GLIBS
01-07-2020
बैकुंठपुर में मिली उत्तराखंड सरकार की योजना की चना दाल, बड़ी मात्रा में एक्सपायरी सामग्री भी बरामद

कोरिया। बैकुंठपुर में खाद्य एवं औषधि विभाग की छापामार कार्रवाई से बड़ा खुलासा हुआ है। विभाग ने उत्तराखंड सरकार की योजना से गरीबों को मिलने वाली चना दाल जब्त की है। वहीं बड़ी मात्रा में एक्सपायरी सामग्री भी बरामद की गई है। बता दें कि खाद्य एवं औषधि विभाग ने बैकुंठपुर में फुहारा चौक स्थित फिरोज खान नामक व्यक्ति के सिटी सुपर बाजार और आईसी मार्ट में दबिश दी। जांच जब शुरू हुई तो एक एक करके कई सामग्री एक्सपायरी मिलती गई। लगभग 70 प्रतिशत पैक सामान एक्सपायर पाया गया।

कुछ में डेट मिटा दी गई थी तो कुछ सामान पर डेट चेंज कर दी गई थी। जांच के दौरान चौंकाने वाली बात सामने आई जोकि उत्तराखंड सरकार की मुख्यमंत्री दाल पोषित योजना की चना दाल भी पैकेटों में मिली। सवाल उठता है कि आखिर यह उत्तराखंड से यहां आया कैसे। विजय फैंसी स्टोर नाम की फर्म में आईसी मार्ट चलाया जा रहा था। जहां री-पैकिंग और री-लेबलिंग करते पाया गया। टैग बदलकर एक्सपायरी सामानों को बदलने की बात भी सामने आई। विभाग ने सभी सामानों का सैम्पल ले लिया है और लाइसेंस नही होने और उल्लंघन करने पर दुकानों को बंद भी कर दिया है। करीब 8 लाख रुपए का एक्सपायरी सामान इन दुकानों से मिला है। कार्यवाही के दौरान दुकानदारों ने टीम के लोगों से बहस भी की जिसके बाद कोतवाली पुलिस मौके पर पहुँची। खाद्य व औषधि विभाग जिले में लगातार कार्यवाही कर रहा है।

06-06-2020
पुलिस ने छापामार कार्रवाई कर गैस सिलेंडर का जखीरा किया बरामद

महासमुन्द। जिले में उज्ज्वला गैस के नाम से लाखों का फर्जीवाड़ा कर हितग्राहियों के सब्सिडी का घोटाला का मामला प्रकाश में आया है। सब्सिडी के अलावा अवैध गैस रीफिलिंग कर हितग्राहियों को बेवकूफ बनाया गया। हैरानी की बात यह है कि वर्षों से चल रहे इस अवैध कारोबार का जिला खाद्य विभाग को भनक तक नहीं लगी? मामले की अगर ईमानदारी से जाँच पड़ताल होगी तो इस मामले में और कुछ लोगों सामने आएंगे। पूरे देश में उज्ज्वला गैस महिलाओं को दिए जाने का डिंडोरर पीटने वाले भाजपा के नेताओं को भी इसकी भनक तक नहीं लगी और वर्षो से महासमुन्द जिले में ये गोरख धंधा फलता फूलता रहा। गौरतलब है कि महासमुन्द जिले के एक इंडेन गैस एजेंसी के गोडाउन में छापा मारकर पुलिस ने उज्ज्वला गैस योजना के तहत महिलाओं के नाम पर दिए जा रहे गैस सिलेण्डर का जखीरा बरामद किया है। डीलर के ग्राम बंसुलीड़ीह गोदाम के अलावा तीन अलग-अलग स्थानों से 2 हजार 255 नग उज्जवला गैस कनेक्शन कार्ड, 1534 नग इण्डेन कंपनी का खाली और भरा हुआ सिलेण्डर, एचपी कंपनी का 42 नग भरा गैस सिलेण्डर, भारत गैस का 25 नग खाली गैस सिलेण्डर, 2 नग रिफिल मशीन सहित गैस सिलेण्डरों से भरे 4 वाहन पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से बरामद किए हैं। इस तरह कुल 63 लाख रुपए की सामग्री बरामद कर पुलिस ने दो भाइयों डीलर योगेश पटेल उम्र, प्रकाशचंद पटेल और साथी ज्ञानदास पटेल को गिरफ्तार किया है।इस मामले में जिले के एसपी प्रफुल्ल ठाकुर और एडीशनल एसपी मेघा टेम्भुरकर ने एक प्रेसवार्ता लेकर जानकारी दी कि महिलाओं एवं कमजोर वर्ग के लोगों की मदद के लिये संचालित उज्ज्वला गैस योजना का फायदा एक डीलर द्वारा उठाए जाने की जानकारी पुलिस को मिली तो पुलिस ने यहां दबिश देने के लिए जानकारी एकत्र कर चार टीमों का गठन किया। चूंकि उक्त डीलर चार अलग-अलग स्थानों पर गैस के सिलेण्डरों भंडार रखा हुआ था।

