GLIBS
27-01-2021
दीप सिद्धू के बहाने हिंसा व उपद्रव का ठीकरा भाजपा व सरकार पर फोड़ने की कोशिश, सनी ने किया इंकार

दिल्ली/रायपुर। दिल्ली में हुई हिंसा और उपद्रव के बाद अब आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला तेज हो गया है। ट्रैक्टर परेड के अनियंत्रित होकर हिंसक झड़पों में बदल जाने के बाद किसान आंदोलन के नेता अब हिंसा से अपना पल्ला झाड़ने तो लगे ही हैं साथ ही वे इसका ठीकरा केंद्र सरकार और भाजपा पर फोड़ने की कोशिश भी करने लगे है। ट्रैक्टर परेड को अनियंत्रित करने में किसान नेताओं के निशाने पर एक्टर दीप सिद्धू आ गए हैं। दीप सिद्धू को उन्होंने सनी देओल का करीबी बताया है। उधर सनी देओल ने ट्वीट कर कल गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा और उपद्रव पर शोक जताया है उसकी निंदा की है और साथ ही कहा है कि दीप सिद्दू से उनका कोई नाता नहीं है उनके साथ उनका नाम जोड़ा जाना दुखद है। बाहर हाल दीप सिद्धू की क्या भूमिका है? यह जांच का विषय हो सकता है। लेकिन दीप सिदधू की आड़ में इतनी बड़ी हिंसक झड़पों से पल्ला झाड़ने की कोशिश  आसानी से पचने वाली नजर नहीं आती है। अगर दीप सिद्धू पर पहले से ही शक था तो आंदोलन में उसकी भूमिका क्या थी? क्यों थी और कैसे उसे आंदोलन से जुड़े रखा गया ये भी सवाल चौंका देने वाले है?

25-01-2021
किसान आत्महत्या मामले में भाजपा की जांच टीम ने परिजनों से की मुलाकात

रायपुर। अभनपुर के आमदी गांव के किसान आत्महत्या मामले में जांच के लिए गठित भाजपा की टीम ने गांव में परिजनों से मुलाकात की। जांच कमेटी के सदस्य पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू ने बताया कि मृतक पर 1 लाख रुपए का कर्ज था। उसने इस साल करीब 35 हजार रुपए का धान का बेचा था। इसमें से 25 हजार रुपए सोसायटी कर्ज में चला गया। बचा हुआ कर्ज पटाने की चिंता में उसने खुदकुशी कर ली। साहू ने बताया कि अब तक प्रशासन के किसी भी अधिकारी ने मृतक के परिजनों की सुध नहीं ली है, न ही कोई मुआवजा दिया गया है। साहू का कहना है कि अगर रामनारायण निषाद को राजीव गांधी किसान न्याय योजना की राशि का भुगतान किया होता, तो शायद वह खुदकुशी नहीं करता। जांच कमेटी के सदस्य चंद्रशेखर साहू और गौरीशंकर श्रीवास ने पूरी स्थिति से प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय को अवगत कराया।

24-01-2021
सरपंच सहित 37 भाजपा कार्यकर्ताओं ने थामा कांग्रेस का हाथ,सांसद दीपक बैज ने गमछा पहनाकर किया स्वागत

बीजापुर। रविवार को भाजपा के 37 कार्यकर्ताओं ने बस्तर सांसद दीपक बैज एवं क्षेत्रीय विधायक विक्रम शाह मंडावी के समक्ष कांग्रेस के रीति-नीति से प्रभावित होकर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। इसमें प्रमुख रूप से ग्राम पंचायत सकनापल्ली के सरपंच बामन माड़वी,मिच्चा लखमु,मिच्चा सुदरु,कुम्मा मुन्ना,मिच्चा लखमू, माडवी सोमडू,मंडावी आयतु,बुधराम कर्टामी,भुवनेश्वर माडवी (झाड़ीगुट्टा), मंगल कोवसी,धनेंद्र एंड्रिक (पिंडूमपाल), बुधू कोवासी, सायबो कुहरामी, सीता हेमला, किवाड़ माड़वी, सुदराम कर्टामी, बामन पोयामी, पीलू पोयामी, मनीराम माडवी, पाकलु कर्टामी, बमलू कोवसी, संतु कोवासी, झितरु पोड़ियामी, मानू पोयाम, मंगलु कुहरामी, हिडमो पोड़ियाम, बोंजा कोवासी, लाला पोड़ियाम, बाल सिंह माडवी, रामदेव पोड़ियामी, लक्ष्मण कर्टामी, बोमड़ा माडवी, बुधराम ओयामी, हडमो पोयामी, बूदू पूनेम एवं कुम्मा मंडावी आदि प्रमुख रूप से शामिल थे।

