GLIBS
12-09-2018
 Satyanarayan Sharma : विधायक सत्यनारायण शर्मा ने बैलगाड़ी में बैठकर खाई रोटी और आलू की सब्जी 

रायपुर। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों और महंगाई के विरोध में आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और रायपुर ग्रामीण के विधायक सत्यनारायण शर्मा बैलगाड़ी से विधानसभा पहुंचे। उन्होंने बैलगाड़ी में बैठकर ही रोटी और आलू की सब्जी खाई। वे सैकड़ों समर्थकों के साथ अपने निवास से विधानसभा की निकले। सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि पूरा देश महंगाई में जल रहा है। पेट्रोल-डीजल के दामों में हो रही लगातार वृद्धि से आम जनता परेशान हो गया है। पेट्रोलियम पदार्थ के दामों को नियंत्रण में रखना सरकार का काम है। यदि इनकी कीमतें बेलगाम हुई तो देश में महंगाई स्वाभाविक रूप से बढ़ेगी। आज राज्य सरकार पेट्रोल से वैट कम करने तैयार नहीं है। चुनाव में जीत के लिए सरकारी खजाने को लुटाया जा रहा है। बता दें कि कांग्रेस के विधायक बैलगाड़ी से विधानसभा पहुंच कर अपना विरोध प्रकट किया। 

11-09-2018
Petrol-Diesel : जानिए क्या है तेल की आसमान छूती कीमतों के पीछे का खेल

नई दिल्ली। तेल के खेल को लेकर सोमवार को भारत बंद रहा, फिर भी कीमतें बढ़ती रहीं। महाराष्ट्र में 90 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल पहुंच चुका है। इसके बाद भी बढ़ते दाम को थामने में सरकार खुद को असहाय बता रही है। दरअसलभारत में अंतरराष्ट्रीय मूल्यों के आधार पर इंडियन आॅयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम जैसी तेल विपणन कंपनियों की ओर से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बदलाव किया जाता है।

इसलिए जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने से भारत में भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ती हैं। इसी तरह अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल की कीमतें गिरती हैं, तो यहां भी कीमतों में गिरावट देखने को मिलती है। आइए जानते हैं वे कौन से कारण हैं जो पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर प्रभाव डालते हैं।

कैसे तय होते हैं दाम :

सबसे पहले खाड़ी या दूसरे देशों से तेल खरीदते हैं, फिर उसमें ट्रांसपोर्ट खर्च जोड़ते हैं। क्रूड आयल यानी कच्चे तेल को रिफाइन करने का व्यय भी जोड़ते हैं। केंद्र की एक्साइज ड्यूटी और डीलर का कमीशन जुड़ता है। राज्य वैट लगाते हैं और इस तरह आम ग्राहक के लिए कीमत तय होती है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बदलाव घरेलू बाजार में कच्चे तेल की कीमत को सीधे प्रभावित करता है। भारतीय घरेलू बाजार में पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि के लिए जिम्मेदार यह सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है। अंतरराष्ट्रीय मांग में वृद्धि, कम उत्पादन दर और कच्चे तेल के उत्पादक देशों में किसी तरह की राजनीतिक हलचल पेट्रोल की कीमत को गंभीर रूप से प्रभावित करती है।

बढ़ती मांग :

भारत और अन्य विकासशील देशों में आर्थिक विकास ने भी पेट्रोल और अन्य आवश्यक ईंधन की मांग में वृद्धि की है। हाल ही में निजी वाहनों के मालिकों की संख्या बढ़ी है, जिससे भारत में पेट्रोल की मांग में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है।

आपूर्ति और मांग में असंतुलन:

किसी भी बाजार का अर्थशास्त्र मांग और आपूर्ति पर निर्भर करता है। कच्चे तेल के इनपुट मूल्य की उच्च लागत के कारण भारत में तेल रिफाइनरी कंपनियों को बाजार की मांगों को पूरा करने में समस्या का सामना करना पड़ता है। इससे देश में पेट्रोल की कम आपूर्ति और अधिक मांग होती है।

