GLIBS
14-01-2020
भिक्षुकों को काउंसलिंग के बाद पुनर्वास केंद्रों में कराया गया भर्ती

रायपुर। समाज कल्याण विभाग के सहयोग से छत्तीसगढ़ मितवा संकल्प समिति की ओर से रायपुर जिला में भिक्षुकों के सर्वे का काम किया गया। इस दौरान रायपुर शहर की और रायपुर शहर के बाहर सभी स्थानों पर रहने वाले भिक्षुकों को चिन्हित किया गया और उन्हें काउंसलिंग के पश्चात पुनर्वास केंद्रों में भर्ती कराया गया। छत्तीसगढ़ मितवा संकल्प समिति के अध्यक्ष विद्या राजपूत ने बताया कि समिति के सदस्यों ने एक सर्वे प्रपत्र पर सभी भिक्षुकों की जानकारी बिंदुवार भरी। उन्होंने बताया कि यह सर्वे जिला कलेक्टर रायपुर के निर्देश के बाद किया गया था। इस सर्वे के लिए समाज कल्याण विभाग द्वारा आवश्यक समन्वय और सहयोग किया गया। इसके बाद बाल भिक्षुओं की काउंसिलिंग के माध्यम से परिजनों को समझाइश दी गई। इसके साथ ही हेल्पलाइन नंबर से सहायता लेकर भिक्षुकों को पुनर्वास केंद्र रिफर किया गया। उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ में रायपुर पहला जिला है, जहां पर भिक्षुकों के सर्वे का काम किया गया।  इस सर्वे में तृतीय लिंग समुदाय के साथ,इको फ्रेंडली ग्रुप के कार्यकर्ताओं ने भी साथ दिया। सर्वेकर्ता गोविंद ने बताया कि सभी से 22 बिंदुओं पर जानकारी ली गई। इन बिंदुओं पर ली गई जानकारी से भविष्य में सरकार की ओर से योजनाएं भी बनाई जा सकती हैं। इस सर्वे में प्रमुख रूप से गोविंद संडेकर,स्वाति,प्रेरणा ग्रुप और फ्रेंडली ग्रुप के कार्यकर्ता शामिल हुए।

 

25-12-2019
अस्पताल वाले बाबा की मजार में चादर चढ़ाकर किन्नरों ने मांगी प्रदेश के लिए सुख शांति की दुआ

रायपुर। किन्नर समुदाय ने मंगलवार रात अस्पताल वाले बाबा की मजार पर चादर चढ़ाकर प्रदेश के सुख और शांति के लिए दुआ मांगी।  देवेन्द्र नगर स्थित अंबेडकर भवन से शास्त्री चौक स्थित अस्पताल वाले बाबा की मजार तक भव्य शोभायात्रा निकाली गई। यह चादर संदल यात्रा हर साल किन्नर समुदाय की ओर से निकाली जाती है। शोभायात्रा के दौरान बड़ी संख्या में तृतीय लिंग समुदाय के लोग शामिल हुए। इस यात्रा में उत्साहवर्धन के लिए भी शहर के गणमान्य व्यक्ति पहुंचे थे। अस्पताल वाले बाबा के मजार में चादर चढ़ाने के बाद सभी ने एक-दूसरे को गले लगाकर आपस में बधाई दी। कार्यक्रम की आयोजिक रमा बाघ ने कहा कि बाबा की मजार में चादर चढ़ाकर राज्य के सुख और शांति के लिए दुआ मांगी जाती है। इसके बाद कार्यक्रम समाप्त हुआ और सभी ने रात्रि का भोजन किया। आयोजन समिति द्वारा दो दिनों के लिए सभी के रुकने की व्यवस्था की गई थी।

छत्तीसगढ़ मितवा संकल्प समिति और समाज कल्याण विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय किन्नर महासम्मेलन के अंतिम दिन अनेक कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। रायपुर के देवेन्द्र नगर स्थित अबेंडकर भवन में मंगलवार को सुबह 11 बजे से यज्ञ का आयोजन किया गया। इस दौरान किन्नर समुदाय की आराध्या देवी माता बहुचरा की पूजा अर्चना और यज्ञ किया गया। इस दौरान संस्कृत के मंत्रोच्चार के बीच में किन्नर समुदाय के गुरुओं ने यज्ञ पर आहुति दी गई। तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड की सदस्य विद्या राजपूत ने बताया कि यह यज्ञ विश्व शांति के लिए किया गया था। उन्होंने कहा कि हिन्दू- मुस्लिम एकता ही देश की पहचान है। हम चाहे किसी भी धर्म या विश्वास को मानने वाले हों, हमें अपने देश से पहला प्यार होना चाहिए। यज्ञ और संदल की आयोजिक रमा बाघ ने देश में सभी घर्मों के भाईचारे व एकता का आह्वान किया। यज्ञ के पश्चात सामूहिक रूप से प्रसाद वितरण का कार्यक्रम किया गया।

