GLIBS
31-08-2020
एएसआई को कुटरू थाना में सलामी देते हुए अर्पित की गई श्रद्धांजलि

बीजापुर। जिले के उसूर ब्लाक के ग्राम चेरामगी निवासी अपह्रत एएसआई नागैया कोरसा की निर्मम हत्या नक्सलियों ने कर दी। सोमवार का एएसआई को कुटरू थाना में जवानों ने सलामी देते हुए श्रद्धांजलि अर्पितक की। इस दौरान पुलिस प्रशासन के अधिकारी, जवान, परिजन व कुटरू ग्रामवासी मौजूद रहे। मृत एएसआई नागैया कोरसा के परिजनों को पुलिस प्रशासन द्वारा सहायता राशि प्रदान की गई। बीजापुर एडिशनल एसपी मिर्जा जियारत बेग ने हरसंभव मदद की बात कही है। एएसआई नागैया कोरसा विगत दो वर्षों से कुटरू थाने में अपनी सेवा दे रहे थे। गौरतलब है कि रविवार को कुटरू थाने में पदस्थ 58 वर्षीय एएसआई नागैया कोरसा छुट्टी पर घर जाने के लिए निकले थे। लेकिन नक्सलियों ने उन्हें रास्ते में अकेले जाते हुए देख लिया। उसके बाद नक्सली एएसआई नागैया कोरसा का अपहरण कर अपने साथ ले गए। उनकी हत्या कर दी, और शव को केतुलनार के पहले पुल के पास फेंक दिया था। मृत एएसआई के जेब से एक कागज का टुकड़ा मिला है,जिसमे नक्सलियों के भैरमगढ़ एरिया कमेटी ने घटना की जिम्मेदारी ली है।

 

23-08-2020
नाबालिग हत्याकांड का हुआ खुलासा,प्रेमी के साथ मिलकर छोटी बहन को उतार था मौत के घाट

कोरबा। कटघोरा के मल्दा गांव में शनिवार को नाबालिग की निर्मम हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। कत्ल की इस पूरी वारदात को बड़ी बहन ने अंजाम दिया था। लेकिन साजिश में वह अकेली नहीं थी बल्कि उसका प्रेमी भी साथ था।
कटघोरा पुलिस ने शनिवार को बड़ी बहन को हिरासत में ले लिया था। उसने पुलिस के सामने अपनी नाबालिग बहन की हत्या की बात कबूल की थी, लेकिन मनोवैज्ञानिक तरीके से हुई पूछताछ में उसने जो सच्चाई बयां की उसने पुलिस के भी होश उड़ा दिए।आरोपी बहन ने बताया कि हत्या के वारदात में उसका प्रेमी विनय जगत भी उसके साथ शामिल था। माँ-बाप की गैरमौजूदगी में वह कत्ल की रात उससे मिलने मल्दा आया हुआ था। दोनों उसी कमरे में मिल रहे थे,जहां छोटी बहन भी सोई हुई थी। जब अचानक उसकी नींद खुली तो उसने बड़ी बहन और उसके प्रेमी को आपत्तिजनक हालत में देख लिया।

छोटी बहन के सामने अपनी पोल खुलते देख दोनों डर गए। वह यह बात उसके मां-बाप को ना बता दे इस डर से उसने और उसके प्रेमी ने नाबालिग को हमेशा के लिए मौत की नींद दे दी।आरोपी बड़ी बहन ने बताया कि पहले आरोपी प्रेमी विनय ने मृतिका के चेहरे को तकिए से दबाए रखा। जब उसकी मौत हो गई तब उसने टंगिये के पाशा (पिछले हिस्से) से उसके सिर पर संघातिक वार कर दिया।प्रेमी ने खुद को बचाने के लिए प्रेमिका को पुलिस के सामने कहने गढ़ने को कहा और खुद वहां से फरार हो गया। सुबह जब लोगों का हुजूम उमड़ा और तफ्तीश के लिए पुलिस मल्दा पहुंची तो उसने यह कहानी उनके सामने सुना दी। हालांकि सभी को इस बात के सन्देह था कि महज मोबाइल के लिए इतनी बड़ी वारदात को वह अकेले अंजाम नहीं दे सकती।

