GLIBS
10-12-2019
करोड़ों की जमीन की हेराफेरी के आरोपी कलश के निवास गई पुलिस बैरंग लौटी

रायपुर। रायपुर वीआईपी रोड धरमपुरा की करोड़ों रुपए की जमीन की हेराफेरी के आरोपी प्रकाश कलश की आरोपी पत्नी कंचन कलश की गिरफ्तारी के लिए वीआईपी रोड स्थित उनके निवास गई पुलिस बैरंग लौट आई है। सिविल लाइंस पुलिस के टीआई बेनर्जी के नेतृत्व में सिविल लाइंस पुलिस ने मंगलवार को प्रकाश कलश के मकान पर दबिश दी। प्रकाश कलश ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत याचिका दायर कर रखी है और उस पर फैसला आना बाकी है। इसलिए पुलिस प्रकाश कलश की तलाश नहीं कर रही है लेकिन इसी मामले आरोपी कंचन कलश को जमानत नहीं मिली है इसलिए उसकी तलाश कर रही है। 
पुलिस ने छापामारी के दौरान पाया के प्रकाश कलश और कंचन कलश दोनों ही घर पर नहीं है। पुलिस ने काफी दिनों बाद दोनों की गिरफ्तारी के लिए बड़ी कार्रवाई की। सालों पुराने इस मामले में प्रकाश कलश जमानत का फायदा उठाकर बचता आया है। यहां यह बताना गैर जरूरी नहीं होगा कि प्रकाश कलश, कंचन कलश व विक्रम राणा के खिलाफ सीजी रियल एस्टेट ने जमीन की धोखाधड़ी रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पंजाब नेशनल बैंक में बंधक जमीन को करोड़ों रुपए में आरोपियों ने सीजी रियल स्टेट कंपनी को बेच दिया था। और जब पंजाब नेशनल बैंक ने उस जमीन की नीलामी के लिए विज्ञापन निकाला तो सारे मामले का भंडाफोड़ हुआ था। उसके बाद सीजी रियल एस्टेट वालों ने प्रकाश कलश के खिलाफ रिपोर्ट लिखाई थी। इस पर सालों बाद गिरफ्तारी के लिए अब पहल हो रही है। बहरहाल पुलिस की इस पहल को साहसिक कदम बताया जा रहा है क्योंकि प्रकाश कलश काफी रसूख वाला बताया जाता है। पुलिस की इस पहल को पुलिस का मनोबल बढ़ाने वाला कदम भी बताया जा रहा है। 
 

07-12-2019
पूर्व सीएम ने दी गिरफ्तारी और कमलनाथ सरकार के लिए कही यह बात

सागर। शुक्रवार को यूरिया संकट और भाजपा विधायक प्रदीप लारिया पर दर्ज मुकदमे के खिलाफ भाजपा ने शनिवार को धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गिरफ्तारी भी दी। चौहान के साथ-साथ नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने भी गिरफ्तारी दी। इस दौरान  शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को चेतावनी दी कि प्रदेश में किसान परेशान हुए तो मंत्रियों को सड़कों पर निकलना बंद कर देंगे। विरोध प्रदर्शन के बाद शिवराज सिंह चौहान समेत सभी टैक्टर पर बैठकर गिरफ्तारी देने पहुंचे। लेकिन मकरोनिया थाना पहुंचने से पहले ही पुलिस ने बैरिकेट लगाकार नेताओं को रोक दिया। बाद में पुलिस ने नेताओं की गिरफ्तारी की घोषणा की और फिर सामूहिक रिहाई की भी घोषणा कर दी। शिवराज सिंह चौहान ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि  एक आदमी लाइन में लगेगा तो एक बोरी खाद मिलेगी। इसलिए पूरा परिवार लाइन में लग जाता है। बेटा, बहू, माता, पिता और 48 घंटे लाइन में लगे रहने के बाद एक बोरी खाद मिलती है तो दिल पर क्या गुजरती है, यह उस किसान से पूछो। उन्होंने कहा कि सीएम कमलनाथ को इसके लिए शर्म आनी चाहिए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि जो किसान समय पर कर्ज चुकाते थे, वह भी आज कांग्रेस के झूठे वादे के जाल में फंसकर डिफाल्टर हो गए। डिफाल्टर होने की वजह से उन किसानों को सोसायटी से खाद-बीज के लिए ऋण नहीं मिल रहा है।

