GLIBS
07-09-2020
मोदी सरकार ने काटे 25 लाख किसानों के नाम,नाक बचाने भाजपा नेता कर रहे राजनीति : मोहन मरकाम

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के आरोप पर पलटवार किया है। मरकाम ने केन्द्र सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि मोदी सरकार छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ एक और धोखाधड़ी कर रही है। 6 हजार रुपए प्रति वर्ष मिलने वाली किसान सम्मान निधि की पहली किस्त तो 27 लाख किसानों को दी गई, लेकिन अब इस सूची में सिर्फ़ 2 लाख किसान बचे हैं। उन्होंने कहा है कि, पंजीकरण के नाम पर केंद्र की भाजपा सरकार किसानों के नाम काट रही है। भाजपा के राज्य के नेता इस पर राजनीतिक रोटी सेंकने की कोशिश कर रहे हैं। मरकाम ने कहा है कि भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह को छत्तीसगढ़ की जनता को जवाब देना चाहिए कि मोदी सरकार छत्तीसगढ़ के 25 लाख किसानों को किसान सम्मान निधि की किस्त क्यों नहीं दे रही है? मरकाम ने कहा है कि,किसानों के साथ ठगी की आदी हो चुकी मोदी सरकार किसानों को बार-बार पंजीयन कराने पर मजबूर कर रही है। इसी में खामियां निकालकर किसानों की संख्या घटाई जा रही है। प्रधानमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी ने किसानों को आय दोगुनी करने का वादा किया था लेकिन अब पांच सौ रुपए महीने भी देने में चालबाजी कर रहे हैं। ठीक उसी तरह रमन सिंह ने प्रदेश के किसानों को बोनस और समर्थन मूल्य के नाम पर भ्रम जाल में फंसाया था। भाजपा का चरित्र में ही है धोखेबाजी करना। मोदी सरकार किसानों के साथ ही नहीं बल्कि देश के बेरोजगार युवाओं, मजदूरों,गृहणियों ,व्यापारियों, छात्रों के साथ भी दगाबाजी छल धोखा कर रही है।

 

01-09-2020
छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया राज्य कार्यकारिणी का हुआ गठन, नम्रता सोनी को मिली नई ज़िम्मेदारी

रायपुर। समाज और राजनीति में लगातार सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए युवा कांग्रेस अपने सोशल मीडिया संगठन विस्तार को लेकर सक्रिय हो चुका है। छत्तीसगढ़ राज्य में कांग्रेस सरकार की जनहितकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए और विपक्ष के दुष्प्रचार को करारा जवाब देने के लिए छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया के 26 अगस्त को एक दिवसीय बैठक का आयोजन रायपुर में किया गया। इसके बाद राष्ट्रीय महासचिव एवं छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस प्रभारी संतोष कोलकोंडा , राष्ट्रीय सचिव व सह- प्रभारी एकता ठाकुर, प्रदेश अध्यक्ष पूर्णचंद कोको पाढ़ी, राष्ट्रीय संयोजक व छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया प्रभारी के.के शास्त्री व छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया चेयरमैन अनूप वर्मा की सहमति से भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रभारी सोशल मीडिया वैभव वालिया ने छत्तीसगढ़ प्रदेशकार्यकारिणी का गठन किया।

