GLIBS
03-06-2020
सड़क दुर्घटना में घायल मरीज का फेफड़ा और दिल बाहर आया, टाइटेनियम की नई पसली बनाकर दिया नया जीवन

रायपुर। पं.जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय से संबद्ध डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकत्सालय के एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट के अंतर्गत संचालित कार्डियोथोरेसिक एवं वैस्कुलर सर्जरी विभाग के डॉक्टरों ने सड़क दुर्घटना में घायल एक 23 वर्षीय युवक की जटिल सर्जरी करके दुर्घटना में टूटकर चकनाचूर हो चुकीं पसलियों की जगह टाइटेनियम की नई पसली लगाकर नया जीवन प्रदान किया। यह हादसा इतना दर्दनाक था कि मरीज के फेफड़े एवं हृदय तक बाहर निकल आये। एसीआई के हार्ट, चेस्ट, वैस्कुलर सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. कृष्णकांत साहू, डीकेएस के प्लास्टिक सर्जन डॉ. कृष्णानंद ध्रुव एवं टीम के नेतृत्व में इस नवयुवक का इलाज हुआ। डॉक्टरों ने इस आधुनिकतम सर्जरी में दुर्घटना के कारण क्षतिग्रस्त पसली की जगह में टाइटेनियम प्लेट की सहायता से नई पसली का निर्माण किया। सर्जरी इतनी सफल रही कि मरीज को अपेक्षाकृत बेहद कम समय में ही वेंटिलेटर से बाहर निकाल लिया गया।


 22 एवं 23 मई की दरम्यानी रात एक आइल डिपो में काम करने वाला चरौदा निवासी 23 वर्षीय नवयुवक अपने मित्र के साथ मोटर सायकल पर आरंग की ओर जा रहा था। तभी तेज़ रफ़्तार से आती हुई ट्रक ने जोर से ठोकर मारी,जिससे मोटर सायकल चालक ट्रक के नीचे राड में फंसकर घसीटता चला गया,जिससे कारण उसके बायें फेफड़े की पसलियां पूरी तरह चकनाचूर हो गईं। पसली का टुकड़ा बाहर रोड में बिखर गया। चोट इतनी गहरी थी कि मरीज का फेफड़ा एवं दिल छाती से बाहर आ गया। घायल युवक को संजीवनी 108 एम्बुलेंस की सहायता से मेकाहारा के ट्रामा सेंटर में लाया गया। यहां आपातकाल में उपस्थित डॉक्टरों द्वारा उपचार किया गया। हादसे में खून बहुत बह चुका था इसलिये उसको खून चढ़ाया गया। मरीज की हालत को हीमोडायनामिकली स्थिर ( Hemodynamically stable / जीवन रक्षक उपकरणों की सहायता से हृदय एवं रक्त वाहिकाओं में रक्त प्रवाह एवं सामान्य अंगों को स्थिर बनाये रखने की प्रक्रिया) किया गया।

मरीज की स्थिति को देखते हुए आपात चिकित्सा से फौरन हार्ट एवं चेस्ट सर्जन डॉक्टर कृष्णकांत साहू को सूचना दी गई। डॉ. साहू ने मरीज की स्थिति को भांपकर तुरंत ऑपरेशन की योजना बनायी। इस ऑपरेशन में उन्होंने डीकेएस के प्लास्टिक सर्जन डॉ. कृष्णानंद ध्रुव को शामिल किया क्योंकि छाती में पसली के साथ-साथ चमड़ी में बहुत बड़ा गेप था,जिसको सामान्य तरीके से नहीं भरा जा सकता था। इसके लिये प्लास्टिक सर्जन का होना जरूरी है। मरीज का सीटी-स्कैन कराकर अंदरूनी चोटों को देखा गया। स्थिति स्थिर होने पर उसको ऑपरेशन थियेटर में ले जाया गया एवं बहुत ही हाईरिस्क एवं डेथ ऑन टेबल कंसेट लिया गया। मरीज के ऑपरेशन में जो पसलियां (6-7-8-9-10-11) गायब हो गयी थी उसके स्थान पर डॉ. कृष्णकांत साहू ने टाइटेनियम की नई पसली बनाई। पसली बनाने के लिये लगभग 15-17 सेंटीमीटर लम्बाई की चार टाइटेनियम प्लेट का उपयोग किया गया। ऑपरेशन से पूर्व घाव को धोकर अच्छी तरह से साफ किया गया क्योंकि फेफड़े के अंदर बहुत ज्यादा मिट्टी एवं कंकड़ घुस गया था।

