GLIBS
07-10-2020
सतगाहिरा गुरु विवि पहुंचें मंत्री अमरजीत भगत, परिसर में किया पौधरोपण

अंबिकापुर। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत और संभागायुक्त जे.किंडो बुधवार को सरगुजा संभाग का सतगाहिरा गुरु विश्वविद्यालय पहुंचें। विवि परिसर में मंत्री अमरजीत भगत ने पौधरोपण किया। उन्होंने कहा की इस विश्वविद्यालय के कार्य को जल्द पूरा करने के लिए हर महीने समीक्षा बैठक करना जरूरी है। इससे की काम को गति मिलेगी और गुणवत्ता की जाँच की जा सकेगी।बता दें कि स्थापना के बाद से ही विश्वविद्यालय को अपने एक अलग कैम्पस की जरुरत थी। पिछली सरकार ने सरगुजा विवि बनाने के लिए बजट पास किया था। विवि में 35 करोड़ की लागत से 12 खंडो में इसका निर्माण किया जा रहा है। यह कैम्पस कई एकड़ जमींन में फैला हुआ है और इसकी खास बात यह है की यह पहाड़नुमा पर बनाया जा रहा है। 

 

04-10-2020
प्रदेश सरकार सामूहिक दुष्कर्म के लगातार कई मामलों से बेनकाब : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने आदिवासी बहुल सरगुजा संभाग के बलरामपुर के बाद बस्तर संभाग के कोंडागांव में सामूहिक दुष्कर्म की घटना को लेकर प्रदेश सरकार पर हमला किया है। कोंडागांव जिले के केशकाल थाना क्षेत्र के ग्राम मदार्पाल निवासी एक युवती के साथ ट्रक में घटी सामूहिक बलात्कार की घटना को लेकर सिंहदेव ने कहा कि आदिवासियों के नाम पर राजनीति कर रही कांग्रेस सरकार एक ही सप्ताह में सामूहिक अनाचार की घटीं लगातार कई गंभीर घटनाओं से बेनकाब हो गई है। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने मंत्री डहरिया की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह पर छत्तीसगढ़ के सामूहिक अनाचार के मामलों को लेकर किए गए ट्वीट पर ताना मारे जाने पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि मंत्री डहरिया पहले अपने और अपनी कांग्रेस के नेताओं के गिरेबां में झांक लें। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने छत्तीसगढ़ की घटना पर ट्वीट किया, पर प्रदेश के कांग्रेस नेता छत्तीसगढ़ की बच्चियों से लेकर वृद्ध महिलाओं तक के साथ हो रहे सामूहिक अनाचार पर संजीदा होना जरूरी नहीं समझ रहे हैं। सिंहदेव ने कटाक्ष किया कि प्रदेश सरकार के मंत्रियों और कांग्रेस नेताओं को इन दिनों अन्य प्रदेशों के मामलों में रुचि लेने का चस्का बढ़ गया है। लेकिन क्या बेटी-बेटी में फर्क करना ही कांग्रेस का राजनीतिक चरित्र रह गया है? कांग्रेस नेता राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका वाड्रा को तो छत्तीसगढ़ आकर यहां की पीड़ित बेटियों और उनके परिजनों को भी इंसाफ दिलाने की पहल करनी चाहिए और भूपेश-सरकार के कृत्यों व नाकारेपन का जायजा लेकर अपनी प्रदेश सरकार पर नकेल कसनी चाहिए। साथ ही मुख्यमंत्री बघेल के कहकर मंत्री डहरिया के मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखाना चाहिए।

03-10-2020
माध्यमिक शिक्षा मण्डल ने कराया वेबिनार, 'संघर्ष करना सीखो' विषय पर हुई चर्चा

 

