GLIBS
09-09-2020
लॉक डाउन को लेकर राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना,कहा-खत्म किए रोजगार और छोटे उद्योग

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर कोरोना, लॉक डाउन को लेकर केंद्र पर निशाना साधा है। राहुल ने कहा कि वादा था 21 दिन में कोरोना ख़त्म करने का लेकिन खत्म किए करोड़ों रोजगार और छोटे उद्योग। राहुल गांधी ने एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि अचानक किया गया लॉकडाउन असंगठित वर्ग के लिए मृत्युदंड जैसा साबित हुआ। वादा था 21 दिन में कोरोना ख़त्म करने का, लेकिन ख़त्म किए करोड़ों रोज़गार और छोटे उद्योग। राहुल गांधी द्वारा साझा वीडियो के अनुसार 97 लाख प्रवासी मजदूर लॉकडाउन के कारण घर लौटे हैं। इसके साथ ही 7 लाख से अधिक छोटी दुकानें बंद हो सकती है। हर तीन में से एक एमएसई बंद हुई है। जबकि लॉकडाउन में 383 लोगों की मौत हुई है। वहीं 2 करोड़ 7 लाख युवा बेरोजगार हो गए हैं। वीडियो के कांग्रेस ने मांग की है कि लॉकडाउन में गरीबों के लिए न्याय योजना केंद्र की मोदी सरकार लागू करें।

 

06-09-2020
राहुल गांधी ने कहा, जीएसटी पूरी तरह से विफल,छोटे और मझोले व्यवसायों पर हमला

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के प्रति हमलावर रुख जारी रखते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जीएसएटी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना की है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह अर्थव्यवस्था के असंगठित क्षेत्र के लिए दूसरा बड़ा आक्रमण है और इसके दोषपूर्ण कार्यान्वयन ने अर्थव्यवस्था का सर्वनाश कर दिया। सीरीज के तीसरे वीडियो में राहुल गांधी ने कहा कि जीएसटी यूपीए सरकार का आइडिया था। एक टैक्स, सरल टैक्स और साधारण, लेकिन एनडीए ने इसे जटिल बनाकर रख दिया। राहुल ने कहा, "एनडीए सरकार द्वारा लागू जीएसटी में चार अलग-अलग टैक्स हैं। 28 प्रतिशत तक टैक्स है और बड़ा जटिल है। समझने को बहुत मुश्किल टैक्स है।" उन्होंने कहा कि जो छोटे और मझोले व्यापार वाले हैं,वो इस टैक्स को भर ही नहीं सकते जबकि बड़ी कंपनियां बड़ी आसानी से भर सकती हैं, वे पांच-10 अकाउंटेंट लगा सकती हैं।

राहुल गांधी ने सवालिया लहजे में कहा, "देश में ये चार अलग-अलग टैक्स रेट क्यों हैं। ये ऐसा इसिलए है क्योंकि सरकार चाहती है कि जिसकी जीएसटी तक पहुंच हो वो इसे आसानी से बदल पाए और जिसकी पहुंच न हो वो जीएसटी के बारे में कुछ न कर पाए। हिंदुस्तान के 15-20 उद्योगपतियों की पहुंच है तो वे जो भी टैक्स का कानून वे बदलना चाहते हैं तो वे इस जीएसटी में आसानी से बदल सकते हैं।" राहुल ने कहा, "यह जीएसटी पूरी तरह से विफल है, यह गरीबों पर और छोटे व मझोले व्यवसायों पर हमला है। जीएसटी एक कर प्रणाली नहीं है, यह भारत के गरीबों पर आक्रमण है। छोटे दुकानदारों, छोटे और मझोले व्यवसायों, किसानों और मजदूरों पर आक्रमण है।" कांग्रेस नेता ने कहा कि हमें इस आक्रमण को पहचानना होगा और मिलकर इसके खिलाफ हम सबको खड़े होना होगा। उन्होंने कहा, "एनडीए की जीएसटी का नतीजा क्या है? कि आज हिंदुस्तान की सरकार राज्यों को जीएसटी का पैसा ही नहीं दे पा रही है। प्रदेश कर्मचारियों को राज्य पैसा नहीं दे पा रहे हैं।"