इस दौरान सांसद दीपक बैज विधायक विक्रम शाह मंडावी के अलावा ज़िला पंचायत अध्यक्ष शंकर कुड़ियाम, ज़िला पंचायत सदस्य नीना रावतिया उद्दे,बसंतराव ताटी, सोमारु राम कश्यप , प्रदेश कांग्रेस सचिव अजय सिंह, ज़िला कांग्रेस कमेटी बीजापुर के अध्यक्ष लालू राठौर, सांसद प्रतिनिधि वेणुगोपाल राव, महामंत्री शंकर जुमड़े, ज़िला कांग्रेस के प्रवक्ता ज्योति कुमार, जनपद अध्यक्ष बीजापुर राधिका तेलम के अलावा बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे। कांग्रेस प्रवेश करने के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए सरपंच बामन माडवी ने भाजपा पर आरोप लगाया कि भाजपा के पंद्रह सालों के शासनकाल में हमारे पंचायत में विकास के कोई भी काम नहीं हुए है लेकिन प्रदेश में भूपेश बघेल और बीजापुर में विधायक विक्रम शाह मंडावी के कुशल नेतृत्व में विकास को एक नई गति मिल रही है। इससे हम प्रभावित होकर भाजपा से कांग्रेस पार्टी में प्रवेश कर रहे है।

 

24-01-2021
भाजपा पार्षद शैलेंद्र सिंह कांग्रेस में हुए शामिल,मंत्री जयसिंह अग्रवाल की उपस्थिति में ली सदस्यता

कोरबा। भाजपा पार्षद शैलेन्द्र सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। नगर निगम के वार्ड क्रमांक 25 के पार्षद शैलेंद्र सिंह ने भाजपा का दामन छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल के समक्ष उन्होंने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। शैलेंद्र सिंह ने कहा है कि नए कृषि कानून के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन को सही मानते भाजपा का दामन छोडा। 

 

24-01-2021
अरूण वोरा ने कहा-किसानों के नाम पर भाजपा कर रही राजनीति, भूपेश सरकार अन्नदाताओं की सच्ची हितैषी

दुर्ग। छत्तीसगढ़ राज्य भंडारगृह निगम के अध्यक्ष व दुर्ग विधायक अरुण वोरा ने भारतीय जनता पार्टी को किसानों के नाम पर राजनीति नहीं करने की नसीहत दी है। उन्होंने कहा है कि 15 वर्षों तक प्रदेश में भाजपा की सरकार थी, जिस दौरान किसानों का कोई भला नहीं हुआ लगातार 3 बार भाजपा के घोषणा पत्र में किसानों से किया गया। समर्थन मूल्य का वादा पूरा नहीं किया गया। चुनावी वर्ष में बोनस और बाकी वर्षों में तें कोन अस की नीति से किसानों को लगातार छला गया। केंद्र सरकार भी लगातार किसान विरोधी फैसले करती आ रही है। स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की जगह केंद्र सरकार ने सबसे पहले बोनस का प्रावधान खत्म कर दिया।अब तीन काले कृषि कानून लाकर कृषि का निजीकरण करने और समर्थन मूल्य खत्म कर किसानों की कमर तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। जबकि दूसरी ओर छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल जी के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार पहले दिन से अन्नदाताओं को सुदृढ करने का काम कर रही है। सबसे पहले कर्ज माफी उसके बाद समर्थन मूल्य में ऐतिहासिक वृद्धि के बाद केंद्र द्वारा लगाए गए हर अड़चन को पार कर राजीव गांधी किसान न्याय योजना लागू किया गया है। गोधन न्याय योजना से भी किसानों और पशुपालकों को करोड़ों रुपए का भुगतान प्रदेश सरकार कर रही है। देश भर में किसानों में केंद्र की भाजपा सरकार के प्रति आक्रोश है किंतु छत्तीसगढ़ में अन्नदाता खुशहाल हैं। भारतीय जनता पार्टी को किसानों के नाम पर राजनीति करने की जगह केंद्र सरकार से कृषि बिल वापस लेने का अनुरोध  करना चाहिए।