 

06-11-2019
पेट्रोल पंप का पता पूछना पड़ा महंगा, चाकू से वार कर छीनकर भागे 30 हजार

रायपुर। पेट्रोल पंप का पता पूछते ही आरोपियों ने पीडि़त की मोटरसाइकिल की चाबी निकालकर व चाकू से जांघ पर वार कर जेब में रखे 30 हजार रुपए छीनकर फरार हो गए। जानकारी के अनुसार पचरीपारा दुर्ग निवासी अक्षत दुबे ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि 2 नवंबर को वह अपने दोस्तों से मिलने रायपुर आया था। वापस सभी दोस्त अंशु दुबे, खिगेश, सैयद मिराज और आयुष देशमुख अपनी-अपनी बाइक से जाते समय रात  10.35 बजे कोंदाबाड़ी कृष्णा नगर टिकरापारा के पास एक मोटरसाइकिल का पेट्रोल खत्म हो जाने पर संतोषी नगर के पास खड़े 4 युवकों से पेट्रोल पंप का पता पूछा। इस पर आरोपियों ने मोटरसाइकिल की चाबी छीनकर चाकू निकालकर सैयद मिराज के जांघ पर मारकर घायल कर दिया और उसकी जेब से 30 हजार रुपए निकालकर भाग निकले। चाकू देखकर डर से अन्य साथी दूर जाकर खड़े हो गए। प्रार्थी का संतोषी नगर आना-जाना था। वह उन्हें पहचानता था। उसने बताया कि आलू, चंदन, चेतन, गब्बर नाम के चार आरोपी युवकों ने चाकू की नोंक पर लूट को अंजाम दिया है। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस आरोपियों के खिलाफ  धारा 394 के तहत अपराध कायम कर गिरफ्तारी में जुटी है।

 

27-10-2019
कभी कमजोर नहीं पड़ूंगा, न्याय के लिए लडूंगा: कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार 

बेंगलुरु। मनी लॉन्ड्रिंग केस में जमानत मिलने के 3 दिन बाद कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने  कर्नाटक में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस ली। उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय द्वारा अपनी गिरफ्तारी के बारे में जानकारी दी। प्रेस कॉन्फ्रेंस में डीके शिवकुमार ने कहा कि उन्हें ईडी का समन देर रात मिला और उन्हें अगले दिन दोपहर 12 बजे तक दिल्ली पहुंचने के लिए कहा गया। जो उस समय काफी कठिन था। हालांकि, एक सांसद होने के नाते मैं समन के अनुसार ईडी कार्यालय गया। डीके शिवकुमार ने कहा कि, बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह कमजोर नहीं बल्कि और मजबूत हुए हैं और सरेंडर करने का सवाल ही नहीं है। उन्होंने कहा कि वे न्याय के लिए लड़ते रहेंगे। शिवकुमार ने कहा कि, मैंने अधिकारियों को सूचित किया कि यह कठिन होगा और मुझे समय की आवश्यकता है। 
डीके शिवकुमार ने पार्टी को उनका साथ देने के लिए धन्यवाद कहा और उन्होंने पार्टी के प्रति अपनी निष्ठा जाहिर की। डीके शिवकुमार ने कहा, उन्होंने (भाजपा) ने मुझे मजबूत बनाया है। कमजोर होने का कोई सवाल नहीं है, आत्मसमर्पण का कोई सवाल नहीं है। मैं न्याय के लिए लड़ूंगा। शिवकुमार को 50 दिन की हिरासत के बाद दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दी गई सशर्त जमानत पर गुरुवार को तिहाड़ जेल से रिहा किया गया। वह धनशोधन रोकथाम अधिनिमय, 2002 के तहत एक मामले में हिरासत में थे। यह मामला आयकर विभाग ने दायर किया था, जिसने अगस्त 2017 में उनके नई दिल्ली स्थित फ्लैट से 8.6 करोड़ रुपये नकद जब्त किए थे।

