GLIBS
18-07-2021
संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने प्राकृतिक आपदा में मृत बालक के परिजनों को दी 4 लाख की सहायता राशि

जगदलपुर। विधायक जगदलपुर एवं संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने रविवार को अपने निवास कार्यालय में राजेंद्र नगर वार्ड निवासी चन्द्रभूषण यादव जिनके 7 वर्षीय पुत्र सुरेन्द्र यादव की पानी में डूबने से मृत्यु हो गई थी उन्हें 4 लाख रुपए का चेक प्रदान किया। राशि प्राकृतिक आपदामद आरबीसी 6-4 (जनहानि) मद से प्रदान की। इस अवसर पर रेखचंद जैन ने कहा की पहले जहां प्राकृतिक आपदा में मृत व्यक्तियों के परिजनों को सहायता राशि प्रदान करने में प्रक्रिया में ही वर्षों लग जाते थे। अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की संवेदनशीलता से तीन से चार महीने में ही सारी प्रक्रिया पूरी कर हितग्राहियों को आर्थिक सहायता राशि का चेक प्रदान किया जा रहा है। रेखचंद जैन ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर हितग्राही के परिवार ने संसदीय सचिव रेखचंद जैन का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर पार्षद कमलेश पाठक, पूर्व पार्षद कल्पना मेश्राम एवं मृतक सुरेन्द्र यादव की माता सुभद्रा यादव मौजूद थीं।

 

13-07-2021
प्राकृतिक आपदा से मृतकों के परिजनों को 40 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मंजूर

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से विभिन्न प्राकृतिक आपदा पीड़ितों को जिला कलेक्टर के माध्यम से आर्थिक अनुदान सहायता स्वीकृत की जाती है। जशपुर में 7 और बलौदाबाजार जिले में 3 प्रकरणों में कुल 40 लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्राकृतिक आपदा पीड़ितों को स्वीकृत की गई है।जशपुर जिले की कुनकुरी विकासखंड के अंतर्गत ग्राम डूमर टोली के देवेन्द्र यादव और ग्राम मटासी के विनोद भगत की मृत्यु पानी में डूबने से हुई थी।

राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत मृतकों के परीजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। दुलदुला तहसील के ग्राम बरपानी के जयबीर राम और ग्राम जामपानी की जगमुनी बाई, ग्राम जुड़वाईन की हीरामुनी और ग्राम बन गांव कोदोडांड के पनेश्वर राम की मृत्यु पानी में डूबने से और ग्राम गट्टीबुड़ा के असीमराम की मृत्यु आकाशीय बिजली के गिरने से हुई थी। मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई हैै। इसी तरह से बलौदा बाजार जिले की सिमगा तहसील के ग्राम बनसांकरा की राधाबाई की मृत्यु सांप के काटने से, ग्राम औरठी के आजूराम पात्रे की पानी में डूबने से और ग्राम तेंदूभाठा के जीवनलाल निषाद की मृत्यु आकाशीय बिजली के गिरने से हो जाने के कारण मृतकों के पीड़ित परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक अनुदान सहायता स्वीकृत की गई है।

06-07-2021
रेखचंद जैन ने प्राकृतिक आपदा में मृतकों के परिजनों को सौंपा चेक, आर्थिक सहायता मिलने पर परिजनों ने जताया आभार

जगदलपुर। जनपद पंचायत क्षेत्र के पंडरीपानी क्रं 2 के मावलीगुड़ा व पंडरीपानी क्रं 1 के करेकोट में अलग-अलग घटनाओं में एक लड़के व लड़की की विगत दिनों पानी में डुबकर मौत हो गई थी। संसदीय सचिव व जगदलपुर विधायक रेखचंद जैन के प्रयास से परिजनों को 4-4 लाख रुपए की सहायता राशि का चेक प्रदान की। संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने विधायक कार्यालय में मोहन पिता लक्ष्मण मावलीगुड़ा पंडरीपानी क्रं 2 के पुत्र नितेश कश्यप तथा अमित सोनी करेकोट पंडरीपानी क्रं 1 की पुत्री शिवानी की पानी में डूबने की वजह से हो गई थी। यह राशि प्राकृतिक आपदा मद RBC6-4 (जनहानि) मद से प्रदान की गई।

