GLIBS
10-11-2020
कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बिहार में मतगणना जारी, एनडीए आगे

रायपुर/पटना। बिहार में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच तीन चरणों में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के मतों की गणना जारी है। रुझानों में एनडीए फिर एक बार महागठबंधन से काफी आगे पहुंच गई है। हालांकि दोनों के बीच मुकाबला कांटे भरा माना जा रहा है। दोनों गठबंधन सीटों के मामले में लगातार आगे-पीछे हो रही है। 129 सीटों पर एनडीए गठबंधन आगे चल रही है। वहीं 98 सीटों पर महागठबंधन के उम्मीदवार आगे चल रहे हैं। मुख्य मुकाबला एनडीए और महागठबंधन के बीच ही है। सत्ताधारी जेडीयू और बीजेपी के अलावा एनडीए गठबंधन में जीतन राम मांझी की ‘हम’ और ‘सन ऑफ मल्लाह’ मुकेश सहनी की पार्टी व्हीआइपी शामिल है। साथ ही महागठबंधन में आरजेडी, कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया यानी सीपीआई शामिल हैं। वहीं चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी ने एनडीए से अलग चुनाव लड़ा है।

18-10-2020
राजधानी पुलिस ने शनिवार देर रात चलाया विशेष अभियान, सीएम हाउस सहित 80 स्थानों पर पहुंची 10 टीमें

रायपुर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव के आदेश अनुसार 17-18 अक्टूबर की दरमियानी रात 10 टीमों ने 80 स्थानों पर सुरक्षा व्यवस्था की जांच की। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर लखन पटेल व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण तारकेश्वर पटेल के निर्देशन में उप पुलिस अधीक्षक लाइन मणिशंकर चंद्रा के नेतृत्व में 10 टीम जांच के लिए पहुंची। रक्षित केंद्र रायपुर से रक्षित निरीक्षक चंद्रप्रकाश तिवारी, सूबेदार अभिजीत भदौरिया,सूबेदार गोविंद वर्मा और अन्य अधिकारी टीम में शामिल थे। टीमों ने जिले के विभिन्न स्थानों मुख्यमंत्री निवास,गृह मंत्री, स्वास्थ्य मंत्री आदि के निवास पर सुरक्षा व्यवस्था को परखा। साथ ही विभिन्न शासकीय बैंकों,महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों इत्यादि 80 स्थानों में लगे लगभग 250 सुरक्षा गार्डों को चेक किया। चेकिंग के दौरान संत्री की पोजीशन और गार्ड ऑफ फायर , गॉड स्टैंड टू और हथियारों के  सुरक्षित रखे जाने से संबंधित आवश्यक दिशा निर्देश दिए। साथ ही सतर्कता पूर्वक और ईमानदारी पूर्वक ड्यूटी करने, ड्यूटी के दौरान नशा का सेवन नहीं करने, समय पर ड्यूटी पर उपस्थित होने संबंधित आवश्यक निर्देश भी दिए गए। इसके अतिरिक्त डीजीपी के स्पंदन अभियान के तहत सभी कर्मचारियों से किसी भी व्यक्तिगत या अन्य समस्या होने पर तत्काल सूचित करने और निराकरण करने के लिए संबंधित सक्षम अधिकारी को सूचित करने का आश्वासन दिया गया। राजधानी में इस तरह के अभियान आगामी समय में भी लगातार जारी रहेगा।

13-10-2020
राजेश मूणत ने कहा- कांग्रेस सरकार में अपराध का ग्राफ तेजी से बढ़ा,प्रदेश में भय का वातावरण

रायपुर। छत्तीसगढ़ की कानून और सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेश मूणत ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर हमला किया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि पूरी की पूरी सरकार सिर्फ और सिर्फ धंधा-पानी में लगी हुई है। प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गई है। अपराधिक प्रवृति के लोग सीना तान कर खुलेआम घूम रहे हैं। अपराधिक तत्वों में प्रशासनिक भय नाम की कोई चीज दिखाई नहीं दे रही है। कहीं ना कहीं किसी ना किसी के संरक्षण के बगैर ऐसा संभव भी नहीं है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में 15 वर्षों तक जन आशीर्वाद से भारतीय जनता पार्टी की सरकार भी रही थी, परंतु अपराधिक प्रवृति के लोग सर उठाकर घूमने की हिमाकत नहीं करते थे। कहीं न कहीं उनके अंदर प्रशासनिक भय का वातावरण था, तभी वे बिल में घूसे हुए थे।

