GLIBS
10 दिन में एक रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, मिली मामूली राहत

दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से परेशान लोगों को आज थोड़ी राहत मिली। पिछले 10 दिन में पेट्रोल एक रुपये सस्ता हो गया। डीजल के दामों में गिरावट आई है। शुक्रवार को पेट्रोल के दाम में  21 पैसे और डीजल 15 पैसे सस्ता हुआ है।

पेट्रोल डीजल की कीमतों में गुरुवार को भी कटौती देखी गई थी  सात जून को पेट्रोल के दाम गिर कर 77.63 रुपए प्रति लीटर पर आ गया जो कि एक दिन पहले के 77.72 रुपये के मुकाबले 9 पैसे कम है। 30 मई से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार गिरावट जारी है। उससे पहले कर्नाटक चुनाव के बाद 16 दिन में पेट्रोल में 3.80 रुपये और डीजल में 3.38 रुपए की बढ़ोतरी हुई थी। दिल्ली में पेट्रोल 1 रुपये प्रति लीटर और डीजल 73 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुआ है। देश में सबसे सस्ता पेट्रोल और डीजल दिल्ली में बिक रहा है।

पेट्रोल-डीजल के बाद रसोई गैस के बढ़े दाम, महिला कांग्रेस ने सर पर सिलेंडर रख जताया विरोध

भोपाल। पेट्रोल डीजल के दामों में हो रही वृद्धि के बाद उसके दामों में कुछ पैसों की कटौती कर अब सरकार ने रसोई गैस के दामों में भी बढ़ोतरी कर दी है जिससे आम आदमी पर भारी प्रभाव पड़ रहा है।

शुक्रवार से रसोई गैस भी महंगी हो गई है। पेट्रोल-डीज़ल की महंगाई के हल्ले में ये ख़बर गोल हो गई कि सरकार ने रसोई गैस भी महंगी कर दी है। सब्सिडी वाले सिलिंडर क़रीब ढाई रुपए महंगे हो गए हैं जबकि गैरसब्सिडी सिलिंडरों के दाम क़रीब 50 रुपये तक बढ़ोतरी हुई हैं। उसी से खफा मध्य प्रदेश महिला कांग्रेस ब्रिगेड ने केंद्र और राज्य सरकार के ऊपर हमला बोलना शुरू कर दिया हैं। आज राजधानी भोपाल के माता मंदिर चौराहे पर महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान के निर्देशानुसार रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के विरोध में जिला महिला कांग्रेस भोपाल की जिलाध्यक्ष संतोष कसाना के नेतृत्व में माता मंदिर चौराहे से प्लेटिनम प्लाजा होते हुए माता मंदिर चौराहे तक पैदल मार्च करते हुए विरोध प्रदर्शन किया गया। 

इस अवसर पर महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान, जिला कांग्रेस के जिलाध्यक्ष, कैलाश मिश्रा, पूर्व जिलाध्यक्ष पीसी शर्मा, पार्षद गुड्डू चौहान, राकेश सिंघई,महिला कांग्रेस की सैकड़ों प्रदेश एवं जिला पदाधिकारी एवं कांग्रेस के समस्त पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित थे। वहीं दूसरी और प्रदेश के इंदौर मे भी सब्सिडी और बगैर सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर और कमर्शियल गैस सिलेंडरों के दामो में हो रही बढ़ोत्तरी का विरोध कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया। कांग्रेस की राजीव विकास केंद्र के अध्यक्ष देवेंद्र सिंह यादव ने भाजपा सरकार के खिलाफ गैस की टंकी की सिर पर रख जमकर नारेबाजी की। हालांकि शहर कांग्रेस का कोई भी पदाधिकारी इसमें शामिल नहीं था।

 
4 दिनों में पेट्रोल 23 और डीजल में 20 पैसे की हुई कटौती

नई दिल्ली। कभी 1 पैसे तो कभी 6 पैसे, इस तरह पैसे-पैसे करके पेट्रोल और डीजल के दामों में कटौती का क्रम जारी है। पिछले 4 दिनों में पेट्रोल 23 और डीजल के दामों में 20 पैसे प्रति लीटर की कटौती हो चुकी है।

