GLIBS
22-01-2021
किसान आंदोलन का 58वां दिन 11 वे दौर की चर्चा आज, सरकार का रुख नरम लेकिन किसान अड़े, टकराव जारी

दिल्ली/रायपुर। किसान आंदोलन का आज 58 वा दिन है और आंदोलन के खत्म होने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। गणतंत्र दिवस करीब आने के साथ ही सरकार की चिंताएं भी बढ़ गई है। अब वह लगातार आंदोलन खत्म कराने का प्रयास कर रही है। सरकार के रुख में आई नरमी भी किसान आंदोलन की आग को शांत नहीं कर पा रही है। सरकार ने कल किसान आंदोलन को डेढ़ साल ओल्ड करने का जो प्रस्ताव दिया था उसे किसानों ने सिरे से खारिज कर दिया है। किसान अब इस बात पर अड़े है कि वह अपनी मांगों से टस से मस नहीं होंगे। हालांकि आज विज्ञान भवन में 11वें दौर की बातचीत किसानो और सरकार के बीच होनी है। लेकिन कुछ किसान नेताओं का रवैया साफ संकेत नहीं दे रहा है। किसानों के रवैये से यह साफ नजर आ रहा है कि वे अपनी मांगों से 1 इंच भी हटने को तैयार नहीं है। हालांकि सरकार इस मामले में लगातार लचीला रुख अपनाए हुए है फिर भी बात बनती नजर नहीं आ रही है।

09-01-2021
Video : किसानों का आंदोलन खत्म कराने में मोदी सरकार अक्षम है तो सत्ता में रहने का अधिकार नहीं : विकास उपाध्याय  

रायपुर/गुवाहाटी। कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव विकास उपाध्याय ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि यदि किसानों का आंदोलन समाप्त कराने में सरकार सक्षम नहीं है तो सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए। प्रदर्शनकारी किसान नेताओं और सरकार के बीच विज्ञान भवन में शुक्रवार को आठवें दौर की बातचीत के बाद भी किसी नतीजे पर नहीं पहुँच पाना यह साबित करता है कि मोदी सरकार पूर्ण बहुमत के बाद भी इतना सक्षम नहीं कि वह दिल्ली की सीमाओं पर लगभग डेढ महीने से जुटे किसानों के आंदोलन को समाप्त करने की योग्यता रखती हो। विकास उपाध्याय ने तंज कसते कहा, हमारे प्रधानमंत्री को देश की चिंता नहीं पर अमेरिका में 4 लोगों के हिंसा में मारे जाने का दुख जरूर है। विकास ने कहा, केन्द्र सरकार जिन किसानों के लिए नए  कृषि कानून बनाई है वही किसान खुद इसे अपने हित में नहीं मान रहे हैं और वजह भी यही है तभी तो पिछले डेढ़ माह से दिल्ली के सिन्धु बॉर्डर पर वे आंदोलनरत हैं। विकास ने कहा भला ऐसा कौन होगा जो बेवजह इतने समय तक आंदोलन करने मजबूर होगा और जब मोदी सरकार किसानों की हित सही मायने में चाह ही रही है तो किसानों के मुताबिक काम करने से पीछे क्यों हट रही है।

02-12-2020
कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का आंदोलन हुआ उग्र

रायपुर/नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली कूच पर निकले किसान सातवें दिन उग्र हो गए हैं। बता दें कि दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर उन्होंने बैरिकेड्स गिरा दिए। वे दिल्ली के जंतर-मंतर में प्रदर्शन पर अड़े हुए हैं। बीते दिन सिंधु और टिकरी बॉर्डर के साथ-साथ नोएडा चिल्ला बॉर्डर को भी सील कर दिया गया। चिल्ला बॉर्डर की ओर से बड़ी संख्या में किसान दिल्ली में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे हैं। मंगलवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में किसान संगठन के नेताओं और केंद्र सरकार के बीच बातचीत हुई लेकिन इसका कोई ठोस निर्णय नहीं निकला। एक बार फिर अब तीन दिसंबर को वार्ता होनी है।

09-11-2019
सर्वश्रेष्ठ मंत्री सर्वे में योग्य मंत्री के रूप में ताम्रध्वज साहू का दिल्ली में हुआ सम्मान

