GLIBS
08-08-2020
कृषि विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों के लिए हेल्प डेस्क और हेल्पलाइन शुरू

रायपुर। देशव्यापी कोविड-19 महामारी को देखते हुए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर की ओर से विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों के लिए हेल्पलाइन और हेल्पडेस्क की व्यवस्था की गई है। इस हेल्पडेस्क के माध्यम से विद्यार्थी विश्वविद्यालय से संबंधित अपनी समस्याएं दर्ज करा सकते हैं। साथ ही दर्ज समस्याओं की स्थिति की भी जांच कर सकते हैं। विद्यार्थियों के लिए हेल्पडेस्क की व्यवस्था इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय  IGKVMIS की वेबसाइट  www.igkvmis.cg.nic.in और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा निर्मित student corner app पर उपलब्ध है। इसके अलावा छात्रों के लिए हेल्पलाइन नंबर 0771-2972070 एवं ई-मेल ¼igkvmis.cg@gov.in½ भी जारी किया गया है। जिस पर कार्यालयीन समय में संपर्क कर विद्यार्थी अपनी समस्याओं का समाधान कर सकते हैं।

21-07-2020
राहुल गांधी ने साधा बिहार सरकार पर निशाना, कहा- राज्य में कोरोना महामारी की स्थिति नाजुक,सुशासन का हुआ पर्दाफश

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बिहार में कोरोना वायरस के तेजी से पैर पसारने को लेकर मंगलवार को प्रदेश की जदयू-भाजपा सरकार पर निशाना साधा और दावा किया कि वहां की स्थिति ने ‘सुशासन’ का पर्दाफाश कर दिया है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘बिहार में कोरोना महामारी की स्थिति नाज़ुक है और राज्य सरकार के नियंत्रण से बाहर हो चुकी है। अस्पताल वार्ड में लावारिस शव का पड़े होना बिहार सरकार के ‘सुशासन’ का पर्दाफ़ाश करता है।’ बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण 24 घंटे के दौरान आठ और लोगों की मौत होने से मृतकों की संख्या सोमवार को बढ़कर 187 पर पहुंच गई। कोरोना महामारी के संक्रमण के मामलों की संख्या 27,455 हो गई है। 

 

 

10-07-2020
महाराष्ट्र में एक दिन में मिले सबसे ज्यादा 7862 कोरोना पॉजिटिव

मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का कहर बरकरार है। राज्य में शुक्रवार को सर्वाधिक 7862 कोविड-19 (COVID-19) पॉजिटिव मामले सामने आए है। जबकि 5366 मरीजों को स्वास्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। बीते एक दिन में 226 संक्रमितों की मौत हुई है। महाराष्ट्र में अब पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या बढ़कर 2 लाख 38 हजार 461 हो गई है, जिनमें से 1 लाख 32 हजार 625 ठीक हो चुके हैं। अब तक महामारी से कुल 9 हजार 893 लोगों की मौत हुई है। महाराष्ट्र के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक शुक्रवार को दिनभर में 5,366 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया है। इसके साथ ही राज्य में अब तक 12 लाख 53 हजार 978 लोगों की कोरोना जांच की गई है। वर्तमान में राज्य में कोविड-19 के 95 हजार 943 सक्रीय मामले है,सबका विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के सबसे जादा मामले है। इस बीच महाराष्ट्र सरकार ने एंटी वायरल दवाओं रेमडेसिविर और टॉसिलिज्यूमैब की बड़ी खरीद की घोषणा की है। राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने इन दवाओं की कमी की शिकायतों के बीच शुक्रवार को कहा कि महाराष्ट्र सरकार इन दवाओं को खरीदकर जल्द ही पूरे राज्य में जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाएगी। महाराष्ट्र में रेमडिसिविर और टॉसिलिज्यूमैब की खरीदने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। साथ ही देशमुख ने कोविड-19 महामारी के मरीजों के इलाज में इस्तेमाल की जा रहीं इन दवाओं की काला बाजारी करने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है।

08-07-2020
देश में 7.42 लाख से अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीज, अब तक 20,642 की मौत

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस महामारी का संकट भारत में हर दिन बढ़ता जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 22,752 नए मामले सामने आए हैं और 482 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 7,42,417 हो गई है, जिनमें से 2,64,944 सक्रिय मामले हैं, 4,56,831 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 20,642 लोगों की मौत हो चुकी है।

