GLIBS
15-07-2021
किसानों के चेहरे खिले, नहर से खेतों तक पहुंचा पानी, 75 हेक्टेयर रकबे में सिंचाई सुविधा का विस्तार

रायपुर। महीडबरा के किसान इस साल मुस्कुरा रहे हैं। मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम) से बने नहर ने उन्हें यह मौका दिया है। इन नहरों के माध्यम से अब महीडबरा जलाशय का पानी गांव के 80 किसानों के 75 हेक्टेयर जमीन तक पहुंचेगा। सिंचाई के साधनों के अभाव में केवल खरीफ के मौसम में कोदो-कुटकी उगाने वाले आदिवासी बहुल गांव महीडबरा के किसानों के लिए रबी की फसलों के बारे में सोचना भी कभी दूर की कौड़ी हुआ करती थी। पर मनरेगा ने अब उनके खेतों तक पानी पहुंचाने की व्यवस्था कर दी है।


कबीरधाम जिले के बैगा आदिवासी बाहुल्य पंडरिया विकासखंड के सुदूर वनांचल क्षेत्र के  महीडबरा में सिंचाई के लिए न तो नहर-नाली बनी थी और न ही कोई नरवा (बरसाती नाला) बहता था। वहां महीडबरा नाम से ही एक पुराना जलाशय जरूर है, पर सिंचाई के लिए कोई नहर-नाली की संरचना इससे नहीं जुड़ी थी। गांव के किसान लंबे समय से इस जलाशय का पानी खेतों तक पहुंचाना चाह रहे थे, जिससे वे अपने खेतों को भी एक-फसली से दो-फसली में बदल सकें। ग्रामीणों की यह बहुप्रतीक्षित मांग वर्ष 2020-21 में पूरी हुई जब मनरेगा से 14 लाख 66 हजार रूपए की लागत के महीडबरा जलाशय से मुख्य नहर विस्तारीकरण एवं दो माइनर नहरों के निर्माण का कार्य स्वीकृत हुआ। तकनीकी तौर पर भी यह काम अच्छे से हो सके, इसके लिए जल संसाधन विभाग को क्रियान्वयन एजेंसी बनाया गया।

 
फरवरी-2021 में नहर निर्माण का काम शुरू हुआ। स्थानीय किसानों में इसके प्रति उत्साह इस कदर था कि नहर विस्तारीकरण में जहां-जहां शासकीय जगह की कमी हुई, वहां-वहां संबंधित किसानों ने अपनी निजी जमीन का कुछ हिस्सा स्वेच्छा से दे दिया। इस काम में 1455 मनरेगा श्रमिकों को 6403 मानव दिवस का सीधा रोजगार मिला। इसके एवज में उन्हें 12 लाख 21 हजार रुपए का मजदूरी भुगतान किया गया। कार्य की अच्छी गुणवत्ता के लिए जरुरत के मुताबिक दो लाख 39 हजार रुपए सामग्री मद में भी व्यय किया गया।


मनरेगा श्रमिकों ने लगातार 12 सप्ताह तक काम कर 1800 मीटर लंबी मुख्य नहर विस्तारीकरण एवं माइनर नहरों का निर्माण कार्य पूरा किया। इस साल अप्रैल में नहर के तैयार हो जाने के बाद महीडबरा जलाशय से पानी छोड़ा गया जो 80 किसानों के करीब 75 हेक्टेयर रकबे में पहुंचा। रबी सीजन में पहली बार अपने खेतों तक पानी पहुंचता देख किसान काफी खुश हुए। सिंचाई का साधन नहीं होने से जो किसान अब तक केवल वर्षा आधारित खरीफ की फसलें ले पाते थे, वे अब रबी की फसलें भी ले सकेंगे। इससे उनकी खुशहाली और समृद्धि का रास्ता भी खुलेगा।

06-07-2021
6 जुलाई को बना था कबीरधाम जिला, ऐतिहासिक और पुरातात्विक के कारण प्रदेश में अलग पहचान