राजधानी दिल्ली में शनिवार को पेट्रोल-डीजल की कीमत में 9 पैसे की कटौती हुई। दिल्ली में फिलहाल पेट्रोल की कीमत 78.20 रुपए और डीजल की कीमत 69.11 रुपए प्रति लीटर है।

मुंबई में पेट्रोल-डीजल की कीमत क्रमश: 86.01 रुपए और 73.58 रुपए  लीटर है। कोलकाता में पेट्रोल 80.84 रुपए और डीजल 71.66 रुपए  लीटर है। इसी तरह चेन्नई में पेट्रोल की कीमत 81.19 रुपए और डीजल की कीमत 72.97 रुपए  प्रति लीटर है।

कब-कब कितनी हुई कटौती :

राजधानी दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की कीमत में 30 मई से कटौती शुरू हुई है। 30 मई को 1 पैसा की कटौती हुई, जिससे सरकार की काफी आलोचना भी हुई। इसके बाद 31 मई को 7 पैसे, 1 जुलाई को 6 और 2 जुलाई को 9 पैसे की कटौती की गई। ऐसा ही डीजल की कीमत में भी हुआ है। डीजल की कीमत में 30 मई को 1 पैसा, 31 मई और 1 जून को 5-5 पैसे और 2 जुलाई को 9 पैसे की कटौती हुई।

एसबीआई का सुझाव राज्य मान लें, तो पेट्रोल के दाम हो सकते हैं 5 रुपए कम 

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हो रही लगातार वृद्धि के बीच स्टेट बैंक आॅफ इंडिया ने एक राहतभरा सुझाव दिया है। यदि राज्य सरकारों ने एसबीआई के सुझाव को मान लिया तो पेट्रोल के दाम में करीब 5 रुपए की कमी आ सकती है। वहीं डीजल के दाम भी घट सकते हैं। भारतीय स्टेट बैंक की रिसर्च फर्म ने एक रिपोर्ट तैयार की हैं, जिसमें उन्होंने 19 राज्यों को मिलाकर यह विश्लेषण किया है। इसमें उन्होंने दो फॉमूर्ले राज्यों को दिए हैं।

यदि राज्य पेट्रोल के बेस प्राइस पर वैट लगाए तो पेट्रोल की कीमतें लगभग 5 रुपए 75 पैसे तक कम हो सकती है। इसी तरह अगर डीजल की बेस प्राइस पर वैट लगाया जाए तो इसकी कीमत 3 रुपए 75 तक कम हो सकती है। हालांकि इसकी वजह से राज्यों को 34,627 करोड़ रुपए का नुकसान झेलना पड़ सकता है। मौजूदा समय में राज्य पेट्रोल-डीजल की उस कीमत पर वैट लगाते हैं जिसमें केंद्र का टैक्स शामिल होता है। इससे उपभोक्ता को पेट्रोल-डीजल महंगा मिलता है।

राज्यों को मिल रहा कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों का फायदा

रिपोर्ट के मुताबिक अगर पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतें और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों का फायदा राज्यों को हो रहा हैं। भारत का क्रूड आॅयल बास्केट की औसत कीमत बढ़ने से यह फायदा राज्यों को मिलता है। अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव मौजूदा दरों पर ही बना रहता है, तो इससे इन राज्यों को 2018-19 में कम से कम 18,728 करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व प्राप्त हो सकता है। कुल तेल खपत में इन राज्यों का हिस्सा 93 फीसदी है।

रिपोर्ट अनुसार अगर कच्चे तेल की कीमत में एक डॉलर प्रति बैरल की बढ़ोतरी होती हैं, तो इन राज्यों को अपने बजट अनुमान से 2,675 करोड़ रुपए अतिरिक्त राजस्व प्राप्त होता है। अगर राज्य ये अतिरिक्त लाभ लेना  छोड़ दें तो पेट्रोल के दाम 2.65 रुपए प्रति लीटर और डीजल के दाम 2 रुपये प्रति लीटर तक कम हो सकते हैं।

 

 