पेट्रोल और अन्य पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें केंद्र व राज्य सरकारों की ओर से लगाए जाने वाले टैक्स पर भी काफी हद तक निर्भर करती हैं। सरकार की ओर से टैक्स दरें बढ़ाने की स्थिति में कंपनियां अक्सर उसका बोझ ग्राहकों पर डाल देती हैं। इससे पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि होती है।

चार साल में 12 बार बढ़ीं कीमतें :

बीते चार साल में सरकार ने कम से कम एक दर्जन बार ईंधन पर एक्साइज ड्यूटी यानी उत्पाद शुल्क में ईजाफा किया है। नतीजतन मौजूदा सरकार को पेट्रोल पर मनमोहन सिंह की सरकार के कार्यकाल में 2014 में मिलने वाली एक्साइज ड्यूटी के मुकाबले 10 रुपए प्रति लीटर ज्यादा मुनाफा होने लगा। इसी तरह डीजल में सरकार को पिछली सरकार के मुकाबले 11 रुपए प्रति लीटर ज्यादा मिल रहे हैं।

पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी में 105. 49 फीसदी और डीजल में 240 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। दरअसल, फिलहाल पेट्रोल डीजल में कई सारे टैक्स शामिल हैं। मसलन, एक्साइज ड्यूटी और वैट (मूल्य संवर्धित कर)। इसके अलावा डीलर की ओर से लगाया गया रेट और कमीशन भी कीमतों में जुड़ते हैं। एक्साइज ड्यूटी तो केंद्र सरकार लेती है, जबकि वैट राज्यों की आमदनी (राजस्व) में जुड़ता है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में रुपए की हालत:

डॉलर की तुलना में रुपए की कीमत भी उन प्रमुख कारकों में से एक है, जो भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमत को प्रभावित करती हैं। भारतीय तेल कंपनियां अन्य देशों से आयातित तेल का भुगतान डॉलर में करती हैं, लेकिन उनके खर्च रुपए में दर्ज होते हैं। जब डॉलर की तुलना में रुपए में गिरावट आती है, तो कंपनियों के लाभ पर असर पड़ता है और पेट्रोलियम उत्पादों की कीमत बढ़ जाती है। इसी तरह रुपया मजबूत होने पर कीमतों में राहत मिलती है।

10-09-2018
Bharat Band: भारत बंद के दौरान जाम में फंसा वाहन, 2 साल की बच्ची की हुई मौत

बिहार। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हो रही लगातार बढ़ोतरी को लेकर कांग्रेस द्वारा सोमवार को आहूत भारत बंद के दौरान सड़क जाम के कारण बिहार के जहानाबाद में दो वर्षीय बच्ची की मौत हो गई।

जानकारी के मुताबिक, देश में बढ़ती पेट्रोल-डीजल की कीमतों के खिलाफ कांग्रेस ने सोमवार को भारत बंद का आह्वान किया है। कांग्रेस के भारत बंद को देश की 20 विपक्षी पार्टियों ने समर्थन देते हुए सोमवार की सुबह से ही सड़कों पर उतर आये। बंद का बिहार में व्यापक असर देखने को मिला।

वहीं, बंद समर्थकों ने कई जगहों पर उत्पात मचाया आम लोगों को भी पीटा गया। वहीं, जहानाबाद से खबर है कि मखदुमपुर के बालाबिघा गांव निवासी प्रमोद मांझी की दो वर्षीया बच्ची दस्त से पीड़ित थी। इलाज के लिए प्रमोद अपनी बच्ची को लेकर जहानाबाद सदर अस्पताल आ रहा था। बंद समर्थकों के उत्पात के कारण वाहन चालक अपनी गाड़ी को लेकर सड़कों से हट गये। ऐसे में प्रमोद को समय पर वाहन नहीं मिला। प्रमोद मांझी ने बताया कि उसकी बेटी को डायरिया हुआ था, जिसके कारण शरीर में पानी की कमी हो गई थी। उन्होंने दावा किया कि जल्दी अस्पताल पहुंचने पर अगर पानी चढ़ जाता तो बच्ची की जान बच सकती थी।