कवर्धा। कबीरधाम जिले का मंगलवार को स्थापना दिवस है। 6 जुलाई 1998 में जिला की स्थापना हुई थी। जिले में चार ब्लाक, 1 नगर पालिका व 5 नगर पंचायत है। कबीर साहिब के आगमन और उनके शिष्य धर्मदास के वंशजों की पद की स्थापना के कारण इसे कबीरधाम नाम दिया गया था। जिला मुख्यालय से लगभग 17 किमी दूर भोरमदेव ऐतिहासिक और पुरातात्विक रूप से एक बहुत ही समहत्वपूर्ण जगह है। यह स्थान 9वीं शताब्दी से 14वीं शताब्दी तक नागवंशी राजाओं की राजधानी थी। इसके बाद इस क्षेत्र में राज्य रतनपुर से संबंधित हैवाईवंशी राजाओं के कब्जे में आए। इन राजाओं की ओर से निर्मित मंदिर और पुराने किले के पुरातात्विक अवशेष अभी भी उपलब्ध हैं।

04-07-2021
कबीरधाम जिले से हुआ यूएलपीआईएन योजना का शुभारंभ, अब सीधे मिलेगी भूखंड की जानकारी

रायपुर। यूनिक लैंड पार्सल आईडेंटिफिकेशन नंबर (यूएलपीआईएन) योजना से अब जिला, तहसील, राजस्व निरीक्षक मंडल और ग्राम का चयन किए बिना ही सीधे भूखंड की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। पूर्व में भूखंड की पहचान जिला, तहसील, राजस्व निरीक्षक मंडल और ग्राम के कॉम्बिनेशन से प्राप्त खसरा नंबर से होती थी। इस योजना का वर्चुअल उद्घाटन राजस्व सचिव छत्तीसगढ़ रीता शांडिल्य, सचिव अजय तिर्की और अतिरिक्त सचिव हुकुम सिंह मीणा, भूमि संसाधन ग्रामीण विकास मंत्रालय केन्द्र सरकार की उपस्थिति में किया गया। इस योजना के शुभारंभ के लिए कबीरधाम जिले के ग्राम अगरीकला का चयन किया गया है। यूनिक लैंड पार्सल आईडेंटिफिकेशन नंबर योजना के संबंध में बताया गया कि प्रत्येक भूखंड के जियो-रिफरेंस लैट्टियूड या लांगिट्यूड कोर्डिनेंट्स के आधार पर कम्यूटरीकृत 14 अंकों का यूनिक आईडी ऑटोजनरेट होता है।

प्रत्येक भूखंड को यूएलपीआईएन नंबर दिए जाने से भूखंड से संबंधित समस्त जानकारी एक ही नंबर से प्राप्त की जा सकेगी। जियो रिफरेंस के साथ प्रत्येक भूखंड के यूएलपीआईएन नंबर दिए जाने से भूखंड की वास्तविक स्थिति आसानी से उपलब्ध होगी। इसकी सहायता से भूमि संबंधी महत्वपूर्ण विभागीय कार्यों का निष्पादन पारदर्शिता के साथ सफलतापूर्वक किया जा सकेगा। यूएलपीआईएन नंबर से शासकीय भूमि की पहचान सरलापूर्वक की जा सकती है, जिससे शासकीय भूमि पर अवैध तरीके से होने वाले पंजीयन या अतिक्रमण को रोका जा सकता है। अन्य विभागों जैसे-पंचायत, पंजीयन, वन, सर्वे, नगर निगम इत्यादि से भूमि संबंधी जानकारी प्राप्त कर विभिन्न विभागीय कार्यों का निष्पादन करना लाभप्रद होगा। सर्वे के बाद प्राप्त भूखंड नक्शों को गूगल मैप पर प्रतिस्थापित करने पर भूखंड की सीमा की वास्तविक स्थिति प्रदर्शित होती है। कार्यक्रम में संचालक भू-अभिलेख भुवनेश यादव, संयुक्त आयुक्त हिना अनिमेष नेताम, राज्य सूचना अधिकारी अशोक कुमार होता, वरिष्ठ तकनीकी डायरेक्टर  वायवीएस. श्रीनिवासराव, प्रणाली विशेषज्ञ अमित कुमार देवांगन एवं सहायक प्रोग्रामर लक्ष्मीकांत साहू उपस्थित थे।