29-07-2020
पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के दौरान होता था वन्य प्राणियों का अवैध शिकार और गौ वंश की निर्मम हत्या : विकास तिवारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने पूर्ववर्ती भाजपा सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि राष्ट्रीय पशु बाघ का अवैध शिकार छत्तीसगढ़ में भाजपा राज में अनवरत चल रहा था। विकास ने कहा कि इसके परिणामों का खुलासा कल दिल्ली से केंद्रीयमंत्री प्रकाश जावड़ेकर और केंद्रीय राज्यमंत्री बाबुल सुप्रियो ने किया है। राष्ट्रीय बाघ दिवस के एक दिन पूर्व केंद्र सरकार ने वर्ष 2018 तक राज्य वार बाघों की जनगणना का विवरण प्रस्तुत किया जिसमें बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य में 49 घटकर मात्र 19 ही रह गए हैं। इससे स्पष्ट होता है कि भाजपा के रमन सरकार के संरक्षण में बाघों का अवैध शिकार होता रहा। क्या इसकी खुली छूट बाघ के शिकारियों को थी और राष्ट्रीय पशु बाघ का शिकार उनके खाल, दांत और अन्य अंगों की तस्करी के लिये किया जाता था जिसका मूल्य अंतराष्ट्रीय बाजारों में करोड़ों रु. होता है। 

विकास तिवारी ने कहा कि अप्रैल 2018 में उदंती सीतानदी रिजर्व में एक बाघ की खाल बरामद की गई और तब वह महकमे ने कहा दिया कि उसका शिकार ओडिसा में किया गया था। बाद में राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) ने अपनी जांच में पाया कि बाघ छत्तीसगढ़ के उदंती सीतानंदी रिसर्व का ही था और उसका शिकार इसी इलाके में हुआ था तब के जंगल महकमे को एनटीसीए ने फटकार भी लगाई थी। तिवारी ने कहा कि इसी तरह छत्तीसगढ़ के भोरमदेव इलाके में नवम्बर 2011 में एक बाघिन का शिकार किया गया। इसमें भी तब के वन महकमे ने पूर्व मुख्यमंत्री के ही दबाव में लीपापोती की। तब यह सूचनाएं थीं कि भोरमदेव में बाघिन के शिकारी उनके ही करीबी थे। विकास तिवारी ने कहा कि रमन सरकार के समय प्रदेश के जंगल में अवैध कटाई तेजी से चल रही थी और बाघों का अवैध शिकार भी लगातार हो रहा था। केंद्र सरकार की रिपोर्ट में बताया गया है कि रमन सरकार के तत्कालीन वन अधिकारी 27 से अधिक बाघों की मौत का कारण बताने में अक्षम थे इससे स्पष्ट होता है कि छत्तीसगढ़ राज्य में राज राष्ट्रीय पशु बाघ की अवैध शिकार कर निर्मम हत्या की जाती थी जिस कारण पूर्ववर्ती सरकार के अधिकारी 27 से अधिक बाघ कैसे मारे गये यह जानकारी केंद्र सरकार को नहीं बता सके। तिवारी ने कहा कि क्यों राष्ट्रीय पशु बाघ का लगातार अवैध शिकार भी प्रदेश सरकार के संरक्षण में हुआ करता था इन सवालों का जवाब प्रदेश की जनता जानना चाहती है।

18-04-2020
मामूली विवाद पर साथी ने ही कर दी हत्या, ये हाल है आज के दौर का

रायपुर। शहर के माना थाना क्षेत्र में एक बढ़ई की निर्मम हत्या उसके ही साथी ने कर दी।  सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बढ़ई की हत्या कुदाली मारकर की गई है। मृतक बढ़ई जितेंद्र शर्मा के सिर पर साथी ने दाई तरफ कनपटी के नीचे कुदाली मार गहरी चोट पहुँचाई। माना पुलिस मौके पर पहुँच मामले की जांच में जुटी हुई है। फिलहाल आरोपी फरार बताया जा रहा है। पुलिस ने बताया कि दोनों बीते रात साथ में थे, जिसके बाद आरोपी ने मृतक का कत्ल कर फरार हो गया।