हालांकि, जहानाबाद के एसडीओ ने जाम की वजह से बच्ची की मौत का खंडन किया है। उन्होंने कहा कि घर से निकलने में परिजनों ने काफी देर कर दी थी, जिस कारण बच्ची की मौत हुई।

10-09-2018
Bharat Band: कांग्रेसियों ने घूमकर दोपहर तक बंद कराई शहर की दुकानें

कोटा। पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की आसमान छूती कीमतों के विरोध में कांग्रेस के भारत बंद का सभी विपक्षी दलों ने समर्थन किया है। सोमवार को धर्म नगरी रतनपुर में कांग्रेस के नेताओं ने आम लोगों से बंद को सफल बनाने की अपील की।

कोटा के धर्म नगरी रतनपुर में महंगाई के विरोध में कांग्रेस ने सोमवार को नगर बंद कराया l  नगर के सभी व्यापारिक प्रतिष्ठानों के अलावा शैक्षणिक संस्थानों, सब्जी मार्केट बंद रहा महंगाई के विरोध में नगर कांग्रेस कमेटी को व्यापारिक संगठनों व शैक्षणिक संस्थानों के संचालकों ने अपना समर्थन दिया। बंद को सफल बनाने के लिए नगर कांग्रेस कमेटी सुबह 8 बजे महामाया चौक पर इकट्ठा हो गए और रैली निकालकर भ्रमण करते हुए पूरे नगर को बंद कराया।

नगर कांग्रेस कमेटी से मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में रसोई गैस सिलेंडर के दाम में भारी बढ़ोतरी के विरोध में कांग्रेस ने केंद्र की भाजपा सरकार के खिलाफ आम जनता और व्यापारियों से मिलकर सीधी लड़ाई लड़ने का ऐलान आज किया है। इसी सिलसिले में सोमवार 10 सितंबर को नगर कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी कार्यकर्ता नगर के महामाया चौक में सुबह 8 बजे इकट्ठा होकर पूरे नगर में घूम-घूमकर व्यापारी प्रतिष्ठान शैक्षणिक संस्थान सब्जी मार्केट गुमटी ठेला को दोपहर 2 बजे तक बंद कराया इस दौरान सभी व्यापारियों ने नगर कांग्रेस कमेटी को अपना समर्थन देकर प्रतिष्ठाने बंद रखा । नगर कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ता पदाधिकारियों ने नगर के प्रमुख मार्ग महामाया चौक, पुराना बस स्टैंड, हाई स्कूल, बनिया पारा, बड़ी बाजार, भीम चौक, थाना पारा रोड, नया बस स्टैंड रोड में जाकर भी व्यापारियों से समर्थन मांगा और बंद करने की अपील की । इस दौरान आनंद जायसवाल नगर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष, आशा सूर्यवंशी नगर पालिका अध्यक्ष, वादीर खान ब्लॉक अध्यक्ष किसान कांग्रेस, बालकृष्ण मिश्रा, मदन कहरा, अमर सिंह, शिवा पांडे, आशीष शर्मा, गिरधर गोपाल, पंकज जायसवाल, यासीन अली, यूनुस मेमन, रामगोपाल कहरा, लंबोदर कश्यप,यासीन खान, जितेंद्र दुबे, सुरेश सूर्यवंशी, हरनारायणपोर्ते नीलिमा सिंह के साथ नगर कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ता पदाधिकारी उपस्थित थे ।

 

10-09-2018
Rahul Gandhi : भारत बंद के समर्थन में राहुल गांधी पहुंचे राजघाट, गांधी जी को श्रद्धांजलि देने के बाद निकाली मार्च 

