GLIBS
09-04-2021
कबीरधाम जिले और कवर्धा शहर में प्रवेश के लिए दिखाना होगा कोरोना निगेटिव रिपोर्ट

कवर्धा। जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इसके संक्रमण के प्रभाव को रोकने और उनके चैन को तोड़ने के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रमेश कुमार शर्मा के अध्यक्षता में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के रोकथाम और नियंत्रण के संबंध में जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आपतकालीन बैठक हुई। बैठक में पुलिस अधीक्षक शलभ कुमार सिन्हा, जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम के.,अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, तहसीलदार, जनपद सीईओ और नगरीय निकाय के अधिकारी उपस्थित थे। बैठक के बाद कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी द्वारा जिले मे संचालित व्यवसायिक प्रतिष्ठान, फल, सब्जी दुकान, चलित ठेले, हॉटल, लॉज, रेस्टॉरेन्ट और जिले तथा कवर्धा नगर में प्रवेश के संबंध में अलग-अलग आदेश जारी हुए है। ये आदेश 9 से 30 अप्रैल तक अथवा आगामी आदेश पर्यन्त, जो पहले आये तक प्रभावशील रहेगा। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने बैठक के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि जिले के जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों और मैदानी स्तर में तैनात अधिकारियों से कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकरणों पर विचार विमर्श किया गया।

विचार विमर्श के बाद कबीरधाम जिले में कोविड-19, कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इसके संक्रमण के प्रभाव को रोकने और उनके चैन को तोड़ने के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए जिले के सभी नगरीय निकायों कवर्धा, पंडरिया, बोड़ला, सहपुर लोहारा, पिपरिया, पाण्डातराई के अलावा जिले के बढ़े ग्राम पंचायत रेंगाखार कला, पोडी, कुण्डा, दामापुर बाजार, झलमला, कुकदूर, चिल्फी एवं कापादाह में संचालित दुकान एवं अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के संचालन का समय सुबह 7 बजे से 4 बजे तक निर्धारित की गई है। नगरीय निकाय क्षेत्रों के लिए फल एवं सब्जी दुकानों के लिए सुबह 7 बजे से 12 बजे तक समय निर्धारित की गई है। कवर्धा नगर पालिका क्षेत्र में पालिका द्वारा चिन्हांकित 3 अलग-अलग स्थानों में सब्जी बजार लगाई जाएगी। चलित ठेले के लिए सुबह 7 बजे से 4 बजे तक निर्धारित की गई है। इन चलित ठेलों द्वारा अपने ग्राहकों को शाम 4 बजे रात 8 बजे तक केवल पार्सल की सुविधा दी जाएगी। इसके अलावा मेडिकल स्थापनाएं एवं मेडिकल दुकान ट्रांसपोर्ट नगर व गुड्स एवं कैरियर सेवाऐं, पेट्रोल पम्प, गैस एजेन्सी, बैंकिंग सेवायें एटीएम, मीडिया संस्थान, पेयजल सुविधाएं, सिवरेज ट्रीटमेंट व्यवस्थाएं, विद्युत व्यवस्थापक, फायर ब्रिगेड, टेलीफोन व इंटरनेट सुविधाएं (जिनमें पक्की स्थाई संरचना एवं वैध लायसेंस उपलब्ध हो) पूर्व निर्धारित समय पर होगी। अगर किसी बाजार या अन्य क्षेत्र कन्टेन्मेंट जोन घोषित हो जाता है तो उस क्षेत्र के समस्त व्यवसाय बंद हो जायेंगे एवं उस क्षेत्र में कन्टेन्मेंट जोन के समस्त नियमों का पालन करना होगा। समस्त नगरीय निकायों में साप्तहिक अवकाश का कड़ाई से पालन करना होगा। हाइवे के ढाबा में बैठकर खाने की अनुमति नहीं होगी। केवल टेक अवे की अनुमति होगी। दुकानदार के परिवार में किसी व्यक्ति के कोरोना पॉजिटीव होने पर उनका दुकान 10 दिवस के लिए सील किया जाएगा।

