GLIBS
28-03-2020
सुब्रत साहू ने कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों से की कानून-व्यवस्था पर चर्चा

 रायपुर। अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के सभी संभागायुक्तों, पुलिस महानिरीक्षकों, कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों से चर्चा कर कोविड-19 का संक्रमण रोकने किए गए लॉक-डाउन के दौरान कानून-व्यवस्था और जन सुविधाओं की उपलब्धता की समीक्षा की। उन्होंने कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने सभी जिलों में की गई व्यवस्था के बारे में भी जानकारी ली। उन्होंने लॉक-डाउन के दौरान लोगों की सुविधा का ध्यान रखने और शासन के दिशा-निर्देशों के अनुसार जरूरी सुविधाओं का संचालन जारी रखने कहा। विभिन्न विभागों के सचिवों ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अपने-अपने विभागों से संबंधित निर्देशों और सेवाओं के बारे में मैदानी अधिकारियों को विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने इनका पालन सुनिश्चित कराने आवश्यक निर्देश भी दिए।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अपर मुख्य सचिव साहू ने सभी नगरीय निकायों में साफ-सफाई की व्यवस्था को और पुख्ता करने कहा। उन्होंने सफाई कर्मचारियों को दस्ताने और मास्क उपलब्ध कराने के साथ ही कार्य के दौरान आवश्यक सावधानी बरतने कहा। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग की सचिव अलरमेलमंगई डी. ने बताया कि बायो-मेडिकल वेस्ट का डिस्पोजल पर्यावरण संरक्षण मंडल द्वारा पंजीकृत एजेंसियों के माध्यम से मानकों के अनुरूप कराया जाना है। अपर मुख्य सचिव ने लॉक-डाउन के दौरान संचालन की अनुमति वाले उद्योगों में कर्मचारियों से अलग-अलग पालियों में काम करवाने कहा। 

अपर मुख्य सचिव ने सभी जिलों में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने और इसकी रोकथाम की व्यवस्था की भी समीक्षा की। उन्होंने सभी जिलों को इसके लिए अस्पतालों में अलग से 100-100 बिस्तर सुरक्षित रखने कहा। उन्होंने बच्चों और गर्भवती महिलाओं के साथ ही पालतू पशुओं का भी नियमित टीकाकरण जारी रखने के निर्देश दिए। स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक सिंह ने सभी अस्पतालों में पीपीई और सुरक्षा के अन्य साधनों का किफायत व सावधानीपूर्वक उपयोग करने कहा। उन्होंने सभी अधिकारियों से अपील की कि वे सर्जिकल मास्क का विवकेपूर्ण इस्तेमाल करें। व्यक्तिगत सुरक्षा संसाधनों को मेडिकल स्टॉफ के लिए बचाकर रखने की जरूरत है।

वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के प्रमुख सचिव मनोज पिंगुआ, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. मनिन्दर कौर द्विवेदी, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह, खनिज विभाग के सचिव अन्बलगन पी., आबकारी विभाग के सचिव निरंजन दास, स्वास्थ्य विभाग के आयुक्त भुवनेश यादव, संचालक नीरज बंसोड़, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला, मार्कफेड की प्रबंध संचालक  शम्मी आबिदी, रायपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक हिमांशु गुप्ता और जनसंपर्क विभाग के आयुक्त तारन प्रकाश सिन्हा सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

01-03-2020
शाहीन बाग़ में धारा 144 लागू, प्रदर्शनकारी आज निकालेंगे शांति मार्च

नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के विरोध में देश की राजधानी दिल्‍ली के शाहीन बाग इलाके में दो महीने से भी ज्‍यादा वक्‍त से लोग धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच हिन्‍दू सेना ने शाहीन बाग में जवाबी विरोध-प्रदर्शन का ऐलान किया था। हालांकि हिन्‍दू सेना ने 29 फरवरी को इस घोषणा को वापस ले लिया था। इसके बावजूद दिल्‍ली पुलिस ने एहतियातन इलाके में दिनभर के लिए धारा 144 लागू कर दी है, ताकि एक जगह ज्‍यादा लोग इकट्ठा न हो सकें। बता दें कि उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली में हिंसा के खिलाफ शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 1 मार्च को ही शांति मार्च निकालने की घोषणा की है। शाहीन बाग मामले में दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर डीसी श्रीवास्तव ने कहा कि एहतियात के तौर पर बड़ी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है। पुलिस का मकसद है कि शांति और कानून-व्यवस्था बनी रहे। किसी भी तरह की अप्रत्याशित घटना के लिए पुलिस ने ये तैयारियां