नई दिल्ली। कांग्रेस ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हो रही बढ़ोतरी और डॉलर के मुकाबले रुपए की गिरती कीमतों को लेकर सोमवार को भारत बंद का ऐलान किया है। इसके तहत राहुल गांधी राजघाट पहुंचे। वहां महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देकर मार्च शुरू किया। राहुल गांधी बीते कुछ दिनों से मानसरोवर की यात्रा पर गए हुए थे और वहां से लौटकर वह सीधे बंद को समर्थन करने के लिए सड़कों पर उतरे हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी और उन्होंने कैलाश झील से लाए गए जल को बापू की समाधि पर चढ़ाया। इसके बाद उन्होंने मार्च की अगुवाई है, राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं समेत विपक्ष के के कई नेता भी राजघाट से महंगाई के खिलाफ मार्च पर निकल चुके हैं और यह मार्च अपने अंतिम पड़ाव रामलीला मैदान पहुंच गया है।

विपक्ष के मार्च में आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह और टीएमसी नेता भी नजर आए. हालांकि दोनों दलों की ओर से पहले यह कहा गया था कि वह इस भारत बंद का हिस्सा नहीं होंगे। कांग्रेस की ओर से बुलाए गए इस बंद को 20 से ज्यादा दलों का समर्थन हासिल है। बंद को दौरान देश के विभिन्न राज्यों में विपक्षी दल विरोध प्रदर्शन कर अलग-अलग मुद्दों पर मोदी सरकार के खिलाफ अपना रोष व्यक्त कर रहे हैं। कांग्रेस ने सीधे तौर पर महंगाई के खिलाफ इस बंद का आह्वान किया है लेकिन विभिन्न दलों के अपने-अपने मुद्दे भी हैं जिनको लेकर वो आज सड़कों पर उतर रहे हैं।

 

10-09-2018
Bharat band : युवा कांग्रेसी निकले बंद कराने, लोगों से कर रहे दुकान बंद करने की अपील

रायपुर। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ विपक्ष के भारत बंद को लेकर आज सुबह युवक कांग्रेस रैली की शक्ल में शहर की दुकानों को बंद कराने निकले। खासकर छोटे दुकानदार सुबह दुकान खोल लिए थे लेकिन बंद कराने आए युवाओं के आह्वान बंद दुकानदारों को मजबूरन दुकानें बंद करनी पड़ी। सुबह 9 बजे तक शहर के कई जगहों पर बंद बेअसर रहा तो कुछ इलाकों में बंद का आंशिक असर देखा जा रहा है। आटो चालक संघ ने बंद का समर्थन दिया था लेकिन आज अधिकांश जगहों पर आटो चलता दिख रहा है। हालांकि सिटी बस सेवा बंद है। शहर में कई निजी स्कूलों ने भी बंद के समर्थन में स्कूलें बंद रखा है। वहीं कई स्कूले खुली हुई है।

 बता दें कि पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी के विरोध में कांग्रेस समेत देश के 21 राजनीतिक दलों ने भारत बंद का आह्वान किया है। 

08-09-2018
CG Congress : कांग्रेस का भारत बंद 10 को, जिला,ब्लॉक और ग्राम स्तर पर हो रही तैयारियां

रायपुर। पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस ने 10 सितंबर को भारत बंद का ऐलान किया है। यह बंद सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक किया जाएगा। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस कमेटी तैयारियों में जुट गई है।

व्यापारियों से मांग रहे सहयोग:

भारत बंद को लेकर कांग्रेस की कार्यकर्ता व्यवसायिक संगठनों से लगातर समर्थन मांग रहे हैं। इसको लेकर वे लोग तमाम संगठनों के प्रमुखों से मुलाकात भी कर रहे हैं। व्यापारियों का इस बंद को कितना सहयोग मिलेगा ये तो 10 सितंबर को ही पता चल पाएगा। तो वहीं कांग्रेस के कार्यकर्ता पूरी मेहनत के साथ अपने काम में लगे हुए हैं।