 

 

29-06-2021
कबीरधाम के बैगा बहुल बोड़ला के वनांचल ग्राम मगरवाड़ा के नए पंचायत भवन का भूमिपूजन किया मंत्री मो.अकबर ने

रायपुर/कवर्धा। कबीरधाम जिले के आदिवासी व बैगा बहुल बोडला विकासखण्ड के बड़े वनांचल ग्राम मगरवाड़ा को अब शीघ्र ही पंचायत नया भवन भवन मिलेगा। वन, मंत्री मो.अकबर ने मगरवाड़ा पंचायत के नए ग्राम पंचायत भवन का भूमिपूजन किया। यहां का पंचायत भवन जर्जर हो गया था। ग्रामीणों द्वारा यहां नए पंचायत भवन बनाने की मांग काफी लम्बे समय से की जा रही थी। इस अवसर पर मंत्री मो.अकबर ने किसान  कन्हैया सिंह पंद्राम द्वारा लगाए गए नेट सेफ बागवानी पौधा का निरीक्षण भी किया। उन्होंने कन्हैया की कड़ी मेहनत की तारीफ करते हुए कहा कि राज्य सरकार के कृषि विभाग द्वारा किसानों को नगद फसल लेने और उद्यानकी खेती को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाए संचालित की जा  रही है। कृषि और उद्यानिकी अधिकारियों को किसानों से संपर्क बनाकर विशेष परीक्षण और मार्गदर्शन भी दिए जा रहे है। उन्होने नेट सेफ बागवानी के निरीक्षण के बाद किसानों को कोदो बीच का भी वितरण किया।

 

28-06-2021
वन मंत्री अकबर आज कबीरधाम जिले के दौरे पर, हितग्राहियों को बाटेंगे चेक

रायपुर। वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मो. अकबर सोमवार को कबीरधाम जिले का दौरा करेंगे। निर्धारित दौरा कार्यक्रम के तहत वे रायपुर से प्रस्थान कर धरसींवा, बेमेतरा होते हुए दोपहर 1.50 बजे कवर्धा पहुंचेंगे। वे कवर्धा के सर्किट हाउस में हितग्राहियों को चेक वितरित करेंगे और ग्राम पंचायत शंभू पीपर को सामुदायिक वन अधिकार मान्यता पत्र प्रदान करेंगे। मो. अकबर इसके बाद पोड़ीटोला, ग्राम बैजलपुर होते हुए दोपहर 3.50 बजे ग्राम पंचायत मगरवारा पहुंचेंगे और वहां नवीन पंचायत भवन का भूमिपूजन करेंगे। वे शाम 7 बजे ग्राम सूरजपुरा में सामुदायिक भवन का भूमिपूजन करेंगे। इसके बाद 7.20 बजे ग्राम सूरजपुरा से प्रस्थान कर गंडई, अहिवारा, कुम्हारी होते हुए रात्रि 9 बजे रायपुर पहुंचेंगे।

27-06-2021
वन मंत्री अकबर 28 जून को जाएंगे कबीरधाम, कई कार्यक्रमों में होंगे शामिल 

