GLIBS
29-08-2020
अब साफ हुआ कि क्वारेंटाइन सेंटर्स पर 100 करोड़ रुपए ऐसे खर्च किए हैं सरकार ने : शिवरतन शर्मा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व विधायक शिवरतन शर्मा ने कांकेर जिले में क्वारेंटाइन सेंटर्स में खाद्य सामग्री की खरीदी व पीने के पानी में बड़े पैमाने पर सामने आए भ्रष्टाचार के मामले में प्रदेश सरकार पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी-बड़ी डींगें हांकने वाले प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस के नेताओं के दावों की धज्जियां उड़ गई है। शर्मा ने आरोप लगाय है कि बदनीयती, कुनीति और नेतृत्वहीनता के अभिशाप से जूझती प्रदेश की कांग्रेस सरकार हर मोर्चे पर भ्रष्ट और नाकारा साबित हो रही है। शर्मा ने कहा है कि, अब जाकर साफ हुआ कि प्रदेश सरकार ने क्वारेंटाइन सेंटर्स पर इस तरह 100 करोड़ रुपए खर्च किए हैं, जिसके बारे में बताते हुए मुख्यमंत्री बघेल विधानसभा में सत्तावादी अहंकार का प्रदर्शन कर रहे थे। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने कहा है कि सूचना के अधिकार के तहत जो तथ्य इस भ्रष्टाचार के मामले में सामने आए हैं, वे हैरतभरे हैं। कांकेर के इमलीपारा क्वारेंटाइन सेंटर में सब्जी बनाने के लिए 580 रुपए प्रतिकिलो की दर से टमाटर खरीदा जाना यह साबित करने के लिए पर्याप्त है कि, शासन-प्रशासन की नाक के नीचे सरकारी धन की कैसी लूट-खसोट मची हुई है। अप्रैल-मई माह में जिन सब्जियों के भाव 5 से 10 रुपए प्रतिकिलो थे, उन सब्जियों के लिए 40-40 रुपए तक का भुगताना दर्शाया गया है।
शर्मा ने कहा है कि, अनुपूरक बजट में 500 करोड़ रुपए का प्रावधान करने वाली प्रदेश सरकार को पहले तो यह  बताना होगा कि जब प्रदेश सरकार ने इससे पूर्व कोरोना के लिए कोई बजट प्रावधान किया ही नहीं था तो ये 100 करोड़ रुपए कहां से और किस हिसाब से खर्च किए गए? क्या अब तक प्रदेश सरकार केंद्र से मिली राशि से कोरोना की जंग लड़ रही थी? क्या प्रदेश सरकार इसीलिए बार-बार केंद्र सरकार से पैसे मांग-मांगकर दबाव बना रही थी कि, विभिन्न मदों में केंद्र से आने वाले पैसों से इसी तरह घोटालों को अंजाम दिया जा सके? क्या यही वजह है कि, केंद्र से फिर 325 करोड़ रुपए की मांग करने पर प्रदेश सरकार को दो टूक पूर्व में प्रदत्त  राशि 120 करोड़ रुपए का हिसाब देने कह दिया गया और भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी प्रदेश सरकार यह हिसाब देने की स्थिति में नजर नहीं आ रही है। शर्मा ने आशंका जताई कि बजट प्रावधान की राशि का भी कहीं यही हश्र तो नहीं होगा?

27-08-2020
सदन में अनुपूरक बजट पर चर्चा आज, गूंज सकती है गौठान में गायों के मौत का मामला

रायपुर। विधानसभा की कार्यवाही के तीसरे दिन आज अनुपूरक बजट पर चर्चा की जानी है। बीते दिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अनुपूरक बजट पेश किया। सरकार द्वारा 3807 करोड़ रुपए का अनुपूरक बजट पेश किए जाने के बाद अनुपूरक बजट पर आज चर्चा होगी। सदन में आज गौठान में मवेशियों की मौत के मामले में हंगामा हो सकता है। वहीं ध्यानाकर्षण में सूरजपुर शक्कर कारख़ाना और हथकरघा बुनकर समितियों का मुद्दा भी उठेगा। भूपेश बघेल आज शासकीय संकल्प भी प्रस्तुत करेंगे।

इसके पहले हाथियों की मौत पर विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने ध्यानाकर्षण किया, जिसमें उन्होंने कहा कि पिछले तीन महीनों में 10 हाथियों की मौत हुई, आख़िर सीमित क्षेत्रों में ही हाथियों की मौत क्यों हो रही है? उन्होंने कहा कि मुझे संदेह है यहां अंतरराष्ट्रीय रैकेट सक्रिय है। अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में हाथियों के अंगों की क़ीमत काफ़ी है। इसमें वन मंत्री मो अक़बर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कोई भी अंतरराष्ट्रीय रैकेट सक्रिय नहीं है, हाथियों की मौत विभिन्न वजहों से हुई है। कोरोना पर विपक्ष ने स्थगन प्रस्ताव भी लाया है जिस पर चर्चा शुरू है।

23-02-2020
24 फरवरी से छत्तीसगढ़ विधानसभा का बजट सत्र, पहली बार बजट एक लाख करोड़ के ऊपर का होगा