31-12-2019
डिप्टी कलेक्टर से मारपीट की घटना शर्मनाक : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश की कानून-व्यवस्था की लचर स्थिति और अराजकता का आरोप कर प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल दागा है। प्रदेश प्रवक्ता श्रीचंद सुन्दरानी ने कहा कि अब अराजक और आपराधिक तत्त्वों का हौसला इतना बढ़ गया है कि प्रशासनिक अधिकारियों तक से वसूली के लिये वे मारपीट करने लगे हैं। बिलासपुर संभाग के कोटा क्षेत्र के भनवारकण्टक स्थित मरही माता मन्दिर में सपरिवार दर्शनार्थ पहुँचे डिप्टी कलेक्टर से हुई मारपीट की घटना को प्रदेश सरकार और पुलिस प्रशासन के लिये शर्मनाक बताया है।
सुन्दरानी ने कहा कि यह स्थिति बताती है मौजूदा प्रदेश सरकार प्रदेश को अपराधों की अन्धी गली में धकेलने पर आमादा है। उक्त मन्दिर परिसर में कतिपय अपराधी डिप्टी कलेकेटर से पैसे मांगने लगे और पैसे नहीं देने पर उन्होंने डिप्टी कलेक्टर को मारा-पीटा भी! बाद में ये बदमाश फरार हो गए। यह घटना प्रदेश में कानून-व्यवस्था की डींगे हाँकने वाली प्रदेश सरकार की हालात बताने को काफी है।

31-12-2019
अपराधियों में पुलिस का खौफ खत्म होना विभाग के लिए चिंतन का विषय

रायपुर। बिलासपुर जिले में डिप्टी कलेक्टर की पिटाई के बाद कानून-व्यवस्था का अन्दाजा लगाया ही जा सकता है, जिस प्रदेश में डिप्टी कलेक्टर सुरक्षित नहीं है फिर वहां आम आदमी की हैसियत क्या होगी। यह समझ में आता है आखिरकार पुलिस का डर गुंडे बदमाशों में नाम मात्र का भी क्यों नहीं है? क्या प्रदेश में कानून व्यवस्था समाप्त हो चुकी है? और गुंडाराज शुरू हो गया है। यह आम आदमी के लिए सबसे बड़ा सवाल है आपको बता दें कि इन दिनों प्रदेश में मारपीट, लूट, चोरी और हत्याओं की घटनों में वृद्धि हो गई है। पुलिस केवल छोटी-छोटी चोरियों के आरोपियों को पकड़ कर अपना नाम बनाने में लगी हुई है। आखिरकार पुलिस का खौफ खत्म क्यों हो रहा है? यह पुलिस विभाग के लिए चिंतन का विषय है। अपराधियों के हौसले बुलंद होने के पीछे किसका हाथ है, यह भी जांच का विषय है। कुल मिलाकर कहा जाए तो अब प्रदेश में आम आदमी को स्वयं की रक्षा स्वयं ही करनी पड़ेगी ऐसा महसूस किया जा रहा है।

12-12-2019
असम-मेघालय में स्थिति गंभीर,सीआरपीएफ को कश्मीर से पूर्वोत्तर भेजा, इंटरनेट सेवा प्रतिबंध

नई दिल्ली। आसाम में हालात काबू में नहीं आ रहे हैं और हिंसक प्रदर्शनों का दौर जारी है। आसाम समेत पूर्वोत्तर में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए केंद्रीय रिजर्व पुलिस की 12 अतिरिक्त कंपनियां गुरुवार को कश्मीर से भेजा गया। गुरुवार को गुवाहाटी में लोगों ने कर्फ्यू का उल्लंघन किया तो राज्य में तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए सेना ने फ्लैग मार्च किया। हिंसा और प्रदर्शन रोकने में नाकाम पुलिस अधिकारियों का तबादला कर दिया गया है। हिंसा को रोकने के लिए कुछ जगहों पर पुलिस को गोली भी चलानी पड़ी है। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की है। कैब के खिलाफ लगातार हो रहे प्रदर्शन के बाद गुवाहाटी में बुधवार रात अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया था। इसके साथ ही 4 स्थानों पर सेना के जवानों को तैनात किया गया है, जबकि बुधवार को त्रिपुरा में असम राइफल्स के जवानों को तैनात भी किया गया था। बता दें कि पूर्वोत्तर में असम और त्रिपुरा में नागरिकता (संशोधन) विधेयक को लेकर अफरा-तफरी की स्थिति बनी हुई है। आसाम में इंटरनेट सेवाओं को अगले 48 घंटे के लिए और बैन कर दिया गया है।