23-01-2021
भाजपा के लोग गांधी, सुभाष पटेल को अपनाना तो चाहते है लेकिन सावरकर और गोडसे को छोड़ना नहीं : भूपेश बघेल 

रायपुर। महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष पर राजीव भवन में जयंती समारोह का आयोजन किया गया। संगोष्ठी में प्रोफेसर सौरभ बाजपेयी ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जीवनी पर मुख्य वक्तव्य दिया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नेताजी के विचारों पर बात की। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा पर कटाक्ष करते हुए कहा कि भाजपा के लोग आज गांधी, सुभाष, पटेल को अपनाना चाहते है लेकिन सावरकर और गोडसे को छोड़ने के लिए तैयार नहीं है। अगर भाजपा वाकई में गांधी, सुभाष, पटेल के विचारों को मानती है। उनके आदर्शों पर चलना चाहती है तो पहले गोडसे मुदार्बाद बोले, सावरकर का साथ छोड़े देश की आजादी का इतिहास भाजपाई जान लें।
उन्होंने कहा कि हमें इतिहास को नहीं भूलना चाहिए। इतिहास के पन्नों को खंगालना जरूरी है। हमने विधानसभा में भाजपा विधायकों से पूछा था कि गोडसे का मुदार्बाद कब बोलेंगे? भाजपा के लोग गोडसे मुदार्बाद नहीं बोल पाए। जहां तक है सुभाष चंद्र बोस का कांग्रेस छोड़ने की, तो कांग्रेस के संविधान में अहिंसा की बात लिखी है जबकि सुभाष बाबू ने अस्त्र उठाने की बात कर आजाद हिंद फौज का गठन किया।  
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि अगर वाकई में भाजपा के लोग गांधी को मानते हैं तो सबसे पहले उन्हें गोडसे मुदार्बाद बोलना चाहिए और सावरकर का साथ छोड़ना चाहिए, उसके बाद गांधी और सुभाष की जय बोले।

23-01-2021
भाजपा युवा मोर्चा ने सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर चलाया सफाई अभियान

कोरिया। नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर युवा मोर्चा बैकुंठपुर ने साफ़ सफ़ाई की। ज़िलाध्यक्ष कृष्णबिहारी जायसवाल,शैलेश शिवहरे, अमित श्रीवास्तव,पंकज गुप्ता , भानु पाल की उपस्थिति में माल्यार्पण एवं  मिष्ठान्न वितरण करके नेताजी को श्रद्धांजलि दी गई । 25 जनवरी को ज़िला मुख्यालय के ब्लड बैंक में रक्तदान का कार्यक्रम रखा गया है। समस्त कार्यक्रम में प्रमुख रूप से युवा मोर्चा के  जिला प्रशिक्षण प्रमुख शारदा प्रसाद गुप्ता,जिला उपाध्यक्ष हर्षल गुप्ता,मंडल अध्यक्ष प्रखर गुप्ता,मंडल महामंत्री सतेंद्र राजवाड़े मंडल,मंत्री आलेख नामदेव, सोशल मीडिया प्रमुख सुमित कुमार गुप्ता,अभिनेद्र सिंह,शिवम विश्वकर्मा,योगेश काशी, आयुष नामदेव, विकास दुबे का योगदान रहा।

 

22-01-2021
Video: राजधानी में नितिन नबीन, डॉ. रमन सिंह सहित 10 हजार से अधिक भाजपा कार्यकर्ताओं ने दी गिरफ्तारी