युवक कांग्रेस ने किया अनोखा प्रदर्शन, बैलगाड़ी की निकाली रैली 

रायपुर। युवक कांग्रेस ने शनिवार को पेट्रोल-़डीजल के दामों में वृद्धि को लेकर अनोखा प्रदर्शन किया। कांग्रेस भवन से कार्यकर्ताओं ने बैलगाड़ी और घोड़े के साथ रैली निकालकर इस वृद्धि का विरोध किया। युवक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष उमेश पटेल ने कहा कि लगातार देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पेट्रोल डीजल में महंगाई की जा रही है । इस वजह से देश में महंगाई काफी बढ़ गई है । इसके विरोध में युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बैलगाड़ी से रैली निकालकर प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार जब से बनी है उस समय से महंगाई लगातार बढ़ने लगी है।आज महंगाई को लेकर कांग्रेस द्वारा विरोध जताया सरकार का पुतला दहन किया गया। 

उमेश पटेल ने बताया कि सरकार लगातार महंगाई कर रही है जिसे आम जनता परेशान हैं और लगाता आम जनता की मौत भी हो रही है। कांग्रेस के कार्यकाल में इतनी मंगाई नहीं थी। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद से पेट्रोल डीजल से लेकर हर चीज में लगातार महंगाई बढ़ती जा रही है।  

 

युवा जनता कांग्रेस ने निकाली साइकिल रैली, पेट्रोल-डीजल पर वेट घटाने की मांग

रायपुर। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोत्तरी के खिलाफ जनता युवा कांग्रेस ने आज सायकिल रैली निकालकर कलेक्टोरेट पहुुंचे और वहां ज्ञापन सौंपकर राज्य और केंद्र सरकार से कीमतों में कमी लाने की मांग की। जनता युवा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष विनोद तिवारी ने कहा कि राज्य सरकार चाहे तो वेट कम कर पेट्रोल के दामों में कमी ला सकती है। अभी 25 प्रतिशत वेट लगाया जा रहा है, इसे पांच प्रतिशत किया जाना चाहिए। यह सरकार के हाथ में है। 

जनता युवा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष विनोद तिवारी ने केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान पर पहुंच गए हैं। जनता परेशान हो गई है। पेट्रोलियम पदार्थों की दाम बढ़ने से परिवहन व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है। इसके चलते वाहनों के भाड़ा बढ़ने से खाद्य एवं अन्य सामग्रियों की दाम भी बढ़ गए हैं। पूरा देश महंगाई की आग में जल रहा है। सब्जियां महंगी होने लगी है। इसके साथ तमाम दैनिक उपयोगी की वस्तुएं भी महंगी होने लगी है। समय रहते यदि पेट्रोल के दामों में कमी लाने के प्रयास नहीं किए गए तो आम जनता का जीना मुश्किल हो जाएगा।

पेट्रोल के दामों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेसी करेंगे बैलगाड़ी सवारी 
जनता कांग्रेस के बाद आज दोपहर तीन बजे युवक कांग्रेस भी पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि के खिलाफ बैलगाड़ी  ठेला स्टैंड खोजा यात्रा निकालेगी। 

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम के खिलाफ प्रदर्शन के लिए रूपरेखा तैयार

इंदौर। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की 26 मई को पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम के खिलाफ होने वाले प्रदर्शन तथा 6 जून को मंदसौर में होने वाली सभा की रूपरेखा तय करने के लिए इंदौर शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद टंडन द्वारा गांधी भवन(कांग्रेस कार्यालय)में बैठक आयोजित की गई थी, जिसमे बड़ी तादाद में आज कांग्रेसजन उपस्थित थे।

शहर अध्यक्ष प्रमोद टंडन ने संबोधित करते हुए कहा की सुधार की आवश्यकता सब में है। घड़ी-कांटे के हिसाब से चलती है और कांटे की गाड़ी का हिसाब सबको रखना चाहिए, कांग्रेस का कार्यकर्ता धूप में कामकाज छोड़कर आता है, सभी वरिष्ठ नेता समय पर आना चालू करें, जब तक मैं कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर हूं और मुझे राहुल जी, सोनिया जी, कमलनाथ जी और ज्योतिरादित्य सिंधिया जी ने जवाबदारी सौंपी है तब तक मुझे कांग्रेस पार्टी को अनुशासन में चलाना पड़ेगा। कठोरता रखनी पड़ेगी।  पर किसी को अपमानित नहीं करना है।