10-12-2019
नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने किया दावा, निकाय चुनावों में भाजपा को मिलेगी लोकसभा जैसी जीत

रायपुर। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने यह दावा किया है कि नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस बुरी तरह से पराजित होगी। उन्होंने कहा कि एक साल के अपने कुशासन का खामियाजा लोकसभा चुनाव नतीजों की तरह ही इस बार भी कांग्रेस को उठाना पड़ेगा। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि अपने सालभर के शासनकाल में कांग्रेस की सरकार ने प्रदेश के लोगों के साथ जिस तरह धोखाधड़ी, छलावा, वादाखिलाफी और झूठ-फरेब की इबारत लिखी है, उसके चलते कांग्रेस अब मतदाताओं के सामने जाने का नैतिक साहस ही नहीं जुटा पा रही है। शहरी व नगरीय क्षेत्रों में पिछले एक साल में विकास के नाम पर एक ईंट तक मौजूदा कांग्रेस सरकार नहीं रख पाई, उल्टे जो पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने विकास कार्य किए थे, उनमें प्रदेश सरकार ने अड़ंगे डालने का काम किया। केन्द्र सरकार द्वारा लोगों को, किसानों-आदिवासियों, गरीबों, युवकों, महिलाओं समेत सभी वर्गों को जो सुविधाएं उपलब्ध हो रही थीं, उन्हें भी मौजूदा सरकार ने राजनीतिक प्रतिशोध से ग्रस्त होकर छीनने का काम किया है। कौशिक ने कहा कि प्रदेश के प्रायः सभी शहरों-नगरों में कानून-व्यवस्था का मखौल उड़ रहा है, नागरिक सुरक्षा के दावे खोखले साबित हो रहे हैं, नारी-सुरक्षा रोज तार-तार हो रही है। इन सारी बातों का जवाब प्रदेश के मतदाता निकाय चुनावों में कांग्रेस को हराकर मुकम्मल तौर पर देंगे।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश सरकार और कांग्रेस के पास गिनाने के लिए कोई भी उपलब्धि नहीं है। धान खरीदी के नाम पर सरकार जिस तरह तुगलकशाही का परिचय दे रही है, वह भी एक बड़ा मुद्दा कांग्रेस की हार तय करेगा क्योंकि शहरी व नगरीय क्षेत्र के किसान भी अब खुद को ठगा हुआ और परेशान महसूस कर रहे हैं। लोकतंत्र की दुहाई दे रही कांग्रेस ने जिस तरह चोर दरवाजे से निकायों में काबिज होने के लिए महापौर-अध्यक्षों के सीधे चुनाव का अधिकार छीनने का काम किया है, धन-बल और बाहुबल का रास्ता साफ किया है, वह नितांत अलोकतांत्रिक आम आदमी को उसके मूलभूत संवैधानिक अधिकार से वंचित करने वाला है। कौशिक ने कहा कि प्रदेश सरकार रोज नए-नए झूठ गढ़कर प्रदेश को भ्रमित करने का जो काम कर रही है, उसे प्रदेश के समझदार मतदाता करारा जवाब देंगें। मतदाताओं में कांग्रेस के प्रति गहन आक्रोश को साफ-साफ देखा जा रहा है और पार्टी को विश्वास है कि भाजपा एक बार फिर प्रदेश के नगरीय निकायों में ऐतिहासिक जीत दर्ज करेगी। शराबबंदी, कर्जमाफी, धान-खरीदी, बिजली, सम्पत्ति कर जैसे मुद्दों पर कांग्रेस अपनी अब तक की सबसे शर्मनाक हार का सामना करने की दिशा में अग्रसर है। कौशिक ने कहा कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के किए छल और धोखे का पर्दाफाश हो गया है। अब कांग्रेस के काठ की हांडी दुबारा नहीं चढ़ने वाली। अपने कार्यों और उपलब्धियों के मद्देनजर भाजपा समूचे प्रदेश के निकायों में बड़े बहुमत के साथ काबिज होगी।

