GLIBS
16-07-2020
राजधानी में नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने की मांग, एसएसपी को युवाओं ने सौंपा ज्ञापन

रायपुर। राजधानी में नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने और इसे बेचने वालों पर सख्त कार्रवाई की मांग पर एसएसपी को ज्ञापन सौंपा गया। सामाजिक कार्यकर्ता अमित चौधरी ने बताया कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर मांग की गई है कि शहर में आए दिन बढ़ती चाकूबाजी सहित अन्य आपराधिक घटनाओं में नशा एक मुख्य कारण बनकर सामने आया है। युवाओं में नशे की लत पर लगाम लगाना जरूरी है। अमित ने कहा कि एसएसपी से मांग की गई है कि नशीला पदार्थ बेचने वालों पर जल्द कार्रवाई की जाए। इस दौरान मोर जिम्मेदारी संगठन के अध्यक्ष सूरज यादव, सहायता फाउंडेशन के प्रदेश अध्यक्ष शुभम अग्रवाल, युवा अग्रवाल मंच के दिव्यांश अग्रवाल, मारवाड़ी युवा मंच के संयोजक गौरव अग्रवाल मौजूद रहे।

30-06-2020
स्नातकोत्तर महाविद्यालय में एलएलबी कक्षा खोलने की फिर उठी मांग,उच्च शिक्षामंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

सूरजपुर। जिले में स्थित अग्रणी स्नातकोत्तर महाविद्यालय सूरजपुर में कानून की पढ़ाई के लिए कक्षा खोलने की मांग को लेकर जिले के पूर्व छात्र नेता व सामाजिक कार्यकर्ता दीपक कर प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री के नाम क्लेक्टर को ज्ञापन सौंपा हैं।दीपक कर ने बताया कि जिस तरह से वर्तमान प्रदेश सरकार स्टूडेंट की शिक्षा व्यवस्था को लेकर गम्भीर दिखाई दे रही है उसी गम्भीरता से सूरजपुर जिले के स्नातकोत्तर महाविद्यालय में एलएलबी की कक्षाओं को खोलने की मांग की है। उन्होंने कहा कि जिले में एलएलबी की कक्षाएं नहीं होने के कारण कानूनी पढ़ाई करने वाले छात्र छात्राओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

छात्र छात्राओं को कानून की पढ़ाई करने के लिए अम्बिकापुर जाना पड़ता है। आने जाने में प्रतिदिन 50 से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। ग्रामीण अंचल से आने जाने वाले छात्र छात्राओं को काफी समस्याओं के साथ पढ़ाई करनी पड़ रही है। कई छात्र छात्राएं जिले में एलएलबी की कक्षाएं नहीं होने की वजह से अपनी पढ़ाई को अधूरा छोड़ दे रहे है, जो दुःखद है।

24-02-2020
गरीब व्यक्ति की मृत्यु होने पर, दाह संस्कार में मदद करती है यह संस्था..

रायपुर। राजधानी के एक गरीब व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसके दाह संस्कार के लिए सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मदद की। सरजू बाँधा नया तालाब श्मशान घाट विकास समिति गरीब और असहाय लोगों के दाह संस्कार में भी मदद करती है। अध्यक्ष माधव यादव ने बताया कि समिति की ओर से गरीब और असहाय की मौत के बाद उनके दाह संस्कार में दिक्कत आती है। मदद के लिए लोग आगे नहीं आ पाते। समिति ने इस काम का जिम्मा उठाया है। समिति के सदस्य और अन्य सामाजिक कार्यकर्ता मिलकर अंतिम संस्कार के लिए मदद करते हैं। सोमवार को भी रायपुर में एक गरीब व्यक्ति की मौत पर उसके दाह संस्कार की पूरी व्यवस्था की गई। शहर की जनता भी इस कार्य में सहयोग करती है।

31-01-2020
सामाजिक कार्यकर्ता का बेटा गिरफ्तार, जान से मारने की धमकी व पैसा उगाही जैसे गंभीर आरोप में दर्ज है अपराध

रायपुर। शहर के सिविल लाइन थाना पुलिस ने देर रात सामाजिक कार्यकर्ता के बेटे हर्षवर्धन शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। ज्ञातव्य है कि हर्षवर्धन व उसके साथियों पर कुछ माह पहले सिविल लाइन स्थित एक कैफ़े में शराब के नशे में धुत होकर बैंक कर्मचारी से मारपीट का मामला दर्ज किया गया था। बैंक कर्मचारी का आरोप था कि हर्षवर्धन शर्मा और साथियों ने शराब पीने के लिए पैसे की मांग कर पैसे नहीं देने पर पीड़ित के साथ मारपीट कर गाड़ी की चाबी और पर्स लूट लिया था। इसी मामले में हर्षवर्धन के साथी हिमांशु कटवानी व सौरभ सबलानी को पुलिस ने पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। बता दें कि मामला दर्ज होने के बाद लगातार हर्षवर्धन की खोजबनी की जा रही थी। हर्षवर्धन रायपुर से फरार हो गया था। बीते देर रात सूचना पर घेराबंदी कर आरोपी हर्षवर्धन को गिरफ्तार कर लिया गया है। दस्तावेजी कार्यवाही के बाद आरोपी को कोर्ट में पेश किया जाएगा। आरोपी पर मारपीट, अश्लील गाली-गलौच, जान से मारने की धमकी समेत पैसा उगाही करने जैसे गंभीर आरोपों में अपराध दर्ज है।