06-07-2020
7 लाख के पार पहुंची देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 7 लाख के पार पहुंच गई है। हालांकि, अच्छी बात यह है कि इनमें से अब तक 4 लाख 24 हजार 894 लोग रिकवर हो चुके हैं। सोमवार को अब तक 2,888 संक्रिमतों की संख्या और बढ़ गई। दो बार से 5-5 दिन में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक-एक लाख के पार पहुंच रही है। बता दें कि 28 जून को देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 5 लाख 49 हजार 197 थी। कोविड-19 महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की सूची में भारत रविवार को ही रूस को पीछे छोड़ तीसरे स्थान पर पहुंच गया था। इस मामले में अमेरिका पहले और ब्राजील दूसरे स्थान पर है। देश में कोरोना वायरस का पहला मामला 30 जनवरी को आया था। इसे 7 लाख होने में 158 दिन लगे। अब हर 5 दिन में एक लाख मरीज बढ़ रहे हैं। यदि इसी रफ्तार से संक्रमितों की संख्या बढ़ती रही तो इस महीने यह आंकड़ा 12 लाख के पार जा सकता है। अभी देश में रिकवरी रेट 60 प्रतिशत से ज्यादा हो गया है। वहीं, डेथ रेट 2.82 प्रतिशत है। 

29-06-2020
कोरोना : देश में पिछले 24 घंटे में 19,459 नए मामले आए, 380 लोगों की मौत

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस महामारी का संकट भारत में हर दिन बढ़ता जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटे में 19,459 नए मामले सामने आए हैं और 380 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 5,48,318 हो गई है, जिनमें से 2,10,120 सक्रिय मामले हैं। 3,21,723 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 16,475 लोगों की मौत हो चुकी है।

26-06-2020
कोरोना : देश में पिछले 24 घंटे में 17,296 नए मामले आए, 407 लोगों की मौत...अब तक 2.85 लाख हुए ठीक

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस महामारी का संकट भारत में हर दिन बढ़ता जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 17,296 नए मामले सामने आए हैं और 407 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 4,90,401 हो गई है, जिनमें से 1,89,463 सक्रिय मामले हैं, 2,85,637 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 15,301 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही देश में वायरस से स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। अब तक 2.85 लाख लोग पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं।

23-06-2020
महामारी कोरोना को देखते हुए सरकार का फैसला, इस साल भारत से हज के लिए नहीं जाएंगे श्रद्धालु

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। कोरोना वायरस के काराण इस बार मुस्लिम श्रद्धालु हज की यात्रा नहीं कर पाएंगे। इस साल हज यात्रा के लिए किसी को भी सऊदी अरब नहीं भेजा जाएगा। मंगलवार को केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा 'हमने फैसला किया है कि इस साल भारत से जाने वाले यात्रियों को हज यात्रा पर सऊदी अरब नहीं भेजा जाएगा। अब तक 2.3 लाख से ज्यादा भारतीय मुसलमानों ने हज यात्रा के लिए आवेदन किया है। सभी का पैसा बिना किसी कटौती के उन्हें वापस कर दिए जाएंगे। बता दें कि हज यात्रा दुनिया भर के मुसलमानों के लिए सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठान है, जिसे लगभग सभी मुसलमान अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार जरूर करना चाहते हैं। धार्मिक रूप से सभी मुसलमानों के लिए यह अनिवार्य है कि आर्थिक स्थिति सही होने की स्थिति में उन्हें हज करना होगा। बता दें कि भारत से औसतन हर साल लगभग दो लाख लोग हज के लिए सऊदी अरब जाते हैं। दुनिया के सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश इंडोनेशिया ने अपने नागरिकों के हज यात्रा पर जाने पर रोक लगा दी है। इंडोनेशिया से हर साल 2,20,000 लोग हज के लिए सऊदी अरब जाते हैं।

19-06-2020
कोरोना महामारी का डर नहीं दिख रहा लोगों में, बेपरवाह होकर सड़कों पर निकल रहे लोग