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी छत्तीसगढ़ ने शुक्रवार को प्रदेश भर में किसान विरोधी भूपेश बघेल सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन एवं कलेक्ट्रेट का घेराव किया। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश के सभी जिलों में छत्तीसगढ़ की किसान विरोधी भूपेश बघेल सरकार के खिलाफ, सरकार की किसान विरोधी नीतियों, धान खरीदी में विलंब व अव्यवस्था, रकबा कटौती, बारदाने की कमी का बहाना, 9 हजार करोड़ का हिसाब मांगने एवं किसानों को उनकी उपज का भुगतान करने, राजीव गांधी न्याय योजना के नाम पर किसानों को छलना व ठगना बंद करने सहित प्रदेश भर में किसान आत्महत्या के लगातार बढ़ते मामलों के विरोध में भाजपा ने प्रदर्शन किया। इसमें लाखों की संख्या में किसान व भाजपा कार्यकर्ताओं ने किसान विरोधी भूपेश बघेल सरकार के खिलाफ हल्ला बोला।
राजधानी रायपुर में हजारों की संख्या में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता और किसान भाई धरना स्थल बूढ़ा तालाब में दोपहर 1 बजे एकत्रित हुए और किसान विरोधी, किसानों का अहित करने वाली, किसानों को छलने व लगातार ठगने वाली छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। राजधानी के बूढ़ातालाब स्थित धरना स्थल में विशाल जन सैलाब प्रदेश सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ आक्रोशित दिखा। इस जन सैलाब में किसान बैलगाड़ी और ट्रैक्टर से रैली के रूप में प्रदेश सरकार का विरोध करने हजारों की संख्या में पहुंचे वहीं परम्परिक वेशभूषा के साथ-साथ कृषि उपकरण हल हाथ में लिए भूपेश सरकार की किसान विरोधी नीतियों को किसान चुनौती देते हुए दिखे। प्रदर्शन के दौरान बारदाने का बहाना बनाकर धान खरीदी व अपने जिम्मेदारियों से भागने वाली छत्तीसगढ़ सरकार के खिलाफ बारदाना पहनकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया।
धरना स्थल पर हजारों की संख्या में उपस्थित विशाल जन समूह के बीच भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश सह प्रभारी नितिन नबीन, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय, पूर्व कृषि मंत्री व विधायक बृजमोहन अग्रवाल, चन्द्रशेखर साहू, राजेश मूणत, जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरानी, अभिनेष कश्यप, देवजीभाई पटेल, नंदे साहू, सच्चिदानंद उपासने, संजय श्रीवास्तव, नवीन मार्कण्डेय, सुभाष राव, छगन मूंदड़ा, राजीव अग्रवाल, भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू सहित भाजपा कार्यकर्ता व पदाधिकारी उपस्थित रहे।
भाजपा प्रदेश सह प्रभारी नितिन नबीन ने धरना प्रदर्शन में एकत्रित विशाल जन समूह को संबोधित करते हुए कहा कि हम सभी भूपेश बघेल सरकार को नींद से जगाने एकत्रित हुए थे परन्तु इस विशाल जन समूह ने बघेल सरकार की निंद उड़ा दी है। भाजपा जब सड़क पर उतरी है तो प्रदेश सरकार के मंत्री सफाई देते फिर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भूपेश सरकार ने प्रदेश के किसानों के पीठ में छुरा घोपने का काम किया हैं। बारदाने का बहाना बनाने वाली भूपेश सरकार के लिए छत्तीसगढ़ी में एक कहावत है जो इस सरकार की किसाना विरोधी नीतियों को देखते हुए कही गई है कि खाय बर होरा नइ हे अउ धान खरीदे बर बोरा नइ ए। उन्होंने कहा कि मंडी टैक्स बढ़ाने वाली भूपेश सरकार को 9 हजार करोड़ का हिसाब देना होगा। भारतीय जनता पार्टी आज कलेक्ट्रेट का घेराव कर रही है परन्तु यदि भूपेश सरकार की किसान विरोधी नीतियां बंद नहीं हुई तो हम आने वाले समय में उनका घर से निकलना मुश्किल कर देंगे। छत्तीसगढ़ में सरकार की लचर व्यवस्था के चलते जो चावल खराब हुआ है जो धान सड़ गए है उसका जवाब और हिसाब कौन देगा यह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बताना चाहिए? उन्होंने कहा कि ये तो अपने ही पार्टी के नेता के नाम पर योजना चलाते है और राजीव गांधी न्याय योजना में अन्याय व बंदरबाट करते हैं। छत्तीसगढ़ सरकार में बैठे लोग कहते है कि किसान खुशहाल है उन्हें बताना चाहिए कि 255 किसानों ने आत्महत्या क्यों कर ली? क्यों मुख्यमंत्री के घर के बाहर किसान आत्महत्या करने मजबूर है? भाजपा प्रदेश सह प्रभारी नितिन नबीन ने कहा कि छत्तीसगढ़ से किसान विरोधी भूपेश बघेल सरकार को उखाड़ फेंकने के संकल्प के साथ आज हमने इस प्रदर्शन के माध्यम से आगाज किया है और 2023 में हम कांग्रेस को उखाड़ फेंकेंगे।
भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने विशाल जन समूह को संबोधित करते हुए कहा कि हम सभी आज प्रदेश सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ गिरफ्तारी देने आए हैं। प्रदेश सरकार को बहानेबाजी छोड़कर अपने जिम्मेदारियों से भागने के बजाय अपनी किसान विरोधी नीतियों पर अंकुश लगाते हुए बारदाने की पर्याप्त व्यवस्था करनी चाहिए, धान खरीदी की मियाद बढ़ाये सरकार, किसानों को तीन दिन के अंदर धान का भुगतान करें, रकबा कटौती बंद कर काटे गए रकबे को जोड़े, दो साल का धान का बोनस दे सरकार, वनाधिकार पट्टा प्राप्त वनवासियों का धान खरीदी करें और धान खरीदी में अव्यवस्था के कारण आत्महत्या करने वाले किसान के परिवारों को 25 लाख रुपए की सहायता राशि दें सरकार।
पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से हम बोरे की व्यवस्था करने को कहते है तो वे कहते है रमन सिंह जाने, मोदी जी जाने अरे भूपेश जी आप काहे के लिए हो? आप क्या कर रहे हो? उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सवाल करने पर उनकी किसान विरोधी नीतियों को उजागर करने पर वे हम पर सवाल उठाते हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी 15 साल के भाजपा के कार्यकाल में शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर किसानों को ऋण देने का काम हुआ, एक रुपए किलों में चावल, 5 लाख पम्प किसानों तक पहुंचा, आज आपकी किसान विरोधी नीतियों के चलते छत्तीसगढ़ के किसान भाई परेशान है। किसान आत्महत्या कर रहे हैं और आप अपनी जिम्मेदारियों से भाग रहे है। उन्होंने कहा कि भूपेश सरकार श्वेत पत्र जारी करें ताकि किसानों के आत्महत्या का कारण सामने आए। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को चुनौती देते हुए कहा कि भूपेश वादा पूरा करें नहीं तो सवाल पूछे जाएंगे। बेराजगारी भत्ता नहीं दिया युवकों में आक्रोश हैं, सवाल पूछे जाएंगे। शराबबंदी का वादा पूरा करों नहीं तो सवाल पूछे जाएंगे। किसानों को फसल का नुकसान का मुआवजा नहीं मिला तो सवाल पूछे जाएंगे। उन्होंने कहा कि दम है कितना दमन में तेरे देखी है और देखेंगे, कितनी लंबी जेल कचहरी देखी है और देखेंगे सवाल करेंगे जवाब देना होगा।