अत: सभी टीमों ने एक साथ एक ही समय पर कल 5 जून को ग्राम बंसुलीडीह में योगेश पटेल निवासी ग्राम बंसुलीडीह के गोडाउन में दबिश दी। गोडाउन, बस्ती के अंदर स्थित घर में, बियारे में डीलर के ग्राम पिरदा स्थित मकान में एक साथ छापेमार कार्रवाई की गई। योगेश पटेल से इंडने कंपनी के डीलरशीप के संबंध में दस्तावेज उनके बंसुलीडीह गोदाम में मिले। साथ ही यहां रखे 658 खाली गैस सिलेण्डर,3 छोटा हाथी वाहन में खाली सिलेण्डर 100 नग, 1 पिकअप् वाहन में 50 नग भरा गैस सिलेण्डर व 02 खाली गैस सिलेण्डर सहित कुल 810 नग गैस सिलेण्डर मिला। पुलिस को आरोपी के पुराने मकान ग्राम बंसुलीडीह बस्ती के अन्दर एचपी के 27 नग, भारत कंपनी 5 नग, इंण्डेन कंपनी के 469 नग, 5 किलो. इंडेन कंपनी गैस सिलेण्डर, 51 नग खाली व 5 नग भरा मिलाकर कुल 565 नग खाली और 567 नग खाली गैस सिलेण्डर मिला। इसी तरह आरोपी के ट्रेक्टर गैराज में छापेमारी कार्यवाही के दौरान भारत गैस कंपनी के 16 नग एच.पी. गैस कंपनी 12 नग, इण्डेन कंपनी 500 नग गैस सिलेण्डर और इण्डेन कंपनी के ही कामर्शियल (19 किलो.) 1 नग कुल 529 नग खाली गैस सिलेण्डर मिला। ग्राम पिरदा में ज्ञानदास पटेल के यहां छापेमार कार्यवाही की गई तो वहां भी इण्डेन कंपनी के 20 नग गैस सिलेण्डर मिले। इसमें से 14 नग भरे सिलेण्डर थे व 6 नग खाली था। पुलिस को योगेश पटेल ने अपने बयान में जानकारी दी है कि इण्डेन कम्पनी का डीलरशीप उसके पास है। उज्ज्वला योजना के तहत प्राप्त कार्ड और गैस सिलेण्डर को स्वयं रखकर वह गैस का सिलेण्डर मार्केट में ब्लैक में बेचता था। लोगों को इसकी जानकारी न हो इसीलिए उसने अलग-अलग चार स्थानों पर सिलेण्डरों को रखा था। खाली सिलेण्डरों में खुद ही रिफलिंग करता था। इस प्रकार 200 गांंवों के लगभग 2255 हितग्राहियों के गैस कनेक्शन कार्ड स्वयं रखकर सिलेण्डर ब्लैक में बेचा करता था। इस काम में उसका भाई और एक साथी ज्ञानदास पटेल उसका साथ दे रहा था। तीनों के खिलाफ थाना सरायपाली में आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा 3, 7 के तहत् अपराध पंजीबद्ध किया गया है। पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल कुमार ठाकुर ने बताया कि सम्पूर्ण जिले में स्थित गैंस एजेंसी पर निगाह रखी जा रही है।

24-05-2020
छापामार कार्रवाई में पुलिस ने होटल में 12 जुआरियों को रंगेहाथ पकड़ा, बरामद की राशि

