GLIBS
05-08-2019
राष्ट्रीय प्रदर्शनी की तैयारियों को लेकर स्कूल शिक्षा प्रमुख सचिव ने ली बैठक

रायपुर।  बच्चों के लिए 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी का आयोजन छत्तीसगढ़ में किया जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के सहयोग से राजधानी रायपुर के शंकर नगर स्थित बीटीआई ग्राउंड में 15 से 20 अक्टूबर तक राष्ट्रीय प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा गौरव द्विवेदी की अध्यक्षता में आज सिविल लाइन स्थित छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) के स्टेट डाटा सेंटर में आयोजन की तैयारियों के संबंध में बैठक आयोजित की गई। बैठक में बताया गया कि प्रदर्शनी में देशभर के लगभग 200 मॉडल प्रदर्शन के लिए आएंगे। प्रदर्शनी के मॉडल का विषय 'जीवन की चुनौतियों के लिए वैज्ञानिक समाधन' पर आधारित होगा। उप विषयों में कृषि एवं जैविक खेती, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता, संसाधन प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन, परिवहन और संचार और गणितीय प्रतिरूपण को भी सूचीबद्ध किया गया है। प्रदर्शनी में देशभर से लगभग 400 विद्यार्थी और 200 शिक्षकों की प्रतिभागिता होगी। प्रदर्शनी के अतिरिक्त प्रतिदिन समसामायिक और अन्य विषयों पर ख्यातिलब्ध वैज्ञानिकों का व्याख्यान भी होगा।  प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा गौरव द्विवेदी ने बैठक में कहा कि राष्ट्रीय प्रदर्शनी में सभी जिलों से चयनित बच्चों को बुलाया जाए। संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के अधिकारी को छत्तीसगढ़ी संस्कृति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुति के लिए निर्देश दिए। कलेक्टर रायपुर डॉ. एस. भारतीदासन ने कहा कि जिला स्तर पर बैठक लेकर आयोजन के संबंध में सभी आवश्यक व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी तय करके अवगत करायेंगे। बैठक में संचालक लोक शिक्षण एस. प्रकाश, संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद पी.दयानंद, संयुक्त सचिव स्कूल शिक्षा सौरव कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर शेख आरिफ हुसैन, अतिरिक्त संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद डॉ. सुनीता जैन, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद में विज्ञान एवं गणित शिक्षा विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर दिनेश कुमार, डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव सहित स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

 

24-05-2019
नवजोत सिंह सिद्धू छीना जाएगा मंत्री पद ! सीएम अमरिंदर ने राहुल से की मांग

नई दिल्ली। पहले से आरोप झेल रहे नवजोत सिंह सिद्धू की मुश्किलें बढऩे लगी हैं। अब नवजोत को कैबिनेट से हटाने की कवायद ने जोर पकड़ लिया है। सूत्रों के अनुसार  सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस संबंध में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत शीर्ष नेताओं से बातचीत भी कर ली है। अमरिंदर अब सिद्धू को मंत्रिमंडल में नहीं रखना चाहते हैं। अमरिंदर के अलावा इस कवायद में राज्य के अन्य मंत्री भी लगे हुए हैं। इन मंत्रियों की शिकायत है कि लोकसभा चुनावों के दौरान सिद्धू की हरकतों से सीएम की छवि को तो नुकसान पहुंचा ही, वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की छवि पर भी खराब प्रभाव पड़ा। इससे पहले गुरुवार को भी अमरिंदर ने कहा था कि वह नवजोत का विभाग बदलना चाहते हैं। उसका कारण यह है कि सिद्धू ठीक तौर पर अपना विभाग नहीं संभाल रहे हैं। सीएम ने कहा था कि नवजोत की पाकिस्तान सेना प्रमुख से यारी और झप्पी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है और खासकर सेना तो इसे बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगी।

15-04-2019
Aliens: क्या मंगल ग्रह पर एलियंस ने बना रखा है अड्डा !

वाशिंगटन। नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) के प्रमुख ने आइडेंटिफाइड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट (यूएफओ) विशेषज्ञ वैज्ञानिक स्कॉट सी वैरिंग ने दावा किया है कि मंगल ग्रह पर एलियंस का अड्डा है और यह अड्डा काफी पुराना है। उन्होंने यह चौंकाने वाला दावा 17 साल पहले ली गई एक तस्वीर के आधार पर किया है। बताया जा रहा है कि  2001 के मार्स ओडिसी मिशन के दौरान कथित तौर पर ओलंपस मोंस ज्वालामुखी के करीब एलियंस का यह अड्डा नजर आया था और इसकी तस्वीरें खींची गई थीं। वैज्ञानिकों के अनुसार ओलंपस मोंस ब्रह्मांड में मिला अब तक का सबसे बड़ा ज्वालामुखी है। यूएफओ विशेषज्ञ वैरिंग ने नासा की एक तस्वीर दिखाकर दावा किया कि तस्वीर में नीचे कोने पर एक पत्थर की संरचना देखी जा सकती है, जो कि एलियंस की बिल्डिंग है। वैरिंग के अनुसार जो बात ठीक से समझ आती है वह यह है कि एक चौकोर ढांचा एक पिरामिड जैसी जगह के साथ सुरंग के जरिए जुड़ा हुआ है। वैरिंग के कथनानुसार जिन एलियंस ने इसे बनाया है, वे न सिर्फ इस ग्रह के इर्द-गिर्द घूम रहे हैं बल्कि उन्होंने खुद को सुरक्षित रखने के लिए सुरंगें भी बना रखी हैं। नासा की फोटो में दिखने वाला यह एलियन बेस मंगल पर फैले सैकड़ों बेस में से एक है। बता दें कि वैरिंग को यूएफओ विशेषज्ञ माना जाता है। उन्होंने एलियंस की गतिविधियों की जानकारी जुटाने के लिए मंगल ग्रह और चंद्रमा की ऐसी हजारों तस्वीरों का अध्ययन किया है। कई बार उनकी तस्वीरों में सिर्फ पत्थर और एलियन जैसी छायाएं नजर आती हैं। वैरिंग एलियंस के अस्तित्व पर पूरी तरह से विश्वास करते हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804