GLIBS
25-03-2021
निजी स्कूलों ने शासन का आदेश मानने से किया इंकार, कहा- बिना फीस नहीं देंगे जनरल प्रमोशन

रायपुर। बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए छत्तीसगढ़ सरकार ने बोर्ड परीक्षाओं को छोड़कर अन्य सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन देने का आदेश जारी किया है। यह आदेश शासकीय स्कूलों के साथ निजी स्कूलों के लिए भी है। लेकिन निजी स्कूलों ने शासन के इस आदेश का न केवल विरोध कर रहे है, बल्कि फरमान भी जारी कर दिया है कि साल भर की फीस का भुगतान करने के बाद ही बच्चों को जनरल प्रमोशन देंगे। शासन के जनरल प्रमोशन आदेश जारी करने से जहां बच्चों के पालकों में खुशी की लहर देखी जा रही थी, वहीं निजी स्कूलों द्वारा फरमान जारी होने के बाद उनकी खुशी निजी स्कूलों और शिक्षा विभाग के प्रति आक्रोश में तब्दील हो गई है। छत्तीसगढ़ में कोरोना काल में निजी स्कूलों द्वारा जिस तरह से मनमानी की जा रही है उससे पूरे प्रदेश में पालकों में भारी आक्रोश है। शासन के आदेश के बावजूद निजी स्कूल लगातार पालकों पर सालभर की फीस का भुगतान करने दबाव बना रहे है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले फिर से तेजी से बढ़ने लगे है। ऐसी स्थिति में लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए राज्य शासन ने फिर से प्रदेशभर के स्कूल, कॉलेजों व आंगनबाड़ी केन्द्रों को बंद रखने का निर्णय लिया है।

 

27-02-2021
प्रियंका फ्रेंड्स सोशल वेलफेयर सोसायटी ने समाजसेवा के साथ देश सेवा का लिया संकल्प

रायपुर। राजधानी के विद्यार्थियों ने प्रियंका फ्रेंड्स सोशल वेलफेयर सोसायटी, छत्तीसगढ़ स्तर पर बनाई हैं, जिसका पंजीयन क्रमांक 122202034775 है। स्कूल- कॉलेज में पढ़ने वाले ये विद्यार्थी इस संस्था के माध्यम से प्रदेश स्तर पर समाजसेवा के साथ देश सेवा करने का संकल्प लेकर कार्य कर रहे हैं। बिना किसी सरकारी मदद के ये अपने जेब खर्च की राशि से हर माह जमा कर जरूरतमंदों- गरीबों, असहाय, मरीजों की मदद करते आ रहे हैं। पत्रवार्ता में प्रियंका फ्रेंड्स सोशल वेलफेयर सोसायटी के संरक्षक डॉ. हितेश दीवान, भूपेंद्र  साहू, अध्यक्ष प्रियंका वैष्णव, सचिव सरिता वैष्णव, मीडिया प्रभारी गंगा साहू ने बताया कि अगस्त 2019 से संस्था ने अपना काम शुरू किया है। कोपलवाणी में बच्चों के संग फ्रेंड्सशिप डे मनाने के साथ ‘पुत्री दिवस’ पर डॉ. भीमराव अंबेडकर हॉस्पिटल में मरीजों को फल वितरण किया। इसके बाद प्रदेश सरकार की विभिन्न जन जागरूकता कार्यक्रमों का प्रचार करने जैसे, ‘नो - प्लास्टिक ’ ‘पर्यावरण संरक्षण’, ‘जल है तो कल है’, ‘भ्रूण  हत्या’, ‘टैफिक नियमों का पालन करने’, ‘दहेज प्रताड़ना’, ‘प्रदूषण’, ‘स्वास्थ संबंधी’, ‘नशा मुक्ति’ आदि पर कार्यक्रम करते हैं। गरीब युवतियों- महिलाओं को स्वरोजगार करने सिलाई, बुनाई - कढ़ाई, हैण्डीक्राफ्ट, कुकिंग, बड़ी - पापड़, व्यंजन आदि बनाने का प्रसिक्षण दिया जा रहा है। जगह- जगह नुक्कड़ नाटक, कपड़े का थैला वितरण कार्य आज भी कर रहे हैं।