जगदलपुर। शहर स्थित एक होटल में रविवार को पुलिस ने छापामार कार्रवाई करते हुए जुआरियों को पकड़ा है। दरअसल  पुलिस को मुखबिर की सूचना से सूचना मिली की शहर की एक होटल में कुछ जुआरी ताश के पत्तों से जुआ खेल रहे हैं। सूचना पर नगर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में थाना कोतवाली की टीम ने होटल में छापामार मारा। इसमें 12 जुआरी ताश के पत्तों के साथ पैसे का दाव लगाकर जुआ खेलते हुए रंगे हाथ पकड़े गए। जुआरियों से 203160 रुपए भी मौके पर बरामद किए गए। आरोपियों के विरुद्ध थाना कोतवाली जगदलपुर में विभिन्न धाराओं के तहत अपराध पंजीबद्ध किया। सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया।

 

16-05-2020
राइस मिल के गोदाम में बन रहा था हानिकारक पदार्थ, जिला प्रशासन और पुलिस ने की छापामार कार्रवाई

धमतरी। शहर में अवैध गुटखा बनाने का फिर खुलासा हुआ है,जो कि राइस मिल के गोदाम में बनाया जा रहा था। यहां पर पुलिस और जिला प्रशासन की टीम ने छापामार कार्रवाई कर कच्चा माल और मशीनें जब्त किया। जब्त किए गए हानिकारक पदार्थ का मूल्य लाखों का बताया जा रहा है। गौरतलब हो कि शहर में अवैध गुटखा बनाने का खेल लंबे समय से जारी है। इसके उदाहरण पूर्व में भी सामने आ चुके हैं। शनिवार की सुबह फिर एक मामला सामने आया। बताया गया कि नया बस स्टैंड के पीछे एक राइस मिल के गोदाम में अवैध जर्दायुक्त गुटखा बनने की शिकायत थी। जहां जिला व पुलिस प्रशासन की संयुक्त टीम ने छापामार कार्रवाई की और अवैध गुटखा बनाने का जखीरा के साथ मशीनें भी बरामद हुई है। बताया जा रहा है कि राइस मिल संचालक ने गोदाम को किराये से दिया था, उसे इस बारे में कुछ नहीं मालूम है। बहरहाल इस सम्बंध में ड्रग एवं फूड विभाग से चर्चा करने सम्पर्क किया गया मगर सम्पर्क नहीं हो पाया। चूंकि कार्यवाही में पुलिस विभाग की टीम भी थी तो फिर इस सम्बंध में कोतवाली थाना प्रभारी भावेश गौतम से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि गोदाम से कच्चा माल और मशीनें जब्त की गई है, आगे की कार्यवाही ड्रग एवं फूड विभाग कर रहा है।

दो दिन पहले किया गया था गोदाम सील

सूत्रों ने बताया कि गोदाम में गुटखा बनने की खबर पुलिस और प्रशासन की टीम को 2 दिन पहले ही पता चल गई थी। गोदाम मे गुटखा बनाने वाले को बुलाया भी गया था मगर उसके नहीं आने के बाद गोदाम के सामानों को जब्त किया गया है।

किसकी है राइस मिल और उसे किसने लिया था किराये में

मालूम हो कि नया बस स्टैंड के पीछे जिस राइस मिल के गोदाम में गुटखा बन रहा था, वह राइस मिल किसकी है, यह तो फिलहाल स्पष्ट नहीं हुआ है। मगर वहां जो गुटखा बना रहा था उसे लेकर बताया जा रहा कि वह पहले भी नकली गुटखा बनाने के मामले में पकड़ा जा चुका है।

 

16-04-2020
नशीली दवाईयों के साथ दो तस्कर गिरफ्तार, ग्राहक की कर रहे थे तलाश

कोरबा। कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव के लिए जिले मे धारा 144 लागू है। लॉक डाउन की स्थिती में शराब दुकाने भी बंद है। सूचनाएं मिल रही थी कि कुछ नशे के आदी लोग नशा करने के लिए शराब नहीं मिलने पर नशीली दवाईयों का सेवन कर रहे है। इसके संबंध में पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने नशीली दवाओं के तस्करों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करने के निर्देशित किया गया है। निर्देशों के परिपालन में कोतवाली पुलिस ने उक्त सूचना को मुखबीर के माध्यम से पुख्ता किया। पुलिस को मुखबिर स्व सूचना मिली कि दो युवक मोटर सायकल में एक बैग रखे हुए है, जिसमें बड़ी मात्रा में नशीली दवाएं है वे ग्राहक तलाश रहे हैं।