26-10-2019
कलेक्टर और एसपी ने जेल का किया निरीक्षण 

मुंगेली। उपजेल से चार कैदियों के फरार होने के बाद जिला कलेक्टर और एसपी ने जेल का निरीक्षण किया। फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस नाकेबंदी करने के साथ-साथ सोशल मीडिया पर फोटो जारी कर लोगों से मदद की अपील भी कर रहे हैं। मुंगेली उपजेल से चार कैदियों के फरार होने के बाद से ही जेल में हड़कंप मचा हुआ है। देर रात उपजेल के बैरक क्रमांक तीन में बंद कैदी बैरक का ताला तोड़कर गमछे और चादर की मदद से दीवार फांद कर भाग निकले। जेल अधीक्षक ने मामले की सूचना कोतवाली थाने में दर्ज कराई। जिसके बाद इसकी सूचना कलेक्टर और एसपी को दी गई। जेल प्रशासन की लापरवाही से भागे कैदी जेल प्रशासन ने लापरवाही बरतने के मामले में दो प्रहरियों कमल साहू और चेतन को निलंबित कर दिया है। बता दें कि जिस बैरक से ये चारों कैदी भागे हैं, उस बैरक की स्थिति खराब होने की वजह से बंद कर दिया गया था। इसके बावजूद इन कैदियों को यहां रखा गया। फरार आरोपी तरुण केंवट उर्फ छोटू पर बलात्कार का मामला दर्ज है। धीरज पर हत्या का मामला दर्ज है। इंदल उर्फ इंद्रध्वज पर 457 और अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज है। सुरेश पटेल पर नारकोटिक्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। 

11-10-2019
नौकरी लगाने के नाम पर 15 लोगों से 50 लाख से ऊपर की ठगी, दो आरोपी गिरफ्तारी

अंबिकापुर। सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर आरोपियों द्वारा कई लोगों से 50 लाख की ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। प्रार्थी की प्राथमिक सूचना पर पुलिस हरकत में आई और  इस पूरे मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार उक्त आरोपियों द्वारा जिला पंचायत में चपरासी स्टेनो व ड्राइवर सहित अन्य पदों पर नौकरी दिलाने के नाम पर करीब 15 लोगों से  50 लाख रुपये से अधिक की ठगी कर चुके हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है पुलिस के द्वारा जारी किए गए विज्ञप्ति में बताया गया कि मणिपुर निवासी दिनेश प्रजापति ने सरगुजा रेंज आईजी के पास शिकायत आवेदन दिया था कि सती पारा निवासी ललित भगत के द्वारा जिला पंचायत में नौकरी लगाने के नाम पर 4 लाख रुपये ठगी किया गया है।

शिकायत के उपरांत सुमित यादव ललित भगत और राजेश हुजूर के खिलाफ धारा 420, 34 के तहत अपराध दर्ज कर पतासा जी की जा रही थी। मुखबिर की सूचना पर आरोपी सुमित यादव को घेराबंदी करके केदारपुर में पकड़ लिया गया। इन्हे हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर बताया कि ललिता भगत मुन्ना दास के साथ मिलकर लोगों को जिला पंचायत में चपरासी स्टेनो और ड्राइवर के पद पर नौकरी दिलाने के नाम से लोगों से पैसा लेकर आपस में बांट लेते थे जिला पंचायत के सहायक ग्रेड 3 पर पदस्थ मुन्ना दास के द्वारा नियुक्ति पत्र टाइप करके देता था वह सेल साइन करके लोगों को दिया जाता था। आरोपियों के द्वारा अब तक कुल 15 बेरोजगारों से जिला पंचायत में नौकरी लगाने के नाम पर कुल 50 लाख 60 हजार रुपये की ठगी कर ली गई है। पुलिस ने दो आरोपि सुमित यादव व मुन्ना दास को गिरफ्तार कर लिया जबकि अन्य आरोपी फरार हैं, जिनकी तलाश पुलिस कर रही है।