इस अवसर पर विधायक रेखचंद जैन ने कहा की पहले,जहां प्राकृतिक आपदा में मृत व्यक्तियों के परिजनों को सहायता राशि प्रदान करने में प्रक्रिया में ही वर्षों लग जाते थे वहीं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की संवेदनशीलता से तीन से चार महीने में ही सारी प्रक्रिया पूरी कर हितग्राहियों को आर्थिक सहायता राशि का चेक प्रदान कर दिया जा रहा है। संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने इस संवेदनशीलता के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल का आभार व्यक्त किया। संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने इस राशि का सदुपयोग करने की सलाह दी। इस अवसर पर दोनों हितग्राहियों के परिवार ने संसदीय सचिव रेखचंद जैन का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे परिजनों की प्राकृतिक आपदा में मृत होने पर संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने जिस तत्परता से कार्रवाई करवा कर हमें सहायता राशि प्रदान की है, हम उनका आभार व्यक्त करते हैं। इस दौरान आईटी सेल व सोशल मीडिया प्रदेश महासचिव योगेश पानीग्राही भी मौजूद थे।

 

04-07-2021
प्राकृतिक आपदा पीड़ितों को आर्थिक अनुदान सहायता देने 96.40 करोड़ रुपए आवंटित

रायपुर। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से प्रदेश के विभिन्न जिलो में प्राकृतिक आपदा पीड़ितो को आर्थिक अनुदान सहायता उपलब्ध कराने के लिए चालू वित्तीय वर्ष में 96 करोड़ 40 लाख रुपए की राशि कलेक्टरों को आवंटित की गई है। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने रायपुर, महासमुंद, धमतरी, कबीरधाम, दंतेवाड़ा, बिलासपुर, कोरबा, बीजापुर, गरियाबंद, बालोद, बेमेतरा और कोंडागांव जिले के लिए प्राकृतिक आपदा पीड़ितों को अनुदान सहायता के लिए प्रति जिले 3.25 करोड़ रुपए की राशि का आवंटन किया है। 

इसी तरह से राजनांदगांव, जांजगीर-चांपा, जशपुर और रायगढ़ के लिए प्रति जिले 3.75 करोड़ रुपए की राशि आवंटित की गई है। इसी तरह से दुर्ग के लिए 3 करोड़ 20 लाख रुपए, बस्तर के लिए 3 करोड़ 85 लाख रुपए, कांकेर के लिए 3 करोड़ 80 लाख रुपए, सरगुजा के लिए 4 करोड़ 50 लाख रुपए, कोरिया 3 करोड़ 30 लाख रुपए, नारायणपुर 3 करोड़ पांच लाख रुपए, बलौदाबाजार 3 करोड़ 50 लाख रुपए की राशि आवंटित की गई है। इसी तरह से मुंगेली के लिए 3 करोड़ 15 लाख, सुकमा 3 करोड़ 15 लाख रुपए, बलरामपुर 3 करोड़ 85 लाख रुपए, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के लिए 3 करोड़ 20 लाख और सूरजपुर 3 करोड़ 85 लाख रुपए, मुंगेली 3 करोड़ 15 लाख और कोंडागांव के लिए 3 करोड़ 25 लाख रुपए आवंटित किए गए हंै।

03-07-2021
संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने प्राकृतिक आपदा में मृत व्यक्तियों के परिजनों को दी सहायता राशि

