GLIBS
15-05-2020
पीएचक्यू ने सभी एसपी को जारी किया पत्र, मोटरयान संबंधित दस्तावेजों की वैधता 30 जून तक बढ़ाई गई

रायपुर। पुलिस मुख्यालय ने सभी पुलिस अधीक्षकों को पत्र जारी कर मोटरयान संबंधित दस्तावेजों की वैधता 30 जून तक बढ़ा मानने कहा है। जारी पत्र में कहा गया है कि लॉक डाउन के दौरान सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली की सलाह अनुरूप मोटरयान अधिनियम, 1988 एवं केंद्रीय मोटरयान नियम 1989 से सम्बंधित दस्तावेजों की वैधता 1 फरवरी, 2020 को समाप्त हो गई है या 30 जून, 2020 तक समाप्त हो जाएगी, उन्हें 30 जून 2020 तक वैध माना जाये।कोविड-19 के फैलाव को रोकने के लिए लॉक डाउन के लिए गृह मंत्रालय की ओर से जारी गाइड लाइन को पूर्ण रूप से जारी करना, शासन द्वारा आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता और उत्पादन के लिए सामान/कार्गो के परिवहन के लिए वाहनों को अनुमति दिया जाना, देश में पूर्ण लॉक डाउन और शासकीय परिवहन कार्यालय के बंद होने के कारण नागरिकों को वैधता के नवीनीकरण में कठिनाई को देखते हुए उक्त निर्देश जारी किए गए हैं।

 

06-04-2020
गृह मंत्री सख्त,पुलिस अधीक्षकों से कहा—लॉक डाउन का पालन कराने के लिए कड़ाई बरते

रायपुर। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कोरोना महामारी के नियंत्रण और रोकथाम के लिए किए गए लाॅक डाउन से संबंधित शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए आज सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों से फोन पर बात की और लाॅकडाउन की स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने पुलिस अधीक्षकों को जिलों में लॉकडाउन का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि गृह मंत्री को रविवार को फेसबुक लाइव पर लाॅक डाउन के संबंधित कई शिकायतें प्राप्त हुई थी।
गृहमंत्री साहू ने प्रदेश में किसी भी स्थिति में कालाबाजारी नहीं हो इस पर भी नियंत्रण रखने के निर्देश सभी पुलिस अधीक्षकों और विभागीय अधिकारियों को दिए। उन्होंने अत्यावश्यक सामानों की कालाबाजारी के बारे में प्राप्त किसी भी शिकायत पर तत्काल कड़ी कार्यवाही को कहा। साहू ने बेवजह सड़कों पर घूमने वालों पर सख्ती बरतने तथा जरूरी सामानों के लिए खुले दुकानों पर सोशल डिस्टेन्स का कड़ाई से पालन कराने को कहा। गृह मंत्री ने रविवार को फेसबुक पेज पर लाइव आकर प्रदेश की जनता से संवाद किए थे और लोगों द्वारा पूछे गए महत्वपूर्ण सवालों का जवाब भी दिए थे।

 

28-03-2020
लॉकडाउन के दौरान कृषि के अतिआवश्यक कार्य के लिए न्यूनतम श्रमिकों को मिलेगी अनुमति 