सामाजिक संगठनों से भी मांगा सहयोग:

पार्टी ने न केवल व्यापारी संघ का बल्कि अन्य विपक्षियों दलों, सामाजिक संगठनों, सामाजिक कार्यकर्ताओं का भी सहयोग मांगां है।  पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने आह्वान किया है कि वे इस भारत बंद में कांग्रेस का साथ दें।

जिला, ब्लॉक और ग्राम स्तर के कार्यकर्ता एकजुट:

इस अभियान में  गांवों से लेकर जिले तक के कार्यकर्ता पूरे जोरशोर से लगे हुए हैं। छोटी-छोटी बैठकें लेकर लोग दस तारीख के बंद को सफल बनाने की रणनीतियों पर चर्चा करने में लगे हैं।

07-09-2018
Youth Congress  : पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम के विरोध में युवा कांग्रेस निकालेगी रिक्शा ठेला यात्रा

रायपुर। बढ़ते पेट्रोल-डीजल के कीमतों में हो रहे वृद्धि के खिलाफ आज युवक कांग्रेस दोपहर 2 बजे रिक्शा ठेला यात्रा निकालेगी। यह यात्रा शंकरनगर स्थित राजीव भवन से निकलेगी। युवा कांग्रेस प्रदेश  महासचिव सुबोध हरितवाल ने बताया कि लगातार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ते जा रहे हैं । जिससे आज सबसे ज्यादा परेशान आम जनता है, बढ़ते दाम से सबसे ज्यादा असर आम जनता की जेब पर पड़ रहा है। हम चाहते हैं कि पेट्रोल -डीजल को भी जीएसटी के दायरे में रखा जाए ।

पेट्रोल-डीजल की कीमतें मौजूदा समय में अपनी रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं। कहा जा रहा है कि कीमतें अभी और बढ़ सकती हैं। एक दिलचस्प बात यह है कि जो देश भारत से तेल खरीदते हैं, वे हमसे सस्ती कीमत में इसे बेचते हैं। देखते हैं कि पेट्रोल के दाम आसमान क्यों छू रहे हैं। 

04-09-2018
Share Market : सेंसेक्स 155 अंक टूटकर 38,157  तो निफ्टी 11,519 पर बंद 

नई दिल्ली ।  रुपए  की लगातार गिरती सेहत और पेट्रोल-डीजल की कीमतों कीमतों के बीच मंगलवार को शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुए। बीएसई का प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 155 अंक टूटकर 38,157 पर और एनएसई का निफ्टी 62 अंकों की कमजोरी के साथ 11,519 पर बंद हुआ है। वहीं निफ्टी में शुमार 50 शेयर्स में 9 हरे निशान पर और 41 लाल निशान पर बंद हुए हैं। वहीं मिडकैप (3.08 फीसद) और स्मालकैप (2.59 फीसद) की गिरावट के साथ कारोबार कर बंद हुए हैं।

सिर्फ आईटी सेक्टर्स के शेयर्स में रही बिकवाली:

आज दिन के कारोबार में आईटी सेक्टर को छोड़कर सभी लाल निशान में बंद हुए हैं। आज आईटी सेक्टर 2.06 फीसद की तेजी के साथ कारोबार बंद हुआ। वहीं निफ्टी आॅटो में 1.66 फीसद की गिरावट, निफ्टी फाइनेंस सर्विस में 0.94 फीसद की गिरावट, निफ्टी एफएमसीजी में 2.08 फीसद की गिरावट, निफ्टी मेटल में 1.94 फीसद की गिरावट, निप्टी फार्मा में 1.49 फीसद की गिरावट और निफ्टी रियल्टी में 1.85 फीसद की गिरावट रही।

दिन भर के बाजार का हाल:

मंगलवार के कारोबार में बढ़त के साथ खुले शेयर बाजार में तेजी ज्यादा मिनटों तक कायम नहीं रह सकी दिन के 9:30 बजे बीएसई का सेंसेक्स 41 अंक (0.11 फीसद) टूटकर 38,270 पर और निफ्टी 18 अंक (0.16 फीसद) टूटकर 11,563 पर कारोबार करने लगा।

आज दिन के 9:15 बजे सेंसेक्स 0.39 फीसद की तेजी के साथ 38,460 पर और निफ्टी 0.05 फीसद की तेजी के साथ 11,588 पर खुला। गौरतलब है कि बीते दिन सेंसेक्स 332 अंक गिरकर 38312 के स्तर पर और निफ्टी 98 अंक गिरकर 11582 के स्तर पर कारोबार कर बंद हुआ था।

निफ्टी के शेयर्स का हाल:

निफ्टी में शुमार 50 शेयर में 17 हरे निशान पर, 32 लाल निशान पर और एक बिना परिवर्तन के कारोबार करता देखा गया। वहीं निफ्टी के मिडकैप और स्मालकैप दोनों ही इंडेक्स में गिरावट देखने को मिल रही है। निफ्टी का मिडकैप 0.25 फीसद और स्मालकैप 0.14 फीसद की गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है।

वैश्विक बाजारों का हाल:

दिन के सुबह 9 बजे ताइवान के कॉस्पी छोड़कर सभी एशियाई बाजार गिरावट के साथ कारोबार करते देखे गए। 9 बजे जापान का निक्केई 0.05 फीसद की गिरावट के साथ 22697 पर, चीन का शांघाई 0.14 फीसद की गिरावट के साथ 2717 पर और हैंगसेंग 0.02 फीसद की गिरावट के साथ 27706 पर कारोबार कर रहा था। वहीं ताइवान का कॉस्पी 0.03 फीसद की बढ़त के साथ 2307 पर कारोबार कर रहा था। अमेरिकी बाजारों की बात करें तो बीते दिन डाओ जोंस 0.09 फीसद की गिरावट के साथ 25964 पर बंद हुआ, स्टैंडर्ड एंड पुअर्स 0.01 फीसद की तेजी के साथ 2901 पर और नैस्डैक बिना परिवर्तन के 8109 पर बंद हुआ।

 

 

08-06-2018
10 दिन में एक रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, मिली मामूली राहत

दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से परेशान लोगों को आज थोड़ी राहत मिली। पिछले 10 दिन में पेट्रोल एक रुपये सस्ता हो गया। डीजल के दामों में गिरावट आई है। शुक्रवार को पेट्रोल के दाम में  21 पैसे और डीजल 15 पैसे सस्ता हुआ है।

पेट्रोल डीजल की कीमतों में गुरुवार को भी कटौती देखी गई थी  सात जून को पेट्रोल के दाम गिर कर 77.63 रुपए प्रति लीटर पर आ गया जो कि एक दिन पहले के 77.72 रुपये के मुकाबले 9 पैसे कम है। 30 मई से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार गिरावट जारी है। उससे पहले कर्नाटक चुनाव के बाद 16 दिन में पेट्रोल में 3.80 रुपये और डीजल में 3.38 रुपए की बढ़ोतरी हुई थी। दिल्ली में पेट्रोल 1 रुपये प्रति लीटर और डीजल 73 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुआ है। देश में सबसे सस्ता पेट्रोल और डीजल दिल्ली में बिक रहा है।

02-06-2018
पेट्रोल-डीजल के बाद रसोई गैस के बढ़े दाम, महिला कांग्रेस ने सर पर सिलेंडर रख जताया विरोध

भोपाल। पेट्रोल डीजल के दामों में हो रही वृद्धि के बाद उसके दामों में कुछ पैसों की कटौती कर अब सरकार ने रसोई गैस के दामों में भी बढ़ोतरी कर दी है जिससे आम आदमी पर भारी प्रभाव पड़ रहा है।

