GLIBS
27-10-2020
कोरोना प्रोटोकॉल के बीच शहर में कई स्थानों में किया गया रावण दहन

जांजगीर-चांपा। जिले में सोमवार को कई स्थानों पर विजयदशमी का पर्व मनाया गया। इस अवसर पर जांजगीर के हाई स्कूल मैदान में शहर के कुछ नगरवासियों ने एसडीएम से अनुमति लेकर रावण दहन का कार्यक्रम किया गया। कोरोना संक्रमण की वजह से इस वर्ष जिलेवासियों में विजयदशमी पर्व का उत्साह देखने को नहीं मिला। कार्यक्रम में समिति के सदस्यों ने कोविड 19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए 10 फीट के रावण का पुतला बनाया था। समिति के सदस्यों ने विजयदशमी कि परंपरा को बनाए रखने के लिए बच्चों को राम लक्ष्मण बनाकर उनकी झांकी निकली। पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारीयों के उपस्थित में शांति पूर्ण तरीके से रावण के पुतले का दहन किया। रावण दहन के कार्यक्रम में समिति के सदस्यों सहित 50 से भी कम लोग मौजूद थे।

26-10-2020
गाइडलाइन के कारण शहर में रावण दहन का उत्साह रहा फीका

दुर्ग। कोरोना संक्रमण की दहशत रावण दहन पर भारी पड़ गई। अनुशासन के खौफ ने उत्साह को फीका कर दिया है। राजनीकि हलचल भी नहीं देखी गई। कई स्थानों पर रावण दहन ही नहीं किया गया। प्रशासन की गाइड लाइन के अनुसार रावण का कद भी घट कर छोटा कर दिया गया। बीते साल तक 20 से 50 फीट तक रावण बनाया जाता था। इस साल महज 10 फीट तक ही रावण का पुतला बना। इसे सिर्फ समिति के सीमित लोगों की मौजूदगी में दहन किया गया। पंडित रविशंकर शुक्ल स्टेडियम में कई सालों से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा मुख्य अतिथि होते थे। इस साल दुर्ग में भी उत्साह ठंडा रहा है। शहर में राष्ट्रीय पर्व समिति द्वारा आयोजित दशहर उत्सव में शहरी क्षेत्र के साथ ही आसपास के कस्बाई इलाकों से भी लोग बड़ी संख्या में शामिल होते है, लेकिन कोरोना व प्रशासन की गाइडलाइन की वजह से कार्यक्रम फीका रहा। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महापौर धीरज बाकवीवाल थे। इस अवसर पर शंकरलाल ताम्रकार, डा. सतीशचंद्र मिश्रा, आरएन वर्मा, भंवरलाल जैन, राधेश्याम शर्मा, नंदू महोबिया, अनिल ताम्रकार, सुमित वोरा, मनोज ताम्रकार, अलताफ अहमद, चंद्रदीप ताम्रकार, राजेश तंबोली, भोला महोबिया, लक्ष्मीकांत कसार, कैलाश पंडा मौजूद थे। समिति के पदाधिकारियों में रावण निर्माता आनंद तंबोली, राष्ट्रीय बैंडपार्टी अमर केमे, स्वरसंगम लाइट महेश ठाकुर, छत्रपाल सिंह चंदेल, सौरभ ताम्रकार, प्रज्वल ताम्रकार, दिवाकर ताम्रकार, मानस ताम्रकार, जीवनलाल ताम्रकार को सम्मानित किया गया है।

 

25-10-2020
राजधानी के प्राचीन रावणभाठा में कोरोना प्रोटोकॉल से हुआ रावण दहन, मुख्यमंत्री दशहरा उत्सव में हुए शामिल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रविवार को सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति दूधाधारी मठ की ओर से रायपुर के रावणभाठा-टिकरापारा में आयोजित दशहरा उत्सव में शामिल हुए। उन्होंने रावण दहन के बाद भगवान बालाजी के आरती कार्यक्रम में भाग लिया। उन्होंने पूजा-अर्चना कर प्रदेश की समृद्धि और खुशहाली के लिए कामना की। मुख्यमंत्री बघेल ने दशहरा उत्सव में शामिल होने पर खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि दूधाधारी मठ का यह उत्सव छत्तीसगढ़ के सबसे प्राचीन दशहरा उत्सव में माना जाता है। इसके लिए उन्होंने संरक्षक राजेश्री महंत डॉ. रामसुंदरदास और अध्यक्ष मनोज वर्मा सहित पूरे आयोजन समिति की सराहना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि दशहरा का पर्व असत्य पर सत्य की जीत, अंधकार पर प्रकाश की जीत और अधर्म पर धर्म की जीत का पर्व है। यह पर्व हमें अपने अहंकार और बुराई को समाप्त कर अच्छाई और सत्य की राह पर चलने का सीख देता है। जब तक हमारे समाज, आस-पास और स्वयं में जो बुराई है वह समाप्त नहीं होगी, तब तक हम और हमारा समाज आगे नहीं बढ़ पाएगा। इसलिए समाज में अहंकार, बुराई और असत्य के प्रतीक रावण का नाश जरूरी है, तभी हम आगे बढ़ पाएंगे। 