उन्होंने कहा अगर आप मजबूत हो तो सबसे आखिरी पंक्ति में बैठे होंने पर भी आपको कमजोर समझने की कोई हिम्मत नहीं कर पाएगा। जितने भी मंच पर नेता बैठे हैं सब कई बार चुनाव लड़ चुके हैं जीते हैं और इनका सम्मान करना मेरी पिढ़ी की पहली जवाबदारी बनती है। उन्होंने पेट्रोल-डीजल में मूल्यवृद्धि के पुरजोर विरोध करने पर कार्यकर्ताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि  आज भाजपा सरकार विदेश से तेल सस्ता खरीदती है पर फिर भी महंगा पेट्रोल-डीजल बेच रही है। यह भाजपा की कथनी और करनी का फर्क है। जब हमारी कांग्रेस की मनमोहन सिंह जी की सरकार थी तो उस समय विदेश से महंगा तेल खरीदना पड़ता था पर जनता पर बोझ ना पड़े इसलिए पेट्रोल-डीजल कांग्रेस सरकार सस्ता बेचती थी। आंधी हो या तूफान जैसा भी मौसम हो कांग्रेस का कार्यकर्ता मैदान में डटा रहेगा।

टंडन ने कहा कि 6 जून को मंदसौर में किसानों की हुई हत्या की बरसी पर जो राहुल गांधी जी व वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में जो सभा होने जा रही है उसमें हमें पूरी ताकत के साथ जाना है। शहर कांग्रेस कमेटी और जिला कांग्रेस कमेटी ने तय किया है कि बैल-गाड़ी में सवार होकर स्कूटर,साइकिल पर सवार होकर डीजल-पेट्रोल के मूल्यवृद्धि के खिलाफ बड़ी श्रंखला में गांधी भवन से कलेक्ट्रेट चौराहे तक जाएंगे, सूचना मिले या ना मिले यह लड़ाई कांग्रेस की है मैदान बड़ा होगा तो नवंबर 2018 में सभी खेलोगें वरना गांधी भवन में खेल रहे हैं मैदान बड़ा होगा तो सब दूर खेलोगें हमारा मुख्यमंत्री होगा तो हम हक से अपना काम करा सकेंगे।

बैठक में कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव प्रदेश प्रभारी संजय कपूर, कार्यवाहक अध्यक्ष जीतू पटवारी, रामनिवास रावत, जिला कांग्रेस अध्यक्ष अंतर सिंह दरबार ने कांग्रेसजनों को संबोधित करते हुए कहा कि जिस तरह से मंदसौर में किसानों के ऊपर भाजपा सरकार ने गोलियां चलवाई थी और कई किसानों की हत्या कर दी थी,अब समय आ गया है इस हत्यारी सरकार का पत्न का,आप सभी कांग्रेसजन हर मंडल से करीब 10-10 गाड़ियां लेकर मंदसौर पहुंचे और अधिक से अधिक संख्या मे पहुंचकर भाजपा की जनविरोधी सरकार को उखाड़ फेंकने का संकल्प ले।

 बैठक में शहर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष कृपाशंकर शुक्ला,पूर्व विधायक रामेश्वर पटेल,तुलसी सिलावट,अश्विन जोशी,सत्यनारायण पटेल सहित वरिष्ठ नेतागण,हारे-जीते विधानसभा एवं नगर निगम के प्रत्याशीगण,पार्षदगण,मोर्चा संगठन के अध्यक्षगण,मंडलम अध्यक्षगण,सेक्टर प्रभारी,ब्लाक अध्यक्ष,महिला नेत्रीगण तथा पूर्व प्रदेश कांग्रेस एवं शहर कांग्रेस के पदाधिकारिगण एवं बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्तागण उपस्थित थे।

हवाई टिकट कैंसिल कराने पर वापस मिलेंगे पूरे पैसे

नईदिल्ली। पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम से मचे कोहराम के बीच हवाई यात्रा करने वालों के लिए एक राहत की खबर आई है।  अब यात्री टिकट कैंसिल कराने पर पूरा पैसा वापस मिलेगा। यह नियम सभी देशी और विदेशी एयरलाइंस कंपनियों पर लागू होगा।