रायपुर।  कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान कृषि प्रक्षेत्रों और उद्यान रोपणियों में अतिआवश्यक कार्य के लिए न्यूनतम श्रमिकों को कार्य करने की अनुमति दी जाएगी। सचिव कृषि विभाग एवं किसान कल्याण तथा जैव प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से इस संबंध में सभी संभाग के आयुक्त, कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों को इंसीडेन्ट कमान्डर्स कार्यपालिक दंडाधिकारी को इस संबंध में समुचित आवश्यक उपाय और शर्तों के साथ अनुमति देने के निर्देश दिए गए हैं। शासन के कृषि विकास एवं किसान कल्याण तथा जैव प्रौद्योगिकी विभाग ने जारी पत्र में कहा है कि कुछ कृषक संगठन की ओर से अनुरोध किया गया है कि सब्जी और फल तोड़ने, पैकेजिंग करने एवं सब्जी फार्म में कार्य करने से मजदूरों को आवागमन में और प्रशासन की ओर से नियत एवं निर्धारित स्थान में लाने व कोल्ड स्टोरेज तक परिवहन में रोका जा रहा हैं। जिससे फल एवं सब्जी का अभाव हो सकता है, अनावश्यक मूल्य बढ़ने का संकट उत्पन्न हो सकता है, साथ ही सब्जियों एवं फल का निष्पादन नहीं किए जाने से उनके सड़ने की स्थिति हो सकती है। केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा 24 मार्च को जारी आदेश के द्वारा गाइडलाईन में कंडिका-4(ए) ह्यडिलींग विथ फूडह्य, फ्रूट एवं वेजिटेबल तथा कंडिका-4(आई) में कोल्ड स्टोरेज एवं वेयरहाऊस सेवाओं को छूट प्रदान की गई है, अत: इंसीडेन्ट कमान्डर्स कार्यपालिक दंडाधिकारी को इस संबंध में समुचित आवश्यक उपाय एवं शर्तों के साथ अनुमति प्रदान करने के लिए निर्देशित किया जाए।

28-03-2020
ड्यूटी के दौरान पुलिसकर्मी स्वयं को भी रखें सुरक्षित : डीएम अवस्थी

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने आज समस्त रेंज पुलिस महानिरीक्षक और पुलिस अधीक्षकों को विडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी पुलिस अधिकारी ड्यूटी के दौरान अपने आप को सुरक्षित रखें। मास्क लगाएं, सेनेटाईजर का उपयोग करें साथ ही निर्धारित सोशल डिस्टेंस बनाये रखें। विशेष परिस्थितियों जैसे मरीज को अस्पताल लाते-ले जाते समय अपने आप को सुरक्षित रखें। अवस्थी ने कहा कि सभी पुलिस अधीक्षकों को गरीब लोगों तक भोजन एवं पानी की व्यवस्था करने निर्देश दिए गए हैं। जनता की परेशानियों का निराकरण करें ताकि जनता में पुलिस के प्रति विश्वास की भावना पैदा हो। भोजन की पर्याप्त व्यवस्था न होने पर जनता में आक्रोश पैदा हो सकता है, इस कार्य में सरकारी और निजी सामाजिक संस्थाओं के साथ-साथ एनजीओ का भी सहयोग लेकर भोजन की पर्याप्त व्यवस्था की जाये।

पुलिस महानिदेशक की ओर से पुलिस महानिरीक्षक रायपुर को कोरोना वायरस के बचाव के संबंध में शरीर को प्लास्टिक से ढंकने वाला कवर नमूने के तौर पर उपलब्ध कराया गया है जिसका सभी रेंज एवं जिलों में उपयोग करने निर्देश दिये गए हैं। सभी पुलिस अधिकारी अपने परिवार को भी सुरक्षित रखें। कोरोना वायरस विशेष रूप से नाक, आंख एवं मुंह के माध्यम से ही शरीर में प्रवेश करता है। अत: इन्हें पर्याप्त रूप से मास्क लगाकर सुरक्षित रखें। नक्सल प्रभावित क्षेत्र में पदस्थ सभी अधिकारी विशेष रूप से इसका ध्यान रखें एवं जहॉं आम जनता को चिकित्सा की आवश्यकता हो, वहां चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराएं। सब्जी मंडियों में बहुत अधिक भीड़भाड़ इकट्ठी हो रही है। इसको कम करने के लिये ठेलों के माध्यम से सब्जी का वितरण किया जा सकता है। इससे भीड़ पर नियंत्रण किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि सभी प्रशिक्षण केन्द्रों में रिजर्व बल अधिक संख्या में एक साथ एक स्थान पर रखना उचित नहीं है। उनकी नियमित रूप से ड्यूटी  में दूर-दूर रखा जाये।