रायपुर। वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर 28 जून को कबीरधाम जिले के दौरा पर करेंगे। निर्धारित दौरा कार्यक्रम के मुताबिक वे 28 जून को पूर्वान्ह 11:30 बजे रायपुर से रवाना होंगे। धरसींवा, बेमेतरा होते हुए दोपहर 1:50 बजे कवर्धा पहुंचेंगे। वे कवर्धा के सर्किट हाउस में हितग्राहियों को चेक वितरित करेंगे। ग्राम पंचायत शंभू पीपर को सामुदायिक वन अधिकार मान्यता पत्र प्रदान करेंगे। मंत्री अकबर इसके बाद पोड़ीटोला, ग्राम बैजलपुर होते हुए दोपहर 3:50 बजे ग्राम पंचायत मगरवारा पहुंचेंगे। यहां नवीन पंचायत भवन का भूमिपूजन करेंगे। वे शाम 7 बजे ग्राम सूरजपुरा में सामुदायिक भवन का भूमिपूजन करेंगे। इसके बाद 7:20 बजे ग्राम सूरजपुरा से प्रस्थान कर गंडई, अहिवारा, कुम्हारी होते हुए रात्रि 9 बजे रायपुर पहुंचेंगे।

10-06-2021
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कबीरधाम जिले को 224.74 करोड़ रुपए की दी सौगात

कवर्धा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रायपुर निवास कार्यालय में वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से कबीरधाम जिले के विकास के लिए 224 करोड़ 74 लाख रुपए की लागत के 754 कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन किया। लोकार्पण एवं भूमिपूजन कार्य में 98 करोड़ 73 लाख रुपए के 415 कार्यों का लोकार्पण और 126 करोड़ 1 लाख रुपए के 339 कार्यों का भूमिपूजन शामिल है। अधोसंरचना विकास एवं सामाजिक विकास के इन कार्यों से कबीरधाम जिले के नागरिक के सुविधाओं का विकास होगा। कवर्धा के पीजी कॉलेज के ऑडिटोरियम में लोकार्पण एवं भूमिपूजन कार्यों का कार्यक्रम हुआ। मुख्यमंत्री बघेल के साथ कबीरधाम जिले के प्रभारी मंत्री अनिला भेंड़िया, लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री मो. अकबर, उपस्थित रहे।

वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम कवर्धा में सांसद संतोष पांडेय, पंडरिया विधायक ममता चंन्द्राकर, जिला पंचायत अध्यक्ष सुशीला भट्ट, कवर्धा नगर पालिका अध्यक्ष ऋषि कुमार शर्मा और अन्य जनप्रतिनिधि, नगर पालिका, नगर पंचायत के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं सभी निर्वाचित सदस्य उपस्थित रहे। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने बताया कि कबीरधाम जिले के विकास के लिए 224 करोड़ 74 लाख रुपए की लागत के 754 कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन किए। इन कार्यों में शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल व्यवस्था, सड़क, और बिजली आपूर्ति जैसे बुनियादी काम शामिल हैं। अधोसंरचना विकास एवं सामाजिक विकास के लिए इन कार्यों से निश्चित ही जिले में नागरिक सुविधाओं के एक नए दौर की शुरुआत हो रही है। वही मुख्यमंत्री ने हितग्राहियों से चर्चा भी किए।c

15-05-2021
अंतरराज्यीय गांजा तस्कर गिरफ्तार, 80 किलो मादक पदार्थ जब्त

कवर्धा/रायपुर। कबीरधाम के चिल्फी थाना पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। कबीरधाम पुलिस ने कार्यवाही करते हुए दो अंतरराज्यीय गांजा तस्कर को पकड़ने में कामयाबी हासिल की है। पुलिस को सूचना मिली कि एक महिंद्रा पिकअप में गांजा तस्कर गांजा के साथ कवर्धा जबलपुर होते हुए दिल्ली ले जाने के फिराक से आ रहे हैं। सूचना के आधार पर पुलिस ने चेक पोस्ट में चौकसी बढ़ा दी और दो तस्करों को पकड़ा। आरोपियों से पूछताछ में पता चला कि एक दिल्ली और एक रायगढ़ का रहने वाला है। इनके पास से 8 लाख का गांजा और 3 लाख की गाड़ी, कुल 11 लाख का समान जब्त किया गया। आगे की कार्यवाई जारी है।