27-02-2021
मुख्यमंत्री कन्या विवाह में सीएम के आठवें वचन के साथ 121 नवविवाहित जोड़ों ने लिए सात फेरे

कवर्धा। कबीरधाम जिले के ऐतिहासिक,पुरातत्व,धार्मिक और पर्यटन महत्व के स्थल भोरमदेव मंदिर के समीप शनिवार को मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन किया गया। सामूहिक विवाह में कबीरधाम जिले के 121 नवविवाहित जोड़ों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के दिए सुपोषण संकल्प के आठवें वचन के साथ सात फेरे लेकर पारिवारिक जीवन की शुरूआत की। सामूहिक विवाह में ईसाई धर्म के तहत 1 जोड़े ने भी विवाह किया। महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर संचालित मुख्यमंत्री कन्या सामूहिक विवाह समारोह में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, जिले के प्रभारी मंत्री अनिला भेड़िया, कैबिनेट मंत्री मो. अकबर रायपुर से वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से शामिल हुए। उन्होंने वर-वधू को सुखमय दाम्पत्य जीवन के लिए आशीर्वाद दिया।

कन्हैया अग्रवाल, कलीम खान, जमील खान, मोहित महेश्वरी सहित अन्य जनप्रतिधियों ने महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा नवविवाहित जोड़ों को प्रदाय की जाने वाली सुहाग श्रृंगार एवं घरेलू उपयोग के अन्य सामाग्रियां भेंट की। मुख्यंत्री भूपेश बघेल ने नव दम्पत्तियों को आशीर्वाद और उनके सुखमय जीवन के लिए शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा निम्न आय वर्ग परिवार के बेटियों की शादी की चिंता दूर करने और शादियों में होने वाले फिजूलखर्ची को सामूहिक विवाह के माध्यम से कम करने के उदे्दश्य से मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह को आयोजन किया जा रहा है। इस योजना के तहत आज पूरे प्रदेश में सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया और लगभग 3 हजार जोडों ने सामूहिक विवाह कर नए जीवन की शुरूआत की। मंत्री मो.अकबर ने सभी नवविवाहित जोड़ों को आशीर्वाद देते हुए कहा कि नवविवाहित जोड़ों को मुख्यमंत्री कन्य विवाह योजना के तहत संचालित योजना का लाभ मिलेगा। इसके अलावा नव विवाहित जोड़ों को छत्तीसगढ़ शासन की महत्वकांक्षी योजना सार्वभौम पीडीएस योजना से भी जोड़ा जाएगा। 

 

23-02-2021
सड़कों की गुणवत्ता जांचने छत्तीसगढ़ आएंगे राष्ट्रीय समीक्षक, शिकायत करने नंबर जारी

रायपुर। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के निमार्णाधीन कार्यों के गुणवत्ता परीक्षण के लिए राष्ट्रीय गुणवत्ता समीक्षक छत्तीसगढ़ आ रहे हैं। वे जशपुर, दंतेवाड़ा, कबीरधाम और सूरजपुर जिले का दौरा करेंगे। इन जिलों में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत निमार्णाधीन सड़कों का परीक्षण करेंगे। संबंधित जिले के राष्ट्रीय गुणवत्ता समीक्षक से उनके मोबाइल नंबर पर संपर्क कर प्रगतिरत सड़कों की गुणवत्ता के संबंध में शिकायत साझा की जा सकती है। राष्ट्रीय गुणवत्ता समीक्षक हरिबंश सिंह (मोबाइल नंबर 9415221049) 23 फरवरी से 27 फरवरी तक जशपुर में सड़कों की गुणवत्ता का परीक्षण करेंगे। अशोक कुमार परवान (मोबाइल नंबर 9941809109) दंतेवाड़ा में 23 फरवरी से 25 फरवरी तक, इलाही मोहम्मद (मोबाइल नंबर 9412296112 व 9794329797) कबीरधाम में 19 फरवरी से 24 फरवरी तक और धरम राज (मोबाइल नबर 9453847888 व 7007803930) सूरजपुर में 20 फरवरी से 25 फरवरी तक सड़कों की गुणवत्ता की समीक्षा करेंगे।