बायें फेफड़े में छेद हो गया था एवं फट गया था,जिसको रिपेयर किया गया। डायफ्रॉम भी फट गया था इसे भी रिपेयर किया गया। इस ऑपरेशन में सबसे बड़ी समस्या घाव को बंद करने की थी क्योंकि दुर्घटना में छाती की चमड़ी कट कर गायब हो गयी थी,जिसको प्लास्टिक सर्जन डॉ. ध्रुव ने आस-पास की चमड़ी एवं मांसपेशियों को मोबलाइज (Mobilize) करके छाती में आये गेप को भरा। टाइटेनियम प्लेट का उपयोग करने से मरीज वेंटीलेटर से जल्दी बाहर आ गया एवं छाती बेडौल होने से बच गयी। कृत्रिम पसली नहीं लगायी जाती तो मरीज को वेंटीलेटर से बाहर निकालना बहुत ही मुश्किल हो जाता। ऑपरेशन में चार घंटे से ज्यादा का समय लगा एवं तीन यूनिट रक्त मरीज को लगा। आज मरीज पूर्णतः स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज होने वाला है। इस सर्जरी में रेडियोडायग्नोसिस विभाग की भूमिका भी महत्वपूर्ण रही। एसीआई में सभी प्रकार की आधुनिकतम पद्धति से फेफड़ों एवं खून की नसों का उपचार होने लगा है। निकट भविष्य में ओपन हार्ट सर्जरी एवं बायपास सर्जरी प्रारंभ होने की संभावना है।

टीम में ये रहे शामिल :

हार्ट,चेस्ट एवं वैस्कुलर सर्जन डॉ.कृष्णकांत साहू(विभागाध्यक्ष),डॉ.निशांत चंदेल, डॉ.अश्विन जैन (सर्जरी रेसीडेंट), प्लास्टिक सर्जन-डॉ. कृष्णानंद ध्रुव, एनेस्थेटिस्ट एवं क्रिटिकल केयर-डॉ. अरुणाभ मुखर्जी एवं टीम, नर्सिंग स्टॉफ- राजेन्द्र, चोवाराम।

30-04-2020
ऋषि कपूर के निधन पर राष्ट्रपति,पीएम समेत कई बड़े राजनीतिक हस्तियों ने जताया दुख,कहा-वो दिलों में हमेशा रहेंगे जिंदा

नई दिल्ली। मशहूर बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर का मुंबई के एक अस्पताल में गुरुवार को निधन हो गया। ऋषि कपूर के निधन पर राजनीतिक और सामाजिक जगत की हस्तियों ने शोक व्‍यक्‍त किया है। पीएम ने ट्वीट कर कहा दिवंगत अभिनेता को बहुआयामी और जीवंत बताया। पीएम ने ऋषि के साथ अपनी मुलाकात को भी याद किया। ऋषि का कैंसर के कारण आज मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मशहूर अभिनेता के भारतीय सिनेमा जगत में दिए योगदान को याद करते हुए ऋषि कपूर, उनकी पत्‍नी नीतू कपूर के साथ अपना पुराना फोटो शेयर किया। पीएम ने अपने ट्वीट में लिखा- बहुआयामी, प्रिय और जीवंत ...ये ऋषि कपूरजी थे। प्रतिभा का पावरहाउस थे। मैं हमेशा सोशल मीडिया पर भी उनसे अपनी बातचीत को याद करूंगा। वह फिल्मों और भारत की प्रगति के बारे में भावुक थे। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना, शांति। गौरतलब है कि ऋषि कपूर ने अपने ऊर्जा भरे अभिनय से बड़ी संख्‍या में लोगों को दिल जीता और लाखों की संख्‍या में प्रशंसक बनाए। 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर लिखा कि ऋषि कपूर के असामयिक निधन से गहरा दुःख हुआ है। उनके सदाबहार और प्रसन्नचित्त व्यक्तित्व तथा ऊर्जा के कारण यह विश्वास करना मुश्किल है कि वे नहीं रहे। उनका निधन सिने जगत के लिए अपूरणीय क्षति है। उनके परिवार, शुभचिंतकों और प्रशंसकों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं।