सूचना पर तत्काल वैधानिक कार्यवाही करते हुए पुलिस टीम ने मौके पर छापामार कार्रवाई की। दो युवक मोटर सायकल हीरो होण्डा स्प्लेण्डर प्लस क्रमांक सीजी 12 एन 2026 में मिले, जिनके पास एक बैग बरामद हुआ। आरोपियों से पूछताछ करने पर अपना नाम पता नरेन्द्र भारिया गोपालपुर भाठापारा थाना दरीं कोरबा, कोमल राठौर (लाटा) थाना दरीं कोरबा बताया तथा यह भी बताया कि नशीली  दवाईयाँ ये लोग जांजगीर जिले से लाते है। जिसे कोरबा, दरी, बालको व आसपास के क्षेत्र में खपाते हैं। वैधानिक कार्यवाही करते हुए बैग की तलाशी लिए जाने पर बैग में मनोत्तेजक दवाई के 8 डिब्बे जिनमें कुल 1816 कैप्सूल थे। आरोपियों के कब्जे से बरामद किए गए। जो आरोपियों द्वारा नशीली दवाईयों के संबंध में कोई वैध दस्तावेज प्रस्तुत नहीं करने पर आरोपियों के खिलाफ धारा 22 बी एनडीपीएस एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में ले लिया गया है।

08-04-2020
महुआ विक्रेताओं के जिला प्रशासन ने की छापामार कार्रवाई  

धमतरी। कोरोना लॉकडाउन में राज्य शासन के निर्देश पर कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी धमतरी द्वारा प्रसारित आदेश के अनुपालन में जिले के सभी मदिरा केंद्रों को सीलबंद किया गया है। उक्त स्थिति का फायदा उठाने की मंशा से रामपुर-कोपेडीह में अत्यधिक मात्रा में हाथ भट्टी महुआ शराब के निर्माण की शिकायतें निरन्तर प्राप्त हो रही थी। जिला दण्डाधिकारी के निर्देश पर  राजस्व,पुलिस एवं आबकारी विभाग की संयुक्त टीम ने कार्यवाही करते हुए इन ग्रामों के महुआ विक्रेताओं के यहाँ छापामार कार्रवाई की। ग्राम रामपुर थाना भखारा के विनोद शर्मा से 53 कट्टी एवं ग्राम पचेड़ी के बहुरसिंह साहू के आधिपत्य से 35 कट्टी महुआ प्रत्येक कट्टी में 40 किलो महुआ भरा हुआ, कुल वजनी 35 क्विंटल 20 किलो महुआ जब्त कर वैधानिक कार्यवाही की गई। 

 

30-03-2020
ड्रमों में नीले रंग का घोल बनाकर पैक किए जा रहे थे नकली सैनिटाइजर, खाद्य विभाग की छापामार कार्रवाई

रायपुर। सारी दुनिया के कोरोना से हाहाकार मचा हुआ है। मौत तांडव कर रही और लोग जान बचाने के लिए सब कुछ छोड़कर घरों में दुबके हुए हैं। लेकिन कुछ लालची धन पशु ऐसे में भी मुनाफाखोरी के लिए मिलावट करने से नहीं चूक रहे हैं। ऐसा ही एक घिनौना और इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला पकड़ाया है। रायपुर के खाद्य विभाग ने दलदल सिवनी के एक फैक्ट्री में केमिकल पकड़ा है,जिससे नकली सेनिटाइज़र बनाई जा रही थी। खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम ने छापामार कार्रवाई करते हुए दलदल-सिवनी इलाके में संचालित अवैध फैक्ट्री से 5 हजार लीटर सेनिटाइजर के रॉ मटेरियल बरामद किए है। यहां ड्रमों में नीले रंग का घोल बनाकर नकली सैनिटाइजर पैक किए जा रहे थे। प्लास्टिक बोतलों में नकली स्टीकर लगाकर बाजार में इसे खपाने की तैयारी थी।
मिली जानकारी के अनुसार कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए यह नकली रॉ मटेरियल के माध्यम से सेनिटाइजर बनाने का काम धड़ल्ले से जारी था। फिलहाल विभाग की जांच जारी है। विभाग के अधिकारियों का मानना है कि बाजार में बड़ी मात्रा में तैयार सेनिटाइजर खपाया जा चुका है। टीम ने सैकड़ों लीटर अमानक सेनिटाइजर बनाते वक्त छापा मारा है। इंडो जर्मन बायो साइंस कंपनी के संचालक निलेश गुप्ता द्वारा पैसों के लालच में सेनिटाइजर तैयार किया जा रहा था। खाद्य विभाग के लिए बड़ी कामयाबी मानी जा रही है।

 