22-01-2021
भाजपा शासनकाल में अफ़सरशाही को लेकर मिथ्या प्रलाप करते रहे कांग्रेस नेताओं को विधायक सिंह ने आईना दिखाया:सिंहदेव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने छत्तीसगढ़ में नौकरशाही के हावी होने और इसे लेकर प्रदेश सरकार की ज़ाहिर हो रही बेबसी पर क़रारा कटाक्ष करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनके मंत्री-विधायक गाहे-बगाहे पूर्ववर्ती भाजपा शासनकाल में अफ़सरशाही को लेकर मिथ्या प्रलाप करते रहते हैं, उन्हें उनकी पार्टी के एक विधायक और सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष बृहस्पत सिंह ने आईना दिखा दिया है। सिंहदेव ने कांग्रेस विधायक सिंह द्वारा दो अफ़सरों की कार्यप्रणाली पर तंज कसे जाने और और उनकी खोजबीन की सोशल मीडिया पर सार्वजनिक सूचना जारी किए जाने का हवाला देकर कहा कि कभी सस्ती लोकप्रियता के लिए केंद्र सरकार को आईना भेजने वाले  मुख्यमंत्री बघेल ज़रा इस आईने में अपनी सरकार की छवि निहार लें तो राजनीतिक चतुराई और प्रशासनिक सूझबूझ की उनकी ग़लतफ़हमी दूर होते देर नहीं लगेगी। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सिंहदेव ने कहा कि पिछले दो साल से प्रदेश में अफ़सरशाही का बोलबाला है और प्रदेश सरकार का उस पर कोई क़ाबू नहीं है।