14-12-2019
राजधानी के विभिन्न चौक-चौराहों में मतदाता जागरूकता अभियान आज

रायपुर। छत्तीसगढ़ मितवा संकल्प समिति, कोहेजन फाउंडेशन ट्रस्ट और क्यूरगढ़ द्वारा शनिवार को शहर के विभिन्न चौक-चौराहों पर मतदाता जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया है। मतदान जागरूकता अभियान  शनिवार को दोपहर 1:00 बजे फूल चौक, 1:30 बजे शास्त्री चौक, 2:00 बजे अंबेडकर चौक, 2:30 भगत सिंह चौक, 3 बजे मरीन ड्राइव और दोपहर 3:30 बजे तेलीबांधा चौक में किया जाएगा। इस अभियान में मुख्य रूप से विभिन्न स्कूल के बच्चे, रायपुर के सामाजिक कार्यकर्ता और तृतीय लिंग समुदाय के व्यक्ति शामिल रहेंगे।

13-12-2019
ट्रांसजेंडर बच्चे को देखें तो उसके अंदर आत्मविश्वास पैदा करें, दोस्त बनाएं : विद्या राजपूत 

रायपुर।  महिला उत्पीड़न शिकायत कमेटी और राष्ट्रीय सेवा योजना के संयुक्त तत्वाधान में दुर्गा महाविद्यालय में शुक्रवार को तृतीय लिंग समुदाय के लिए संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में मुख्यअतिथि वक्ता के रूप में विद्या राजपूत, सदस्य तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड और रवीना बरिहा सदस्य तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड, छत्तीसगढ़ शासन उपस्थित थे। एलजीबीटी सामाजिक कार्यकर्ता सिद्धांत कुमार बेहरा और अंकित दास भी विशेष वक्ता के रूप में कार्यशाला में उपस्थित हुए। रवीना बरिहा ने पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से  तृतीय लिंग समुदाय का इतिहास, सर्वोच्च न्यायालय का दिशा-निर्देश, वैज्ञानिक प्रमाण और छत्तीसगढ़ के शासन के दिशा निर्देशों को अवगत कराया।  इसी तरह विद्या राजपूत ने बचपन से लेकर युवावस्था और वृद्धावस्था तक होने वाले किन्नर समुदाय के समस्याओं से उपस्थित विद्यार्थियों और शिक्षकों जानकारी प्रदान की। विद्या राजपूत में शिक्षकों और छात्रों से आह्वान किया कि यदि वह कोई ट्रांसजेंडर बच्चे को देखें तो उसके अंदर आत्मविश्वास पैदा करने की कोशिश करें और उसे अपना सबसे अच्छा दोस्त बनाए।
सामाजिक कार्यकर्ता सिद्धांत कुमार बेहरा ने तृतीय लिंग समुदाय के व्यक्ति को स्कूल और कॉलेज में होने वाली समस्याओं के बारे में बताया। सिद्धांत ने सेक्सुअल डायवर्सिटी और जेंडर डायवर्सिटी को विस्तार से समझाया। अंकित दास ने बताया कि  एक  तृतीय समुदाय का बच्चा भेदभाव और स्वीकार्यता नहीं मिलने के कारण बचपन में बहुत ज्यादा मानसिक तनाव से गुजरता है। यदि हम बचपन से ही ट्रांसजेंडर बच्चे को सपोर्ट करें तो उसका भविष्य निश्चित रूप से बहुत अच्छा बनेगा। अंकित दास ने कहा कि जब से वह अपने आप को स्वीकारा है तब से वह बहुत आत्मविश्वास के साथ जी रहा है। कार्यशाला के अंत में दुर्गा महाविद्यालय के शिक्षकों और छात्रों ने अपने विचार रखें। छात्रों के मन में उठने वाले सवालों का भी जवाब अतिथि वक्ताओं ने दिया। कार्यक्रम के अंत में महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने समुदाय के सभी लोगों का मोमेंटो देकर स्वागत किया और अच्छे भविष्य के लिए बधाई दी।