कैसे मिलेगा टिकट का पूरा पैसा

नागर विमानन मंत्रालय में राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि अगर एयरलाइंस की गलती से फ्लाइट कैंसिल होती है, तो फिर यात्रियों को पूरा पैसा वापस करना पड़ेगा। पैसा वापस नहीं करने की सूरत में कंपनी को यात्री को दूसरी फ्लाइट में टिकट देना होगा और इसके लिए वो किसी तरह का कोई अतिरिक्त चार्ज यात्री से नहीं ले सकेगा।

यात्रा में देरी होने पर देना होगा मुआवजा

अगर फ्लाइट में किसी प्रकार देरी होती है, तब एयरलाइंस कंपनियों को यात्रियों को किसी ने किसी तरीके से मुआवजा देना होगा। इस बार गर्मियों के सीजन में अगर आप घूमने का प्लान कर रहे हैं तो फिर यह काफी सस्ता होगा। घरेलू यात्रियों की संख्या बढ़ने के बावजूद किरायों में इस बार 4-9 फीसदी की कमी दर्ज की गई है। केवल एक सेक्टर पर किराया सबसे ज्यादा है।

बढ़ी 20 फीसदी मांग

गर्मियों में एयर टिकट बुक कराने वालों की संख्या में इस बार 20 फीसदी की बढ़ोतरी हो गई है। डिमांड ज्यादा होने के बावजूद किराये में कमी देखने को मिली है। देश में कार्यरत विभिन्न ट्रेवल कंपनियों के अनुसार इस साल अप्रैल-जून के बीच कमी देखने को मिल रही है। वहीं इंटरनेशन सेक्टर में इसी अवधि के दौरान किराये में 19 फीसदी की कमी देखी गई है।

पेट्रोल के दाम में वृद्धि का विरोध, घोड़े में सवार राष्ट्रपति के नाम राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन 

रायपुर। लगातार बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के दामों के विरोध में जनता युवा कांग्रेस ने रविवार को अनोखा प्रदर्शन किया। युवा जनता कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष विनोद तिवारी के नेतृत्व में 30 से अधिक घोड़ों पर सवार होकर जोगी बंगले से राज्यपाल निवास पहुंचे। उन्होंने राष्ट्रपति के नाम राज्यपाल बलरामदास जी टंडन को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों में बढ़ती कीमतों के कारण आम लोगों का घरेलू बजट बढ़ गया है। सरकार मुनाफा कमा रही है। जनता को राहत पहुंचाने कुछ नहीं किया जा रहा है। विनोद तिवारी ने कहा कि हमने इसलिए घोड़े की सवारी  की क्योंकि जिस दाम में आज पेट्रोल मिल रहा है, उस दाम में आज घोड़े की सवारी करना ज्यादा किफायती है। 

उन्होंने कहा कि  कही ना कही आज हमको पुराने जमाने की तरफ भेजा जा रहा है। हमारी मांग है कि पेट्रोल-डीजल को भी जीएसटी के दायरों में लाया जाए। आज पूरा देश पेट्रोल की बढ़ती कीमत से परेशान है। इसके बढ़ते दामों के कारण परिवहन खर्च बढ़ रहा है, जो महंगाई को और बढ़ा रहा है। देश की जनता महंगाई से परेशान है। उससे राहत दिलाने सरकार कुछ नहीं कर रही है। 

90 रुपए होने वाला है पेट्रोल, एक साथ बढ़ेंगे 6-8 रुपए प्रति लीटर की दर से 

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की महंगाई से परेशान आम आदमी की जेब पर और बोझ बढ़ने वाला है।  आने वाले दिनों में देश में पेट्रोल की कीमत 90 रुपए प्रति लीटर तक जा सकती हैं।  दरअसल, अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है।  आगे भी कच्चा तेल और महंगा होने की संभावनाएं हैं।  दूसरी ओर रुपए में कमजोरी लगातार बढ़ती जा रही है।  ऐसे में तेल कंपनियों के पास पेट्रोल-डीजल की कीमतों को होल्ड करने की गुंजाइश कम होगी।  पिछले पांच दिन में पेट्रोल 1 रुपए और डीजल 1.15 रुपए प्रति लीटर महंगा हो चुका है।  आशंका है कि अगले कुछ दिनों में पेट्रोल-डीजल में 6-8 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो सकती है।  अगर ऐसा हुआ तो मुंबई में पेट्रोल 90 रुपए प्रति लीटर और दिल्ली में 80 रुपए प्रति लीटर पहुंच जाएगा। 