बस्तर से नम्रता सोनी, युवा कांग्रेस छत्तीसगढ़ सोशल मीडिया के राज्य कार्यकारिणी समिति की सदस्य नियुक्त की गई है। इससे पहले भी राजनैतिक और सामाजिक क्षेत्र में बस्तर जैसे नक्सलप्रभावित इलाके में आदिवासियों, महिलाओं के लिए कार्य करने हेतु नम्रता अपनी अलग पहचान रखती है। नम्रता सोनी न सिर्फ राजनीतिक तौर पे सक्रिय है, बल्कि समाजिक कार्यकर्ता के रूप में संपूर्ण छत्तीसगढ़ में महिला सुरक्षा, व महिलाओं के अधिकार के लिए निरंतर कार्य करती आई है। इसके लिए समय समय पर उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। नम्रता ने समस्त शीर्ष नेतृत्व का नई ज़िम्मेदारी के लिए आभार व्यक्त करते हुए, संगठन के विस्तार व आगे भविष्य में बेहतर योगदान देने के लिए विश्वास दिलाया है। साथ ही सभी नवनिर्मित सदस्यों - अभिषेक वर्मा, दीपक गांधी, हरिराम कैवत , पंकज सोनी, आकाश महंत, रामसजिला यादव , सौरभ सिंह ठाकुर , स्वर्णिम शुक्ला, अफ़ज़ल रायपुरी, अरमान खान व प्रितिका विश्वकर्मा को भी हार्दिक शुभकामनाएं दी है। कांग्रेस के सोशल मीडिया छत्तीसगढ़ राज्य कार्यकारिणी समिति आगे भी अपनी ज़िम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए पार्टी को मजबूत करने के लिए सदैव संकल्पबद्ध है।

26-08-2020
पार्षदों ने विमल चोपड़ा पर लगाया आरोप कहा-महासमुंद में मेडिकल काॅलेज की सौगात से बौखला गए हैं चोपड़ा

महासमुंद। जिले में मेडिकल काॅलेज की सौगात मिलने से पूर्व विधायक डाॅ. विमल चोपड़ा बौखला गए हैं और उलजुलूल बयानबाजी कर रहे हैं। जनाधार खत्म होने से डाॅ. चोपड़ा जनता को बरगलाने में लगे हैं। यह आरोप नगरपालिका के पार्षद बबलू हरपाल, राजेंद्र चंद्राकर, अमन चंद्राकर, राजेश नेताम सहित सूरज नायक, जावेद जाफरी आदि ने लगाया है। पार्षदों ने आरोप लगाते हुए कहा कि महासमुंद में मेडिकल काॅलेज के लिए संसदीय सचिव विनोद सेवनलाल चंद्राकर का प्रयास व विशेष सक्रियता रही है। शुरू से लेकर अभी तक संसदीय सचिव चंद्राकर मेडिकल काॅलेज निर्माण को लेकर सक्रिय हैं। काॅलेज के लिए जमीन उपलब्ध कराने में विनोद चंद्राकर की अहम भूमिका रही। संसदीय सचिव चंद्राकर ने तत्कालीन कलेक्टर सुनील जैन के साथ मिलकर खरोरा स्थित जमीन को मेडिकल काॅलेज के लिए उपलब्ध कराया है। यह बात जनता बखूबी जान रही है। इसलिए जिला हाॅस्पिटल में आयोजित एक कार्यक्रम में पार्षदों ने संसदीय सचिव का सम्मान करने का फैसला लिया और सम्मानित भी किया। विकास कार्यों में अहम भूमिका निभाने वाले संसदीय सचिव का आगे भी सम्मान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मेडिकल काॅलेज की सौगात मिलने से पूर्व विधायक डाॅ चोपड़ा बौखला गए हैं और जनता को बरगलाने का काम कर रहे हैं। उनकी इस हरकत से पूरा जिला वाकिफ है। मेडिकल काॅलेज को लेकर अब राजनीति कर रहे हैं। जबकि मेडिकल काॅलेज जिले के लिए मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि पूर्व विधायक अपने कार्यकाल में कुछ नहीं कर सके। सिवाय शराब पकड़ने के अलावा।

21-08-2020
भाजपा की सरकार को बदनाम करने वाले तय कर लें धान घोटाले में किन-किन को जेल जाने तैयार रहना है? : विजय शर्मा