 

01-11-2019
अपराधों का गढ़ बन रहा छत्तीसगढ़ : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता एवं पूर्व विधायक श्रीचंद सुन्दरानी ने प्रदेश में लगातार बढ़ रहे अपराधों के मद्देनजर प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली पर निशाना साधा है।  सुन्दरानी ने कहा कि अपराधों का ग्राफ  जितनी तेजी से मौजूदा प्रदेश कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में बढ़ा है, उससे प्रदेश 'अपराधगढ़' बनता जा रहा है। सुन्दरानी ने तंज कसा है कि अपराधियों के हौसले अब इतने बढ़ गए हैं कि वे बेखौफ आईएएस अफसरों के घरों में भी घुसकर हाथ साफ  कर रहे हैं। हाल ही प्रदेश सरकार की सुरक्षा व कानून-व्यवस्था पर जारी एक रिपोर्ट में भी जो आंकड़े सामने आए हैं, उनके मद्देनजर प्रदेश की स्थिति चिंताजनक है, लेकिन 'बदलाव' के नाम पर सत्ता में काबिज हुई कांग्रेस के सत्ताधीश जिस तरह 'बदलापुर' की राजनीति पर आमादा हुए और पुलिस का राजनीतिक प्रतिशोध में बेजा इस्तेमाल करने का यह स्वाभाविक दुष्परिणाम हुआ है कि प्रदेश में कानून का भय अपराधियों में नहीं रह गया और आम आदमी रोज-रोज की लूट, मारपीट, अपहरण, बलात्कार, हत्या, चोरी, डकैती जैसी घटनाओं के खौफ  में जीने को विवश हो गए हैं। कानून, शांति व्यवस्था, सुरक्षा और निर्भीक जीवनचर्या मौजूदा प्रदेश कांग्रेस सरकार के शासनकाल में आम अमनपंसद लोगों के लिए अब स्वप्न की बात हो गई है। सुन्दरानी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री से अपराधों की रोकथाम और कानून का राज कायम कर लोगों की शांति-सुरक्षा को सुनिश्चित करने की मांग की है।

13-10-2019
कानून का राज है या अपराधगढ़, आंकड़ों से स्पष्ट : श्रीचंद सुंदरानी

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने छत्तीसगढ़ में लगातार बढ़ रहे अपराधों और कानून-व्यवस्था की लगातार बिगड़ती हालत को बेहद चिंताजनक बताया है। सुंदरानी ने कहा कि पिछले 10 माह के कांग्रेस शासनकाल की रिपोर्ट अपने मुंह मियां मिट्ठू बन रहे कांग्रेस नेताओं और सत्ताधीशों को आईना दिखाने के लिए पर्याप्त है। सुंदरानी ने कहा कि पिछले 10 माह में सिर्फ राजधानी और रायपुर जिले में ही 50 लोगों की हत्या, 70 लूट, 1230 चोरी, 450 नकबजनी, 355 अपहरण, 279 धोखाधड़ी और 185 दुष्कर्म के मामले थानों में दर्ज हुए हैं। इसके अलावा हत्या की कोशिश के 60, सदोष मानव वध के 02, बलवा के 28 और अमानत में खयानत के 33 मामले भी पंजीबद्ध हैं। इनमें से कुछेक मामलों को छोड़कर शेष मामलों के सुराग ढूंढऩे तक में पुलिस तंत्र अब तक नाकामयाब रहा है। सुंदरानी ने कहा कि ये आंकड़े इस बात की तस्दीक कर रहे हैं कि प्रदेश सरकार लोगों की जान-माल की सुरक्षा के प्रति पूरी तरह लापरवाह हो चली है । ये आंकड़े तो सिर्फ राजधानी और इससे लगे थाना क्षेत्रों के ही हैं। इन आंकड़ों के प्रकाश में पूरे प्रदेश की भयावह स्थिति की तो कल्पना ही की जा सकती है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804