कांग्रेस की सरकार सत्ता में आते ही इन अपराधिक तत्वों के लोगों का हौसला बुलंद हो गया। वे छत्तीसगढ़ की राजधानी के हृदय स्थल जयस्तंभ चौक पर भी खुलेआम चाकूबाजी, चैन स्नैचिंग जैसे वरदात को बेखौफ अजाम दे रहे हैं। इससे कांग्रेस सरकार की लापरवाही और लचर प्रशासनिक व्यवस्था साफ दिखाई दे रही है।  राजेश मूणत ने सरकार के मुखिया भूपेश बघेल और गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू से सवाल किया है कि आखिर किसके संरक्षण पर प्रदेश भर में नशा और सट्टे का कारोबार चल रहा है? प्रदेश में बहन-बेटियों पर हो रहे अनाचार के लिए कौन जिम्मेदार है? अपहरण और फिरौती की बढ़ती घटनाओं के लिए कौन जिम्मेदार है? जगह-जगह चाकूबाजी, हत्या की घटनाओं के लिए जिम्मेदार कौन? राजेश मूणत ने कहा है कि प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल और गृहमंत्री को इन सवालों का जवाब देना चाहिए।

 

21-09-2020
लॉक डाउन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लिए लगाया गया पर्याप्त पुलिस बल,आदेशों का उल्लंघन करने पर होगी कार्यवाही

धमतरी। प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम के लिए जिले के नगरीय निकायों में कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित करते हुए 22 से 30 सितंबर तक प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया गया है, जिसमें समस्त व्यवसायिक एवं गैर व्यवसायिक गतिविधियां पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगे। पुलिस अधीक्षक बी.पी. राजभानु के निर्देशानुसार लॉकडाउन के दौरान आवश्यक पुलिस सुरक्षा प्रबंध की व्यवस्था की गई है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे ने आज सभी थाना प्रभारियों,यातायात प्रभारी व पेट्रोलिंग स्टाफ को मकई चौक में बुलाकर उन्हें ब्रीफ करते हुए प्राप्त निर्देशों के आधार पर वैधानिक कार्यवाही करने आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया। उन्होंने बताया कि शहर के वार्डों को तीन भागों में विभक्त किया गया है,प्रत्येक भाग में लगातार पेट्रोलिंग के लिए तीन अलग-अलग पेट्रोलिंग पार्टी को 3 शिफ्ट में लगाया गया है तथा पृथक से तीन मोटरसाइकिल पेट्रोलिंग के द्वारा शहर की संकीर्ण गलियों में पेट्रोलिंग करते हुए सतत निगाह रखी जाएगी। साथ ही थाना की पेट्रोलिंग वाहन लगातार अपना पेट्रोलिंग करते रहेगी। इसके अतिरिक्त थाना प्रभारी के नेतृत्व में अलग से पेट्रोलिंग पार्टी लगाया गया है, जिनके सहयोग के लिए चीता स्क्वाड, एडी स्क्वाड व शक्ति टीम लगातार पेट्रोलिंग करते हुए सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। इस दौरान किसी भी प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर संबंधित के विरुद्ध वैधानिक कार्यवाही की जाएगी। शासन के आदेशों का उल्लंघन करने वालों, अनावश्यक घूमते हुए पाए जाने वालों, सोशल व फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वालों, बिना मास्क के दिखाई देने पर उनके विरुद्ध चालानी सहित वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।

 

20-07-2020
Breaking : एटीएम काटकर लाखों रुपए की चोरी, पुलिस की कार्य प्रणाली पर लग रहे प्रश्नचिन्ह

रायपुर। अज्ञात चोरों नें सिमगा में एसबीआई बैंक के एटीएम को गैस कटर से काटकर लाखों रुपए चोरी कर ले उड़े। घटना रविवार देर रात की है। मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू कर दिया है। चोरी की घटना के बाद अब पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग रहे हैं। इतना ही नहीं एटीएम की सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं।

18-07-2020
 एलओसी के निकट अग्रिम चौकी पहुंचे राजनाथ सिंह, सुरक्षा व्यवस्था का लिया जायजा