23-02-2021
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ऋचा मिश्रा ने कबीरधाम में संभाला कार्यभार

कवर्धा। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ऋचा मिश्रा ने मंगलवर को कबीरधाम में पदभार संभाला। कबीरधाम पुलिस अधीक्षक शलभ कुमार सिन्हा ने ऋचा मिश्रा के कार्यालय पहुंचने पर पुष्प गुच्छ भेंटकर शुभकामनाएं दी। एसपी ने जिले के अंतर्गत बेसिक पुलिसिंग की एएसपी ऋचा मिश्रा को जानकारी दी। एसपी ने बेहतर कार्य करने के लिए
निर्देशित किया। इस अवसर पर उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय पीआर कुजूर, अनुविभागीय अधिकारी बोड़ला अजीत ओगरे, रक्षित निरीक्षक ख्रिष्ट नरगिस तिग्गा बघेल, कोतवाली प्रभारी निरीक्षक मुकेश सोम, पंडरिया थाना प्रभारी निरीक्षक केके वासनिक एवं कार्यालयीन अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे।

 

22-02-2021
बेमेतरा और कबीरधाम में जय व्यापार पैनल ने शुरू किया संपर्क अभियान

रायपुर। जय व्यापार पैनल के मुख्य चुनाव संचालक नरेन्द्र दुग्गड, चुनाव सह संचालक गारगी शंकर मिश्र, चुनाव सह संचालक जितेन्द्र दोशी ने बताया कि छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज चुनाव 2021 की तैयारियों के क्रम में जय व्यापार पैनल की टीम ने बेमेतरा एवं कबीरधाम जिले में अपना संपर्क अभियान शुरू किया। दौरे में पैनल से प्रदेश अध्यक्ष प्रत्याशी अमर पारवानी, महामंत्री प्रत्याशी अजय भसीन, कोषाध्यक्ष प्रत्याशी उत्तम गोलछा सहित चुनाव संचालक मंडल के सदस्य शामिल थे। दौरे के दौरान थान खम्हरिया, धमधा, देवकर सहित विभिन्न क्षेत्रों में व्यापारियों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। इसमें बड़ी संख्या में स्थानीय व्यापारी शामिल हुए। पैनल से प्रदेश चुनाव संचालक नरेंद्र दुग्गड़ ने जानकारी देते हुए बताया कि नामांकन प्रक्रिया के साथ ही अब जय व्यापार पैनल के संपर्क अभियान ने तेजी पकड़ ली है। इसके तहत आज हमारी टीम ने बेमेतरा और कबीरधाम जिले में व्यापारियों से भेंट करते हुए जय व्यापार पैनल के लिए समर्थन मांगा। दौरे के दौरान धमधा, देवकर एवं थान खम्हरिया क्षेत्र में बैठकों का आयोजन हुआ, जहां बड़ी संख्या में उपस्थित व्यापारी साथियों ने जय व्यापार पैनल के पक्ष में अपना वोट देने का वादा किया। व्यापारियों ने यह स्वीकारा कि लॉक डाउन के दौर में जब पूरा व्यापार जगत मुश्किलों का सामना कर रहा था, उस वक्त पारवानी और उनकी टीम ने व्यापारी हित में लगातार प्रयास जारी रखे।