25-11-2019
तृतीय लिंग समुदाय के भवन निर्माण के लिए महापौर ने किया भूमिपूजन

रायपुर। तृतीय लिंग समुदाय के लिए नगरीय प्रशासन विकास विभाग, छत्तीसगढ़ शासन और नगर निगम रायपुर द्वारा आवंटित भूमि का पूजन रायपुर शहर के महापौर प्रमोद कुमार दुबे ने किया। इस अवसर पर जोन क्रमांक 8 के आयुक्त प्रवीण सिंह गहलोत और अभियंता अभिषेक  गुप्ता उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि प्रतिदिन समुदाय के पुनर्वास और सामुदायिक भवन के कार्य के लिए नगरीय प्रशासन विकास विभाग द्वारा सरोना में जमीन का आवंटन किया गया है। तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड, छत्तीसगढ़ शासन की सदस्य विद्या राजपूत ने बताया कि समुदाय के व्यक्तियों को ज्यादातर घर से निकाल दिया जाता है। घर से निकलने के बाद उनके लिए कोई आपातकालीन आवासीय व्यवस्था नहीं रह पाती। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा किन्नरों के इस समस्या के हल के लिए उन्हें एक पुनर्वास केंद्र और सामुदायिक भवन के लिए जमीन आवंटित किया गया था। विद्या राजपूत ने बताया कि इस भूमि पर भवन का निर्माण किया जाएगा। इसका उपयोग अस्थाई तौर पर आवासीय व्यवस्था,कौशल विकास प्रशिक्षण केंद्र और सामुदायिक गतिविधियों के लिए किया जाएगा। सरकार के इस कदम से पूरे तृतीय लिंग समुदाय में खुशी का माहौल है। 

तृतीय समुदाय की गुरु रमा बाघ ने कहा कि अब हम सही तरीके से सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। इसी तरह दीपा गुरू ने कहा कि सरकार का यह कदम निश्चित रूप से बहुत मानवीय है और एक आदर्श पहल है। उन्होंने कहा कि ट्रांसजेंडर बच्चे जो समाज से या परिवार से प्रताड़ित हो रहे हैं उनके लिए यह स्थान निश्चित तौर पर उनके भविष्य के लिए बहुत ही अच्छा साबित होगा।  इस भूमि पर निर्माण कार्य जोन क्रमांक 8 के अंतर्गत किया जा रहा है। इसके अभियंता अभिषेक गुप्ता हैं। भूमि पर बनने वाले भवन निर्माण का डिजाइन भी जोन क्रमांक 8 के अंतर्गत किया जा रहा है। समुदाय के सभी सदस्यों ने नगर निगम रायपुर और जोन क्रमांक 8 के आयुक्त और समस्त अधिकारी कर्मचारियों को भी बहुत धन्यवाद ज्ञापित किया है। सर्वोच्च न्यायालय ने 15 अप्रैल 2014 को अपने ऐतिहासिक निर्देश में राज्य सरकार को कहा था कि वह किन्नर समुदाय के सुरक्षा और सशक्तिकरण के लिए ठोस कदम उठाएं। उक्त निर्णय के परिपालन में नगरी प्रशासन विकास विभाग द्वारा समस्त आवासीय योजनाओं में पहले से ही समुदाय को 2 प्रतिशत का आरक्षण प्रदान किया गया था और इस साल सामुदायिक भवन के निर्माण के लिए जमीन का आवंटन किया गया। उल्लेखनीय कि पूरे देश में छत्तीसगढ़ में हो रहे कार्यों को काफी सराहा जाता है और इस एक मॉडल स्टेट के रूप में भी देखा जाता है।

09-09-2019
गांधी जयंती पर आयोजित कार्यक्रमों में तृतीय लिंग समुदाय की होगी महती सहभागिता

रायपुर। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर से साल भर आयोजित होने वाले कार्यांजलि कार्यक्रमों में तृतीय लिंग समुदाय के लोगों की सहभागिता ली जाएगी। इस दौरान आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों और कार्यशालाओं में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इसके साथ ही सभी जिलों में जनजागरूकता और लिंग संवेदनशीलता के लिए तृतीय लिंग के व्यक्तियों के सहयोग से कार्यशालाओं का आयोजन किया जाएगा। समाज कल्याण विभाग मंत्री अनिला भेडिय़ा की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में आयोजित तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड की बैठक में यह निर्णय लिया गया। भेडिय़ा ने तृतीय लिंग के व्यक्तियों को मुख्य धारा में लाने के लिए सभी विभागों से संवेदनशीलता और समन्वय से काम करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि तृतीय लिंग के लोगों की शिक्षा, रोजगार, चिकित्सा और पुनर्वास के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएं। तृतीय लिंग समुदाय के लोगों के डेटा संधारण के लिए आवश्यक कार्यवाही की जाए जिससे वास्तविक व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पहुंचाया जा सके। उन्होंने तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड की 6 मार्च 2018 को आयोजित बैठक में लिए गए निर्णयों के कार्यान्वयन की समीक्षा की और आवश्यक दिशा निर्देश दिये। भेडिय़ा ने तृतीय लिंग के लोगों को आधुनिक तकनीक के माध्यम से लिंग प्रत्यारोपण की सुविधा प्रदान करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से आवश्यक प्रस्ताव बनाने के लिए कहा। बैठक में विभिन्न विभागों में तृतीय लिंग के लोगों से संबंधित कार्यवाही को गति देने के लिए हर तीन महीने में नोडल अधिकारियों की बैठक आयोजित करने पर स्वीकृति दी गई। इस अवसर पर समाज कल्याण विभाग के सचिव  ए. कुलभूषण टोप्पो, सामान्य प्रशासन विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, उच्च शिक्षा, विधि, गृह, अंत्याव्यसायी, कौशल विकास, जनशक्ति नियोजन, तकनीकी शिक्षा एवं रोजगार, नगरीय प्रशासन, जनसम्पर्क विभाग के अधिकारियों सहित तृतीय लिंग समुदाय की प्रतिनिधि  विद्या राजपूत,  कंचन शेन्द्रे और रवीना बरिहा उपस्थित थीं।