  

मुख्यमंत्री ने कहा कि रावणभाठा में आयोजित दशहरा उत्सव की छत्तीसगढ़ के सबसे प्राचीन दशहरा उत्सव के रूप में विशिष्ट ख्याति और पहचान है। कोरोना संकट के दौर में भी नियमों का पालन करते हुए परंपरागत रूप से दशहरा उत्सव के आयोजन के लिए मुख्यमंत्री ने दूधाधारी मठ और समिति की सराहना की। उन्होंने कहा कि राजधानी रायपुर में नागपुर के भोसले वंश के शासक रघुराव भोसले ने संवत 1610 अर्थात सन 1554 में दूधाधारी मठ की स्थापना की थी। तब से लेकर अब तक यहां दशहरा उत्सव उत्साह के साथ मनाया जाता रहा है। दशहरा उत्सव कार्यक्रम को विधायक बृजमोहन अग्रवाल और नगरपालिक निगम रायपुर के महापौर एजाज ढेबर ने भी संबोधित किया। इस दौरान नगरपालिक निगम रायपुर के सभापति प्रमोद दुबे, पार्षद सतनाम पनाग, पार्षद समीर अख्तर, पार्षद सरिता वर्मा,चंद्रशेखर शुक्ला, प्रभात मिश्रा, सुशील ओझा, पुनीत देवांगन आदि उपस्थित थे।

 

24-10-2020
दशहरा मनाया जाएगा सादगी से, मैदान में 50 से ज्यादा लोग नहीं रहने का आदेश

धमतरी। हर साल की तरह इस साल भी धमतरी शहर में नगर निगम द्वारा दशहरा पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। लेकिन कोरोना संक्रमण के खतरे के कारण सारे कार्यक्रम बहुत सादगी से होंगे। कार्यक्रम स्थल रामबाग मैदान में 50 से ज्यादा लोग नहीं रहेंगे। दहन के लिए बनाए जाने वाले रावण के पुतले की ऊंचाई दस फीट से अधिक नहीं होगी। इसके अलावा घंटेभर से ज्यादा समय तक चलने वाली रामलीला भी इस बार सिर्फ पांच मिनट की ही होगी। कार्यक्रम स्थल पर सीसी कैमरे भी लगेंगे और कोविड गाइडलाइन का सख्ती के साथ पालन किया जाएगा।

रामबाग मैदान के अलावा जहां जहां दशहरा और रावण दहन के कार्यक्रम होते हैं, वहां भी इन्हीं दिशा-निर्देशों का पालन आयोजकों करना पड़ेगा। दशहरा पर्व के आयोजन की तैयारियों जायजा लेने महापौर विजय देवांगन,सभापति अनुराग मसीह,आयुक्त आशीष टिकरिहा अन्य अधिकारियों कर्मचारियों के साथ रामबाग मैदान का निरीक्षण के लिए पहुचे थे। मैदान में गाइडलाइन के अनुरूप की जा रही व्यवस्था को घूम घूमकर देखने के बाद उन्होंने आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। इस दौरान एमआईसी सदस्य राजेश ठाकुर, केंद्र कुमार पेंदरिया, अवैश हाशमी, राजेश पांडे,ईई राजेश पदमवार, एई एसआर सिन्हा,रवि सिन्हा आदि भी मौजूद थे।

 

20-10-2020
बलौदा में नहीं होगा रावण दहन, नगर पंचायत की बैठक में लिया गया फैसला

जांजगीर-चांपा। कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए नगर पंचायत बलौदा में रावण दहन नहीं किये जाने का लिया है। इस संबंध में नगर पंचायत बलौदा में रावण दहन के संबंध में चर्चा के लिए बैठक हुई। डिप्टी कलेक्टर एवं प्रभारी तहसीलदार बलौदा करुण डहरिया ने बैठक मे उपस्थित सदस्यों को कलेक्टर एवं जिला मजस्ट्रेट यशवंत कुमार द्वारा रावण दहन के संबंध में जारी आदेश एवं दिशा-निर्देशों से अवगत कराया। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं सुरक्षात्मक उपायों पर चर्चा की गई। उपस्थित सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से कोरोना वायरस के संक्रमण और जन स्वास्थ्य के मद्देनजर इस वर्ष रावण दहन का कार्यक्रम का आयोजन नही करने का निर्णय लिया। इस संबंध में जन जागरुकता के लिए मुनादी कराने के निर्देश सीएमओ को दिया गया। बैठक में नगर पंचायत अध्यक्ष ललिता पाटले, उपाध्यक्ष राजा कश्यप, वार्ड पार्षद, पूर्व अध्यक्ष, नागरिक, नायब तहसीलदार अतुल वैष्णव,मुख्य नगर पालिका अधिकारी राजेश तिवारी उपस्थित थे।