इसके चलते व्यापारियों को व्यापार करने में बहुत मदद मिली। बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष प्रत्याशी अमर पारवानी ने कहा कि पैनल के लिए यह बहुत हर्ष का विषय है कि प्रदेश के सभी जिलों में व्यापारी साथी हमसे स्वस्फूर्त जुड़ रहे हैं और अपना पूरा समर्थन हमें दे रहे हैं। व्यापारियों का यह समर्थन इस बात को साबित करता है कि सभी परिवर्तन चाहते हैं। सभी साथी व्यापारी हित में कार्य करने करने वाले प्रत्याशियों को चेम्बर की कमान सौंपना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि जय व्यापार पैनल के साथियों ने कोरोना काल में 24 घंटे व्यापारियों की समस्याओं के समाधान में जुटा रहा। हम बगैर स्वार्थ के चुनाव लड़ रहे हैं। इसलिए व्यापारी साथियों को भी यह सुनिश्चित करना होगा कि कौन उनके हित के लिए लड़ रहा है और कौन अपने हित के लिए मैदान में है। यह चुनाव व्यापारी साथियों की साख का चुनाव है इसलिए हम सभी को सही का चुनाव करना है। दौरे में मुख्य रूप से दुर्ग जिला से उपाध्यक्ष प्रत्याशी प्रकाश सांखला, मंत्री प्रत्याशी दर्शनलाल ठाकवानी, बेमेतरा जिला से उपाध्यक्ष प्रत्याशी केशव मोटवानी, मंत्री प्रत्याशी अजय ठाकुर सहित राजेन्द्र जग्गी, विक्रम सिंहदेव, पवन बड़जात्या, शिरीष अग्रवाल, शंकर सचदेव, अंकुर शर्मा एवं बड़ी संख्या में व्यापारी उपस्थित थे।

14-01-2021
9 वीं शताब्दी से 14 वीं शताब्दी तक नागवंशी राजाओं की राजधानी थी कबीरधाम, जाने इतिहास

रायपुर। जिला कबीरधाम एक शांतिपूर्ण और आकर्षक जगह है जो सकरी नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है। कबीर साहिब के आगमन और उनके शिष्य धर्मदास के वंशजों की सीट की स्थापना के कारण, इसे कबीरधाम नाम दिया गया था। जिला मुख्यालय से लगभग 17 किमी दूर भोरमदेव ऐतिहासिक और पुरातात्विक रूप से एक बहुत ही महत्वपूर्ण जगह है। यह स्थान 9वीं शताब्दी से 14 वीं शताब्दी तक नागवंशी राजाओं की राजधानी थी। इसके बाद इस क्षेत्र में राज्य रतनपुर से संबंधित हैवाईवंशी राजाओं के कब्जे में आए। इन राजाओं द्वारा निर्मित मंदिर और पुराने किले के पुरातात्विक अवशेष अभी भी उपलब्ध हैं।

27-12-2020
कबीरधाम जिले के बोड़ला में भूपेश सरकार की दो साल की उपलब्धियों की फोटो प्रदर्शनी लगाई गई

रायपुर/कवर्धा। कबीरधाम जिले के बोड़ला में राज्य सरकार की दो वर्ष की उपलब्धियों पर आधारित विकाखण्ड स्तर पर फ़ोटो प्रदर्शनी लगाई गयी। छत्तीसगढ़ में नई सरकार के सफलता पूर्वक दो वर्ष पूरा होने पर उनकी उपलब्धिंयां को जनता तक पहुंचाने के लिए जनसंपर्क विभाग के निर्देश पर और कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा के मार्गदर्शन में कबीरधाम जिले के सभी विकासखण्ड स्तर पर एक दिवसीय फोटो सह विकास प्रदर्शनी का आयोजन किया जा रहा है। बोड़ला में रविवार को विकासखण्ड स्तर पर एक दिवसीय फ़ोटो प्रदर्शनी लगाई गई। कलेक्टर के निर्देश पर विकासखण्ड स्तर पर लगने वाली फोटो प्रर्दशनी के लिए तिथियों निर्धारित कर दी गई है।