गृह मंत्री अमित शाह ने ऋषि कपूर के निधन पर कहा कि दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर जी के निधन के बारे में जानने पर दुख हुआ। वह अपने आप में एक संस्था थे। ऋषि कपूर जी का निधन भारतीय सिनेमा के लिए एक अपूरणीय क्षति है। उन्हें उनके असाधारण अभिनय कौशल के लिए हमेशा याद किया जाएगा। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना। ओम शांति।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी अभिनेता ऋषि कपूर के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि जाने माने फिल्म अभिनेता ऋषि कपूर के निधन से दुखी हूं। उन्होंने अपने अनमोल अंदाज और अदाकारी से अपने प्रशंसकों के दिलों में खास जगह बनाई। दुख की इस घड़ी में मेरे विचार, उनके परिवार और प्रशंसकों के साथ हैं।ओम शांति।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ऋषि कपूर के निधन पर श्रद्धांजलि देते हुए लिखा कि भारतीय सिनेमा के लिए यह एक भयानक सप्ताह है, जिसमें एक और किंवदंती अभिनेता ऋषि कपूर का निधन हो गया है। एक अद्भुत अभिनेता, पीढ़ी दर पीढ़ी एक विशाल प्रशंसक के साथ, वह बहुत याद किया जाएगा। इस दुख की घड़ी में उनके परिवार, मित्रों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदना।

केंद्रीय मंत्री मुख्‍तार अब्‍बास नकवी ने ऋषि कपूर के फिल्‍मों में दिए योगदान को याद करते हुए उन्‍हें भावभानी श्रद्धांजलि दी है। नकवी ने अपने ट्वीट में लिखा, "जमाना बड़े ग़ौर से सुन रहा था, तुम ही सो गए दास्तां कहते-कहते"…। कला की विरासत, इंसानियत और शराफत से भरपूर ऋषि कपूर जी का निधन अपूरणीय क्षति। श्रद्धासुमन। ॐ शांति...।

29-04-2020
इरफान का हुआ था महज 16 साल की उम्र में ब्रेकअप, इस लड़की को दे बैठे थे दिल

मुंबई। इरफान खान के रूप में बॉलीवुड ने एक संजीदा कलाकार खो दिया। वहीं इरफान से जुड़ी कुछ बातें ऐसी भी हैं जो बहुत कम लोग ही जानते होंगे। सुतापा सिकदर से पहले भी इरफान खान प्यार में पड़ चुके थे।
दरअसल, महज 16 साल की उम्र में इरफान को अपने दूध वाले की बेटी से प्यार हो गया था। एक इंटरव्यू में इरफान ने खुद इस बात का खुलासा किया था कि वह दूध वाले की लड़की से प्यार कर बैठे थे, लेकिन अपने ही कजिन की वजह से उन्हें लड़की से ब्रेकअप करना पड़ा था। इरफान के मुताबिक वह दूध लाने सिर्फ इसलिए जाते थे ताकी वह उसका चेहरा देख सकें। इरफान ने अपने इंटरव्यू के दौरान बताया था कि वह अक्सर चोरी-छिपे उस लड़की को देखा करते थे।

लड़की भी उन्हें देखकर मुस्कुराया करती थी। फिर एक दिन अचानक लड़की ने इरफान को अपने कमरे में बुला लिया। इस घटना से इरफान का दिल जोरों से धड़कने लगा, उन्हें लगा आज जरूर कुछ होने वाला है। लेकिन लड़की ने उन्हें अपनी कॉपी दी। इस कॉपी में एक चिट्ठी रखी हुई थी। यह चिट्ठी इरफान को लड़की के बगल में रहने वाले एक लड़के को देनी थी। उस समय खुद को किसी फिल्मी हीरो समझ इरफान ने प्यार की कुर्बानी देने की सोची। एक दिन उनके चाचा के बेटे ने आकर कहा कि उस लड़की को चाहते हैं, जिसके बाद इरफान ने लड़की से ब्रेकअप कर लिया।