रायपुर। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष विजय शर्मा ने कहा कि पिछले खरीफ सत्र में धान शॉर्टेज की शिकायतें सामने आने पर 50 उपार्जन केंद्रों को जाँच के दायरे में लिया गया है। यह भ्रष्टाचार का जीता-जागता नमूना है, जिसमें सिर्फ मुंगेली में लगभग 57 हजार क्विंटल धान गायब हो गया है और इसका कोई हिसाब नहीं मिल रहा है। शर्मा ने कटाक्ष किया कि भाजपा की पूर्ववर्ती राज्य सरकार पर घोटाले का बेबुनियाद आरोप लगाकर अपनी राजनीतिक रोटियाँ सेंक रही कांग्रेस आज दो साल से सत्ता में होने के बावजूद जाँच के नाम पर केवल सियासी लफ़्फाजियाँ करके चरित्र हनन की राजनीति कर रही है। अब प्रदेश सरकार बताए कि आज खुद कांग्रेस की सत्ता में हजारों क्विंटल धान कहाँ गायब हो गया और जाँच के नाम पर क्या लीपापोती की गई कि कोर्ट को दुबारा इस मामले की जाँच के लिए आदेश देना पड़ा? शर्मा ने कहा कि शराब, जमीन, रेत उत्खनन आदि हर काम में प्रदेश सरकार भ्रष्टाचार के नित-नए मामलों में घिरती जा रही है और अब धान शॉर्टेज के इस ताजा मामले ने प्रदेश सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। भाजपा की सरकार को बदनाम करने के शर्मनाक कृत्यों में लगे लोगों को अब यह तय कर लेना चाहिए कि धान शॉर्टेज के इस घोटाले में किन-किन लोगों को जेल जाने के लिए तैयार रहना है?

18-08-2020
नफरत और प्रतिशोध की राजनीति केवल कांग्रेस की पहचान है : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने छत्तीसगढ़ी भाषा और संस्कृति को लेकर भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह पर की गई कांग्रेस की टिप्पणी को अपने बेनकाब हो चुके सियासी चरित्र को ढँकने की नाकाम और बचकानी कोशिश करार दिया है। सुंदरानी ने कहा कि जिस कांग्रेस के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का विरोध और छत्तीसगढ़ी भाषा का घोर अपमान करते हुए यहाँ तक कहा हो कि छत्तीसगढ़ी में बच्चों की पढ़ाई संभव नहीं है क्योंकि छत्तीसगढ़ी में पढ़कर प्रदेश के विद्यार्थी पिछड़ जाएंगे, वह कांग्रेस अब पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.सिंह को प्रमाण पत्र देने की बचकानी हरकत पर उतर आई है। रमन सिंह पर छत्तीसगढ़ी भाषा और संस्कृति से नफरत का आरोप लगाने वालों को यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि नफरत और प्रतिशोध की राजनीति पर केवल और केवल कांग्रेस का ही एकाधिकार रहा है। भाजपा और उसके नेता तो सर्व समावेशी विकास की बात करते हैं और उसी के लिए काम करते हैं।
सुंदरानी ने कहा कि छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा गया पत्र भी मुख्यमंत्री बघेल का राजनीतिक पाखंड ही है और अपना यह पाखंड बेनकाब होने पर अब कांग्रेस के लोग चरित्र हनन की राजनीति करते हुए झूठ का रायता फैलाने में लग गए हैं और अनर्गल प्रलाप करके खुद को उपहास का पात्र बना रहे हैं। सुंदरानी ने कहा कि कांग्रेस अब चाहे जितना झूठ फैला ले, प्रदेश की जनता कांग्रेस की छत्तीसगढ़ और खासकर छत्तीसगढ़ी विरोधी मानसिकता को बखूबी पहचान गई है।

 

19-07-2020
भूपेश बघेल ने कहा,भारत में आदिकाल से विचारों की स्वतंत्रता रही है,असहमति को भी सम्मान मिलता है