शुक्रवार से रसोई गैस भी महंगी हो गई है। पेट्रोल-डीज़ल की महंगाई के हल्ले में ये ख़बर गोल हो गई कि सरकार ने रसोई गैस भी महंगी कर दी है। सब्सिडी वाले सिलिंडर क़रीब ढाई रुपए महंगे हो गए हैं जबकि गैरसब्सिडी सिलिंडरों के दाम क़रीब 50 रुपये तक बढ़ोतरी हुई हैं। उसी से खफा मध्य प्रदेश महिला कांग्रेस ब्रिगेड ने केंद्र और राज्य सरकार के ऊपर हमला बोलना शुरू कर दिया हैं। आज राजधानी भोपाल के माता मंदिर चौराहे पर महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान के निर्देशानुसार रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के विरोध में जिला महिला कांग्रेस भोपाल की जिलाध्यक्ष संतोष कसाना के नेतृत्व में माता मंदिर चौराहे से प्लेटिनम प्लाजा होते हुए माता मंदिर चौराहे तक पैदल मार्च करते हुए विरोध प्रदर्शन किया गया। 

इस अवसर पर महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान, जिला कांग्रेस के जिलाध्यक्ष, कैलाश मिश्रा, पूर्व जिलाध्यक्ष पीसी शर्मा, पार्षद गुड्डू चौहान, राकेश सिंघई,महिला कांग्रेस की सैकड़ों प्रदेश एवं जिला पदाधिकारी एवं कांग्रेस के समस्त पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित थे। वहीं दूसरी और प्रदेश के इंदौर मे भी सब्सिडी और बगैर सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर और कमर्शियल गैस सिलेंडरों के दामो में हो रही बढ़ोत्तरी का विरोध कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया। कांग्रेस की राजीव विकास केंद्र के अध्यक्ष देवेंद्र सिंह यादव ने भाजपा सरकार के खिलाफ गैस की टंकी की सिर पर रख जमकर नारेबाजी की। हालांकि शहर कांग्रेस का कोई भी पदाधिकारी इसमें शामिल नहीं था।

 
02-06-2018
4 दिनों में पेट्रोल 23 और डीजल में 20 पैसे की हुई कटौती

नई दिल्ली। कभी 1 पैसे तो कभी 6 पैसे, इस तरह पैसे-पैसे करके पेट्रोल और डीजल के दामों में कटौती का क्रम जारी है। पिछले 4 दिनों में पेट्रोल 23 और डीजल के दामों में 20 पैसे प्रति लीटर की कटौती हो चुकी है।

राजधानी दिल्ली में शनिवार को पेट्रोल-डीजल की कीमत में 9 पैसे की कटौती हुई। दिल्ली में फिलहाल पेट्रोल की कीमत 78.20 रुपए और डीजल की कीमत 69.11 रुपए प्रति लीटर है।

मुंबई में पेट्रोल-डीजल की कीमत क्रमश: 86.01 रुपए और 73.58 रुपए  लीटर है। कोलकाता में पेट्रोल 80.84 रुपए और डीजल 71.66 रुपए  लीटर है। इसी तरह चेन्नई में पेट्रोल की कीमत 81.19 रुपए और डीजल की कीमत 72.97 रुपए  प्रति लीटर है।

कब-कब कितनी हुई कटौती :

राजधानी दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की कीमत में 30 मई से कटौती शुरू हुई है। 30 मई को 1 पैसा की कटौती हुई, जिससे सरकार की काफी आलोचना भी हुई। इसके बाद 31 मई को 7 पैसे, 1 जुलाई को 6 और 2 जुलाई को 9 पैसे की कटौती की गई। ऐसा ही डीजल की कीमत में भी हुआ है। डीजल की कीमत में 30 मई को 1 पैसा, 31 मई और 1 जून को 5-5 पैसे और 2 जुलाई को 9 पैसे की कटौती हुई।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804
Visitor No.