 

05-05-2021
कबीरधाम जिला 17 मई तक लॉक,कृषि मशीनरी के विक्रय, मरम्मत के लिए खुलेगी दुकानें

कवर्धा। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी रमेश कुमार शर्मा ने कबीरधाम जिले के संपूर्ण क्षेत्र को आगामी 17 मई सुबह 6 बजे तक पूर्ववत कंटेन्मेंट जोन रखने आदेश जारी किया है। विदित है कि पूर्व आदेश के अनुसार जिले में 6 मई सुबह 6 बजे तक कंटेन्मेंट जोन घोषित था। कोरोना वायरस, कोविड-19 के संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर शर्मा ने 17 मई सुबह 6 बजे तक पूर्ववत कंटेन्मेंट जोन रखने के आदेश जारी किए है। उपर्युक्त दर्शित अवधि में कबीरधाम जिले की सभी सीमाएं पूर्णतः सील रहेगी। इस समयावधि में सभी बाजार, मॉल, सुपर बाजार, मैरिज हॉल, स्विमिंग पुल, क्लब, सैलून, ब्यूटी पार्लर तथा जिम इत्यादि पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगी। शादी, अंत्येष्टि, दशगात्र और मृत्यु संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 10 रहेगी। जिला अंतर्गत सभी केन्द्रीय, शासकीय, सार्वजनिक, अर्द्ध सार्वजनिक कार्यालय आम जनता के लिए बंद रहेंगे किन्तु कार्यालयीन प्रयोजन के लिए 50 प्रतिशत स्टॉफ के साथ खुलेंगे। उप पंजीयक कार्यालय टोकन सिस्टम के साथ खुलेंगे। टेलीकॉम, रेल्वे एवं एयरपोर्ट संचालन व रख-रखाव से जुड़े कार्यालय, वर्कशॉप, रेक प्वाइंट पर लोडिंग-अनलोडिंग का कार्य, खाद्य सामग्री के थोक परिवहन, धान मिलिंग के लिए परिवहन की अनुमति पूर्ववत रहेगी।
जारी ओदश के अनुसार लॉकडाउन के दौरान रविवार को छोड़कर अन्य दिनों में अधिकतम अपरान्ह 5 बजे तक निम्नलिखित गतिविधियों के संचालन के लिए अनुमति प्रदान की गई है। इसमें कृषि क्षेत्र में बीज, उर्वरक, कीटनाशक, विक्रय के लिए दुकान, गोडाउन तथा कृषि मशीनरी के विक्रय, मरम्मत के लिए दुकानों को खुलने की अनुमति होगी। उपर्युक्त कृषि सामग्री के परिवहन के लिए भी अनुमति रहेगी। अत्यावश्यक परिवहन से संबंद्ध वाहनों के लिए नगरीय निकाय सीमा क्षेत्र से बाहर स्थित ऑटो मोबाईल रिपेयर शॉप, आटोपार्ट्स, गैरेज, टायर पंचर की दुकानें तथा ढाबा, रेस्टोरेन्ट (केवल टेक-अवे ) के लिए संचालित की जा सकेंगी। गली-मुहल्लों एवं कॉलोनियों में स्थित एकल किराना दुकानें खुल सकेंगी किन्तु स्थापित बाजार, मॉल, सुपर बाजार में स्थित दुकानें नहीं खुलेगी। एकल किराना दुकानों से भी केवल होम डिलीवरी की अनुमति होगी। फल, सब्जी, अंडा, पोल्ट्री, मटन, मछली एवं किराना सामग्री, ग्रॉसरी की होम डिलीवरी केवल स्ट्रीट वेण्डर्स, ठेले वालों, पिक-अप,  मिनी ट्रक, अन्य उपयुक्त छोटे वाहन के माध्यम से की जा सकेगी।

 

09-04-2021
कबीरधाम जिले और कवर्धा शहर में प्रवेश के लिए दिखाना होगा कोरोना निगेटिव रिपोर्ट

