GLIBS
07-07-2020
दंतेवाड़ा जिले में प्राकृतिक आपदा से होने वाली हानि की सूचना देने बनाया गया कंट्रोल रूम

 

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले में किसी भी स्थान पर प्राकृतिक आपदा, बाढ़ आकाशीय बिजली वाहन दुर्घटना या अन्य किसी भी प्रकार की आपदा से पशुधन की हानि की सूचना दिए जाने पशु चिकित्सा सेवाएं दंतेवाड़ा के कार्यालयीन स्तर पर कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है। समस्त संस्था प्रभारी पशुचिकित्सा गीदम, दन्तेवाड़ा, कुआकोण्डा, कटेकल्याण को जारी निर्देशों के अनुरूप गठित किए गए है। आपदा से संबंधित सूचना देने के लिए जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष में आशा दुर्गम एवीएफओ मोबाइल नंबर-94790-70040 और  62614-88569 और आत्माराम मण्डावी परिचालक मोबाइल नंबर-75873-98350 से संपर्क कर सकते हैं।

 

30-06-2020
प्राकृतिक आपदा से पीड़ितों को 12 लाख रुपए की आर्थिक सहायता

रायपुर। राज्य शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से प्राकृतिक आपदा पीड़ित लोगों को आर्थिक सहायता दी जा रही है। जिला कलेक्टरों के माध्यम से राजस्व पुस्तक परिपत्र आरबीसी (6-4) के तहत आर्थिक सहायता उपलब्ध करायी जाती है। बस्तर कलेक्टर ने जिले की जगदलपुर तहसील के ग्राम बिरलापाल के लछनदई की मृत्यु सांप काटने से होने पर उनके पुत्र धनसिंह नाग को, ग्राम छोटेबोदन के सदन की मृत्यु पानी में डूबने से होने पर उनकी पत्नी पार्वती बाई को और ग्राम साड़गुड़ निवासी बालमती की मृत्यु सांप के काटने से होने पर पिता कुरसोराम को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत प्रदान की है।

 

23-06-2020
बलौदाबाजार जिले के प्राकृतिक आपदा पीड़ित 6 परिवारों के लिए भूपेश सरकार ने की 24 लाख  की आर्थिक सहायता मंज़ूर

रायपुर/बलौदाबाजार। प्राकृतिक आपदा से पीड़ित जिलों के 6 परिवारों के लिए 24 लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। इसमें सभी पीड़ित परिवार के लिए 4-4 लाख रूपये स्वीकृत किये गये हैं। कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने राजस्व पुस्तक परिपत्र की धारा 6-4 के अंतर्गत ये स्वीकृतियां प्रदान की है। पानी में डूबने,बिजली गिरने,सांप अथवा बिच्छू काटने के कारण हुई मौत के कारण उनके निकट परिजनों के लिये यह आर्थिक सहायता प्रदान की गई है। कलेक्टर ने संबंधित तहसीलदारों को आरटीजीएस के माध्यम से हितग्राहियों के बैंक खाते में भुगतान सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। जिला कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार लाभान्वित हितग्राहियों में अदालत ग्राम कोयदा तहसील बलौदाबाजार निवासी प्रमिला साहू, ग्राम डोटोपार तहसील बलौदाबाजार  निवासी गुणेशु बंजारे ग्राम गातापार तहसील पलारी निवासी संतोष कुमार धृतलहरे,ग्राम भानपुर तहसील कसडोल निवासी संतराम, ग्राम छुहिया तहसील बिलाईगढ़  निवासी भीषम लाल, ग्राम सकरी (स) तहसील पलारी निवासी रेशमा साहू इनमें से प्रत्येक हितग्राही के लिये जिला कलेक्टर ने 4-4 लाख रूपए  की आर्थिक सहायता राशि की स्वीकृति प्रदान की है।

 

09-06-2020
जिले में बाढ़ से बचाव के लिए प्रशासन अलर्ट, आपदा से बचने तैयारी पूरी

धमतरी। आगामी मानसून में प्राकृतिक आपदा से बचाव और राहत के लिए उचित प्रबंधन करने आज एक महत्वपूर्ण बैठक रखी गई। जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी नम्रता गांधी ने जिला स्तर पर इसके लिए नियुक्त नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर डीसी बंजारे से बाढ़ आपदा प्रबंधन के लिए की जा रही आवश्यक तैयारियों की जानकारी ली। बैठक में अनुभागवार बाढ़ संभावित गांव की जानकारी देते हुए बताया गया कि कुरूद में 52, धमतरी में 20 और नगरी अनुभाग में 5 गांव में बाढ़ की संभावनाएं बनीं रहती हैं। इसके मद्देनजर सभी आवश्यक व्यवस्था जैसे चिकित्सा व्यवस्था, स्वच्छ पेयजल, आपदा प्रबंधन इत्यादि इन गांव में कर लेने के निर्देश दिए गए। इसके अलावा हर तहसील तथा जल संसाधन कार्यालय में उपलब्ध वर्षा मापक यंत्रों की वस्तुस्थिति की जानकारी ली तथा आगामी शुक्रवार तक इस संबंध में अपनी रिपोर्ट अपर कलेक्टर को सौंपने के निर्देश संबंधित अनुविभागीय अधिकारी राजस्व और जल संसाधन के कार्यपालन अभियंता को दिए गए।