सप्ताहिक हाट-बाजार दिवसों को ध्यान में रखते हुए विकासखण्ड मुख्यालय  पंडरिया में 28 दिसम्बर और सहसपुर लोहारा में 29 दिसम्बर को एक दिवसीय फोटो सह विकास प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा। फोटो प्रदर्शनी में मुख्यमंत्री भपूश बघेल के नेतृत्व में वर्ष में हुए सभी बडे उल्लेखनीय कार्यों और योजनाओं के क्रियान्वय से आम नागरिकों के जीवन में आ रहे बदलाव को फोटो प्रदर्शनी के माध्यम से जनता के बीच पहुचाई जा रही है। फ़ोटो प्रदर्शनी में सहायक जनसंपर्क अधिकारी  गुलाब डड़सेना, विभाग के कर्मचारी राम सिंह बघेल,  पूणेंद्र चौधरी द्वारा राज्य सरकार के   उपलब्धियों के प्रचार सामग्रियों का निशुल्क वितरण किया गया। 

 

21-12-2020
धरमपुरा विवाद सुलझा, मो. अकबर की मेहनत लाई रंग, धर्मगुरु बालदास साहेब ने रद्द किया प्रस्तावित आंदोलन

कवर्धा। करीब एक महीने से चल रहे कबीरधाम जिले के धरमपुरा विवाद का समाधान निकल गया है। सतनामी समाज के धर्मगुरु बालदास साहेब के नेतृत्व में पंहुचे प्रतिनिधिमंडल की वनमंत्री मो. अकबर के साथ 3 घंटे तक बैठक चली। इसमें इसका सर्वमान्य हल निकला। संबंधित पक्षों ने शांति व्यवस्था कायम रखने पर सहमति बनी। बैठक के बाद धर्मगुरु बालदास साहेब ने मंत्री अकबर के आग्रह पर सोमवार को होने वाले अपना प्रस्तावित आंदोलन को रद्द कर दिया है। उन्होंने कहा कि सतनामी समाज की ओर से धार्मिक स्थल की मांग की जा रही थी। उस पर विस्तृत चर्चा के बाद सहमति बनी। धरमपुरा विवाद 27 नवम्बर से चल रहा था। सतनामी समाज और अन्य समाज के बीच गतिरोध बना हुआ था। इस पर मो. अकबर ने सतनामी समाज और अन्य समाज के लोगों से कई दौर की चर्चा की। इसके बाद रविवार को ये गतिरोध टूटा। प्रतिनिधिमंडल में धर्मगुरु बालदास साहेब के साथ अखिल भारतीय सतनाम सेना के प्रदेश अध्यक्ष गुरु खुशवंत साहेब, सतनाम सेना के युवा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष गुरु सौरभ साहेब, राज महन्त संतन दास सतनामी, राज महंत दिवाकर सतनामी, राज महंत ठाकुर प्रसाद सतनामी, महंत अरुण सतनामी, रायपुर के सतनामी समाज के जिला प्रतिनिधि नोहर सतनामी, प्रदेश के सतनामी सेना के कोषाध्यक्ष साहूकार सतनामी, गुरु प्रतिनिधि यशवंत सतनामी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