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह देश की सीमाओं पर सुरक्षा का जायजा लेने के लिए दो दिनों के जम्मू-कश्मीर के दौरे पर हैं। शनिवार को राजनाथ सिंह एलओसी के पास की अग्रिम चौकियों पर पहुंचे और सुरक्षा व्‍यवस्‍था का जायजा लिया। रक्षा मंत्री के साथ प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे नॉर्थ हिल चौकी पहुंचे, जहां वरिष्ठ अधिकारियों ने सीमा पर हालात के संबंध में उन्हें जानकारी दी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जब जम्‍मू-कश्‍मीर के कुपवाड़ा जिले में एलओसी के पास एक अग्रिम पोस्ट पर पहुंचे तब जवानों के बीच काफी जोश देखने को मिला। सेना के जवानों का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें कुपवाड़ा जिले में एलओसी के पास एक फॉरवर्ड पोस्ट पर 'भारत माता की जय' का नारा लगाते दिखाई दे रहे हैं। इस दौरान राजनाथ सिंह ने सैनिकों के साथ बातचीत की तस्वीर पोस्ट करते हुए ट्वीट किया, "जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में एलओसी के निकट एक अग्रिम चौकी का आज दौरा किया और वहां तैनात सैनिकों से बातचीत की।" रक्षा मंत्री ने कहा, "हमें हर हालात में देश की रक्षा करने वाले इन बहादुर और जाबांज सैनिकों पर गर्व है।" इससे पहले रक्षा मंत्री ने सुबह अमरनाथ गुफा मंदिर में जाकर पूजा अर्चना की थी। उन्होंने जम्मू कश्मीर के दौरे के दूसरे दिन अमरनाथ गुफा के दर्शन किए। अधिकारियों ने बताया कि रक्षा मंत्री ने शुक्रवार को जम्मू कश्मीर में शीर्ष सैन्य अधिकारियों के साथ सुरक्षा हालात की समीक्षा की थी। राजनाथ सिंह ने सशस्त्र बलों से पाकिस्तान के किसी भी 'दुस्साहस' का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए कहा। उच्च स्तरीय बैठक में रक्षा मंत्री ने सशस्त्र बलों से पाकिस्तान के साथ लगती नियंत्रण रेखा पर कड़ी निगरानी रखने के लिए भी कहा।

 

 

19-06-2020
मुख्यमंत्री निवास में संक्रमण का खतरा नहीं, सुरक्षाकर्मी की ड्यूटी थी बाहर : कलेक्टर

रायपुर। कलेक्टर डॉ.एस भारतीदासन ने मुख्यमंत्री निवास में कोरोना पॉजिटिव मिलने की खबर को भ्रामक बताया है। उन्होंने बताया है कि मुख्यमंत्री निवास के पंचम द्वार के बाहर उस सुरक्षाकर्मी की ड्यूटी लगी थी। यह सुरक्षाकर्मी बाहर ही ड्यूटी करके अपने घर वापस चला गया था। सुरक्षाकर्मी का मुख्यमंत्री निवास के अंदर आना जाना नहीं था। मुख्यमंत्री निवास में किसी प्रकार का कोई संक्रमण का खतरा नहीं है। मुख्यमंत्री निवास परिसर में सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए निर्धारित प्रोटोकाल और स्वास्थ्य सुरक्षा मानकों का पालन किया जा रहा है।

 

 