20-03-2020
अधिक कीमत पर बेचे जा रहे थे मास्क और सेनेटाइजर, सीएमएचओ ने की कार्रवाई

राजनांदगांव। अधिक कीमत पर मास्क और सेनेटाइजर बेचने की शिकायत मिलने के बाद सीएमएचओ ने टीम के साथ सिनेमा लाइन स्थित पंजाब मेडिकल स्टोर्स में छापामार कार्रवाई की। कार्रवाई के दौरान शिकायत सही पाए जाने पर मास्क और सेनेटाइजर को जब्त किया गया है। कार्रवाई के बाद सीएमएचओ ने कहा कि जहां भी अधिक कीमत में सामान बेचने की शिकायत मिलेगी वहां त्वरित कार्रवाई की जाएगी।  

07-03-2020
12वीं की छात्रा को उड़नदस्ता ने नकल करते पकड़ा, प्रकरण दर्ज

रायपुर। बिलासपुर जिले के रतनपुर स्थित सीतादेवी हायर सेकेंडरी स्कूल नेवसा में बोर्ड परीक्षा नकल करते 12वीं बायलॉजी विषय के पेपर में एक छात्र को उड़नदस्ता ने पकड़ा। परीक्षा में अनुचित समान उपयोग का प्रकरण दर्ज कर लिया गया। ग्राम नेवसा के सीतादेवी हायर सेकेंडरी स्कूल में सुबह 12वीं की परीक्षा चल रही थी। इस दौरान उड़नदस्ता ने छापामार कार्रवाई की। उड़नदस्ता में पवित्र सिंह बेदी सुनीता ध्रुव राकेश शुक्ला और सुनील कैवर्त ने छात्र को उत्तरपुस्तिका के बीच में चिट रखकर नकल करते पकड़ा।

शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तिफरा, शासकीय अंध मूक बधिर विद्यालय तिफरा, बर्जेस कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, सेंट जोसेफ खालसा उधातर माध्यमिक विद्यालय सहित कई स्कूलों में पहुंचे। केंद्राध्यक्ष संजय सालुंके ने प्रकरण दर्ज किया। बोर्ड परीक्षा में जिले का यह पहला मामला है। कलेक्टर डॉ. संजय अलंग ने परीक्षा के दौरान कई केंद्रों का निरीक्षण भी किया।
 

07-03-2020
यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के घर ईडी की छापामार कार्रवाई जारी, मनी लॉन्ड्रिंग का है मामला

नई दिल्ली। नकदी संकट में घिरे यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के आवास समुद्र महल पर शुक्रवार रात प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने छापा मारा। अधिकारियों का कहना है कि उनके खिलाफ यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के संबंध में की गई है। ईडी की टीम ने कपूर से उनके आवास पर पूछताछ भी की। ईडी ने उनके व अन्य के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत मामला दर्ज किया है। अधिकारियों का कहना है कि इस छापे की कार्रवाई का मकसद और साक्ष्यों को जुटाना है। केंद्रीय एजेंसी एक कारपोरेट कंपनी को बैंक द्वारा लोन देने और इसके बदले में पत्नी के बैंक खातों में रिश्वत लेने के संबंध में राणा की भूमिका की जांच कर रही है। कपूर के खिलाफ दर्ज मामले का संबंध डीएचएफएल जांच से भी जुड़ा है। बैंक से डीएचएफएल द्वारा लिया गया लोन एनपीए करार दिया गया था। इसके अलावा कुछ अन्य अनियमितताएं भी एजेंसी की जांच के दायरे में है।