रायपुर। हमें असफलता से कभी हारना नहीं चाहिए लगातार प्रयास करना चाहिए। हारते वह है जो प्रयास करना छोड़ देते हैं। मैं भी कई बार असफल होने के बाद सफल बना। इस आशय के विचार आज “संघर्ष करना सीखो” विषय पर छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा आयोजित वेबीनार में रायपुर के अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी विनीत नंदनवार ने व्यक्त किए। प्रदेश के तीन हजार से भी अधिक लोगो ने उन्हें सुना। उन्होंने रायपुर, बस्तर व सरगुजा संभाग के बच्चों से सीधा संवाद कर उनके प्रश्नों के जवाब भी दिए। उल्लेखनीय है कि जिस बस्तर हाईस्कूल में उन्होंने पढ़ाई की वहां के शिक्षकों और बच्चों ने उनसे ऑनलाइन बातचीत की, तो दोनों तरफ का वातावरण खुशनुमां हो गया।
विद्यार्थियों के साथ प्रेरक चर्चा में नंदनवार ने बताया कि उनका जन्म जगदलपुर में हुआ और बस्तर हाइस्कूल से प्रारंभिक शिक्षा एवं धरमपुरा कॉलेज में स्नातक हिन्दी माध्यम से हुई। सेंटबोरिस का अर्थ सरकारी स्कूल के चटाई में बैठकर पढ़ाई की। वर्ष 2004 में शिक्षाकर्मी के साक्षात्कार में फेल हो गए। उन्होंने कहा कि असफला से हम कभी हारते नहीं है, हारते वह है जो प्रयास करना छोड़ देते है।

सफल व्यक्ति आंतरिक रूप से हमेशा प्रेरित होते रहते है। किसी भी सफलता के लिए मार्गदर्शक होना आवश्यक है। एक रास्ता बंद हो जाए तो दूसरी, फिर तीसरी योजना में कार्य करना चाहिए। तीन बार आईएएस की परीक्षा में फेल हुए, फिर भी लगातार पाँच वर्षों से लगातार दस-बारह घंटे पढ़ाई किया फिर वर्ष 2013 में छत्तीसगढ़ कैडर के आईएएस बने।  उन्होंने बताया कि सफलता के लिए सपने देखना होगा, बशर्ते सपने शेख चिल्ली जैसे न देखे। धैर्य बनाकर सही समय, सही दिशा में सार्थक प्रयास से सफलता अवश्य हासिल होगी। सतत् रूप से पढ़ाई करें। सुबह के समय दिमाग सबसे सक्रिय रहता है सुबह के समय पढ़ाई करें। अपने सबसे अच्छा समय का उपयोग करें। सतत् रूप से एक कार्य को लगातार न करें जबकि संघर्ष विराम फिर संघर्ष के सूत्र पर कार्य करें। विषय की समझ नहीं, विषय की स्पष्ट समझ विकसित करें। दस किताब पढ़ने के स्थान पर एक किताब को दस बार पढ़े, क्या पढ़ना आवश्यक और क्या छोड़ना है इसे आवश्यकता के आधार पर प्राथमिकता प्रदान करें। रात में अथवा सुबह दिनभर के समय के लिए कार्ययोजना बनाएं फिर शाम को उसका आत्म मूल्यांकन करें। गलतियों को सुधारियें, गलतियों को बार बार न दोहराएं।स्टेट मीडिया सेंटर के नोडल अधिकारी प्रशांत पाण्डेय ने वेबीनार का संचालन किया। शिक्षा सलाहकार सत्यराज अय्यर ने बच्चों से साक्षात्कार कराया। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल के उप सचिव जे. के. अग्रवाल ने आभार प्रदर्शन किया।

17-09-2020
महिला आईएएस अधिकारी जिनेविवा किण्डो को बनाया गया आयुक्त सरगुजा संभाग,आदेश जारी

रायपुर। भूपेश सरकार ने 2004 बैच की भारतीय प्रशासनिक सेवा की महिला अधिकारी जिनेविवा किण्डो को आयुक्त सरगुजा संभाग, अंबिकापुर के पद पर पदस्थ किया है। इससे पहले अपर आयुक्त सरगुजा संभाग की जिम्मेदारी संभाल रही थीं। आईएएस जिनेविवा किण्डो के पदभार ग्रहण करते ही बिलासपुर संभाग आयुक्त व अतिरिक्त प्रभार सरगुजा संभाग आईएएस संजय अलंग अतिरिक्त प्रभार से मुक्त होंगे। इस संबंध मेें छत्तीसगढ़ शासन सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह ने आदेश जारी किया है। 

03-09-2020
कुपोषण और भूख से हुई मौत की तत्काल उच्चस्तरीय जांच करा दोषियों पर कार्रवाई करें सरकार : साय 