18-06-2020
सुरक्षा व्यवस्था देखने पहुंचे आरक्षक पर हमला किया गया

भिलाई। अपनी ड्यूटी के दौरान सुरक्षा व्यवस्था करने पहुंचे पुलिसकर्मी के साथ मारपीट करने का मामला प्रकाश में आया। कर्मी की शिकायत पर पुलिस ने धारा 307,353 के तहत कार्रवाई की है। सुपेला पुलिस से मिली जानकारी में आरक्षक के पद पर पदस्थ अजीत सिंह ड्यूटी पर था। पुलिस को सूचना मिली कि बैंक आफ इंडिया लक्ष्मी मार्केट में अंशुल एवं उसके साथी ने बैंक कर्मचारी के साथ मारपीट कर रहे हैं । मौके पर पुलिस की पेट्रोलिंग स्टाफ बैंक पहुंचा। जहां बैंक प्रबंधक द्धारा पुलिस को बताया गया कि अंशुल एवं उसके साथी ने मारपीट किये है। जानकारी लेने के बाद पुलिस आरोपियों की तलाश के लिए अन्य आरक्षकों के साथ पीड़ित आरक्षक अजीत शासकीय वाहन सूमो सीजी 03/ 6582 से निकला। इस दौरान मुखबिर से सूचना दिया कि बैंक में घटना को अंजाम देने वाले में से एक युवक धनराज अपनी कार गदा चौक सुपेला में खड़ा किया है। पुलिस घेराबंदी करने शासकीय सूमो को कार के सामने लगा दिया। इसी बीच धनराज कार को स्टाट कर दिया और आरक्षक अजीत पर कार को रिवर्स चलाकर पिछले चक्के से कुचलने का प्रयास किया। घटना में अजीत शरीर के कई हिस्सों में चोट आई है। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को अपनी विवेचना में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है।

 

26-05-2020
नेताओं सहित अन्य विशिष्ट व्यक्तियों की सुरक्षा व्यवस्था का होगा  ऑडिट, एसपी होंगे जिम्मेदार,दिशा-निर्देश जारी

रायपुर। राज्य शासन ने प्रदेश के सभी सांसदों,मंत्रियों,विधायकों और अन्य विशिष्ट व्यक्तियों की पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के निर्देश दिए हैं। सुरक्षा की दृष्टि से विशिष्ट व्यक्तियों को सुरक्षा श्रेणी प्रदान की गई है। सुरक्षा श्रेणी के अनुरूप अंगरक्षक और सुरक्षा अधिकारी लगाए गए हैं। इस संबंध में पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने मंगलवार को बैठक लेकर विशिष्ट व्यक्तियों की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने सभी पुलिस अधीक्षकों को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं।
डीजीपी अवस्थी ने प्रदेश के सभी सांसदों, मंत्रियों, विधायकों और अन्य विशिष्ट व्यक्तियों की सुरक्षा व्यवस्था का ऑडिट करने कहा है। ताकि सुरक्षा श्रेणी में तैनात पीएसओ की कार्य शैली और क्षमता को परखा जा सके। वे अपने कर्त्तव्य पर नियमित रूप से उपस्थित हो रहे है या नहीं, साथ ही उनके अनुशासन, सजगता और उनकी कार्यक्षमता सुरक्षा मापदण्डों के अनुरूप है अथवा नहीं, इसका ऑडिट हो सके। डीजीपी अवस्थी ने कहा कि विशिष्टि व्यक्तियों के निवास और उनके प्रवास कार्यक्रमों पर संबंधित पुलिस अधीक्षक उनकी सुरक्षा के लिए पूर्ण रूप से जिम्मेदार होंगे।डीजीपी ने इसके अलावा विशिष्ट व्यक्तियों को उपलब्ध वाहनों के रख-रखाव और चालक व फॉलो गार्ड में लगाए गए बल के शारीरिक दक्षता (फिजिकल फिटनेस) का भौतिक रूप से सुरक्षा  ऑडिट के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री के प्रत्येक भ्रमण में न केवल पर्याप्त रूप से पुख्ता सुरक्षा रखी जाए, बल्कि सुरक्षा के प्रभावी प्रयास (एएसएल) भी किया जाए। जिले में भ्रमण के दौरान सभी गणमान्य व्यक्तियों के पर्याप्त सुरक्षा प्रबंध किया जाए।उन्होंने कहा है कि विशिष्टि व्यक्तियों के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में खासकर बस्तर संभाग, राजनांदगांव और कवर्धा प्रवास के दौरान अतिरिक्त रूप से सुरक्षा व्यवस्था लगाई जाए। यदि विशिष्ट व्यक्तियों को आवागमन सड़क मार्ग से हो तो रोड ओपनिंग पाटी और एंटी सेबोटेज टीम की ओर से नियमित रूप से जांच करा लिया जाए।