जगदलपुर। प्रा​कृतिक आपदा में जान गवां चुके लोगों के परिजनों को आर्थिक सहायता की राशि शनिवार को संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने दी। इसमें विधायक कार्यालय में प्रेमचंद प्रसाद की पत्नी की मृत्यु जलने की वजह से हो गई थी। उन्हें 4 लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान की। इसी तरह अनन्तराम नाग की बेटी की मृत्यु पानी में डूबने से हो गई थी, उन्हें 4 लाख रुपए की सहायता राशि दी। यह राशि प्राकृतिक आपदा मद आरबीसी 6-4 (जनहानि) मद से दी गई है। रेखचंद जैन ने कहा कि पहले जहां प्राकृतिक आपदा में मृत व्यक्तियों के परिजनों को सहायता राशि प्रदान करने में प्रक्रिया में ही वर्षों लग जाते थे। वहीं अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की संवेदनशीलता से तीन से चार महीने में ही सारी प्रक्रिया पूरी कर हितग्राहियों को आर्थिक सहायता राशि का चेक प्रदान कर दिया जा रहा है। संसदीय जैन ने इस संवेदनशीलता के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल का आभार व्यक्त किया। इस पर दोनों हितग्राहियों के परिवार ने रेखचंद जैन का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे परिजनों की प्राकृतिक आपदा में मृत होने पर  संसदीय सचिव जैन ने जिस तत्परता से कार्रवाई करवा कर हमें सहायता राशि प्रदान की है, हम उनका आभार व्यक्त करते हैं। इस दौरान शहर जिला कांग्रेस कमेटी के महामंत्री हेमू उपाध्याय, हरिशंकर सिंह, वरिष्ठ नेता राजू शर्मा, विजय सिंह एवं कुलदीप भदौरिया उपस्थित थे।

15-06-2021
प्रधानमंत्री मोदी के नाम कलेक्टर को ज्ञापन,बेरोजगार और बेसहारा परिवार का सहारा बनने केंद्र सरकार से मांग 

रायपुर। जनसेवा सामाजिक संस्था के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को संस्था के संरक्षक भगवानू नायक की अगुवाई में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम कलेक्टर सौरभ कुमार को ज्ञापन सौंपा। जनसेवा सामाजिक संस्था के महामंत्री आशीष तांडी ने कहा है कि सदी की सबसे बड़ी महामारी कोरोना की दूसरी लहर ने देश और दुनिया में जन-जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है। भारत देश में लगभग 3,67,081 लोग और अकेले छत्तीसगढ़ में लगभग 13,284 लोग कोरोना महामारी से मारे गए हैं। हजारों परिवार बेरोजगार और बेसहारा हो गए हैं। लोगों का जीवन संकट में आ गया।  ऐसे पीड़ित परिवारों को देश हित में  मुआवजा 4 लाख रुपए राशि और 5 हजार रुपए प्रतिमाह आजीवन पेंशन की मांग की गई है। 
भगवानू नायक ने कहा है कि कोरोना महामारी ने कई मां,बहनों को विधवा कर दिया, बूढ़े मां-बाप का सहारा छीन लिया। बच्चों के सिर से पिता का साया छूट  गया। पीड़ित परिवारों के सामने रोजी-रोजगार,भरण-पोषण, शिक्षा-दीक्षा, स्वास्थ्य की विकराल समस्या उत्पन्न हो गई है। उनका भविष्य अंधकारमय दिख रहा है। ऐसी स्थिति में सरकारों को ऐसे परिवारों के लिए विशेष व्यवस्था दी जानी चाहिए। जब देश की सर्वोच्च न्यायालय ने कोरोना  महामारी को प्राकृतिक आपदा माना है,तब केंद्र की सरकार और  राज्य की सरकारों को भी कोरोना महामारी को प्राकृतिक आपदा मानकर गंभीरता के साथ सहानुभूति पूर्वक विचार करते हुए शासन के राजस्व परिपत्र में प्राकृतिक आपदा आने पर की गई व्यवस्था के अनुसार मुआवजा राशि  दिया जाना चाहिए। कोरोना महामारी में मृत परिवारों को 4 लाख मुआवजा दिए जाने का मामला सर्वोच्च न्यायालय  में लंबित है।