28-03-2020
सुब्रत साहू ने कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों से की कानून-व्यवस्था पर चर्चा

 रायपुर। अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के सभी संभागायुक्तों, पुलिस महानिरीक्षकों, कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों से चर्चा कर कोविड-19 का संक्रमण रोकने किए गए लॉक-डाउन के दौरान कानून-व्यवस्था और जन सुविधाओं की उपलब्धता की समीक्षा की। उन्होंने कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने सभी जिलों में की गई व्यवस्था के बारे में भी जानकारी ली। उन्होंने लॉक-डाउन के दौरान लोगों की सुविधा का ध्यान रखने और शासन के दिशा-निर्देशों के अनुसार जरूरी सुविधाओं का संचालन जारी रखने कहा। विभिन्न विभागों के सचिवों ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अपने-अपने विभागों से संबंधित निर्देशों और सेवाओं के बारे में मैदानी अधिकारियों को विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने इनका पालन सुनिश्चित कराने आवश्यक निर्देश भी दिए।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अपर मुख्य सचिव साहू ने सभी नगरीय निकायों में साफ-सफाई की व्यवस्था को और पुख्ता करने कहा। उन्होंने सफाई कर्मचारियों को दस्ताने और मास्क उपलब्ध कराने के साथ ही कार्य के दौरान आवश्यक सावधानी बरतने कहा। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग की सचिव अलरमेलमंगई डी. ने बताया कि बायो-मेडिकल वेस्ट का डिस्पोजल पर्यावरण संरक्षण मंडल द्वारा पंजीकृत एजेंसियों के माध्यम से मानकों के अनुरूप कराया जाना है। अपर मुख्य सचिव ने लॉक-डाउन के दौरान संचालन की अनुमति वाले उद्योगों में कर्मचारियों से अलग-अलग पालियों में काम करवाने कहा। 

अपर मुख्य सचिव ने सभी जिलों में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने और इसकी रोकथाम की व्यवस्था की भी समीक्षा की। उन्होंने सभी जिलों को इसके लिए अस्पतालों में अलग से 100-100 बिस्तर सुरक्षित रखने कहा। उन्होंने बच्चों और गर्भवती महिलाओं के साथ ही पालतू पशुओं का भी नियमित टीकाकरण जारी रखने के निर्देश दिए। स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक सिंह ने सभी अस्पतालों में पीपीई और सुरक्षा के अन्य साधनों का किफायत व सावधानीपूर्वक उपयोग करने कहा। उन्होंने सभी अधिकारियों से अपील की कि वे सर्जिकल मास्क का विवकेपूर्ण इस्तेमाल करें। व्यक्तिगत सुरक्षा संसाधनों को मेडिकल स्टॉफ के लिए बचाकर रखने की जरूरत है।

वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के प्रमुख सचिव मनोज पिंगुआ, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. मनिन्दर कौर द्विवेदी, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह, खनिज विभाग के सचिव अन्बलगन पी., आबकारी विभाग के सचिव निरंजन दास, स्वास्थ्य विभाग के आयुक्त भुवनेश यादव, संचालक नीरज बंसोड़, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला, मार्कफेड की प्रबंध संचालक  शम्मी आबिदी, रायपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक हिमांशु गुप्ता और जनसंपर्क विभाग के आयुक्त तारन प्रकाश सिन्हा सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

27-03-2020
 नागरिकों से दुर्व्यवहार पर डीजीपी सख्त, कहा - लॉक डाउन पालन में पुलिस मानवीय चेहरा बनाए रखे