रायपुर। पद पर बैठे हर व्यक्ति को राजधर्म का पालन करना चाहिए। सुशिक्षित, सुसंस्कृत, सेवा परायण, संपन्न और स्वस्थ व्यक्ति व समाज की रचना राजनीति का उद्देश्य होना चाहिए। यह बात रविवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने  गोवर्धन मठ पुरी में राजधर्म विषय पर आयोजित ऑनलाइन संगोष्ठी में कही। आज स्वामी करपात्रीजी महाभाग के 113 वें प्राकट्य महोत्सव के अवसर पर आयोजित तीन दिवसीय संगोष्ठी का पहला दिन था। इसमें जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती सहित धार्मिक, सामाजिक और राजनीति के क्षेत्र में सक्रिय व्यक्ति एवं विशेषज्ञ तीन दिनों तक अपने विचार व्यक्त करेंगे। ऑनलाइन संगोष्ठी में हिस्सा ले रहे संतों एवं विशेषज्ञों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री बघेल ने राजतंत्र और लोकतंत्र का अंतर बताते हुए कहा कि दोनों ही व्यवस्थाओं में व्यक्ति महत्वपूर्ण है। राजनीति में व्यवस्था ऐसी हो कि हर नागरिक भयमुक्त हो और उनके लिए अच्छी बातों को ग्रहण करने की पर्याप्त जगह हो। उन्होंने कहा कि भारत में आदिकाल से ही विचारों की स्वतंत्रता रही है। यहां असहमति को भी सम्मान से देखा जाता है। भारत के विविधतापूर्ण विचारों का पूरी दुनिया ने सम्मान किया है। यहां विचारों में खुलापन है। यह खुलापन बरकरार रहना चाहिए और असहमति को भी जगह मिलना चाहिए। भूपेश बघेल ने कहा कि राजनीति के केंद्र में आम जनता का हित होना चाहिए। लोगों को रोजगार और भयमुक्त वातावरण मिलना चाहिए। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौर में भी छत्तीसगढ़ की अर्थव्यस्था में मंदी नहीं आई। प्रदेश में मजदूरों, किसानों एवं आदिवासियों सहित सभी वर्गों की क्रयशक्ति बनाए रखने के लिए अनेक कदम उठाए गए। मनरेगा के तहत 1900 करोड़ रूपए की मजदूरी का भुगतान किया गया। 

09-07-2020
डॉ रमन ने एबीवीपी के स्थापना दिवस पर दी शुभकामनाएं, कहा निरंतर युवाओं की आवाज उठाकर नई विचारधारा के साथ आगे बढ़ें

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अखिला भारतीय विद्यार्थी परिषद के स्थापना दिवस पर शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि विद्यार्थी ही हमारे भारत का भविष्य हैं, ऊर्जा व नई विचारधारा के साथ राजनीति के पटल पर सक्रिय भूमिका निभाने वाले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सभी साथियों को स्थापना दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं। आप सभी निरंतर युवाओं की आवाज उठाते रहें एवं नई विचारधारा के साथ आगे बढ़ें।

28-05-2020
हालात राजनीति करने का नहीं मानव धर्म निभाने का है : डॉ.चरणदास महंत

रायपुर। छत्तीसगढ विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत ने किसान,गरीब,मजदूरों की मदद के लिए चलाए जा रहे हैं, स्पीक अप इंडिया अभियान के लाइव शो में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के संस्कार हैं पीड़ित मानवता की सेवा करना और उन्हीं संस्कारों से पले बढ़े राहुल गांधी हमेशा गरीब, पीड़ितों के बारे में सोचते हैं। गरीब से गरीब की मदद करना चाहते हैं। पिछले दिनों देखा गया कि राहुल गांधी ने कैसे नंगे पांव चल रहे मजदूरों के बीच पहुंचकर उनका हाल चाल जाना। उनका दुख दूर करने बारे में सोचा। डॉ.महंत ने कहा कि दुखी पीड़ित मानव की सेवा ही सच्ची सेवा है, मानव धर्म है।
डॉ.महंत ने कहा कि हालात ये कहते हैं कि, केंद्र सरकार को ऐसे प्रत्येक परिवार के बैंक खाते में 10 हजार रुपए डालना चाहिए और जो मजदूर अपने प्रदेश लौटना चाहते हैं उनके परिवहन की व्यवस्था करना चाहिए। किसी प्रकार के ऋण देने के बजाए सीधे-सीधे आर्थिक मदद हो और मनरेगा में मजदूरों को 200 दिनों का काम दिए जाएं, जिससे गरीब मजदूरों को अपने परिवार पालने में मदद हो सके। डॉ.महंत ने वैश्विक महामारी कोरोना से लड़ने में हर किसी के योगदान की अपील की है। हालात राजनीति करने का नहीं मानव धर्म निभाने का है।