 

01-09-2020
नोटबंदी से शुरू हुई थी अर्थव्यवस्था की बर्बादी, फिर लगा दी केंद्र सरकार ने गलत नीतियों की लाइन : राहुल गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की गिरावट के बाद केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था की बर्बादी नोटबंदी से शुरू हुई थी तब से सरकार ने एक के बाद एक गलत नीतियों की लाइन लगा दी। बता दें कि सरकार की ओर से सोमवार को जारी आंकड़े के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2020-21 की अप्रैल-जून तिमाही में अथर्व्यवस्था में 23.9 प्रतिशत की अब तक की सबसे बड़ी तिमाही गिरावट आई है। इस दौरान कृषि को छोड़कर विनिर्माण, निर्माण और सेवा समेत सभी क्षेत्रों का प्रदर्शन खराब रहा है। सबसे अधिक प्रभाव निर्माण उद्योग पर पड़ा है। जो 50 प्रतिशत से भी अधिक गिरा है।राहुल गांधी ने ट्विटर पर जीडीपी के -23.9 होने पर केंद्र की नीतियों को लेकर लिखा, "देश की अर्थव्यवस्था की बर्बादी नोटबंदी से शुरू हुई थी तब से सरकार ने एक के बाद एक गलत नीतियों की लाइन लगा दी।"

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) के आंकड़े के अनुसार सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में इससे पूर्व वर्ष 2019-20 की इसी तिमाही में 5.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिये 25 मार्च से पूरे देश में ‘लॉकडाउन’ (बंद) लगाया था। इसका असर अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों पर पड़ा है। विनिर्माण क्षेत्र में सकल मूल्य वर्धन (जीवीए) में 2020-21 की पहली तिमाही में 39.3 प्रतिशत की गिरावट आयी जबकि एक साल पहले इसी तिमाही में इसमें 3 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। हालांकि कृषि क्षेत्र में इस दौरान 3.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई। एक साल पहले 2019-20 की पहली तिमाही में 3 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। 

 

31-08-2020
 मोदी सरकार पर राहुल गांधी ने बोला हमला, कहा- भारतीय अर्थव्यवस्था 40 सालों में पहली बार भारी मंदी में

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं सांसद राहुल गांधी ने एक वीडियो में देश की अर्थव्यवस्था के बारे में बात करते हुए मौजूदा सरकार पर जमकर भड़ास निकाली है। राहुल गांधी ने वीडियो में अर्थव्यवस्था के बारे में बात करते हुए कहा कि, 'जो आर्थिक त्रासदी देश झेल रहा है, उस दुर्भाग्यपूर्ण सच्चाई की आज पुष्टि हो जाएगी। भारतीय अर्थव्यवस्था 40 वर्षों में पहली बार भारी मंदी में है। असत्याग्रही इसका दोष ईश्वर को दे रहे हैं।' राहुल गांधी द्वारा जारी किए गए इस वीडियो में कहा कि'बीजेपी की सरकार ने असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण किया है, और आपको गुलाम बनाने की कोशिश की जा रही है। 2008 में जबरदस्त आर्थिक तूफान पूरी दुनिया में आया। अमेरिका, यूरोप के बैंक गिर गए लेकिन इंडिया को कुछ नहीं हुआ। राहुल गांधी ने कहा कि उस वक्त यूपीए की सरकार थी और मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलने गया और पूछा की पूरी दुनिया में आर्थिक नुकसान हुआ है लेकिन इंडिया में क्यों नहीं हुआ? प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा राहुल अगर हिंदुस्तान के अर्थव्यवस्था को समझना चाहते हो तो यह समझना होगा कि भारत में दो अर्थव्यवस्था है।