 

20-10-2020
रावण दहन को लेकर समितियां जुटी तैयारियों में, शासन की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा रावण दहन में

रायपुर। कोरोना संकट काल के बीच राजधानी के रावण भाठा में रावण दहन किया जाएगा। इस संबंध मंगलवार को रावण भाठा मैदान समिति के कार्यकर्ताओं की बैठक हुई। समिति के अध्यक्ष मनोज वर्मा ने बताया की है कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए शासन ने जो गाइडलाइन जारी है उसके अनुसार हम दशहरा पर्व मनाएंगे। इस बार केवल 10 फीट का ही रावण का पुतला बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि पिछले कई वर्षों से रावण भाटा मैदान में रावण दहन किया जा रहा है। लोग यहां दूरदराज से रावण दहन देखने आते थे। इस बार कोरोना वायरस की महामारी को देखते और इसके प्रसार को रोकने के लिए शासन की दी गई गाइडलाइन के अनुसार रावण दहन किया जाएगा।

 

18-10-2020
लौह नगरी बचेली में दशहरा उत्सव-रावण दहन हुआ स्थगित

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले के लौह नगरी बचेली में कोरोना संक्रमण के कारण इस वर्ष दशहरे में रावण दहन का आयोजन नहीं किया जाएगा। इस वर्ष नवरात्रि में कोरोना संक्रमण के कारण कई स्थानों में दुर्गा प्रतिमा स्थापित नहीं की जा रही है। छत्तीसगढ़ सांस्कृतिक एवं क्रीड़ा समिति ने दशहरा उत्सव एवं रावण दहन स्थगित कर दिया है। गौरबतल है कि नगर में नवरात्रि उत्सव को लेकर अच्छा खासा माहौल देखने को मिलता था। बचेली नगर में रावण दहन एवं मेले का आनंद लेने अन्य जिलों से भी लोग शिरकत करने आते थे। आकर्षक दुकाने एवं खाने पीने की विभिन्न प्रकार के स्टाल लगाए जाते थे। लेकिन इस बार आयोजन नहीं होने को लोगों में निराशा है। इसी कड़ी में  बचेली नगर पालिका परिषद के सभा कक्ष में एक बैठक की गई, जिसमें दंतेवाड़ा कलेक्टर दीपक सोनी के दिशा निर्देश अनुसार कोविड-19 को देखते हुए इस वर्ष दशहरा उत्सव नहीं मनाने का निर्णय लिया है। बैठक में मुख्य रूप से नगर पालिका अध्यक्ष पूजा साव, उपाध्यक्ष उस्मान खान, नगर पालिका अधिकारी आई एल पटेल, इंजीनियर प्रवीण साहू एवं छत्तीसगढ़ सांस्कृतिक एवं कीड़ा समिति के सदस्य उपस्थित थे।

18-10-2019
साक्षरता मिनी स्टेडियम का नहीं हो रहा रखरखाव, नगरवासियों ने की सतत निगरानी की मांग

लखनपुर। लखनपुर नगर का एकमात्र साक्षरता मिनी स्टेडियम रखरखाव के लिए जूझ  रहा है। यहां रावण दहन के बाद से अब तक रावण के अवशेष हटाये नहीं गए हैं। दशहरे के बाद नगर पंचायत सफाई अमला द्वारा अब तक मैदान की सफाई नहीं की गई है। ज्ञात हो कि सुबह-सुबह अपनी सेहत का ख्याल रखने नगर के लोग इस मैदान पर आते हैं। मैदान के दो प्रवेश द्वार हैं। नगर पंचायत कार्यालय की ओर बनाये गए प्रवेश द्वार से रोज असामाजिक तत्व तथा मवेशी आकर बैठ जाते हैं तथा मैदान को गंदा कर देते हैं। इससे सुबह आने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। सुबह युवा क्रिकेट क्लब के खिलाडिय़ों को भी कचरे को हटाने  के लिए मेहनत करनी पड़ती है। युवा क्रिकेट क्लब के खिलाडिय़ों व नगरवासियों ने बड़े प्रवेश द्वार को बंद करने तथा मुख्यमार्ग की ओर प्रवेश द्वार पर गेट लगवाए जाने की मांग की है ताकि यहां आने जाने-वाले असामाजिक तत्वों व मवेशियों पर लगाम लगाई जा सके। कई सारे महत्वपूर्ण आयोजन इस मैदान पर लंबे समय से सम्पन्न किए जाते रहे हैं जिसके बाद इसके रखरखाव की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है। फिलहाल मैदान को साफ कर इसकी सतत निगरानी की मांग नगरवासियों ने की है। 