विशिष्ट व्यक्तियों के कार्यक्रम स्थल एवं विश्राम गृह में भी पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था लगाई जाए। यह ध्यान रखें कि किसी भी स्थिति में सुरक्षा बल अपर्याप्त नहीं हो, बल्कि परिस्थिति अनुसार निर्धारित मापदण्ड से अधिक बल की व्यवस्था रखी जाए। यदि विशिष्ट व्यक्ति रात्रि विश्राम करते हैं, तो जिम्मेदार अधिकारी के साथ कड़े सुरक्षा प्रबंध किए जाए।अवस्थी ने कहा है कि सभी पुलिस अधीक्षकों का यह दायित्व होगा कि वे सभी सांसदों, मंत्रियों, विधायकों और अन्य विशिष्ट व्यक्तियों के दूसरे जिलों में जाने की सूचना अनिवार्य रूप से संबंधित जिले के पुलिस अधीक्षक को दें, ताकि वहां सुरक्षा प्रबंध किया जा सके। पुलिस मुख्यालय में सहायक पुलिस महानिरीक्षक (सुरक्षा) की ओर से सभी वीआईपी मूव्हमेंट का तकनीकी ढांचा तैयार कर उसकी सतत मॉनिटरिंग करें। वीआईपी भ्रमण की पूर्व सूचना पुलिस महानिदेशक सहित सभी संबंधित पुलिस अधीक्षकों को अनिवार्य रूप से दी जाए। इसके साथ ही गुप्तवार्ता शाखा, विशेष आसूचना शाखा और आईबी से प्राप्त सभी इंटेलिजेंस इनपुट को भी गंभीरता से लेते हुए अक्षरश: पालन करते हुए कड़े सुरक्षा प्रबंध तय किए जाए। 

24-05-2020
सौरभ कुमार ने गाइड लाइन का पालन कराने अधिकारियों को सौंपी जिम्मेदारी, आदेश जारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन, सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से रेलवे या हवाई जहाज से यात्रा कर रायपुर आने वाले यात्रियों के संबंध में जारी गाइड लाइन के अनुसार कार्यवाही की जाएगी। इसके लिए प्रभारी कलेक्टर सौरभ कुमार ने नोडल और सहायक नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की है। स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट परिसर रायपुर में फिजिकल डिस्टेंसिंग तय करने, एयरपोर्ट से क्वारेंटाइन केंद्र ले जाते समय और क्वारेंटाइन केन्द्रों में समुचित सुरक्षा व्यवस्था के लिए नोडल अधिकारी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर और सहायक नोडल अधिकारी तारकेश्वर पटेल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रायपुर ग्रामीण को जिम्मेदारी सौंपी गई है। स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट परिसर में सुविधा केंद्र, हेल्थ डेस्क और आइसोलेशन किओस्क स्थापित करने, सभी यात्रियों के हैंड-बैगेज और चेक-इन बैगेज पर कीटाणुनाशक घोल का छिड़काव करने के लिए नोडल अधिकारी आयुक्त नगर पालिक निगम रायपुर और सहायक नोडल अधिकारी पुलक भट्टाचार्य अपर आयुक्त, नगर पालिक निगम रायपुर रहेंगे।
स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट परिसर में हेल्थ डेस्क और आइसोलेशन किओस्क स्थापित करने,जांच के लिए सैंपल कलेक्ट करने, होम क्वारेंटाइन की दशा में स्टीकर चस्पा कराने और क्वारेंटाइन केन्द्रों में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य की निगरानी के लिए नोडल अधिकारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर और सहायक नोडल अधिकारी, मनीष मजरवार जिला कार्यक्रम प्रबंधक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन रायपुर रहेंगे। शासकीय क्वारेंटाइन केन्द्रों की स्थापना, सतत निगरानी एवं अन्य समस्त आवश्यक व्यवस्था के लिए नोडल अधिकारी डॉ.गौरव कुमार सिंह मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत रायपुर और सहायक नोडल अधिकारी संदीप अग्रवाल, संयुक्त कलेक्टर एवं अनुविभागीय दण्डाधिकारी रायपुर रहेंगे। इसी तरह स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट परिसर से आइसोलेशन या क्वारेंटाइन केंद्रो तक यात्रियों को पहुंचाने के लिए श्री शैलाभ साहू क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी रायपुर और सहायक नोडल अधिकारी योगेश्वरी वर्मा सहायक क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी रायपुर रहेंगे। उपरोक्त सभी व्यवस्थाओं के समंवय के लिए विनीत नंदनवार, अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी रायपुर रहेंगे। आदेश की कापी देखने के लिए यहां क्लिक करें.. 