09-10-2019
गिरफ्तारी से बचने ठिकाने बदल रहा था वारंटी, आरपीएफ ने ऐसे भेजा जेल

रायपुर। वर्ष 1990 के अवैध कब्जा अधिनियम का आरोपी गिरफ्तारी से बचने के लिए जगह बदल-बदल कर आरपीएफ को चकमा दे रहा था। आरपीएफ ने आरोपी के घर पर दबिश देकर  गिरफ्तार किया, उसे न्यायालय में पेश कर जेल भेजा गया है। आरपीएफ से प्राप्त जानकारी के मुताबिक रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट रायपुर के प्रकरण 1990 के  रेलवे संपत्ति अवैध कब्जा अधिनियम के आरोपी जज खान उर्फ राजू पिता शब्बीर (18) वर्तमान उम्र 48 वर्ष रावण भाठा निवासी के नाम विशेष रेलवे मजिस्ट्रेट रायपुर द्वारा वर्ष 1990 में स्थाई गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया था। स्थाई गिरफ्तारी वारंट के आधार पर आरोपी गिरफ्तारी से बचने के लिए जगह बदल बदल कर रह रहा था। 7 अक्टूबर को को उपनिरीक्षक एसके शुक्ला, प्रधान आरक्षक राजेंद्र रायकवार और आरक्षक ओमप्रकाश मिश्रा ने उसके निवास स्थान और आस-पास पतासाजी कर आरोपी जज खान उर्फ राजू को गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद आरोपी को न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। न्यायालय द्वारा आरोपी को जेल दाखिला किया गया। आरोपी के नाम  स्थाई वारंट जारी होने के 29 वर्ष बाद गिरफ्तारी हुई है।

21-09-2019
वन संरक्षक के घर चोरी, 2 महिलाओं सहित पांच आरोपी गिरफ्तार

रायपुर। राजधानी रायपुर के थाना खम्हारडीह के अंतर्गत आने वाले महामाया विहार में पिछले दिनों वन संरक्षक अनिल सोनी के घर रात में चोरी की घटना सामने आई थी जिसमें पुलिस ने अपराध क्रमांक 11/19 धारा 457, 380 भारतीय दंड संहिता के तहत अपराध पंजीबद्ध कर कुल 5 आरोपियों की गिरफ्तारी की है । खुलासा करते हुए नगर पुलिस अधीक्षक सिविल लाइन एवं थाना प्रभारी खम्हारडीह ने बताया कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख के निर्देशानुसार एक टीम गठित की गई थी जो चोरी के घटनास्थल की बारी से जांच कर प्रार्थी, परिजनों तथा आसपास के लोगों से घटना के संबंध में विस्तृत पूछताछ कर घटनास्थल के पास मुखबीर व सीसीटीवी फुटेज को खंगालने के साथ-साथ अज्ञात आरोपियों से पूछताछ कर रही थी। घटना का मास्टरमाइंड अमन नगर निवास एक अपचारी बालक निकला जो पूर्व में भी चोरी के प्रकरणो पर बाल संप्रेषण गृह माना में निरुद्ध रह चुका है। पुलिस ने बताया कि आरोपियों के पास से चोरी किए गए सोने-चांदी के जेवरात व नगदी रकम कुल डेढ़ लाख रुपए जप्त किए गए है। आरोपी राहुल, लक्ष्मी बघेल, चंद्रिका तथा अन्य दो आरोपियों को कब्जे में लेकर चोरी की गई अन्य सामान 11 नग मोबाइल फोन, 1 नाक डेल कंपनी लैपटॉप, 1 टेबलेट भी जप्त किया गया है। पुलिस ने बताया कि यहां आरोपी आदतन अपराधी है व रायपुर के अलग-अलग क्षेत्र में चोरी करते थे। 

