GLIBS
13-01-2021
बहुचर्चित किशनपुर हत्याकांड के घटना स्थल की फॉरेंसिक एक्सपर्ट करेंगे पुन: जांच, महिला आयोग करेगा खर्च वहन

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने बुधवार को महासमुंद में महिला उत्पीड़न से संबंधित प्रकरणों पर जन-सुनवाई की। सुनवाई में 16 प्रकरण रखे गये थे। इसमें 13 प्रकरण सुनवाई के पूर्व रजामंदी होने के कारण नस्तीबद्ध किया गया। इसी प्रकार 7 प्रकरणों को भी रजामंदी और सुनवाई योग्य नही होने के कारण नस्तीबद्ध किया गया। डॉ. नायक ने महिलाओं को समझाइश दी कि  घरेलू आपसी मनमुटाव का समाधान परिवार के बीच किया जा सकता है। घर के बड़े बुजुर्गों का सम्मान एवं आपसी सामंजस्य सुखद गृहस्थ के लिए महत्वपूर्ण है। पिथौरा विकासखंड के आवेदकों ने पुलिस अधिकारियों और चार अन्य लोगों के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग की। आवेदकों ने बताया कि किशनपुर हत्याकांड के मामलें में पुलिस अधिकारियों ने समुचित जांच नहीं करने की जानकारी दी। इस प्रकरण पर महिला आयोग ने तीन साल पुराने मामलें की निष्पक्ष तरीके से जांच कराने कहा। महिला एवं बाल विकास विभाग के व्यय पर फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. सुनंदा ढेंगे को नियुक्त किया गया है। उनके सहयोग के लिए आयोग की अधिवक्ता शमीम रहमान और एसडीओपी अपूर्वा सिंह को दो माह के भीतर विस्तृत जांच कर रिपोर्ट आयोग को प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है। इस संबंध में आवश्यकतानुसार न्यायालय से अनुमति प्राप्त की जाएगी।इसी तरह एक अन्य मामले में पिथौरा के आवेदिका ने पटवारी पुत्र को मानसिक प्रताड़ना व भरण पोषण की राशि दिलाने की मांग की। आयोग ने अनावेदक को आपसी रजामंदी से प्रत्यके माह की पहली तारीख को 8,000 रुपए आवेदिका के खातें आरटीजीएस के माध्यम से जमा करने कहा। स्वयं अपने विभाग में आवेदन देकर लिखित सहमति प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। इसके अलावा आवेदिका को अनावेदक के घर पर किसी भी प्रकार की दखल अंदाजी नहीं करने के निर्देश दिए। इस पर दोनों पक्षों ने सहमति जताई। इसके अलावा पिथौरा के आवेदिका ने अनावेदक के खिलाफ दैहिक शोषण की शिकायत की थी।  इस पर अध्यक्ष ने दोनो पक्षो को गंभीरता से सुनने के बाद पति-पत्नि को सुलह के साथ रहने की समझाइश दी।एक अन्य प्रकरण में महिला आवेदक ने दैहिक शोषण का आरोप लगाया। इस पर आयोग ने दोनों पक्षोें की बातों को गंभीरता पूर्वक सुनकर अनावेदिका को भरण-पोषण के लिए एकमुश्त 1,60,000 (एक लाख 60 हजार रूपए) की राशि देने के निर्देश दिए।  इस पर आवेदक एवं अनावेदिका पक्ष ने आयोग के समक्ष आपसी रजामंदी में तलाक लेने की बात भी स्वीकार की।
जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित सुनवाई में मुख्य रूप से महिलाओं से मारपीट, मानसिक, शारीरिक, दैहिक प्रताड़ना, कार्यस्थल पर प्रताड़ना, दहेज प्रताड़ना, से संबंधित प्रकरणों पर सुनवाई की गई। सुनवाई के दौरान अपर कलेक्टर जोगेन्द्र कुमार नायक अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक मेघा टेंबुलकर, डिप्टी कलेक्टर बीएस मरकाम, सीमा ठाकुर, प्रशिक्षु डीएसपी अपूर्वा सिंह, शासकीय अधिवक्ता शमीम रहमान सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

30-12-2019
पुलिस ने सुलझाई हत्या की गुत्थी, प्रेमी ही निकला विवाहिता का हत्यारा

अंबिकापुर। बरियो चौकी क्षेत्र में 28 दिसम्बर को ग्राम अमडीपारा के कब्रिस्तान के पास एक महिला की लाश मिली थी। इसकी शिनाख्त गांव की ही संगीता अगरिया के रूप में की गई थी।  संगीता के परिजनों की सूचना के बाद मौके पर पहुँची पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा था। वही पुलिस एसपी टीआर कोशिमा,एडिशनल एसपी प्रशांत कतलम के निर्देशन व डीएसपी मुख्यालय एनएल धृतलहरे के मार्गदर्शन में संगीता के सम्बंध में ग्रामीणों से पूछताछ में जुटी थी। इस मामले में संगीता के प्रेमी शत्रुघ्न राम टेकाम को पूछताछ के लिए तलब किया था। पूछताछ में शत्रुघ्न ने संगीता की गला दबाकर हत्या करने की बात स्वीकार करते हुए बताया कि संगीता ने उसे बगैर बताये शादी कर ली थी। इसके चलते उसने संगीता की हत्या कर दी। दरअसल बरियो चौकी में 17 दिसम्बर को 22 वर्षीया संगीता के परिजनों ने 15 दिसंबर से संगीता के गुम हो जाने की सूचना दी थी। पुलिस ने गुम इंसान कायम करते हुए संगीता की तलाश शुरू की थी। इसके अलावा संगीता के परिजन भी उसकी तलाश में थे। इसी दौरान 28 दिसम्बर को संगीता की लाश गाँव के जंगल मे मिलने की सूचना उसके परिजनों ने पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुँच फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम को शव परीक्षण व घटना स्थल के लिए बुलाया था। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया था और पुलिस संगीता के सम्बंध में ग्रामीणों से पूछताछ में जुटी थी। इसी दौरान संगीता के प्रेमी शत्रुघन ने संगीता की हत्या करने की बात कबूल कर ली।