इस अवसर पर सभी एसडीएम को निर्देशित किया गया कि वे अनुभाग स्तर पर बाढ़ आपदा संबंधी आवश्यक बैठक लेकर यह सुनिश्चित करें कि सभी तैयारियां कर ली गई हैं। साथ ही सभी बाढ़ आपदा से प्रभावित होने वाले 77 गांवों में राहत शिविर लगाने के लिए भवन इत्यादि का चिन्हांकन कर एक सप्ताह के भीतर अपर कलेक्टर को रिपोर्ट देने के निर्देश भी बैठक में दिए गए। बैठक में बारिश में पहुंचविहीन गांवों की जानकारी देते हुए खाद्य विभाग के प्रतिनिधि ने बताया कि नगरी के रिसगांव, करही और खल्लारी में चार माह के खाद्यान्न का भण्डारण किया जाता है। इस पर एसडीएम नगरी को भण्डारित खाद्यान्न स्थल का मुआयना कर उसकी सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। इन गांवों में मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए पहले से मितानिन के पास आवश्यक दवाइयां, साथ में कोविड-19 के मद्देनजर सर्दी-खांसी की दवाई, फस्र्ट एड किट उपलब्ध कराने कहा गया। साथ ही कृषि कार्य के मद्देनजर यहां एक सप्ताह के भीतर खाद-बीज का उठाव भी सुनिश्चित करने के निर्देश बैठक में दिए गए।


बैठक में बारिश के मौसम के मद्देनजर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को निर्देशित किया गया कि वे स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता बनाए रखने, हैण्डपम्प में क्लोरिन डालने के अलावा आसपास की साफ-सफाई भी सुनिश्चित करें। यह भी निर्देश दिया गया कि यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई पाइपलाइन नाली के ऊपर से ना गुजरी हो तथा यदि पाइप लाइन में टूट-फूट हो तो उसकी मरम्मत भी कर ली जाए। राजस्व अमले को बैठक में निर्देशित किया गया कि प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान पर आरबीसी 6-4 के तहत 12 घंटे के भीतर ही प्रकरण तैयार कर लिया जाए, जिससे कि हितग्राही को लाभ पहुंचाने में सुविधा हो। बैठक में विद्युत तथा वन विभाग को अगले एक सप्ताह के भीतर ऐसे पेड़ों की छंटाई करने के लिए निर्देशित किया, जिनके ऊपर से विद्युत तार गुजरता है, जिससे कि जनहानी को रोकने के अलावा विद्युत सुविधा निर्बाध रूप से दी जा सके।

04-06-2020
कलेक्टोरेट में बनाया गया बाढ़ नियंत्रण कक्ष, 42 अधिकारी-कर्मचारी करेंगे ड्यूटी

कोरिया। राज्य शासन के दिशा निर्देशे के अनुरूप आगामी मानसून में प्राकृतिक आपदा से सुरक्षा तथा राहत एवं बचाव की समुचित व्यवस्था के लिए जिला मुख्यालय स्थिति कलेक्टोरेट के कक्ष क्रमांक 31 में बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। बाढ़ नियंत्रण कक्ष का दूरभाष क्रमांक 07836-232330 है। यह नियंत्रण कक्ष प्रांरभ हो गया है और यह नियंत्रण कक्ष 24 घंटे चालू रहेगा। कलेक्टर सत्यनारायण राठौर ने बाढ़ नियंत्रण कक्ष के सुव्यवस्थित संचालन के लिए 42 अधिकारी-कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है। इसके अतिरिक्त उन्होंने बाढ़ नियंत्रण कक्ष के लिए 4 अधिकारी-कर्मचारियों को रिजर्व की श्रेणी में रखा है।

 

15-05-2020
प्राकृतिक आपदा में मृत के वारिस के लिए 16 लाख की राशि मंजूर

कोरिया। कलेक्टर ने प्राकृतिक आपदा में मृत के वारिस के लिए 16 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने विकासखंड सोनहत के ग्राम कछार की नीतू की स्टाप डेम में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस रत्नमणि, ग्राम लटमा के रामरतन की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस फूल कुंवर, ग्राम सलगवांकला की खुशी राजवाड़े की हसदो बांध में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस अमरसाय तथा ग्राम दामुज की किंजल की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस गोपाल सिंह के लिए 4-4 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने इस राशि की मंजूरी राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधानों के तहत प्राकृतिक आपदा राहत के अंतर्गत दी है।