इसमें न्यायालय ने केंद्र सरकार को 10 दिन का समय दिया है। 21 जून को सुनवाई होगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से आग्रह है कि देश की जनता के लिए एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए कोरोना से मृत पीड़ित परिवारों को 4 लाख रुपए का मुआवजा और 5 हजार रुपए प्रतिमाह आजीवन पेंशन देने की घोषणा करें।
इस अवसर पर अध्यक्ष बंटी निहाल ने कहा हमने पूर्व में भी छत्तीसगढ़ शासन को ज्ञापन सौंपकर कोरोना से मुखिया खोने वाले परिवार को मुआवजा और पेंशन देने की मांग की है परंतु केंद्र के द्वारा इस सम्बंध में कोई दिशा निर्देश नहीं मिलने का हवाला देकर ऐसे मुआवजा आवेदन नहीं लिए जाने का छत्तीसगढ़ शासन ने आदेश जारी कर दिया है। जबकि दिल्ली और बिहार राज्य में मुआवजा और पेंशन दिए जाने का खबर सामने आई है। ऐसे में केंद्र सरकार की बड़ी जिम्मेदारी बनती है कि उन्हें देश हित में फैसला देते हुए तत्काल 4 लाख रुपया मुआवजा और आजीवन 5 हजार रुपया पेंशन राशि देने की घोषणा करनी चाहिए। 
विवेक तनवानी ने प्रधानमंत्री की ओर से की गई संवेदनशील घोषणाओं का स्वागत किया है। मांग की है कि प्रधानमंत्री को कोरोना से मृत  पीड़ित परिवारों को मुआवजा और पेंशन  देने का घोषणा करें। प्रधानमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपने वालों में भगवानू नायक, बंटी निहाल, आशीष तांडी,विवेक तनवानी, आनंद नायक,राम नारायण साहू,कैलाश सोनी, दिलीप सोना, जगबंधु महानंद आदि उपस्थित थे।

16-03-2021
प्राकृतिक आपदा के 4 प्रकरणों में परिजनों को कुल 16 लाख रुपए की आर्थिक सहायता

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने प्राकृतिक आपदा के बेमेतरा जिले के 4 प्रकरणों में 16 लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है। तहसील बेमेतरा के ग्राम मोहभट्ठा के गोपाल विश्वकर्मा की पानी में डूबने से और तहसील नवागढ़ के ग्राम मारो के राजकुमार की सर्पदंश से मौत हुई थी। ग्राम नवलपुर की मोहनी की पानी में डूबने व ग्राम बदनारा की गायत्री जांगड़े की भी मृत्यु पानी में डूबने से हुई थी। इन प्रकरणों में मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

27-02-2021
प्राकृतिक आपदा के 8 प्रकरणों में परिजनों को कुल 32 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मंजूर 

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से प्राकृतिक आपदा से पीड़ितों को आर्थिक अनुदान सहायता स्वीकृत की जाती है। विभाग ने बेमेतरा जिले में ऐसे 8 प्रकरणों में 32 लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है। इनमें बेमेतरा जिले की तहसील बेमेतरा के ग्राम करही की हेमलता और ग्राम मोहतरा की दुर्गा सेन की मृत्यु आग में जलने से और ग्राम मंड़ई की रामबाई निषाद की मृत्यु सर्पदंश से हुई थी। मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। इसी तरह तहसील बेरला के ग्राम रामपुर (भांड़) बुधारु ठाकुर की पानी मे डूबने से ग्राम रवेली की शशी मिर्झा की मृत्यु आग मे जलने से और नवागढ़ तहसील के ग्राम तरपोंगी की शांति निषाद और परसदा की सावित्री कुर्रे की मृत्यु आग मे जलने से और ग्राम झुलना के संजू यादव की मृत्यु सर्पदंश से होने के कारण मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