15-02-2020
सलमान की दीवानगी फैन पर छायी, 600 किमी साइकिल चलाकर पहुंचे मिलने

मुंबई। लाखों लोगों के दिल की धड़कन बने सलमान खान हरदम सुर्खियों में बने रहते है। सलमान खान की जबरदस्त फैन फॉलोइंग है, यही वजह है कि वह जब भी कहीं स्पॉट होते हैं तो लोग उनके साथ एक फोटो खिंचवाने के लिए बेकरार होते हैं। हाल ही में सलमान खान का एक फैन 600 किलोमीटर साइकिल चलाकर उनसे मिलने गुवाहाटी पहुंचा। दरअसल, इस साल फिल्म फेयर अवॉर्ड मुंबई में नहीं, बल्कि असम की राजधानी गुवाहाटी में होने जा रहे हैं। इसी के चलते यह फैन गुवाहाटी पहुंच गया। इस फैन की उम्र 52 साल है। तिनसुकिया जिले के जगुन में रहने वाले भूपेन लिक्सन ने 8 फरवरी को साइकिल से अपनी यात्रा शुरू की थी। 6 दिन बाद वह 13 फरवरी को गुवाहाटी पहुंचे। वह अपने साथ सलमान की एक तस्वीर भी लाए हैं। साल 2013 में भूपेन ने साइिकल का बिना हैंडल पकड़े एक घंटे में 48 किलोमीटर का सफर तय किया था। उनका यह रिकॉर्ड इंडिया बुक आॅफ रिकॉर्ड्स में दर्ज है। सलमान खान खुद साइकलिंग पसंद करते हैं और कई बार मुंबई की सड़कों पर उन्हें साइकिल चलाते देखा गया है। ऐसे में इस फैन को उम्मीद है कि सलमान उनसे मिलेंगे और उन्हें सराहेंगे। बता दें कि फिल्म फेयर अवॉर्ड 15 और 16 फरवरी को गुवाहाटी में होंगे। इसमें भूपेन की सलमान से मुलाकात हो सकती है।

 

22-06-2019
दिल जीत लेगी सब्जियों की तहरी

सब्जियों की तहरी एक बेहतरीन डिश है। यह उत्तर भारत में काफी लोकप्रिय है। सब्जियों की तहरी सब्जियों में मसालों को एक साथ मिलाकर बनाई गई लाजवाब डिश है। इसमें चावल में मिक्स वेजिटेबल्स के साथ साथ दही, कसूरी मेथी, क्रीम और ढेर सारे मसाले डालकर पकाया जाता है। यह डिश लंच के लिए एक बढ़िया विकल्प है। साथ ही इसे डिनर पार्टी में भी सर्व किया जा सकता है। 
 
विधि—

चावल को दोगुने पानी में 20 मिनट के लिए भिगो दें। गाजर, बीन्स और आलू को छीलकर छोटे और तिरछे टुकड़ों में काट लें। एक पैन में पानी उबाल लें। इसमें आलू, गाजर, बीन्स, मटर और नमक डालकर हल्का ब्लांच कर लें। एक बार जब यह उबल जाए तो इन्हें ठंडे पानी से धो लें। एक बर्तन में सरसों का तेल डालकर गर्म करें। इसमें जीरा, लहसुन पेस्ट और कसूरी मेथी के पत्ते डालकर भूनें। पानी डालकर इसे एक मिनट पकाएं। इसमें सब्जियां और नमक डालें और कुछ देर तक पकाएं। इसमें दही, पीली मिर्च, हल्दी पाउडर डालकर 5 से 10 मिनट के लिए पकाएं। पानी डाले और कुछ देर तक उबलने दें। अब इसमें इलाइची पाउडर, हरी मिर्च, अदरक और चावल डालें। इसे अच्छे से चलाएं और आंच को धीमा कर दें। इसे ढक्कर कुछ देर पकने दें। एक बार जब चावल पक जाए तो ?इसमें ?क्रीम डालकर भूनें और इसे गर्मा गर्म सर्व करें।