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने सरगुजा संभाग के बलरामपुर जिले के भगवानपुर गांव में विशेष संरक्षित जनजाति के दो वर्षीय बच्चे की कुपोषण व भूख से हुई मौत के मामले में प्रदेश सरकार पर तीखा हमला बोला है। साय ने कुपोषण व भूख से हुई इस मौत की तत्काल उच्चस्तरीय जांच करा दोषियों पर दंडात्मक कार्रवाई करने कहा है। उन्होंने कहा है कि, प्रदेश सरकार एक तरफ कोरोना संक्रमण के कारण लोगों पर कहर बरपा रही है, तो दूसरी तरफ उसकी कुनीतियों व नासमझी भरे फैसलों से भूख और कुपोषण के चलते बच्चे अपनी जान से हाथ धो रहे हैं। शर्मनाक तो यह है कि, प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अब भी आंकड़ेबाजी के खेल में मशगूल हो आत्ममुग्धता से उबरने को तैयार ही नहीं हैं।
साय ने कहा है कि, कुपोषण के खिलाफ अभियान चलाने वाली प्रदेश की ढिंढोरची सरकार को इस बात पर जरा भी शर्म महसूस नहीं हो रही है कि उसके तमाम दावे झूठे साबित हो रहे हैं। प्रदेश की आर्थिक सेहत को बेहतर बताते फिर रहे मुख्यमंत्री बघेल जरा प्रदेश की जमीनी सच्चाई से रूबरू हों, यह जरूरी है। कुपोषण और भूख के खिलाफ प्रदेश सरकार के कथित अभियान की क्रूर सच्चाई यह है कि मृत बच्चे के परिजन केवल इसलिए भीख मांगकर गुजारा करने विवश हैं, क्योंकि इस परिवार के पास राशन कार्ड नहीं होने के कारण उसे राशन नहीं मिल पा रहा है। कुपोषण और भूख से एक मासूम बच्चे की मौत का कलंक ढो रही यह सरकार इतनी संवेदनहीन हो चली है कि, अपने वादे और दावे के बावजूद न तो सबके लिए राशन कार्ड अब तक बनवा सकी है।  न ही नियमानुसार किसी जरुरतमंद परिवार को बतौर राहत अनाज उपलब्ध करा रही है। 
साय ने कहा कि किसानों से खरीदे गए धान की मिलिंग और उठाव नहीं करा सकी प्रदेश सरकार सैकड़ों करोड़ रुपए मूल्य के धान को बारिश में सड़ा रही है, लेकिन भूख से लड़ते परिवारों के लिए वह निशुल्क अनाज का इंतजाम तक करने को तैयार नहीं है। इतना ही नहीं, केंद्र सरकार को पत्र लिखकर गरीबों के लिए निशुल्क राशन की अवधि तीन माह और बढ़ाने की प्रदेश सरकार की मांग पर जब केंद्र सरकार ने पाँच माह के लिए निशुल्क राशन देने का ऐलान किया, तो प्रदेश सरकार यह कहकर कि, हमारे पास पर्याप्त अनाज है, अब अनाज नहीं उठा रही है। साय ने पीड़ित परिवार को हर स्तर पर हरसंभव सहायता मुहैया कराने की शासन से मांग की है। उन्होंने कहा है कि, योजनाओं के नाम पर चल रही मनमानी पर रोक लगाई जाए और कुपोषण व भूख से हुई इस मौत की तत्काल उच्चस्तरीय जाँच करा दोषियों पर दंडात्मक कार्रवाई की जाए।

22-08-2020
भूपेश बघेल को शुभकामनाएं देने 15 मिनट का मिलेगा समय, संभागवार कार्यक्रम तय

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने जन्मदिन पर 23 अगस्त को सभी जनप्रतिनिधियों, प्रदेश के आम नागरिकों,जिला, शहर, नगर, ब्लॉक अध्यक्षों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। यह वीडियो कांफ्रेंसिंग संभागवार होगी। बस्तर संभाग में दोपहर 12 बजे से दोपहर 12:15 तक, सरगुजा संभाग में दोपहर 12:15 से दोपहर 12:30 तक, बिलासपुर संभाग में दोपहर 12:30 से दोपहर 12:45 तक, दुर्ग संभाग में दोपहर 12:45 से दोपहर 1 बजे तक और रायपुर संभाग में दोपहर 1 बजे से दोपहर 1:15 तक होगी।  प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा है कि, कार्यक्रम में क्षेत्र के कांग्रेसी और आम नागरिक सभी संभागों के अंतर्गत आने वाले 28 जिलों के किसी भी जिला कलेक्ट्रेट व 146 ब्लॉक जनपद पंचायतों के वीडियो कांफ्रेंसिग रूम से मुख्यमंत्री से जुड़ सकते हैं। इसकी व्यवस्था की गई है।