क्या है आज का भाव

दिल्ली में आज पेट्रोल पर 29 पैसे की बढ़ोतरी की गई।  पेट्रोल का दाम 75.61 प्रति लीटर पहुंच गया।  वहीं, डीजल भी 29 पैसा महंगा होकर 67.08 पैसे पर पहुंच गया है।  मुंबई में पेट्रोल 29 पैसा महंगा होकर 83.50 रुपए प्रति लीटर, डीजल 30 पैसा महंगा होकर 71.41 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया है।  कोलकाता में पेट्रोल 28 पैसे बढ़कर 78.29 प्रति लीटर पहुंच गया है।  वहीं, मुंबई में डीजल 30 पैसा महंगा होकर 69.62 रुपए प्रति लीटर पहुंच गया है।  चेन्नई में पेट्रोल पर 30 पैसे बढ़ाए गए हैं, इसकी कीमत 78.46 प्रति लीटर है।  वहीं चेन्नई में डीजल 31 पैसे महंगा होकर 70.793 प्रति लीटर पर पहुंच गया है। 

85 डॉलर के पार जाएगा क्रूड

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें 80 डॉलर प्रति बैरल के पार चली गई हैं।  एक्सपर्ट्स की मानें तो आगे भी कच्चे तेल की कीमतों में तेजी जारी रहेगी और यह 85 डॉलर प्रति बैरल तक जा सकता है।  सीनियर एनालिस्ट अरुण केजरीवाल के मुताबिक, ओपेक देशों की तरफ से उत्पादन में कटौती के चलते इसके दाम बढ़ेंगे।  वहीं, अमेरिका की तरफ से ईरान पर लगाए गए प्रतिबंध से सप्लाई घट गई है।  यही वजह है कि कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आना तय है।  क्रूड 85 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच सकता है।  

बड़ा झटका: और महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, लगातार दूसरे दिन इतने बढ़े दाम

90 डॉलर भी जा सकता है क्रूड

मॉर्गन स्टेनली के मुताबिक, क्रूड की कीमतों में उछाल अगले दो साल तक जारी रह सकता है।  ऐसे में 2020 तक यह 90 डॉलर प्रति बैरल का स्तर छू सकता है।  डिमांड और सप्लाई का अनुपात बिगड़ने से क्रूड की कीमतों में तेज उछाल आएगा।  अक्टूबर 2014 में कच्चे तेल के दाम 90 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंचे थे। 

पेट्रोल-डीजल भी होगा महंगा

मॉर्गन स्टेनली के मुताबिक, क्रूड के दाम में उछाल आने से घरेलू मार्केट में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में तेजी जारी रहेगी।  ऐसे में पेट्रोल-डीजल पर 6-8 रुपए तक बढ़ सकते हैं।  इससे पहले कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटी ने भी पेट्रोल के दाम में 4 रुपए प्रति लीटर के उछाल की संभावना जताई है।  वहीं, डीजल भी 3 से 3.5 रुपए प्रति लीटर तक महंगा हो सकता है। 

कंपनियां का मार्जिन गिरा

तेल कंपनियों के लिए पेट्रोल-डीजल की कीमतों को स्थिर रखना मुश्किल हैं. क्योंकि, कर्नाटक चुनाव के चलते पेट्रोल डीजल की कीमतों को 19 दिन होल्ड पर रखा गया था. जिससे कंपनियों का मार्जिन बिगड़ गया है. अब मार्जिन को पहले के स्तर पर ले जाने के लिए उसे पेट्रोल-डीजल में लगातार इजाफा करना होगा. पिछले पांच दिन में कंपनियां 1 रुपए पेट्रोल और 1.15 रुपए डीजल पर बढ़ा चुकी हैं. बता दें, कर्नाटक चुनाव के दौरान कीमतें होल्ड करने से तेल कंपनियों को करीब 500 करोड़ रुपए के नुकसान का अनुमान है.

Advertise, Call Now - +91 76111 07804
Visitor No.