 

10-01-2020
संविधान बचाओ रैली निकालकर लोगों ने किया नागरिकता संशोधन का विरोध

रायगढ़। भारत सरकार द्वारा भारतीय संविधान के मूल भावना के विपरीत बनाये गए नागरिकता संशोधन अधिनियम सीएए तथा सरकार के राष्ट्रीय नागरिकता पंजी एनआरसी एवं राष्ट्रीय जनगणना पंजी एनपीआर के विरोध में संविधान बचाओ मंच रायगढ़ के रामलीला मैदान से संविधान बचाओ रैली निकाली निकाली गई। भारत सरकार के निर्णय के विरोध में संविधान बचाओ रैली में विभिन्न जन संगठनों, विभिन्न समाज वर्गों के लोग शामिल हुए। रैली रामलीला मैदान से प्रारम्भ होकर सत्ती गुड़ी चौक, स्टेशन चोक,गाँधी प्रतिमा पहुंची जहां महात्मा।गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। इसके बाद संविधान बचाओ रैली सुभाष चौक,गौरी शंकर मंदिर रोड गोपी टाकीज रोड , चक्रधनगर चौक होते हुए अम्बेडकर प्रतिमा चौक पहुंची। अंबेडकर प्रतिमा में माल्यार्पण के बाद रैली को संबोधित किया गया। जिसमें विभिन्न वर्गों के लोगों ने इस बिल और पंजी का तार्किक तरीके से विरोध किया।

एक सामाजिक कार्यकर्ता ने तो पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के कार्य प्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि भारत मे नागरिकता का प्रावधान पहले से है और समय समय पर संशोधन होते रहे हैं लेकिन जिस तरह से प्रधान मंत्री और गृह मंत्री द्वारा सीएए, एनपीआर, एनआरसी लाया गया है इससे आप किसे दोयम दर्जे पर लाकर खड़ा करना चाहते हैं। यहां बात मुसलमानों की ही नही हैं नागरिकता बिल और पंजी से भारत का रहने वाला नागरिक के नागरिकता पर ही सवाल खड़ा करने वाला है। रैली अम्बेडकर प्रतिमा चौक पर सभा में नागरिकता संशोधन कानून पर कई तरह से सवाल उठाए गए। सभा के बाद रैली कलेक्ट्रेट पहुंची जहां राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, चीफ जस्टिस सुप्रीम कोर्ट के नाम से कलेक्टर रायगढ़ के माध्यम से ज्ञापन सौंपा गया।ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर एस के टण्डन ने लिया। संविधान बचाओ मंच रायगढ़ के तत्वाधान में निकाली विरोध रैली में हजारों की संख्या में विभिन्न जन संगठनों, सहित शहर के विभिन्न समाज और वर्गों के युवा, बुजुर्ग व शहर के नागरिकगण शामिल हुए और केंद्र सरकार के इस संविधान विरोधी, अविवेकपूर्ण निर्णय का विरोध किया।

14-12-2019
राजधानी के विभिन्न चौक-चौराहों में मतदाता जागरूकता अभियान आज

रायपुर। छत्तीसगढ़ मितवा संकल्प समिति, कोहेजन फाउंडेशन ट्रस्ट और क्यूरगढ़ द्वारा शनिवार को शहर के विभिन्न चौक-चौराहों पर मतदाता जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया है। मतदान जागरूकता अभियान  शनिवार को दोपहर 1:00 बजे फूल चौक, 1:30 बजे शास्त्री चौक, 2:00 बजे अंबेडकर चौक, 2:30 भगत सिंह चौक, 3 बजे मरीन ड्राइव और दोपहर 3:30 बजे तेलीबांधा चौक में किया जाएगा। इस अभियान में मुख्य रूप से विभिन्न स्कूल के बच्चे, रायपुर के सामाजिक कार्यकर्ता और तृतीय लिंग समुदाय के व्यक्ति शामिल रहेंगे।

07-12-2019
हैदराबाद एनकाउंटर : मानवाधिकार आयोग की टीम पहुंची घटना स्थल, केंद्र ने मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। हैदराबाद में महिला पशु चिकित्सक के साथ हैवानियत करने वाले चार आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार दिया। जहां कुछ लोगों ने पुलिस कार्रवाई की सराहना की वहीं कुछ ने इसपर सवाल खड़े किए हैं। इसी बीच राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की टीम हैदराबाद पहुंच गई है। टीम पहले एनकाउंटर स्थल पर जाएगी और इसके बाद महबूबनगर के सरकारी अस्पताल, जहां आरोपियों के शवों को रखा गया है।
 