मार्च 2020 में कोरना संक्रमण के दौरान लॉक डाउन के दौरान एक ओर जहां गरीबों को राशन, मॉस्क सहित जरूरत का सामान वितरण किया वहीं स्मार्ट सिटी लिमिटेड, छत्तीसगढ़ शासन को लगभग 1000 मॉस्क संस्था के माध्यम से छात्राओं ने सिलकर दिए। साथ ही नुक्कड़ नाटक कर लोगों को कोरोना से बचने, मॉस्क पहनने, साबून से हाथ धोने, सोशल डिस्टेंस का पालन करने, सैनिटाइजर का इस्तेमाल आदि विस्तार से बताया गया। इसके अलावा संस्था के सदस्य रात में जरूरतमदों को ठंड से बचाने गर्म कपड़े और कंबल का वितरण कर रहे हैं। इसके अलावा शहर के हॉस्पिटलों में जाकर जरूरतमंद मरीजों के परिजनों की हर सम्भव मदद करते हैं।

25-12-2020
ऑनलाइन क्लास से वंचित करने या अधिक शुल्क वसूलने पर होगी कार्रवाई : अपर कलेक्टर

रायपुर/ कोरबा। जिले के निजी विद्यालयों में पढ़ने वाले किसी भी विद्यार्थी को ऑनलाइन क्लासेस से वंचित नहीं किया जा सकेगा। इसके साथ ही निजी विद्यालय कोरोना काल के लिए विद्यार्थियों से केवल शिक्षण शुल्क ही ले सकेंगे। अधिक शुल्क वसूलने या ऑनलाइन क्लासेस से वंचित करने पर स्कूल प्रबंधनों के विरूद्ध कार्रवाई होगी। जिला फीस समिति के सदस्यों और जिले के अशासकीय विद्यालयों के प्रबंधकों, अभिभावकों और नोडल अधिकारियों की महत्वपूर्ण बैठक कलेक्टर सभा कक्ष में हुई।अपर कलेक्टर प्रियंका महोबिया ने बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में उच्च न्यायालय बिलासपुर के निर्णय अनुसार कोविड काल के लिए केवल शिक्षण शुल्क जमा करने की जानकारी अपर कलेक्टर ने दी। बैठक में बताया गया कि जिले में शुल्क में रियायत के लिए 723 आवेदन प्राप्त हुए थे। इनमें से निजी विद्यालयों ने 702 पालकों को परीक्षण के बाद शुल्क मे रियायत दी है। बैठक में स्कूलों और नोडल अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि ऐसे पालक जिन्हें एक मुश्त शुल्क जमा करने में कठिनाई हो या शुल्क में रियायत चाहते होंए उनके आवेदनों पर सहानुभूति पूर्वक विचार कर निर्णय करें।बैठक में पालकों से भी यह आग्रह किया गया कि सक्षम पालक निर्धारित शुल्क जमा करें ताकि विद्यालय में पदस्थ शिक्षक और अन्य कर्मचारियों को वेतन देने में संस्था को परेशानी ना हो।

बैठक में यह भी बताया गया कि उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार कोई भी निजी विद्यालय अपने कार्यरत किसी शिक्षक या कर्मचारी का वेतन ना तो रोकेगा ना ही कम करेगा।बैठक में अपर कलेक्टर ने सभी निजी संस्थाओं को सख्त हिदायत दी की किसी भी कारण से किसी भी विद्यार्थी को ऑनलाइन पढ़ाई से वंचित ना करें। यदि कोई विद्यार्थी ऑनलाइन नहीं जुड़ पा रहा है तो यह संस्था को दायित्व होगा कि वह विद्यार्थी को अन्य माध्यम से शिक्षण सामग्री प्रदान करें और उसे पढ़ाई से जोडे़ रखें। बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी सतीश पाण्डेय ने बताया कि किसी भी विद्यार्थी के शिक्षण प्रक्रिया में रूकावट डालकर उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित करने पर बाल अधिकार संरक्षण आयोग अधिनियम की धाराओं के तहत कार्रवाई की जा सकेगी। उन्होंने यह भी बताया कि यदि स्कूल शिक्षण शुल्क के अलावा अन्य शुल्क भी ले रहें हैं तो नोडल अधिकारी परीक्षण कर गत सत्र के शिक्षण शुल्क को अलग कर पालकों को सूचित करेंगे और विद्यालय के सूचना पटल पर ऐसी जानकारी चस्पा भी करेंगे। बैठक में अशासकीय विद्यालय फीस विनियम और विद्यालय फीस समिति द्वारा फीस निर्धारण की पूरी जानकारी भी दी गई।