23-02-2021
प्राकृतिक आपदा से मृत्यु के चार प्रकरणों में 16 लाख रुपए की मदद 

रायपुर। राज्य शासन ने प्राकृतिक आपदा से मृत्यु के चार प्रकरणों में कुल 16 लाख रुपए की आर्थिक सहायता अनुदान राशि की स्वीकृति दी है। इनमें जांजगीर-चांपा जिले की तहसील अकलतरा के ग्राम लटिया के शशिभूषण मरकाम की पानी में डूबने से मृत्यु हुई थी। उनकी पत्नी पार्वती मरकाम को 4 लाख की मदद दी जाएगी। इसी तरह तहसील बलौदा के ग्राम डोंगरी के विनोद केंवट की सर्पदंश से मृत्यु होने पर उनकी मां फुदाना बाई को, तहसील जैजैपुर के ग्राम भातमाहुल निवासी श्यामबाई की सर्पदंश से मृत्यु होने पर उनके पति राजेन्द्र रात्रे और ग्राम गुजियाबोड़ के अजीत कुमार साहू की पानी में डुबने से मृत्यु होने पर उनकी पत्नी रामेश्वरी को चार-चार लाख रुपए की सहायता राशि की स्वीकृति कलेक्टर यशवंत कुमार ने दी है।

23-12-2020
प्राकृतिक आपदा से मौत होने पर प्रशासन ने परिजनों को दी सहायता राशि

रायपुर। प्रदेश शासन के राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग के माध्यम से प्रदेश के विभिन्न जिलों में प्राकृतिक आपदा से पीड़ितों को जिला कलेक्टर के माध्यम से आर्थिक अनुदान सहायता स्वीकृत की जाती है। एसे ही चार प्रकरणों में जशपुर जिले में 16 लाख रूपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। राजस्व पुस्तक परिपत्र 6.4 के तहत जशपुर जिले के पत्थलगांव तहसील के ग्राम कछार की ललीबाई सिदार की मृत्यु पानी में डूबने से होने पर, ग्राम पाकरगांव की सुनैना बाई, ग्राम छातासरई की धनमती भगत और ग्राम मधुवन के पियुष श्रीवास की मृत्यु सर्पदंश से होने पर मृतकों के पीड़ित परिजनों को चार चार लाख रूपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

 

 

09-12-2020
प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान से राहत दिलाने चलाया जा रहा फसल बीमा प्रचार रथ  

दुर्ग। फसल को प्रतिकूल मौसम, सूखा, बाढ़,जलप्लावन,कीटव्याधि, ओलावृष्टि आदि प्राकृतिक आपदाओं से कृषकों को होने वाले नुकसान से राहत दिलाने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना प्रारंभ की गई है। जिले में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना लागू है, जिसमें फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 15 दिसंबर 2020 निर्धारित है। कृषि विभाग के उपसंचालक राजपूत ने बताया कि अधिकाधिक कृषकों को फसल बीमा आवरण में लाने के लिए विभाग द्वारा व्यापक प्रचार.प्रसार अभियान चलाया जा रहा है। विभाग के मैदानी अमलों द्वारा कृषक चौपाल, संगोष्ठी आदि माध्यमों से ऋणी एवं अऋणी कृषकों को फसल बीमा कराने की समझाइश दी जा रही है। 

17-10-2020
प्राकृतिक आपदा के 4 अलग-अलग प्रकरणों में 16 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मंज़ूर

रायपुर। प्राकृतिक आपदा पीड़ितों को जिला कलेक्टर ने प्रदेश के विभिन्न जिलों के चार प्रकरणों में 16 लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की। राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत सूरजपुर जिले की प्रेमनगर तहसील के ग्राम नवापारा कलां के शिवमंगल की मृत्यु सर्पदंश से हो जाने के कारण और उत्तर बस्तर (कांकेर) जिले की नरहरपुर तहसील के ग्राम कोसमपानी के हरीश कुमार कुंजाम की मृत्यु पानी में डूबने से हो गई थी, उनके परिजनों को चार-चार लाख की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। इसी तरह से नारायणपुर जिले के विकासखण्ड नारायणपुर के ग्राम हलामीमुंजमेटा के मनीराम उईके और लाल साय की मृत्यु पानी से डूबने से हो जाने के कारण मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804