रायपुर। डीजीपी डीएम अवस्थी ने सभी आईजी और पुलिस अधीक्षकों को लॉक डाउन का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही डीएम अवस्थी ने निर्देश दिए हैं कि लॉक डाउन का पालन कराते समय पुलिस अपना मानवीय चेहरा बनाये रखे। आम नागरिकों के साथ मारपीट, दुर्व्यवहार जैसी घटनायें नहीं होनी चाहिए।  सभी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, नगर पुलिस अधीक्षक और पुलिस अनुविभागीय अधिकारियों को इसके लिये जिम्मेदार माना जायेगा। वे अपने क्षेत्र में लगातार भ्रमण कर पुलिस बल का मनोबल बनाये रखें एवं लॉक डाउन का दृढता से पालन कराएं। डीजीपी ने कहा है कि लॉक डाउन का कुछ जिलों के कस्बों में सख्ती से पालन नहीं कराया जा रहा है। इसके लिए राजपत्रित अधिकारियों और पुलिस अधिकारियों की ड्यूटी फिक्स पिकेट एवं पेट्रोलिंग आदि में इस प्रकार लगाये कि इस लॉक डाऊन का सख्ती से पालन कराया जा सके। बता दें कि प्रदेश में जरूरत का सामान खरीदने बाहर निकले नागरिकों से दुर्व्यवहार का मामला सामने आया था। वहीं बीते दिन पेट्रोलपंप कर्मी पर बेरहमी से थाना प्रभारी ने लाठी चलाई थी।

26-03-2020
मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों से की अपील: कहा-कोरोना ले लड़बो अउ जीतबो

रायपुर । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों के नाम अपील जारी की है। उन्होंने कहा है प्रिय भाईयो एवं बहनों, आज मानवता सबसे बड़े संकट से जूझ रही है। इस जंग में हर व्यक्ति का योगदान जरूरी है। आप लोग अपनी रोजी-रोटी, सुख-सुविधा की चिंता छोड़कर इस जंग में एक सिपाही की तरह लड़ रहे हैं, इसके लिए मैं आपका दिल से आभार व्यक्त करता हूं। कोरोना से बचने के लिए घरों में रहने की हमारी अपील मानने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद। अभी हमें 21 दिन और लॉकडाउन में रहना है। यह लॉकडाउन आप और आपके परिवार की जान की सुरक्षा के लिए बहुत जरूरी है। मेरा आपसे पुन: अनुरोध है कि आप स्थिति की गंभीरता को समझें और लॉकडाउन का पालन करें।
लॉकडाउन की स्थिति में सभी के लिए जरूरत के सामानों की व्यवस्था युद्ध स्तर पर की जा रही है। आप किसी प्रकार से घबराये नहीं। रोजमर्रा की आवश्यकता की सभी चीजें तथा दवाएं बाजार में आसानी से मिलें, इसकी भी पूरी व्यवस्था कर दी गई है। हमारा संकल्प है कि किसी को भूखे पेट सोने नहीं देंगे और उनका जीवन किसी भी तरह से संकट में न आये इसकी भी पूरी चिंता करेंगे। इसलिए हमने यह निर्णय लिया है कि राशन दुकानों से दो माह का सामान गरीब परिवारों को एकमुश्त नि:शुल्क दिया जाएगा।


