GLIBS
23-06-2020
पद्मश्री,पद्मभूषण और पद्म विभूषण के लिए आवेदन आमंत्रित, अंतिम तिथि 10 अगस्त

रायपुर। पद्म विभूषण,पद्म भूषण एवं पद्मश्री पुरस्कार के लिए नामांकन वर्ष 20-21 के लिए योग्य पात्र व्यक्तियों के नामांकन प्रस्ताव आमंत्रित किए गए है। जिला कार्यक्रम अधिकारी,महिला एंव बाल विकास विभाग कलेक्टर परिसर जिला रायपुर को 10 अगस्त तक आवेदक नामांकन फार्म प्रेषित कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त 10 अगस्त तक पोर्टल पर आवेदन किया जाना अनिवार्य है। आनलाइन आवेदन नहीं किये जाने पर आवेदक का फार्म लिया जाना अनिवार्य नहीं होगा।

 

14-01-2020
बाल विवाह की रोकथाम के लिये कलेक्टर ने दिए निर्देश

छिन्दवाडा। कलेक्टर डॉ.श्रीनिवास शर्मा ने लाडो अभियान में बाल विवाह की रोकथाम के लिये जिले के सामूहिक विवाह कराने वाले आयोजकों को निर्देश दिये है। उन्होनें ने कीा कि जिला महिला सशक्तिकरण कार्यालय में यह शपथ पत्र प्रस्तुत करें कि वे अपने वैवाहिक आयोजनों में बाल विवाह नही कराएंगे। इसी प्रकार सभी धर्मगुरू, समाज के मुखिया, हलवाई, केटरर, बैंडवाला, घोड़ीवाला, ट्रांसपोर्ट, ब्यूटी पार्लर, संचालक मंगल भवन और अन्य संबंधितों से भी अनुरोध किया गया है कि वे बालक और बालिका के उम्र संबंधी प्रमाण पत्र प्राप्त कर परीक्षण के बाद ही सेवाएं प्रदाय करें । जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास ने बताया कि बाल विवाह अधिनियम   में प्रावधान किया गया है कि बाल विवाह किये जाने पर 2 वर्ष के कारवास, एक लाख रूपये का जुर्माना अथवा दोनो से दंडित किया जा सकता है।  

अरविंद वर्मा की रिपोर्ट

 

06-12-2019
आंगनबाड़ी केंद्र हुए कुपोषण मुक्त, मुख्यमंत्री ने किया सम्मानित

रायपुर।  प्रदेश को कुपोषण मुक्त करने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा चलाये जा रहे मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के जमीनी नतीजे मिलने लगे हैं। जहां अच्छा कार्य हो रहा है उसकी प्रशंसा स्वयं मुख्यमंत्री द्वारा की जा रही है। दुर्ग जिले के बटरेल आंगनबाड़ी केंद्र क्रमांक 1 और 4 के पूरी तरह कुपोषण मुक्ति के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मुख्यमंत्री ने केन्द्र की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं को सम्मानित किया है। बटरेल आंगनबाड़ी केंद्र क्रमांक 1 और 4 में सतत मेहनत और मानिटरिंग कर तीन बच्चों को कुपोषण के दायरे से बाहर निकाला गया है। इसके लिए मुख्यमंत्री ने बटरेल में आयोजित कार्यक्रम में बटरेल क्रमांक 1 की कार्यकर्ता कौशल्या शर्मा एवं सहायिका डोमेश्वरी साहू तथा बटरेल क्रमांक 4 की कार्यकर्ता शैलबाला कौशिक एवं सहायिका दीपिका साहू को सम्मानित किया। इन कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं ने सुपोषण अभियान के अंतर्गत बहुत अच्छा काम किया। उन्होंने न केवल कुपोषित बच्चों के पोषण का ध्यान रखा बल्कि नियमित गृहभेंट आदि के माध्यम से अभिभावकों को भी जागरूक किया ताकि वे घर में भी बच्चों का उचित ख्याल रख सके।

जिला कार्यक्रम अधिकारी विपिन जैन ने बताया कि मुख्यमंत्री सुपोषण मिशन के अंतर्गत बच्चों को एक्सट्रा सप्लीमेंट दिये जा रहे हैं। कुपोषित बच्चों को गुड़ और मूंगफली से बनी चिक्की प्रदान किया जा रहा है। 0 से 3 साल तक के बच्चों को चिन्हांकित कर इन्हें विशेष रूप से भोजन कराया जा रहा है। इसके लिए व्यापक जनभागीदारी के साथ काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि व्हाटसएप के माध्यम से नियमित रूप से अधिकारियों द्वारा सुपोषण अभियान की मानिटरिंग की जा रही है। मुख्यमंत्री बाल संदर्भ योजना के माध्यम से भी स्वास्थ्य परीक्षण शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। इससे जमीनी नतीजे बेहतर हो रहे हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804