08-03-2020
महिला शक्ति को सलाम, फर्ज के साथ परिवार की जिम्मेदारी औऱ माँ होने का दायित्व भी निभा रही महिला अफसर

धमतरी। एक समय था जब महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले कम आंका जाता था। लेकिन अब वक्त बदल गया है। अब महिलाएं पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है। बल्कि कुछ क्षेत्रों में तो महिलाएं पुरुषों से बहुत आगे भी निकल गई है। इसका एक उदाहरण जिले में भी मौजूद है। यहां बात की जा रही है जिले की महिला अफसर एएसपी मनीषा ठाकुर की। जोकि जिले के अहम पद में होने के साथ-साथ एक परिवार की सदस्य भी है और इसके साथ-साथ वह दो बच्चों की मां भी है। इतनी सारी जिम्मेदारियों को वह कैसे संभालती है यह तो वही बेहतर जानेगी लेकिन उनकी कुछ ऐसी बाते हैं,जो दूसरों के लिए किसी सीख से कम नही है। महिला दिवस पर उन्हें सामने इस वजह से लाया जा रहा है बीते वर्ष शहर में दिवाली का माहौल था और वह अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के साथ-साथ सुरक्षा व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी भी निभा रही थीं। ठंड के मौसम में दूसरी ओर उनका 5 साल का पुत्र गाड़ी में मम्मी की ड्यूटी खत्म होने का इंतजार कर रहा था। चूंकि रात ज्यादा हो गई थी तो वह नींद में हिचकोले भी खा रहा था उसके बाद भी मम्मी की ड्यूटी खत्म कहां होने वाली थी क्योंकि वह मौक़ा गौरा गौरी विसर्जन का था। जिले के अहम पद में रहने वाली मां अपने घर कैसे जा सकती थी वह सारी रात ड्यूटी करती रही और सारी रात उनका पुत्र गाड़ी में ही मम्मी का इंंतजार करते करते सो गया। दूसरी ओर यदि उनके काम की बात करें तो वह सामुदायिक पुलिसिंग के अलावा अपराधियों को पकड़ने के साथ-साथ अवैध कार्यों में लिप्त लोगों को भी लगातार पकड़ कर गिरफ्तार कर रही है। इसके अलावा कहीं बाहर जाकर अपनी ड्यूटी निभानी हो तो उसमें भी उनका अहम किरदार होता है। फिर जिला नक्सल प्रभावित क्षेत्र है तो जिले में नक्सलियों पर भी खास नजर रखनी पड़ती है। इस मामले में भी वह कम नहीं है जो कि लगातार जिले के दूरस्थ क्षेत्रों में भी अपनी निगाहें जमाये हुए रहती है। अभी हाल ही में उन्ही जंगली क्षेत्रों में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव शांतिपूर्ण कराने में भी उनकी खास भूमिका थी। इस संबंध में उनका कहना है कि  फर्ज के साथ अपनी जिम्मेदारियों को निभाना थोड़ा तकलीफदेह जरूर है। मगर घर परिवार से ही बेहतर कार्य करने का हौंसला मिलता है लिहाजा सभी को अपने परिवार के साथ अपने काम औऱ अपनी जिम्मेदारियों को बेहतर ढंग से निभाना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने भी की तारीफ
एएसपी मनीषा ठाकुर को जिले में आये वैसे ज्यादा वक्त नहीं हुआ है। मगर उनके काम की वजह से समूचा जिला उन्हें पहचानता है। खास बात उनके काम की तारीफ तो प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल ने भी की है माघी पुन्नी मेले के दौरान एक महिला का प्रसव पुलिस ने मेले में करा दिया था। इस विकट परिस्थिति में पुलिस के साथ महिला को हौसला देने वाली यही महिला अफसर थी जिनकी पुलिस उच्चाधिकारियों ने भी तारीफ कर पुरस्कार देने की घोषणा की थी। सीएम भूपेश बघेल ने अपने फेसबुक एवं ट्विटर एकाउंट में नारी शक्ति को नमन किया था। उन्होंने नवजात शिशु को गोद में लिए हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे की फोटो पोस्ट की थी।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804