30 दिन के भीतर निकलेगा यस बैंक का समाधान : आरबीआई

रिजर्व बैंक (आरबीआई) गवर्नर शक्तिकांत दास यस बैंक से पैसे की निकासी पर मौद्रिक सीमा लगाए जाने के फैसले का बचाव करते हुए कहा कि संकट में फंसे बैंक की समस्याओं का हल जल्द से जल्द निकाल लिया जाएगा। दास ने कहा कि 30 की सीमा अधिकतम है और इसका समाधान जल्द से जल्द निकाल लिया जाएगा। संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने कहा कि यस बैंक पर फैसला किसी एक इकाई के लिए नहीं बल्कि व्यापक हालात को ध्यान में रखते हुए लिया गया गया है। इसका उद्देश्य भारत के वित्तीय और बैंकिंग सेक्टर में स्थायित्व को बनाए रखना भी है। उन्होंने कहा, मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि बैंकिंग सेक्टर आगे मजबूत और सुरक्षित बना रहेगा। यस बैंक पर कार्रवाई के वक्त पर दास ने कहा कि आरबीआई के अपरिपक्व फैसलों और इसमें लंबा वक्त लेने पर हमेशा ही बहस होती रही है। किसी भी समस्या के बाजार और बैंक आधारित समस्या को हमेशा ही प्राथमिकता दी जाती रही है। उन्होंने कहा, ‘आपको कदम उठाने और प्रयास करने के लिए बैंक प्रबंधन को समय देना होता है। बैंक ने प्रयास किए। जब हमने देखा कि हम इंतजार नहीं कर सकते हैं, तो हमने दखल देने का फैसला किया। मुझे लगता है कि दखल देने का यह सही समय था। मैं आपको भरोसा दिला सकता हूं कि आरबीआई जल्द ही एक योजना लेकर सामने आएगा।

प्रशांत कुमार ने संभाला यस बैंक के प्रशासक का पदभार

प्रशांत कुमार ने शुक्रवार को यस बैंक के प्रशासक का पदभार ग्रहण कर लिया। रिजर्व बैंक ने यस बैंक पर रोक लगाने और उसके निदेशक मंडल को भंग करने के बाद कुमार को इस पद पर नियुक्त किया है।

यस बैंक में जमा हैं भगवान जगन्नाथ के 545 करोड़

आरबीआई द्वारा यस बैंक पर लगाई पाबंदियों ने पुरी स्थित भगवान जगन्नाथ मंदिर के श्रद्धालुओं और पुजारियों की चिंता बढ़ा दी है। दरअसल, इस बैंक में जगन्नाथ मंदिर के 545 करोड़ रुपये की एफडी है। मंदिर के वरिष्ठ सेवक बिनायक दशमोहापात्रा ने कहा, धन निकासी पर पाबंदी से हम भी चिंतित हैं। उन्होंने यस बैंक में मंदिर की इतनी बड़ी रकम जमा करने के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जांच और कार्रवाई की भी मांग की। उन्होंने कहा, भगवान के पैसे निजी बैंक में जमा करना अवैध और अनैतिक भी है। इस संबंध में पुरी के एक थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई है।

06-03-2020
राजधानी में लाखों की नकली एंटीबायोटिक गोलियां जब्त, खाद्य एवं औषधि विभाग की कार्रवाई

रायपुर। राजधानी सहित प्रदेश के अन्य जिलों में नकली दवाइयां सप्लाई करने का मामला सामने आया है। फूड एंड ड्रग कन्ट्रोल ने रायपुर के देवपुरी इलाके में गौतम मेडिसिन में छापामार कार्रवाई की। यहां से बड़ी मात्रा में संदिग्ध एंटीबायोटिक गोलियां बरामद की गई हैं। इसके पूर्व फरवरी में कार्रवाई हुई थी, जो सैम्पल लिए गए थे उनमें काफी खमियां मिलने की बात सामने आई जिसके बाद यह कार्रवाई हुई। खाद्य एवं औषधि नियंत्रक सत्यानारायण राठौर ने कहा कि मामले में नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

28-02-2020
Video : आईटी की रेड पर मुख्यमंत्री का बड़ा बयान - यह कार्रवाई केंद्र के विरोध का नतीजा

रायपुर। प्रदेशभर में हो रही आयकर विभाग की छापामार कार्रवाई ने अब तूल पकड़ लिया है। मुख्यमंत्री निवास में वरिष्ठ मंत्रियो के साथ बैठक करने के बाद भूपेश बघेल राज्यपाल से मुलाकात करने राजभवन पहुंचे। मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि प्रदेश के चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी को भी इस कार्रवाई के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। 36 घंटे बाद भी बिना सूचना के लगातार छापामार कार्रवाई जारी है। मुख्यमंत्री ने इस कार्रवाई को सीधा सीधा राजनैतिक बदले की कार्रवाई कहा है।

कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने मीडिया से चर्चा के दौरान इस कार्रवाई को केंद्र की संघी व्यवस्था कहा। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है। केंद्र का विरोध करना और पूर्व सरकार के कारनामों को उजागर करना भी इस कार्रवाई का एक कारण है।

यह राज्य सरकार को अस्थिर करने की कोशिश है। मुख्यमंत्री और कैबिनेट ने राज्यपाल अनुसुइया उइके से प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से इस मामले पर चर्चा करने का अनुरोध किया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804