 

11-10-2019
युवक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, कारण अज्ञात

पाली। शुक्रवार तड़के सुबह पाली वन विभाग के कार्यालय के पीछे खेत में कोसम पेड़ पर एक युवक की फांसी पर लटकी लाश लोगों द्वारा देखी गई। शव पाली निवासी प्रदीप प्रजापति उर्फ विक्कू उम्र 20 वर्ष की थी। अपने घर से महज 15 से 20 मीटर की दूरी पर युवक फांसी पर लटका हुआ था। इसकी जानकारी गांव वालों ने उसके पिता और पाली थाने में दी। युवक ने किन कारणों से आत्महत्या की इसका खुलासा अभी नहीं हो पाया है। युवक पाली स्थित बजरंग फर्नीचर में कार्य करता था जो कि रक्षाबंधन के बाद काम छोड़ चुका था। युवक के पिता के अनुसार युवक ने अंबिकापुर में कार्य करने की जानकारी अपने पिता को दी थी। काफी दिनों से युवक को पाली में नहीं देखा गया था। अभी कुछ दिन पहले प्रदीप पाली में देखा गया। युवक को आखरी बार कल रात को रावण दहन के कार्यक्रम में देखा गया था। फिलहाल युवक के फांसी लगाने का कारण अज्ञात है। प्रत्यक्ष दर्शियों ने बताया कि युवक का मोबाइल वही पेड़ के पास ही पड़ा हुआ था जिसमे बार-बार फोनआ रहा था। पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की जांच में जुट गयी है।  

 

09-10-2019
विजयादशमी पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक : स्वामी परमानंद परमात्मा महाराज

रामानुजगंज। नगर में विजयादशमी के दिन नगर के सभी दुर्गा पंडालों के द्वारा दुर्गा मूर्ति का विसर्जन किया गया। इस दौरान नगरवासियों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। वहीं देर शाम सागर फाउंडेशन के तत्वधान में रावण दहन का कार्यक्रम हाईस्कूल मैदान में आयोजित किया गया। इसमें मुख्यअतिथि के रूप में परमात्मानंद महाराज उपस्थित थे। रावण दहन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्वामी परमानंद परमात्मा महाराज ने कहा कि विजयादशमी पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। यह राम का देश है और हम सभी को भगवान राम के आदर्शों का अनुसरण करने की आवश्यकता है। विगत कई वर्षों इस रावण दहन कार्यक्रम में आ रहा हूं। यहां आने पर मुझे आप लोगों से जो प्यार मिलता है उससे मैं अभिभूत हूं। नगर पंचायत अध्यक्ष एवं सागर फाउंडेशन के मुखिया रमन अग्रवाल ने नगरवासियों को विजयादशमी पर्व की शुभकामनाएं दी।

 

09-10-2019
गरबा, भंडारा, सांस्कृतिक कार्यक्रमों और रावण दहन के साथ मनाया गया दशहरा पर्व

उदयपुर। प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी शहर में शारदीय नवरात्र पर्व धूमधाम से मनाया गया। मां जगत जननी के विविध रूपों की पूर्ण भक्तिभाव से पूरे नौ दिनों तक पूजा-अर्चना की गई। नगरवासियों ने अनेक स्थानों पर भव्य पंडाल बनाकर मां जगत जननी की जीवंत प्रतिमा की स्थापना कर सुबह-शाम आराधना की। जगह-जगह भंडारे का आयोजन किया गया। लगातार नौ दिनों तक सार्वजनिक दुर्गा पूजा समिति द्वारा गरबा का कार्यक्रम भी  आयोजित किया गया था जिसमें आसपास की महिलाओं बच्चियों और पुरुषों ने भाग लिया। इसके अतिरिक्त  बच्चों के लिए फैंसी ड्रेस, कुर्सी दौड़, डांस प्रतियोगिता  का आयोजन भी  किया गया। विजयी प्रतिभागियों को समिति की ओर से  उपहार दिए गए। पूरे नौ दिनों में उदयपुर नगर का वातावरण माता के रंगों में रंगा रहा। मंगलवार को हजारों लोगों की उपस्थिति में  भव्य रावण दहन का कार्यक्रम भी आयोजित किया गया। कार्यक्रम के सफल आयोजन में सार्वजनिक दुर्गा पूजा समिति के पदाधिकारियों का सराहनीय योगदान रहा।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804