19-11-2020
बस्तर आर्ट की तरह कबीरधाम में भी आकर ले रहा लकड़ी से बने समान

कवर्धा। कोरोना संक्रमण काल के दौरान शासन द्वारा लागू किए गए लॉक डाउन ने दुनिया के लोगों के जीने के ढंग से लेकर दिनचर्या तक को भी प्रभावित किया है। ना जाने कितने लोग इस दौरान आर्थिक एवं मानसिक रूप से परेशान हुए वहीं कुछ लोगों ने इस आपदा को अवसर के रूप में तब्दील कर दुनिया के सामने मिशाल बनकर उभरे।उन्हीं में से एक नाम शहनाज कुरैशी भी है, जिन्होंने लॉक डाउन के दौरान घर में चल रहे फर्नीचर के कार्यों से बचे टुकड़ों को एक आर्ट के रूप में तब्दील कर दिया। जो लकड़ी अमूमन बढ़ाई के द्वारा फेंक दिया जाता है उस बेआकार और बेकाम के टुकड़े को तराशकर तरह-तरह के खूबसूरत सामान तैयार कर रही है। देखते ही देखते टाइम पास के लिए जिस काम को शुरू किया गया अब वह शहनाज के लिए जुनून बन चुका है। जल्द ही लकड़ी को तराशकर सजीव रूप देने की कला इनमें है। बस्तर आर्ट ऐसे ही धीरे से शुरू हुआ था जो पूरे विश्व में जाना जाता है और उनका सामान अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बिकता है।कवर्धा निवासी पूर्व विधायक हमीद उल्लाह खान की पुत्री एवं अधिवक्ता अकबर कुरैशी की पत्नी शहनाज कुरैशी महिला सशक्तिकरण के लिए एक मिसाल बनकर उभरी है। अब तक 100 से अधिक अलग-अलग प्रकार के सामानों को अपने असिस्टेंट घनश्याम धुर्वे के साथ मिलकर रंग रूप दे चुकी है,जिसे बड़े बाजार की आवश्यकता है।

लकड़ी के टुकड़ों में कलाकारी कर नया रूप देने वाली शहनाज कुरैशी ने बताया कि लॉक डाउन के दौरान घर में फर्नीचर का कार्य चल रहा था,जहां बढ़ाई के द्वारा लकड़ी के छोटे-छोटे टुकड़ों को जिसमें डिजाइन भी बना हुआ था उसे काम नहीं आने पर फेंक देते थे उन टुकड़ों को देखने में काफी अच्छा लगने पर उठाकर रख ली थी। इन टुकड़ों को देखने पर लगने लगा था कि अगर इसमें जोड़कर कुछ कलाकारी किया जाए तो वेस्टेज सामान को उपयोग में लाया जा सकता है। इसी के चलते छोटे-छोटे लकड़ी के टुकड़ों को फेवीकोल में जोड़कर सबसे पहले फ्लावर प्लाट बनाई,जिसे घरवालों के साथ साथ आस पड़ोस के लोगों ने भी काफी सराहा तथा प्रशंसा भी किए,जिससे हौसला बढ़ गया तब मन में ठाना कि इस तरह के टुकड़ों को समेटकर नया रंगरूप दिया जाए तो घर में सजाने के काम भी आएगा।लकड़ी को तराश कर बनाया 100 से अधिक प्रकार का सामान। लकड़ी के टुकड़ों को एकत्रित कर इसमें कार्य करती गई तो हौसला बढ़ता गया और 100 से अधिक प्रकार के सामान रखने का बना चुकी है। लकड़ी में कलाकारी कर अबतक उनके द्वारा मसाला डब्बा,सौंफ-सुपाड़ी डब्बा, रोटी डब्बा, फ्लावर प्लाट, पेन, पेंसिल, चाबी,पेपरवेट रखने का सामान सहित सभी प्रकार के सूखा सामान रखने के लिए बनाया गया है।

विकसित हो सकता है कबीरधाम का आर्ट

कबीरधाम जिले में कलाकारों की कोई कमी नहीं है बस उन्हें अवसर प्रदान करने के लिए एक मंच की जरूरत है। शासन प्रशासन के द्वारा विभिन्न माध्यमों से कलाकारों को आगे बढ़ावा देने के लिए कार्य करती है। शहनाज कुरैशी के द्वारा लकड़ी के टुकड़ों से जो कलाकारी कर घरेलू व छोटे मोटे सामान रखने के लिए बनाया गया है उसे अगर बड़े बडेÞ शहरों में प्रदर्शनी के रूप में भेजा जाए तो कबीरधाम जिले के का नाम रोशन हो सकता है तथा इस कला को विकसित भी किया जा सकता है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804