23-05-2020
ज्यादा अच्छा होता कांग्रेस मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्रियों के खातों में जमा अंतर राशि का ब्यौरा भी देती : भाजपा

रायपुर। भाजपा ने धान के मूल्य की अंतर की राशि को लेकर कांग्रेस पर निम्नस्तर की राजनीति का आरोप लगाया है। किसान मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष संदीप शर्मा ने कहा कि लाभान्वित किसानों में भाजपा के बड़े नेताओं के नामों की सूची जारी करके प्रदेश सरकार और कांग्रेस अपनी सोच से उबरने को तैयार ही नहीं हैं। ज्यादा अच्छा तो तब होता जब कांग्रेस अपनी सरकार के मुख्यमंत्री समेत उन सभी मंत्रियों के नाम भी इस सूची में शामिल करती,जिनका हाल ही एक समाचार पत्र में कोरोना वॉरियर्स के तौर पर गुणगान हुआ है। कांग्रेस बताए तो कि इन मंत्रियों के खातों में धान मूल्य के अंतर की कितनी-कितनी राशि जमा हुई है? इनमें से कितने मंत्रियों को अंतर राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा करने के लिए कांग्रेस कहने का साहस दिखाएगी? संदीप शर्मा ने कहा कि भाजपा के नेता तो किसानों के शुरू से हितैषी रहे हैं और किसानों का सम्मान कर इनके कल्याण की कई योजनाओं पर भाजपा की प्रदेश और केंद्र सरकार ने काफी काम किया। कांग्रेस के बड़े नेताओं ने भी तो भाजपा शासन में बोनस समेत किसानों के हित की तमाम योजनाओं का लाभ लिया था। किसानों से धान मूल्य के तौर पर 25 सौ रुपए प्रति क्विंटल का तुरंत एकमुश्त भुगतान करने का कांग्रेस सरकार ने वादा किया था लेकिन उसने पूरा भुगतान नहीं किया।

22-05-2020
देशभर में प्रवासी मजदूरों के नाम पर राजनीति कर रही कांग्रेस : सच्चिदानंद उपासने

रायपुर। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने कहा कि घर वापसी के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने के 10 दिनों के बाद तक छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से कर्नाटक में फंसे प्रदेश के 39 श्रमिकों से संवाद ही बन्द कर देने पर हैरत जताई है। उपासने ने कहा कि देशभर में प्रवासी मजदूरों के नाम पर राजनीति कर रही कांग्रेस छत्तीसगढ़ की अपनी सरकार के इस अमानवीय आचरण पर मौन है। प्रदेश सरकार की ओर से पंजीकृत मजदूरों से संवाद बन्द कर देने और किसी तरह का सन्देश नहीं मिलने से निराश मजदूर कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले से हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर छत्तीसगढ़ के लिए पैदल ही निकल पड़े हैं। इनमें दो गर्भवती महिलाएं और पांच मासूम बच्चे भी हैं। उपासने ने कहा कि इन मजदूरों ने 9 और 10 मई को अपनी वापसी के लिए सरकारी वेबसाइट पर पंजीयन कराया था,जिसका सन्देश भी उन्हें मिला, लेकिन उसके बाद ट्रेन के संबंध में उन्हें कोई संदेश नहीं मिला। इन मजदूरों ने नोडल अधिकारी और हेल्पलाइन नम्बरों पर बार-बार फोन से सम्पर्क किया लेकिन उन्हें कोई सन्तोषजनक जवाब नहीं मिला। बाद में 17 मई को उन मजदूरों ने बस से निकलने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। अन्तत: वे 19 मई को पैदल ही छत्तीसगढ़ के लिए निकल पड़े हैं।

20-05-2020
प्रवासी बसों की राजनीति में कूदी कांग्रेस विधायक अदिति, अपनी पार्टी पर खड़े किए सवाल