 

17-12-2020
इतना तो मेरे बच्चे कर ही सकते हैं कार्यक्रम में 8वीं तक के छात्रों को किया जा रहा दक्ष

रायपुर। राज्य में कक्षा पहली से 8वीं तक के सभी बच्चों में विषयों की बुनियादी दक्षताएं विकसित करने के लिए लक्ष्य शासन द्वारा निर्धारित किया गया है। इसके लिए सर्वप्रथम हिन्दी और गणित विषयों को लिया गया है, क्योंकि ये सीखने के आधार हैं। इस कार्य के लिए ‘इतना तो मेरे बच्चे कर ही सकते हैं’ कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा डॉ. आलोक शुक्ला ने इस कार्यक्रम के अंतर्गत कक्षा पहली से 8वीं तक के विद्यार्थियों में न्यूनतम दक्षताएं विकसित करने के लिए जिला कलेक्टरों को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। कलेक्टरों से कहा गया है कि इस संबंध में जिले के अधिकारियों को इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के लिए निर्देशित करें। कलेक्टर कार्यक्रम की सघन मॉनिटरिंग करें, ताकि शासन की मंशा अनुरूप जिले का प्रत्येक विद्यार्थी भाषा और गणित बुनियादी दक्षताओं को प्राप्त कर सकें।प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा ने कलेक्टरों को जारी पत्र में कहा है कि कोविड-19 के कारण स्कूलों में बच्चों की नियमित पढ़ाई नहीं हो सकी। बच्चों की पढ़ाई जारी रखने के लिए प्रदेश में विभिन्न प्रयास किए गए हैं। जैसे - पढ़ई तुंहर दुआर, पढ़ई तुंहर पारा, मोहल्ला कक्षाओं, बुल्टु के बोल, लाउड स्पीकर, ऑनलाइन कक्षाएं आदि। ‘इतना तो मेरे बच्चे कर ही सकते हैं’ कार्यक्रम के अंतर्गत कक्षा पहली से 8वीं तक के शत-प्रतिशत बच्चों में हिन्दी और गणित विषयों की बुनियादी दक्षताओं को 100 दिनों में विकसित किया जाना है। बच्चों ने इन दक्षताओं को कितना हासिल किया यह जानने के लिए 20 दिसम्बर 2020 के तीसरे सप्ताह से मार्च 2021 तक आंकलन की प्रक्रिया अपनाई जाएगी।

कलेक्टरों को जारी पत्र में कहा गया है कि विषय आधारित दक्षताओं के विकास और आंकलन के लिए कक्षा पहली से 8वीं तक के समस्त विद्यार्थियों को 3 समूहों में रखा गया है। पहले समूह में कक्षा पहली और दूसरी, दूसरे समूह में कक्षा तीसरी से 5वीं तक और तीसरे समूह में कक्षा 6वीं से 8वीं तक के विद्यार्थियों को रखा गया है। इन समूहों के लिए न्यूनतम दक्षताएं कक्षा पहली और दूसरी के लिए कक्षा पहली की दक्षताएं, कक्षा 3 से 5 और कक्षा 6 से 8 के लिए कक्षा 3 की दक्षताएं निर्धारित की गई है।जिला कलेक्टरों को जारी पत्र में कहा गया है कि हिन्दी और गणित विषय की दक्षताओं को 4-4 उप दक्षताओं में विभाजित किया गया है। इन उप दक्षताओं को आंकलन दो बिन्दुओं ‘हां’ या ‘नहीं’ में किया जाना है। आंकलन के बाद जिन बच्चों ने अपेक्षित स्तर प्राप्त नहीं किया होगा उनके लिए उपचारात्मक शिक्षण की प्रक्रिया अपनानी होगी। शेष बच्चों की पढ़ाई यथावत जारी रहेगी। कलेक्टरों से कहा गया है कि आंकलन, उपचारात्मक शिक्षण ऑनलाईन अथवा पढ़ई तुंहर दुआर, पढ़ई तुंहर पारा, मोहल्ला स्कूल, लाउड स्पीकर के माध्यम से किया जा सकता है। आंकलन की प्रविष्टियां ऑनलाईन होगी।

 

08-12-2020
डीईओ ने कहा, विद्यार्थी के ऑनलाइन कक्षा का संचालन बंद करने पर निजी स्कूल के खिलाफ होगी कार्रवाई