जो लोग बेघर हैं उनके लिए भोजन की व्यवस्था ग्राम पंचायत, नगरीय निकाय, गुरूद्वारे तथा स्थानीय समाज सेवी संगठनों के माध्यम से हो। इसके लिए मैं सभी सक्षम लोगों और संगठनों से सहयोग की अपील करता हूं। मैंने सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश दिया है कि वे कलेक्टोरेट में इस काम के लिए एक 24ग7 विशेष शाखा स्थापित करें। सभी जिला कलेक्टर अपने-अपने जिले में एक हेल्प लाइन नंबर भी जारी करें और इसका व्यापक प्रचार-प्रसार करें ताकि कोई समस्या होने पर लोग इससे मदद ले सकें। इस संकट के समय में मीडिया की भूमिका सही सूचना देने के लिए अति महत्वपूर्ण है। मैंने सभी कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को भी निर्देश दिए है कि वे सुनिश्चित करें कि मीडियाकमियों को उनका काम करने में कोई बाधा न आए। राज्य शासन द्वारा हर जरूरतमंद की मदद के लिए सारे इंतजाम किए जा रहे हैं। साथ ही आम जनता तथा विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रहे संगठनों से अपील है कि मुख्यमंत्री सहायता कोष में मुक्त हस्त से दान करें। अपना योगदान तथा भागीदारी दर्ज कराएं। मैं एक बार फिर सबसे अपील करता हूं कि एक मीटर की दूरी और हाथ की सफाई जैसे सुरक्षा के सभी उपाय पूरे मन से अपनाएं। जो लोग विदेश से लौटे हैं वे तुरंत इसकी सूचना स्थानीय प्रशासन या टोल फ्री नंबर 104 पर दें। राज्य सरकार ने जांच और उपचार के लिए सारी व्यवस्थाएं की हैं और हर परिस्थिति से निपटने के लिए पूर्ण रूप से तैयार है। बच्चों, बुजुर्गों और महिलाओं का पूरा ध्यान रखा जाना चाहिए। मैं युवा साथियों से अपील करता हूं कि यथा संभव सुरक्षा अपना कर, घर तथा समाज में जागरूकता लाने में मदद करें। किसी की तकलीफ की खबर मिलते ही शासन-प्रशासन को सूचित करें और रास्ता निकालें कि आप क्या मदद कर सकते हैं।
हम सब मिलकर कोरोना से लड़ेंगे और जीतेंगे ऐसा मेरा पूरा विश्वास है। कोरोना ले लड़बो अउ जीतबो।

25-03-2020
कोरोना वायरस महामारी के कवरेज पर मुख्यमंत्री ने चिंता व्यक्त की, पत्रकारों को सुरक्षित रहने की सलाह

रायपुर। कोरोना वायरस महामारी के कवरेज पर मुख्यमंत्री ने पत्रकारों को सुरक्षित रहने की सलाह दी है। जनसम्पर्क विभाग आयुक्त तारण प्रकाश सिन्हा ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के बारे में आम जनता तक सही सूचना पहुंचाने और उन्हें जागरूक करने में  सभी समाचार माध्यमों के प्रतिनिधियों की महत्वपूर्ण भूमिका है। ऐसे समय जब पूरा देश लॉक डाउन में है पत्रकार दिन रात समाज और देश के प्रति अपने दायित्व को निभाने के लिये दुरूह परिस्थितियों में भी परिश्रम कर रहे हैं। आयुक्त ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस बात के लिए चिंता जताई  है कि कई बार पत्रकार अपने कर्तव्य की पूर्ति करने के प्रक्रम में अपनी सुरक्षा के प्रति लापरवाह हो जाते है और इसका विपरीत प्रभाव उनके स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। कोरोना वायरस महामारी के कवरेज के दौरान विश्व में कई पत्रकार इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि सभी पत्रकारगणों से आग्रह है कि कोरोना वायरस महामारी के कवरेज के दौरान पूरी सावधानी बरतें , सुरक्षा प्रोटोकॉल का पूरा पालन करे और प्रेस कॉन्फ्रेंस आदि से बचें। हर हाल में पत्रकारों को भी सोशल डिस्टेंसिन्ग का पालन करना जरूरी है।  मुख्यमंत्री ने प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया है कि वह यह सुनिश्चित करें कि पत्रकारों को लॉक डाउन के दौरान समाचार संकलन में किसी तरह की कठिनाई न आये।

24-03-2020
तारन प्रकाश सिन्हा ने कहा- लॉक डाउन में समाचार माध्यमों की गति न रूके, कलेक्टर-एसपी दें ध्यान 