12-04-2020
एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या, पुलिस आरोपी की खोजबीन में जुटी

रायपुर। बलौदाबाजार जिले के पलारी थाने के छेरकाडीह गांव में देर रात आरोपी ने एक ही परिवार के 3 लोगों की निर्मम हत्या कर दी है। आरोपी ने निर्ममता से बेटे समेत माता-पिता की धारदार हथियार से हत्या कर दी। फिलहाल पुलिस आरोपी की खोजबीन में जुटी हुई है। इसके साथ ही क्षेत्र में भय और शोक का माहौल पसरा हुआ है। एक ओर लॉकडाउन के कारण सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। वहीं दूसरी ओर इस प्रकार की वारदात को अंजाम देना ये साबित करता है कि अपराधियों में पुलिसिया खौफ बिल्कुल नहीं है।

 

13-12-2019
मंजू और मनीषा को कैंडल मार्च के जरिये दी गयी श्रद्धांजलि,लोगो ने की कड़ी सजा की मांग

रायगढ़। शहर की दो बेटियों की पिछले दिनों राजधानी में हुई निर्मम हत्या के विरोध में आज विनोबा नगर वासी आज कैंडल मार्च निकालकर दोनों ही मृतक बहनों को श्रद्धांजलि अर्पित की एवं उनके हत्यारों को कड़ी सजा देने की मांग की। सैकड़ों की संख्या में कैंडल मार्च में विनोबा नगर के वासियों के साथ युवतियों के परिजन भी शामिल रहे। कैंडल मार्च विनोबा नगर से बोईरदादर चौक होते हुए चक्रधरनगर चौक से चक्रधरनगर थाने पहुंची। जहां दोनों मृतक बहनों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। परिजनों ने दोनों बहनों के हत्यारो को कड़ी सज़ा देने की मांग की और एक ज्ञापन थाना प्रभारी चक्रधरनगर को दिया। बता दें कि रायगढ़ निवासी दोनों युवतियां रायपुर में रह कर नर्सिंग की पढ़ाई कर रही थी। जहां उनका बेरहमी से कत्ल कर दिया गया था, परिजनों ने दोनों बहनों के हत्यारों को कड़ी सजा की मांग की है। मोहल्ले वासियों इस घटना से सभी काफी आक्रोशित है। कैंडल मार्च में शामिल हुए और युवतियों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की।

03-12-2019
महिला व बच्ची के हत्यारों को फांसी देने की मांग

रायपुर। माना के पास ग्राम नकटी में एक महिला व मासूम बच्ची की निर्मम हत्या पर रोष व्यक्त करते हुए टिकरापारा बेटी बचाओ मंच के पदाधिकारियों ने प्रांताध्यक्ष ललित मिश्रा के नेतृत्व में राजभवन जाकर आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग की और राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। राज्यपाल के प्रतिनिधि के रूप में अवर सचिव आरपी  पाण्डे ने ज्ञापन प्राप्त किया। ज्ञापन में राष्ट्रपति से आग्रह किया गया है कि केंद्रीय विधि मंत्रालय एवं सांसद से आईपीसी की धारा  376 के तहत हुए अनाचार/ गैंगरेप के अपराधियों को  6 माह के अंदर सीधे फांसी देने की का संशोधन किया जाए। प्रतिनिधिमंडल में प्रांताध्यक्ष ललित मिश्रा, अंजना भट्टाचार्य, अंजलि यदु, नीतू साहू, खुशबू साहू, सुप्रिया  घुवारे, श्यामा यदु, रोशनी गुप्ता, किरण कर्स, संगीता तिवारी, माधुरी यादव, प्रतिभा यदु, सरिता यदु, उषा यादव, सुलोचनी  ठाकुर, शिववती यादव आदि शामिल थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804