GLIBS
03-01-2020
रेलवे में मदद,पूछताछ और शिकायत के निवारण के लिए अब एक ही नंबर '139'

रायपुर। रेल से सफर के दौरान पूछताछ और शिकायत निवारण के लिए कई हेल्प/लाइन नंबर रहने के कारण यात्रियों को हो रही असुविधा को समाप्त करने के लिए भारतीय रेलवे ने एक अभिनव पहल की है। भारतीय रेलवे ने इसके तहत समस्त हेल्प लाइन नंबरों को एकीकृत कर केवल एक हेल्प लाइन नंबर 139 में तब्दील कर दिया है, ताकि सफर के दौरान यात्रियों की ओर से की जाने वाली शिकायतों का त्वरित निवारण संभव हो सके। सभी मौजूदा हेल्पबलाइन नंबरों (182 को छोड़कर) के स्थान पर अब केवल एक ही नया हेल्पलाइन नंबर 139  रहने से यात्रियों के लिए इस नंबर को याद रखना और सफर के दौरान अपनी सभी जरुरतों की पूर्ति के लिए रेलवे से संपर्क साधना या कनेक्टव करना काफी आसान हो जाएगा।
हेल्प लाइन नंबर 139 बारह भाषाओं में उपलब्ध रहेगा। यह आईवीआरएस(इंटरएक्टिव वॉयस रिस्पॉकन्स सिस्टकम) पर आधारित है। हेल्पहलाइन नंबर 139 पर कॉल करने के लिए किसी  स्मार्ट फोन की जरूरत नहीं है। अत: ऐसे में सभी मोबाइल यूजर के लिए इस नंबर तक आसान पहुंच रहेगी। 139 पर कॉल करके सुरक्षा एवं चिकित्सा सहायता के लिए यात्री को 1 नंबर को दबाना होगा,जो कॉल सेंटर में कार्यरत कर्मचारी से उसे तत्काल कनेक्टर कर देगा। पूछताछ के लिए यात्री को 2 नंबर को दबाना होगा। इसके अंतर्गत ही पीएनआर स्टेटस, ट्रेन के आगमन/प्रस्थान, एकोमोडेशन, किराया संबंधी पूछताछ, टिकट बुकिंग,प्रणाली के तहत टिकट निरस्त  करने, वेकअप अलार्म सुविधा/प्रस्थासन संबंधी अलर्ट, व्हील चेयर की बुकिंग और भोजन की बुकिंग के बारे में भी आवश्यरक जानकारियां प्राप्त की जा सकती हैं। केटरिंग संबंधी शिकायतों के लिए यात्री को 3 नंबर को दबाना होगा। सामान्य शिकायतों के लिए यात्री को 4 नंबर को दबाना होगा।
सतर्कता संबंधी शिकायतों के लिए यात्री को 5 नंबर को दबाना होगा। हादसे के दौरान पूछताछ करने के लिए यात्री को 6 नंबर को दबाना होगा। शिकायतों की ताजा स्थिति से अवगत होने के लिए यात्री को 9 नंबर को दबाना होगा। कॉल सेंटर में कार्यरत कर्मचारी से बात करने के लिए यात्री को दबाना होगा।

04-09-2019
नवरात्री में दिल्ली से लखनऊ के बीच शुरू हाेगी प्राइवेट ट्रेन तेजस

नई दिल्ली। देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस नवरात्र के शुभ मुहूर्त में दिल्ली से लखनऊ के बीच शुरू हाेगी। टिकट बुकिंग से लेकर ट्रेन के संचालन तक की पूरी जिम्मेदारी आईआरसीटीसी संभालेगा। किराया अगले सप्ताह तय हाेगा। संभावना है कि किराया शताब्दी की तुलना में 20% तक महंगा रहेगा। इसमें फ्लेक्सी फेयर लागू हाेगा और काेई छूट नहीं मिलेगी। सप्ताह में एक दिन मंगलवार को ट्रेन नहीं चलेगी। यह सुबह लखनऊ से चलकर दोपहर 12 बजे दिल्ली पहुंचेगी और दाेपहर बाद 3-4 बजे दिल्ली से चलकर 6 घंटे बाद लखनऊ पहुंचेगी। माेदी सरकार के 100 दिन के एजेंडे में प्राइवेट आपरेटर्स काे ट्रेन सौंपना भी शामिल है। ट्रेन की ओर यात्रियाें काे आकर्षित करने के लिए आईआरसीटीसी अतिरिक्त सुविधाएं भी मुहैया करवाएगा। इस ट्रेन में दो बार नाश्ता मिलेगा। यात्री स्टेशन में बने लाउंज का मुफ्त में इस्तेमाल कर सकेंगे। इसका किराया 200 रुपए प्रति घंटा है। इस ट्रेन में ड्राइवर और इलेक्ट्रिकल मेंटेनेंस का जिम्मा रेलवे के पास ही रहेगा। गार्ड्स और टीटीई काे आईआरसीटीसी रखेगा। एक अधिकारी के अनुसार रेलवे के रिटायर्ड कर्मचारी इसके लिए रखे जाएंगे। आईआरसीटीसी के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सुविधाओं काे लेकर यात्रियाें से मिलने वाले सुझाव भी लागू किए जाएंगे। हादसे की स्थिति में आईआरसीटीसी वही सुविधएं देगा, जो रेलवे देता है। दूसरी प्राइवेट तेजस अहमदाबाद से मुंबई के बीच चलेगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804