07-09-2019
अमित जोगी का बढ़ा ब्लड प्रेशर, अपोलो में भर्ती

रायपुर। गिरफ्तारी के बाद से अमित जोगी की तबियत लगातार बिगड़ने लगी है। देर रात स्वास्थ ज्यादा खराब होने पर उन्हें अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गोरखपुर उपजेल में स्वास्थ्य बिगड़ने के बाद उन्हें सिम्स में भर्ती कराया गया था। डॉक्टर ने बेहतर इलाज के लिए अपोलो अस्पताल रेफर किया है। उन्हें बेहोशी की हालत में अस्पताल लाया गया। ब्लड प्रेशर बढ़ने के कारण अमित जोगी की तबियत में सुधार नहीं हो पा रहा है। फिलहाल उनका इलाज अपोलो अस्पताल में जारी है। वहीं दूसरी ओर अमित जोगी के पिता पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी भी खराब स्वास्थ्य के चलते दिल्ली के मेदांता अस्पताल में भर्ती है।

03-09-2019
अमित जोगी की गिरफ्तारी मामले में जकांछ ने किया प्रदर्शन

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी की गिरफ्तारी के बाद आज जकांछ के कार्यकर्ताओं ने प्रदेश भर में प्रदर्शन किया। जकांछ का आरोप है कि जो कार्रवाई की गई वह राजनीतिक षडयंत्र के तहत हुई है। आज राजधानी में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के कार्यकर्ताओं ने पुतला दहन किया, जिसे पुलिस ने रोकने का भरपूर प्रयास किया। इस बीच जकांछ का  विरोध प्रदर्शन जारी रहा।

03-09-2019
अमित जोगी की गिरफ्तारी सीएम बघेल की बौखलाहट का नतीजा : जोगी कांग्रेस

कवर्धा। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी को  मरवाही सदन बिलासपुर से गिरफ्तार करने के विरोध में युवा जनता कांग्रेस बोड़ला ने आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पुतला दहन नारेबाजी की। युवा जनता कांग्रेस के शहर जिलाध्यक्ष सुनील केशरवानी ने कहा कि यहां तानाशाही तरीके से सरकार चला रही है। भूपेश बघेल जंगलराज चला रहे हैं, बदलापुर की राजनीति हो रही है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी की गिरफ्तारी मुख्यमंत्री की बौखलाहट का नतीजा है। दंतेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव और आने वाले समय में नगरीय पंचायतों के चुनाव में हार के डर से मुख्यमंत्री पुलिस का डर पैदा करना चाहते है। प्रदेश में दहशत पैदा कर चुनाव जीतना चाहते हैं। इस गिरफ्तारी से जनता कांग्रेस का कोई कार्यकर्ता डरने वाला नहीं है। पूरा प्रदेश जोगी के साथ है। प्रशासन की हर कार्यवाही का जवाब देंगे। इस दरमियान वसीम सिद्दीकी, दलिचंद ओगरे, गणेश पात्रे, बिहारी पटेल, जितेंद्र मानिकपुरी, श्याम मेश्राम, गजेंद्र कश्यप, सत्य प्रकाश सत्यवंशी, हिमांशु महोबे, आफताब रजा, खिलेश कान्त, तिजाऊ सहित बड़ी संख्या में जनता कांग्रेस, युवा जनता कांग्रेस व छात्र विंग के सदस्य उपस्थित थेे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804