केंद्र ने मांगी रिपोर्ट


केंद्र सरकार ने हिरासत में हुई मुठभेड़ पर तेलंगाना सरकार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। संसद के सत्र में जवाबदेही सुनिश्चित करने और मामले की संवेदनशीलता के चलते सरकार तथ्यों के साथ पूरी तैयारी रखने के लिए मामले पर पैनी निगाह बनाए हुए है।

पुलिस पर कैसे कर सकते हैं विश्वास

कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने तेलंगाना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को तेलंगाना मुठभेड़ को लेकर पत्र लिखा है। उनमें से एक संध्या रानी ने कहा, 'महिला के साथ दुष्कर्म के बाद निर्मम हत्या कर दी गई। हम असली अपराधियों के लिए कड़ी से कड़ी सजा की मांग करते हैं। लेकिन यह तय करना जल्दबाजी होगी कि वे ही अपराधी थे। हम पुलिस पर कैसे विश्वास कर सकते हैं?'

आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने दर्ज किया मामला

पुलिस कर्मियों पर हमला करने के आरोप में चार आरोपियों के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है, जिन्हें पिछले महीने एक महिला पशु चिकित्सक के साथ कथित बलात्कार और हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। इनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 307, 176 और भारतीय शस्त्र अधिनियम के संबंधित अनुभागों के तहत मामला दर्ज किया गया है। यह एफआईआर शुक्रवार को दर्ज की गई है।

06-12-2019
रमन सिंह समेत 7 लोगों के खिलाफ सारकेगुड़ा मामले में दर्ज हुई एफआईआर 

रायपुर। सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार, सोनी सोढ़ी समेत ग्रामीणों ने सारकेगुड़ा में हुई फर्जी मुठभेड़ के मामले में एफआईआर दर्ज करवाई है। इस मामले में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह,  पूर्व डीजीपी विश्व रंजन, पूर्व बस्तर आईजी टी जे लांगकुमेर, सीआरपीएफ के पूर्व डीआईजी एस एलांगो, एसपी प्रशांत अग्रवाल, थाना प्रभारी इब्राहिम खान सहित 187 जवानों के ऊपर भी एफआईआर दर्ज कराई गई है। गौरतलब है कि करीब एक महीने पहले जमा की गई सारकेगुड़ा आयोग की रिपोर्ट में दर्ज तथ्य लीक हो गए। यह बातें सामने आईं कि छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के सारकेगुड़ा में 28 जून 2012 को हुई मुठभेड़ में मारे गए लोग नक्सली नहीं थे। न ही गांववालों की तरफ से किसी तरह की गोलीबारी की गई थी। 28 जून, 2012 को बिजापुर जिले के सारकेगुड़ा में हुई कथित मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने 17 नक्सलियों को मार गिराया था। मामले में फर्जी एनकाउंटर के आरोप लगे थे। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष रहे नंदकुमार पटेल भी सारकेगुड़ा पहुंचे थे।

03-12-2019
भोपाल गैस त्रासदी 35वीं बरसी: कमलनाथ,शिवराज,सिंधिया ने दी श्रद्धांजलि,दिग्विजय ने की ये मांग

भोपाल। भोपाल गैस त्रासदी को आज 3 दिसंबर को 35 साल पूरे हो गए हैं। बरसी पर सीएम कमलनाथ, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य राजे सिंधिया और दिग्विजय सिंह ने श्रद्धांजलि दी है। दिग्विजय सिंह ने पीड़ितों को लेकर मुख्यमंत्री कमलनाथ से मांग की है। उन्होंने प्रभावित परिवारों की स्मृति में मेमोरियलल बनाए और पीड़ितों के इलाज के लिए अस्पताल को एक इंस्टीट्यूट बनाने के लिए केन्द्र से मांग करें। दिग्विजय सिंह ने ट्वीटर के माध्यम से इस त्रासदी में जान गँवाने वाले सभी नागरिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की है। दिग्विजय ने लिखा है कि 3 दिसंबर 1984 को भोपाल गैस त्रासदी में हज़ारों लोग नहीं रहे थे। उन्हें हम हार्दिक श्रद्धांजली देते हैं। गैस त्रासदी पीड़ित परिवारों के लिए, जिसने जीवन भर निस्वार्थ भावना से लड़ाई लड़ी सेवा की, जब्बार भाई को भी अब हमारे बीच में नहीं है। हम उन्हें भी श्रद्धांजली देते हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भोपाल गैस त्रासदी के शिकार निर्दोष नागरिकों को श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने लोगों से पर्यावरण प्रदूषण के प्रति हमेशा सतर्क, सजग रहने का आह्वान किया है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने अपने ट्वीटर पर लिखा है कि भोपाल गैस त्रासदी की 35वीं बरसी पर मैं इस हादसे में जान गँवाने वाले सभी नागरिकों को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ। हज़ारों सामाजिक कार्यकर्ताओं को भी प्रणाम करता हूँ, जिन्होंने पीड़ितों के अधिकारों के लिए जीवनपर्यंत लड़ाई लड़ी और उन्हें न्याय दिलाया। वही सिंधिया ने लिखा है कि भोपाल गैस त्रासदी में दिवंगत हुए पीड़ितों के प्रति आत्मीय संवेदनाएं।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804