रायपुर। आयुक्त सह संचालक जनसंपर्क तारन प्रकाश सिन्हा ने प्रदेश के सभी कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को आज मंगलवार को परिपत्र जारी कर कहा है कि कोरोना वायरस के बचाव के बारे में लोगों को जानकारी देने में समाचार पत्र प्रिटिंग, वितरण, टीवी चैनल का संचालन और केबल आपरेटर के माध्यम से प्रसारण, एफ एम रेडियो संचालन और समाचार एजेंसियों के निर्बाध संचालन की आवश्यकता है। इन सेवाओं की निरंतर करने के लिए अनुरोध किया जाता है, यदि जिले में कोई प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं तो इन सूचना तंत्र सेवाओं को इससे छूट प्रदान की जाए या ऐसी उपर्युक्त व्यवस्था की जाए जिससे उन्हें कार्य करने में सुविधा हो। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के बचाव के बारे में लोगों को समुचित जानकारी देने में समाचार पत्र, टी.व्ही चैनल, समाचार एजेंसियां, मल्टी सिस्टम आॅपरेटर्स, केबल आपरेटर्स, एफ.एम. रेडियो और सामुदायिक रोडियो स्टेशनों की महत्वपूर्ण भूमिका है। यह न केवल लोगों में जागरूकता पैदा करने और महत्वपूर्ण संदेश देने के लिए है, अपितु देश को नवीनतम स्थिति से अपडेट रखने के लिए भी आवश्यक है। इस समय झूठी और फेक खबरों से बचने की जरूरत है और सकारात्मक और प्रेरणा देने वाली खबरों को बढ़ावा देने की जरूरत है। ये सभी समाचार माध्यम इसे सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने समाचार पत्रों, न्यूज चैनलों, एफएम रेडियो, केबल आॅपरेटर आदि से भी आग्रह किया गया है कि वे अपने उत्तरदायित्व का पालन करते समय संकट के इस समय में सकारात्मक और पुष्ट खबरों के प्रचार-प्रसार में महत्वपूर्ण योगदान दें। अपुष्ट, भ्रामक और फेक न्यूज से लोगों को बचाने के कार्य में महत्वपूर्ण योगदान दें।

03-03-2020
  तेज गति से चलने वाले वाहनों पर करें सख्त कार्यवाही : डीजीपी

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने सभी पुलिस अधीक्षकों को पत्र लिखकर तेज गति से चलने वाले वाहनों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में वाहनों की तीव्र गति पर प्रभावी नियंत्रण के लिए लगातार चेकिंग और कार्यवाही करने को कहा है। अवस्थी ने राज्य में सड़क दुर्घटनाओं से होनी वाली मृत्यु दर में हो रही लगातार वृद्धि पर चिंता जताई है और इस पर उन्होंने निर्देश दिये कि निर्धारित गति सीमा से तेज चलने वाले वाहनों को नियंत्रित कर दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाये जाने की आवश्यकता है। वाहनों की तेज गति एवं इससे होने वाली मुत्यु दर में प्रभावी नियंत्रण करना पुलिस अधीक्षकों की मूल जिम्मेदारी है। डीएम अवस्थी ने निर्देश दिये हैं कि तेज गति से चलने वाले वाहनों पर तत्काल कार्यवाही करें और कहा कि वाहन दुर्घटनाओं में होने वाली मृत्यु दर में नियंत्रण के लिए जिला पुलिस द्वारा किये गये प्रयासों की प्रत्येक माह समीक्षा की जायेगी।

15-01-2020
राज्य निर्वाचन आयुक्त ने संभाग के कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों की ली बैठक