नई दिल्ली। प्रवासी मजदूरों को लेकर बसों के इंतजाम पर कांग्रेस और भाजपा के बीच चल रही सियासी जंग में एक नया मोड़ आ गया है। कांग्रेस के अपने भी इस घड़ी में उनके खिलाफ खड़े नजर आ रहे हैं। दरअसल रायबरेली से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने पूरे मामले पर अपनी पार्टी के रुख की कड़ी आलोचना की है, साथ ही सीएम योगी की तारीफ भी की है।प्रवासी मजदूरों की बस द्वारा अवाजाही के प्रकरण मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली सदर की विधायक अदिति सिंह ने ट्वीट करके कांग्रेस पर सवाल उठाए और कहा कि आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत, एक हजार बसों की सूची भेजी, उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फर्जीवाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 ऑटो रिक्शा व एबुंलेंस जैसी गाड़ियां, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है, अगर बसें थीं तो राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र में क्यूं नहीं लगाई।”अदिति सिंह ने अगले ट्वीट में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ की तारीफ की। उन्होंने लिखा, कोटा में जब यूपी के हजारों बच्चे फंसे थे तब कहां थीं ये तथाकथित बसें, तब कांग्रेस सरकार इन बच्चों को घर तक तो छोड़िए, बॉर्डर तक न छोड़ पाईं, तब सीएम योगी ने रातोंरात बसें लगाकर इन बच्चों को घर पहुंचाया, खुद राजस्थान के सीएम ने भी इसकी तारीफ की थी।

क्या है पूरा विवाद

लॉक डाउन की मार झेल रहे मजदूर नोएडा-गाजियाबाद में यूपी के बॉर्डर पर फंसे हैं। इन मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने 1000 बसें चलाने का प्रस्ताव योगी सरकार को भेजा था। योगी सरकार ने इसे मंजूरी दी और बसों की पूरी सूची मांगी। इस सूची के आधार पर योगी सरकार की तरफ से कहा गया कि लिस्ट में शामिल बसों के नंबर टू-व्हीलर और थ्री व्हीलर के भी हैं।इस विवाद के बाद कांग्रेस कह रही हैं कि जो बसें सरकार की जांच में सही पाई गई हैं उन्हीं का इस्तेमाल मजदूरों के लिए कर लिया जाए। इस बीच मंगलवार को आगरा में यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को हिरासत में ले लिया गया। वहीं, दूसरी तरफ लखनऊ और नोएडा में प्रियंका गांधी के सचिव सहित कांग्रेस के दूसरे नेताओं पर एफआईआर दर्ज कर ली गई।

02-05-2020
केंद्र सरकार के हर निर्णय में राजनीति देखना कांग्रेस की मानसिकता में : श्रीचंद सुन्दरानी

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्रीचंद सुन्दरानी ने कोरोना लॉकडाउन के तीसरे चरण में प्रदेश की राजधानी को रेड जोन में रखे जाने पर कांग्रेस नेताओं के बयान पर कहा कि केंद्र सरकार के हर निर्णय में राजनीति देखना और उनका बेतुका विरोध करना कांग्रेस ने अपना राजनीतिक चरित्र बना लिया है। प्रदेश में कोरोना की रोकथाम के बड़े-बड़े दावे करके भी सरकार अपने स्तर पर इसके परीक्षण व इलाज तक की पुख्ता व्यवस्था विकसित नहीं कर पाई है और केंद्र सरकार के फैसले पर उंगली उठा रही है।सुन्दरानी ने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए केंद्र सरकार ने त्वरित और समयबद्ध रणनीति बनाकर अपने दूरदर्शी फैसलों का लोहा पूरी दुनिया में मनवाया है। यदि प्रदेश सरकार को अपनी तैयारियों और फैसलों पर इतना ही भरोसा था तो मुख्यमंत्री को प्रधानमंत्री से पहले ही पत्र व्यवहार कर लेना था। सुन्दरानी ने कहा कि केंद्र के हर फैसलों का बेतुका विरोध करने से बाज आकर प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेता कोरोना के खिलाफ जारी जंग में अपनी भूमिका और कर्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन करने में अपनी ऊर्जा लगाएँ।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804