25-04-2019
गांव में एक भी बच्चा नहीं, पुतले से दिल बहला रहे लोग

टोक्यो। जापान में एक ऐसा बदनसीब गांव भी है जहां एक भी बच्चा नहीं है। यहां के निवासी पुतले बना-बनाकर अपना दिल बहला रहे हैं। इस गांव की आबादी भी बेहद कम है। यहां मात्र 27 लोग ही निवासरत हैं। गांववालों के अनुसार यहां के अधिकांश लोग शहर पलायन कर गए हैं। पश्चिमी जापान के शिकोकू टापू पर बसे इस गांव का नाम नागोरो है। यहां लोग अपना सूनापन दूर करने के लिए घरों के बाहर पुतले रखे हुए हैं। बताते हैं कि इस गांव की 69 साल की सुकिमी आयनो नाम की महिला ने इंसान जितने बड़े पुतले बनाने की शुरुआत की। इनका कहना है कि इस गांव में सिर्फ 27 लोग रहते हैं, लेकिन यहां पुतलों की संख्या 270 है। इन पुतलों को बनाने की शुरुआत 16 साल पहले हुई। सुकिमी ने पहला पुतला बनाया और उसे अपने पिता के कपड़े पहना दिए। इन पुतलों को बनाने का मकसद था बगीचे के पौधों को बचाना. सुकिमी ने पुतला बनाकर बगीचे में रख दिया ताकि कोई पक्षी फसलों को खराब न करे। उन्होंने कहा कि वो लकड़ी की डंडियों के इन्हें बनाती हैं। न्यूजपेपर के शरीर को भरती हैं। इलास्टिक के स्किन बनाती हैं। फैब्रिक से स्किन बनाती हैं और ऊन से बाल बनाती हैं। इन पुतलों को इंसानों की तरह दिखाने के लिए वो गालों और होंठों को गुलाबी रंग से रंग देती हैं। सुकिमी ने  बताया कि इस गांव में कोई बच्चा नहीं है। यहां सबसे छोटे आदमी की उम्र 55 साल है। सुकिमी ने कहा कि इन डॉल्स की वजह से नागोरो गांव में टूरिस्ट्स आने लगे हैं। आशा करती हूं कि जल्द ही ये गांव फिर से असली इंसानों से भर जाएगा। बता दें कि बीते कुछ सालों में जापान की जनसंख्या में काफी गिरावट आई है। शहरों से लेकर गांवों में, हर जगह आबादी कम होती जा रही है। 

 

16-04-2019
पाक के पूर्व पीएम नवाज शरीफ के दिल की हो सकती है सर्जरी

लाहौर। भ्रष्टाचार के आरोप सिद्ध होने पर सात साल की सजा काट रहे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ  की तबीयत गंभीर रूप से खराब है। यहां तक कि उनकी हार्ट सर्जरी करनी पड़ सकती है। शरीफ  के निजी डॉक्टर अदनान खान ने यह जानकारी दी है। शरीफ  की बेटी मरयम खान ने भी अपने पिता की स्थिति नाजुक बताई है। बता दें कि अल-अजीजिया स्टील मिल भ्रष्टाचार मामले में सजा काट रहे शरीफ को हाल ही में स्वास्थ्यगत कारणों से जमानत मिली है। गत सोमवार को आगा खान यूनिवर्सिटी के हृदय रोग विशेषज्ञों की टीम ने नवाज शरीफ  का स्वास्थ्य परीक्षण किया था। इसके बाद अदनान ने बताया कि नवाज शरीफ  दिल संबंधी कई समस्याओं से जूझ रहे हैं। अगर उनकी एंजियोप्लास्टी नहीं हो सकी तो उनकी हार्ट सर्जरी करनी पड़ेगी। ज्ञात हो कि शरीफ  और उनके परिवार पर सितंबर 2017 में भ्रष्टाचार के तीन मुकदमे दायर किए गए थे। लंदन में फ्लैट्स से जुड़े मामले में शरीफ  को पिछले साल जुलाई में 10 साल की कैद हुई थी। इस मामले में सिंतबर में उन्हें जमानत मिल गई थी। इसके बाद दिसंबर 2018 में अल-अजीजिया मामले में शरीफ  को 7 साल की सजा सुनाई गई। फ्लैगशिप इनवेस्टमेंट मामले में उन्हें बरी कर दिया गया था। मार्च में सुप्रीम कोर्ट ने इलाज के लिए शरीफ  को छह हफ्तों की जमानत दी थी।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804