06-08-2020
सरगुजा संभाग के सभी जिलों में कोरिया में सबसे कम एक्टिव केस, कलेक्टर ने कहा - सतर्कता और जागरूकता से होंगे कामयाब

कोरिया। सरगुजा संभाग के अंतर्गत कोरिया जिले में कोविड-19 केस अन्य की अपेक्षा कम हैं। वर्तमान में सबसे कम 22 एक्टिव केस हैं जबकि आज की स्थिति में अंबिकापुर में 25 एक्टिव केस, सूरजपुर में 34 केस, जशपुर 37 केस और बलरामपुर में 34 एक्टिव केस हैं। साथ ही आज जिले में एक भी पॉजिटिव केस नहीं मिला है।सरगुजा संभाग के अंतर्गत अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज के बाद कोरिया जिले में ही दूसरा कोविड केअर हॉस्पिटल प्रारंभ किया गया गया। यहां जिले में ही कोरोना के मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त सरगुजा संभाग में कोरिया पहला जिला है जहां ट्रू-नाट टेस्टिंग लैबोरेट्री प्रारंभ की गई।

इस विधि से एक से डेढ़ घण्टे में ही कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट प्राप्त हो जाती है। आम जनता को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन की ओर से जागरूक किया जा रहा है। साथ ही नियमों का उल्लंघन करने वालों पर चालानी कार्यवाही भी राजस्व व पुलिस टीम के साथ की जा रही है। कलेक्टर ने जिले की समस्त जनता से अपील करते हुए कहा है कि प्रशासन की सतर्कता और जनता की जागरूकता से ही कोरिया जिला जरूर ही यह जंग जीतने में कामयाब होगा। सभी बचाव नियमों का पालन अवश्य करें।

24-06-2020
नगरीय क्षेत्रों अतिक्रमण भूमि को विक्रय कर पट्टा करने पर लगे रोक : सर्व आदिवासी समाज

बीजापुर। राज्य सरकार द्वारा नगरीय निकाय क्षेत्र में अतिक्रमण व्यवस्थापन कब्जा भूमि को विक्रय कर पट्टा प्रदान करने पर अनुसूचित क्षेत्र बस्तर,सरगुजा संभाग में शीघ्र रोक लगा कर वनाधिकार अधिनियम के तहत मान्यता पत्रक कार्यवाही की मांग को लेकर सर्व आदिवासी समाज की बीजापुर इकाई ने राज्यपाल के नाम मंगलवार को कलेक्ट्रेट में डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। सर्व आदिवासी समाज के अध्यक्ष अशोक तलाण्डी ने बताया कि शासन द्वारा निर्धारित दर पर इस क्षेत्र का मूल निवासी जमीन नही खरीद सकता अतएव बाहरी प्रवासी लोगों द्वारा जमीन खरीद कर मूलनिवासियों को बेदखली किया जाएगा। इस निर्णय से मूलनिवासी समुदाय की दूरगामी भयावह खतरे की ओर बढ़ रहा है। क्षेत्र की जनता को मालिकाना हक दिलाने संसद द्वारा निर्मित वन अधिकार मान्यता अधिनियम 2006 के प्रावधानों के अनुसार हकदार परिवार को हक़ प्रदान किया जाये।अनुसूचित क्षेत्रों में स्थित नगरीय निकाय की भूमि व्यवस्थापन  निर्णय पर तत्काल रोक लगाई जाए इस विधि विरुद्ध निर्णय के वापस न लेने की दशा में सड़क की लड़ाई के साथ सुप्रीम कोर्ट के निर्णयों की अवमानना याचिका दाखिल करने की विवशता होगी। ज्ञापन देने अशोक तलाण्डी सहित नरेंद्र बुरका, सकनी चन्द्रिया, जमुना सकनी, लक्ष्मी नारायण गोटा समाज के प्रतिनिधि पहुँचे थे।