एसपी ने एएसपी प्रशांत कतलम व एसडीओपी एनएल धृतलहरे के नेतृत्व में बरियों चौकी प्रभारी रूपेश नारंग व टीम को इसकी जिम्मेदारी दी। पुलिस ने मुखबिरों को तैनात किया तो पता चला कि नवविवाहिता की पहचान गांव के दारापतरा निवासी शत्रुघ्र राम टेकाम पिता कृष्ण 22 वर्ष से थी। उसी ने 15 दिसंबर की दोपहर युवती के स्कार्फ से गला घोंट कर उसकी हत्या कर दी थी। पुलिस ने युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने हत्या की बात स्वीकार कर ली। उसने बताया कि घटना दिवस उसने युवती को यह कहकर रोका कि वह उससे कुछ बात करना चाहता है। इस बीच उसने कहा कि उसने बिना उससे पूछे दूसरी जगह शादी क्यों की, इसके बाद उसने युवती के स्कार्फ से ही उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और लाश छोडक़र घर चला आया।नवविवाहिता की हत्या के आरोप में पुलिस ने आरोपी शत्रुघ्र कुमार टेकाम को गिरफ्तार कर धारा 302 के तहत जेल भेज दिया। कार्रवाई में बरियों चौकी प्रभारी रूपेश नारंग, पस्ता थाना प्रभारी अमित बघेल, प्रधान आरक्षक शशिशेखर तिवारी, विवेकमणी तिवारी, गोपाल राम, आरक्षक सुधीर सिंह, सुयश पैंकरा,रिंकू गुप्ता, रूपेश महंत, प्रमोद शुक्ला, संतोष सिंह चौहान, शिवलाल कुजूर, निरंजन सिंह, जवाहर तिर्की, राजू कुजूर, रजनीकांत मिश्रा, काशीराम भगत व महिला आरक्षक स्वाति राजवाड़े व पूनम पैंकरा का सक्रिय योगदान रहा।

10-12-2019
खेत में मिली महिला की लाश, परिजनों ने जताई हत्या का संदेह

कोरबा। उरगा थाना क्षेत्रांतर्गत अखरापाली में 39 वर्षीय इंद्राबति की लाश उसके घर के पास खेत पर मिली है। कोटवार ने घटना की सूचना उरगा पुलिस को दी। इंद्राबति के सर पर चोट के निशान है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। वहीं डॉग स्क्वायड और फॉरेंसिक एक्सपर्ट टीम को भी बुलाया गया है। मृतिका के परिजनों की माने तो इंद्राबति को मौत के घाट उतारा गया है। इस मामले में एक युवक को हिरासत में लिया गया है। उससे पूछताछ की जा रही हैं। वहीं इस घटना के बाद गांव मे तनाव का माहौल व्याप्त हैं।

 

11-01-2019
Crime : झोपड़ी में महिला का अधजला शव मिलने से फैली सनसनी

कोरिया। मनेन्द्रगढ़ शहर से लगभग 6 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत बौरीडांड़ के चुक्तिपानी में सड़क किनारे बनी झोपड़ी में एक अज्ञात महिला का अधजला शव मिलने से सनसनी फैल गई। ग्रामीणों की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस के अनुसार रात्रि लगभग 8 बजे के बीच गांव के कुछ लोगों ने सड़क के किनारे बनी झोपड़ी में आग की लपटें उठते हुए देखी। आग की लपटों के साथ मानव शरीर की दुर्गंध आने पर ग्रामीण झोपड़ी के पास पहुंचे तो देखा कि एक शव जल रहा है। ग्रामीणों ने थाना मनेन्द्रगढ़ में सूचना दी, सूचना मिलते ही थाना प्रभारी मनेंद्रगढ़ विमलेश दुबे तत्काल पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। साथ ही घटना की जानकारी पुलिस के उच्च अधिकारियों को दी गई। रात होने की वजह से शव की सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मियों को वहां लगाया गया। गुरुवार की सुबह पुलिस अधीक्षक कोरिया विवेक शुक्ला, ,एसडीओपी अनुज गुप्ता भी घटनास्थल पर पहुंचे और वहां मौजूद पुलिस अधिकारियों को व्यापक निर्देश दिए। महिला का शव बुरी तरह से जल जाने के कारण उसकी शिनाख्त भी नहीं हो पा रही है। शिनाख्त होने के बाद ही इस मामले का खुलासा हो पाएगा। मामले की जांच के लिए फॉरेंसिक एक्सपर्ट और डॉग स्क्वायड को भी बुलाया गया है लेकिन फिलहाल पुलिस के हाथ कुछ नहीं आया है जिससे पता चल सके कि इस वारदात को किसने अंजाम दिया गया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804