रायपुर। छत्तीसगढ़ की पांचवीं विधानसभा का छठवां सत्र 24 फरवरी से शुरू हो रहा है। 24 फरवरी से 1 अप्रैल तक चलने वाले विधानसभा के इस बजट सत्र के लिए पक्ष और विपक्ष ने कमर कस ली है। इस माह के आखिरी में करीब 1 लाख 4 हजार करोड़ का इस वित्तीय वर्ष का बजट पेश किया जाएगा। पहली बार प्रदेश का बजट 1 लाख करोड़ का आंकड़ा पार करेगा। गत वर्ष 2019-20 का मूल बजट 95 हजार 899 करोड़ का था। बाद में तीन बार अनुपूरक बजट पेश हुआ। इसके बाद कुल बजट 1 लाख 787 करोड़ रुपये पहुंच गया था। बहरहाल इस सत्र में 22 बैठकें होंगी और सत्र में  करीब 2500 सवाल लगाए गए हैं। सत्र के पहले दिन राज्यपाल अनुसुइया उइके का अभिभाषण होगा। उसके बाद दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी जाएगी। विपक्ष इस सत्र में किसानों, शराबबंदी सहित अनेक मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयारी में है। पक्ष भी विपक्ष पर पलटवार करने की पूरी तैयारी कर रहा है।

 

08-01-2019
Chhattisgarh assembly: छत्तीसगढ़ विधानसभा में 10395 करोड़ का अनुपूरक बजट पास

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा में शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन काफी शोर-शराबे के बाद 10 हजार 395 करोड़ 58 लाख 25 हजार 400 सौ रुपए का अनुपूरक बजट पास कर दिया गया है। बता दें कि मंगलवार को विधानसभा सत्र के दौरान  किसानों की कर्जमाफी के लिए अनुपूरक बजट को चर्चा के लिए पेश किया गया, लेकिन विपक्ष ने पहले राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा करने की मांग की। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने इसकी अनुमति नहीं दी। फिर इसके बाद सदन में विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। हंगामा करते हुए विपक्ष के 12 विधायक सदन के गर्भगृह में चले गए। भाजपा के इन विधायकों को निलंबित कर दिया। निलंबित होने के बाद धरने पर बैठ गए।  

फिर इसके बाद विपक्ष ने अपनी मांगें नहीं मानने के कारण सदन से वॉकआउट कर दिया। विधानसभा परिसर में ही पत्रकारों से चर्चा करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि नागरिक आपूर्ति निगम घोटाला मामले में सरकार ने एसआईटी का गठन कर षडय़ंत्रपूर्ण तरीके से बदले की राजनीति कर कार्रवाई कर रही है। 

12-09-2018
CG Assembly Session : CM रमन सिंह ने पेश किया 24सौ करोड़ का अनुपूरक बजट, सदन में डेंगू, किसानों के मुद्दे पर हंगामा

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के विशेष सत्र के दूसरे दिन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने 24 सौ करोड़ का अनुपूरक बजट पेश किया। अनुपूरक बजट पर चर्चा के दौरान सदन में कांग्रेस ने जमकर हंगामा मचाया। कांग्रेस के मोहन मरकाम ने विशेष सत्र बुलाए जाने पर सवाल खड़ा किया, वहीं किसानों को बोनस देने के सरकार की घोषणा को राजनीति से प्रेरित बताया।

इश दौरान मुख्यमंत्री रमन सिंह ने CAG की रिपोर्ट सदन में रखी। कांग्रेस नेता मोहन मरकाम ने महंगाई और डेंगू का मुद्दा उठाते हुए स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा कराने की मांग की। तो इस पर स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने सफाई देते हुए कहा है कि महंगाई का मुद्दा केंद्र का है। श्री चंद्राकर ने कहा राज्य के अहम मुद्दे पर सदन में चर्चा होनी चाहिए। 

11-09-2018
Assembly Meeting : विधानसभा की विशेष बैठक आज से, 2400 करोड़ के अनुपूरक बजट समेत अहम प्रस्ताव होंगे पेश 

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा का दो दिनी विशेष सत्र आज से शुरू हो रहा है। आज पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और छत्तीसगढ़ पूर्व राज्यपाल बलरामदास टंडन को श्रद्धांजलि दी जाएगी। दो दिवसीय इस सत्र में  तृतीय अनुपूरक बजट पेश किया जाएगा। साथ ही तीन विधेयक पर चर्चा होगी। जो 2400 करोड़ का होगा। तीन विधेयकों में एक बिलासपुर विवि  नामकरण पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी संबंधी विधेयक है। दो विधेयक जीएसटी और वनोत्पाद पर लग रहे 3 फीसदी टैक्स खत्म करने को लेकर हैं। सोमवार शाम हुई बैठक में कैबिनेट मंजूरी दे दी गई है। 

बता दें कि कैबिनेट ने हाल ही विवि का नाम अटलजी की याद में करने संबंधी अध्यादेश जारी किया था। अब कल सरकार ने विधेयक भी पारित करा लेने का फैसला किया है। कैबिनेट की बैठक में पिछले सप्ताह को ही फैसला लिया था कि समर्थन मूल्य पर की जाने वाले धान खरीदी के भुगतान के साथ-साथ किसानों को 300 रुपए बोनस भी दी जानी है। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804