 

17-06-2020
सरगुजा संभाग कोरोना महामारी से मुक्त, मरीज स्वास्थ्य लाभ लेकर लौटे घर

अंबिकापुर। एक और जहां छत्तीसगढ़ में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। वहीं दूसरी ओर सरगुजा जिले में कोरोना महामारी से 1 माह के अंतराल में मुक्ति पा ली है। सरगुजा में अब एक भी करोना पॉजिटिव मरीज नहीं है। जिले के उदयपुर ब्लॉक का बचा मरीज भी आज डिस्चार्ज हो गया। कोविड अस्पताल अंबिकापुर से बुधवार को कुल 6 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। इनमें कोरिया जिले से 3, जशपुर, बलरामपुर व सरगुजा जिले से 1-1 मरीज हैं। ज्ञात हो कि सरगुजा जिले में 17 मई को पहले कोरोना पॉजिटिव मरीज की पुष्टि हुई थी। अहमदाबाद से लौटी महिला कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी। उसके पश्चात अंबिकापुर शहर से 7 मरीजों को मिलाकर कुल जिले में 24 पॉजिटिव मरीज पाए गए थे। 17 जून को पूरे एक महीने बाद सरगुजा कोरोना मुक्त हो गया। उदयपुर ब्लॉक से बचा एकमात्र कोरोना पॉजिटिव मरीज भी आज डिस्चार्ज हो गया।कोविड अस्पताल अंबिकापुर में सरगुजा संभाग के सरगुजा, सूरजपुर, बलरामपुर, कोरिया व जशपुर जिले के करीब 150 मरीज भर्ती हुए थे। इसमें से 70 प्रतिशत मरीज स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं। बुधवार को स्वस्थ हुए मरीजों में कोरिया जिले से 3, सरगुजा, बलरामपुर व जशपुर से 1-1 मरीज शामिल हैं।

 

11-06-2020
48 घंटे में एक गर्भस्थ शिशु समेत चार हाथियों की मौत, वन अमले में मचा हड़कंप

अंबिकापुर/राजपुर। सरगुजा संभाग ने 48 घंटे के भीतर एक गर्भस्थ सावक समेत चार हाथियों के  मौत से वन अमले में हड़कंप सा मच गया है। वन अमला एवं वाइल्डलाइफ की टीम यह नहीं समझ पा रही है कि हाथियों की मौत क्यों और किस कारणों से हो रही है। पहली मौत के संबंध में पशु चिकित्सकों ने बताया था कि हथनी की मौत प्रसव पीड़ा की वजह से हुई थी। साथ ही मृत हथनी के अमाशय में संक्रमण पाया गया था। जबकि 24 घंटे बाद ही उसी स्थान पर दूसरी हथिनी का शव मिला। रायपुर से विशेषज्ञों व डॉक्टरों की टीम जांच व पीएम करने पहुंची थी लेकिन हाथियों द्वारा शव को घेर लिए जाने से उसका पीएम नहीं हो सका।

इधर अभी दूसरे हाथी के मौत का खुलासा नहीं हो सका था तभी बलरामपुर जिले के राजपुर वन परीक्षेत्र अंतर्गत गोपालपुर व अतौरी सर्किल के दरबारी महुआ वनक्षेत्र में एक और हथिनी का शव मिला है। 48 घंटे के भीतर 4 हथियों का शव मिलने से शासन-प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। लोगों के बीच यह चर्चा है कि हथनियों की मौत किसी बीमारी से हो रही है या इसके पीछे किसी का हाथ है जो इन हाथियों के मौतों को सील सिलसिलेवार दे रहा हो।

08-06-2020
शहीद विरसा मुण्डा बलिदान दिवस पर फेसबुक लाइव होंगे डॉ.नंद कुमार साय

अंबिकापुर। आदिवासी गौरव समिति सरगुजा संभाग के तत्वाधान में 9 जून को भगवान बिरसा मुंडा बलिदान दिवस के रूप में घरों में पूजन कर मनाया जावेगा। इस दिन राष्ट्रीय जनजाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष डॉ. नंदकुमार साय भगवान बिरसा मुण्डा के शहादत पर फेसबुक के माध्यम से लाइव चर्चा कर अपना उद्बोधन देंगे। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804