अफ़सर मनमाने फ़ैसले लेकर लोगों की दिक़्क़तें बढ़ा रहे हैं, लोगों को अपने जायज़ कामों के लिए भी अफ़सरों के महीनों चक्कर काटने पड़ रहे और प्रदेश के नौकरशाह अपनी सामंती मानसिकता का परिचय दे रहे हैं। प्रशासनिक स्तर पर आर्थिक घोटालों और भ्रष्टाचार के नित-नए मामलों का ख़ुलासा हो रहा है और प्रदेश सरकार इसके बजाय तबादला उद्योग चलाकर सियासी नौटंकियों को ही अपनी राजनीतिक और प्रशासनिक समझ का पैमाना मानने के भरम में है। सिंहदेव ने हैरत जताई कि प्रदेश के अफ़सर जब सत्तापक्ष के जनप्रतिनिधियों की बात ही सुनने को तैयार नहीं हैं तो यह अनुमान लगाना सहज है कि प्रदेश सरकार नौकरशाही के सामने घुटनों पर आ गई है। ऐसे हालात में विपक्ष के जनप्रतिनिधियों के साथ ये नौकरशाह किस तरह पेश आते होंगे, इसकी कल्पना की जा सकती है। भाजपा शासनकाल में नौकरशाही को लेकर प्रलाप करने वाले कांग्रेस के नेता और विधायकों के सामने आज हालात ऐसे हो चले हैं कि एक कांग्रेस विधायक ने प्रदेश के गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू के मुँह पर पुलिस महकमे में काम कराने के लिए रेट लिस्ट लगाने को कहा तो अब एक कांग्रेस विधायक को अपने इलाके के दो अफ़सरों की खोजबीन के लिए सोशल मीडिया पर सूचना जारी कर 11 सौ रुपए के इनाम की घोषणा तक करनी पड़ी है! भाजपा प्रवक्ता सिंहदेव ने कहा कि सरगुजा संभाग के रामानुजगंज के एसडीएम और तहसीलदार के ‘लापता’ होने की ऐसी घटना को लेकर प्रदेश सरकार राजनीतिक तौर पर कितनी शर्म महसूस करेगी, यह तो वही जाने; लेकिन अफ़सरों द्वारा निर्वाचित जनप्रतिनिधियों की तौहीन को प्रदेश सरकार एक सबक के तौर पर ज़रूर गंभीरता ले और ‘वन मैन शो’ की मानसिकता से उबरे।

 

22-01-2021
किसानों के मुद्दों पर भाजपा ने किया प्रदर्शन

कांकेर। किसानों से वादा खिलाफी, धान खरीदी में अव्यवस्था, बारदानों की समस्या सहित किसानों जुड़े मुद्दों को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। भाजपा ने सरकार पर निशाना साधते किसानों से छलावा और निरंकुश सरकार होने का आरोप लगाया। धरना प्रदर्शन के उपरांत पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी के नेतृत्व में रैली निकाल कलेक्ट्रेट कार्यालय का घेराव करने निकले भाजपाईयों से पुलिस की झुमाझपटी भी हुई। अंत में भाजपाईयों ने अपनी गिरफ्तार देकर प्रदर्शन समाप्त किया।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804