कवर्धा। जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इसके संक्रमण के प्रभाव को रोकने और उनके चैन को तोड़ने के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रमेश कुमार शर्मा के अध्यक्षता में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के रोकथाम और नियंत्रण के संबंध में जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आपतकालीन बैठक हुई। बैठक में पुलिस अधीक्षक शलभ कुमार सिन्हा, जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम के.,अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, तहसीलदार, जनपद सीईओ और नगरीय निकाय के अधिकारी उपस्थित थे। बैठक के बाद कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी द्वारा जिले मे संचालित व्यवसायिक प्रतिष्ठान, फल, सब्जी दुकान, चलित ठेले, हॉटल, लॉज, रेस्टॉरेन्ट और जिले तथा कवर्धा नगर में प्रवेश के संबंध में अलग-अलग आदेश जारी हुए है। ये आदेश 9 से 30 अप्रैल तक अथवा आगामी आदेश पर्यन्त, जो पहले आये तक प्रभावशील रहेगा। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने बैठक के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि जिले के जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों और मैदानी स्तर में तैनात अधिकारियों से कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकरणों पर विचार विमर्श किया गया।

विचार विमर्श के बाद कबीरधाम जिले में कोविड-19, कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इसके संक्रमण के प्रभाव को रोकने और उनके चैन को तोड़ने के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए जिले के सभी नगरीय निकायों कवर्धा, पंडरिया, बोड़ला, सहपुर लोहारा, पिपरिया, पाण्डातराई के अलावा जिले के बढ़े ग्राम पंचायत रेंगाखार कला, पोडी, कुण्डा, दामापुर बाजार, झलमला, कुकदूर, चिल्फी एवं कापादाह में संचालित दुकान एवं अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के संचालन का समय सुबह 7 बजे से 4 बजे तक निर्धारित की गई है। नगरीय निकाय क्षेत्रों के लिए फल एवं सब्जी दुकानों के लिए सुबह 7 बजे से 12 बजे तक समय निर्धारित की गई है। कवर्धा नगर पालिका क्षेत्र में पालिका द्वारा चिन्हांकित 3 अलग-अलग स्थानों में सब्जी बजार लगाई जाएगी। चलित ठेले के लिए सुबह 7 बजे से 4 बजे तक निर्धारित की गई है। इन चलित ठेलों द्वारा अपने ग्राहकों को शाम 4 बजे रात 8 बजे तक केवल पार्सल की सुविधा दी जाएगी। इसके अलावा मेडिकल स्थापनाएं एवं मेडिकल दुकान ट्रांसपोर्ट नगर व गुड्स एवं कैरियर सेवाऐं, पेट्रोल पम्प, गैस एजेन्सी, बैंकिंग सेवायें एटीएम, मीडिया संस्थान, पेयजल सुविधाएं, सिवरेज ट्रीटमेंट व्यवस्थाएं, विद्युत व्यवस्थापक, फायर ब्रिगेड, टेलीफोन व इंटरनेट सुविधाएं (जिनमें पक्की स्थाई संरचना एवं वैध लायसेंस उपलब्ध हो) पूर्व निर्धारित समय पर होगी। अगर किसी बाजार या अन्य क्षेत्र कन्टेन्मेंट जोन घोषित हो जाता है तो उस क्षेत्र के समस्त व्यवसाय बंद हो जायेंगे एवं उस क्षेत्र में कन्टेन्मेंट जोन के समस्त नियमों का पालन करना होगा। समस्त नगरीय निकायों में साप्तहिक अवकाश का कड़ाई से पालन करना होगा। हाइवे के ढाबा में बैठकर खाने की अनुमति नहीं होगी। केवल टेक अवे की अनुमति होगी। दुकानदार के परिवार में किसी व्यक्ति के कोरोना पॉजिटीव होने पर उनका दुकान 10 दिवस के लिए सील किया जाएगा।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804