पहली असंगठित अर्थव्यवस्था और दूसरी संगठित अर्थव्यवस्था। संगठित अर्थव्यवस्था में बड़ी कंपनिया आती हैं, वहीं असंगठित अर्थव्यवस्था में किसान, मजदूर, मीडिल दुकानदार इत्यादि आते हैं। राहुल गांधी ने बताया कि मनमोहन सिंह ने उस वक्त बताया कि जिस दिन तक भारत की असंगठित अर्थव्यवस्था मजबूत है, उस दिन तक हिंदुस्तान को कोई भी आर्थिक नुकसान छू नहीं सकता है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि मौजूदा समय में बीजेपी की तीन नीतियों से असंगठित अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा है। इसमें से उन्होंने बताया कि पहला नोटबंदी दूसरा जीएसटी और तीसरा लॉकडाउन है। इसके अलावा उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री  को सरकार चलाने के लिए मीडिया की जरूरत है, मार्केटिंग की जरूरत है। मीडिया-मार्केटिंग 15-20 लोग करते हैं। इनफॉर्मल सेक्टर में लाखों करोड़ रुपए हैं। इस सेक्टर को तोड़कर ये लोग पैसा लेना चाहते हैं। इसका नतीजा ये होगा कि हिंदुस्तान रोजगार पैदा नहीं कर पाएगा, क्योंकि इनफॉर्मल सेक्टर 90% से ज्यादा रोजगार देता है।'

 

28-08-2020
51 एकड़ में बनेगा नया विधानसभा भवन, 29 अगस्त को सोनिया और राहुल गांधी करेंगे भूमिपूजन

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नए विधानसभा भवन का भूमिपूजन 29 अगस्त को दोपहर 12 बजे सांसद  सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी द्वारा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया जाएगा। छत्तीसगढ़ के नवा रायपुर अटल नगर में विधानसभा का नवीन भवन बनेगा। भूमिपूजन कार्यक्रम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू, संसदीय कार्य मंत्री  रविन्द्र चौबे, विधानसभा के उपाध्यक्ष मनोज मंडावी सहित मंत्रियों, सांसदों, संसदीय सचिवों और विधायकों की गरिमामय उपस्थिति में निर्माण स्थल पर संपन्न होगा। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन का निर्माण महानदी एवं इन्द्रावती भवन के मध्य के पीछे 51 एकड़ भूमि पर किया जाएगा। नवीन भवन 52 हजार 497 वर्ग मीटर में होगा। भवन में विधायकों की बैठक क्षमता के अनुरूप सदन का निर्माण एवं अध्यक्षीय दीर्घा, अधिकारी दीर्घा, प्रतिष्ठित दर्शक दीर्घा, पत्रकार दीर्घा एवं दर्शक दीर्घा का निर्माण किया जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री एवं मंत्रियों, नेता प्रतिपक्ष एवं उपाध्यक्ष और मुख्य सचिव तथा विधानसभा के प्रमुख सचिव, सचिव एवं अन्य सचिव के लिए कक्ष, मीटिंग हॉल एवं स्टाफ कक्षों का निर्माण किया जाएगा। नवीन भवन में विभिन्न समिति कक्षों का निर्माण, पुस्तकालय, एलोपैथिक, होम्योपैथिक एवं आयुर्वेदिक औषधालय, पोस्ट ऑफिस, रेल्वे रिजर्वेशन काऊंटर एवं बैंक के लिए भी कक्षों का निर्माण होगा। विधानसभा के चारों ओर सड़क निर्माण, वृक्षारोपण सहित सौन्दर्यीकरण का कार्य किया जाएगा।

24-08-2020
सीडब्ल्यूसी की बैठक समाप्त, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगी सोनिया गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस में अध्यक्ष पद को लेकर दिन भर चला सियासी ड्रामा आखिरकार समाप्त हो गया। सुबह से चल रही कांग्रेस पार्टी की सीडब्लूसी की बैठक 7 घंटे बाद समाप्त हो गई है। कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में फैसला लिया गया है कि फिलहाल सोनिया गांधी फिलहाल पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगी।सीडब्ल्यूसी में इस फैसले पर रजामंदी हुई है कि सोनिया गांधी अगले 6 माह तक के लिए पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालती रहेंगी। इसी दौरान पार्टी को अगला अध्यक्ष भी चुनना होगा। बता दें कि कांग्रेस में नेतृत्व संकट के बीच सोमवार को कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक हुई थी। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सोमवार को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में पद छोड़ने की पेशकश की और कहा कि सीडब्ल्यूसी नया अध्यक्ष चुनने के लिए प्रक्रिया आरंभ करे।