रायपुर। छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू शनिवार को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में एक गरिमामय कार्यक्रम में केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री महेंद्रनाथ पांडेय के हाथों सम्मानित हुए। ताम्रध्वज साहू का सम्मान फेम इंडिया के सर्वे में एक योग्य मंत्री की कैटेगरी में किया गया है। फेम इंडिया और एक सर्व एजेंसी द्वारा संयुक्त रूप से व्यक्तित्व की छवि, कार्य क्षमता, प्रभाव, विभाग की समझ, दूरदर्शिता, लोकप्रियता, कार्यशैली और काम के परिणाम जैसे सभी बिंदुओं को आधार मानकर देश भर से 21 सर्वश्रेष्ठ मंत्रियों का चयन किया गया है। देश के 21 मंत्रियों में छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू के नाम को योग्य मंत्री के रूप में चयन किया गया है। नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में सभी चयनित मंत्रियों का सम्मान केंद्रीय मंत्री द्वारा किया गया। मालूम हो कि ताम्रध्वज साहू प्रदेश के लोक निर्माण, गृह, जेल, धर्मस्व एवं पर्यटन मंत्री का दायित्व निर्वहन कर रहे हैं। अपने सरल व्यक्तित्व और कर्मठ शैली को लेकर वे प्रदेशभर में लोकप्रिय रहे हैं। पुलिस महकमे में आवश्यक बदलाव करके व्यवस्था को दुरूस्त करने में उनकी अहम भूमिका रही है।

21-10-2019
बाल वैज्ञानिकों ने किया चम्पारण, मुक्तांगन और नवा रायपुर का भ्रमण

रायपुर। 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान गणित और पर्यावरण प्रदर्शनी का आयोजन राजधानी रायपुर के शंकर नगर स्थित बीटीआई मैदान में किया गया। प्रदर्शनी का समापन लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी और ग्रामोद्योग मंत्री गुरु रुद्रकुमार ने 19 अक्टूबर को किया। प्रदर्शनी में देशभर से आए 400 से अधिक बच्चों और शिक्षकों ने 20 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ के धार्मिक और आध्यात्मिक स्थल चम्पारण, पुरखौती मुक्तांगन, अंतरराष्ट्रीय वीर नारायण सिंह क्रिकेट स्टेडियम और नवा रायपुर में मंत्रालय, संचालनालय (इन्द्रावती भवन) का अवलोकन किया। बाल वैज्ञानिक इन स्थलों को देखकर काफी प्रफुल्लित हुए और वे छत्तीसगढ़ से मीठी यादें लेकर लौट रहे हैं। रविवार को सभी बाल वैज्ञानिकों और उनके मार्गदर्शक शिक्षकों को शैक्षणिक भ्रमण कराया गया। 400 से अधिक बाल वैज्ञानिक और उनके मार्गदर्शक शिक्षकों को चम्पारण में हाई सेकेण्डरी स्कूल में देखकर गांव बच्चे वहां पहुंचे और सुआ नृत्य की प्रस्तुति देकर मन मोह लिया। चम्पारण में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व.श्री रूपधर दीवान शासकीय उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय में सभी बच्चों और शिक्षकों के लिए भोजन की व्यवस्था की गई थी। चम्पारण स्कूल पहुंचने पर शिक्षकों का स्वागत अभनपुर के बीईओ मोहम्मद इकबाल, बीआरसी चम्पारण और सीएसीसी ने किया। बाल विज्ञान प्रदर्शनी का पांच दिन में 30 हजार से अधिक नागरिकों ने अवलोकन किया। इनमें 24 हजार से अधिक स्कूली बच्चे और 6 हजार से अधिक कॉलेज के विद्यार्थी शामिल है। बाल विज्ञान प्रदर्शनी के अंतिम दिन सुकमा, बीजापुर एवं रायपुर जिले के छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। प्रदर्शनी में बस्तर संभाग से आए हुए सुकमा और बीजापुर के छात्रों में प्रदर्शनी को लेकर काफी उत्साह दिखाई दिया। छात्र-छात्राओं ने बताया कि वे इसके अलावा विज्ञान भवन विधानसभा भवन का भ्रमण करेंगे। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा विभाग, एससीईआरटी के संयुक्त संचालक योगेश शिवहरे, राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण के सहायक संचालक प्रशांत पाण्डेय, एससीईआरटी के सहायक प्राध्यापक दीपांकर भौमिक,  संजय गुहे,  ज्योति चक्रवर्ती भी उपस्थित थीं। 

07-09-2019
लिंगानुपात में निरंतर वृद्धि के लिए रायगढ़ जिले को मंत्री स्मृति ईरानी ने किया सम्मानित  

रायगढ़। रायगढ़ जिले को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम में उल्लेखनीय कार्य के लिए केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा पुरस्कृत किया गया है। केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने रायगढ़ कलेक्टर यशवंत कुमार को दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि रायगढ़ जिले ने पिछले पांच वर्षो में जन्म आधारित लिंगानुपात में देशभर में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। वर्ष 2014-15 से वर्ष 2018-19 के मध्य जन्म आधारित लिंगानुपात में रायगढ़ जिले का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत शासन द्वारा देशभर के 5 राज्यों एवं 10 चयनित जिलों को सम्मानित किया गया हैं, जिनमें से रायगढ़ एक है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804