18-03-2020
प्राकृतिक आपदा में मृत के वारिस के लिए 8 लाख रूपये की राशि मंजूर

कोरिया। कलेक्टर ने प्राकृतिक आपदा में मृत के वारिस के लिए 8 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने विकासखंड मनेन्द्रगढ़ के ग्राम बौरीडांड की सुनीता की आग में जलने से मृत्यु होने पर उनके वारिस छत्रपाल सिंह एवं ग्राम पिपरिया के रामा की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस शांति बाई के लिए 4-4 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने इस राशि की मंजूरी राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधानों के तहत प्राकृतिक आपदा राहत के अंतर्गत दी है।

 

17-03-2020
अमेरिका में कोरोना के टीके के आविष्कार का दावा, महामारी से भी फायदे में रहेगा अमेरिका, चीन को हुआ अरबों का नुकसान

रायपुर। सारी दुनिया में आतंक मचाने वाले वायरस कोरोना का तोड़ खोजने के संकेत अमेरिका से मिल रहे हैं। वहां से कोरोना का प्रतिरोधी टीका खोज लेने में सफलता के संकेत मिले हैं। जुलाई तक इसे खोज लेने का दावा भी किया जा रहा है। ये कोरोना के कहर से कराह रही दुनिया के लिए अच्छी खबर है। मगर सबसे अच्छी खबर ये खुद अमेरिका के लिए है। अमेरिका अगर कोरोना का टीका खोज लेने में सफल हो जाता है तो जाहिर है पूरी दुनिया में अमेरिका में बने टीके ही बिकेंगे। जिस तरह से कोरोना का आतंक फैला हुआ है उससे लगता है के सारी दुनिया में टीका खरीदने की होड़ लग जाएगी। बहरहाल कोरोना के कहर ने चीन को तो अरबों रुपए का नुकसान कर ही दिया है। एक बात तो तय है चाहे बीमारी हो महामारी हो प्राकृतिक आपदा हो कहर से बचने का फायदा उठाने से अब कोई नहीं चुकता।

 

08-03-2020
प्राकृतिक आपदा में मृतकों के परिवारों को मिलेगी राशि 

कोरिया। कलेक्टर ने प्राकृतिक आपदा में मृत के वारिस के लिए 24 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने विकासखंड भरतपुर के ग्राम कुंवारपुर के रामसुख की सर्पदंश से मृत्यु होने पर उनके वारिस चन्दाराम, रामऔतार, रामभुवन, रामदुलारे, रामबाई एवं बड़काबाई के लिए 4 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। इसी तरह उन्होंने ग्राम कंजिया के रघुनाथ सिंह की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस चन्द्रवती, कमलबाई, हीरालाल, गोरख सिंह एवं रामप्रताप के लिए 4 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है।

कलेक्टर ने विकासखंड भरतपुर के ग्राम देवगढ़ के राकेश की तालाब में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस खुलनसाय बैगा, विकासखंड मनेन्द्रगढ के ग्राम घुटरा के प्रकाश की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस मंगलीबाई और ग्राम भौंता के सतीश सिंह की तालाब में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस देवसिंह तथा विकासखंड खड़गवां के ग्राम छोटेकलुआ की संगीता की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस दलबीर सिंह के लिए भी 4-4 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने इस राशि की मंजूरी राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधानों के तहत प्राकृतिक आपदा राहत के अंतर्गत दी है।

26-02-2020
प्राकृतिक आपदा पीड़ित परिवारों को मिलेगी आर्थिक सहायता, कलेक्टर ने दिए निर्देश

बलौदाबाजार। प्राकृतिक आपदा से पीड़ित दो परिवारों के लिए 8 लाख रुपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। दोनो परिवार को 4-4 लाख रुपये की सहायता मिलेगी। कलेक्टर कार्तिकेया गोयल ने 25  फरवरी को यह सहायता राशि स्वीकृत की है। लाभान्वित हितग्राहियों में बिलाईगढ़ तहसील के गांव कोरकोटी निवासी निलाराम पिता पीरीत राम धोबी एवं कसडोल तहसील के ग्राम टेमरी निवासी जागेश्वर पिता निरत कंवर शामिल हैं। कलेक्टर ने तहसीलदार कसडोल एवं बिलाईगढ़ को आरटीजीएस के जरिए हितग्राहियों के खाते में स्वीकृत राशि जमा करने के निर्देश दिए है।

13-02-2020
प्राकृतिक आपदा में मरने वालों के वारिसों के लिए 16 लाख रूपये की राशि मंजूर        

कोरिया। कलेक्टर ने प्राकृतिक आपदा में मृत के वारिस के लिए 16 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने विकासखंड बैकुण्ठपुर के ग्राम सरईगहना की कृष्णा की तेज आंधी तूफान में पेड़ एवं दीवार गिरने से मृत्यु होने पर उनके वारिस संजू, ग्राम कदमनारा के सुनील की नाला में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस रज्जू, ग्राम डुमरिया के रामरतन की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस उर्मिला तथा ग्राम नगर की संतोषी की कुआं में डूबने से मृत्यु होने पर उनके वारिस सुखई के लिए 4-4 लाख रूपये की राशि की मंजूरी दी है। उन्होंने इस राशि की मंजूरी राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधानों के तहत प्राकृतिक आपदा राहत के अंतर्गत दी है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804