रायपुर। राज्य निर्वाचन आयुक्त ठाकुर राम सिंह ने बुधवार को जिला कार्यालय के मीटिंग हाल में संभाग के सभी जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों की बैठक लेकर त्रिस्तरीय पंचायत राज निर्वाचन के तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में संभाग के कमिश्नर जीआर चुरेन्द्र और पुलिस महानिरीक्षक डाॅ आनंद छाबड़ा भी उपस्थित थे। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने अधिकारियों से कहा कि नगरीय निकायों के चुनाव को उत्कृष्ट तरीके से क्रियान्वित किया है। आशा है कि पंचायत राज चुनाव भी सफलतापूर्वक आयोजित किए जाएगे। उन्होंने पंचायत चुनाव के लिए व्यापक व्यवस्था सुनिश्चित करने और इसके लिए अधिकारियों तथा कर्मचारियों को बेहतर प्रशिक्षण देने को कहा। उन्होंने पंचायत निर्वाचन के संबंध में आदर्श आचरण संहिता का पालन सुनिश्चित करवाने के साथ-साथ शांतिपूर्ण, निष्पक्ष और निर्विध्न चुनाव करवाने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने को कहा। उन्होंने संवेदनशील और अतिसंवेदनशील मतदान केन्द्रों की समीक्षा की और यहाॅ पर्याप्त मात्रा में सुरक्षाबल उपलब्ध कराते हुए शांतिपूर्ण चुनाव करवाने के लिए आवश्यक कदम उठाने को कहा।

जिला कलेक्टरों ने बताया कि अधिकारियों और कर्मचारियों का प्रथम चरण का प्रशिक्षण आयोजित हो चुका है। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने जोनल तथा सेक्टर अधिाकरियों को भी व्यापक प्रशिक्षण देने और उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को देखते सफल निर्वाचन के लिए उनका सदुपयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि अभ्यर्थियों के नाम निर्देशन पत्रों के आनलाइन जमा करने तथा नगरीय निकायों के अभ्यर्थियों के व्यय लेखा के कार्य की पूरे देश में तारीफ हुई है। उन्होंने नगरीय निकायों के ऐसे अभ्यर्थियों जिन्होंने अभी तक अपना व्यय लेखा जमा नही किया है, उन्हें नोटिस देने को कहा जिससे वे 23 जनवरी 2020 तक अपना व्यय लेखा प्रस्तुत कर सकेें। व्यय लेखा जमा नहीं करने पर वे भविष्य के चुनाव के लिए अपात्र बन जाएगे। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने बताया कि पंचायत चुनाव में भी सेल्फी जोन बनाया जाएगा तथा 18 प्रकार के पहचान पत्रों के माध्यम से कोई भी मतदाता अपनी पहचान सुनिश्चित कर मतदान कर सकता है। उन्होंने बताया कि सामान्य रूप से हर मतदाता 4 मतपत्रों का उपयोग करेगा।

 

12-01-2020
बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक ने ली अधिकारियों की बैठक

जगदलपुर। बस्तर रेंज के महानिरीक्षक सुंदरराज पी. ने संभाग के समस्त पुलिस अधीक्षकों की बैठक ली। बैठक में वर्ष 2019 में संचालित नक्सल विरोधी अभियान, कानून व्यवस्था, अपराधों की रोकथाम की दिशा में की गई कार्यवाही, सड़क सुरक्षा व्यवस्था एवं पुलिसिंग संबंधित अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की गई। बैठक के दौरान वर्ष 2020 में बस्तर संभाग में पुलिस की नक्सल विरोधी अभियान, अपराधों की रोकथाम, महिला व बालिका सुरक्षा,सड़क सुरक्षा एवं अन्य कार्यवाही के लिए कार्ययोजना का रूपरेखा तय की गई। इसके अलावा माह जनवरी एवं फरवरी, 2020 में सम्पन्न होने वाली त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव व्यवस्थित एवं सुरक्षित तरीके से सम्पन्न कराने के संबंध में सुंदरराज पी. पुलिस महानिरीक्षक बस्तर रेंज द्वारा संभाग के सभी पुलिस अधीक्षकों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। बैठक में दीपक झा, पुलिस अधीक्षक बस्तर, अभिषेक पल्लव, पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा,भोजराज पटेल,पुलिस अधीक्षक कांकेर,दिव्यांग पटेल,पुलिस अधीक्षक बीजापुर शलभ सिन्हा, पुलिस अधीक्षक सुकमा सुजीत कुमार, पुलिस अधीक्षक कोंडागाँव एवं राजेश देवांगन, उप पुलिस अधीक्षक नारायणपुर उपस्थित रहे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804