 कांग्रेस के पार्टी नेतृत्व को लेकर सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले नेताओं ने सीडब्ल्यूसी में कहा कि संगठन की बेहतरी के लिए कुछ चिंताएं थीं, उन्हें बताने के लिए पत्र लिखा था। सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में पूरा विश्वास रखें। अंबिका सोनी ने कहा कि पार्टी के नेतृत्व को लेकर सोनिया गांधी को पत्र लिखने वालों के खिलाफ पार्टी संविधान के तहत कार्रवाई की जा सकती है। जीएन आज़ाद और आनंद शर्मा ने कहा कि उन्होंने सीमा में रहकर ही चिंताएं व्यक्त की अगर फिर भी किसी को लगता है कि हमने अनुशासन भंग किया है तो कार्रवाई की जा सकती है।

24-08-2020
बढ़ती बेरोजगार को लेकर राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कही यह बात...

नई दिल्ली। कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक और अध्यक्ष पद को लेकर मचे बवाल के बीच राहुल गांधी ने एक बार फिर से बढ़ती बेरोजगारी को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता ने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि 'लिखा कि एक नौकरी पर 1000 बेरोजगार हैं, क्या कर दिया देश का हाल'राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में एक रिपोर्ट का हवाला दिया है, जिसमें यह दावा किया गया है कि मोदी सरकार की ओर से लॉन्च आत्मनिर्भर स्किल्ड इंप्लॉय इंप्लॉयर मैपिंग (ASEEM) पर पिछले कुछ वक्त में ही करीब 7 लाख लोगों ने नौकरी मांगी थी,लेकिन इनमें से 700 के करीब लोगों को ही नौकरी मिल पाई। बता दें, इससे पहले राहुल गांधी ने कहा था कि मैंने सरकार को पहले ही चेताया था लेकिन उस समय मेरा मजाक उड़ाया गया।

 

24-08-2020
नरेन्द्र मोदी कांग्रेस से नहीं बल्कि गांधी परिवार के मजबूत नेतृत्व क्षमता से डरते हैं : विकास उपाध्याय

रायपुर। दिल्ली में कांग्रेस के नए अध्यक्ष चुने जाने की अटकलों और जारी के बीच संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस ली। विकास ने गांधी परिवार के हाथों ही नेतृत्व सौंपे जाने की वकालत करते हुए कहा है कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सार्वजनिक जगहों से लेकर कई मौकों पर कहते हैं कि, वो कांग्रेस मुक्त भारत चाहते हैं, दरअसल ऐसा नहीं, वे असल में गांधी परिवार मुक्त कांग्रेस की बात करते हैं। इस बात को कांग्रेस के एक-एक कार्यकर्ता व पार्टी के नेताओं को समझ जाना चाहिए। मोदी कांग्रेस से नहीं बल्कि ज्यादा गांधी परिवार के मजबूत नेतृत्व क्षमता से डरते हैं।

विकास उपाध्याय ने कहा कि, कांग्रेस पार्टी को राहुल गांधी में उम्मीद नजर आती है ,क्योंकि वो वास्तव में नरेंद्र मोदी का एक विकल्प पेश करते हैं। मोदी की हर नीति को राहुल गांधी चुनौती देते नजर आते हैं। पिछले कुछ वर्षो में यदि विभिन्न राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव कि स्थति के बारे में भी यदि ध्यान दिया जाए तो, गुजरात समेत मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब, कर्नाटक, मणिपुर, पांडिचेरी और छत्तीसगढ़ में पार्टी ने मजबूत स्थति कायम की। इसमें गुजरात में तो राहुल गांधी के ताबड़तोड़ प्रचार के चलते लगभग कांग्रेस पार्टी का बराबरी का मुकाबला रहा है। इन चुनावों में भी मतदाताओं ने राहुल गांधी के चेहरे को सामने में रख मतदान किया था, इससे इनकार नहीं किया जा सकता।