 

30-06-2019
तृतीय लिंग समुदाय के प्रति अधिकारियों और कर्मचारियों को किया गया जागरूक

रायपुर। जनसंपर्क विभाग और छत्तीसगढ़ संवाद के अधिकारियों व कर्मचारियों को तृतीय लिंग समुदाय के बारे में जागरूक करने नवा रायपुर में संवाद कार्यालय के ऑडिटोरियम में संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। तृतीय लिंग समुदाय के संगठन ‘मितवा’ की विद्या राजपूत और रवीना बरिहा ने कार्यशाला में इस समुदाय के जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने तृतीय लिंग समुदाय से संबंधित कानूनों और समय-समय पर उच्चतम न्यायालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के बारे में भी बताया। कार्यशाला में जनसंपर्क विभाग के संयुक्त सचिव और छत्तीसगढ़ संवाद के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी उमेश मिश्र, अपर संचालक जेएल दरियो और जमुना सांडिया, संयुक्त संचालक संतोष सिंह, वीके तिग्गा और चमन सिंह ठाकुर सहित विभाग के अनेक अधिकारियों-कर्मचारियों ने हिस्सा लिया।

16-01-2019
Municipal Corporation : नगर निगम ने दी ट्रांसजेंडर्स को 77 मकानों की सौगात, ट्रांसजेंडर्स में हर्ष की लहर 

रायपुर। तृतीय लिंग समुदाय को रायपुर नगर निगम ने बीएसयूपी प्रोजेक्ट के तहत 77 मकान बनाकर दिए है। इसके बाद ट्रांसजेंडर्स में हर्ष की लहर हैं। ट्रांसजेंडर्स ने नगरी प्रशासन मंत्री शिव डहरिया, नगर निगम महापौर प्रमोद दुबे, कलेक्टर और निगामायुक्त का आभार प्रकट किया है। बता दें कि लंबे समय से लड़ाई लड़ने के बाद अब ट्रांसजेंडर्स की मांग पूरी हुई। ट्रांसजेंडर्स नगर निगम से मकान की आस कर रहे थे और अब वह आस पूरी हो चुकी है। रायपुर नगर निगम की ओर से बीएसयूपी प्रोजेक्ट के तहत 77 मकान बनाकर दिया गया है। अब इस मकान में वे रहकर जीवनयापन कर सकेंगे। उन्होंने मकान दिलाने में सहयोग करने वालों के लिए सम्मान समारोह का कार्यक्रम रखा है। यह कार्यक्रम 17 जनवरी को सुबह 10 बजे बीएसयूपी कॉलोनी, हुंडई शो रुम की गली, दुर्ग रोड, टाटीबंध में होगा। आयोजन मितवा समिति की ओर से आयोजित है। छत्तीसगढ़ मितवा संकल्प समिति की अध्यक्ष विद्या राजपूत ने इस संबंध में बताया है कि सर्वोच्च न्यायालय के निदेर्शों का पालन करते हुए छत्तीसगढ़ नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के अंतर्गत आवास निर्माण योजनाओं में ट्रांसजेंडर (तृतीय लिंग) के लिए 2 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। इसके अंतर्गत ट्रांसजेंडर्स को मुख्यधारा से जोड़ने और समाज में सम्मानजनक स्थान देने रायपुर नगर निगम ने सर्वप्रथम पहल कर 77 आवासहीन ट्रांसजेंडर को आवास उपलब्ध कराया है। नगर निगम का यह कदम बेघर ट्रांसजेंडर के लिए बहुत बड़ी राहत है। उन्होंने बताया है कि नगरीय प्रशासनमंत्री के मुख्य आतिथ्य व महापौर प्रमोद दुबे की अध्यक्षता में सम्मान समारोह का आयोजन 17 जनवरी को सुबह 10 बजे से होगा।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804