रायपुर। अनलॉक-1 में लोग शहर की सड़कों पर बेपरवाह होकर घूमते नजर आ रहे हैं। मास्क के नाम पर सड़कों पर चालानी कार्यवाही तो हो रही है लेकिन क्या इससे कोरोना की स्पीड पर ब्रेक लग सकता है। सड़क पर पहले जैसी भीड़, बेपरवाह लोग सड़कों पर मस्ती से गुजर रहे हैं। राशन दुकान पर भीड़, सब्जी बाजार में भीड़, रास्ते में भीड़, मछली बाजार में भीड़। कहीं भी कोई सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होता नजर नहीं आ रहा है। बाजार का आर्थिक पहिया ठप्प है और ठप्प रहेगा। विश्वव्यापी कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए सोशल मीडिया पर चिकित्सकगण एवं लोकस्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा लगातार समझाइश दी जा रही है। बावजूद इसके शहर के प्रमुख बाजारों गोल बाजार, सदर बाजार, एमजी रोड, रामसागर पारा, पुरानी बस्ती, फाफाडीह सहित अन्य बाजारों में सुबह से लेकर रात तक लोगों की भीड़ दुकानों में दिखाई दे रही है। आम नागरिक बाजार में खरीददारी के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं।

06-06-2020
मास्क पहनने को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जारी किए नए दिशानिर्देश, जिन्हें जानना आपके लिए है जरुरी

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। इस महामारी से बचाव और इसके प्रसार को रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन शुरू से ही दिशा निर्देश जारी करते आ रहा है। डब्ल्यूएचओ ने अब मास्क पहनने संबंधी नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। डब्ल्यूएचओ के अनुसार मास्क पहनने की जरूरत उन जगहों पर ही है जहां पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं किया जा सकता। आइए जानते है डब्ल्यूएचओ के नए दिशा निर्देश के बारे में। वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी की नई गाइडलाइंस में कहा गया है कि लोगों को उन जगहों पर मास्क पहनना चाहिए जहां पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं किया जा सकता। नए दिशानिर्देश में जानकारी दी गई है कि फेस मास्क किन लोगों को पहनने चाहिए, किन परिस्थितियों में पहने जाने चाहिए और इनकी बनावट या सामग्री क्या होनी चाहिए। गौरतलब है कि मास्क पहनने संबंधी दिशानिर्देशों को लेकर डब्ल्यूएचओ की आलोचना हुई है। कहा गया कि मास्क न लगाने संबंधी डब्ल्यूएचओ के दिशानिर्देशों की वजह से कोरोना दुनिया भर में तेजी के साथ फैला।

ऐसे होने चाहिए मास्क :

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मास्क की क्वालिटी को लेकर भी जानकारी दी है। बताया गया है कि नए शोध से मिली जानकारी बाद इनमें कपड़े और अन्य प्रकार के मास्क से संबंधित जानकारी शामिल की है। फेस मास्क को बाजार से खरीदा जा सकता है और घर में भी बनाया जा सकता है लेकिन उसमें तीन परतें होनी चाहिए। सूत का अस्तर पोलिएस्टर की बाहरी परत, और बीच में पोलिप्रोपायलीन की बनी ‘फिल्टर’ जैसी परत।

इन जगहों पर पहनें मास्क :

विश्व स्वास्थ्य संगठन की तरफ से कहा गया है कि देशों को अपने यहां भीड़भाड़ वाली जगहों पर मास्क पहनने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करना चाहिए। साथ ही ऐसी जगहों पर भी जहां पर कम्यूनिटी ट्रांसमिशन जैसी स्थितियां हों। रेल, बस जैसी भीड़भाड़ वाली जगहों पर भी मास्क का इस्तेमाल किया जा सकता है।

संगठन के महानिदेशक ने किया बचाव :

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉक्टर टेड्रॉस एडहेनॉम ने आगाह किया है कि फेस मास्क पर बहुत ज्यादा भरोसा करने से भी बचना होगा उनके मुताबिक फेस मास्क इस बीमारी को हराने के लिए एक व्यापक रणनीति का हिस्सा भर हैं और अन्य ऐहतियाती उपाय अपनाना भी उतना ही अहम है। मैं इसे और ज्यादा स्पष्टता से नहीं बता सकता। महज मास्क का इस्तेमाल आपको कोविड-19 से नहीं बचाएगा। शारीरिक दूरी बरतने, हाथों को साफ रखने और सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा के अन्य उपायों की जरूरतों का विकल्प केवल मास्क नहीं हो सकते।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804