कोरबा। जिले के सभी प्राइवेट स्कूलों में अध्ययनरत किसी भी विद्यार्थियों को ऑनलाइन क्लासेस से वंचित नहीं किया जायेगा। जिला शिक्षा अधिकारी कोरबा ने इस संबंध में समाचार पत्रों में विद्यार्थियों को ऑनलाइन क्लास से निकाले जाने वाली प्रकाशित खबरों पर संज्ञान लेते हुए निर्देश जारी किये हैं। डीईओ सतीश पाण्डेय ने बताया कि किसी भी कारणवश छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन क्लास से किसी भी स्कूल द्वारा अलग नहीं किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि किसी भी विद्यार्थी का ऑनलाइन कक्षा का संचालन बंद या बाधित करने पर प्राइवेट स्कूल के खिलाफ कार्यवाई की जा सकेगी। उन्होंने बताया कि प्राइवेट स्कूलों द्वारा निर्देश की अवहेलना किये जाने पर विद्यालय के विरूद्ध छत्तीसगढ़ अशासकीय विद्यालय फीस अधिनियम 2020 के तहत कार्यवाही की जायेगी।

 

01-12-2020
भौतिक शास्त्र की पूरक परीक्षा में 1939 विद्यार्थी हुए शामिल, नहीं पकड़ाया कोई नकल प्रकरण 

जांजगीर-चांपा। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से मंगलवार को कक्षा 12वीं की भौतिक शास्त्र की पूरक परीक्षा हुई। परीक्षा में नकल का कोई भी प्रकरण दर्ज नहीं हुआ है। भौतिक शास्त्र विषय की परीक्षा में 2018 पंजीकृत विद्यार्थियों में से 1939 विद्यार्थी शामिल हुए। इनमें विकासखंड अकलतरा से 145, बलौदा से 265, बम्हनीडीह से 317, नवागढ़ से 813 और पामगढ़ से 408 विद्यार्थी शामिल हुए।

28-11-2020
पूरक परीक्षा में 95 विद्यार्थी हुए शामिल, नहीं पकड़ाया कोई नकल प्रकरण 

जांजगीर-चांपा। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से शनिवार को कक्षा बारहवीं की  हिंदी विषय की पूरक परीक्षा हुई। परीक्षा में नकल का कोई भी प्रकरण दर्ज नहीं किया गया। हिन्दी विषय की परीक्षा में कुल 99 पंजीकृत विद्यार्थियों में से 95 विद्यार्थी शामिल हुए। इनमें विकासखंड अकलतरा से 2, बलौदा से 19, बम्हनीडीह से 9, नवागढ़ से 59 और पामगढ़ से 6 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए।

01-10-2020
कक्षा 9वीं से 12वीं की हुई ऑनलाइन कक्षाएं, 6 हजार 537 विद्यार्थी हुए शामिल

रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक अध्ययन-अध्यापन के लिए ऑनलाइन कक्षाएं प्रारंभ की है। गुरूवार को कक्षा 9वीं से 12वीं तक की 10 कक्षाएं सम्पन्न हुई जिसमें प्रदेश भर से 6 हजार 537 विद्यार्थी लाइव ऑनलाइन कक्षा में शामिल हुए। मण्डल के अधिकारियों ने बताया कि 5 अक्टूबर को कक्षा 9वीं से 12वीं तक कक्षाएं संचालित होंगी। आगामी कक्षाओं की समय-सारणी मण्डल की वेबसाईट www.cgbse.nic.in पर उपलब्ध है। समय-सरणी के अनुसार माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा लाइव ऑनलाइन कक्षाओं में प्रदेश के समस्त विद्यार्थी अपने-अपने घर में पढ़ाई कर सकते हैं। इसके लिए मण्डल की वेबसाईट www.cgbse.nic.inमें ऑनलाइन क्लास पर क्लिक करके विद्यार्थी कक्षा से जुड़ सकते हैं। इसके अतिरिक्त इस सफ्ताह आगामी ऑनलाइन कक्षा में समय-सारणी भी मण्डल की वेबसाईट www.cgbse.nic.in पर देखी जा सकती है। 

 

 

17-09-2020
10वीं और 12वीं की ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल हुए 11704 विद्यार्थी,शुक्रवार को लगेंगी दो-दो क्लास

रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से कक्षा 10वीं और 12वीं अध्ययन-अध्यापन के संदर्भ में ऑनलाइन कक्षाएं प्रारंभ की गई है। गुरुवार को कक्षा 10वीं की विज्ञान व गणित और कक्षा 12वीं की अंग्रेजी व राजनीतिक विज्ञान विषयों की कक्षाएं हुई। इन कक्षाओं में प्रदेश से 11704 विद्यार्थी शामिल हुए। माध्यमिक शिक्षा मंडल के अधिकारियों ने बताया कि, शुक्रवार 18 सितंबर को कक्षा 10वीं और 12वीं की दो-दो विषयों की आनलाइन कक्षाएं संचालित होंगी। कक्षा 10वीं में अंग्रेजी विषय की कक्षा दोपहर 12.00 बजे से 12.40 बजे तक और विज्ञान विषय की कक्षा दोपहर 1:00 बजे से 1:40 बजे तक संचालित होगी। इसी प्रकार कक्षा 12वीं में भूगोल विषय की कक्षा दोपहर 12:00 बजे से 12:40 बजे तक और लेखा शास्त्र विषय की कक्षा दोपहर 1:00 बजे से 1:40 बजे तक संचालित होगी। इस समय-सारणी के अनुसार माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से ऑनलाइन कक्षाओं में प्रदेश के समस्त विद्यार्थी अपने-अपने घर में पढ़ाई कर सकते हैं। इसके लिए मंडल की वेबसाइट  www.cgbse.nic.in  में ऑनलाइन क्लास पर क्लिक करके विद्यार्थी कक्षा से जुड़ सकते हैं। इसके अतिरिक्त इस सप्ताह आगामी ऑनलाइन कक्षाओं की समय-सारणी भी मंडल की वेबसाइट पर देखी जा सकती है।

 

10-09-2020
  12वीं की लाइव क्लास में शामिल हुए 13 हजार से अधिक विद्यार्थी,अगली कक्षाओं की जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध

रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से कक्षा 12वीं अध्ययन-अध्यापन के संदर्भ में 7 सितंबर से ऑनलाइन लाइव कक्षाएं प्रारंभ की गई है। कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के लिए गुरुवार को अंग्रेजी, इतिहास, जीवविज्ञान और गणित विषयों की कक्षाएं हुई। इस ऑनलाइन लाइव कक्षा में प्रदेश के 13 हजार 165 विद्यार्थी शामिल हुए। माध्यमिक शिक्षा मंडल के अधिकारियों ने कहा कि, शुक्रवार 11 सितंबर को कक्षा 12वीं के 4 विषयों की ऑनलाइन लाइव कक्षाएं संचालित होगी। इसमें विषय हिन्दी की कक्षा दोपहर 12:00 से  12:40 बजे तक, रसायन शास्त्र की कक्षा दोपहर 1.00 से 1.40 बजे तक, राजनीतिक विज्ञान की कक्षा दोपहर 1:00 से 1:40 बजे तक और लेखाशास्त्र विषय की कक्षा दोपहर 2:00 से 2:40 बजे तक संचालित होगी।  इस समय-सारणी अनुसार माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से लाइव ऑनलाइन कक्षाओं में प्रदेश के समस्त विद्यार्थी अपने-अपने घर से पढ़ाई कर सकते हैं। इसके लिए मंडल की वेबसाइट 12वीं की लाइव क्लास में शामिल हुए 13 हजार से अधिक विद्यार्थी,अगली कक्षाओं की जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध

रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से कक्षा 12वीं अध्ययन-अध्यापन के संदर्भ में 7 सितंबर से ऑनलाइन लाइव कक्षाएं प्रारंभ की गई है। कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के लिए गुरुवार को अंग्रेजी, इतिहास, जीवविज्ञान और गणित विषयों की कक्षाएं हुई। इस ऑनलाइन लाइव कक्षा में प्रदेश के 13 हजार 165 विद्यार्थी शामिल हुए। माध्यमिक शिक्षा मंडल के अधिकारियों ने कहा कि, शुक्रवार 11 सितंबर को कक्षा 12वीं के 4 विषयों की ऑनलाइन लाइव कक्षाएं संचालित होगी। इसमें विषय हिन्दी की कक्षा दोपहर 12:00 से  12:40 बजे तक, रसायन शास्त्र की कक्षा दोपहर 1.00 से 1.40 बजे तक, राजनीतिक विज्ञान की कक्षा दोपहर 1:00 से 1:40 बजे तक और लेखाशास्त्र विषय की कक्षा दोपहर 2:00 से 2:40 बजे तक संचालित होगी।  इस समय-सारणी अनुसार माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से लाइव ऑनलाइन कक्षाओं में प्रदेश के समस्त विद्यार्थी अपने-अपने घर से पढ़ाई कर सकते हैं। इसके लिए मंडल की वेबसाइट12वीं की लाइव क्लास में शामिल हुए 13 हजार से अधिक विद्यार्थी,अगली कक्षाओं की जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध

रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से कक्षा 12वीं अध्ययन-अध्यापन के संदर्भ में 7 सितंबर से ऑनलाइन लाइव कक्षाएं प्रारंभ की गई है। कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के लिए गुरुवार को अंग्रेजी, इतिहास, जीवविज्ञान और गणित विषयों की कक्षाएं हुई। इस ऑनलाइन लाइव कक्षा में प्रदेश के 13 हजार 165 विद्यार्थी शामिल हुए। माध्यमिक शिक्षा मंडल के अधिकारियों ने कहा कि, शुक्रवार 11 सितंबर को कक्षा 12वीं के 4 विषयों की ऑनलाइन लाइव कक्षाएं संचालित होगी। इसमें विषय हिन्दी की कक्षा दोपहर 12:00 से  12:40 बजे तक, रसायन शास्त्र की कक्षा दोपहर 1.00 से 1.40 बजे तक, राजनीतिक विज्ञान की कक्षा दोपहर 1:00 से 1:40 बजे तक और लेखाशास्त्र विषय की कक्षा दोपहर 2:00 से 2:40 बजे तक संचालित होगी।  इस समय-सारणी अनुसार माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से लाइव ऑनलाइन कक्षाओं में प्रदेश के समस्त विद्यार्थी अपने-अपने घर से पढ़ाई कर सकते हैं।

इसके लिए मंडल की वेबसाइट  www.cgbse.nic.in में ऑनलाइन क्लास पर क्लिक करके विद्यार्थी कक्षा से जुड़ सकते हैं। इसके अतिरिक्त इस सप्ताह आगामी ऑनलाइन कक्षाओं की समय-सारणी भी मंडल की वेबसाइट www.cgbse.nic.in पर देखी जा सकती है।में ऑनलाइन क्लास पर क्लिक करके विद्यार्थी कक्षा से जुड़ सकते हैं। इसके अतिरिक्त इस सप्ताह आगामी ऑनलाइन कक्षाओं की समय-सारणी भी मंडल की वेबसाइट www.cgbse.nic.in पर देखी जा सकती है।में ऑनलाइन क्लास पर क्लिक करके विद्यार्थी कक्षा से जुड़ सकते हैं। इसके अतिरिक्त इस सप्ताह आगामी ऑनलाइन कक्षाओं की समय-सारणी भी मंडल की वेबसाइटwww.cgbse.nic.in पर देखी जा सकती है।

 

10-09-2020
घर बैठे ही छात्र दे सकेंगे परीक्षा, विश्वविद्यालय ने जारी की गाइड लाइन

कवर्धा। कॉलेज में अपनी परीक्षा का इंतजार करने वाले विद्यार्थियों के लिए बड़ी खबर है। अब कॉलेज की परीक्षा छात्र घर बैठे देंगे। कोविड 19 के संक्रमण को देखते हुए बीए, बीकॉम, बीएससी तृतीय वर्ष की नियमित व महाविद्यालय की परीक्षाओं को स्थागित कर दिया गया था। हेमचन्द यादव विश्वविद्यालय के प्रथम, द्वितीय, तृतीय वर्ष की परीक्षा 14 सितम्बर से प्रारंभ होना सम्भावित है। स्नातकोत्तर स्तर की दूसरे व चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा 21 सितम्बर व अंतिम वर्ष की परीक्षा 14 सितम्बर से प्रारंभ होगी। इसमें छात्र स्वयं के उत्तर पुस्तिका में घर ही प्रश्नों को हल कर कॉलेज में जमा करेंगे। छात्र कॉलेज व विश्वविद्यालय के वेबसाइट से प्रशन पत्र डाउनलोड कर परीक्षा दिला सकेंगे। इसके बाद उत्तर पुस्तिका को कॉलेज में जमा करना होगा।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804