विकास उपाध्याय ने कहा कि, बीजेपी एक चुनौती है कहना गलत है। ये भी हमें नहीं भूलना चाहिए कि, पिछले विधानसभा चुनाव में दिल्ली और झारखंड में बीजेपी की हार भी हुई। इसलिए यह बात नहीं है कि, कांग्रेस या फिर विपक्ष बीजेपी को टक्कर नहीं दे सकते। या फिर उसका विकल्प नहीं बन सकते। राहुल गांधी एक मात्र नेता हैं, जो इसके वास्तविकता का लगातार खुलासा कर सामने आ रहे हैं। इसीलिए मोदी को भय है तो बस इस गांधी परिवार से, जिसे कांग्रेस को भी असली ताकत के रूप में अख्तियार करना चाहिए।

24-08-2020
कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में चर्चा जारी, प्रियंका ने नबी तो राहुल ने सिब्बल को घेरा...

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक की चर्चा जारी है। पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बैठक में सदस्यों से कहा है कि उन्हें अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी से मुक्त कर दें और पार्टी को संकट से उबारने के लिए प्रयास करें। साथ ही बैठक में सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी को लेकर चर्चा जारी है। कई वरिष्ठ नेताओं ने इसको लेकर नाराजगी जाहिर की है। बैठक से पहले पार्टी मुख्यालय के बाहर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी की और गांधी परिवार से ही किसी को अध्यक्ष बनाने की मांग की। 

कार्यसमिति की बैठक में कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुलाम नबी आजाद के बयान पर कहा है कि आप जो कह रहे हैं वह चिट्ठी में लिखी बातों से बिल्कुल अलग है। कार्यसमिति की बैठक में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने राहुल गांधी के उस आरोप का जवाब दिया। जिसमें उन्होंने बीजेपी की मदद करने का आरोप लगया। सिब्बल ने कहा, ''राजस्थान उच्च न्यायालय में कांग्रेस पार्टी का बचाव किया। भाजपा सरकार को गिराने के लिए मणिपुर में पार्टी का बचाव। पिछले 30 सालों ने कभी भी किसी मुद्दे पर बीजेपी के पक्ष में बयान नहीं दिया। फिर भी "हम भाजपा से मिले हुए हैं!'' हालांकि कि आजाद ने जवाब देते समय राहुल गांधी का नाम नहीं लिया। कार्यसमिति की बैठक में गुलाम नबी आज़ाद ने पत्र लिखने के कारण बताए साथ ही इस्तीफे की भी पेशकश की। गुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि वह इस्तीफा दे देंगे अगर वह किसी भी तरह से भी भाजपा की मदद कर रहे थे या दूसरे के इशारे पर ऐसा कर रहे थे।

23-08-2020
Breaking: भूपेश बघेल ने राहुल गांधी को लिखा पत्र, पुन: कांग्रेस का नेतृत्व करने किया अनुरोध 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को राहुल गांधी को पत्र लिखा है।  मुख्यमंत्री बघेल ने पुन: कांग्रेस का नेतृत्व करने का आग्रह किया है।  मुख्यमंत्री बघेल ने कहा है कि, असहमति के स्वरों के बीच अविचलित रहते हुए देश को नई दिशा दिखाएं और कांग्रेस का नेतृत्व पुन: संभालें। हमें पूर्ण आशा है कि, आपके ओजस्वी नेतृत्व में कांग्रेस पुन: नई ऊंचाइयों को स्पर्श करेगी। देशवासियों के समक्ष उत्पन्न संकट और चुनौतियों पर विजय प्राप्त की जा सकेगी।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804