवान उम्र 28 साल पतरापाली किरोड़ीमल मूल निवास झारखंड को गिरफ्तार किया गया है।

 

28-07-2019
पुलिस विभाग मेें बड़ा फेरबदल

रायपुर। पुलिस विभाग में रविवार को बड़ा बार फेरबदल करते हुए नवीन स्थानों में भेजा गया है। उप महानिरिक्षक आरिफ शेख ने साइबर सेल के स्पेशल 22 प्रधान आरक्षक सहित आरक्षकों को नवीन स्थानों में भेजा है। आपको बता दें कि क्राइम ब्रांच व साइबर सेल को डीजीपी डीएम अवस्थी ने भंग कर दिया था। जिसके बाद क्राइम ब्रांच के आरक्षकों का नवीन स्थानों में भेजा गया था, लेकिन साइबर पुलिस की नवीन स्थापना नहीं हुई थी। जिस पर आज नियमत: पालन करते हुए नवीन स्थापना किया गया है। देखें पूरी सूची...


.

26-07-2019
साइबर सेल के जरिए हो रही तुरंत कार्रवाई, स्पेशल टीम की जरूरत नहीं 

रायपुर। क्राइम ब्रांच के समानांतर साइबर सेल गठित कर काम करने पर डीजीपी ने नाराजगी जाहिर की थी। अब इस मामले में रायपुर एसपी आरिफ  शेख का कहना है कि क्राइम ब्रांच या कोई भी स्पेशल टीम अब नहीं चलेगी, सिर्फ साइबर सेल ही काम करेगा। साइबर सेल का उपयोग टेक्निकल गाइडेंस, कॉल डिटेल आदि के लिए किया जाएगा। पहले कोई भी गंभीर अपराध के लिए क्राइम ब्रांच का उपयोग किया जा रहा था। अब जो आदेश मिला उसी आधार पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि क्राइम ब्रांच का एक पूरा सेटअप था, उसके साथ ही मिलकर साइबर टीम थी, जो मिलकर काम करती थी। अब अपराध होने पर साइबर सेल के जरिए तुरंत कार्रवाई हो रही है। इसीलिए क्राइम ब्रांच की या स्पेशल टीम की जरूरत नहीं है।


 

22-07-2019
पुलिस कस्टडी से भागकर युवक ने लगाई फांसी

अंबिकापुर। अंबिकापुर के कुंडला सिटी निवासी एक व्यवसायी के घर से 13 लाख रुपए चोरी करने के मामले में 2 संदिग्धों को हिरासत में लेकर साइबर सेल में रखकर पूछताछ की जा रही थी। इसी बीच रविवार की देर रात एक युवक कस्टडी से भाग निकला और शहर के एक डॉक्टर के घर के पीछे लगे विंडो कूलर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस तलाश कर रही थी, तो वह फांसी पर लटका मिला। कोतवाली थाना क्षेत्र के कुंडला सिटी में रहने वाले तनवीर सिंह के घर से 13 लाख रुपए की चोरी के मामले में पंकज व इमरान नामक युवक को हिरासत में लिया था। पुलिसकर्मियों ने उसे साइबर सेल के लॉकअप में रखा था।

लेकिन बीती रात करीब 12 बजे वह पुलिस को चकमा देकर भाग निकला, रात 2 बजे उसकी लाश डीसी रोड स्थित डॉ. परमार के घर के पीछे लगे विंडो कूलर में फांसी से लटकी मिली। युवक ने फांसी लगाने के लिए कूलर में पानी डालने वाले पाइप का उपयोग किया हैं।तनवीर प्लाई का कारोबारी है। उसके बेडरूम की अलमारी में 13 लाख रुपए रखे थे। घर का सीसीटीवी कैमरा खराब हो गया था, तो उसे बनवाने के लिए पंकज व इमरान नामक मैकेनिक को अपने घर लाया। दोनों मैकेनिक ने शाम तक काम किया। शाम को उनके जाने के बाद तनवीर ने आलमारी खोली, तो रुपए गायब थे। उसने दोनों से पूछताछ की, लेकिन उन्होंने चोरी से इनकार कर दिया। तब उसने 11 जुलाई को मामले की रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज कराई थी। पुलिस दोनों युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही थी।

30-01-2019
Cyber Cell : महासमुंद साइबर सेल ने बरामद किए 26 मोबाइल सेट्स

महासमुंद। जिले के तमाम थाना क्षेत्रों से गुम हुए अथवा चोरी गए 26 मोबाइल सेट्स को पुलिस के साइबर सेल ने बरामद किया है। ये जानकारी पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह ने दी। उन्होंने कहा कि  साइबर सेल के स्पेशल डेस्क ने अथक प्रयास करते हुए चोरी गुम हुए मोबाइल को बरामद किया है जिनकी कीमत 290000 है।

एसपी सिंह ने आगे कहा कि मोबाइल गुम होने पर कैसे मोबाइल का लोकेशन एवं उपयोगकर्ता की जानकारी प्राप्त कर सकें। इसके अलावा कैसे एंड्राइड मोबाइल में डाले गए ईमेल की सहायता से मोबाइल गुम जाने या चोरी हो जाने पर उस डाटा को अपने ईमेल की सहायता से नष्ट किया जा सकता है। इसकी जानकारी लोगों को देने का प्रयास किया जा रहा है।

सिटीजन कॉप एप की दी जानकारी:

पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह ने कहा कि हम सब ने सिटीजन कॉप का एप्लीकेशन के बारे में सुना होगा और उसके फीचर का उपयोग नहीं किया है। मोबाइल गुम जाने पर आप इस सिटीजन काप का एप्लीकेशन के थाना में जाकर मोबाइल की चोरी हो जाने की रिपोर्ट या सूचना दर्ज कराते थे। मोबाइल में स्थित विभिन्न लीपोर्ट लास्ट आर्टिकल  का उपयोग कर उसमें आर्टिकल डॉक्यूमेंट फीचर सिम कार्ड का उपयोग कर आप एक कंप्लेंट रजिस्टर कर अपने मोबइल चोरी गुम हो जाने की सूचना दे सकते हैं, इसके लिए आपको थाने में जाकर सूचना देने की आवश्यकता नहीं है। आप सिटीजन कॉप एप्लीकेशन का उपयोग कर अपने मोबाइल को पुन: प्राप्त कर सकते हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804